आज का युग प्रतिस्पर्धा का युग है, हम अपने चारों ओर देखते हैं कि हर व्यक्ति तरक्की और आगे बढ़ने की आपाधापी में जुटा हुआ है। परंतु यदि सही मायने में देखें तो यह सारी आपाधापी और होड़ सिर्फ और सिर्फ पैसे कमाने के लिए होती है। हालांकि ऐसा होना भी जरूरी है क्योंकि पैसा आज इंसान की मूल जरूरतों में से एक हो चुका है। आज की दुनिया में पैसे के बिना सब कुछ असंभव है। और यही एक कारण भी है कि हर कोई पैसे के महत्व को बहुत ही बेहतर तरीके से समझता है और के महत्व की व्याख्या करने की आवश्यकता भी नहीं है। आपको जिंदगी में साधारण जीवन व्यतीत करना हो या ऐसो आराम के साथ जीवन व्यतीत करना हो पैसे के बिना कुछ नहीं हो सकता। अब यहां पर बात आती है कि आप पैसे तो कमाते हैं परंतु उससे आपकी जरूरतें पूरी नहीं हो पाती यदि हम देखें तो इस समस्या का एक ही समाधान है कि आपको अपनी आय से या तनख्वाह से पैसे बचाने होंगे। अब सवाल यह उठता है कि आखिर कैसे पैसे को बचाया जाए ( How To Save Money in Hindi) और उससे पहले यह भी जानना जरूरी है कि आखिर पैसे को बचाना क्यूं है? भविष्य में कब क्या हो जाए किसी को नहीं पता होता इसलिए भविष्य की प्रतिकूल परिस्थितियों से समाधान हेतु पैसे को बचाना जरूरी है।

small savings can make a lot of difference
Credit- Pixabay

तो आइए आगे के बिंदुओं के माध्यम से हम समझते हैं कि पैसे को कैसे बचाया जाए ( how to save money for future in hindi)

अपने ख़र्चों को कम करना ( reduce expenses)

हमें अपने जीवन की आवश्यकताओं को पूरी करने के उपरांत हो रहे अन्य फ़िज़ूलख़र्ची को बंद करना चाहिए। जिंदगी का पूरा आनंद लेते हुए दिखावे में बर्बाद किए जा रहे पैसे की बचत करनी चाहिए । क्योंकि कहीं ना कहीं दिखावा मात्र छड़िक होता है परंतु उससे होने वाला नुकसान हमारे लिए काफी बड़ा साबित होता है । जिससे हमारी अन्य आवश्यक जरूरतें आसानी से पूरी हो सकती थीं ।

पनी सैलरी का 15-20% अलग निकाल ले  ( save from salary)

हम देखते हैं कि अधिकतर लोगों की सैलरी आने के बाद उनके ख़र्च में वृद्धि हो जाती है वे अपने जीवन से जुड़ी अनेकों अनेक वस्तुएँ और सामान की ख़रीददारी में जुट जाते हैं तथा इन सबके बाद महीने के अंत में जो पैसा बचता है उसे बचत के रूप में रखते हैं । परंतु कहीं ना कहीं यह तरीका गलत है लोगों को उनकी सैलरी मिलने के पश्चात शुरुआत में ही उसका 15-20% निकाल कर अलग रख देना चाहिए तथा उसके बाद बचे पैसों से हमें आगे के सामान और वस्तुएँ लेनी चाहिए । इससे कहीं ना कहीं आपको पैसे बचाने में अधिक मदद मिलती है और आपके ख़र्चों पर भी रोक लगती है ।

बजट बनाना ( make budget)

पैसों को बचाने के लिए हमें बजट अवश्य बनाना चाहिए जिससे हम महीने भर के सभी ख़र्चों का एक आकलन कर पाए और आगे आने वाले महीने में, पिछले महीने में हुए फ़िज़ूलख़र्ची को समझे और उन्हें कम करने की कोशिश करें । साथ-साथ इससे आपको यह भी अंदाजा लग जाएगा कि आपको 1 महीने में लगभग कितने पैसों की जरूरत होती है ।

निवेश करना ( invest money)

महीने की शुरुआत में या अंत में पैसों का निवेश कर देना चाहिए अर्थात् 1 महीने में जो कुछ अपने बचाया उसे साधारणतया घर में ना रख कर कहीं निवेश करना ज्यादा बेहतर है, इससे आपका पैसा सुरक्षित भी बना रहेगा और साथ-साथ उसमें वृद्धि होगी । निवेश करने के लिए आप बैंक में एफडी या आरडी का माध्यम चुन सकते हैं या फिर म्यूच्यूअल फंड भी इसे निवेश कर सकते हैं ।

घर के अतिरिक्त ख़र्चों से बचत ( reduce household chores)

हमें घर के अतिरिक्त ख़र्चों से भी बचाव जरूरी है। ऐसे खर्चे जिनमें आपका पैसा सीधे तरीके से नहीं लगता परंतु कर या अन्य भुगतान के माध्यम से उसमें आपका धन खर्च होता है। उदाहरण स्वरूप घर में बिजली, पानी, राशन आदि सभी चीजों का सही ढंग से उपयोग करना अतिआवश्यक है । सभी वस्तुओं का हमें उतना ही इस्तेमाल करना चाहिए जितनी इनकी जरूरत है।

यदि आप पैसे बचाने की कोशश में लीन है और इससे जुड़े अनेकों तरीके ढूंढ़ते रहते हैं, तो हमारा प्लेटफॉर्म कुकू एफएम आपके लिए ही है, यहां पैसे बचाने के तरीकों से जुड़ी अनेकों पॉडकास्ट उपलब्ध हैं( how to save money in India in hindi)लेबर एंड एडवाइज़र, संत श्री असंग देव जी, टेड टाक्स डेली आदि पर दिए गए पोडकास्ट्स सुनें, जो आपके लिए अवश्य मददगार साबित हो सकती हैं ।


0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *