Made with  in India

Buy PremiumDownload Kuku FM

Transcript

Part 1

आप सुन रहे हैं । फॅमिली किताब का नाम है हमारी अधूरी कहानी जैसे लिखा है अर्पित वगैहर याने आवाज ऍम ऍम सोने क्यों मनचाहे उनतीस सितंबर दो हजार सत्रह शाम सात बजे अपने जीवन काल में अक्सर सोचते हैं कि ये है इस तरह नहीं होना चाहिए था । हम चाहते हैं कि चमकीली धूप खेले, उस शहर ओवर हरयाली रहे, लेकिन कई बार स्याह अंधेरा गिर जाता है और उदासी के बादल हमें घेर लेते हैं । इसलिए नहीं कि तब दिन का उजियारा नहीं होता, बल्कि इसलिए कि हम सब किसी भी बात का बिल्कुल सही अंजाम चाहते हैं । हम हो जाते हैं कि वास्तविक जीवन और हमारी कल्पनाओं में जमीन आसमान का अंतर होता है । यहाँ जीवन में हमेशा संगीत नहीं होता और यहाँ दिल की धडकन नहीं, जिंदगी की कदम ताल से कहीं तेज होती है । नववर्ष के आगमन के समय के उत्साह की तरह जिंदगी नहीं शुरू होती, न ही उसे उत्साह में खत्म होती है । इससे भी बडी बात है कि जीवन तब भी नहीं रूकता जब आप किसी ऐसे व्यक्ति को खो बैठते हैं, जिसके बिना जीवन जीने की आपने कभी कल्पना भी नहीं की होगी । जीवन न तो कभी शुरू होता है और न ही कभी खत्म होता है । ये तो बस होता है । आप तब भी सांस लेते हैं, अभी ध्यान रखते हैं और तब भी जिंदा रहते हैं । उस रात अरमान में शराब के उस जाम की ओर देखा जो उसे बर्फ वर्ष अपनी और खींच रहा था । हालांकि ये जाम वैसा ही था जैसा की रह पहले कई बार ले चुका था । उसने लंबी सांस नहीं और एक बार फिर खिडकी के पहाड नजर दौडाई । उस खिडकी से अरमान और सारा नी अपने बिहार को परवान चढते देखा और अपने प्यार के फूल को मुरझाते हुए भी देखा । सारा और उस की बातचीत करना लडना और फिर झगडे सुलझा लेना । इसे सारी यादें अभी भी बिलकुल ताजा हैं । उनका मिलना भी एक संयोग था लेकिन उसके बाद उनका एक दूसरे की ओर भरता झुकाव कोई सहयोग नहीं था । मिलते ही उनके बीच एक नाता बन गया और बहुत ही खास था । दोनों ही टेलीविजन की दुनिया से थे और अन्य अनेक टेलीविजन कर्मियों की तरह उन्होंने भी आर्थिक मोर्चे पर काफी संघर्ष किया और अपने खर्चे बांट लेने के इरादे से साथ रहने लगे । अरमान मिट्टी आई था लेकिन सहारा इसी नहीं थी । आखिर मध्यमवर्ग की परवरिश थी । उसकी सारा ने बचपन में ही अपने माता पिता को खो दिया था और उसको लेकर अरमान की चिंता से वो अपने को कुछ खास महसूस करने लगी थी । उन्होंने हमेशा एक दूसरे के लिए प्यार करने की कसमें खाई और बाद देखिए अरमान पालन से उठा अपने जीवन की कडवी सच्चाई पर विश्वास नहीं करना चाहते हुए है सबकुछ जिसने उसके जीवन को तहस नहस कर दिया था । हालांकि उसका डेनिस पर विश्वास नहीं करना चाह रहा था लेकिन उसके दिमाग नहीं उसे समझा दिया कि यह साझे आखिर कब तक इस सच्चाई को नगार सकता है । ऐसे लोग मिलेंगे जो उनको आगे बढने में सहायता की पेशकश करेंगे हमेशा के लिए आगे बढ जाने का । भविष्य के लिए सब कहेंगे कि नए कितनी खुशकिस्मत है कि उनकी जिंदगी थी, उनको प्यार मिला । उसे पता है कि लोग कहेंगे कि बिहार का यह अर्थ नहीं है कि जिसे आप प्यार करते हैं वे हर वक्त आपके पास रहे, ये है उससे भी कहीं अधिक गहरी भावना है । इस तरह की बकवास दोस्त हमेशा अपनी जिंदगी की गाडी को पटरी पर लाना चाहेंगे और क्लबों एवं पार्टियों में आपको आठ लोगों से मिलवाएंगे । साथ ही ये आपसे कहेंगे की उनका अपना जीवन उनके अपने प्यारे लोगों के साथ किस तरह कठिन होता जा रहा है । लेकिन ऐसे लोग तो उसके लिए नाराजगी ही पैदा करते थे क्योंकि अरमान जानता था कि चाहे कुछ हो जाए वो और सारा अब कभी साथ नहीं हो सकते हैं । उसने कुछ दिन पहले सारा को खो दिया था । किसी दुनिया भी वजह से नहीं बल्कि नियति के हाथों नहीं । इस बात पर यकीन करने की चाहे कितनी भी कोशिश क्यों ना करें, कोई न कोई रास्ता निकली आएगा । लेकिन मन ही मन में वे या जानता था कि ऐसा कोई उपाय नहीं जिससे वह दोनों फिर से साथ हो जाएगा । अगर आज मैं दोनों साथ होते हैं तो वहीं कहीं किसी बीच पर बनी रेस्टरां में उसका जन्मदिन मना रहे होते हैं । ये उनके लिए कठिन नहीं था की दोनों एक विशेष शाम सात बिताने का कार्यक्रम बना पाते हैं । दोनों शहर की अफरा तफरी से मुक्ति चाहते थे । उनका जिस तरह का व्यस्त कार्यक्रम रहा करता था ऐसे में रहे किसी तरह का सरप्राइज देने की योजना बनाने की बजाय मिलकर पहले से ही अपना कार्यक्रम बनाना पसंद करते थे । क्योंकि अपने कामकाज की जरूरतों को देखते हुए हैं । हो सकता है की अंतिम शरण में उन्हें अपनी जिम्मेदारी पूरी करने को रुक जाना पडेगा ऍफ इस तरह दूसरे घर सर प्राइस लेने की उनकी योजना धरी की धरी रह जाती है । बीती बातें जैसे जैसे उसके दिल में घूमने लगी, वैसे वैसे आंसू उसकी आंखों से बहने लगे । आॅड अब और उन्हें नहीं चाहता था लेकिन उसके सपने मर चुके थे । उसने शराब का गिलास जमीन पर गिरते और जमीन पर गिरते ही तुरंत उडते हुए देखा । लेकिन गिलास टूटने की आवाज उसके भीतर उमड रहे तूफान की आवाज से कहीं अधिक कम थी । उसने साथ खेली जिसे मैं कुछ देर से रोके हुए था और दीवार पर मुक्का मारने के लिए अपनी मुट्ठी दानी ऐसा है । अक्सर तब क्या करता था जब मैं किसी कठिन स्थिति में होता था । उसने मुट्ठी को कसकर भेजा और उस दिन को कोसा जब वह सारा से मिला था । पिछले कुछ महीनों में उसकी सारी सोच सारा से उसकी पहली और अंतिम मुलाकात की यादों में क्रिकेट घुमाने लगी थी । उसे पता था कि ऐसी स्थिति में जिंदगी में आगे बढ पाना बहुत कठिन है । लेकिन उसने देखा कि पिछले कई बार से उसके कुछ मित्र यहाँ सहयोगी चिकित्सक से संपर्क करने की सलाह दे रहे हैं । अरमान को पता था कि सब कुछ सामान्य होने में कुछ समय लगेगा और सोचा की लोगों ने सिर्फ चिंता जताने क्या दया भाव से देखने से आगे बढकर कुछ किया है । सब ने पूछा कि क्या हुआ था उस रात लेकिन केवल कुछ नहीं वास्तव में उस दर्द को समझाने की कोशिश की थी और बाकी सब के लिए तो बस एक और कहानी भारती और शायद डब करने के लिए एक विषय था । अरमान ने देखा कि मूवर्स एंड पैकर्स की तरफ से एक व्यक्ति उस की ओर बढ रहा है । उसने चारों ओर नजरें दौडाई और देखा कि बाकी सब कुछ नीचे खडे ट्रक में ज्यादा जा चुका था हूँ । उसने पालन की तरफ मुडते हुए कहा सुनी मुझे पलंग ले जाना है पहला जिस पर लेटकर उन्होंने सैकडों घंटे बातचीत की थी । असंख्य यादें जुडी थी जिससे जिस पर लेटकर उन्होंने पूर्णिमा के राजकीय चंद को निहारा था और सोते थे उन लोगों ने उसे उठाया और लेकर चलती है । बिना यह जाने कि जहर पलंग उनके लिए क्या मायने रखता था । इस घर में कुछ तो ऐसा था जो अनुमान को यह ऐसा दिला रहा था कि इस मकान को छोडने के साथ ही है । अपनी जिंदगी का एक हिस्सा उसके साथ ही छोडे जा रहा है । उसे बहुत अच्छी तरह पता था कि उसे यह एहसास क्यों हो रहा है या खाली फ्लैट उसे क्यों उसके प्रियजनों की तरह बुला रहा है । उन दोनों ने मिलकर सचिन यादव को संजोया था । उसे उन पर गर्व था लेकिन वही यादे उसे बीडा पहुंचा रही थीं हूँ उसने दरवाजे पर ताला डालकर चाबियाँ मकान मालिक को देने से पहले अंतिम बाहर अपने फॅमिली उसने अपने आप से कहा कि जीवन में कुछ दरवाजे ऐसे होते हैं जिन्हें बंद करना जरूरी होता है क्योंकि वह कहीं नहीं पहुंचाते हैं । उसने सोचना शुरू किया कि कैसे ये सब शुरू हुआ था और कैसे वक्त बीतने के साथ ही सब कुछ बदल गया । ये है अब विश्वसनीय जरूर था लेकिन उसके अंदर एक बार फिर अपने फ्लैट में लौट जाने की एक अजीब इच्छा पैदा हो रही थी । क्या कम से कम उसके अंदर ऐसी उम्मीद जगी? उसे नहीं पता था की क्यूँ लेकिन उस नहीं है सोचने की कोशिश की कि कैसे उसके अंदर का डर सच्चाई में बदल गया । उसने अपनी बाहों को रोकने की कोशिश की जिसमें अपराधबोध और निराशा के साथ ही उम्मीद की हल्की सी किरण हुई थी । उसने बताया था कि काले बादलों नहीं उसकी जिंदगी की सुनहरी धूप को ढक लिया है । लेकिन मन में है । विश्वास था कि परिवर्तन की बयार में घने से घने बादलों को उडाकर फिर से सुनहरी धूप बिखरा देने की ताकत होती है । बताए कभी कभी कहानी शुरू ही वहाँ से होती है, जहाँ असल में खत्म होती है । कई बार कहानी का सुखद अंत नहीं होता है, लेकिन क्या सही समापन ही सब कुछ है?

Part 2

ऍम दो हजार सत्रह शनिवार की रात थी और मेहमान का फ्लैट उसके साथ रहने वाली साडी के दोस्तों से खचाखच भरी हुई थी । ॅरियर अरमान दोनों बिलकुल विपरीत है । अरमान और उनके फ्लैट में रहने वाला दूसरा साथ ही जो है । दोनों को हमेशा लगता था कि सैंडी उनसे कुछ पा रहा है । उस रात सैंडी और उसके दोस्तों ने उन दोनों से उनके साथ पार्टी में शामिल होने को कहा था । अच्छा उन्हें लगा कि जब वो पूरी तरह नशे में धुत और बेसुध होंगे तब आस पास एक लेखक का होना मजेदार होगा । हर शायद ये अच्छा होता अगर उसे अगले दिन शूट किए जाने वाले उसके शोक का पूरा एपिसोड फिर से नहीं लिखना पड रहा होता है । यह अंतिम शनका बदलाव था क्योंकि चैनल की कई सुपरवाइजिंग प्रोड्यूसर सारा कुछ शोर से जुडी थी । ऍम जिस तरह से लिखा गया था उस पर आपत्ति थी । ये सप्ताहांत एक ये सप्ताहांत में एक क्रूर एवं गन्दा मजाक था । फिर कभी कभी अपने काम को बहुत पसंद करता तो कभी कभी उसे तो प्रश्न हो जाती थी । उसने सोचा कि किसी चैनल के लिए ये बहुत आसान है कि है सप्ताहांत में एक ईमेल भेजे हैं और किसी के भी व्यक्तिगत कार्यक्रमों को बर्बाद कर दें और पटकथा में कमियां निकालना भी आसान है । हालांकि स्वयं की रचनात्मक प्रोड्यूसर होने के दावा करने वाले ऐसे बहुत कम लोग हैं जो पटकथा को बेहतर बनाना जानते हूँ । अरमान ने तीन दिन लगाकर पटकथा लिखी थी और सारा ने महज तीन मिनट में अपनी प्रतिक्रिया दे डाली । जब आप नहीं होते हैं तब भारतीय टेलीविजन उद्योग में ऐसा ही होता है । आपको चैनल के ऐसे लोगों को रचनात्मक कहना होता है जिनमें किसी भी तरह रचनात्मकता नहीं होती है और उनकी बेसिरपैर की प्रतिक्रिया से सहमत होना पडता है । तो केवल बडे बडे शब्दों का प्रयोग करते हैं । हर अगर आप बात पर तो नहीं है तो मैं आप के सभी तर्कों को अपने शब्द जाल से खत्म कर देते हैं । अगर अब रचनात्मकता से उनका वो बंद करना चाहते हैं तो आपके पास निश्चित तौर पर अनुभव होना चाहिए और आप नकचढे होने चाहिए अन्यथा में आपको चैनल से बाहर का रास्ता दिखा देंगे । और ऐसे में तुरंत राहत चैनल में अपना अस्तित्व बनाए रखने के लिए आपको अपने अंदर की रचनाधर्मिता को संतुष्ट करने की बजाय वहाँ के रहने का फैसला करना पडता है और मान हर समय इतनी बुद्धिमानी नहीं करता था रहे अपनी रचनात्मकता के लिए भी आवाज उठाता था । लेकिन तब जिस प्रोड्यूसर ने चैनल में अरमान के नाम की सिफारिश की थी सोचने लगता की चैनल प्रमुख से सवाल करके अपने को ज्यादा दिखा रहा है या ज्यादा ही झूमती बनने की कोशिश कर रहा है । हाथ में वही प्रोड्यूसर उसे अपने प्रोजेक्ट से बाहर कर देते थे क्योंकि इससे उन्हें आदर्श चाहती उसकी अपनी छवि के धूमिल होने का खतरा लगने लगता था । अपने विचारों को दर किनार करते हुए हैं । उसने बगल की कमरे से आती है संगीत की मधुर धुन पर अपना ध्यान केंद्रित किया जो उसे सुखद अनुभूति दे रही थी । उसने सोचा कि क्या उसके फ्लैट में उसके साथ रहने वाले आवांछित साथ ही साडी को भी कभी ऐसे दिक्कतों का सामना करना पडा है । कभी कभी ऐसा भी वक्त आया जब अरमान को एक साथ ही के रूप में उसकी जरूरत महसूस हुई । ऍम फ्लाइट में सात रहने वाले को थोडा सहारा देने से किसी का कोई नुकसान नहीं होता हूँ लेकिन सैंडी ऐसा नहीं था । उसके साथ में दायर सुखद वालों की कोई खासी आज आयुष्मान के जहन में नहीं थी हूँ साडी से कम रहा ठीक अरमान के कमरे के बगल में था । वो फ्लाइट के अन्य कमरों से बढा था और उन्हें ऐसा बाथरूम था जिसमें एक सुंदर जकूजी बाथटब था । साडी के अनुसार किसी को भी नहीं रहने से सबसे अधिक सुकून मिलता है । सैंडी एक संघर्षरत अभिनेता है जिसकी वजह से उसके पास बहुत खाली समय हुआ करता था । जब रमानी स्लाॅट में आया था तब शुरू में में कई बार साडी के साथ घूमने गया था । उसने सोचा था कि इससे दोनों में जुडाव पैदा होगा लेकिन होगा बिल्कुल इसका उल्टा । जवाहर महान उसके साथ नहीं भी जाना चाहता था हूँ जैसा की अक्सर होता था तब भी फॅमिली साथ चलने के लिए जोर देता था हूँ । अरमान को संगीत की तेज आवाज सुनाई पड रही थी लेकिन उससे रिसोर्ट को फिर से लिखने में कोई सहायता नहीं मिल पा रही थी इसलिए मैं उठा और दरवाजा बंद किया ताकि उस का ध्यान ना भटके । उसने और दो बार उसकी पटकथा पढ दी गई प्रतिक्रिया को पढा और उसे मैं पूरी तरह ऍम कारफोन लगी । उसने ईमेल की पंक्तियों पर अपनी आंखें गढा दी जिसमें लिखा हुआ था स्क्रिप्ट उम्मीद के अनुरूप नहीं । वो मुख्य चरित्र कहानी की मुख्यधारा के अनुरूप नहीं बढ रहा है और मुझे नहीं लगता कि मैं इस स्क्रिप्ट में थोडा बहुत भी बरकरार रखना चाहती हूँ । इस पर बहुत अधिक काम करने की जरूरत है । मैं चाहती हूँ कि आज ही नहीं पांडुलिपि मुझे मिले । बीओडी वे अपनी मेज पर बैठा और आपने अगले सप्ताह के कार्यक्रम पर नजर डाली । पूरी तरह व्यस्त ऍम उसका करीबी मित्र भुवन शादी करने जा रहा था । वो ही इस बात की पूरी उम्मीद लगाए बैठा था कि अरमान उसकी शादी में आएगा । मैं अरमान से खास तौर पर कह रहा था की है इस बार अपना वादा नहीं । थोडे बालकनी में गया और एक लंबी सांस ली । उसने देखा की साडी के कमरे में पार्टी की लाइटें संगीत की धुन पर जैलभोज रही थी । उससे नाचते हुए लोगों की खुश हाल लोगों की छाया भी नहीं । उसे ऐसी पार्टियां कुछ खास पसंद नहीं थी लेकिन उसे लगा कि एक लंबे समय से खुश हाल नहीं अन्य ऐसे दिनों में जब मैं उदास होता था तब वह अपनी माँ से फोन पर लम्बे समय तक बात करता रहता था । लेकिन अब पिछले कुछ समय से उसके कमरे में नेटवर्क की समस्या हो गयी है और बाहर नहीं जाना चाहता हूँ । उसके अलावा उसे एक पूरी स्क्रिप्ट को फिर से लिखना है । लेकिन मैं जितना ध्यान लगाने की कोशिश कर रहा था, उसका ध्यान उतना ही बढता जा रहा था । उसने घडी पर नजर डाली और उसे ऐसा हुआ कि वक्त तेजी से गुजरता जा रहा है । उसने सोचा है कि आखिर कभी ऐसा नहीं हुआ । उसे शायद ही कभी खयाल आया था कि उसे मुंबई आए पांच साल हो गए । इस विचार के मन में आते ही उसने अपने आप से सवाल किया, क्या पिछले सालों में मैंने पर्याप्त उपलब्धि हासिल की? क्या अधिक जरूरी है? एक संतुलित व्यक्तिगत जीवन या एक स्थिर पेशेवर जिंदगी? जैसे अपने आप से बात करता था । तब अधिकतर समय वे अपनी क्षमताओं पर सवाल करता था और उसने महसूस किया हूँ कि जब मैं अपने आप से सवाल जवाब करता है तब रहे, इससे अधिक गहराई में नहीं जाना चाहता था हूँ । अचानक उसके चेहरे पर लगे हवा के थपेडों ने उसे छत छोड दिया और उसमें सिर उठाकर ऊपर आकाश की ओर देखा । अचानक कहीं से वादा लाकर घुमडने लगे और हमार रखने लगी । ऐसा मौसम फरमान को जिसके असंख्य विफल प्रेम सम्बन्ध रह चुके थे, उसकी पूर्व प्रेमिकाओं की याद दिलाने लगता वो अपने ब्रेकअप के बारे में अपनी प्रेमिकाओं को सूचित करने के लिए उनके साथ कॉफी पीते हुए हैं या ऐसे ही कुछ समय तक बातचीत करता था । फिर उन से ब्रेक कब की बात करके सद्भावपूर्ण तरीके से उन से अलग ही हो जाये करता था । वे इतनी शांति से और ऐसे तरीके से ब्रेकअप की बात करता था की कोई भी वो कब करने पर उस पर नाटक चलने आया हूँ और ना ही तमाशा । क्या तो उसने मन ही मन सोचा ब्रेकअप विशेषज्ञ भारतीय टेलीविजन के लिया लिख रहे हैं हम बस करा दिया फास्ट है उसकी सभी पूर्व प्रेमिकाएं या तो जब तक वो अपने आप को शादी के लिए तैयार कर पाता उससे पहले ही शादी करना चाहती थी या उसने सोचा कि उसकी प्रेमिका उसे छोडे । इससे पहले वही उसे छोड दें । किसी तरह के झंझट से बचने के लिए उसने समय रहते पूरी ईमानदारी के साथ संबंध खत्म कर लिया । जहाँ तक उसे याद है इस मामले में वह ईमानदार है जब अन्य माता पिता अपने बच्चों को अपना पूरा ध्यान पढाई में लगाने को सीख देते हैं ताकि वे अपनी कक्षा में अब वाला सकें । उसके माता पिता ने उसे ईमानदार बनने जिंदगी को सहज तरीके से लेने और तनाव में नहीं रहने की शिक्षा दी थी । सामान्य भारतीय माता पिता अपने बच्चों को ऐसी शिक्षा नहीं देते । जैसे जैसे मैं बडा हुआ है उसके माता पिता हर वक्त उसके आस पास नहीं होते थे और धीरे धीरे भी उस चूहा दौड में शामिल हो गया । वो अपनी जिंदगी जीत रहा था । ऐसा कुछ करते हुए हैं जिसे करने की जरूरत थी । यहाँ वास्ता मैं उन सबसे खराब बातों में से एक हैं जो आपके साथ होती हैं । जगह आप अपने जीवन का एक हिस्सा छोड कर एक नए शहर में आती हैं जहाँ को अनेक बार ठुकराया जाना है । इस अफरा तफरी में मैं अब इस कदर रम चुका है इसमें किसी तरह के बदलाव की बात सोचते उसे डर लगता है । ऐसा नहीं लगता है कि वह आज राहत अपनी स्क्रिप्ट पूरी कर पाएगा है । इस बात पर भी आश्वास नहीं था कि वह पिछली स्क्रिप्ट से बेहतर स्क्रिप्ट लिख भी पाएगा या नहीं । उसने दवा भी महसूस किया लेकिन जब उसने इससे उबरने की कोशिश की, हर मैं को इस बात का विश्वास दिलाया कि ऐसा कर सकता है उसने पूरे विश्वास के साथ लिखना शुरू कर दिया हूँ । उसमें है अपने सपने के बारे में सोचा हूँ जिसकी वजह से मैं मुंबई आया था । खार अपने आपसे कहा कोई बात नहीं नहीं सुपर वाइॅन् खींचने वाली क्यों ना हूँ है जल्दी ही उनसे मिलेगा और उनसे घटनाक्रम पर चर्चा नहीं करेगा हूँ ।

Part 3

तीस अप्रैल दो हजार सत्रह रात के दो बच्चे थे । उनके शरीर एक दूसरे से हो रहे थे और उन्हें एक किए दे रहे थे । उसने हमेशा सोचा था कि उसके साथ प्यार करना ऐसा होगा और तरह तरह के विचार दिमाग में आए थे । लेकिन जब उसके बदन की तपेश उस तक पहुंची था वो बस छड को छोड कर बाकी भूल गया । अच्छे पकवान ही सबीआई उसने साथी छोडी और तुरंत अरमान ने भी अपने को स्खलित होते हुए महसूस किया । वह कुछ अजीब सा महसूस करने लगा और एक सुंदर लडकी है जिसे वास्तव में जानता ही नहीं था । के साथ सोने का सपना उसके कमरे में रोशनी के फैलने के साथ ही टूट गया । उसे ये समझने में कुछ समय लगा कि ये सब सपना था और उस सपने के अहसास से बाहर निकल रहे में उसे कुछ अगर समय लगा रविवार को सुबह अरमान अपने को ये विश्वास दिला रहा था की तेर रात तक काम करने के बाद अपने को एक दिन की छुट्टी दे रहा था । जब दरवाजे पर घंटी बजी तो उसने बदगुमानी में दरवाजा नहीं खोला । उसे रविवार जैसा अहसास हो रहा था । उसने सोचा ये जरूर साडी का दोस्त होगा कुछ देर बाद में उठा और धीमी गति से चलकर लिविंग रूम की ओर बढा और उसे समझाया कि शाम हो चुकी थी । मैं सोया नहीं था । कल रात के थका देने वाले काम काज के बाद मैं बिल्कुल पस्त हो गया था । लेकिन जिस बात में उसकी नींद थोडी गए थे उस फ्लैट में पसरी छुपी इस बात का साफ प्रमाण था कि वह अपने सभी दोस्तों को दवा रहा है । साथ ही में अजीब सा एहसास जो तब होता जब है और ऍम के लिए होते । सैंडी जब उसके कमरे की ओर बढा तो तुरंत बाथरूम की तरफ बढ गया । अरमान कोई बात है मैं तुमसे कहना चाहता हूँ । साडी ने कहा पिछले कुछ महीनों में मेरे और साडी के बीच सच्चे अर्थों में ये पहली बातचीत थी अगर तुम्हें दिक्कत ना हो तो मैं पहले नहाना चाहूंगा । अरमान ने अपने बालों पर हाथ फिराते हुए का ठीक है में अगले आधा घंटे में खरीदारी के लिए ज्यादा तक जाना चाहता था । क्या तो मेरे साथ चल होगी हाँ जरूर आज अभी तक मेरा और कोई कार्यक्रम नहीं है और मानने का तो मिला के कुछ देर में जरूर । अरमान ने जवाब दिया अरमान नहाया शेफ की और जाकर एक नई खरीदी, टी शर्ट पहनी तथा पैरों में सानी डाली । कैंडी पहले से ही नीचे उसके लिए इंतजार कर रहा था । फरमान को रोज शैम्पू की खुशबू आई जरूर साहनी ने आज सुबह लगाया होगा आप? मुझे उम्मीद है कि तुम्हें मेरे साथ चलने में कोई परेशानी नहीं होगी । चांडी ने कहा, और उसने गाना स्टार्ट कर दी तो बिलकुल नहीं । वास्तव में मुझे घर में कुछ घुटन सी महसूस हो रही थी और मैं कहीं बाहर जाने के बारे में ही सोच रहा था । मैंने आज सुबह सुबह जागने की कोशिश की थी तो हम इतने थके हुए थे कि तुम्हारी नींद ही नहीं टूटी । कल तो मैं हमारे साथ पार्टी में आना चाहिए था । बहुत मजा आया । मुझे आश्चर्य नहीं हुआ । खिलाडी में पिछली रात हमारे बहुत सारे दोस्त हैं । पिछले दिनों हम यहाँ एक साथ मौज मस्ती कर चुके हैं । मुझे लगता है कि जिंदगी अपने ढंग से चलती गई और मैं काम काज में व्यस्त हो गया । पहले था तो उन लोगों के साथ मौज मस्ती करना पसंद करता है । हनुमान ने कहा, मुझे कम से कम रात को खाने पर या ऐसे ही थोडी देख तुम लोगों के पास आना चाहिए था । उसने कुछ रुककर का अरे कोई बात नहीं, मेरी भी उतनी ही गलती है । कभी कभी मैं भी रुखा बर्ताव कर जाता हूँ । मेरा रहनसहन और सब कुछ सही मायने में तुम लोगों के साथ समय बिताने कि कोशिश ही नहीं । मुझे लगता है कि मैंने पहल किए तो अब ये आसान हो गया है । सैंडी ने कहा अर मान्य सिर हिलाकर सहमती जताई और अपना मोबाइल देखने में व्यस्त हो गया । ऍम म्यूजिक सिस्टम चला दिया और उसमें कोई गाना लगा दिया । विमान नहीं उसे बंद कर दिया और कहा हम दोनों की आवाज में इतनी खराब नहीं है । यह रेडियो बंद रहने से मैं खुश होंगा । खरीद मुझे तो बिल्कुल बुरा नहीं लगेगा । एक बार को मुझे लगा था कि मैं तुमको बोर कर दूंगा । तुम जो पसंद नहीं करते हो वह तुम्हारे चेहरे से दिख जाता है । चांडी ने कहा और मुस्कुरा दिया । अरे नहीं नहीं, मुझे गलत मत समझो । पिछले सप्ताह लगातार देर रात तक काम करने से मैं कुछ थका हुआ हूँ, बस नहीं । पिछले पूरे सप्ताह में दे । रात तक अपना काम करता रहा । अरमान ने अपना बचाव करते हुए गा । उसकी आवाज से थकान साफ समझ जा रही थी । अब मुझे लगा कि तुम बोर हो रहा हूँ क्योंकि तुम कई बार ऐसा कर चुके हो तो बताइए । जब मैं अपने ऑडिशन और बाकी सब से बात करता था तो अक्सर बोर हो जाते थे । साडी ने कहा अरे वो तो इसलिए कि मेरे पास कोई काम नाम नहीं था । मेरे लिए असंभव था की मैं चुप चाप बैठा रहूँ । कुछ काम धाम नहीं करूँ और दूसरों के कामकाज के बारे में सुनता हूँ । मैं सच कहता हूँ इससे अधिक कुछ भी नहीं था । अरमान ने लगभग माफी मांगते हुए गा । इतने ही ईमानदार होने के लिए शक्रिया । लेकिन यहाँ हम दोनों कुछ गलत फहमियों की वजह से अकेले रह गए । फॅमिली ने लंबी सांसे लेते हुए कहा और मुस्कुरा दिया । बिगडी बात जब संभल जाएं तभी सही मानने का यदि वहाँ गजब की चीज है । कभी कभी ये अपने को ऐसी चीजों में उलझा लेता है जो वास्तव में तो कभी थी हर ना ही कभी अस्तित्व में रह सकती हैं । साडी ने दार्शनिक अंदाज में कहा, अरमान साडी के व्यक्तित्व के इस पहलू से अनजान था । इसीलिए उसने कहा और संबंधों में जो खाली बनाया गया था उस से अपनी अपनी तरह की कहानियां बन गई । कुछ समय के बाद ही वास्तविकता बन गया और हम इतना आगे बढ गए कि उनमें कितनी सच्चाई है इसका पता लगाने की कोशिश भी नहीं की यही बात है । ठंडी ने आँखे बडी बडी करके कहा मुझे लगता है कि यह लेखा का काम है । अरमान ने कंधे उचकाते हुए था और तुम इसका में काफी माहिर हो खाश । उस चैनल ने भी यही सोचा होता तो आज मैं इतना थका हुआ नजर नहीं आता है । मैंने सुना है कि उस चैनल के लोग काफी मददगार है । साडी ने कुछ अनिश्चय के साथ का ऐसा इसलिए है कि तुम ने उनके साथ काम नहीं किया है । क्या तुम चाहते हो कि मैं तुम्हारी फोटो या वीडियो तक पहुंचा हूँ । इसमें कोई दिक्कत नहीं है । अरमान ने अपनी मुस्कान छुपाने का प्रयास करते हुए कहा ये तुम्हारी शहर देता है लेकिन मैं वहाँ काम करके अपनी जिंदगी भर बाद में करना चाहता हूँ । मैं विज्ञापन के लिए मॉडलिंग करके हर वेब सीरीज में काम करके खुश हूँ । साडी ने मेरी ओर देखकर आंख मारते हुए कहा कभी मना नहीं किया करो । हो सकता है कि तुम कभी इसमें काम करूँ । ऍफ एक दूसरे से जुडे हुए हैं । फिलहाल तो ऐसा नहीं होने जा रहा है । ऍम समझ गया हूँ कि तुम खराब अभिनेता, मेहमान नियम मुस्कुराकर का नहीं, अब तक नहीं । ये समझ पाने के लिए कुछ कास्टिंग काउच के अनुभव होने चाहिए । कुछ और जगह से मुझे लेने से मना किए जाने की जरूरत है । शानवी ने अपने चेहरे पर जबरन मुस्कराहट लाते हुए कहा, अरमान को यह बात पसंद नहीं आई । उसे उस मुस्कान में कुछ दर्द सा दिखाई पडा । उसे कुछ ऐसा दिखा जो सैंडी के व्यक्तित्व के अनुरूप नहीं था । फॅमिली पूरी कोशिश कर रहा था की उस की नजर अरमान से नहीं मिले । वहीं अरमान साडी के कहे उन शब्दों में छिपे अर्थ को समझने की पूरी कोशिश कर रहा था जो अभी अभी उसकी कान में पडे थे । साडी ने अगले कुछ दिनों तक कुछ नहीं कहा लेकिन जैसे जैसे समय बीतता जा रहा था ऐसे वैसे ऍम बताया जा रहा था । अपनी हालत छुपाने की कोशिश कर रहा था । अचानक मैं इस बात पर दुख व्यक्त करने लगा कि उसके पास क्या है । इस अप्रिय स्थिति से बचने के लिए अरमान ने सैंडी का याद दिलाया । ऍसे रवाना होने से पहले तुम बच्चे किसी मामले पर बात करना चाहते थे । तीन लोग पहले से इतनी परेशानी भरे सकता । आंधी ये बात ये तुम्हारे लिए एक और तकलीफ पहुंचाने वाली बात हो जाएगी । साडी ने कार का स्टेयरिंग कसकर पकड लिया और उसे पूरी तरह अपनी मुट्ठी में भेज लिया । ये कोशिश करते हुए हैं कि वह रोना पडेगा । जैसे ही वे मॉल की पार्किंग में पहुंचे उनकी आस पास धीरे जुटने लगी । बाहर के शोर में उसके शब्द डूबने लगे । आपने निश्चित तौर पर इस तरह से नहीं चलने दे सकता । मुझे पता है कि हम बहुत अच्छे दोस्त नहीं लेकिन हमारी दोस्ती इतनी तो पुरानी है कि मैं कम से कम ये तो जान सकों कि आखिर तुम की इस बात से परेशान हो । इसके अलावा जिस बात को मैं तक टाल रहा था कि ऐसा लग रहा था की कोई बात तो है जो तुम हमसे छुपा है और तो बेहतर यही होगा कि तुम अवैध बाद पता जो अरमान ने कहा साडी ने कुछ कहने से पहले एक बार अपना मुंह खोला और फिर बंद कर लिया । ऐसा लग रहा था कि कुछ तो ऐसा है जो उसे सब बताने से रोक रहा है हूँ । मैं मुंबई छोडने की योजना बना रहा हूँ, दिल्ली वापस लौट जाएंगे । सब को छोड कर ही नहीं ये बात निश्चित तौर पर उन सैकडों संभावनाओं में शामिल नहीं थी जिनकी पिछले कुछ मिंटो में मैंने कल्पना की थी । क्या दिक्कत है? मेहमान ने पूछा बॅाडी की बात है चौक गया था हर चीज हर जिले । चांडी ने कहा, इस बार अरमान ने कुछ नहीं कहा और इंतजार करता रहा कि जब चांडी बोलना चाहे तो बोले, वही देख रहा था की उसके अंदर तूफान को मार रहा है । ऍम डी के व्यक्तित्व का ऐसा पहलू था जो उसने पहले कभी नहीं देखा था । ऍम मेरी जिंदगी की आपने सबसे यहाँ दौर से गुजर रही है और बदकिस्मती से इसका कोई भी सुनहरा पहलू नहीं है । मेरे पिता की मौत के बाद मैं बहुत ज्यादा लोगों की नजदीक नहीं रहा और जिन लोगों को मैं पसंद करता था उनसे दूरी बनाए रखा था । मेरे अंदर डर है कि मैं उन लोगों को खोल दूंगा और इसे मैं नहीं पाऊंगा । शैंटी ने रूंधे गले से कहा, उसके स्वर्ण शेयर मान को लगा कि और भी कुछ है । उसकी बात अभी तक खत्म नहीं हुई है । उसने उम्मीद की कुछ ऐसा हूँ कि उसे सुधारा जा सके । मेरी माँ को तीसरे स्टेज का कैंसर होने का पता चला है । सच तो ये है कि मैं अपने में इतना व्यस्त था कि मैंने उन पर ध्यान नहीं दिया । लेकिन अब ये बात मुझे खाए जा रही है । उनकी मृत्यु निश्चित है । सालों से मुझे बुलाती नहीं और मैंने उन्हें हमेशा अपनी प्राथमिकताओं की सूची में सबसे नीचे रखा क्योंकि मैं पार्टी करने, घूमने फिरने में बहुत व्यस्त रहा । धड शान्ति ने कहा और बच्चों की तरह सफक तथा खर्च होने लगा । आंसू उसकी आंखों से तेजी से बढे चले जा रहे थे और उससे साफ ना देना मुश्किल हो रहा था । माननियों से रो लेने दिया । उसने उसे अपनी बाहों में भर लिया और अपनी पीठ पर उसकी बाहों का कैसा घेरा महसूस किया । मानो मैं चाहता हूँ कि आरमान सबकुछ ठीक कर दें । वो अपनी माँ के लिए समय चाह रहा था लेकिन समय जैसा निर्दयी और अमानवीय उसने कुछ नहीं सुना । उसने एक बेटे को अपनी माँ की संभावित मौत पर रुला दिया । शुरूआत हिचक के बाद आयुष्मान ने भी आंसू बह जाने दिए । उसने एक बेटे की पीडा को समझा और ना चाहते हुए भी सोचने लगा कि अगर ऐसा ही कभी उसकी माँ के साथ हुआ हो तो उसने तय किया कि रह चाहे कितना भी व्यस्त क्यों न रहे वे हर रोज अपने माता पिता को फोन करेगा । भावनाएं ओवर पडी साडी ने उसकी चिंता को समझा । हालांकि सैंडी अरमान के कुछ बोलने की अपेक्षा नहीं कर रहा था । उसके लिए यही बहुत था कि उसने उसके डेट को समझा रहा हूँ । है उससे यही चाहता था एक समझदारी भरा रुक संवेदना के साथ बाहों में भरना । उसे एहसास हुआ कि अरमान उसे उसके उन अधिकतर तथाकथित दोस्तों से कहीं अधिक समझता था तो नहीं है । खबर कम मिली जब मैंने तुमसे कहा था कि मैं तुमसे किसी महत्वपूर्ण विषय पर बात करना चाहता हूँ । मैं मानने से मिलाया और कहा तुम जल्दी जा रहे हो गए । कल सुबह मुझे बताया की है तो हमारे लिए बहुत कठिन समय होगा । लेकिन ऐसे टूट मचाना समझे तो मैं जिंदगी की रफ्तार के साथ चलना है । इस बात को याद रखना बाॅंटी तब भी रोये जा रहा था । उसके हाथ का रहे थे । वो असहाय स्थिति और हताशा में अपने बालों को हाथों से पकडे हुए था । कभी कभी हम जिंदगी के बहाव में बहते चले जाते हैं और जीवन को बढते चले जाने देते हैं । लेकिन हम जैसे जैसे बडे होते हैं, वैसे वैसे हम उन लोगों का सम्मान करना और उनका ध्यान रखना भूल जाते हैं जो हमें निस्वार्थ भाव से प्यार करते हैं । हम सालों उस व्यक्ति की उपेक्षा करते हैं जिसमे हमें सालों पाला पोसा । मैं अपनी माँ की अनदेखी करता रहा हूँ ताकि उन की उन कहानियों से बच सकूँ जो हर बूढे व्यक्ति के पास होती है । हर बार जब भी उन्होंने बात की उन्होंने केवल अपनी बीमारी की बात ही और इससे मुझे कि जा जाती थी । बहुत बार मैंने ऐसा सोचा कि रहे सिर्फ सहानुभूति या मेरा समय पानी के लिए ऐसा कर रही हैं । लेकिन ऐसा नहीं था । रहे केवल मुझ से बात करना चाहती थी । पहले उन पर बात हो पर रहने उनकी रहे । इच्छा भी पूरी नहीं । शान्वी के दर्द और अपराधबोध की कोई सीमा नहीं थी । अरमान ने सोचा की अंतिम वहाँ ऐसा कब हुआ था कि उसने अपने माता पिता को दिल खोलकर अपनी बात है लेने का मौका दिया था या उनके माथे को चूमा था । यहाँ अचानक उन के लिए कोई उपहार भी जाता हूँ । अरमान ने पहले कभी अपने माता पिता के बारे में इस तरह नहीं सोचा था है अपने आप से इस बात से इनकार नहीं कर सकता हूँ । ऍम असहाय की तरह होता रहा और कुछ देर बाद जब है कुछ स्थिर हुआ । उसने कहा, मेरी माँ अंतिम बार जब यहाँ आई थीं तब रह जारा में खरीदारी करना चाहती थी लेकिन मैं उन्हें नहीं ले गया था क्योंकि मुझे लगा था कि वह मुझे शर्मिंदा कर देंगे । मुझे लगता है कि मैं खता था । मैं उन्हें सबसे अच्छे कपडे उपहार में देना चाहता हूँ और मैं पहनेंगे । चांडी ने कहा और बडे से शोरूम में घुस गया । इधर उधर कपडे देखने के बाद उन्होंने उसकी माँ के लिए बीस हजार रूपये का एक सुंदर सा गांव खरीदा । हालांकि अरमान जानता था कि इससे स्टैंडी का ये अपराधबोध किसी भी स्थिति में काम नहीं होगा कि उसने अपनी माँ के साथ पर्याप्त समय नहीं बताया । घर पहुंचे और साडी के लिए टिकट बुक की पहले से बेहतर दिखाई पड रहा था लेकिन उस रात भर मान में अपने माता पिता से लगभग एक घंटे बातचीत ही और ऑनलाइन स्टोर से अपने माता पिता के लिए सरप्राइज गिफ्ट का ऑर्डर दिया । फॅमिली की माँ को क्या हुआ है याद करना था लेकिन उससे भी अधिक दर्दनाक ही है । सोचना था कि कैसे यादें अपराधबोध और हताशा के बीच छोडती रहेंगी । रात को बिस्तर पर लेटे लेटे अरमान ने सोचा सालों तक या यादव सैंडी को का छोटी रहेंगी । जैसे ही उसने अपने सिर के नीचे तकिया खींचा, पूरी बातचीत उसके दिमाग में इस तरह उभर कर आ गई जैसी ऐसा कोई गीत जैसे भूलना चाहता हूँ क्योंकि इससे अप्रिय यादें भी उभर कर आ जाती हैं । क्या है दुनिया दुर्भाग्य से आपको ऐसी कहानियाँ सुनाती हैं जो अच्छी लगती है । कोई आपको उन रहस्यों के बारे में नहीं बताता जो अनकही दिलों में छिपे हुए हैं । उसके फोन में आवाज हुई और अंधेरे कमरे में रोशनी जमा कोठी । उसकी आंखें बडी बडी हो गई क्योंकि उसे सारा की ओर से आया ये मेल दिखाई पडा । कल शाम पांच बजे बैठक आने वाले सप्ताह की स्टोरी पर बातचीत की जरूरत कृप्या समय पर पहुंचे समझ रहे हैं ।

Part 4

एक नहीं दो हजार सत्रह उस सुबह आकाश में बादल छाए हुए थे । आलू में शोक मना रहे हो सैंडी को क्या आपसे हवाई अड्डा छोडने के बाद अरमान समुद्र तट पर चला गया । उसने मुंबई को अपने सबसे खराब दौर में भी अपनी रफ्तार होते नहीं देखा जाए । कल रात से ही सुरक्षा निशान को पार कर ऊंची ऊंची लहरें उठ नहीं थी और गोताखोरों ने उसे समुद्र के और नजदीक नहीं जाने की चेतावनी दी । उस नहीं है पता लगाने के लिए चारों ओर देखा कि क्या वे वहां खेला है । हवा के साथ पानी तेजी से बढ रहा था । मूसलाधार बारिश हो रही थी । ऐसे मौसम में उसे समुद्र तट पर किसी और के होने की उम्मीद नहीं थी । मुंबई की बारिश क्या चीज है देखते देखते ही खुश मगर मौसम को बिलकुल बर्बाद कर सकती है । उसने ये पता करने के लिए मुड कर देखा कि गोताखोर अभी भी वहां है या नहीं । रैप कहीं दिखाई नहीं पड रहा था । उसने उस लडकी को याद किया जब काल उसके सपने में आई थी और अपने अवचेतन में उसकी छवि बनाने की कोशिश करने लगा । उसने जैसे ये शुरू किया की लडकी की छवि पूरी तरह गायब हो गई और उसकी जगह उसके बाई और खडी उस लडकी ने ले ली जो लगभग उससे पचास फीट की दूरी पर थे । गिरता पानी और बादलों की गर्जना भी वहाँ खडी सुंदरी को विचलित नहीं कर पा रही थी । वो अपने शरीर को पूरी तरह फैलाकर कसरत कर रही थी । अरमान की आंखें कुछ चढ के लिए उसके शरीर के बीच के हिस्से पत्ते गई । मैं बिलकुल बेदाग सफेद बच जगमगाता सा था और दो से रहे बिलकुल किसी जलपरी की तरह लग रही थी । कसरत करते हुए तो कई बार पीछे की तरफ जो कि और ऐसा लग रहा था की कोई जलपरी लहरों को चुनौती दे रही हैं । आम भारतीय लडकियों से मैं कुछ अधिक लंबी थी और उसकी उम्र चौबीस पच्चीस के आस पास होगी । जब समुद्र के पानी से खेल रही थी तो ऐसा लग रहा था कि उसे समुद्र से बिल्कुल भी डर नहीं लगता । हरमान को हमेशा पानी से डर लगता था और यही वजह थी कि वह हमेशा समुद्र को दूर से ही देखता था, तेजी से खोदने लगा । कुछ समय बाद उसने छह फीट की दूरी पर दो इंटर रखी हैं और अपने पैर चौडे किए ताकि उन पर पैर रख सके । इसके बाद उसने अपना सिर झुकाया । हर अपना से बारी बारी से दोनों घुटनों की तरफ मोडने लगा । उसने अगले पांच मिनट तक व्यायाम जारी रखा । तब तक अरमान बारिश में पूरी तरह भी चुका था । कुछ देर बाद उसने अपने हाथों से ईंटों को छोडना शुरू कर दिया । पूरी तरह मंत्र मुग्ध हो गया से इतना लचीलापन अंतिम बाढ तब दिखाई पडा था जब मैं एक वेब साइट पर एथलेटिक कौन देख रहा था । भारत में पौन पर प्रतिबंध लगने के बाद उसमें वेबसाइट् नहीं मिली । लेकिन है वही सब क्या सोचना है । थोडी दूर से गोताखोर चलाया और उसे तथा उस लडकी को तटपर से जाने को कहा क्योंकि बहुत ऊंची ऊंची लहरें उठने लगी थी । उसने कुछ दूर से सिली लाया और अपना बैग कंधे पर टंगा तथा टहलते हुए पार्किंग क्षेत्र की तरफ भड गई । जब हार मान के नजदीक पहुंची मैं कुछ ताकि हुई नजर आ रही थी, पर तब भी सुंदरी लग रही थी । उसके सारे शरीर मेरे चिपकी हुई थी । उसने बैग से आपने बोतल निकाली और उसका पूरा पानी भी गई । आईमान हालांकि लगातार उस की ओर ताक रहा था, लेकिन ऐसा नहीं लग रहा था कि उसका ध्यान इस बात पर क्या अर माननीय ऑटो को रोकने का इशारा किया और उसे रोक लिया । अगले कुछ पल उसने धीरे धीरे ऑटो की ओर बढने में लगा दी है और पूरी कोशिश की की रहे उसके नजदीक आ जाए क्योंकि वहाँ आस पास और कोई और तो नहीं दिखाई पड रहा था । पर इस बात की भी संभावना नहीं थी कि वह लडकी अपने वाहन से वहाँ आई होगी क्योंकि पार्किंग का इलाका खाली पडा था । केवल एक संभावना बच्ची थी कि उसका वहां समुद्र किनारे कोई बंगला हूँ जिसकी कीमत कम से कम सौ करोड रुपये होगी । हालांकि वो अमीर नजर आती है । ये तीनों से संदेह था की समुद्र के किनारे का कोई बंगला उसका था । अरमान ऑटो में बैठ गया । ड्राइवर से थोडा रुकने के लिए कहा और ढूंढ रही थी लेकिन से और तो नहीं मिला । सुनिये अनुमान ने आवाज लगाई मैं दवाई की तरफ जा रहा हूँ कि आपको रास्ते में कहीं छोड दूँ । शुक्रिया मुझे चलती ही कुछ न कुछ मिल जाएगा । उसने शहर सी मीठी आवाज में कहा विश्वास की थी मुझे कोई दिक्कत नहीं होगी । मैं अंधेरी ईस्ट में रहती हूँ । मेरा अनुमान है कि व्याप के रास्ते में ही पडेगा हूँ । उसने मुस्कुराकर कहा । अरमान ने हाल फिलहाल जो आवाज सुनी थी, उनमें से उसकी आवाज सबसे प्यारी थी । उसने पहले अपना बाइक ऑटो में रखा और उसके बाद खुद बैठीं निर्माण से कुछ दूरी बना कर बैठे हैं । उनकी खुशी हुई, आपने मुझसे पूछा जैसी बारिश हो रही है । जिसके हाल फिलहाल रुकने के कोई भी आसार नजर नहीं आ रहे हैं, उसे देखते हुए मैं किसी न किसी तरह आपको राजी जरूर कर लेता हूँ । अरमान ने शरीफ इंसान बनते हुए कहा, मैं सहमत हूँ । मुंबई में दो चीजें मिलना कठिन है । एक अकेले व्यक्ति के लिए फ्लैट और बारिश में ऑटो या क्या हूँ? बिल्कुल सही, लेकिन एक चीज जोडना बोल गई । अरमान ने कहा और उस लडकी ने अपनी बहुत चढाकर उसकी और देखा । अरमान ने मुस्कुराकर का आपको मुंबई में कहीं शांति भी नहीं मिलेगी । मैं आपसे कुछ हद तक है, मैं हूँ लेकिन मेरा इलाका बहुत शांतिपूर्ण है क्योंकि बाहरी लोगों को हमारी सोसाइटी में अंदर नहीं जाने दिया जाता है । कहाँ रहती हैं एॅफ? क्या आप किसी दूसरे ग्रह की निवासी हैं? ऍम मैं चेवी ने घर में रहती हूँ । उसने कहा और अपने बालों को ठीक करने लगी । मैं ठीक से वे और अधिक सुंदर लग रही थी । उसने भरपूर कोशिश की की उसकी तरफ नहीं देखें लेकिन ये संभव ही नहीं हो पा रहा था । सबसे अच्छी लग रही थी और उसने सोचा कि वह बिल्कुल खराब दिख रहा है । उसने अपना नीला स्लिप ठीक किया तो नीचे से उसकी काली ब्राज डालाकोटी जो उसके सुडौल शरीर पर बिल्कुल सही लग रही थी । उसने देखा कि ऑटो चालक भी रह रहे कर उसे देख लेने की कोशिश कर रहा है । वह उस पर अधिक ध्यान दे रहा था और सडक पर काम । अरमान ने भले ही उसे गुस्से से टका हूँ लेकिन ऑटो चालक नहीं, उस की परवाह नहीं की । वे हर लालबत्ती पर रोका ताकि रहे उसे देख सकें । अचानक ऑटो चालक घबराया और डरा हुआ दिखाई बडा इसकी वजह जानने के लिए हर मानने अपने भाई और देखा हूँ । लडकी गुस्से से उस ऑटो चालक को देख रही थी । मुझे हैं कितनी गुस्से से भरी नजर थी कि अरमान शायद ही उसे कभी भूल पाए । हरमान को उसकी तरफ देखने तक मेंटर लग रहा था तो आप शांति प्रिय इंसान लगते हैं । क्यों उसने अचानक अपनी चेहरे पर मुस्कान लाते हुए कहा उसके चेहरे से ऐसा लग रहा था मानो कहीं कुछ हुआ ही नहीं हूँ? नहीं, ऐसा नहीं है । हम पहली बार मिले हैं इसलिए शायद मैं ज्यादा बात नहीं कर रहा हूँ और मान नहीं कहा मैं हंसी और कहा ऐसी मैंने ये मतलब नहीं था । आपने कहा था कि मुंबई में शांति मिलना कठिन है इसलिए मैं नहीं कहा । अरे ऐसी बात नहीं है, वास्तव में मैं देखा हूँ और अगर आस पास शांति नहीं होती तो मैं लिख नहीं पाता हूँ वो तो इस दृष्टि से क्या पवई भीडभाड वाला इलाका है? शांतिपूर्ण इलाका नहीं है नहीं ऐसी बात नहीं है । मैं जहाँ रहता हूँ काफी शांतिपूर्ण इलाका है । मेरी शांति तो प्रायास है लो खत्म कर देते हैं जिनसे चैनल में मेरा वास्ता पडता है आज जानती हैं । अब तक मैंने जितने लोग देखे हैं, सम्भवता है । सबसे निरर्थक लोग हैं और मैं मूर्ख । लोग अपने काम को जायज ठहराने के लिए लेखक के काम में बहुत ज्यादा दखलंदाजी करते हैं । मैं काॅलर शो की पटकथा लिख रहा हूँ और चैनल ने मेरा पूरा सप्ताहंत बर्बाद कर दिया । खाना तो हाथ उन लोगों से जितने चाहे उतने सवाल जवाब कर सकते हैं । लेकिन मुझे पूरा विश्वास है कि कभी कभी विकेट सार्थक बातचीत भी करते हैं । उसने कहा, और असहमती से सर हिलाया । रुकिए अपनी बात की मैं व्याख्या करता हूँ । आपने कभी अक्सा बीच देखा हैं जी देखा है और क्या आपने गैनही क्रीक देखा है? हाँ वो भी देखा है । चैनल बीच है और लेखक संकरी खाडी । हालांकि सारे कामकाज संकरी खाडी से होते हैं लेकिन सारा फायदा चैनल ले जाते हैं क्योंकि वे बीच है तय कार्यक्रम का प्रसारण करते हैं । विश्वास कीजिए मैं ऐसे सैकडों लोगों से मिल चुका हूँ । उन में से कोई भी मुझे कुछ खास नहीं लगा । मोटे बदसूरत मूर्ख अरमान ने अपने अंदर के दबे गुस्से को अपने शब्दों के सहारे निकाल के बाहर क्या और कुछ राहत महसूस की लेकिन उसे नहीं पता था कि ये राहत बस थोडी देर की है । आज आप एक और से मिले । अरे आप को मेरी स्वीकृति की जरूरत नहीं है । आप जानती हैं क्या काफी सुंदर है और आपस महत्व बुद्धिमान भी लगती हैं आई मानने का । उसे एहसास हुआ कि पहली बीट जो हो सकता है कि आखिरी भी हो तो देखते हुए मैं बहुत अधिक बोल दिया । लडकी बिल्कुल चकित कर देने वाले अंदाज में मुस्कुराई और कहा मेरा मतलब है कि आज आप चैनल के एक और कर्मी से मिले और चैनल के बारे में आप की राय जानकर मुझे प्रसन्नता नहीं हुई । केवल हुआ मुझे माफ कर दें । लेखक को कोस का बात बराबर करना चाहती होंगी । अगर आप ऐसा करेंगे तो मैं बहुत प्रसन्न होंगा हूँ । उसने लगभग खेद व्यक्त करते हुए कहा, अभी जो कुछ भी हुआ उससे मैं बुरी तरह अचकचा गया और ये समझ नहीं पा रहा था कि मैं अपने पापा पर नाराज हूँ या इस नुकसान की भरपाई के लिए कोई नया रास्ता तला हैं । वे सोच ही रहा था कि ऑटो रिक्शा अपनी मंजिल पर पहुंच गया । मैं केवल कुछ चढ चाहता था ताकि रही है सोच ले कि इस पर किस तरह लीपापोती की जा सकती हैं । उसने ऑटो चालक को डेढ सौ रुपये पकडा है । मामले को संभालने की कोशिश करते हुए अनुमान्य जल्दी से कहा, आपको पैसे देने की जरूरत नहीं, मैं कर दूंगा और वैसे भी आप का हिस्सा तो केवल आधा रुपए होता है । आप पूरा पैसा क्यों देंगी? चैनल लिंक लिखा के लिए कम से कम इतना तो कर ही सकता है । उसने मुस्कराते हुए कहा, उसके चेहरे पर मुस्कान देखकर अरमान को राहत महसूस हुई । मैं उसे बाहों में भरना चाहता था । चम्मन देकर गुड बॉय करना चाहता था । पर उसे पता था कि अभी थोडी देर पहले उसने जो कुछ भी किया उससे वह पहले ही अपनी भरत बिटवा चुका है । इसके अलावा उसे गुस्से में भरी रह नजर भी याद आई हो । उसमें थोडी देर पहले ऑटो चालक पर आंखें तरेरते हुए डाली थी तो बिना गुडबाय कहे आगे बढ गई तो उसने सोचा ये बहुत ही रूखा व्यवहार है और उस यात्रा के रोमांच को महसूस किया जो उसने उसकी जानकारी में अब तक की सबसे सुंदर लडकी के साथ की थी । हालांकि वो यात्रा रूमानी नहीं थी । मनी ही मैन में उसे इस बात का भी बुरा लगा कि उसने इस लडकी का नाम तक नहीं पूछा हूँ । अपनी बाकी जिंदगी कम से कम उसका पीछा करते हुए बिता सकता था और आपने होते पोतियों को अपनी पहली नजर में ही प्यार के बारे में बता सकता था । लेकिन अभी अभी उसने वह मौका खोल दिया । उसके फोन में मैसेज आने की आवाज हुई । भेजने वाला सारा कॅश आपसे मिलकर बहुत अच्छा लगा । लेफ्ट के लिए शुक्रिया । मेरे कैमरे स्कॉलर्स सारा एकदम स्तब्ध और चकित रह गया । उसकी प्रसन्नता साफ झलक रही थी । उसने एक राहत भरी सांस ली । उत्तेजना में उसके पैर काम रहे थे । वहाँ एक नहीं दुल्हन की तरह शर्मा रहा था और उसके तेजी से जहाँ रहे दिल पर एक संदेश ने हम लगा दिया । अंतर रहा उसके सुस्त दिल ने किसी और के लिए धडक ना शुरू किया और सबसे आश्चर्य की बात है किए चैनल के कर्मी सारा के लिए उसने उसके साथ विषय वस्तु पर चर्चा का अपना विचार छोड दिया । एक सटीक जवाब टाइप करने में उसे पंद्रह मिनट लगे । अब आपने मुझे अपना लिया । पेशेवर स्तर पर उसका जवाब आया, इस बार कोई संकेत नहीं था । मेरा यही था । इसने वापस संदेश लिखा, इस बार कोई जवाब नहीं आया । उसने इंतजार किया तो तुरंत में संदेश का उत्तर पानी कि हमें छोड दी ।

Part 5

अरमान भी कर दरबदर घर पहुंचा । उसने अपने कपडे उतारे और साडी के कमरे का गीजर चला दिया । ये उन कुछ दिनों में से एक दिन था जब है उसके बाद तब में नहाने का आनंद उठा सकता था । तब को पूरी तरह भरने में कुछ मिनट लगे । बिजली लगातार गरज नहीं नहीं हाइवे पर खुले शीशे वाले तेजी से रफ्तार भर्ती कार में जिस तरह की आवाज नहीं पडती है ठीक उसी तरह की आवाज आ रही थी । सलमान ने बाथटब के अंदर घुसने से पहले अपने लिए एक कप कॉफी बनाई और उसे ठीक कब के पास रखा है, ऐसा लग रहा था की कोई रोमांटिक डेट तय हुई हो और मैं उसके साथ जितना चाहेगा उतना वक्त बताएगा । उसमें यूट्यूब खोला और अमित तिवारी के गाने बजाने शुरू किए जो उसे हमेशा तरोताजा कर देते हैं । अरमान ने में बॉडी वर्ष खोला जो साडी ने इस्तेमाल किया था । जैसे ही उसने उसे खोला पूरे बातों में उस की खुशबू फैल गई । उस की खुशबू कुछ महिलाओं के बॉडी वर्ष की तरह थी लेकिन निश्चित तौर पर बहुत अच्छी थी । मैं जानता था कि सैंडी को ऐसी महंगी चीजें खरीदना पसंद है । उसने तय किया कि वह बार ट्रम से निकलने के बाद शादी को फोन करेगा और यह पता करेगा कि वह पहुंचाया नहीं टब में गिरते पानी की आवाज सुन पा रहा था । उसने रोशनी धीमी कर दी और सारा के बारे में सोचने के लिए अपनी आंखे बंद कर ली । उस अहसास में कुछ कामुकता थी और मैं इस सुखद अनुभूति मैं डूब गया । इस सप्ताहांत से पहले मैं सोच भी नहीं सकता था कि उसके साथ ऐसा हो सकता है । ना ही रहे इस बात की कल्पना कर सकता था कि रहे अपनी पहली मुलाकात के बाद ही किसी के बारे में इतना सोच सकता है । उसके जीवन में उसे अपने लिए कोई समय नहीं दिया था । कम से कम हाल फिलहाल प्रेम संबंध बनाना चाहता था । गंभीर संबंध लेकिन उसने देखा था कि उसके दोस्तों के प्रेमिकाओं उनको जब कोई और पसंद आ जाता तो वहाँ उसके दोस्तों को छोड देती थी और उसके बाद जो नतीजे होते थे मैं उनसे डरता था । उसने जहाँ तक गुणाभाग करके देखा था तो ना समझ गया था कि उसका जो रहन सहन है किसी से भी लंबे समय तक संबंध बनाकर नहीं रख सकता । लेकिन सारा से मिलने के बाद उसे लगा कि यही वह लडकी है तो हर तरह से अच्छी थी और उससे खुश रखने में है । जो भी समय लगाया गया प्रयास करेगा, हिस्सा बेमानी नहीं होगा । उसे अस्वीकार किए जाने की संभावनाओं पर भी विचार करना होगा और सोचना होगा कि वह भले ही कितना भी सहज होने की कोशिश क्यों ना करें तब क्या होगा? फिर जानता था की ये उसके लिए करारा झटका होगा । इस सप्ताहांत उससे ना केवल अपने व्यस्त कार्यक्रम से कुछ छूट की जरूरत थी बल्कि इसका उसके भविष्य से और कैसे उसका जीवन बदल जाएगा, इन सब से भी लेना देना था । भविष्य तो अभी अपना प्रभाव छोडने वाला था लेकिन निश्चित तौर पर मैं इस तरह का जीवन नहीं देना चाहता था । जिस तरह रहता से जी रहा था जब से उसने टेलीविजन के लिए लिखना शुरू किया था । अगर मैं वास्तव में अपनी जिंदगी के धरे को बदलना चाहता था तो वह अभी इसकी शुरुआत कर सकता है । नहाते हुए उसमें कॉफी की एक जिसकी ली और सैंडी के बारे में सोचा, उसने उससे बहुत अधिक संबंध नहीं बनाए रखने पर अपराधबोध महसूस किया । लेकिन उसके बाद किराये की बाहर उसके दिमाग में आई तीस हजार रुपये महीने का किराया उसे अकेला देना पडेगा । कम से कम जब तक सैंडी वापस नहीं आ जाता तब तक काफी कठिन बाद है । मैं वहाँ रहने को लेकर असमंजस में था । ये सब सोचने के वायवे घबरा गया । उसने मन ही मन सोचा कि काश मैं समय का पहिया वापस कमा सकता और अभी जो कुछ हुआ वह सब बता पाता । उसने इससे पहले कभी अपने को सैंडी के इतना नजदीक नहीं पाया था । सही बात है उसने वास्तव में कभी सोचा ही नहीं था कि साडी के जीवन में क्या कुछ चल रहा है । सच तो यह है कि वह आम तौर पर उसके बारे में सोचता ही नहीं था । उससे भी अजीब बात ये थी कि अभी उसी दिन किसी से मिला था और उसके बारे में सोचे बिना नहीं रह पा रहा था । सारा के साथ कुछ वक्त बिताने के बाद वह सोचने लगा कि जो है अपने जीवन में क्या कुछ कमा रहा है । सारा के साथ हुई बातें बार बार उसके जहन में आ रही थी । मैं उत्साहित था लेकिन व्याकरण भी था । लेकिन अब उसके अगली बार मिलने के लिए ले केवल शाम होने का इंतजार ही कर सकता था । हालांकि तब उसके औपचारिक स्थान पर मिलेगा । मैं उसको अपने दिमाग से निकाल ही नहीं पा रहा था । लंबे समय बाद मैं ऐसी स्थिति से गुजर रहा था तो क्या कर सकता हूँ । उसे समझा रहा था कि वह कुछ भी नहीं कर सकता । मैं उससे जल्द से जल्द मिलना चाहता था और शाह बहुत दूर नजर आ रही थी । इसीलिए उसमें तुरंत अपना फोन उठाया । अरमान ने संदेश भेजा तो आप दिन में क्या कार्यक्रम है और जैसे ही संदेश उस तक पहुंचा उसे दुख हुआ कि आखिर उसने वह संदेश क्यों भेज दिया । उसने सोचा कि अगर है इतनी तेजी से आगे बढेगा तो बहुत बेताब नजर आएगा । उसने तुरंत दूसरा संदेश टाइप की और भेज दिया और साढे मैं ये संदेश किसी और को भेज रहा था । तभी फोन में आगाज हुई और सारा का संदेश दिखाई पडा । कुछ खास नहीं बहुत बारिश हो रही है इसलिए मैं ऑफिस भी नहीं जा रही हूँ । आप क्या कर रहे हैं? अरमान को अपना दूसरा संदेश भेजने पर दुख हुआ । उसको दूसरा संदेश दिखाई पडा हो । सारी कोई बात नहीं । आप अपना कार्यक्रम जारी रखें । बहुत अच्छा मौसम है आपका । जरूर आपने गल्फ इनके साथ कार्यक्रम होगा । अरमान ने लिखा और भेज दिया । कहा मेरी भी कोई गर्लफ्रेंड होती सहारा ने संदेश भेजा और अरमान को अनुभव हो गया था कि पलट कर यह संदेश आएगा क्या अब समलैंगिक है? ऐसे नहीं नहीं ऍफ है । कहना चाहता था कि मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है, मैं अकेला ही हूँ । लेखन के साथ प्रेम सम्बन्ध बनाने का व्यक्ति का मिलता है क्या? लेखन आपको नीरज बना देता है ही नहीं, ऐसा नहीं है । मैंने हाल फिलहाल इस बारे में सोचा ही नहीं । आप बताइए आपका क्या मामला है? आपका अपने बॉयफ्रेंड के साथ कोई कार्यक्रम क्यों नहीं है? अरमान ने संदेश भेजकर ये सारी बातें पूछ डाली और बेसब्री से उसके जवाब का इंतजार करने लगा । अगले कुछ मिनटों तक उसका जवाब नहीं आया और उसने इस दौरान कम से कम पांच बार अपना मोबाइल नेटवर्क पर इनबॉक्स की पड तार का डाली बहुत बेकार आई से उसके संदेश का इंतजार कर रहा था । अरमान ने संदेश भेजा साडी अगर मैंने आपसे कुछ अनुचित पूछ डाला हूँ और लगभग मान ही बैठा की सहारा नहीं, उसे अपनी जिंदगी से निकाल दिया है । उसके दिमाग के घोडे तेजी से दौड रहे थे । उसने लम्बी फॅमिली लेकिन उससे भी उसे कोई सहायता नहीं मिली । उसने महसूस किया कि उसने बहुत बडा अपराध कर दिया है । भगवान जाने में क्या सोचने लगा था? उसने सोचा वो डब से नग्न बाहर निकल आया और एक तौलिये से अपने शरीर को पोषणा लगा तो उसने सोचा कि फोन करेगा और सब कुछ ठीक कर लेगा । काफी समय पहले जब मैं पहली बार प्रेम में पडा था तब उसके अंदर जैसी अनुभूति हुई थी, उसी तरह उसे अभी भी महसूस हो रहा था । ऍम नहीं । इतने रोमानी मौसम में पूरी तरह के लिए हूँ । एक साल पहले मैंने अपनी प्रेमी से नाता तोड लिया था । सहारा नहीं जवाब दिया और सारी फरमान ने जवाब दिया और राहत की सांस ली की चलो उसने जवाब तो दिया । अरे तो कीमत हो । अब मैं बहुत खुश हूँ । अकेला होने से बेहतर कुछ भी नहीं है । मजे कीजिए, सही हैं । मैं ऑफिस नहीं जा रही हूँ । लेकिन हमें अपनी मीटिंग तो करनी है । चलिए हम आसपास के किसी या फिर में मिलते हैं और इस पर गहन चर्चा करने का दिखावा करते हैं । हो सकता है की बाद में लंच भी कर ले । हाँ हा ये एक प्लान की तरह लग रहा है । अरमान ने उसके संदेश पर सहमती दे दी और बहुत खुश हो गया । उसने उत्सुकता की भावना की अनदेखी करने की कोशिश की और जैसे ही बात रूम से बाहर आया उसने अपने खुले बदन पर ठंडी हवाओं को महसूस किया । उसने तय किया कि वह इस बात का ध्यान रखेगा की जब वह सारा से मिले तो स्थिर वस्त्र क्षेत्र हैं । धीरे धीरे इस वास्तविकता को स्वीकार करने लगा हूँ कि मैं उसके प्रति आकर्षित हो रहा है । ये उसके लिए सपने जैसी स्थिति हो रही थी । ठीक है फिर एक बजे मिलेंगे । उसने कहा, और बातचीत एक स्माइली के साथ खत्म कर दी । उसे एक और संदेश मिला, ये साडी का संदेश था । मैं दिल्ली पहुंच गया । तुमने जो कुछ भी किया उन सब के लिए तो मैं धन्यवाद । उम्मीद है जल्दी ही में लूंगा । आंटी और अपना अच्छी तरह ध्यान रखना में हमेशा यही हो । तुम्हारी कमी खलती है । जल्दी मिलेंगे जो जो अरमान ने जवाब दिया तो वही एक मात्र कारण होगी कि मैं मुंबई वापस लौटने के बारे में सोचूंगा । शुक्रिया । इस बीच अगर तुम चाहो तो मेरा कोई भी सामान भेज जा के इस्तेमाल कर लेना । शानवी ने लिखा मेहमान ने अपना फोन किनारे रखा और अपनी अलमारी पर नजर डालें । उसने एक के बाद एक कपडे पहनकर देखने शुरू कर दिया कि सारा से मिलते समय किन कपडा है । सबसे अच्छा दिखाई पडेगा । अपनी अलमारी को छोडकर बॅाल मारी की तरह पडा उसने बिल्ली टी शर्ट पसंद ही जिस पाॅइंट था भई उसे हमेशा सबसे अधिक पसंद नहीं सुनी है । मेरा कुछ बात है मैं आप कोई घंटे में फोन करूंगी हो । सारा ने संदेश भेजा तो उसने जवाब दिया मैं इंतजार करूंगा । बहुत उत्सव था, बहुत ज्यादा था और सबसे बडी बात कि जैसे जैसे वक्त बीतता जा रहा था वैसे वैसे रहे सारा के प्यार में डूबता जा रहा था । इस बीच उसने फेसबुक पर सारा को देखना शुरू कर दिया था । हर बताना नहीं होगा कि हर दो मिनट में रह रहे कर अपना फोन देख रहा था, खाई लेते हैं ।

Part 6

एक मई दो हजार था । इंतजार हमेशा अंतहीन होता है । वक्त बीतता जा रहा था । लोग आगे बढ जाते हैं लेकिन हम वहीं फंसे रहे जाते हैं । ऐसे सिटीज में फस जाते हैं जहाँ इंतजार ही एकमात्र उम्मीद होती है और इस बीच चाहे या अनजा है, इंतजार का पूरा उद्धेश्य ही धीरे धीरे धूमिल होता जाता है । हम इसका दराज कट हो जाते हैं कि है जानते हुए भी कि हो सकता है ऐसा कुछ भी हो ही नहीं । हम दूसरे मौके की बात सोचना ही नहीं चाहते । तुम सोचोगे कि क्या तो मैं ऐसा करना चाहिए लेकिन तुम जानते हो कि तुम कुछ और नहीं कर सकते हैं । लोग कहते हैं कि वक्त किसी का इंतजार नहीं करता लेकिन कभी कभी एक कटा है । जवाब किसी का इंतजार कर रहे होते हैं अपने दिमाग से ऐसी बातों को हटाने के लिए अरमान ने पुशअप्स करना शुरू कर दिया । दो घंटे बीत गए लेकिन आप ताकि उसका फोन नहीं आया था उसने दोपहर भारत चाहे जो भी किया, लेकिन एक सवाल बार बार उसके दिमाग में आता रहा कि क्या है अधिक जुडता जा रहा है या अपने को शर्मिंदगी में डाल रहा है । आगे क्या होगा इस इंतजार के दौरान उसने सारा की उत्सुक उम्मीद को महसूस किया । क्या मैं उसे फोन करुँ? क्या मैं उसे फैसला संदेश भेजूँ? उसकी सारी सोच सारा के इर्द गिर्द खोल रही थी । ऐसा कुछ नहीं करना चाहता था जिससे उसे पछताना पडे और इसलिए उसने तय किया कि वह एक सौ पुशअप्स करेगा । अगर ऐसा कार्य पाया तो वह उसे फोन करेगा । अगर वो नहीं कर पाया तो उसे संदेश भी नहीं भेजेगा । अपनी व्यग्रता के बावजूद पूरे विश्वास के साथ पुशअप्स करता रहा । एक सौ पोशाक पूरा करना चाहता था । उसकी आंखों में उसका सुडौल बदन घूम रहा था और अपने को पोषक पूरे करने की चुनौती दी । उसने पचास को शब्द पूरे किए हैं और वह थका हुआ लग रहा था । वो अभी भी लक्ष्य से काफी पीछे था । उसे याद आया कि जब भी वह भ्रमित होता था तब उसके माता पिता उसे ऐसे ही कोई ना कोई कठिन कार्य करने को कहते थे । ये बहुत बार चुनौती को पूरा नहीं कर पाता था लेकिन निश्चित रूप से इस दौरान उसे इतना सोना मिल जाता था कि वह विभिन्न विकल्पों पर विचार कर अपना निर्णय कर पाएं । वे अधिकतर इसमें सफल होता था और जब भी उसे लगता था कि रहे अब और नहीं कर पाएगा । मैं खुद से कहना शुरू कर देता था हिम्मत मत हारो, हिम्मत मत हारो । उसने हिम्मत नहीं हारी लेकिन अंतत आह सत्तर पचहत्तर पुशअप्स करने के बाद वह रोक दिया । उसे देखकर उसकी तीस सांसों को देखकर यह कहना आसान था । पुशअप छोडने और सारा को फोन करने का विचार छोडने के बीच उसने कुछ छोड दी है । मैं जमीन पर लेट किया और उसे अपनी दोस्त की याद आ गई, जिसने आत्महत्या करने की कोशिश की थी, क्योंकि उसकी गर्लफ्रेंड को कोई और पसंद आ जाने के बाद उसने उससे बात करना बंद कर दिया था । अरमान निश्चित रूप से अपने को उस स्थिति में नहीं पहुंचाना चाहता था । ये वही रोज था भगवान जो शादी करने जा रहा था । हालांकि अनिच्छा से और यही वजह थी कि रह चाहता था कि शादी के समय अरमान उसके पास रहे । अरमान ने तुरंत तय किया कि वे सारा को फोन नहीं करेगा । उसे समझाया कि हद से ज्यादा सोच रहा है । सब कुछ बहुत ज्यादा कर रहा है । इस तरह से अपने आप को और अधिक कमजोर बना रहा है । अचानक उसका फोन बज उठा । उसने फोन लिया और देखा कि किसी अनजान नंबर से फोन आ रहा है हूँ । अरमान ने कहा और इस और ई में आपको दिनभर फोन नहीं कर पाई । लडकी नहीं कहा और एक्शन से भी कम समय में पहचान किया कि सारा की आवाज थी उसके दिल की धडकने कुछ तेज हो गई । उसके आस पास जब भी सुन्दर लडकियाँ होती थी तो सही महसूस करता था । है कोई बात नहीं । मैं उम्मीद कर रहा था कि आप फोन करेंगी । मुझे लगा कि अगले सप्ताह के कार्यक्रम के लिए ये बैठक जरूरी है । उसने बिल्कुल पेशेवर अंदाज में ये बात कही और एक स्माइली बॉल से खेलने लगा है । उसके लिए वाकई बहुत दुखी हूँ । उसने अपनी आँखे झपकाईं अब से प्यार से चेहरे को भेजकर कहा अरे तो कीमत हो, आप जरूर किसी महत्वपूर्ण काम में फस गए होंगे । उसने कहा ऐसी कई बातें थी जिनमें मैं सारा दिन ओल्ड ही रही । जब हमें लोगी तब आप से उनके बारे में बताउंगी जरूर । उसने कहा मुझे लगता है कि अभी बहुत देर नहीं हुई है और हम मिल सकते हैं । उस नहीं कुछ हिचकी जाते हुए कहा हाँ हाँ, बिल्कुल देर नहीं हुई है और वैसे भी सारा एक लेखा की ड्यूटी कभी खत्म नहीं होती । अपनी खुशी कुछ पाने में असमर्थ अरमान ने कहा हम कहाँ मिले? अरमान ने पूछा मेरी फॅमिली बारिश हो रही है । फिर मुझे यहाँ बहुत सुखद और आरामदायक लग रहा है । बाहर जाने का मन भी नहीं कर रहे हैं । ऍम उसने कहा और अरमान ने खुशी के बारे स्माइली बॉल अपने हाथों में दवा ली । बस एक घंटे में पहुंचता हुआ हर मिलता है । उसने तैयार होने में आधा घंटा लगाया । किसी भी पुरुष के तैयार होने के लिए ये काफी ज्यादा वक्त था । वैसे एनडीए की कार लेकर निकला और ये मानते हुए कि उपहार देने पर सारा बुरा नहीं मानेंगी, उसके लिए एक सुंदर सा गुलदस्ता खरीदा । हाँ, गर्मियों से किसी दिन अपने प्रेम का इजहार करूंगा तो उस की तैयारी मुझे आज से शुरू कर देनी चाहिए । उसमें सोचा और एक शर्मीले मुस्कान दी । उसने पार्किंग में कार खडी करीब गुलदस्ता उठाया और कार के दरवाजे लॉक करते हुए हैं । अपने कोई आखिरी बार शिक्षा में देखा, इसके बाहर लिफ्ट की ओर बढा । तब ये गाडियों से रोका आपके घर जा रहे हैं । गार्ड ने पूछा ऍम ऍम हाँ, हमने कहा तो उसने सोचा है मकान मालिक का नाम होगा । रजिस्टर में नाम पता दर्ज कीजिए फिर चाहिए । गार्ड ने उसे लगातार ताकते हुए कहा । अरमान ने हमेशा महसूस किया कि कभी कभी गार्डों को जितने अधिकारों का उपयोग करना होता है उससे अधिक का उपयोग करते हैं । कभी कभी जरूरत से ज्यादा कर्तव्य निभाने लगते हैं । उसने जितनी खराब लेखनी में हो सकता था उतनी खराब लेखनी में जल्दी से जल्दी नाम पता दर्ज किया और लिफ्ट की तरफ बढ गया । मैं तुरंत पांचवें माले पर पहुंच गया और उसने अपनी घडी देखी कि उसे उसके पास पहुंचने में कितना समय लगा । ठीक नौ बजे कोई ज्यादा नहीं उसने सोचा अरमान का जो खाली हाथ था उसे अंतिम बार अपने वालों पर फिराते हुए उसने दरवाजे की घंटी बजाई । तीस सेकंड से भी कम समय में उसने दरवाजा खोल दिया । गुलाबी रंग की शॉर्ट्स और सफेद रंग कटाव पहने हुए थे जो उस पर पूरी तरह फब रहा था । मुस्कराया और सोचा की नहीं बेहतर लग रही है । उसकी कपडों में उसके उभार साफ नजर आ रहे थे और जब उसने जम्हाई ली तब उसके हो टोने हिरदय का आकार बना लिया । उसके विश्वास भरी मुस्कान उसकी नजरों को हमेशा के लिए बांध लेने के लिए पर्याप्त थी । अरमान ने देखा कि आपने गाल पर पढते गड्ढे से है और सुन्दर लग रही है तो मैं लेट नहीं हूँ । अरमान ने कहा और गुलदस्ता उसे पकडा दिया हरी नहीं बिल्कुल समय पर हैं । निर्यातको पराठे देखा वैसे ये किस लिए है । उसने गल रस्ते पर आश्चर्य जताते हुए कहा मैं बोलो कि एक दुकान के पास से गुजर रहा था तो सोचा कि खाली ज्यादा आपके घर जाना ठीक नहीं है । हो जाए की ऐसी ले जाए जो आपका सही से आदर कर सके । उस नहीं कहा । मैं कुछ अजीब तरह से मुस्कराई । हिचकी चाहते हुए गुलदस्ते ले लिए । चल रही प्रक्रिया अंदर आ जाइए सारी आज बहुत आलस आ रहा था इसलिए कुछ साफ सफाई नहीं आपको फ्लॅाप दिख रहा होगा । अगर आप इसे देखकर मेरे बारे में अनुमान लगा रहे हैं तो आपको बता दूँ कि मैं इस तरह नहीं रहती । सारा नहीं का अंदर कदम रखते ही अरमान ने देखा कि चैनल के दो और सहयोगी वहाँ है । उसे अटपटा सा लगा । ऐसी असमंजस की स्थिति उसने लंबे समय से महसूस नहीं की थी । अब उसे गुलदस्ता देने का अपना विचार बहुत हास्यापद लगा और उसे ऐसा लगने लगा कि चैनल में लंबे समय तक ये लोगों के लिए चर्चा का विषय रहेगा । उन्हें तो वह ऐसा मसला चाहिए । विकी और निशा एक दूसरे को देखकर मुस्कराया गए और हटने के लिए सारा की ओर देखने लगे । लेकिन उसने इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी बल्कि मेरे फूलदान में फूलों को सजाने लगी । अरमान दोनों को अभी वार्डन करने के बाद फूलदान की ओर देखता रहा । वे अपनी ओर से पहल करके चुप्पी नहीं तोडना चाहता था और एक बार फिर सोच रहा था कि कहाँ उसने ये ऐसा नहीं क्या होता है । उसने सोचा था कि ये मैं चैनल की एक ऐसी अनौपचारिक बैठक है जिसमें बैठक का स्थान बदल गया है और बैठक में मैं और सारा खेले होंगे । उसे इस बात का बिल्कुल भी अंदाजा नहीं था कि सारा ने चैनल से और भी लोगों को बुला रखा है । उसने इस बारे में कोई जिक्र नहीं किया था । कमरे में पसरी शांति के बीच अरमान ने बातचीत का सिलसिला शुरू करने में बेचैनी को महसूस किया । उसने देखा की सोफे पर बैठे हुए विकी ने अपना एप्पल का लापता पहन कर लिया । जी की मुस्कराया अच्छा, बहुत अच्छा । परमान ने सोचा हूँ, ठीक है लेकिन कहा, फिर मुझे लगता है कि आप हमें अपनी बैठक शुरू कर देनी चाहिए । भर मानने सोचा कोई दिक्कत नहीं है और कह दिया वहाँ जरूर बनाने की जरूरत नहीं है । सारा नहीं कहा और अरमान से पूछा ऍम खाना चाहिए लेंगे । ॅ अपनी जगह पर बैठ गई और कहना नहीं होगा कि इससे अरमान और बेचैनी महसूस करने लगा । नहीं कुछ नहीं अरमान ने का सारा ने उसकी ओर देखा और उससे पूछा पक्का अमान्य सहमती में से दिलाया लेकिन मैं मुस्कुरा गई और पलट कर कहा सुनी आपको इतना परेशान होने की जरूरत नहीं है । नहीं, मैं बिल्कुल आराम से हूँ । नया आपकी बेचैनी को देख पा रही हूँ । आप जिस तरह बैठे हैं दोनों पैर जोडकर ऐसी सूरत बनाकर मानो आपने कुछ बहुत गलत कर दिया है और ठीक करने के लिए अपने घुटनों पर अपना लैपटॉप रखकर की । जितना जल्दी हो सके ये बैठक पूरी कर लो । सारा ने कहा और अरमान को खुद अपने दिल की धडकनों की आवाज सुनाई पडने लगी । उसने पहले कभी अपने को इतना कमजोर महसूस नहीं किया था । तनाव के बावजूद हादसा मुझे अजीब लग रहा था क्योंकि मैंने कभी भी किसी का गुलदस्ता भेंट करने पर ऐसी चुप्पी फैल जाने का नाम नहीं किया था । तुमने कभी हमे गुलदस्ता भेंट नहीं किया विकी ने शरारत भरे ले लेने का । निशा ने कहा इलकल वे इंटर्न थी और विक्की की जूनियर थी । अगर विकी किसी भी दिनों से गधे को बात कहने को कहेगा तो वह भी कहते गी अरमान का कभी भी उस मूर्ख लडकी से बात करने का मन नहीं हुआ । अरमान निशा से इस कदर नफरत करता था कि अगर अनुमान को कभी किसी भी टोल प्लाजा पर टोल टैक्स भरना पडे और उसके पास पैसे कम हो तो वहाँ उनसे कह सकता कि वह निशा को तबतक गारंटी के तौर पर अपने पास रख लें जब तक की वह पैसे लेकर वापस नहीं आ जाता और सौ प्रतिशत से ज्यादा उम्मीद यही है कि वह कभी लौट कारों से वापस लेने नहीं जाएगा । तो मैं मुझे कभी अपने घर बुलाया ही नहीं हुई कि मेहमान ने कहा सारा मुस्कुराई और कहा एक काम करोगी कि एक दिन तुम हम सबको अपने आप बुलाओ, हम तुम्हारा घर फूलों से भर देंगे । विकी ने महिलाओं की तरह कहा मैं बहुत जल्दी ऐसा कर सकता हूँ । मुझे फूल बहुत पसंद है । जी की के रहने से अरमान के मन में एक बार फिर पसंद है । जब उठा परमाणु हमेशा सोचा करता था कि समलैंगिक हैं । उसे समलैंगिकों से कोई समस्या नहीं थी । लेकिन मैं उन के साथ घूमने फिरने में बहुत सहज नहीं महसूस करता था । सारा की बहुत अच्छी जगह हैं । सलमान ने कहा, क्या तुम नहीं से खर्च सजाया है? मैं कहूंगी कि आधार क्रेडिट तो मेरे पिछले ऍम का हो जाता है । उसने इसे स्वयं डिजाइन करने का फैसला किया था । वॅाटर है इसलिए उसे यहाँ अंधेरी के पास बहुत ही जगहों का पता है । इसके अलावा मुझे मुंबई के बारे में ज्यादा कुछ पता नहीं है । बस एक ही साल हुआ है । सारा ने कहा तो तुम मुंबई से नहीं हो । अरमान ने पूछा नहीं वह सब जगह क्यूँ? मैं दिल्ली में रही, इंदौर में नहीं, पूरे बेंगलुरु भर अब मुंबई में हूँ । सारा ने कहा कि आप हमारे पिता की ट्रांसफर वाली नौकरी थी । अरमान ने पूछा तेरी माता पिता ही नहीं थे । कम से कम मुझे नहीं पता कि वे कौन है में अनाथालय में पली बडियों और तरह तरह के अनुभव के लिए घूमती फिरती रहती हूँ । सारा ने का अगले को छोडता, किसी ने कुछ नहीं कहा । विकी और निशा को वेज झटका लगा तो मैं बहुत कठिनाइयों का सामना करना पडा होगा । विकी ने पूछा अरमान तब भी मानता हूँ निशाने दौराया सही नहीं । सच बताऊँ तो मुझे ज्यादा दिक्कत नहीं हुई । केवल तब कुछ परेशानी हुई थी जब पुलिस ने मुझे शराब पीकर गाडी चलाने के मामले में पकड लिया था और मेरे टीचर ने मुझे डांटा था । अपने अपने साथ किसी को तब खडे हुए देखना चाहती हूँ जब मैं कल थी करूँ तब नहीं जब कि मैं सही रहूँ । मुझे ऐसे किसी बडे की कमी खली जो किसी भी स्थिति में मेरी सुरक्षा का कवच बन सकें । बाकी सब ठीक था । सबसे बडी बात ये है कि मुझे किसी भी रिश्ते की आदत नहीं पडी और इसीलिए हमेशा किसी के आस पास रहने की आदत या जरूरत महसूस नहीं हुई । मैं आज तन अकेलापन महसूस करती हूँ और इसी पसंद भी करती हूँ और इसी पर टिकी हुई हूँ । सहारा ने चेहरे पर कोई शिकन लाए बिना कहा । अरमान ने देखा कि विकी एकटक सारा को ताके जा रहा है । महनोत में कुछ अजीब हो भिखी ने अपना गला साफ करने का दिखावा करते हुए कहा इससे लगता है है कि तुम बहुत हो निशाने फिर तोते की तरह रहता बिल्कुल लेकिन ये तो बहुत है । अरमान ने कहा और विकी ने इस पर नाराजगी जाहिर की और उस की ओर देखा देखी निशा भी थी । देखी के सुर में सुर मिलाते हुए बिल्कुल कहने के अलावा ये दूसरी गति भी दी थी जिसमें वेम आए थे । मैं कहना चाहता था कि हमें इसकी ही जरूरत थी । हम एक ऐसी कहानी के बारे में सोच रहे थे जब दर्शकों के दिल को छोले एक लडकी की कहानी जो अनाथालय में पली बडी है, अभिभावकों की कमी महसूस करती है लेकिन जिंदगी में आगे बढती चली गई सुंदर है, सेक्सी हैं, एक ऐसी लडकी हैं जैसे हर पुरुष अपने जीवन में चाहेगा । ऍम जो नैतिक करना जानती है देख पर वहाँ जिससे बारिश में भेजने से कोई एतराज नहीं और जो अपने सपने पूरे करने मुंबई आई हमारे शोर से जुडने वाले नहीं हस्ती होगी अरमान नहीं है सब एक सांस में क्या डाला? विकी उसकी बातों से सहमत लगा और सारा उसे ताकि बिना नहीं रह सकी । उसने उसके बारे में बिल्कुल उसी तरह बताया जैसा कि रहे हैं उसने अभी अभी जो कुछ भी सुना उस पर मुस्कुरा गई फॅार लग रही थी चके तवा भ्रमित अरमान ने सीधे उसकी आंखों में देखा और पाया कि उसने जो आॅटो लगा रखा है । मैं उसकी आंखों के रंग स्पष्ट करने के लिए बिल्कुल सही था । मुझे पूरी तरह पसंद आया । विकी ने तुरंत का निशाने बिना वक्त गवाए जोडा मुझे तुम्हारा ये शोध कार्य अच्छा लगा । मेरे कॅश सारा ने मुस्कुराकर कहा अरमान, उसे आंखें नहीं मिला पाया । मैं कह रहा था और उस से पूरा विश्वास था कि लंबे समय से रहे । इस तरह शर्मा या नहीं था और मुझे लगता है कि अब इसके साथ ही हम सबका जाना चाहिए । विकी नहीं कहा बिल्कुल बारिश भी हो रही है । निशाने फिर जोडा तुम कहाँ रहते अरमान? विकी ने पूछा । हवाई फरमान ने जवाब दिया क्या? तो हम दोनों को चांदी वाली छोड दो । विकी ने पूछा और इसके साथ ही अरमान के वहाँ रुकने और रेड वाइन या कुछ और पीते हुए सारा के साथ विभिन्न विषयों पर चर्चा की सारी संभावना खत्म हो गई । उसने देखा कि सारा के साथ अकेले बातचीत करने का उसका सपना टूटता जा रहा है । हाँ जरूर अरमान ने कहा और यह जानने के लिए सारा की ओर देखा कि क्या वह भी चाहती है कि ले जाएँ । सारा कुछ कहना चाहती थी लेकिन फिर रुक गई । तब फरमान ने अंतत आह उससे विदा ली और रिकी वनिशा के साथ कार के पास पहुंचा । सारा ने बालकनी से हाथ हिलाकर बाय किया और वापस लौटते हुए अरमान सोचता रहा हूँ की क्या में उस पर अपना अच्छा प्रभाव डाल सकता हूँ । उसने स्वीकार किया कि यह शाम अधूरी रही और निश्चित रूप से सबको जो उसकी योजना के अनुसार नहीं हुआ लेकिन फिर भी ये अच्छी पहल थी । उसने महसूस किया कि विदा लेते समय सारा कुछ कहना चाहती थी लेकिन हिचकिचाहट में नहीं कर पाई । गाडी चलाते हुए रचित नहीं साला के बारे में सोचता जाता । उसके चेहरे पर उतनी ही मुस्कुराहट आती जा रही थी तो उसने सोचा कि गाडी में बैठे दोनों मूर्ख उसकी मुस्कुराहट को ना देख लें ।

Part 7

दो मई दो हजार सत्रह अरमान जब घर पहुंचा तब पौने बारह बजे रहते शाम के लिए लेट किया । उसे पूरा विश्वास था कि वह अभी घर नहीं लौटना चाहता था । है । हालांकि सारा के साथ कुछ और वक्त गुजारना चाहता था लेकिन लौटते हुए पूरे रास्ते पर उसके बारे में सोचते रहना बहुत सुखद रहा । अरमान का हट अचानक मोबाइल पर पड गया । मत्तान मालिक का संदेश था कृप्या किराया भेज से धन्यवाद । उसने अब तक ये तय नहीं किया था कि वे इस फ्लैट में रहेगा या नहीं क्योंकि हर महीने तीस हजार रुपये किराया बहुत अधिक था । साडी की जो हालत थी उसे देखते हुए भी वह अभी आधा की राय देने को उससे कह नहीं सकता था । उसे ध्यान आया कि उसने पूरे दिन साडी से बात नहीं की है और तुरंत से फोन मिलाया लेकिन उसका नंबर बना रहा था । उसने किसी और को फोन मिलाया और मम्मी कैसी हो? अरमान ने बडे प्यार से कहा मैं ठीक हूँ सब ठीक है ना । बेटा बॅाल तो वैसे क्या पूछ रही हूँ । नहीं कोई बात नहीं तुम इतनी रात को कभी फोन नहीं करते हो ना । इसीलिए उन्होंने भी बडे प्यार से कहा । उनकी आवाज में हल्की सी चिंता झलक रही थी । आप भी सोचो तो नहीं थी । अरमान ने कुछ दोषी सा महसूस करते हुए पूछा ही नहीं और मैं तो बहुत खुश हूँ कि तुमने फोन किया । मुझे तुम्हारी बहुत याद आ रही थी । मैंने तुम्हारी मनपसंद पाव भाजी बनाई थी, लेकिन मैं उसका एक टुकडा भी नहीं खा पाई । मुझे चिंता हो रही थी कि मेरे बेटे को ढंग से खाना भी मिला होगा या नहीं । माँ नहीं रूंधे गले से कहा, उसे पता था कि माँ अपनी रुलाई रोकने की कोशिश कर रही है और उनकी आंखों से आंसू बह रहे हैं । मम्मी मैंने कितनी बार आपसे कहा है कि मैं यहाँ अपने खाने पीने का बहुत ध्यान रखता हूँ । आपको अपने पर इस तरह का अत्याचार करना बंद करना होगा । मैं जब आपको फोन करता हूँ, आप होती हैं । अरमान ने का सारी बेटा मुझे जुलाई आ गई । मैं कभी कभी तुम्हें बहुत ज्यादा मिस करती हूँ और तुम इतनी दूर रहते हो । छह महीने हो गए । मैंने तो नहीं देखा तक नहीं है । मैंने कहा और उनकी जुलाई और तेज हो गई । विचित्र से निराशा के भाव अरमान के चेहरे पर आए और उसने इस बात पर दुख व्यक्त किया कि वह छह वहा से अपनी मार्सिन नहीं मिल पाया है । उसने देखा की उसकी दीवार पर टंगी घडी के दोनों काटे बारह पर पहुंच गए थे और उसने प्यारभरी आवाज में गाना गाते हुए कहा ठाक ऍम हाँ हाँ, उसकी माँ क्या सुंदर बढ गए और उसने तुरंत जोडा । तुम ने सोचा था कि पिछली बार की तरह में इस बार भी भूल गया । शुक्रिया बेटा नहीं नहीं, मैं बस ये नहीं याद कर पा रही क्योंकि आखिरी बार काम मैंने अपना जन्मदिन तुम्हारे साथ मनाया था । मैंने कहा और अरमान इस वर्ग को पहचान गया । ये वही स्वर था जिसपर में उन्होंने उससे तब बाद की थी जब पहली बार घर से दूर आया था । मैं वादा करता हूँ कि मैं आपका अगला जान देना आपके साथ बनाऊंगा । हाँ और अपने जन्मदिन पर आपको मुंबई बुलाऊंगा । टेलीविजन के लिए लिखने के इस कार्य में मेरा पूरा वक्त चला जाता है । मम्मा उसने कहा और उसे सुनाई पड रहा था कि उसकी माँ तब भी रो रही थी लेकिन फिर भी वादा करता हूँ कि मैं बहुत ही जल्दी इंदौर लौटाऊंगा । नई इंदौर से काम करने के कुछ विकल्प तलाश रहा हूँ । हाँ, तुम सही हो तो मुझे खुश करने के लिए तो नहीं कह रहा हूँ । उन्होंने अचानक उत्साहित होकर ये बात कह दी । नहीं, मैं ऐसा क्यों करूंगा । लेकिन इसमें निश्चित तौर पर कुछ समय लगेगा । हो सकता है कि एक दो साल लग जाए, लेकिन इतना तय है कि मैं इंदौर जरूर लौटूंगा । परिवार के बिना यहाँ कोई जिंदगी नहीं है । अरमान ने कहा और महसूस किया कि उसका गला भर आया है । उसे अपनी माँ की कमी खलती थी । उसे अपने पिता की कमी भी गलती थी और छोटे भाई की कमी भी खलती थी । उनका इंदौर में अपना घर था । वहाँ पर दो हजार आराम से रह रहे थे । वास्तव में उसे इतना कठिन जीवन अपनाने की जरूरत ही नहीं थी । मैं वहाँ रहे, घर भी अच्छा कमा सकता था, लेकिन कुछ ऐसा था जो उसे वहाँ जाने से रोकता था । हो सकता है कि रहन सहन का ढंग जो मुंबई में उसे दिया था, हो सकता है कि मुंबई की जीवन शैली में वहाँ ज्यादा रह गया था और इंदौर में जिंदगी की रफ्तार उसे धीमी लगती हो । हो सकता है कि मुंबई में उसे जो आजादी मिलती है, नहीं, इंदौर में असंभव है । उसने पहले भी एक बार लौटना चाहा था, लेकिन एक महीने के अंदर ही सपनों की नगरी में वापस आ गया था । यही जादू मुंबई आप पर कर देता है । अगर आप एक बार वहाँ रह गए तो फिर कोई दूसरा शहर अच्छा नहीं लगता । अरमान ने जो कुछ कहा उसे सुनने के बाद आंसू पोछते हुए मान्य पूछा, अरमान सब तो है ना? हनुमान ने कुछ नहीं होगा क्योंकि अगर मैं कहता हूँ तो उसके बेहतर ये आंसुओं के साथ उसकी आवाज भारी हो जाती है और उसकी माँ को पता चल जाता है । इससे वह और परेशान हो गई । उसने पूछा, क्या तुम्हारे फ्लैट में सब ठीक है? क्या तुम्हारे साथ फ्लैट में रहने वाला तो मैं परेशान कर रहा है? क्या कोई तुम पर कुछ गलत करने के लिए दबाव तो नहीं डाल रहे हैं? नहीं नहीं, ऐसा कुछ भी नहीं है । मम्मा । वास्तव में उसने फ्लैट छोड दिया है । अरमान ने धीरे से कहा जैसा कि वह कर सकता था, क्यों उसकी माँ को कैंसर होने का पता चला है? मेहमान ने कहा और उसकी आज से उसकी उदासी साफ समझ में आ रही थी तो ये तो बहुत दुखद है । ऐसी बीमारियाँ आजकल प्राया लोगों में सुनने को आ रही हैं । मैंने कहा मम्मा प्लीज से वादा करो कि तुम हर सुबह ग्रीन टी पी होगी । शहर पर जाओगी और बाहर का उल्टा सीधा खाना नहीं खा होगी । पापा से भी कहना है सही करें । अरमान ने कहा और जोर जोर से बच्चों की तरह रोने लगा तो ना बंद कर निर्माण । हमें कुछ नहीं होगा । हम बिल्कुल स्वस्थ है और जैसा तुम ने कहा था हम अपना और ध्यान रखेंगे लेकिन पहले रोना बंद करो । उसने अपनी आंखों में आंसू और आवाज में दृढता के साथ ये बात कहीं । चीमा सारी भी अपने को रोक नहीं पाया और रो पडा तो मैं ताकत लडकी हो, तुम्हारी मम्मा को ताकतवर है तो पापा ये क्या कर रहे हो? क्या उससे कहा बाकी पूरा करो । सब से ताकत रह रहे हैं । उस ने कहा और मुस्कुरा दिया आप मेरे बारे में चिंता मंदिरों में ठीक हूँ और अब आप जाओ अपने जन्मदिन का केक काटो ठीक है बेटा, बहुत बहुत प्यार, अपना ध्यान रखना और चिंता मत करना तो मैं भी ढेर सारा प्यार । मम्मा बाई उसने कहा और फोन रख दिया । फॅमिली स्तर पर बैठ गया । एक मिनट बाद उसे एक संदेश मिला तो मिली काॅलर शोध कार्य में बहुत अच्छे हो । जब मैं समुद्र तट पर वैसा एक्सरसाइज कर रही थी तब तो मुझे देख रहे थे । है ना? नहीं भी और हावी नहीं क्योंकि मैं शोध करने में अच्छा नहीं हूँ । सच बताओ ये बहुत उबाऊ का आ रहे हैं । और हाँ, क्योंकि जब तो मैं कठिन एक्सरसाइज कर रही थी तब मैं नहीं था हर मारने संदेश भेजा की हमें मालूम की एक पीछा करने वाला कार्य है अरमान हसा और अपना अगला संदेश क्या? अगर तुम एक लेखक जो नुकसान पहुंचाने वाला नहीं है द्वारा पीछे करने को बुरा ना मानो? उसके जवाब आया तो ठीक नहीं है । क्या आप मेरा पीछा करते हैं और नया आपके बारे में कुछ भी नहीं जानती । इससे अरमान कुछ खुश हो गया । उसने जवाब दिया, ज्यादा से ज्यादा आप ये कर सकती हैं कि आप किसी दिन जुहू बीच पर मेरा पीछा कर लें । उसी समय उसी जगह हो सके तो वही मौसम भी । ये कोई योजना जैसी लग रही है । मैं केवल एक ही चीज में अच्छा हूँ । इससे क्या आपका लेखन खराब हो जाता है? आपको बेहतर पता है आपने मेरी पूरी स्क्रिप्ट अस्वीकार्य कर दी थी कि भगवान कुछ मौका ही नहीं मिला । स्थिति स्पष्ट करने का ट्रैन में नहीं थीं है तो मेरे ऍम मेरे जरिए ये करवाया था लेकिन ये है वो सिर्फ मेरे और आपके बीच रहेगी । आप किसी से नहीं कहेंगे एक तम्बू बन वही मैं सोच रहा था अन्यथा चैनल में नहीं आई । गर्मी क्यों पहले दिन से ही मेरा सप्ताहांत खराब करना शुरू कर देगी । बिल्कुल सही, आपका भी बिल्कुल निशा की तरह लगी अच्छा आप बहुत खराब है और आपका सप्ताहंत बर्बाद करने के लिए मैं वाकई बहुत दुखी हूँ । मैं इसकी भरपाई कैसे कर सकती हूँ? उसने पूछा शुक्रवार की राहत मुंबई की सबसे अच्छे पब में मच्छर मिलें तब मैं आपको माफ करने के बारे में सोच सकता हूँ । हो सकता है कि मैं यहाँ पे हूँ पर मैं आउंगी जरूर । मैं ये कैसे बोल सकता हूँ कि तुम अपने स्वास्थ्य के प्रति कितनी सजग हो । लेकिन एक दो पैक शराब पी लेने से कोई नुकसान नहीं होगा । तक का उसने लिखा और अरमान ने जैसी बत्तियां बुझाई उसे सारा से अंतिम संदेश मिला । और सुनिए आप जब फ्लैट पर आए तो कुछ देर के लिए जो अजीब स्थिति पैदा हुई थी उसके लिए मैं वास्तव में बहुत दुखी हूँ । नहीं हिचक रही थी गुलदस्ता लेने में नहीं । ऍफ में मुझे बहुत पसंद है । वह किये थे कि मैंने नहीं शावर विकी के आ जाने की उम्मीद नहीं की थी । मैं यही आस पास कहीं थे और आज मैं ऑफिस नहीं गई थी । तो वह किसी मीटिंग के लिए घर पर ही आने की जिद करने लगे तो मैं उन्हें मना नहीं कर पाई । साथ ही मैंने उन्हें बता दिया की अभी आने वाले हैं एपिसोड के बारे में बात करने के लिए ताकि उन्हें अपने आने पर झटका ना लगे । उन दोनों की वजह से अजीब स्थिति पैदा हो गयी थी । मैंने आपके साथ बहुत अच्छा वक्त बिताया और अगर दोनों नहीं होते तो शायद और अच्छा वक्त गुजारता । मुझे तो क्या है कि मैंने आपको ऐसी स्थिति में डाला है । सुन्दर फूलों के लिए शुक्रिया । अरमान ने राहत की लंबी सांस ली और टाइप किया । हाँ शुक्रिया । आपने पूरी स्थिति की जानकारी दे दी । जब मैंने उन लोगों को देखा तब मुझे घुटन होने लगी थी । मुझे कभी भी उनसे बात करना पसंद नहीं रहा तो व्यक्तिगत स्तर पर और न ही पेशेवर स्तर पर दोनों आफत हैं । बिल्कुल ऐसा लगता है कि आप वाकई निशा से बहुत प्रभावित हैं । आपने पिछले दो मिनट में दो बार बिल्कुल शब्द का इस्तेमाल किया है । मुझे से बचना होगा । मुझे निशा जैसी आदत को अपने से दूर रखना होगा । पैसे आप सोने का वक्त है । शुभ रात्रि ऍम चल ही मिलेंगे । उसने संदेश भेजा शुभ रात्रि मेरी कार्यकारी निर्माता उसमें टाइप किया पर राहत की सांस ली । अरमान के लिए कितना अच्छा दिन था । आज सुबह ही वे जिस लडकी के प्रेम में पडा वहीं उसे रात का गुड नाइट का अंतिम सन्देश भेज रही थी । मिलने का कार्यक्रम भी तय हो गया । क्या वह तेजी से इस ओर बढ रहा है? उसने ऐसा सोचा लेकिन वास्तव में उसने इस बारे में कोई परवाह नहीं की । उसके प्रेम में पडने की बात उस अच्छी लगी । उसे वो लहरों की आवाज अच्छी लगी जिन्होंने आज सुबह उसकी जिंदगी में प्रवेश किया । उसे ये भी अच्छा लगा कि सारा उसे फिर मिलना चाहती है । उसे अरमान और सारा मिलाकर आरा बनने की बात भी थी । लगी । ये अपनी उस ऍम फोटो पर मॅन सारा आरा लिखने का बेसब्री से इंतजार कर रहा था जो वह उस समय खींचेगा जब है उसे किसी दिन शहद गाल पर चूमेगी । वैसे मैं वोटों पर भी चुंबन देगी तो उसे बुरा नहीं लगेगा । अपनी आँखे बंद करने से पहले उसे एक बात का पक्का पता था कि आज रात में सारा करो अपने सपने में देखने जा रहा है ।

Part 8

पांच मई दो हजार सत्रह बहुत बार हम अपने अधिक पर नजर डालते हैं और हमें समझ आता है कि किस तरह सबकुछ बदल गया । जो लोग कभी आप के लिए बहुत मायने रखते थे अब आप उनके संपर्क में नहीं है और जिन लोगों का आपके लिए कोई मायने नहीं है वहीं अब आप के संपर्क में है । हम हमेशा प्रलाप करते रहते हैं कि कैसे हर कोई बदल गया है । हमें यह बात समझ नहीं आती कि यह एक मानवीय घटनाचक्र है और केवल परिवर्तन ही लगातार होने वाली बात है । हर छह महीने में हर कोई शारीरिक, मानसिक रूप से बदल जाता है । ये नये जन्मे की तरह होता है । लेकिन वो जैसे लोग होते हैं जो हमेशा आपके साथ संबंध बनाए रखते हैं । चाहे आप किसी भी रफ्तार से बढ रहे हूँ । मैं आपके साथ बने रहने का कोई न कोई कारण थोडी लेते हैं हैं । छोटी सी बात भी इस दुनिया में होने वाले किसी भी प्यार से ऊपर होती है । छोटी सी बात आपकी जिंदगी में काफी मायने रखती है । छोटी सी बात ही है कि हम मानते हैं की जिंदगी में चमत्कार होते हैं । सारा से अपनी मुलाकात के तीन दिन बाद उसने पहली बार छुट्टी ली । देर रात जब वह करीब पंद्रह मिनट तक पैदल चल रहा था, तब उसे अच्छी तरह पता था कि वह कहाँ जा रहा है । तीन घंटे पहले जब मैं अपनी बालकनी में बैठा था, उसने सोचा कि पिछला साल जितनी जल्दी आया था, बहुत ही जल्दी चला भी किया । और जैसे जैसे दिन सप्ताह में बदले, सप्ताह महीनों में और महीने सालों में उसे जीवन में कुछ खोने का दर्द महसूस हुआ क्योंकि जीवन में एक साल उसने बिना काम धाम क्या बताया था? उसके पास इस बात का कोई हिसाब नहीं था कि भुवन जम्मू मई में था । तब लेखन कार्य के चलते कितनी बाहर उसने अपने मित्र भवन के फोन पर ध्यान ही नहीं दिया और नजर में कितनी बार उस से मिलने की योजना रद्द की । एक पांच जो उसे बहुत अच्छी तरह पता थी कि वह अपने सबसे करीबी दोस्तों से, जो एक समय उसकी जिंदगी हुआ करते थे, दूर होने लगा है और उसे इस ऐसा से नफरत हुई । दिल के किसी कोने में रही बात अच्छी तरह जानता था कि उसे भी उन की उतनी ही जरूरत थी, जितनी उन्हें उस की थी । रात के पौने बारह बज रहे हैं और इससे कोई फर्क नहीं पडता कि रहे । इतनी रात को उसको पका रहा था । ऍम हालांकि दिखाई नहीं पड रहा था क्योंकि वह अंधेरे से आ रहा था लेकिन अरमान को पूरा विश्वास था कि वह भवानी है क्योंकि उसे सीना आगे निकालकर विशेषता है कि उसकी चाल दिखाई पड गई थी । अन्य लोगों के लिए हो सकता है कि रह चाल विशेष नहीं हो लेकिन उसके लिए तो थी । वे लोग हमेशा उसकी चाल का मजाक उडाया करते थे और वह कुछ ज्यादा ही बढा चढाकर बोलता था । वो अपने स्कूल के पहले दिन से ही अरमान के साथ था और इतने सालों में भी उनका एक दूसरे से संपर्क नहीं टूटा था । भुवन ने पहले अरमान से ना मिलने को लेकर शिकायत की थी लेकिन जब फरमान ने उसे बताया कि वह व्यस्त था और यहाँ तक कि अपने परिवार से भी लगभग एक साल से नहीं मिला है । भवन उसकी बात समझ गया था । आपको जब उसे सुनाई पडा कि कोई उसका नाम लेकर पुकार रहा है तो भवन ने देखा कि बाहर अरमान खडा है । अपना हाथ हिलाते हुए मैं बाहर आया और जब तो उन्होंने एक दूसरे को देखा । फरमान को उसके चेहरे पर खुशी साफ दिखाई दी । ये उसके हावभाव थे । उसकी आंखों की चमक में उसके दीवाना कर देने वाली मुस्कान में दिखाई पड रहा था । धवन पास आया और उसके गले से लग गया । उसमें जब गर्माहट और खुशी थी तो भी जोड थी । हमरे मुंबई से कौन आया है? तो वहीं रास्ता भूल कर तो नहीं इंदौर आ गए । भवन ने हस्कर कहा एक दूसरे को देख कर उनकी खुशी का ठिकाना रहा था क्योंकि वो एक साल से अधिक समय बाद एक दूसरे से मिल रहे थे । हाँ कुछ वैसा ही लेकिन जानबूजकर अरमान ने कहा भवन मुस्कराया और अरमान ने कहा मैं अपने दोस्त को खोजने की बजाय अपना रास्ता खोना ज्यादा पसंद करूंगा । बहुत अच्छा तुम नहीं है अभी बडा किया तो हमने पूछा मैं हमेशा शब्दों से खेलने में माहिर रहा हूँ और इसीलिए में लेखक हूँ । अरमान ने कहा और दोनों हस पडे लेकिन मुझे खेद है कि मैंने बहुत मौकों पर तुम से मुलाकात नहीं करके बहुत रूखा व्यवहार किया है । भवन मुस्कुराया और कहा है बिल्कुल नहीं । तुमने कभी रोका व्यवहार नहीं किया और मान परेशान मत तो हमें तुम्हारी कमी बहुत खली । टिकिट फिर तो उम्मीद है समझे नहीं कर पाए । हमने किये हिसाब बराबर और फिर तुम तो किसी वजह से नहीं आए थे हैं । कारण भी ऐसा नहीं था जिसे लेकर किसी तरह की जिरा की जा सके । बल्कि मैं तो बॉल शुक्रगुजार हूँ कि आज तुम जहाँ हो कब तक गया हूँ । कल सुबह छह बजे तक कल सुबह मुझे मुंबई की उडान पकडनी ये क्या बात हुई तो इंदौर कवायद तुम ने हमें बताया तक नहीं । भवन ने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा मैं पंजाब मिनट पहले पहुंचा हूँ, मैं इतनी दूर सिर्फ तुमसे मिलने आया हूँ । तुम मुझसे मजाक कर रहे हो । भवन ने कहा लेकिन जैसे ही हनुमान ने उसे टिकट दिखाया, भगवान ने उसे गले लगा लिया तो यार मैं बहुत खुश हूँ कि तुम आए उसकी आंखों में झलक रहे । आंसू उसकी खुशी की गवाही दे रहे थे । दोनों याद करने लगी कि कितना वक्त बीत गया जब उन दोनों ने इतनी देर तक इस तरह बातचीत की थी । आस पास सब कुछ बहुत सही था और भवन ने सुझाव दिया कि वो पांच के पार्क तक पैदल चलें, अरमान राजी हो गया । क्या तुम अपने माता पिता से नहीं मिलेंगे? काश में उनसे मिल पाता लेकिन आधा घंटा के लिए उनसे मिलने और फिर मुंबई लौट जाने से ज्यादा परेशान हो जाएंगे । हनुमान ने जनता से कहा और पूछा हो धवन तुम्हारे क्या हालचाल है? कुछ खास नहीं । फिलहाल भारतीय थलसेना में काम कर रहा हूँ और मुझे पता है कि मुझे अपने पिता की इच्छा के अनुसार देश की सेवा करनी है । इसलिए मैं अपनी पूरी कोशिश कर रहा हूँ । मुझे कोई आश्चर्य नहीं हुआ क्योंकि ये तो हमेशा से ही तुम्हारा सपना था, मानने का हूँ । अठारह साल तक लाड प्यार से मुझे पालने और मेरी सभी मांगे बिना किसी शर्त के पूरा करने के बाद उन्होंने यही इच्छा व्यक्त की थी । उसने कहा और अरमान उस करा दिया । अरमान कभी है । पता लगा नहीं पाया कि वह मैं अपने पिता की इच्छा की वजह से सेना में शामिल हुआ था या उसने ये निर्णय इसलिए लिया कि वह मदर इंडिया से अरमान के परिचित अन्य लोगों के मुकाबले अधिक नजदीकी महसूस करता था । स्वच्छ के अध्यक्ष स्कूल के दिनों में हर रोज जाया करते थे । पार्क में योगा करती हूँ । सुंदरियां को देखने के लिए अरमान ने मुस्कुराते हो जाएगा । मैं यहाँ से जो सडक जाती है उस पर ही रहता था जो यहाँ से मात्र दो मिनट की दूरी पर है । इसीलिए तो हानि कल्पना से अधिक सुंदरियों को मैं देख पाता था । मानने अतीत और वर्तमान की यादव के बीच झूलते हुए आंख मारकर कहा और दोनों हंस पडे एक मिनट के लिए । उन्हें ऐसा लगा कि वह हमेशा लगातार एक दूसरे के संपर्क में रहें । अरमान ने सोचा कि रह बस अपनी आँखे बंद करेगा और अपने स्कूल के दिनों में लौट जाएगा तो तुम्हारी शादी की तैयारियां कैसी चल रही हैं? अरमान ने पूछा शुरू में ये बहुत ऐसा नहीं था । मैंने राशि से बात करने में बहुत समय लिया । ठीक इनमें अच्छी लडकी है । मुझे उम्मीद है कि मैं उसे निभाऊंगा । कहाँ तुम कर लोगे । अरमान ने उसे आश्वस्त किया तो ऐसा लगता है मैं जानता हूँ । मुझे लगता है की तो मैं ऐसे व्यक्ति हो जो जीवन में जो पाना चाहते हैं पा लेते हैं, तुम है । जब ये पता चलेगा कि मेरे पिछले प्रेम सम्बन्ध से मेरी क्या हालत हुई थी तब हो सकता है की तो उसके बाद अपना वक्त व्यय बदलना चाहूँ धवन ने अपने चेहरे पर एक विचित्र भाव लाते हुए कहा तो नहीं विफल हुए थे । वह विफल हुई थी लेकिन फिर भी तुम असहाय की तरह रोहित हैं । मानव तुम अपनी तरफ किसी भूत को आते हुए देखिए हूँ । अरमान ने कहा और मुस्कुरा गया । मेरे दोस्त मेरी भावनाओं का मजाक उडा रहे हो । बहुत अन्याय मान को खोलते हुए कहा जिसने असहमती से फिर हिला दिया नहीं वास्तव में वो किसी भी भावनाओं का मजाक नहीं उडा रहा हूँ । पता नहीं क्यों जब तो मेरे सामने रोए थे तब मुझे इस बात पर झल्लाहट हुई थी की दोनों फॅमिली जरूरी हो । अरमान ने भवन से कहा उसे कुतिया मत का हो । धवन ने तुरंत हो से होगा यही बात है तो माँ ताकि उसके प्रेम से उबर नहीं पाए हूँ तो मैं ऐसी किसी लडकी से एक नए रिश्ते में बंधने जा रहे हो जिससे तो मुश्किल से एक आध बार मिली हूँ । अरमान ने नाराजगी से कहा और बुरा समूह बनाया । हम आप तक नहीं मिले हैं । ये सब ऑनलाइन प्यार है लेकिन हम दिन में कम से कम दस बार बातें करते हैं । भवन ने कहा अरमान से आठ मिलने की हिम्मत नहीं कर पा रहा था तो मैं ऐसी लडकी से शादी करने जा रहे हो जिससे तुम अभी तक मिले भी नहीं हूँ । अरमान ने अपने चेहरे पर कोई भाव लाये बिना कहा तो जानते हो कि वह लडकी बिल्कुल सही थी तो मैं छोड कर चली गई तो मैं इसी लायक हो । बहन की आंखे खुली की खुली रह गईं और अरमान की सारी बातें सुनने के बाद अगले दो मिनट तक मैं विश्वास के साथ उसे देखता रहा हूँ । मैं अगले महीने उससे मिल रहा हूँ शादी की तारीख तय करने के लिए इसलिए घबराओ मत भुवन ने कहा लेकिन तुमने मुझे फेसबुक पर जो तारीख भेजी थी वह क्या थी? अरमान ने परेशान होते हुए सवाल किया तो तुमने में संदेश पढा था लेकिन फिर भी जवाब नहीं दिया । भवन ने पलट कर सवाल किया क्योंकि तुम्हें कहा था कि एक दो सप्ताह में ही शादी हो जाएगी और मुझे नहीं पता था कि मैं भी पाऊंगा या नहीं । मुझे ये बात अच्छी तरह पता है इसलिए मैंने तो मैं काफी पहले ही बता दिया था । अपना सारा खान खत्म करो और अगर जरूरत हो तो अपनी जगह किसी और का इंतजाम करो । लेकिन हर हालत में तुम है, मेरी शादी में आना होगा । ये जल्दी नहीं होगी । तुम्हारे पास छह माह का समय बहुत शरारती भरी मुस्कान देते हुए कहा, और ये क्या था ये शादी का कार्ड तुम ने मुझे भेजा था । हर मानने, पूरी स्थिति स्पष्ट करने की बात सोची । देखो तुम जिस तरह शब्दों से खेलने में माहिर हो, उसी तरह फोटोशॉप में माहिर हूँ । ठीक है ठीक है लेकिन अब ये दूसरी लडकी भी कहीं तो मैं धोखा ना दे जाये । अरमान ने कहा मैं ऐसा होने नहीं दूंगा । मोहन ने कहा वह मुस्कुरा दिया । अरे भाई, हम जो मजे क्या करते थे उन्हें बहुत याद करता हूँ । अरमान वह सब याद करते हुए हसने लगा । उसने कहा सच बताओ तो मैंने कभी नहीं सोचा था कि तुम सेना में भर्ती हो सक होगी, लेकिन मुझे गर्व है कि तुम ऐसा कर पाएं । तो मैं जो मिला है तो उसके लायक थे और हमेशा ही तुम्हारे बारे में पहले से कुछ कह पाना कठिन था । भगवान ने अपनी भावनाएं उचकाते हुए कहा ये तो काफी दार्जिलिंग बात है लेकिन ये सच है । अरमान ने कहा और कंधे मुझे कर दिए । उसे इतना खुश देख अरमान ने से मिलाया । उसने सुझाव दिया कि वह अपने दूसरे सबसे अच्छे दोस्त सनी से मिलें और इस रात को और ज्यादा यादगार बना लें । उन्हें सैनिक के घर पहुंचने में दस मिनट से भी कम समय लगा । उसको चकित करते हुए उसके परिवार के अन्य सदस्यों को शब्द करते हुए उन्होंने रात भर बहुत अच्छा समय बिताया । ज्यादातर समय पिछली बातों को याद करते रहे । इन सब सेवा बहुत खुश हुए हैं । समय बीतने के साथ ही साथ साथ और गहरी हो गई । पहरेदार की सीटी के साथ कुत्ते भूख नहीं लगी । उस रात जब उन्होंने बातचीत शुरू की तब उन्हें पता था कि है काफी देर तक चलेगी । लगातार बात कर रहे थे और इतनी जोर जोर से हंस रहे थे कि जो सो रहे थे उन्हें निश्चित तौर पर दिक्कत हो रही होगी । फिर भी किसी को कोई जल्दबाजी नहीं थी । नींद को दूर भगाकर रह सुबह साढे चार बजे तक कपडे मारते रहे । जिसके बाद अरमान को अपनी उडान पकडने के लिए जाना था । मैं रात उनके लिए सबसे अच्छे बिताए गए समय में से एक थी जो उन्होंने स्कूल के दिनों की मजेदार बातों को याद करते हुए हैं और अब तक वो कर कह रहे थे इस बारे में बातचीत करते हुए गुजारी थी । अचानक उन्हें अपने अंदर युवावस्था की एक नई उमंग का एहसास हुआ । उन्होंने इस बात पर भी चर्चा की क्या अगर वो एक ही शहर में एक ही काम कर रहे होते हैं । तब कैसी स्थिति होती । उन्होंने एक दर्जन से अधिक कप चाय पीते हुए अपनी भावनाओं का आदान प्रदान किया और किसी तरह से नहीं हो सकता था । उस समय उनके लिए वही सब कुछ था । उनके लिए वही दुनिया थी । उन्होंने उस रात संतोष और शांति का है । सास क्या सनी जब कार से अरमान को हवाई अड्डे पर छोडने जा रहा था तब वेयर मान के घर के पास रखें । उसके घर की सडक की कोने बरार मान खडा हो गया और अपने माता पिता के मंदिर जाने के लिए घर से निकलने का इंतजार करने लगा । उसे जब से याद है तब से उनका सुबह पांच बजे मंदिर जाने का नियमित कार्यक्रम था । उसने उन्हें घर से बाहर आते देखा और उनकी एक झलक पाने के बाद मन ही मन मुस्कुरा उठा । मैं खुश और स्वस्थ नजर आ रहे थे । मैं भारी गले के साथ कार की ओर लौट गया और हवाई अड्डे जाते हुए राष्ट्रीय में एक शब्द भी नहीं बोला । किसी भी और रात की तरह सामान्य रात थी । उन तीनों के अलावा हम में से अधिकतर के लिए नहीं । ये ऐसी रात ही जिसमें सब कुछ ऐसा ही हुआ था जैसा कि होना चाहिए था । सब कुछ सही था या अगर देखा जाए तो बेहतर था ।

Part 9

मई के मध्य का समय था जब सूरज ने अपना पूरा प्रताप दिखाने और भारत को अपनी क्षमता भरतपाल लेने का फैसला किया । हाँ, एक दिन सुबह की बारिश ने मुंबईवासियों की वह शाम तो आज सुंदर और खुश अखबार बना दी । उस समय अपनी छोटी सी बालकनी में खडे खडे अरमान को समझ आ गया क्या आज उसका विशेष देने मुख्य था? तीन कारणों से पहला सैंडी की माँ के स्वास्थ्य में कुछ सुधार के लक्षण नजर आने लगे थे । दूसरा उसका शो छोटी आरती के मामले में कुछ समय से पिछड रहा था । फिर नंबर वन पर आ गया था और चैनल ने उसे एक और शो करने का मौका दिया जो पूरी तरह उसके सुझावों पर होगा तथा जिसकी कार्यकारी निर्माता सारा होगी और तीसरा सारा से मुलाकात के लिए उसका इंतजार खत्म होगा क्योंकि मिलने का कार्यक्रम पिछले तीन सप्ताह में तीन बार रद्द होने के बाद अंतत था । फिर अपने फ्लैट में सारा की मेजबानी करने जा रहा था । चीजें बदलती हैं, योग बदल जाते हैं और वह भी बदलता है । मैं केवल खुद ही नहीं बल्कि उसकी प्राथमिकताएं भी । उसने अपने को विश्वास दिलाया कि वह अभी जो कुछ भी कर रहा है, मैं उसके लिए धीर तत्काल में सबसे सही साबित होगा । उसने अपने लिए जो रास्ता चुना है, खुद को और अपने परिवार को ऐशोआराम भरी जिंदगी देने के लिए उसने जो भी रास्ता अपनाया है, उस तक पहुंचने में अब ज्यादा समय नहीं है । एक और शो स्वीकार कर लेना अपने सपनों को पूरा करने की दिशा में भडकता एक और कदम था पच्चीस साल । यही उम्र है उसकी । इन सालों में अरमान ने काफी कुछ देखा और अनुभव किया तो चीजों का उसने आनंद लिया और कुछ अन्य कार्य करने में उसने दुख नहीं व्यक्त किया । हालांकि अब इन सब के कुछ खास मायने नहीं रह रहे हैं । उसकी उम्र को देखते हुए उसकी उपलब्धियां काफी अधिक थी और उसे बहुत अच्छी तरह पता था कि इसका क्या अर्थ है । उसे ये भी पता था कि उसके माता पिता के समर्थन से ही यह संभव हो पाया था । है । इंदौर के उनकी ने चुने लेखों में था, जिन्होंने इतना कुछ हासिल किया था और इससे स्थानीय मीडिया ने उसे काफी प्रमुखता दी । ऐसी स्थिति थी कि अब युवा वर्ग में वह एक जाना माना नाम था । उसे पहचानने वाला हर व्यक्ति या तो उसका सम्मान करता था या उसकी उपलब्धियों के कारण उसे चलता था । उसके पिता ने पहली बाहर जब अपने पुत्र की खबर मीडिया में देखी तो बहुत प्रसन्न हुए थे । उसके पिता ये देख कर बहुत संतुष्ट होते थे कि उनका बेटा इतनी मेहनत कर रहे हैं और अपना नाम कमा रहा है । जब भी बस होने लगता है अरमान को उसके पिता ही मत बांधते । उन दोनों के बीच ऐसा ही तालमेल था जिससे उन्होंने सालों से बना रखा था और दोनों का मानना था की ये हमेशा इसी तरह बना रहेगा । उसे अपने माता पिता की हमेशा बहुत ज्यादा दी थी । लेकिन पिछले पांच सालों में उसे इसकी आदत हो गई थी । हवा के थपेडों के साथ बारिश की बूंदों के उसके चेहरे पर पडने से ठीक पहले बालकनी में खडे होकर मैं सोच रहा था कि क्या जिंदगी वैसे ही गुजर रही हैं जैसे की उस योजना बनाई थी । जवाब था, एक दिल भी नहीं । उसने अपनी चाय खत्म की और वहाँ और देर तक खडा रहा । उसे पता था कि उसकी जिंदगी अब वैसी नहीं रहेगी लेकिन उसने ऐसा ही चयन किया था । इसे और बेहतर बनाने के लिए उसने अपने चरित्रों के लिए बहुत सी लाइनें लिखी थी । एक दूसरे को प्रणय निवेदन करते हुए एक दूसरे से बिहार जताते हुए वास्तव में मैं हमेशा बहुत स्पष्ट लाइनों का प्रयोग करता था । लेकिन आज जब है अपने लिए एक अच्छे से प्रस्ताव के बारे में सोच रहा है तो उसकी हालत खराब हुई जा रही है । डर के मारे उसकी सांस रुक रही है और जितनी जल्दी हो सके वहाँ इससे छुटकारा पाना चाहता था । नहीं चाहता था कि वह रात सही तरीके से बीच है तो ये भी चाहता था कि जितनी जल्दी हो सके रहे अपना प्रस्ताव रखते हैं । उसने कुछ पल के लिए अपनी आंखे बंद कर ली । उसका दिल तब भी तेज सडक रहा था । अस्वीकृति कटर उसकी आंखों में झलकने लगा था । उसकी आंखें सारा के पहुंचने का बेसब्री से इंतजार कर रही थीं । हालांकि उसे अच्छी तरह पता था कि उसके आने में अभी भी एक घंटा बाकी है, उसकी धडकन नहीं । किसी भी तरह काम नहीं हो पा रही नहीं और कोई भी उपाय कारगर नहीं हो पा रहा था । गंभीर चेहरा बनाकर उसने अपने दोनों हार जमीन पर रखें और फिर एक हाथ से कुछ शब्द करने लगा । उसने अपने आप से कहा कि अगर वह बिना रुके पचास पुशअप्स कर सका तो यह पृथ्वी उसे और सारा को मिलने के लिए आकाश पता एक कर देंगी । उसने शीशे के सामने पोशाक करना शुरू कर दिया ताकि वे अपनी आंखों से आंखें मिला सकें । लेकिन फिर भी पचास के उस जादुई अंक तक पहुंचने के लिए अंदर ही अंदर एक ऐसा संघर्ष चल रहा था जैसा कि उसने पहले कभी भी महसूस नहीं किया था । उसने शीर्ष से अपनी आंखें हटाई और अपने काम खुद करने से पहले क्लाॅक । ये सिलसिला कुछ लंबा चला और उसने महसूस किया कि उसकी आंखें लाल गेहरीलाल डॅडी होती जा रही है । अडतालीस उनचास बच्चा फॅमिली किया पर तेज देश सांसे लेने लेगा तो बुरी तरह थक गया था भाई उसने वह क्या जो उसे करना चाहिए था । कुछ देर आराम करने के बाद मैं उठ खडा हुआ और घर के इधर उधर पडी चीजों को संभालने लगा तथा नाश्ते की तैयारी करने लगा । उसने उसके पास रखी रेडवाइन देखी और सोचा काफी है । उसने टकीला और नाश्ते की खोज शुरू की । दोनों घर में नहीं थे । उसने शराब की दुकान पर फोन किया और उससे वह सब जल्दी से जल्दी भेज देने को कहा । अचानक से इस बात का दुख होने लगा कि उसने कुछ देर से तैयारी शुरू की । उसने सैंडी की कमरे में टंगी प्यार इसी गुलाबी रंगी घडी की और देखा । साढे सात बजे और सारा सवा आठ बजे के बाद कभी भी आ सकती थी तो उसने सोचा कि उसे अपने को पंद्रह मिनट पहले तक एपिसोड लिखने में व्यस्त नहीं रखना चाहिए था । उसने अपने हाथों को दबा आया । मैं कुछ घबराया हुआ लग रहा था । जैसे ही उसे समझ आया कि कुछ निराशावादी विचार उसके मन में आ रहे हैं, उस ने उन्हें हादसे पर मनाते हुए तुरंत हटा दिया । अधिकतर समय उस की तैयारियां बहुत ही नहीं होती थी । धीमी गति के साथ बिल्कुल सही ढंग से काम की बात उसके मामलों में सही बैठती थी क्योंकि उसने तय किया कि पहले एक चीज सही हो, फिर आगे बढा जाए । उसने सोफा ठीक किया, चादर, खुशबू वाली मोमबत्तियां एवं धीरे स्वर्ग में संगीत की व्यवस्था की । इन सब से उसका समर्पण साहब चला कराया था, जिससे उसमें उस शाम के लिए कुछ और आत्मविश्वास पैदा हो रहा था । हाल के कुछ महीनों में उसकी गतिविधियां, उसकी अपनी ये सीमा हर तरह से उस की अपनी क्षमता को पार करने का प्रयास जैसे लगी और गैर कुछ हद तक उसमें सफल भी हुआ है । आज जारी की बात है कि हरा भरा कबाब का मिश्रण और पनीर नाचो पंद्रह मिनट के अन्दर उसके पास पहुंच गए थे । शराब की दुकान से पैकेट मिलते ही उसने शाम की पूरी तैयारियों को दोबारा ध्यान से देखा । उसे लगा कि इसके साथ ही अचानक उसके अंदर संतोष का भाव आ गया । सारा से आज शाम सकारात्मक उत्तर मिलने की आशा करना उसके लिए सही था । कुछ तो था कि उस शाम उसने इतने कम समय में इतनी शांति से सब कुछ तय कर लिया । उसने बताया था कि अगर बाद किसी और की होती तो बीच में ही सबको छोड देता हूँ । उसने मिश्रण और पनीर नाचो । चक्कर देखा भी पहुँच बारिश था । एक एक चीज से ही उसका विश्वास बढ गया । अरे इतना उत्साहित हो गया जितना पहले कभी नहीं हुआ होगा । ऐसा लग रहा था कि इससे अरमान ने ऊर्जा का कोई ऐसा स्त्रोत खोल दिया जिसका पहले कभी उपयोगी नहीं किया गया हूँ । उसने हाथ बढाया और गीजर ऑन गड्डियाँ शाम के लिए तैयार होने से पहले मैं जल्दी से नहीं लेना चाहता था । उसने अपने को देखा और उसे समझाया कि उसे अपनी ओवर खबर दाडी भी ठीक करनी होगी । अंतिम क्षणों में आइस ख्याल से कमरे का तापमान तेजी से बढ गया । ऍम घंटे बजे और अंडमान की गतिविधियां अचानक से बीच में ही रुक गई । ये कौन हो सकता है? तभी शाम के आठ बजने में दस मिनट बाकी हुए हैं । उसने सोचा लडकियाँ तो कभी समय पर नहीं आती । उसने आखिरी बार रखने को शीशे में देखा और एक अस्त व्यस्त अरमान को घूमते हुए पाया । पुश अप्स के बाद उसके वजह से पसीने की बदबू आ रही थी और कमरे में फैली खुशबू भी उसे छुपा नहीं पा रही थी । उसकी धडकन बहुत तेज हो गई और वह उसे सामान्य करने के लिए दरवाजा खोलने की ओर बढा ।

Part 10

सारा एक छोटा सा काला टॉप और नीली चार खाने की डिजाइनर वाली मिनीस्कर्ट पहनी हुई थी । उसने घुटनों तक लंबे मुझे और क्रीम रंग की ऊंची हील के जूते पहन रखे थे । बीच में जो थोडासा शरीर देख रहा था तो बिल्कुल दे दाग । बस साफ सुथरा था और उसकी टांगे लंबी वापस डाल देख रही थी । करीना से बनाई गई उसकी भूमि है । उसकी त्वचा की महत्ता और बढा रही थी । ऐसा लग रहा था जैसे अरमान में पूर्णिमा का चांद चमक रहा हूँ । नहीं इस तरह सज धज कर तैयार हुई थी कि उसमें सम्मोहित कर देने वाला आकर्षण दिखाई पड रहा था । बस एक ही बार दरवाजे की घंटी बजी और उसने दरवाजा खोल दिया । जैसे उसे दरवाजे पर खडे व्यक्ति को देखा । एक मिनट को चुप्पी छा गई । उस व्यक्ति की परछाई से उसका चेहरा आधा ढका हुआ था और उसके चेहरे पर आते हुए भावों को देखकर वहाँ जाना कहाँ गई । सारा को सामान्य होने में एक मिनट लगा और उसके बाद लंबी सांस लेकर उसने उस व्यक्ति को अंदर आ जाने दिया । हिचक बॉर्डर से उसके हाथ काम रहे थे और वह अपनी खुद की धडकनों की आवाज सुन पा रही थी । अपनी सोच में डूबी सारा चाहती थी कि वह वहाँ से चला जाए । उसने सोचा कि अगर में थोडी देर पहले ही घर से निकल गई होती तो उसे उस का सामना नहीं करना पडता । पलंग पर देखते हुए मैं मुस्कुराया और सारा भी जवाब में जबरन मुस्कुरा गई । उसे पता था कि उसका पूर्व प्रेमी सत्यम निश्चित तौर पर उसे छोड देने की बात उठाएगा । सारा लकडी की ये कलवारी की ओर बडी और उसे बीस हजार रुपये निकाल कर दिए । सत्यम ने चुपचाप उसे देखा । उसकी आंखों में मलाल था । सारा बिना हिले वहाँ खडी नहीं । सत्यम को अपनी शादी की अंगूठी को व्यग्रता से हिलाते डुलाते हुए देखते हैं । वे अपने आंसू नहीं रोक पाई और उसे लंबे समय तक लगातार होती रही । सारा ने सुना कि सत्यम के अंदर कुछ गुबार उठ रहा है और सत्यम ने सुना कि साडा के अंदर कुछ मार रहा है । दोनों को पता था कि रे कभी एक दूसरे के कितने करीब है । दोनों ने बहुत बार एक दूसरे से बात करना और बताना चाहता हूँ कि आखिर क्या गडबड हो गई थी । लेकिन वे ऐसा नहीं कर पाए थे । एक बात जब मैं निश्चित तौर पर नहीं जान पाए कि उनमें से एक आगे बढ गया और इस से दूसरे को बेहद टीरा हुई । सारा के अंदर हमेशा नहीं चाहती कि दोनों के बीच सबकुछ ठीक ठाक हो जाए । लेकिन जहाँ तक उसे विश्वास था उसे पता था कि इससे केवल गडे मुर्दे उखडेंगे और कोई हाल नहीं निकलेगा । दोनों एक दूसरे के लिए काफी मायने रखते थे और लगभग एक साल बीत गया । उसे उम्मीद नहीं थी कि वह वापस आएगा, आज भी नहीं । वे अगर चाहता तो किसी और को भेज सकता था । हर बार जब उन्होंने मामला सुलझाने की कोशिश की तो बात और बिगड गई और जहाँ आज इस पर कोई बात नहीं करना चाहती थी नहीं उस बात को याद कर रहा था जब सारा ने उससे कहा था कि वह दोबारा कभी उसकी सूरत नहीं देखना चाहेगी । महीनों तक मैं उम्मीद करता रहा ठीक ऐसा कुछ ठीक कर देगी जैसा की मैं हमेशा कर दिया करती थी । लेकिन समय बीतने के साथ वो उम्मीद खो बैठा । वो भी शांत था । शब्द ढूंढने की कोशिश कर रहा था और सोच रहा था कि अगर वे अपनी बात रखें तो क्या उसके लिए इन सब का कुछ होगा? सारा को पता था कि सत्यम से अपने दोनों के बारे में कुछ सुनना आसान नहीं होगा । उस रात जो कुछ भी हुआ था उसमें बहुत कुछ का अर्थ है । वो अभी भी समझने की कोशिश कर रही थी और ये भी एक वजह थी कि उसने उसे कभी फोन नहीं किया तो कहाँ जा रही हूँ? सत्यम ये पूछा तो भराई से क्या लेना देना चाहती हूँ । उसने कहा और उसकी आंखों में उसके हाव भाव मेरे सबकुछ चला गया जिससे समझ आ रहा था कि पिछले कुछ माह किन परिस्थितियों से कुछ नहीं हैं । अंडर रहा । उसने अपने को संभाला और इतने दिनों तक जो कुछ उसने अपने लिए अंदर समेट रखा था वो फट पडा । मैंने कभी अपने रिश्ते पर संदेह नहीं किया । एक बल्कि ने भी नहीं । सत्यम ने तुरंत पलट कर कहा तुम भी बराबर की जिम्मेदार हो । अगर इससे तुम्हारी आत्मा को शांति मिलती है तो बोलते रहो और जैसी कहानी जहाँ करते रहूँ लेकिन ये बहुत खराब बात है । मेरे पास इन सब के लिए कोई वक्त नहीं बचा । अभी तो बिलकुल भी नहीं । मुझे अभी आधा घंटे में कहीं पहुंचना है तो आप कृपया जाएंगे । सारा ने दरवाजे की तरफ इशारा करते हुए कहा एक समय उनके संबंध चाहे कितनी ही घेरे के उन आ रहे हैं । उस समय उसे कितना ही चाहता हूँ । लेकिन अब उस की भावनाएं ऐसी नहीं रहे । उसने अपना निर्णय ले लिया था और उस पर अडिग थी । सत्यम ने । उसे का भी बहुत अच्छा है । सास कराया था लेकिन छह दिन उसने किसी और से शादी की है । उसकी नजरों में गिर गया । वो शादी के बाद ही उससे संबंध बनाए रखना चाहता था । लेकिन वो ऐसी लडकी नहीं थी जो विवाहेत्तर संबंध बनाए रखती । पिछले कुछ समय में उसने अपने को उसी तरह स्वतंत्र बना लिया था जिस तरह सत्यम से प्रेम के संबंध में कायम रखने से पहले थी । अगर उसे हल्का सा भी आवाज होता की वो आने वाला है तो वह उससे मिलती ही नहीं है । उससे मिले बिना काम चला सकती थी । अगले कुछ दिनों तक किसी ने भी कुछ नहीं कहा । सत्यम समझ गया कि इस बातचीत का कोई नतीजा नहीं निकलेगा । उसने प्रयास छोड दी है और बीस हजार रुपये अपने हाथ में लेकर उठ खडा हुआ । वही शब्द भी बोले बिना वहाँ से चला गया । बहुत बार हमें बहुत कुछ कहना होता है लेकिन उन्हें कहने का कोई रास्ता नहीं होता और बाद में हम अफसोस जाहिर करते हैं । सभी शब्द आपकी भावनाएं नहीं समझ पाते । कई बार आप जो कुछ कह डालते हैं, है, बात नहीं होती । जो आप कहना चाहते हैं और अधिकतर जो कुछ आप कहना चाहते हैं, मैं अनकहा ही रह जाता है । किसी ने अपनी प्रेमिका से कहना चाहा था कि उसे उसकी कितनी कमी खलेगी कि उसने कितना चाहा था कि उनके संबंध नहीं टूटे । ऍम बार उसके पास लौट आए और फिर हमेशा उसके साथ हैं । किसी को अपने पूर्व प्रेम को उसके विवाह से पहले बताना था कि वो अभी भी उससे प्यार करती हैं और उससे शादी करना चाहती है, भले ही उनमें कितना ही अहम का टकराव लडाइयां मोरसिंह क्यों ना हो । अगर मेरे साथ रहेंगे तो पूरी दुनिया जीत सकेंगे और अगर अलग अलग हो जाएंगे तो सबको देंगे । जीवन इतना छोटा है की बातों को अनकहा नहीं छोडा जाना चाहिए । कुछ समीकरण बदलना कठिन है । हम अपने को अभी व्यक्त नहीं करते । थन अपनी बातों को दिल में बंद रखकर अपनी इच्छाओ को मारते रहते हैं । हम कहे शब्दों के बंदी बन जाते हैं और उन्हें अनकहे शब्दों की वजह से हमारी प्रेम कहानी स्कॉच नहीं बन पाती बल्कि सादी जिसकी बन कर रह जाती है । संबंध टूटना ये ऐसा शब्द है जो शायद आप की जान ले लें । इससे निश्चित रूप से चोट पहुंचती है क्योंकि आप फिर दोस्त नहीं बन सकते हैं । सीढियां उतरते हुए वह अपने प्रेम संबंध टूटने के बारे में सोचती नहीं । आप अलग अलग कारणों से संबंध तोडते हैं । हो सकता है कि आपकी भावनाएं वैसी नहीं रह रही हूँ और आपने संबंध तोड लेने का निर्णय कर लिया । हो सकता है कि दोनों में से कोई एक किसी और को पसंद करने लगा हूँ और सोचे कि वह गलत व्यक्ति के साथ हैं । हो सकता है की आवाज आपकी प्राथमिकताएं एक जैसी नहीं रह गई हूँ । हो सकता है कि आपका प्रेमी या प्रेमिका सोचती होगी । अब आपके संबंधों में गरमाहट नहीं रह गई है । क्या हो सकता है कि आप में से किसी एक को अचानक लगा हूँ? ये तो प्यार नहीं लेकिन अधिकतर प्रेम संबंधों के टूटने में जो बात होती है है कि आप दोस्त बने रहने का निर्णय करते हैं, ऐसे ही ये झूठ है । आप ऐसा करते हैं ताकि वो संबंध विच्छेद को आप स्थाई तौर पर स्वीकार कर सकें क्योंकि इस तथ्य हुआ स्वीकार नहीं कर पाते कि वह व्यक्ति हमेशा के लिए आपकी जिंदगी से जा रहा है । इसीलिए आप ऐसे मुर्खतापूर्ण सुधार करते हैं इसलिए भी ऐसा करते हैं क्योंकि आप जानते हैं कि जब आप कोई संगीत सुनेंगे या ऐसे किसी पार्क में जाएंगे जहाँ लोग वर्षों साथ साथ घूमा करते थे या किसी रूमानी शाम को जब राउंड राइफर जाएंगे या अकेले होंगे या ऐसी किसी जगह जाएंगे जहाँ अपने साथ वक्त गुजारा हो । तब आपको उस व्यक्ति की कमी बहुत खलेगी ।

Part 11

हूँ । अरमान ने दरवाजा खोला तो सामने उसके मकान मालिक खडे मुस्कुरा रहे थे । अरमान सारा के लिए अपना घर सजाने में व्यस्त था । उसको ना चाहते हुए भी मकान मालिक को अंदर बुलाया । मकान मालिक के हर माँ फ्लैट पर आने की उसकी आदत से अरमान परेशान था इसलिए मैं नहीं मुस्कुराया । उसके अनुसार उसका मकानमालिक एक टाइम का जाॅब था जिसने अपने फोटोग्राफी के शौक को पूरा करने और पिता द्वारा बनाए गए फ्लाइट का खिला है । वसूलने के अलावा जिंदगी में कुछ भी नहीं किया था । मकान मालिक ने यह सुनिश्चित करने के लिए अरमान की ओर देखा कि उसका ध्यान उसकी ओर है या नहीं । उस ने कहा तो आप कैसे हैं? लेखक माॅ अरमान ने अनिच्छा से कहा ठीक हूँ मैं प्रदीप आप कैसे हैं? ठीक नहीं हुई यार । आप लोग इतने घटिया टेलीविजन सीरियल लिखते हैं कि सारे दिन के काम की थकान के बाद जब मैं घर लौटा हूँ, मेरे पास देखने के लिए ढंग का कुछ होता ही नहीं । क्या आप नौकरी कर रहे हैं? फॅार हुआ जानते हैं क्या आपने फेसबुक पर वन्यजीवों की मेरी फोटोग्राफी नहीं देखी? अगर मैं गलत नहीं हूँ तो मैं कुत्ते बिल्लियाँ वाली फॅस हाँ, लेकिन वो जंगली हैं । वे लोग ऐसे अपनी फोटो नहीं लेने देते । केवल मेरे जैसे पेशवर और अच्छे फोटोकाॅपी वास्तविक फोटो खींच सकते हैं । ऍसे का सही तो फिल्म उद्योग में होना है । प्रदीप ने कहा अरमान ने बीच में ही टोकते हुए कहा, नहीं नहीं टेलीविजन उद्योग में अरे हाँ की बात है । हर फिल्म अभिनेता किसी ना कही टेलीविजन शो पर आता है तो मैं ऐसा क्यों नहीं करते? किसी अच्छे अभिनेता या अभिनेत्री से कहो कि अपना पोर्टफोलियो रोज से बनवा लो । मैं उनसे पैसे भी नहीं लूंगा । लेकिन आपने तो अभी बताया कि आप वन्यजीव फोटोग्राफर हैं । एक फरमान हमारे बाजार में बने रहने के लिए जीवन में एक समय के बाद बहुत प्रयोग करने पडते हैं और मैं वही कर रहा हूँ । मैं कभी कभी मेरी फोटो में दिखाई पडेगी । ऍम सही का होता तो मैं भी कुछ अलग लिखने की कोशिश करनी चाहिए । नहीं समझ गया । अरमान ने सहमती में नहीं बल्कि उनसे छुटकारा पाने के इरादे से कहा । ठीक है तो उनसे बात करो । मैं मुफ्त में उनके पोर्टफोलियो बनाये होंगे । मैं उनसे जरूर बात करूंगा । अरमान ने कहा तुम जानी मानी हस्तियों के साथ अपनी फोटो अपलोड करते मुझे पसंद नहीं है । क्यों बिल्कुल हैरान नजर आ रहा था । हाथ की राय लेना क्यों नहीं बंद कर देते हैं । मुझे नहीं लगता में ये करना पसंद करूंगा । बस यही मेरी स्थिति है चालू मुझे सही याद आया इस महीने द्वारा अनुबंध खत्म हो रहा है । इसके पुर्नरीक्षण के बाद अगले मार से तुम्हारा किराया बढकर बयालीस हजार रुपये हो जाएगा । लेकिन ये बढोतरी तो बहुत ज्यादा है । अरमान भौंचक्का रह गया । मुंबई में मांग बहुत ज्यादा है और बहुत से ऐसे अविवाहित हैं जिन्हें इतना सुन्दर फ्लैट जिससे बाहर का दृष्टियाॅ अंडर दिखाई पडता हो, मिल नहीं पडता । नियम तो दस प्रतिशत बढोतरी का है । अरे कॅाम प्रदीप ने कंधे झटकाकर कहा मैं मानता हूँ नहीं तो नहीं मानते मुझे तुम्हारे पडोसियों से देर रात तक तुम्हारे पार्टी करने की सूचना मिलती रहती है । इस फ्लैट के साथ पार्किंग की जगह नहीं है फिर भी तुम अपनी कार पार करते हो । तुम लोग देर रात अंदर आते हो जिससे गार्ड को परेशानी होती है और इस फ्लैट में लडकियों के आने की बिल्कुल मना ही है । लेकिन फिर भी बहुत ही लडकियाँ यहाँ रात कर रुकने के लिए आती हैं । क्या कहना है तुम्हारा? इन सब के बारे में? अरमान ने अपने घुटने थक के क्योंकि प्रदीप के आरोपों का खंडन करने के लिए उसके पास कोई तर्क नहीं था । वो अंडर गया और किराया ले आया । नदी बिल्कुल देसी तरीके से नोट गिनने लगा । देखो मैं युवा हूँ और मैं तुम लोगों के कार्यक्रमों में खडा नहीं डालना चाहता हूँ । जैसा की मैं देख कर समझ पा रहा हूँ । उसने फ्लैट की सजावट की ओर इशारा करते हुए कहा तो मैं किराया और लाइन भेजने की कोशिश करनी चाहिए । स्टैंडी अब इस फ्लैट में नहीं रहता । उसकी माँ को कैंसर हो गया है । मुझे उम्मीद है की आप इस बात को ध्यान में रखेंगे । अरे अगर उसकी माँ मर भी जाती है तो भी मुंबई में संपत्ति की कीमत बढते ही जाएगी । हमें काम की बात करनी चाहिए । मकान मालिक ने जो कुछ कहा उसे सुनने के बाद अरमान को उसके सोच परगणा हुआई । अरमान ने कहा मैं आपको इसके बारे में सोचकर बताऊंगा । उसका मकान मालिक अचानक कुछ घबराहट में दिखाई पड रहा था और बोला इसका मतलब है कि तुम फ्लाइट छोडने के बारे में सोच रहे हो । अरमान ने जनता से कहा मैंने आपसे कहा ना नहीं इस महीने आपको बता दूंगा । अरमान ने सीधे उसकी आंखों में देखते हुए कहा, ठीक है । फिर मुझे अपना काम कर रहे हैं । आप से मिलकर खुशी हुई । इसके बाद अरमान यहाँ जोडा और सुनी । हम बकवास लिखते हैं क्योंकि दर्शक बकवास देखना चाहते हैं । अब समय आ गया है कि आप लोग समझदार हो जाएँ । जिस दिन आप लोग समझदार हो जाएंगे, उस दिन आप देखेंगे कि भारत टेलीविजन पर अच्छी से अच्छी सामग्री परोस रहा है । हो सकता है कि तब भी कुछ लोगों की समझ से परे हो । मकान मालिक ने अपना दायक उठाया और औपचारिक दुआ सलाम तथा पोर्टफोलियो बनाने के बारे में और कुछ एक अनुरोध करने के बाद वहाँ से रवाना हो गया । दरवाजे की घंटी बजे आई माननी चारों ओर नजर दौडाई की कहीं मकान मालिक अपना कोई सामान तो नहीं बोल गया और उसे ही लेने आया हूँ । उसे कुछ दिखाई नहीं पडा । उसने दरवाजा खोला और जो देखा उसे देखकर खुशी से पागल हो गया । वहाँ अति सुन्दर सारा खडी थी । उसे पता था कि सारा अपनी सुंदरता को लेकर बहुत विनम्र । मैं कभी भी बेवजह दिखावा नहीं करती थी । अरमान की नजरे उस पर टिक गई और अंदर आने के लिए कहने से पूर्व कई शर्त तक वह टकटकी बांधे उसे देखता ही रहा । फिर बहुत ही आकर्षक लग रही थी और मैं उस पर से अपनी आंखे हैं, हटाई नहीं पा रहा था । इतनी जल्दी प्यार में पढना कितना असमान्य था? क्या हो सकता है कि उसने इससे पहले कभी किसी के लिए ऐसा महसूस नहीं किया हो । कॉलेज के दिनों में काट के प्रति उसका थोडा बहुत आकर्षण रहा लेकिन कोई गंभीर मामला नहीं था । मैं हमेशा अपने से सवाल करता था । क्या कभी मैं किसी से प्यार में पढूंगा? उसे पता नहीं था कि वह इस तरह अचानक और इतनी जल्दी किसी के प्यार में पड जाएगा । आप बहुत सुन्दर लग रही है । अरमान ने कहा और उसे एहसास हुआ कि वह नहाया भी नहीं था और उसका शरीर पसीने से भरा हुआ था । उसने खुशी से चेक थे हुए कहा, शुक्रिया आपने शाम इतनी सुंदर बना दी और सपने की तरह उसने चारों ओर देखते हुए कहा सुन्दर लग रहे इतनी मेहनत करने के लिए शुक्रिया । अरे ये तो कुछ भी नहीं है । मैं आम तौर पर अपना फ्लैट इसी तरह से रखता हूँ ही । लाल टीम सुंदर खुशबू, हल्की सुंदर रोशनी, मोमबत्ती । इससे पहले मैं एक अविवाहित का फ्लैट ठीक चुकी हूँ और विश्वास कीजिए उसमें और इसमें जरा सी भी कोई समानता नहीं देखती । यहाँ तो आप समलैंगिक हैं या अपने खास तौर पर ये सब सजावट किए हैं ही चाहिए, इसका शेयर लीजिए । उस ने कहा, अरमान ने खास अंदाज में सिर झुकाकर कहा, मैं हूँ मैं स्वीकार करता हूँ । आपको इसका श्रेय पहले ही ले लेना चाहिए था । बहुत कम लोग इतनी मेहनत करते हैं । उसने मुस्कुराकर कहा । उसने जिस तरह बात कही, उसमें कुछ तो खास्ता उसे आश्चर्य हुआ कि वह लगभग एक ही समय में एक साथ कैसे अपनी सिस्टर, सेक्सी और प्यारी लग सकती है । यह मत कहिए कि आप कब तक ऐसे किसी व्यक्ति से नहीं मिली, जिसने आपके लिए इस तरह से कुछ भी नहीं किया हो । भगवान ने यही कह दिया, नहीं, बिल्कुल नहीं । सारा ने कहा और उसने सोचा कि काश वह है बता । मैं पूरी जिंदगी आपके लिए ये सब करता रहूंगा । लेकिन उसने सिर्फ मुस्कुराकर से हिला दिया । मेरे पूर्व प्रेमी के साथ कई महीनों तक मेरे प्रेम संबंध थे । मैं बहुत गंभीर रहता था जहाँ पूरी जिंदगी एक दूसरे के साथ गुजारने के सपने देखते हैं । लेकिन उसने अपने माता पिता द्वारा पसंद की गई किसी लडकी से शादी कर ली । उसकी आवाज में जो उदासी थी, अरमान उसे महसूस कर पा रहा था । यहाँ वही व्यक्ति समझ सकता है जो किसी से प्यार कर बैठा हूँ क्या? तो मैं भी उससे प्यार करती हूँ । उसने पूछा और उसे उम्मीद थी कि उसका उत्तर नहीं होगा । बिहार का यह नहीं है कि किसी को अपनी आखिरी सांस तक प्यार करना । प्यार का अर्थ होता है किसी को अपनी हर सांस के साथ प्यार करना और अगर में उसके लिए अपने प्यार को हवा करूँ तो वही इसके साथ धमाल लेकर आ रहा था । उसने कहा, और अरमान परेशान हो गया क्योंकि उसकी पहेली से उसे अपने सवाल का जवाब नहीं मिल पाया था । इसलिए उसने यही बात किसी और तरीके से पूछने का प्रयास किया । क्या तुम उसके पास वापस लौटना चाहोगी? अगर मेरे पास विकल्प हो की मैं एक अरब डॉलर जो मैं मुफ्त में कमा सकती हूँ, गवाह दूँ, ये सत्यम के पास वापस लौट जाऊँ । मैं लगभग तुरंत पहला विकल्प होंगी, कभी अपनी जिंदगी में नहीं । उसने दृढता के साथ कहा और उसकी आंखों में गुस्सा झलक उठा । ये सुनकर अरमान बहुत खुश हुआ । अपनी फटेहाल की स्थिति और बदबू के लिए दुख व्यक्त करते हुए वह नाश्ता तैयार करने के लिए रसोई घर में चला गया । नेशनल तैयार करने के बाद उसने नाश्ते के साथ रेडवाइन पेश की । अगले कुछ मिनटों तक किसी ने कुछ नहीं था । अच्छी थी जिसके साथ में वक्त को जा सकता था और उसके अतीत के बारे में जानकारी मिलने के बाद उसे संदेह था कि अभी वह किसी नए प्रेम संबंध के लिए तैयार नहीं होगी । उसे नहीं पता था कि उसके पहले किसी से इतने गहरे प्रेम सम्बन्ध रहे थे और अपने विचारों से चाहे जितना संघर्ष कर रहा हूँ, उसके मुँह से निकल ही क्या, क्या तो मुझे अभी मिलती हो । उसने एक लंबी सांस ली और सीधे उसकी आंखों में टाकर कहा में आज उस से मिली थी । ठीक यहाँ आने से पहले मेरा माकन मालिक भी है । उसकी शादी से पहले हम कई महीनों तक उस फ्लैट में साथ रहे । अरमान बिल्कुल टूटा हुआ नजर आ रहा था, लेकिन उसने जो महसूस किया था है उसने छुपाने की कोशिश की । उसने अपने को समझाते हुए कहा, और मैं आज आप से मिलने क्यों आया था? किराया लेने । शादी के बाद पहली बार में स्वयं किराया लेने आया था में अधिकतर किराया उसके पिता को दिया करती थी या ऑनलाइन भेजा करती थी बेहरू की और फिर कहा मैं वहाँ ही लेना चाहती हूँ मानने का । फिर आप अपना फॅमिली बदल लेती । मुझे पैंतीस हजार रुपये से कम में कोई ढंग का फ्लैट नहीं मिल पा रहा है और ये राशि बहुत ज्यादा है । उसने कहा और आरमान मुस्कुरा गया । आप क्यों मुस्कुरा रहे हैं? उस ने पूछा ये मुंबई है । यहाँ जिंदगी सस्ती होती जा रही और किराये महंगे होते जा रहे हैं । मैं भी ऐसी ही समस्या से गुजर रहा हूँ । मेरे साथ फ्लैट में रहने वाले को अचानक बीच नहीं चले जाना पडा क्योंकि उसकी माँ को कैंसर हुआ है और मुझे अकेले किराया देना पड रहा है । इसके अलावा मुझे लगता है कि आज मकान मालिकों का दिन था क्योंकि जवाब आई ठीक से पहले । उसने मौजूदा किराये में बीस प्रतिशत की बढोतरी करने की घोषणा कर दी । ये सुनते ही सारा की भव्य चढ गई लेकिन मेहमान को और भी कुछ कहना था तो अगले महीने से मुझे इस लाइट के लिए बयालीस हजार रुपये आधा करने होंगे शांति अब मैं उठी और पूरे फ्लाइट का चक्कर लगाकर उसे देखा जिसमें ड्राइंग रूम में लौट आए । उसने अपने कंधे झटके और कहा विश्वास कीजिए आपका फ्लैट किराये के लायेंगे । आपने उससे क्या कहा? मैंने कहा कि मैं इस पर विचार करुंगा । ये मैंने इस उम्मीद के साथ कहा कि शायद है किराया कुछ काम कर दे, वो काम नहीं करेगा और आपको फिर से इतना सुन्दर फ्लैट भी नहीं मिल पाएगा । मैंने बहुत खोजा लेकिन नहीं मिला और अभी भी मिलने की कोई उम्मीद दिखाई नहीं पड रही है । मुझे बताया है लेकिन मैं न किराया नहीं दे सकता । सारा की आंखों में जमा आ गई और उसने कहा आपको नहीं करना पडेगा, ऍम हूँ और आप फ्लैट में साथ रहने के लिए किसी को ढूंढ रहे हैं । ये धूप ऍफ हैं । अगर आपको परेशानी न हो तो मुझे यहाँ कर रहने में कोई दिक्कत नहीं है । हम किराया आधा आधा पार्ट लेंगे । मैं खुशी से नाच उठा । नए उत्साह में अपनी सास भी नहीं रोक पाया । पर कल्पना करने लगा कि हर सुबह से अब तक की उस की जानी हुई सबसे खुबसूरत आंख में देख सकेगा । उसे लगा कि अंतत तवे हर बात के पीछे का कारण समझ पा रहा है । साडी का इस तरह अचानक लाख से चले जाना, सारा से उसका मिलना, दोनों के बीच सामान बाद घटिया मकान मालिक और आप एक दूसरे को अपने जीवन में पाना हीच इतना खुश देख रहा था अखिलेश शर्ट । उसके चेहरे पर चिंता अच्छा लगाई क्या कोई दिक्कत है? सारा ने पूछा नहीं आप यहाँ कर रहेंगे तो मुझे खुशी होगी लेकिन पहले मुझे अपने मकान मालिक को इसके लिए राजी करना होगा । ये सोसाइटी अविवाहित जोडों को यहाँ एक साथ रहने की अनुमति नहीं देती । उसने कहा अरे ये कोई समस्या नहीं है । हम कहेंगे कि हमारा प्रेम सम्बन्ध है और हम तो हाँ जल्दी शादी करने वाले हैं । मुंबई में किसी और को नहीं जानती । इसलिए मैं कहीं और रहने का जोखिम नहीं उठा सकती । तो उसने कहा ये तो किसी योजना की तरह लग रहा है । अरमान ने प्रसन्न होते हुए कहा अपने मकान मालिक नंबर मुझे दीजिए । उस ने कहा नहीं पहले मुझे बात कर लेने दीजिए । अरमान ने कहा ऍम सकती है तो आपकी आवाज नहीं कर सकती । उसने हसते हुए कहा । उसने मकान मालिक का नंबर लिया और फ्लैट में घूम घूमकर देखती रहें । उसने बाथरूम देखे और बात तब देखने के बाद मुस्कुराने लगे । ये मेरा कमरा होगा । उसने कहा मकान मालिक से बात करती रही और अरमान है बीत भ्रमित वहाँ असहाय की तरह देखता रहा मैं लगभग दस मिनट बाद वापस लौटी । क्या कहा उसने? अरमान ने पूछा, नहीं इस बात की पूरी कोशिश कर रहा था कि वह चिंतित दिखाई ना पडे । उसे कोई दिक्कत नहीं है और इसलिए एक सप्ताह के अंदर में यहाँ रहने आ जाउंगी । मैंने आपसे पहले कह दिया है कि मुझे वो कमरा चाहिए । आप स्वार्थी व्यक्ति है । आपने कभी बात तब के बारे में नहीं बताया अन्यता हमने अपनी पिछले मुलाकात रद्द नहीं होती और मैं यही अगर बॉडी इस बार कर लेती हूँ और सबसे बडी बात कि किराया अगले एक साल तक वहीं रहेगा तीस हजार रुपये प्रतिमाह क्योंकि मैंने उनसे वादा किया है कि मैं अपनी एक अभिनेत्री मित्र सिख होंगी कि वह अपना पोर्टफोलियो उनसे बनवाले सौदा पक्का हो गया । मेरे कॅश उसने कहा, अरमान रकार सीधा खडा हुआ अपनी यादव को समेटे हुए हैं और हमारे खुशी के शांत नहीं रह सका । उसने सारा को गले से लगा लिया और सारा नहीं भी उसे कसकर बाहों में भर लिया । वो गले लेना और एक दूसरे को बाहों में भरना दोस्ताना ढंग से गले लगने से कुछ अधिक था । हाँ नहाए तक नहीं है । सारा ने कहा और वह छे क्या नहीं नहीं आना चाहता था, लेकिन तभी मेरा माकन मालिक आ गया । उसने कहा, उसकी आंखों में जरा भी विश्वास नहीं झलक रहा था । हरीश चिंता मत करो मेरी जैसी व्यक्ति के लिए तब बनाना सेक्सी लेकिन कसरत के शायद पसीना सुपर सेक्सी हो ते । उसने आंख मारते हुए कहा बहुत कुछ देख रही थी । उस खास पल में उसकी जिंदगी बदल गई । उसने जो सपने देखे थे, उसने जो कुछ चाहा था, ऐसा लग रहा था कि वह सब कुछ से मिल गया । स्पेन सब बिल्कुल सही लग रहा था । ये शाम सही लग रही थी और जिंदगी ने उसके लिए जो सर प्राइस तय किया था, मैं उसे अच्छा लगा । स्वादिष्ट नाचने के साथ शराब पीते हुए हैं । दोनों ने अपने अपने दिल की बात कही । उन्होंने जो बातें की, मैंने पूरी जिंदगी आज रखेंगे । देर रात तक बात करने के बाद जब अरमान उसे उसके फ्लैट तक छोडने गया, तब भी वे और बातें करना चाहते थे । सहकार से बाहर आ गया और सहारा ने उसे बाहों में भर लिया तो मेरे लिए बहुत मायने रखते हो । मेरे काॅलर मुझे कभी मत छोडना । उसने शराब के नशे में धुत ये बात कहीं और जब भैया बात कह रही थी तब अत्यंत सेक्सी लग रही थी । उसने अरमान के गानों पर झूमा और हर मानने भी पलट तरफ से जुमा जगह वापस लौट रहा था । तब उसके दिमाग में तरह तरह के विचार आ रहे थे । उसने सोचा कि आज इस विशेष दिन वे अपनी भावनाओं को कलम बद्ध करेगा । उस ट्रेन उसने कागज पर अपना दिल उडेलकर रख दिया और उसे एहसास हुआ कि इससे पहले उसने कभी भी इतना सुन्दर और इतना ईमानदारी से कुछ भी नहीं लिखा था । आपको पता है की जगह प्यार में होते हैं तब आपको किसी की हर चीज अच्छी लगती है । आपको पता है कि जवाब प्यार में होते हैं तब उसकी ये झलक पाने को आप लम्बा रास्ता लेते हैं । आपको पता है कि जवाब बिहार में होते हैं । तब आप उन्हीं चीजों को पसंद करते हैं जो वह करती है । उन्हीं चीजों को ना पसंद करने लगते हैं जिन्हें रहना पसंद करती है । आप सिर्फ कुछ घंटे होते हैं और अपने को तरोताजा महसूस करने लगते हैं उसका प्रोफाइल देखे बिना सोते नहीं । आप बाहर बाहर उसके मैसेजिस पडते हैं । उस उम्मीद के साथ की शायद उसमें कोई अर्थ अंतनिर्हित हो । आप उन बातों की कल्पना करते रहते हैं जो आप कब करेंगे जब उसके साथ होंगे । आपको बताएं कि यह क्या है जब आप उसके साथ होने की पाटकर लेकर मुस्कराने । जब आप अपने से हमेशा पूर्ति महसूस करें जब आप लोगों की सहायता करना शुरू कर दें, आप सबको खुश रखने की कोशिश करें । आप महसूस करें कि जिंदगी बिल्कुल सही है और यही इससे बेहतर नहीं हो सकती । आपको बताएं कि जब उसके किसी और से बात करने पर आपको चलता हूँ तब तो यहाँ पे आ रहे हैं । आपको पता है कि जब आप उसे किसी मुसीबत से निकलने के लिए अपनी सीमा से परे जाकर उसकी सहायता करते हैं तब से प्यार होता है और आपको बताएं की वही सच्चा प्यार होता है जब आप उसके लिए बिना किसी उम्मीद के कुछ ना कुछ करते चले जाते हैं । आपको पता है कि यह प्यार है कि जब आपके दोस्त आपको से लेकर चिढाने लगते हैं और आपको उसमें आनंद आने लगता है और जब ऐसा नहीं करते तो आप इसकी कमी महसूस करने लगते हैं । अगर वो आपकी व्यक्तिगत टाइप का हिस्सा बन गई है तो आप प्यार करने लगे हैं । जब आपके सभी कार्यक्रमों का हिस्सा बन जाए तब आप प्यार में हैं । अगर आप अपने को बेहतर दिखाने के लिए वक्त निकालने लगे हैं ताकि वो भी आपको प्यार कर सकें तो आप उसके प्यार में पड गए । आप बिहार में पड गए गहरे प्यार में प्यार जो सूरज उगने के साथ शुरू होता है और दिन ढलने पर खत्म नहीं होता । प्यार जो आपको किसी के लिए भी बिना शर्त काम करने को प्रेरित करता है । तिहास जो आपको एक अच्छा इंसान बना देगा । क्या जवाब को ये सोचकर खुशी देता है? क्या प्यार में हैं यहाँ जो सीन हो गया है और आपका जीवन उस प्यार का हिस्सा बन गया है ।

Part 12

इकत्तीस मई दो हजार सत्रह उस दिन के बाद उसका जीवन कई तरह से बदल गया जो कई तरह से अरमान और सारा के लिए सबसे सही निर्णय लग रहा था । उन्होंने किराया आधा आधा बांटने का फैसला किया और आसमान को पता था कि इससे वे और नजदीक आएंगे । तो जब भी उस की तरफ देखता उसके अंदर अजीब सा उत्साह भर जाता था । ऐसी अनुभूति होती थी जैसे कि स्वीडन में नॉर्दन लाइट्स देखकर होती थी । उसने अभी तक व्यक्तिगत तौर पर वह नजारा नहीं देखा था लेकिन अब उस की इच्छा उसे सारा के साथ देखने की थी । रात के आसमान में बडे बडे तौर और रंगीन रोशनी को देखेंगे । हाँ, केवल सुंदर आसमान और सारा दोनों को देखेगा और मन ही मन सोचेगा कि सारा ज्यादा सुंदर कैसे हैं । उसकी जिंदगी इतनी तेजी से बदल रही थी कि उसने सोचा भी नहीं था । लेकिन कुलमिलाकर वह इससे खुश नजर आ रहा था । ये जानने के बाद की उसके साथ एक लडकी रहने आ रही है । उसे पता था कि समाज किस तरह की मुद्दे उठाएगा और सोसाइटी के लोग भी आपत्ति कर सकते हैं । आश्चर्य की बात यह है कि उसके मकान मालिक का फोन आने के बाद भी वह राजी हो गए । प्रदीप पर सारा घर रोक झड गया था । आपने सारा को देख रहा था और उसे शिफ्ट करने में सहायता कर रहा है । अरमान पिछले कुछ समय के घटनाक्रम पर आश्चर्यचकित था जिसने उसे इस महोल पर ला दिया है और इससे मैं खुश हैं । पेशेगत तौर पर जून के पहले सकता में बहुत काम करना है, लेकिन ये उसे जीवन का आनंद लेने और सारा के साथ समय बिताने से नहीं रोक सका । हमें शक की तरह उसने कभी कभी अपने काम के बारे में सारा से शिकायत की, लेकिन अधिकतर समय उसने काम स्वीकार किया और बेहतरीन तरीके से उसे करके दिया । वास्तव में उसमें मौजूदा शो और नए शो की जिम्मेदारी बहुत अच्छी तरह से निभाई । निस्संदेह है अपने हाथ से व्यंग, हाजिरजवाबी और धैर्य के कारण चैनल का सबसे लोकप्रिय लेखक हो कारोबारा सारा का उस पर विश्वास और उसकी क्षमता के चलते क्या हो पाया । लेकिन इन सबके बावजूद सारा और अरमान ने ये तय किया कि वे एक ही फ्लैट में रहेंगे । ये बात भी ऑफिस में किसी को नहीं बताएंगे । सारा को सात शिफ्ट करना था, लेकिन उससे पहले ही वे फोन पर बार बार बात करने लगे । कई बार उनकी राते योगी आराम से कट जाती थी । एक व्यक्ति जिसे मैं जिसका सहकर्मी होना चाहिए था, मैं उसके साथ एक ही फ्लैट में रहने वाला फ्लैटमेट बनने जा रहा था । कभी कभी से अपने को चिकोटी काटकर देखता था की है । सब सच तो हैं और इस आशंका से डर भी जाता था कि यह सब जितनी तेजी से अचानक हुआ है, कहीं उसी तेजी से घटना भी ना हो जाए । उसका फोन बाजू था और उसमें नाम चमका है । पार्टनर इनक्लाइन सारा का नंबर उसने अपने फोन में इसी तरह से लिख रखा था । क्या हो रहा है मेरे कैमरे? जिस काले सारा ने पूछा कुछ नहीं । मैं बस आखिरी बार अपने फ्लैट को देख रहा था । उसने कहा क्या कोई वहाँ पहुंचने के बाद आपके फ्लैट को बर्बाद करने जा रहा है? बिल्कुल नहीं, लेकिन अपने फ्लैट को लेकर मैं फिर कभी इस तरह नहीं सोच पाऊंगा । अब तक ये कुमारे लडकों का फ्लैट था । हम अपने कच्चे कहीं भी रखते थे थे । कपडे तब तक नहीं होते थे जब तक की उन से बदबू आने लगे । आप समझ रहे हैं ना मैं क्या कह रहा हूँ । अब सब कुछ सही रखना होगा । और सबसे बुरी बात है कि मैं अपने बाथरूम के दरवाजे पर खडे होकर पेशाब नहीं कर पाऊंगा और उससे सीधे पाँच तक पहुंचाने की कोशिश नहीं कर पाऊंगा । देखिए मैं आप के लिए क्या क्या क्या कर रहा हूँ । उसने कहा आप मुझे चिढा रहे ना मत कई है कि आप यह सब करते थे । उसने कहा, इस दुनिया में प्रतिशत हमारे लडके ऐसा ही करते हैं और बाकी के बचे एक प्रतिशत क्या करते हैं, झूठ बोलते हैं । उसने कहा, और दोनों हंसने लगे । आप लोगों के बारे में ये बडी विचित्र बात है । आप लोग पहली छाप बहुत अच्छी छोडते हैं लेकिन फिर कुछ समय बात आप लोग बिल्कुल बदल जाते हैं । आश्चर्य ने की ऐसे लडके कुमारी रह जाते हैं ने इस तरह करूँ क्या आपने मेरे फ्लैट में रहने के लिए आने से पहले ये मुझे अपनी मित्र मंडली में शामिल कर लिया । उसने कहा और वहाँ गई । आप इतनी आसानी से हार मान गए जो और ज्यादा निराशाजनक है । उसने मुस्कुराकर कहा, क्या आप चाहती है कि मैं उससे क्या फर्क पडता है । मैं जानती हूँ की आप भी ऐसे ही व्यक्ति है जिसकी अपनी पसंद ना पसंद है । मैं अपनी पसंद आ पर नहीं थोपना चाहती हूँ तो वहाँ बहुत निर्दयी हैं । मैंने किसी और देश से चैनल का काम शुरू किया है और आप उसके लिए बिल्कुल फिट है । चलो आप को मानना होगा कि ये आप के लिए भी अच्छा हें नहीं तो पहले से इस बात को मानता हूँ । अगर आप नहीं होती तो मुझे अपना दूसरा शो नहीं मिलता । मैं ये नहीं कहना चाहती थी । आपको अपनी योग्यता के आधार पर ये शो मिलाएं । उसने ईमानदारी से कहा, वैसे मुझे ला ते की इसके कोई मायने नहीं होते । आपको चैनल के अंडर से भी किसी की सिफारिश की जरूरत होती है । उसने ईमानदारी से कहा, ठीक है उसके लिए आप मेरा शुक्रिया तक कर सकते हैं । आपने मुझे अपनी पूरी नहीं करने दी । अभी और कुछ नहीं है । उसने चढाया । क्या आप सच में सुनना चाहती है? सौरी बोलिये ना? उसने कहा और चुप हो कहीं आगे बोल शुरू करने से पहले मैं कुछ हिचका । इसके बाद उसने अपने शब्द वाले और कहा यह कोई भाषण नहीं है और वास्तव में यह कोई घटिया बात भी नहीं । लेकिन फिर भी मैं आपसे कुछ कहना चाहता हूँ । मैं हमेशा से ऐसा व्यक्ति रहा हूँ जो कुछ भी बहुत सोच समझकर करता या कहता है लेकिन जब जरूरत होती है तब मैं अपने दिल की बात भी कह देता हूँ । बहुत से लोग मुझे आवेश में बहकर काम करने वाला भी कह सकते हैं । में एक ऐसी पृष्ठभूमि से हूँ जहाँ कम उम्र से कोई गर्लफ्रेंड होना सामान्य बात नहीं है । असल में असल में मैंने अपनी ज्यादातर जिंदगी है । सोचते हुए बताई कि मेरे बगल में एक सुंदर सिंगल अपन कैसे लगेगी । मैंने कुछ प्रेम सम्बन्ध बनाने की कोशिश भी की लेकिन किसी न किसी कारण में असफल रहे । कई बार हम में से कोई एक दूसरे में रूचि खो खो बैठा और अधिकतर समय लडकी ने किसी और को पसंद कर लिया । मेरा विश्वास है कि किसी दिन मैं अपनी पसंद की लडकी के साथ आराम से आकाश के तारों को निहार होगा । अरुण सुखद शहरों में वो बातें कहूंगा जब मैंने खासतौर से उसके लिए लिख रखी हैं । नए रोमियो जूलियट ही रांझा और लैला मजनू की कहानियां पढकर पडा हुआ हूँ और मैं अपने से कहता रहा हूँ की कभी मेरी भी ऐसी ही कुछ कहानी होगी और ये कल्पना नहीं होगी । वे असल कहानी होगी ही । अपनी प्रेम कहानी ऐसी कहानी जिसे लोग पढना चाहते हूँ और विश्वास करना चाहते हो । जब दुनिया से प्यार घट रहा होगा ये कहानियां लोगों का सच्चे प्यार पर फिर से विश्वास कायम कराएंगे । मैंने सपना देखा है कि मैं सुन्दर नॉर्दन लाइट्स के भव्य नजारे में जब आकाश रूमानी हो जाएगा और ठंडी हवा हमारे बदन में सिहरन पैदा कर रही होगी, तब में उसका चुम्बन लूंगा । मैंने उन सब कहानियों पर विश्वास करने की कोशिश की । मुझे विश्वास था कि वे किसी दिन सच होंगे लेकिन एक बडा सा लेकिन है वक्त गुजारने के साथ मैंने उन कहानियों पर विश्वास करना बंद कर दिया और मैं करीब पच्चीस साल की उम्र के आसपास पहुंच गया । मेरे दोस्तों ने अपने पसंद की लडकियों या अपने माता पिता की पसंद की लडकियों से शादी करना शुरू कर दिया । तब उन प्रेम कहानियों से मुझे जलन होती हैं और माता पिता द्वारा तय की गई शादियाँ मुझे डर आती हैं । जब उस दिन मैंने तो मैं समुद्र तट पर देखा । कहने को बहुत कुछ है लेकिन मैं संक्षेप में बताऊंगा । जो कुछ मैंने सबसे पहले देखा, मुझे पसंद आया और निश्चित तौर पर जब हम मिले तब जो महसूस किया, मैं मुझे अच्छा लगा । वहाँ से पीछे मुडने का कोई सवाल नहीं है । तेजी से चलने वाली किसी स्पोर्ट्स कार की तरह में प्यार के राजमार्ग पर दौडता रहा और मुझे उम्मीद थी कि बीच में कहीं तो होगी और काम मैं पता लगाऊंगा की क्या तुम भी ऐसा महसूस कर रही हूँ और ये यात्रा मिलकर पूरा करना चाहोगी । मैं जानता हूँ की है एक खतरा है । एक बडा खतरा है नकारे जाने का लेकिन अपना दिल खोले बिना सडक के आखिरी छोड तक दौडने जाने से ये हमेशा बेहतर है । मुझे पता है कि किसी दिन सडा का अंतिम छोडा जाएगा लेकिन मुझे उम्मीद है कि हम यात्रा जल्द ही पूरी कर लेंगे । मुझे लगता है कि मैं तुम्हें ये बताने की कोशिश कर रहा हूँ कि मैं फिर से प्यार पर विश्वास करने लगा हूँ और इसके पीछे का कारण तुम हो सारा हूँ । अगले कुछ दिनों तक किसी ने कुछ नहीं कहा । उसने अपना प्यारा सा प्रस्ताव रखने के बाद राहत की सांस ली लेकिन अपनी बात कहने के बाद उसे दुख हुआ क्योंकि उधर से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली । ऐसी स्थिति में पहुंच गया था जहाँ उसे स्वयं ही नहीं पता था कि उस स्थिति पर वह कैसे काबू पाए जो उसने भावनाओं को उडेलकर बना दी थी । अरे सारा अखंड में मुराला गांव तो मुझे दुख हैं । उसने कहा । और फिर भी उधर से कोई जवाब नहीं आया । उसने अपने मोबाइल की स्क्रीन को देखा । देखा तो फोन कट गया था । लेकिन तभी उसे सारा का एक संदेश मिला । जैसे उस ने राहत की सांस ली । सौरी छत तुमने कहा था कि ये कोई भाषण नहीं है । उसके बाद ही फोन की बैटरी खत्म हो गई थी । तुमने इस बीच कुछ कहा क्या ये कोई भाषण नहीं है? ये कहानी है जिससे जब तुम यहाँ होगी तब योगी अरमान ने संदेश भेजा और इस तरह की एक और कारण होगा जो मेरे वहाँ रहने को सही ठहराएगा में आपने लेकर और अपने कॅरिअर के साथ उस कहानी को चीनी का इंतजार करेंगे ऍफ मिलती हूँ । उसने संदेश भेजा । पूर्णिमा का चांद अपने पूरे शबाब पर था जिसका अरमान की बालकनी से सुंदर नजारा दिखाई पड रहा था । उसे हमेशा से ऐसा द्रश्य देखना पसंद था । मैं एक ऐसा दृश्य था जिसपर पुरबा हुआ जा सकता था । उसमें कुछ सारी देखें जो बहुत तोड दे क्योंकि हो सकता है कि वो ऐसी दुनिया में रहते हूँ जो यहाँ से बहुत दूर हूँ । लेकिन फिर भी कहीं चलते हैं, किसी को दिखाई पडते हैं, किसी की जिंदगी में रोशनी बंद कराते हैं एक बहुत दूर की दुनिया में और अगर उस दुनिया में रहने वाला आज कोई भी सारा को इस दुनिया में देखेगा उसे संभव कहाँ? ऐसी ही अनुभूति होगी कि आकाश किसी की जिंदगी और उसके तारों में रोशनी कर रहा है । सारा उसकी जिंदगी में उजाला कर रही है । अरमान ने अपनी डायरी खोली और उसमें सब कुछ लिखा जिसे अगर किसी दिन पढेगा तो वो समझ पाएगा कि उसे पाना आसान नहीं था और यही बात उसे अपने संबंध और इसके लिए किए गए प्रयासों को और अधिक सम्मान देने को प्रेरित करेगी । जब हमने पहली बार बात की थी तभी ये लडकी मुझे पसंद आई थी । उसकी आंखें, उसके होट, उसकी मुस्कान और उसकी आवाज सब कुछ बिल्कुल सही था । मुझे पता है कि पहली नजर में ही प्यार में पडना कैसा होता है और मुझे पता था की मुझे बहुत गहरा प्यार हो गया है । जब हमने और बात की तथा जब हमने कुछ और समय साथ बिताया तो मुझे लडकी पसंद आई और उस समय मेरे अंदर जो घबराहट थी, मुझे याद है मुझे लडकी, उसके व्यक्तित्व, उसकी मीठी बातों और उसके भोलेपन के कारण पसंद है । मैं शब्दों में नहीं बता सकता कि उसे अपना बनाने की मेरे अंदर कितनी तीव्र इच्छा थी । अगर मुझे पता है कि प्यार क्या होता है तो ये सिर्फ और सिर्फ किसी लडकी की वजह से पता है । मुझे लडकी पसंद आई जब हमने कुछ खुशनुमा हमें सात गुजारे । हम एक दूसरे को और बेहतर ढंग से जान पाए । जब मैंने उसे अपनी यूज डाटते, मुझे देखकर मुस्कराते और फिर अचानक अपनी नजरे दूसरी ओर हटा लेते । देखा तो मुझे अच्छा लगा । मुझे लडकी पसंद है क्योंकि इसके नाम भर से मैं खुश होता हूँ । मैं इसे पसंद करता हूँ क्योंकि इस की यादें मुझे उन्हें नहीं देती । मैं इस लडकी को पसंद करता हूँ क्योंकि जिंदगी में यो तो कई बार मेरे मन में किसी के प्रति थोडा बहुत आकर्षण पैदा हुआ है । लेकिन इस लडकी से मुझे प्यार हुआ है और ये मेरी जिंदगी में पहली बार हुआ है । मैंने प्रणय निवेदन किया और एक संयोग रास्ते में आ गया । हो सकता है कि मेरी भावनाओं के बारे में जानने का उसके लिए यह सही समय न हो लेकिन तब तक मैं बात गुप्त बनी रहेगी । मेरा प्यारा सा छोटा सा रहे । इससे अगर मैं उस से कभी नहीं कहूंगा तो कभी भी नहीं जान पाएगी मेरा बिहार गोपनीयत मेरा बिहार आनंद है, मेरा रहे से आनंद है ।

Part 13

आज जो दो हजार सत्रह बृहस्पतिवार शाम को सारा द्वारा अरमान के फ्लैट में आकर रहना शुरू करने के तीन दिन बाद अरमान इक शेयर के आप में घर लौट रहा था । वो ड्राइवर से तेजी से चलने को कह रहा था क्योंकि उस रात सारा कुछ विशेष व्यंजन बनाने वाली थी । जल्दी से जल्दी घर पहुंच जाना चाहता था उस के टाइम स्लॉट में । तब भी उसका शोक पहले नंबर पर था । लेकिन नए शो के लिए उसने जो कहानी लिखी थी वह चैनल ने अस्वीकार कर दी थी । कहानी सारा को पसंद आई थी लेकिन विकी निशान और शिक्षण हेड अनुज को उस पर आपत्ति थी । उनसे बहुत बातचीत हुई । अरमान के दिमाग में घूम रहीं थी और उसके लिए मैं खुद से नफरत कर रहा था । अरमान को याद आया की पटकथा की रूपरेखा बताने के बाद उसने पूछा था तो आप लोगों को ये कैसी लगी? तनुज की हम निशा एक दूसरे की तरफ देखने लगे और इस बात का इंतजार करते रहे कि उनमें से कौन पहले अपनी प्रतिक्रिया दें । मुझे नहीं पता है एक मिनट को मुझे लगा कि तुम पूरी कहानी में कोई रोचक मोलना होगे लेकिन ऐसा नहीं दिखा । कुछ नहीं । विकी ने कहा, बिल्कुल निशाने कहा और सारा नाराज हो गई । इसलिए नहीं कि रह अवर मान के फ्लैट में रह रही थी बल्कि इसलिए कि उसे वास्ता में वह कहानी बहुत अच्छी लगी थी । क्या तुम से विस्तार से बताओगी निशा अपने को जितना शांत रख सकती थी, उतना रखते हुए सारा नहीं । ये बात कहीं मेरा कहना है कि कहानी में और बाकी सब ठीक है । असल में मुझे चरित्र भी पसंद आ रहे हैं जो अरमान करना चाह रहा है । लेकिन इसमें कुछ कमी है । इसकी वजह से ही मैंने कहा यही है, इसी में कुछ कमी है निशाने इस तरह विकी की ओर देखते हुए यह बात कही मानव है । उसकी मंजूरी चाह रही हूँ वो अपनी उंगलियों को एक दूसरे में उलझाए हुए थे जिससे पता चल रहा था कि या तो मैं बहुत घबराई हुई है या डरी हुई है । हो सकता है कि दोनों अब जब की आप ने कहा है कि आपको कहानी और इसके चरित्र पसंद आए और केवल उसमें कुछ कमी महसूस हो रही है तो आप क्यों नहीं कोशिश करती और अपने बहुमूल्य सुझावों से इस कमी को पूरा करते थे । अरमान ने गुस्से में कहा उसे हमेशा इस बात से नफरत थी कि कोई ऐसा व्यक्ति जिसमें रचनात्मकता है ही नहीं, वैसे किसी मुद्दे पर बहस करें । बता उसने हमेशा देखा था कि ऐसी बैठकों में निशा हमेशा चार पांच बार टोका टाकी जरूर करती थी । बेसिरपैर की बातें बोलती थी और यह प्रमाणित करने की कोशिश करती थी कि अपना काम कर रही है अपने ही विचारों में और अपना सिर्फ पकती हुई । मैं कुछ क्षण के लिए चुप रही । तनुज लगातार अपने मोबाइल में व्यस्त था और कभी कवार सिर हिलाकर बैठक में अपनी उपस्थिति दर्ज करा रहा था । आप एक काम कर सकती है जिसकी किसी ने उम्मीद तक नहीं की हो । आप अपनी कहानी और उसे बहुत अलग कर सकते हैं । निशाने कहा और उसमें आत्मविश्वास की अत्यधिक कमी साफ झलक रही थी । आप ऍफ में कहानी बना सकते हैं जिसमें एक समांतर कट्ठा होगी जो वर्तमान में चल रही होगी । इसे लव आजकल जैसा बना दीजिए । विकी ने निशा को शर्मिंदगी से बचाते हुए कहा, बिल्कुल । निशा ने कहा और उस ने राहत की सांस ली । उसने बाथरूम जाने के लिए तरफ से अनुमति ली और तनुज के सिर हिलाकर अनुमति देने पर वह वहां से चली गई । मैं जल्दी ही वापस लौट आई इस बीच सब लोग सोचते रहे । सारा ने अरमान को देखकर समझदारी भरी मुस्कान दी । हिक्की के लडकियों जैसे हावभाव की नकल कर उसे हसाने की कोशिश की । टाइम मुझे अपनी पत्नी से बात करने में व्यस्त था और उसे इस बात के लिए मनाने की कोशिश कर रहा था की मैं उसे आज रात अपने दोस्तों के साथ जाने दे । विक्की वनिशा ऐसा देख रहे थे कि उन्हें कुछ सुनाई नहीं पड रहा है । अरमान ने गुस्से से विकी वा निशा की ओर देखा और सहारा ने अपनी हंसी दवा ली । देखो कुछ चीजें हैं जिन पर काम करने की जरूरत है । तनुज ने अपना फोन किनारे रखते हुए कहा वो अपनी पत्नी को किसी भी स्थिति में मना नहीं कर पाया था बल्कि उसकी पत्नी ने आदेश दिया था कि आज रात है उसके एक रोमानी डिनर की व्यवस्था करें हूँ । शायद दवाई पत्नी से तुम्हारा तालमेल अनुमान्य सोचा को चीजों से मेरा मतलब है पूरी कहानी । तनुज ने अपने स्पिनर से खेलते हुए कहा जिसे वह कुछ देर पहले चला रहा था जैसे अपनी पत्नी से जो उस पर हावी लगती थी, बात कर रहा था । देखो दुनिया में केवल आठ अनूठी कहानियाँ हैं लेकिन आपकी रचनात्मकता यही काम आती है जब आप उनसे प्रेरणा लेकर बिलकुल अलग कहानी बना लेते हैं । तन उसने कहा, और ये ज्ञान दिया जिसे हर लेखक ने हजार बार सुना है । एक लेखक के तौर पर आपका काम होता है कि उन्हें बिलकुल अलग बना देना । अलग एहसास, अलग कलेवर, अलग हालत और एक अलग संदेश के साथ तनुश्री खोलते हुए बीच बीच में कई बार सिंह का और हर बार जब अच्छी का पवार मानने मनाया की रहे बीमार पड जाएगा । आपको यह बात दिमाग में रखनी होगी कि आपका दर्शक प्रगतिशील नहीं हो पाएगा । हमारे पास ऐसे दर्शक है जब प्रगतिशील नहीं है और वही हमारा असली बजा रहे मुंबई या बेंगलुरु में रहने वाले लोग हमारे शो में रूचि नहीं लेते हो । ग्रामीण या अर्धशहरी इलाकों में रहने वाले लोग हमारे शो के दर्शक है । प्रगतिशीलता में लपेटकर प्रतिगामी चीजें पेश की थी ने कहा जो अन्य चैनलों के प्रमुख स्वीकार करने में चलते हैं और काफी कुछ सही कहा बिल्कुल । विकी ने अपने बॉस की चापलूसी करते हुए कहा, बिल्कुल, यही मेरी बात है । निशाने दौर आया और अपनी रसम पूरी की । चैनल में अजीब लोग होते हैं । आपको न केवल गैर रचनात्मक होने के पैसे मिलते हैं बल्कि बहुत सारे प्रोत्साहन भी इसीलिए मिलते हैं कि आप कितनी अच्छी तरह उनकी उपयोगिता सिद्ध कर पाते हैं । ऐसा है मानव कुछ बिना पढे लिखे मंत्री देश का कामकाज चला रहे हैं और आप उनके खिलाफ कुछ भी नहीं कर पाते । यहाँ चैनल शासक होता है और अधिकतर कार्यकारी निर्माता एवं इंटरनॅशनल आयोग्य मंत्री होते हैं । लेकिन क्योंकि वे प्रसारक होते हैं अरमान के पास उनकी फालतू बातें सुनने और जब तब उन की बातों में सिर हिलाने के अलावा कोई चारा नहीं होता । अनुज एवं सारा अखबार थे और तनुज फ्रिक्शन हेड होने की वजह से टेलीविजन उद्योग का एक जाना माना चेहरा था । पहले उसके कई शो बहुत हिट हुए हैं और हाल ही में जब उसने अपना चैनल बदला उसके बाद से उसका काम काज में काफी गिरावट आ गई । पहले हम सबको सहमत होना पडेगा । क्या साल में हम चाहते क्या है और सारा की निशान अगर जरूरत है तो अरमान के साथ और बैठकें करूँ और इसे ठीक करूँ । मैं अगले सकता तक कहानी का सार करीब छह महीने तक चलाने लायक और चरित्र का चित्रण चाहता हूँ, ने कहा और अपने कमरे से निकलने से ठीक पहले अपनी सीट से उठकर खडा हुआ ऍम अभी के लिए बस इतना ही । अगर आपको मुझ से कोई भी सहायता चाहिये तो मुझे बता दीजिएगा । में हमेशा सोमवार से शुक्रवार तक सुबह दस बजे से शाम बजे तक उपलब्ध रहता हूँ । विकी ने लगभग बेमन से यह बात कही । अगर आप चाहे तो हम किसी भी दिन सारा के घर पर मिल सकते हैं । उसने कहा क्योंकि रहे उसके अपने घर से नजदीक था । हम आपसे कार्यालय में ही मिलेंगे । इसे पेशेवर ही रहने दीजिए । अरमान ने कहा और निशा अच्छा होगा कि तुम सिर्फ विकी की हमें हा मिलने की बजाय अपनी ओर से कुछ योगदान दे सको तो अपने को इस टीम का हिस्सा मान सकती हो तभी तुम सीख होगी । अरमान ने सीधा निशा की आंखों में देखकर यह बात कही और वह इससे आहत भी देगी । लेकिन कहाँ कुछ नहीं । अरमान ने वहाँ से चलने से पहले सबसे आखिरी बार हुआ सलाम की और चैनल के कार्यालय से निकलने में एक मिनट से अधिकतर समय नहीं लिया । कोई बात नहीं इसके बारे में भूल जाऊँ । अगली बैठक में मैं ये मसला उठाउंगी और ये सुनिश्चित करूंगी यहाँ ऐसे ऐसा ना हो । ठीक है आज रात पर तुम्हारे लिए बहुत अच्छा खाना बनाऊंगी । मेरे कॅश अपनी अन्य मीटिंग समाप्त कर लो और जितनी जल्दी हो सके उतनी जल्दी मुझे घर पर मिलो । सारा ने संदेश भेजा हूँ हूँ । शुक्रिया मेरी कार्यकारी निर्माता ऍम फ्लाइट में । इससे वास्तव में बाद मदद मिलेगा । ताज को मिलता हूँ । उसने मुस्कुराते हुए संदेश भेजा और इसके साथ ही उसका सारा गुस्सा हवा हो गया । कुछ शाम को घर लौटते हुए क्या में बैठे बैठे अरमान ने सारा के बारे में सोचा और आस पास के ट्रैफिक को देखते हुए उसे संदेह हुआ कि वह जल्दी ही घर पहुंच पाएगा । तुम का पहुंच रहे हो । सारा का सन्देश आया मुझे उम्मीद है की जिंदगी में पहुंच पाऊंगा । वेस्टर्न एक्सप्रेस हाइवे पर बैंक का जाम है । हो सकता है अभी आधा घंटा और लगी उसके संदेश के साथ सारा ने दुखी मुस्कान के साथ जवाब दिया चल दिया हूँ । मुझे भूख लगी है । मुझे बहुत दुख हो रहा है । महत्व में इंतजार कराना कभी पसंद नहीं करता । मैं उम्मीद करता हूँ कि ट्रैफिक जाम बहुत ही जल्दी खत्म हो जाएगा । अरमान ने संदेश भेजा और ये हमेशा बातचीत का आखिरी संदेश भेजा करता है । यह उसका ये बताने का तरीका था कि वह सारा को ज्यादा प्यार करता है । उसने फोन पर गाना चला दिया और जैसे ही वह कुछ आश्वस्त होने लगा कि उसने फोन में संदेश आने की आवाज सुनी ये साडी का संदेश था । अरमान मेरी ममा कैंसर के अंतिम चरण में है । डॉक्टर ने कहा है कि हो सकता है वह ज्यादा दिनों तक जिंदा ना रहे । मुझे दुख है कि जब मेरे साथ वक्त बिताना चाहती थी मैंने ऐसा नहीं किया । मुझे दुख है कि मैं स्वार्थी बैठा हूँ । एक और खराब खबर अरमान जवाब नहीं दे सकता हूँ । उसने लंबी सांस ली । सैंडी और उसकी माँ के बाद सोच कर उसका दिल तेजी से धडकने लगा । उसने टाइप क्या मिटाया फिर से टाइम क्या बार बार अपना संदेश टाइप किया । साडी का परिवार पीडा के जिस दौर से गुजर रहा है, एक लेखक होने के बावजूद उसे सोच कर भी उसके लिए संदेश लिखने की शब्द नहीं मिल पा रहे थे उसे । तब उसने उसे फोन किया लेकिन शानवी ने नहीं उठाया । अंत में उसने संदेश भेजा एक बात याद रखना तो मैं जब भी जरूरत हो मैं हमेशा तुम्हारे साथ हूँ । हम जानते हैं कि यह कठिन दौर है लेकिन इसका सामना करने के अलावा और कोई विकल्प नहीं । मन में कोई अफसोस मत रखो । तुम्हारे जैसा बेटा पाकर उन्हें गर्व है । मेरी प्रार्थनाएं तुम्हारी माँ के साथ हैं । अफसोस हम सब अपने जीवन में कभी न कभी किसी ना किसी बात को लेकर अफसोस करते हैं । हम कुछ निर्णय लेने पर अफसोस करते हैं और से कभी कुछ अहम फैसले लेने पर अफसोस करते हैं । हम सब कुछ न कुछ ऐसा करते हैं जिस पर बाद में अफसोस करते हैं । आप इस बात पर अफसोस जाहिर कर सकते हैं कि आपने अपनी प्रेमिका को गंभीरता से नहीं लिया । क्या आप इस बात पर भी अफसोस कर सकते हैं? क्या अपने अपने परिवार के साथ पर्याप्त समय नहीं बताया? आप इस बात पर अफसोस जाहिर कर सकते हैं कि कंपनी में आपने अपने महत्वपूर्ण दिन के लिए पर्याप्त तैयारी नहीं की थी । आप सोच जाहिर कर सकते हैं कि आपने ढंग से पढाई नहीं जो आप कर सकते थे, आपस ट्रिप पर न जा सकने पर अफसोस जाहिर कर सकते हैं जिस पर आपके मित्र आये हुए हैं । आप एक ऐसे व्यक्ति से अपनी भावनाएं साझा करने पर अफसोस कर सकते हैं । किसने कभी आपको नहीं समझा और आपका मजाक उडाया हूँ । आप संगीत या खेल खुद को अपने करियर के तौर पर नहीं अपनाने को लेकर अफसोस जाहिर कर सकते हैं । आप दुनिया की श्रेष्ठ जगहों पर नहीं जाने को लेकर अफसोस जाहिर कर सकते हैं । आप अपने जीवन में असंवेदनशील और आलसी होने को लेकर दिया सोच कर सकते हैं । आप अपने जीवन की अधिकतर बातों को लेकर अफसोस कर सकते हैं । आप उन सब पर दुख जाहिर कर सकते हैं क्योंकि आपने अपने जीवन में बहुत मौकों का लाभ नहीं उठाया । आपने अपनी माँ का फोन नहीं उठाया या अपने पिता से कभी नहीं कहा कि वे आपके जीवन में कितना मायने रखते हैं । हो सकता है कि रेवास इसका ही इंतजार कर रहे हो । जवाब के पास मौका था, तब आप क्यों कुछ कर सकते थे? वैसा कुछ नहीं करने का आप अफसोस करेंगे । आप उस हर मौके को लेकर अफसोस करेंगे जिसका आपने लाभ नहीं उठाया । हर उस व्यक्ति को जिससे आप ने सम्मान नहीं दिया, हर वही चीज जिसकी आपने उपेक्षा की । हर बाल जिसकी आपने उपेक्षा की और हर व्यक्ति जिसे आप खुद बैठे हैं, सब पर अफसोस जाहिर करेंगे ।

Part 14

कुछ सुबह ऐसी होती हैं जो अपने साथ उम्मीद लाती हैं और फिर कुछ ऐसी होती हैं जो सब कुछ अपने साथ समाप्त कर देती हैं । जैसे की कभी कुछ था ही नहीं । उम्मीद बहुत खराब चीज होती है । आप उम्मीद नहीं कर सकते कि वह आपसे वफादार रहेगी । जब ये असल में हो जाती है तब ये सही लगता है । लेकिन तब आपको एहसास होता है कि आपको बाहर बाहर इस की जरूरत पडती है और कुछ नहीं बल्कि एक अवास्तविक इच्छा है । जब उन तीन सीमा पार कर जाती है तब असलियत आपके सामने आ जाती है और इस कदर आपको अपने घेरे में ले लेती है कि यहाँ आपको फिर कभी उम्मीद नहीं करने देती । साडी को पता था कि उसकी माँ अधिक दिनों तक जिंदा नहीं रहेगी और अब समय आ गया था कि वह उम्मीद का दामन छोड दें और वास्तविकता से अपना नाता जोड लें । इस बात को स्वीकार कर लेना बहुत कठिन था कि यहाँ अपनी माँ को अपनी आँखों के सामने मरता हुआ देखी और आप उनके लिए कुछ भी नहीं कर पाए । सब कुछ गलत लगता है । उसका इलाज कर रहे डॉक्टर एकमात्र भगवान हैं जिनको वह जानता था और वो अफसोस कर रहा था और सोच रहा था कि काश ऐसा ना हुआ होता । अपने नजदीकी रिश्तेदारों को बुला लीजिए । साडी की माँ को देखने के बाद अत्यंत चिंतित नजर आ रहे डॉक्टर ने कहा इंफेकशन प्रतिशत के ऊपर शरीर में फैल चुका है । उसने कहा कितने दिन? चांडी ने लगभग रोते हुए पूछा कुछ घंटों की बात है । शुरुआत में कुछ सुधार दिखाई पडने के बाद इन की हालत में तेजी से गिरावट आई है । डॉक्टर ने सहानुभूतिपूर्वक कहा स्टैंडी के झगडे बेच गए । ऐसा लगा कि सत्र में में रह जान गया है हूँ । डॅाट में बदल रहा था और ये रात सदमे वा आखिरी क्षणों वाली होने जा रही थी । जिस व्यक्ति ने उसे ना प्यार दिया उसे उसने वह प्यार नहीं दिया जिसकी वह हकदार थीं । जिस व्यक्ति ने उसे चलना सिखाया उससे सादा हसना सिखाया । वो अपनी जिंदगी की जंग हारने जा रहा है । आंखों में आंसू भरकर और अभी भी अपने बेटे के लिए सबसे अच्छा होने की चाहत लिए हुए हैं चाहिए दुनिया कितना ही क्यों ना कहे कि वह अच्छी जगह गए है । वह उसे देख रही है और वह तो मैं खुश देखना चाहती थी । ये सब बकवास है । हम अपने आस पास के लोगों से ऐसे ही बकवास करते रहते हैं जब वे अपनी किसी नजदीकी व्यक्ति को खो बैठते हैं । और जब हमारे साथ ऐसा कुछ होता है तो हम इन बातों पर अविश्वास करने लगते हैं । मौत एक सच्चाई है था लेकिन उसने तो बस इतना ही चाहा था कि उसका सपना कुछ और लम्बा खींच जाए तो उसकी माँ कुछ और दिन जिंदा रहे । कल कैसा होगा यह सोचकर ही उसे डर लग रहा था । मैं पहले यहाँ क्यों नहीं आया? क्यों उसने उन फोन पर बात नहीं की है । अपने माता पिता के प्रति कुछ और संवेदनशील क्यों नहीं हो पाया? ये इस तरह क्यों खत्म हो रहा है? उसने अपने आंसू पहुंचे और माँ की ओर बढ गया । वो अपने आंसू छुपाने की पूरी कोशिश कर रहा था । किसी और वक्त पाई है काम आया होता लेकिन उसके तेजी से डाॅॅ कांपते हाथ जिनसे रहे उनके माथे पर हाँ फिर आ रहा था और ये समझते हुए की है । उन दोनों के साथ के आखिरी क्षण है । उसकी माँ समझ गई कि अवैध आ गया है और उन्हें जल्दी ही अपने बेटे को छोड कर जाना पडेगा । जब मैं अपने बेटे के लिए जिन्दा रहना चाहती थी तब उन्होंने संघर्ष किया, बहुत संघर्ष किया लेकिन अपने आखिरी क्षणों में उनकी हिम्मत तोडने लगी । क्या तुम कुछ बोल लेना नहीं चाहोगे? उसकी माँ ने बडी मुश्किल से ये शाम तक रहे । हाँ ये दुनिया बहुत कठोर है । फट्टों में परियो लेकिन मैं तुमसे ये नहीं कर पाया कि तुम्हारी जैसी माँ पाकर में कितना खुश हूँ । मुझे खुश रखने के लिए आपने कभी कभी आकाश पाताल कर दिया और फिर भी आप मुस्कुराती रही । मां ये दुनिया एक काला दिन है तो में जगमगाती रात की तरफ बढ रही है हूँ और मैं तो मैं नहीं बता सकता कि तुम्हारी जैसी माँ को पाकर कितना खुश हूँ । सब लोग कहते थे कि मैं बिल्कुल तुम्हारी तरह दिखता हूँ और मेरा दिल भी बहुत कुछ तुम्हारी तरह है । मैं जानता था कि वे बढा चढाकर बोल रहे हैं लेकिन यह मेरी जिंदगी का छोटा सा हिस्सा है जहां मैंने कभी असलियत को नहीं जाना चाहता हूँ हम हाँ, मेरे जीवन की सबसे सुंदर महिला ये हमेशा बनी रहने वाली ऐसी सच्चाई है जो नहीं तो जीवन के साथ शुरू होती है । नई वृत्तियों के साथ खत्म होती है । माँ की दुनिया एक नर्क हैं और आप स्वर्ग जा रही हैं लेकिन मैं आपको बता नहीं सकता मैं कितना खुश होता हूँ जब आप मुझे मेरे बचपन की बातें बताती थी । पर मैं आपको कभी छोडना नहीं चाहता था । ऍम आप मुझे छोड कर जा रही है और मैं चाहता हूँ कि आप हैं कि दुनिया कहीं ना कहीं खत्म होती है पर आप जल्दी वहाँ होंगी जहाँ देखेंगे कि पाता का इंतजार कर रहे हैं तो थी जिसमें आपको सबसे ज्यादा प्यार किया था । ये ऍम खत्म होने जा रही है और आप विजेता है जिंदगी का । आज ये दिन एक सुंदरराज के साथ खत्म होने जा रहा है । आप अंतरों में से एक होंगी जिनमें हर यार देखूंगा और छह ऍम समझ जाऊंगा । आप पूछे थे घर मुस्कुरा रही हैं तो आप इस दुनिया में अपनी आंखे बंद करेंगे और उन्हें एक बैठक दुनिया में जाकर खोलेंगे और जब आप यहाँ अपनी आखिरी सांस लेंगी ये जानी है की है तीन रहित आजादी के साथ होगी । आपको बहुत ठंड नहीं थी कि मैं अच्छा हूँ । किसी चिंता की अपनी खास आ कर लो । उसकी मानी अंततः हार हमसे अपनी आंखे बंद कर ली और फिर उनकी सांसे रोक नहीं । उसने अपनी मां उन सब चीजों से दूर जाते देखा जो उस की थी उन सब चीजों से जो इस दुनिया ने उसे दी थी और हर उस चीज से जैसे उसे अपना समझा था । हूँ इस दुनिया ने उसे देखकर स्वार्थ भाई मस्त गांधी और जब उसने चारों ओर नजर दौडाई तब उसने देखा की सेवाएं उसके वक्त किसी और के लिए नहीं रुका हूँ । उसकी माँ की सांसें थम चुकी थी और उसे अपने अंदर का तीर खानदान सुनाई पड रहा था और तभी उसे बगल की कमरे से खुशी से किसी के रोने की आवाज सुनाई पडी । जहाँ किसी ने नहीं आठ को जन्म दिया उस समय से समझ में आया कि यह जीवन रोधन टाइम चक्र हैं जो खुशी के आंसुओं से शुरू होता है और दुख के आंसुओं के साथ खत्म होता है । साडी के जीवन में शून्य पैदा हो गया था जैसे कोई और नहीं भर सकता था । लोग आते हैं और चले जाते हैं लेकिन ये उम्मीद का दामन कभी नहीं छोडते । हांडी अस्पताल की लॉबी में चुप चाप बैठा था और आपने से बात कर रहा था । शायद ये सब कह रहा था जब मैं उस समय नहीं दबाया था । शायद आपने आज शांत मन को शांत करने के लिए मैं अपने प्यार को शब्दों में अभिव्यक्त कर रहा था । अगर केवल एक सड के लिए मैं मान लो कि है आपका आखिरी दिन है तो मैं किसी बात को लेकर नहीं रहूंगा । मैं आपको गले से लगाऊंगा और मानूंगा की हमेशा के लिए सच है । मैं यह बात कहूंगा की हो सकता है कि मैं सबसे अच्छा बेटा नहीं हूँ लेकिन आप निश्चित रूप से सबसे अच्छी बात थी क्योंकि आपने हमेशा मुझे इतनी अच्छी तरह से समझा जितना कि मैं खुद भी अपने आप को नहीं समझ पाया । मैंने आपसे जो भी तर्क किए उनके लिए मैं आपसे माफी मांगता हूँ । हो सकता है कि उन तर्कों से आपको चोट पहुंची हूँ । मैं आपसे कहना चाहूंगा कि मैं अपनी उम्मीदों पर खडा नहीं होता सका लेकिन मैंने अपनी ओर से निश्चित रूप से पूरी कोशिश की थी । मैं आखिरी बार आपके पैर छू दूंगा और आपको गले से लगाऊंगा । ये गले से लगाना आप हमेशा याद रखेंगे । मैं आपसे कहूंगा की मदद हुई है क्योंकि आपको एक आंसू भी नहीं बनाना चाहिए । आपके लिए है तो सबसे अच्छा है और मैं भगवान से कहूंगा कि वे मेरी मार्क सिर्फ वही दें जो सबसे अच्छा हैं । उसमें काम कुछ भी नहीं । मैं आपको बताना चाहूंगा की मैं आपसे चाहे जितना भी झगडा करता था मुझे हमेशा पता होता था कि यहाँ सबसे अच्छी हैं और मैं कभी आपकी तरह अच्छा और संजीदा नहीं बन सकता । मैंने हमेशा आपकी तरह बनने की कोशिश की लेकिन बुरी तरह विफल हुआ । मैं आपसे कहना चाहूंगा कि आप मेरे जीवन का एकमात्र प्यार थीं, हैं और हमेशा रहेंगे और सम्भवता कोई भी मुझे कभी उस तरह है उतनी खुशी नहीं दे पाएगा जितनी आप नहीं दी है । मैं आपको बताता हूँ कि मैं अपना ध्यान नहीं रखता था क्योंकि मुझे पता था कि आप हमेशा मेरा ध्यान रखेंगे । मैं आपको बताना चाहूंगा की गई बार में भी वजह से नाराज हो जाये, करता था लेकिन हो बार बार अपना मोबाइल फोन देखता रहता था और जब तक आप मुझे गुड नाइट का संदेश नहीं भेज देती थी तब तक मैं होता नहीं था । बहुत से मामलों में विफल रहा हूँ । लेकिन मैंने कोशिश की सच में बहुत कोशिश की । अगर में एक्शन के लिए भी मालूम हूँ की ये आपका आखिरी दिन होगा तो आखिरी बार आपके गले से लिपट जाऊंगा और आपसे कुछ इंतजार करने को खाऊंगा क्योंकि मैंने एक सुंदर से कविता लिखी आपके लिए कि आप उसे वहाँ स्वर्ग में दिखा सकें और अपने नादान लेकिन अद्भुत बेटे पर गर्व कर सकें । अगर में एक्शन के लिए भी मान लू की ये आपका आखिरी दिन है तो मैं आपसे कहूंगा की एक ऐसी मुस्कान दीजिए जिसके सहारे में अपना पूरा जीवन बिता सकूँ और खुशी खुशी चाहिए बिना किसी अफसोस ।

Part 15

सप्ताहंत अरमान और सारा दोनों के लिए खुशियां लेकर आया क्योंकि उनके शो कैंब्रिज स्कॉलर ने सफलतापूर्वक अपने सौ एपिसोड पूरे कर लिए थे । इसका जश्न मनाने के लिए चैनल ने अंधेरी रात में डाल लिटिल विंडो नामक स्थान पर पार्टी दी थी । साढे ग्यारह बजे तक वे तैयार हुए । जब मैं बाहर निकले, सारा निश्चिंत थी कि वह साथ ही जाएंगे जबकि अरमान ऐसा नहीं चाहता था । हालांकि बाद मैं है इसपर रासी हो गया । अरमान ने सोचा कि इस से पहले कि बहुत देर हो जाए उसे सारा से अपने प्यार का इजहार कर देना चाहिए । पूरे दिन जब तब यही बात सोचता रहा, उसे पता था कि वे इस बारे में कुछ ज्यादा ही सोच रहा है । सहारा के लिए ये बस एक और पार्टी थी जबकि आरमान के लिए एक डेट थी । तुम बहुत अच्छे लग रहे । फरमान सारा ने मुस्कुराते हुए कहा अनुमान्य लंबी सांस लेकर कहा तो हमेशा की तरह सुन्दर लग रही हूँ । अरमान ड्राइव कर रहा था और सारा उस की ओर झुक गई और फिर मानवीय सोचते हुए हैं । उसकी और झुक गया की शायद है । उसे बाहों में भरना चाह रही है । लेकिन जैसी ने उसके दाएँ हो चुकी है तुरंत समाज किया कि वह साल में बोतल चाहती थी जो उसके ढाई हो रखी थी । अपने अनुमान पर उसे शर्मिंदगी महसूस हुई है । उस की ओर देख भी नहीं सका । उसने इस अजीब स्थिति का कुछ अनुमान लगा लिया तो नया भी जैसे देखा । आज पहुंची लडकियों की नजर दों पर पडेगी । उसने उसकी तारीफ करते हुए कहा शायद अरमान ने आंख मारते हुए लेकिन मैं उन्हें गुजर जाने दूंगा क्यूँ लडकियाँ तो में देखती हैं तब क्या तुम परेशानी होती है? उस ने कहा होती है कह रहे हैं ये तो बडी विचित्र बात है । अपने जितने लोगों को जानती हूँ उनमें से लगभग सभी को इस विचार मात्र से खुशी होती है । तो मैं ये जानकर खुशी होगी की मैं कोई आॅक्टा इंसान नहीं हूँ । अरमान ने गंभीरता से कहा क्या इसमें मुझे व्यंग कोई झलक दिखाई पडनी चाहिए? उसने पूछा लेकिन अरमान ने कोई जवाब नहीं दिया । क्या बात है अरमान तोहरा दिमाग में क्या चल रहे हैं बहुत सी बातें पार्टी के स्थान से कुछ दूर सहारा ने उसे कहा रोकने को कहा और उसने रोक दी । उसने कहा कि सामने वाले शीशे में देखा कि तनुज मावे की एक साथ पार्टी के स्थान की ओर जा रहे हैं और उनके साथ चैनल के कुछ और लोग भी हैं । अरमान बताओ मुझे क्या बात है । उसने कहा और अरमान के अजीव से व्यवहार के बावजूद है मुस्कुराई, कुछ नहीं । आयुष्मान चाहा बात हुई । मैं बाहर बार तुमसे कारण पूछ रही हूँ तो बार बार दोहराए जा रहा हूँ । कुछ नहीं कुछ नहीं । हमारे बीच पहले कभी तर्क वितर्क नहीं हुआ और मैं इसी तरह आई से बनाए रखना चाहती हूँ । मुझे समझ आ रहा है कि कोई बात है तो मैं परेशान कर रही है और तुम उसे बताना नहीं चाहते हो । चलो समझ लो कि हम बहुत अच्छे दोस्त हैं और तुम अपनी पार्ट मुझसे कहने में कोई हिचक नहीं महसूस करोगे । उसने कहा बडे आश्चर्य की बात थी । उसने सोचा भी नहीं था कि मैं इस तरह व्यवहार करेगा । आम तौर पर जैसे ही उसके बारे में सोचता था उसे अच्छा लगने लगता था । सहारा के साथ वक्त बिताते हुए उसके मन में कभी कभी आशंका भी आ जाती थी कि हो सकता है किसी दिन में अलग हो जाएँ । में हमेशा इसी तरह का था । आशावादी कम, निराशावादी ज्यादा । उसने उनकी बातचीत को मन ही मन दोहराया और उसे समझाया कि उसे सारा की जरूरत पहले से कहीं ज्यादा है । लेकिन अब वो सिर्फ इतना कर सकता था कि वह पार्टी खत्म होने का इंतजार करें और देखें उम्मीद करेगी मैं अच्छे मूड में हो ताकि वह अंतर रहा, अपने प्यार का इजहार कर सके जिसे करने का वही लंबे समय से इंतजार कर रहा है । अभी देखो कौन साथ आए हैं दिग्गज जिनके कारण टीआरपी बनी हुई है । विकी ने मुस्कराकर कहा अरमान को लोगों में चल रही चर्चा का पता चल चुका था लेकिन तुम दोनों यहां पार्टी स्थल से इतनी दूर क्या कर रहे हो? विकी ने पूछा सबका हम पार्किंग की जगह खोज रहे हैं और दूर से आज सब जगह भरी दिखाई पड रही है । अब तुम जब की पहले से बाहर हो तो क्या तुम कार पार्क करने में हमारी सहायता कर सकते हो? सहारा ने तेरी निधि खडी कारों की ओर इशारा करते हुए कहा हाँ हाँ जरूर विकी ने कहा और उनकी सहायता की । अरमान को विकी के साथ आज आने पर बुरा नहीं लगा लेकिन उसे जी की किए उनके साथ आ जाने के समय को लेकर तकलीफ हुई । वह सारा को अपनी भावनाओं के बारे में बताने ही वाला था क्योंकि सहारा उस समय बहुत अच्छे मूड में थी । एक भावुक व्यक्ति होने के नाते उसके लिए अपनी भावनाओं को काफी समय तक दबाकर रखना और उन्हें जाहिर न होने देना काफी कठिन था । इससे उसे लगता है कि वह अपनी भावनाएं व्यक्त करने में बहुत कमजोर है, जब की भावनाएँ उसकी सबसे अच्छी अभिव्यक्ति हो सकती नहीं । फिर पार्टी के स्थान पर पहुंचे जो खचाखच बडा नजर आ रहा था । शोक के मुख्य कलाकार विभिन्न मीडिया समूहों को इंटरव्यू दे रहे थे । कुछ दिन पहले शो के दोनों मुख्य कलाकारों कार्डिक और रोनिता के बीच संबंध टूट जाने की अफवाहें थीं । लगभग तीन साल तक उनमें प्रेम सम्बन्ध रहे । इससे पहले के एक सुपर एक शो में वो भी साथ थे और वहीं से उनमें प्रेम सम्बन्ध बने थे । उन पर से क्या में हटते ही आर्थिक और रोनिता एक दूसरे की ओर देखे बगैर वहाँ से चले गए तो ये अफवा नहीं थी । यह सच्चाई थी । कार्तिक आगे बढ गया और शो की निर्माता तो पाहो में भर लिया और दूर से दोनों के बदन एक नजर आ रहे थे । कार्तिक ने उसके गोले पर हाथ रखा और निर्माता ने आंख मार दी । तो ये भी अफवाह नहीं था । यह भी सच बात थी । सहारा और आरमान को बोल के अंदर से संगीत की तेज आवाज सुनाई पड रही थी । उन्होंने दिया फॅमिली और इससे पहले कि वह अपने खुशी का जश्न मनाएंगे । तनुज पीछे से वहां पहुंचा और सारा का पहले से लगा लिया मोडी और उसे गले लगा लिया । तनुज बहुत खुश नजर आ रहा था । सही बात तो यह है कि वह पहले कभी इतना खुश नहीं दिखाई पडा था । तुम मजे कर रहे हो । अनुज ने अरमान और सारा से तेज आवाज में पूछा । उसने इतनी तेज आवाज में पूछा कि ये हनी सिंह के बाहर में गाने से ज्यादा तकलीफ दे लगा । बहुत शोर है । अरमान ने पलट कर तेज आवाज में कहा अगर ठीक है मैं करो । पार्टियाँ शोर भरी होती है लेकिन शोर पार्टी नहीं होता । तनुज ने कहा और मुर्खों की तरह नहीं लगा । देखो कितनी अच्छी लाइन है । मुझे लगता है कि मैं भी लेखक बनता जा रहा हूँ । उसने कहा और बिल्कुल नशे में धुत लग रहा था । काश ये इतना आसान होता । अरमान ने सोचा और जैसे ही उसने सारा की तरफ नजर घुमाई, मैं समझ गई कि अरमान को यह बातचीत अच्छी नहीं लग रही है । सहारा नियों से इशारा किया की मैं परेशान ना हो । अरमान को सुनाई बढ रहा था की पीछे कहीं कोई महिला पूछ रही थी कि क्या उसे एक और बियर मिल सकती है? तब तक यही बात पूछती रही जब तक कि विकी ने ये नहीं कह दिया । ठीक है निशा तुम ले सकती हूँ । सच्चाई तो यह है कि अरमान को पार्टियाँ ही पसंद नहीं है । चालीस पैंतालीस साल के आसपास की महिलाएं छोटे छोटे कपडे पहनकर घूमती रहती हैं और जो भी उनके साथ डांस करता है उसे चुम लेती हैं । वहाँ व्यावसायिक जगत की जानी मानी महिलाएं होती हैं जिनके नितम्बों पर शराब से धुत्त लोग पांच फिरते रहते हैं । वहाँ जूनियर और इंटर्न होते हैं जो वहाँ चापलूसी करते दिखाई पड जाते हैं । चारों और बनावटी हो होते हैं । जब वो बुलाते हैं फोटो के लिए पोज देते हैं और मानते हैं कि वह चमक दमक से भरी जिंदगी जी रहे हैं । अनुज ने पूरी तरह नशे में धुत आवाज में संगीत रोकने को कहा ऍम चलाया है । अपने शोक कैमरे जिस कॉलर की पूरी टीम का शुक्रिया अदा करना चाहता हूँ । शो को इतना बढिया बनाने के लिए ऐसा शो अब तक किसी ने पेश नहीं किया यह शो टीआरपी चार्ट में हर जगह काफी ऊपर है और अगर मैं स्टेशन के हिस्से के तौर पर के काटने के लिए अपनी अद्भुत टीम को आमंत्रित नहीं करता हूँ तो ये गलत होगा । थ्री चॅूकि निशान और सारा आप के लिए आप लोग आइए और काटी सारा असमंजस में पड गई क्योंकि मनोज ने अरमान का नाम नहीं लिया था । रिकी और निशान कुत्ते की पहले की तरह दौडते हुए वहाँ पहुंच गए लेकिन सारा अपनी जगह से नहीं मिली । अरमान ने शो को पहले नंबर पर पहुंचाया था । बाकी लें । जहाँ तक रचनात्मकता की बात है तो कुछ भी नहीं किया था । सहारा ने अरमान का नाम जोडने के लिए तरुण को इशारा किया और उसे तुरंत समाज आ गया कि वह उसका नाम जोडना भूल गया है । अरमान को निराशा हुई लेकिन उसने चेहरे पर इस भाव को नहीं लाने दिया । मनोज ने अरमान का नाम भी लिया लेकिन भगवान ने वहाँ जाने से इंकार कर दिया । अपने चेहरे पर मुस्कान लिए उसने औरों से जश्न जारी रखने को कहा । सारा नी अरमान की ओर देखा और साथ आने को कहा । लेकिन निश्चित तौर पर पेनरोज के स्वर्ग में गलती का अहसास होने के कोई लक्षण नजर नहीं आ रहे थे तो मुझे यहाँ लाने को लेकर बहुत ज्यादा जगता दिखा रही हूँ । अरमान ने यह बात उसके कान में कहीं । उस समय ये लोग के काट रहे थे और उसके बाद नशे में धुत्त लोगों ने तालियां बजाकर अपनी खुशी का इजहार किया । शहर पाने के लिए व्यक्ति को दखल अंदाज होना पडता है और तुम जल्दी ही मुझसे ये सब सीख जाओगे । निशाने के काटा और अपने दोनों हाथों में केक लेकर अपने दोनों बॉस मनोज और विकी जिनकी वजह सबसे ज्यादा चापलूसी करती है उन्हें खिलाया संगीत फिर शुरू हो गया । पार्टी फिर शुरू हो गई और हर आदमी न केवल संगीत की धुन पर बल्कि शराब के नशे में भी नाचने लगा । धनुष ने धीमी रोशनी में रोनिता का हाथ पकडा, उसे अपने पास खींच लाया और भूखे कुत्ते की तरह उससे निपटने लगा । नए उसे चूमता रहा । बढाना की आस पास के सब लोग देख रहे थे लेकिन किसी में यह हिम्मत नहीं थी कि कोई उसे रोकता क्या? तो मैं अच्छा लग रहा है । उसने रोनिता से पूछा मैं सिर्फ मुस्कुरा गई लेकिन कोई जवाब नहीं दिया । उसने संगीत की तेज आवाज के बीच अपनी आवाज को और तेज करते हुए कहा, अरे बोलो तो ये मेरी जिंदगी का सबसे अच्छा समय है । उसने कहा पक्का हाँ । उसने जवाब दिया तनुज । जिस तरह उसके बदन पर अपना हाथ छह रहा था, उससे मैं असहज दिखाई पड रही थी । लेकिन उसने एक शब्द भी नहीं कहा बल्कि उसे चोटी चली गई । पार्टी के बाद चलो हम आसपास के किसी होटल में चलते हैं । कौन सा होटल? मैं नाम नहीं जानता लेकिन मैं वहाँ लोगों को जानता हूँ । मुझे आज जल्दी घर लौट नहीं । आज मेरी माँ का जन्मदिन है । एक नया शो आने वाला है । पर कोई बात नहीं । मैं किसी और से उसमें काम करने को कहूंगा । अच्छा फिल्माकर जन्मदिन इंतजार कर सकता है । एक ऐसा कमरा लेना जिसमें जकूजी हो उसका बिल चैनल के खर्च में जोड देना । उसने आंख मारते हुए कहा यह हुई ना? बाद मेरी बदचलन और अच्छा । अनुज ने कहा । अरमान ने सारा की आंखों में देखा और धीरे से मुस्कुरा दिया । मानव है । उसे ये बताना चाहता हूँ कि वह पार्टी का मजा ले रहा है । दूसरी ओर सारा को पता था कि आवार मान उसे क्या कहने वाला है । सारा ने सोचा कि है एकमात्र सवाल है जब अरमान की दिमाग में घूम रहा होगा और अगर मान के दिमाग में वही सवाल था क्या सारा के मन में वाकई उन लोगों के लिए गर्व की भावना है जिनके साथ में काम कर रही है? अरमान ने सोचा ये शो की सफलता का जश्न होना चाहिए था । वह पार्टी बिल्कुल बकवास हो गई । अरमान का सहारा को छोड कर बाकी सब अभिनेता, निर्देशक, निर्माता और चैनल के लोग पूरी तरह नशे में धुत लग रहे थे । तनुज लोगों पर शराब पीने के लिए बार बार दवाब डाल रहा था कि अचानक अपने खोल से बाहर निकल आया और शीला की जवानी भरो, मान, मेरी भरो और जलेबी बाई जैसे घटिया गानों पर फू हर तरीके से नाचने लगा । अरमान समलैंगिकों के खिलाफ नहीं था, लेकिन जिस तरह की नाच रहा था, बहुत ही भद्दा लग रहा था । हास्यापद लग रहा था । अशोक के जूनियर कलाकारों पर बाहर बार ढोलक जा रहा था और उनके पास नाचने के अलावा कोई विकल्प नहीं था । भारत के टेलीविजन शो में एक बहुत सीधा सा नियम है । अगर वह चैनल के लोगों से ढंग से पेश नहीं आती तो शो में उनके चरित्र को मार दिया जाता है । ये किसी भी कलाकार को ये कहने का आसान तरीका है कि वह दफा हो जाए । अचानक कहीं से तनो ज्वारों नेता प्रकट हुआ और अरमान मसाला कि शांतिपूर्ण टेबल बढा बैठे । विकी और निशान मिलकर नाच रहे थे और उन दोनों में से भी कि महिलाओं की तरह अधिक नजर आ रहा था । वे अपने आस पास के लोगों को अपना सीना दिखा रहा था और वहाँ कुछ कलाकार भी थे जो इसे रिकॉर्ड कर रहे थे । तुम सारा को देख रहा हूँ ना अनुज के मुंह से निकल आया । अरमान ने कुछ नहीं कहा बस मुस्करा दिया । मुझे लगता है कि तुम ने बहुत ज्यादा पि ऍफ । सारा ने कहा मुझे बताया है मुझे पता है लेकिन मैं खुश हूँ कि तुम यहाँ अच्छा समय बिता रही हूँ । अनुज ने कहा और अपना हाथ सारा के हाथ पर शक्तियां नहीं रोनिता नहीं हूँ । मैं सारा हूँ । आपने गलत हार पकडा है । तरज सारा ने कडी आवाज में कहा और उसकी आंखे भी चेतावनी दे रही थी । अरमान वहाँ से उठ खडा हुआ । मैं अपने लिए शराब लेने जा रहा हूँ तो मैं और चाहिए । सारा अरमान ने पूछा नहीं धन्यवाद मुझे जाना है । तुम अपनी आखिरी बियर पी लो उसके बाद में चली जाऊंगी । क्या तो मेरे लिए ड्रिंक ला सकते हो । अनुज निर्माण से पूछा हम दोनों के लिए भी एक एक हम और पीना चाहते हैं । विकी नहीं कहा । बिल्कुल निशाने जवाब दिया । सारा ने अनुमान को इशारा किया कि वह ड्रिंक डाला है । जरूर मैं आप लोगों के लिए बियर लाता हूँ । अरमान ने कहा और अपना बिहार का बडा गिलास लेकर वहां से चला गया । मैं हमेशा से इसी बात का इंतजार कर रहा था । अब उसका वक्त था कि उसने आज पांच झेला है । उसका हिसाब बराबर करते हैं । उसने जितने आप मान रहे थे सभी कर उसके दिमाग में हो गए । तनुज का शो की सफलता में उसे श्री नहीं देने से लेकर उसे वियर लाने को कहने तक सब चैनल के लोगों के साथ में लंबी बैठकें और बेकार की चर्चा अरमान ने उनके अहम की पूर्ति खेली है । अब तक जो कुछ भी किया है इन सब बातों का सही अनुपात या हो सकता है कि ज्यादा हिसाब चुकता करने का ये सही समय था । उसने बार से जब उठाया और देखा के शो का मुख्य अभिनेता क्या दिन में इसका दरवाजा गलती से खुला रह गया था । महिला निर्माता के साथ संभोग कर रहा है । वो यहाँ उनको उनके ही दवा का स्वास्थ्य खाने और एक साहसिक कार्य करने के लिए है । उसने भाई हम का दरवाजा एक हाथ से खोला और उसके दूसरे हाथ में जब था और जैसे ही अंदर गया हजार में पेशाब करने लगा । वारंटी बून तक पेशाब क्या नहीं बाहर आया तब जगह आधा भरा हुआ था । उसने तीन लास्ट इयर उसमें डाली । उसे लगा कि इसमें अभी भी जगह खाली है । इसीलिए उसने उसमें तो बेटियाँ अब ये सही कॉकटेल तैयार है । किसने टेबल पर रखा और सारा को इशारा किया कि नहीं । इसमें से नाले सहारा ने अपनी हंसी छुपाने की भरपूर कोशिश की । उसे कुछ कुछ नहीं चल रहा था, लेकिन अरमान पूरे होशोहवास में था । जब तक जब की अंतिम बोल तक खत्म नहीं हो गई, तब तक मैं वहाँ से नहीं गया । कुछ को स्वाद अलग लगा, कुछ को नंगे लगा, लेकिन अनुज और उन नेता को पसंद आया । उस रात उसने सब कुछ देखा और जब अपनी कार स्टार्ट की तब नवधा स्टार की सहारा ने तनोट से अरमान का नाम जोडने को कहकर उसका अहसान लिया और उसे ये पसंद नहीं आया था । अरमान के मन में कुछ सवाल थे जो वह साला से पूछना चाहता था और फिर कुछ ऐसी चीजें थीं जिन पर आज रात ही चर्चा करने की जरूरत थी । उसका देख ले । एक बार फिर तेजी से धडकने लगा ।

Part 16

सारा लगातार अपना फोन चेक किये जा रही थी । अनुमान इंतजार करता रहा, इंतजार करता रहा । साथ घर लौटते हुए उसे हास्यास्पद लगा की सारा ने कुछ नहीं कहा । जब है अपने फ्लैट पर पहुंचे अरमान ने सोचा कि वह अपनी बात तब तक नहीं कहेगा जब तक की वह शांत नहीं हो जाता हूँ और कार पार्क करने के बाद विकार से बाहर आ गया । उसने सारा के बाहर आने का भी इंतजार नहीं किया । अंतर रहा जब उसने फ्लैट का दरवाजा खोला तो सारा भी अंदर आ गई । सौरी मुझे पता है कि तुम मुझसे नाराज की हूँ । उसने बोला सच चेहरा बनाकर कहा । अरमान ने ये सोचते हुए साला की ओर देखा कि ऐसा बोला चेहरा बनाकर थे और प्यारी लगती है । अपना ध्यान बंटने से रोकने के लिए वह दूसरी ओर देखने लगा । कोई बात नहीं । उसने कहा आज रात पार्टी और दनुज का रुख देखने के बाद अरमान सोच रहा था कि आखिर सारा वहाँ क्या कर रही है । और ये बात काफी देर तक उसके दिमाग में घूमती रही । उस ने चाहा कि गए इस बारे में और नहीं सोचे । उसने अपने कमरे की तरफ कदम बढाया । मैं सोने जा रहा हूँ, बहुत किया हूँ । एक मिनट बाद अरमान ने अपने कपडे बना लिए और है तब भी निराश दिखाई पड रहा था । क्या हम यही सब दिमाग में लिए बैठे रहेंगे? सारा ने कहा निश्चित तौर पर कुछ लोगों को नहीं जो यह तक नहीं जानते की उन लोगों को कैसे श्री दिया जाए जिन्होंने शो को नंबर एक बनाने में अपनी जान लगा दी । अरमान ने कहा मैं मुझे फिर गलत कैसे था? मुझे इस उद्योग में काम करते हुए कई साल हो गए और मुझे अच्छे से अच्छे और खराब से खराब लोग मिले । लेकिन आज मुझे समझ आया कि मैंने तनु से ज्यादा चालाक कोई व्यक्ति नहीं देखा । वो ऐसा ही है लेकिन उसने ये जानबूझ कर नहीं किया था । बहुत बार मुझे ऐसा लगता है कि वह मुझे मेरा काम कुछ भी पसंद नहीं करता लेकिन ये बिलकुल काला था । मुझ पर अपने किसी भी पुराने कर्मचारी से अधिक विश्वास करता है । सारा ने कुछ सोचते हुए कहा अरमान ने भ्रम में अपनी नाक सिकोडी तो क्या कहना चाहती हूँ ये समझ में नहीं आ रहा है । मेरा विश्वास है कि उसने जानबूझकर मेरा नाम नहीं लिया था । ये तुम सोच रहे हो । मुझे पता है कि ये कुछ विचित्र हैं लेकिन तनुज देकर जानबूझ कर नहीं किया था । मैं उस तरह का बहुत नहीं है । सारा ने का मैंने देखा है कि वह किस तरह का बॉस है । उसने नया शो देने के बदले उसे अपने साथ सोने के लिए लगभग मजबूर किया । ये कास्टिंग काउच हैं । तुम्हारा बॉस तुम्हारे चैनल की तरफ से निर्णय कर रहा था और क्या वह इस तरह से नहीं करता है? अरमान ने कहा, इस बार उसकी आवाज कुछ तेज थी और उसके चेहरे पर विचित्र भाव गिर गए । सो नेता उसकी पूर्व प्रेमिका थी और इस तरह ही उसने इस उद्योग में अपनी जगह बनाई है । टेन उसने उसका लोगों से परिचय कराया और एक मैनेजमेंट ग्रेजुएट को अभिनेत्री बना दिया । और आज ये वही है जो नेता ने उसे धोखा दिया और मुख्य अभिनेता कार्तिक से संबंध बना लिए जो हर और अब से संबंध बनाता फिरता है । जब उसे समझाया कि इस संबंध से केवल कार्तिक को फायदा हुआ है और ये नुकसान में नहीं तो मैं भी शर्म की तरह तनुज के पास लौट आई । लेकिन तनुज तो शादीशुदा व्यक्ति है । हाँ, पिछले एक साल से और आप अपनी पत्नी को धोखा दे रहा है । फिर वैरोनिका से अलग कहा है । वो अपनी पत्नी से फॅर करता है । सारा नहीं धीरे से कहा ये बहुत मेरे समझ से परे हैं । उसे किसी भी हालत में ऐसा करने का हाथ नहीं है, ना ही तुम्हारा हाथ पकडने का । अरमान ने नाराज होते हो रही है । बात गई मैंने तुम्हारे सामने ही बात साफ कर दी थी । देखो हम यहाँ काम करने के लिए हैं । पर हम सबको पता है कि उस उद्योग में काला पक्ष भी है । हमें इस अंधेरे में ही रोशनी की तलाश करनी है और मुझे लगता है कि वही में कर रही हूँ तो भारी रोशनी की तलाश अनुज पर पूरी होती है । आयुष्मान ने पूछा तो बहुत ज्यादा सोच रहे हो । क्या ऐसा नहीं है? सहानी आजकल चाहते हुए कहा हो सकता है लेकिन तुम ने अब तक मेरे सवाल का जवाब नहीं दिया । उसने कहा और सारा कुछ अगले पलों तक कुछ नहीं बोलेंगे । क्या तुम जिन लोगों के साथ काम कर रही हो तो मैं उन पर गर्म है । अरमान ने और स्पष्ट तरीके से अपना सवाल रखा । मेहमान ऍन लोगों के साथ काम कर रही हूँ । मुझे उन पर गर्व नहीं है और मुझे इस की जरूरत ही नहीं है । मुझे लगता है कि तुम्हें भी अभी तक उन लोगो के साथ काम किया है । उन सब पर तो गर्म है लेकिन क्या उससे तुम सही या गलत हो गए? मुझे ऐसा नहीं लगता । मुझे इस बात को लेकर गर्व नहीं है कि मैं कौन हूँ । जिंदगी ने मेरी अपनी पहचान भी अनजान है । ये भी नहीं जानती कि मेरे माता पिता कौन थे । एक तरीके से अगर देखा जाए तो मैं अपनी को लेकर भी गर्व नहीं करती । लेकिन मैं इन सबको लेकर दुखी नहीं होती कि सब चीज हैं । मुझे आगे बढने से नहीं रोक थी और ही थी । हम हैं, विश्वास करो । ये बहुत अच्छा हैं । जब आप मूर्खों से घिरे होते हैं तो ये बहुत मजेदार होता है । मुझे अच्छा लगता है जब निशान मूर्खता भरी टिप्पणियां करती है । मुझे अच्छा लगता है जब भी की अपने शो का बॉस प्रमाणित करने की कोशिश करता है । इससे मुझे यह विश्वास हो जाता है कि जिन लोगों के साथ में काम कर रही हूँ मैं उनसे बेहतर हूँ और मेरे काम करते लेने का यही कारण है और मुझे कुछ भी उत्प्रेरित नहीं करता । मुझे पता है कि उस अंधेरे में भी मेरे पास उम्मीद की एक प्रखर किरण है । फिर क्या मैं जिस कॉलर्स मेरे पास तो हूँ । उसने कहा और सीधे अरमान की आंखों में झांका । तुम मेरे जीवन में प्यार, शांति हाथ से लेकर आए और मैं भगवान से इससे अधिक कुछ भी नहीं मांग कि हम जब भी बात करते हैं मैं अपनी भावनाएं अभिव्यक्त कर पाती हूँ तो पटाई क्यों? क्योंकि जब मुझे जरूरत होगी तब तुम सबसे संजीदा और सबसे वो व्यक्ति हो सकते हो तो मुझे हर दिन, हर घंटे पर हर शहर स्वीकार्य करते हो । तुम मेरा आकलन नहीं करते । जैसा मैंने सोचा था तुम्हारा प्यार उसे कहीं ज्यादा वास्तविक और ज्यादा सारगर्भित लगता हैं । अरमान कि आखिर चमक होती और बोलती रहीं । मुझे पता है कि हमारे पीछे लडाइयां होंगी जैसा कि हर किसी के पीछे होती है और इसकी वजह से हम कभी कभी ये भी सोचेंगे । अब हम ये संबंध नहीं बनाए रख सकते हैं । लेकिन मैं इस बात पर आश्वस्त हो कि हम उन झगडों को सुलझा लेंगे और हमारे संबंध पहले से कहीं अधिक मजबूत होकर उभरेंगे । मैं तुम्हें ये सब बताने के लिए किसी खास समय का इंतजार कर रही थी । ऍम मान ये है कि इन बातों को कहने के लिए आज असिस्टेंट तुम्हारे जन्मदिन से बेहतर कोई और दिन नहीं होगा । मैं हमारे अच्छे बुरे हर समय में तुम्हारे साथ रहना चाहती हूँ । सारा जब ये बातें कह रही थी उसकी आंखों में गहराई नजर आ रही थी । उसकी बातें और भी गहरी लग रही नहीं और ये हमेशा की तरह सुंदर लग रही थी । अनुस्थिति बडी बात है कि निर्माण की तरफ से भी कुछ सुनना चाह रही थी । अनुमान्य भी जो कुछ सुना उससे रहे, हाथ प्राप्त रह गया । जिस लडकी को है ना प्यार करता था । जिससे में आज रात अपने प्यार का इजहार करने वाला था उसमें परोक्ष रूप से उससे अपने प्यार की बात कह दी थी । क्या मैं अब तक अंदाजा था कि यह बात उसकी नजर में नहीं पडी थी । हरमान की नजर उस से मिली और है । उसके पास पहुंच गया विश्वास से भरा हुआ था और उसने सीधे उसकी आंखों में झांका है । बहुत हॉट लग रही थी और जब फरमान उसके होटों पर हाथ हिलाने लगा तो उसने आंखे बंद कर ली और समर्पण के लिए तैयार दिखाई । पड रही थी कि शराब का नया था या सच्चा प्यार । जिसे मैं इस मुकाम पर पहुंचे उन्हें नहीं पता लेकिन ये चाहे जो भी रहा हूँ । इससे निश्चित रूप से अरमान के दिमाग में आज रात एक बडा बोझ उतर जाएगा । सारा पसीने से तर थी इसी बंद था और उन्होंने पंखा चलाने तक की जहमत मोल नहीं थी । उसके माथे का पसीना उसके चेहरे पर मैं आया, ऍम बहकर उसके बदन तक चला गया । उसने धीरे से उसके बंधे वालों को खोल दिया है और फिर उसके नरम गुलाबी होठों पर अपनी होंगे या फिर आने लगा हूँ । बिल्कुल सम्मोहित नजर आ रही थी । उसने उसके प्यार से हॉट देखें और ये ऍम उसकी उंगलियों के सिरे जो नहीं लगा । उसने उसके अंदर की गर्माहट को महसूस किया । उसके बटन से बहते पसीने की गंध उसकी नाक में समा गयी । उसने हाथों से उसके होट मसल ने शुरू कर दी है और जैसे ही उसकी आंखों में और पाने की चाहत दिखाई पडी तो एक दूसरे के पास लेट गए । उसने उसके कंधे ठक पाए और उनमें हल्की हल्की मालिश करने लगा । उसने बडी आराम की । साथ ही मैं थकी हुई लेकिन सेक्सी लग रही थी । आनंद में अपनी आंखे बंद कर लेती थी । ऍसे और की चाहत होती तब वहाँ के खोल दी थी । उन दोनों के बीच किसी तरह का कोई पडता नहीं रह गया था । इस झाड में कुछ अलग बात थी । कुछ ऐसी बात जो उन्हें प्यार, खुशी और घनिष्ठा का एहसास करा रही थी । उसने उसके नेताओं वकास्कर पकाएंगे और उनके आकार को महसूस करने लगा और वह उससे निपट गई । अपने को और रोक नहीं सका । आरमान ने उसको जिस तरह देखा विशेष समझाने के लिए काफी था की वह उसके बारे में कैसा महसूस करता है । सब कुछ अवास्तविक लग रहा था । उसने उसके मदन की नमी को महसूस किया । उसे वहाँ जुमान जहाँ चूमने से उसे सबसे ज्यादा आनंद मिलता हूँ । एकदम बेदाग, झक सफेद और बिल्कुल पवित्र नजर आ रहा था । जैसे ही उसने उसके शरीर में अपने लिए जगह बनाई मैं तेरे साथ नहीं लगी । उसकी आंखें जो बिल्कुल नशीली लग रही थीं, बंद होती जा रही थी । उसकी धडकन तेज हो रही थी । बाहर जिस तरह उसके शरीर ने उसे अपना हिस्सा बनने की अनुमति दी थी उससे वह बहुत पवित्र लगा । मादक और मोहक क्रियाओं के बाद जब वह बिहार की चरम स्थिति पर पहुंचे उसके बाद भी नया फरमान को उतनी ही सुन्दर लगे कितनी की पहले लग रही थी । अरमान भी सारा को उतना ही सुंदर लगा जितना कि मैं हमेशा था । इससे मैं और आश्वस्त हो गए कि ये उनका महज आकर्षण नहीं था बल्कि है शायद वही प्यार था जिसकी उन्हें तलाश थी । उस रात जब सारा शांति से सो रही थी तब फरमान ने कुछ लिखने का निश्चय किया जिसे बाद में किसी दिन पढ का मैं उसका आनंद लेगा और दोनों के पहले पहले चम्मन की याद ताजा करेगा । आज हमने पहली बार एक दूसरे को चूमा और मैं कई कारणों से इसे कभी नहीं भूल सकता । पहले चुम्मन से पहले तक मेरे अंदर कोई उत्तेजना नहीं थी । हमारे पहले मम्मा ने जादू की तरह काम किया । क्या कम से कम मैं ऐसा सोचता हूँ । इससे पहले ऐसा कुछ भी नहीं था । ये बहुत ही खूबसूरत था । आप आपने पहले चम्मन का इंतजार करते हैं और ये बिल्कुल अनपेक्षित समय पर आपको मिलता है और आपको पूरी तरह अपने साथ बहा ले जाता है । तो आपने पहले चम्मन की छोटी से छोटी बात याद रखोगे तो मुझे खास एहसास को याद रख होगी । फोटो के अलग तरीके से मिलने को याद रखो तुम उसे कसकर बाहों में भर लेने को याद रखोगे तो वोटों का गैस वर्ष याद रख होगे और आंखे मूंदकर अपने को दूसरे को समर्पित घर देने से पहले पहली बार एक दूसरे की नजरों का मिलाना तो याद रखो है कि तुम्हारा हाथ कहाँ कहाँ तक पहुंचा था । तो मैं एक दूसरों की जीवों का एक दूसरे से निपटना याद रखो थे तुम याद रखो के उन आंखों का जो और चाहती थी तो मुंह लम्बे क्षणों को याद रखोगे तो अपनी भारी सांसों को और बाद में जो अजीब स्थिति पैदा हुई थी उससे ज्यादा होंगे तो इस की हर छोटी सी छोटी बात याद होगे । हमारे पहले चुमन की सबसे अच्छी बात ये थी कि हमारे चम्मन से ठीक पहले जब मुझे सारा की आंखों में प्यार दिखाई पडा और सोचा की उसने कुछ भी नहीं कहा । बाद में जाकर मुझे उसकी आंखों कि एक एक भाग भांग की माँ का आठ समझाया मैं सबसे अच्छा क्षण था तो मैंने अपने पहले चम्मन के लिए इतनी कडी मेहनत की और कोई दिल इस तरह कि बात इतनी आसानी से नहीं भूल सकता हूँ । हो सकता है कि तुम्हारा पहला चुंबन किसी बडी अजीब जगह हुआ हूँ । हो सकता है कि ये किसी सिनेमा हॉल में हुआ हूँ । किसी कैसे में तुम्हारे घर में तुम्हारे स्कूल में तुम्हारे कॉलेज में गाउन टाइप पर जाते हुए तुम्हारी कार में बरसात के झमझम गिरते पानी के दौरान फेयरवेल के दौरान हमारे स्कूल की छत पर करते हुए ट्रेन या बस की यात्रा में जब तुम किसी को बुला रही होगी । हो सकता है कि किसी वाक्य के बीच में क्या हो सकता है कि सैकडों लोगों के सामने हुआ हूँ । मेरा तो तर्क वितर्क के बाद हुआ । सच यह है कि है जिस अंदाज में हुआ हम उसे हमेशा याद रखेंगे और आपने पहले चम्मन के बारे में सोचते रहेंगे इससे बाहर बार याद करने में । हालांकि खुशी है, मैं तुम्हारे साथ हमेशा बनी रहेगी । उस पहले चम्मन के साथ हम एक दूसरे से बढ लगाए और जानता हूँ तो मैं ऐसा प्यार किसी और से कभी नहीं मिल पाएगा । सारा इतनी प्यारी यादव के लिए शुक्रिया ।

Part 17

सुबह छह बजे से कुछ पहले कम लगता है । अरमान उठा नहाया जिम जाने वाले, कपडे पहने और एक्सरसाइज करने के लिए जाने को तैयार हुआ । सारा तब भी सो रही थी । सारा को अपने पांच सोते देखकर से बात कर ही हुई और उसने सोचा में कितना खुशकिस्मत हूं । उसकी गर्दन और जंगलों में दर्द हो रहा था । बीतीरात जो कडी एक्सरसाइज की थी, ये उस की देन थी । उसने इतना वक्त निकाल लिया । ये उसके लिए आश्चर्य की बात थी । उसे हमेशा बिस्तर पर अपनी क्षमता को लेकर डर था । उसने बहुत डरा देने वाली सेक्स की कहानियाँ सुनी थी, जहाँ अधिकतर मामलों में पूरे ज्यादा देर तक टिक नहीं पाते ताकि उसके साथ की महिला भी उतना ही आनंद ले सकें और इससे उसे बहुत डर लगता था । उसने अपनी किस्मत को सराहा की उसका टर निराधार निकला । सुबह ठंड थी । उसने अपने दोनों हाथ रख दें, शरीर को गर्म किया और जल्द ही अपने जूते के सीटें बानने लगा । एक मिनट बाद सारा आई और कहा, क्या हमें समुद्र तट पर जॉगिंग के लिए सात नहीं जाना चाहिए? अरे तो उनके ही नहीं थी, इसलिए मैंने तुम्हें जगाना ठीक नहीं समझा । यह बात सुबह उठकर जॉकिंग पर जाने की हो तो मुझ पर इतनी दयामय दिखाया करो । सारा ने प्यार से कहा और उसके पास आकर उसके निकाल पर हल्का सा चम्मन दे दिया । सारा की रोज की दिनचर्या आश्चर्यजनक नहीं थी, लेकिन उसकी जो दिनचर्या है, मैं किसी को भी थका देने के लिए काफी है । डॉन लगाना, जिम करना, नाचना और बहुत ही नियंत्रित खानपान । केवल एक दिन इसमें चोट मिलती थी । यही कारण ढाकी में इतनी सुंदर दिखती थी । बिना मेहनत के इतना सुगठित ही नहीं मिल सकता । उसने अपना जीवन फिटनेस के लिए समर्पित कर दिया था । समझानी अनजाने उसने अनुमान को भी फिट रहने के प्रति सजक कर दिया था । सुबह डेढ तक सोना जब तब खाना खाना और उलटे सीधे काम करना । ये सब अरमान के लिए अजीत की बात हो गई थी । अरमान का मानना था की सारा की वजह से ही उसका जीवन सुव्यवस्थित हुआ है । सारा के साथ समय बिताने से अरमान निश्चित रूप से बेहतर व्यक्ति बन गया था । वह सुबह समुद्र तट पर टहल रहे थे । कल रात से कुछ काम बातचीत करते हुए लेकिन निश्चित तौर पर एक आचमन का आदान प्रदान करते हुए हैं । टहलने और जॉगिंग पूरी करने के बाद मैं कुछ समय तक एक बेंच पर बैठे । जब उसने ध्यान से देखा तब उसे समझाया कि आरमान उससे बहुत अधिक प्यार करने लगा है । हो सकता है कि वह इसलिए खुश हूँ कि उसके दिमाग में अभी भी कल रात की बातें घूम रही हूँ । अचानक बेचैनी महसूस करते हुए सारा दूसरी ओर कहीं देखने लगी । लेकिन उसने देखा कि अरमान लगातार उसे देख रहा है और इस बात का इंतजार कर रहा है कि वह बातचीत शुरू करें । अंतर रह जब टोपी दमघोटू लगने लगी तब मैं कुछ नजदीकी सरकाया, तुम ठीक हो सारा उसने पूछा हम उससे आंखें नहीं मिलाते हुए सारा ने कहा तुम आज बहुत ज्यादा खामोश हो फॅार ज्यादा नहीं बोलती हूँ । इससे पूरे दिन के लिए मेरी ऊर्जा बची रहती है । मैंने सुना है कि आपकी सुबह जिस तरह शुरू होती है आपका दिन उसी तरह गुजरता है । मुझे लगता है कि आज में अपने लिए एक ऐसा दिन चाहती हूँ जो शांतिपूर्ण हो और जिसमें मुझे ज्यादा बातचीत न करनी पडे । उसने कहा और बातचीत के लिए कोई गुंजाइश नहीं छोडी । अगले कुछ मिनटों तक किसी ने कुछ नहीं कहा । क्या पिछली रात की वजह से ऐसा है खरे? क्या तुम्हारी चुप्पी? क्या इसका कल रात से कुछ लेना देना है । कल रात तो में कैसा लगा? सबसे अच्छी में से एक । हाँ, वो शायद मेरे जीवन का सबसे अच्छा समय था । वो सिर्फ प्यार करने से कहीं ज्यादा था । मुझे लगा मैं परिपूर्ण हो गया और मैंने अपने जीवन में इससे पहले कभी भी खुशी महसूस नहीं की । आर गए निजी शरण तुम्हारे साथ बिताकर मुझे खुशी हुई । मुझे खुशी है कि हम रह कर पाए और मैं क्या और मैं फिर ऐसा अनुभव करना पसंद करूंगा । उसने कहा, और सहायम उसको रह गई तो मुस्कुरा क्यों रही हो? खर्च नहीं बताओ तो क्यों उसको राई तो मुझे जाना पसंद नहीं करोगे । मैं करुंगा पक्का बिल्कुल पक्का में मुस्कराई । क्योंकि जब मैंने अपने पिछले प्रेमी के साथ पहली बार प्यार का इजहार किया था तब उसके यही शब्द थे और उसने भी बिल्कुल ऐसा ही महसूस किया था । ऍम अरमान ने कहा, उसे बुरा लगा लेकिन उसने पूरी कोशिश की कि उसके चेहरे से ही है । पता नहीं चल पाया । कई बार में सोचता था कि क्या सारा के अपने प्रेमी से शारीरिक संबंध थे लेकिन हर बार है इसका उत्तर ढूंढ पाने से पहले ही इस पर सोचना छोड देता था । इसमें कुछ भी गलत नहीं था । लेकिन रहे इस बात को स्वीकार नहीं करना चाहता था कि सारा ने उससे पहले किसी और को अपना प्रेमी माना था क्या मैं तो हारे प्रेमी के बारे में याद दिला देता हूँ । हाँ, बहुत बार ये अच्छी बात है या बुरी अच्छा, ये मुझे याद दिला देता है कि क्या मेरे पास नहीं है क्या मतलब मेरा मतलब है कि तुम बिल्कुल उसकी तरह नहीं हूँ । लेकिन कुछ ऐसी बातें हैं जो बिल्कुल उसी की तरह है । मैं ऐसी इच्छा भी नहीं जाऊंगा । मुझे बिलकुल भी नहीं लगता कि मैं तुम्हारे प्रेमी की तरह हूँ । अरमान ने कहा तुम इतना निश्चित कैसे हो सकते हो? तुम तो उसे जानते तक नहीं । आपको चीजे ऐसी होती हैं जिनके बारे में आप हमेशा निश्चित रहते हैं । पहले ही हम कुछ लोगों से ना मिले हूँ । जब तुम ने मुझे पहली बार देखा था तब क्या तुम इस बात पर आश्वस्त थे कि हम मिलेंगे? मैं इस बात पर आश्वस्त था की मैं तुमसे महीना चाहूंगा और मेरे अंदर की आवाज ने मुझसे कहा था कि ये हमेशा के लिए हो सकता है । हमेशा के लिए बोलने के लिए ये बहुत अच्छी शब्द है लेकिन ये वादा निभाना बहुत कठिन है । हम सब हमेशा के लिए ही चाहते हैं । है ना हम सब हमेशा प्यार करते रहने की बातें करते हैं । हम सब चाहते हैं की कहानी हमेशा के लिए के स्वर पर खत्म हो और हम सब हमेशा के लिए योजनाएं बनाना चाहते हैं । हम सब नहीं करेंगे जब हम तीस बार कर जाएंगे । हम ये करेंगे जब हम चालीस पार कर जाएंगे । हम एक दूसरे की बाहों में बाहें डालकर मारेंगे हमेशा के लिए जुमले पर हम शायद सबसे अच्छी बातचीत कर सकते हैं और इससे तो मैं अच्छा भी लगेगा । लेकिन हो सकता है की तो ये समझ आज है कि हमेशा के लिए असल में उतनी दूर नहीं था जितना कि तुम्हें कल्पना की थी । हमेशा के लिए ये शब्द कभी कभी अस्थाई संतोष दिए जाते हैं और फिर जिंदगी भर का सोच जब है अपने दिल की बात कह रही थी तब आरमान को कुछ बेचैनी महसूस हुई । उसे ये समझने में एक्शन से भी कम समय लगा कि सारा के विचार बहुत कुछ उसके दिल में बसे डर से मिलते जुलते हैं । ये केवल रह नहीं था जो उसने कहा था । लेकिन जिस तरह उसने ये सब कहा हैं बहुत ही वास्तविक लगा, बहुत ही दर्द भरा लगा । उसे समझ आया कि उनके संबंध कितने गंभीर हो चुके हैं । कम से कम उसके लिए हमेशा के बारे में बात करना निश्चित तौर पर अच्छा है । और ये इतना भी खराब नहीं है जैसा कि समय लगता है । हमेशा आज से ही शुरू होता है क्योंकि दो लोग एक दूसरे को पसंद करते हैं और ये हमेशा अपने को पालेगा । अगर दोनों वैसे ही रहे हैं जैसे कि वह कभी थे । फरमान ने उससे कहा, काल्पनिक परिभाषा है, नाम बिल्कुल है । किसी ने कभी किसी चीज पर विश्वास किया होगा, आ रही हैं । आने वाली पीढियों के लिए एक परिभाषा बन गई । लोगों के लिए ये अच्छा है । जब छुट्टी से उन्हें बेचैनी होती है तब बातचीत के लिए उन्हें कुछ मिल जाता है । सारा ने करने झटकते हुए कहा, क्या इससे पहले तुम वे चयन थी? मैं छोटी बोलूंगी में थी । इसका मतलब है कि इसका पिछली रात से कुछ लेना देना था । इसका पिछली राज से कोई नाता नहीं है । ये काफी कुछ हम दोनों से जुडा हुआ है । अच्छी चीज बुरी चीज है । अरमान हमने पड गया । इस बात पर तय होता है कि कौन जवाब दे रहा है । तू क्या कहना चाह रही हो जैसे की बातचीत बीच में ही छोड देना । सही उत्तर नहीं देना क्यूँ इसमें क्या समस्या है क्योंकि मैं जानना चाहती हूँ कि तुम्हारे दिमाग में क्या चल रहा है । अभी मेरे दिमाग में एक साथ हजारों चीजें चल रही हैं और इसके एक प्रतिशत का भी इससे कोई लेना देना नहीं । उन में से केवल एक बहुत ही छोटा हिस्सा कुछ गलत सोच रहा होगा । अभी घर मेरे जीवन में कोई ऐसा हैं जिसके होने से मुझे खुशी हो रही है तो वह तुम हो कोई और नहीं । ये तुम्हारे खुश रहने के लिए भी पर्याप्त है । मुझे लगता है कि मैं अपनी पूरी जिंदगी इसके सहारे बता सकता हूँ । उस ने मुस्कुराते हुए कहा तो उसे लौटकर हमेशा पर आ गए हैं । उसने कहा और मुस्कुरा गई । मुझे लगता है कि यह मुझे परिभाषित करता है । फरमान ने कहा, इसके बाद फिर चुप्पी छा गई । हो सकता है कि बहुत बातें हो गई हूँ । यही है बातचीत अपने अंतिम बिंदु पर पहुंच गई हो । अरमान समुद्र की ओर लहरों की ओर उधर से आती हवाओं की ओर देखता रहा । मानव कुछ ऐसा देखने का इंतजार कर रहा हूँ । जब तक दुनिया में न देखा गया हो । कई बार में इसे पकडने में विफल रहा । कभी कभी उसने इसे अपना रहस्य बना लिया । इस बार उसने सिर्फ जाने दिया । हो सकता है कि उसने अपने को उस संभावना से हटा लिया हूँ जो वहाँ थीं । अचानक सारा पानी की तरफ दौड गई उससे खेलने के लिए और अरमान से उसके साथ आने को कहा । अरमान ने मना किया और वह बिना कुछ बोले पानी की तरफ पड गई । कभी कभी ये समझने की जरूरत होती है कि कोई व्यक्ति किसी को कितनी शिद्दत से अपने जीवन में चाहता है और सारा के लिए अरमान के मामले में तीव्र इच्छा नजर नहीं आ रही थी । सारा समुद्र तट पर पहुंचकर खुश नजर आ रही थी । अरमान ने चुप चाप सारा की फोटो खींचने के लिए अपना फोन निकाला और उसे कल रात आया । संदेश दिखाई पडा नहीं, नहीं नहीं उन्होंने बहुत पीरा के साथ संसार से विदा ली और उस दांत का एक हिस्सा अभी भी मेरे हीरो में बचा हुआ है । मुझे कभी किसी और चीज पर इससे अधिक अफसोस नहीं होगा । मैं हमेशा के लिए मेरी थी और कोई ऐसा नहीं था जब मुझे ढंग से समझ सकें । साडी का ये संदेश देखते ही अरमान का दिल तेजी से धडकने लगा । आपने असहाय और दुखी था । उसके दिमाग में तरह तरह के विचार आने लगे । अब जो कि मेरे लिए यहाँ कुछ भी नहीं बचा, मैं चल रही मुंबई वापस लौटूंगा । अरमान ने साडी का ये दूसरा संदेश पडा और मैं परेशान हो गया । व्यवहार भी परेशान हो उठा जब उसे ध्यान आया कि उसने साडी को अब तक सारा के बारे में नहीं बताया है । अक्सर हम अपनी जिंदगी में किसी ऐसे की तलाश करते हैं जो हमें समझ सकें । आप ऐसा कोई व्यक्ति जाते हैं जिससे आप की चीजों की व्याख्या करने की जरूरत नहीं होगी । यह जान करके पीने चिंता होती है कि वह समझ जाएंगे । ऐसे किसी व्यक्ति को खोज निकालना कठिन है । वास्तव में बहुत कठिन तुम चाहते हो कि कोई ऐसा हो जो ये समझे कि तुम हर मामले में बिल्कुल सही नहीं हूँ कि तुम्हारे मोडसिंह होते हैं कि तुम्हारा भी कोई और था । इससे आखिरी सांस तक दिमाग से निकाल फेंकना कठिन है । अपने अतीत को याद करते हुए तो मेट्रो में होंगे । तुमने भी कभी किसी से इतना प्यार किया होगा कि उसकी परछाई हमेशा तोहरे देखने पर रहेगी । तुम भी खुश होना चाहते हो लेकिन तो मैं ऐसा नहीं कर पा रहे हो । तुम उम्मीद करते हो कि तुम्हारे साथ चले बिना भी मैं तुम्हारी यात्रा को समझे । तुम भी कोई ऐसा चाहती हूँ जो जब तुम अपने पूर्व संबंध के बारे में बात करूँ या उससे एक दोस्त के तौर पर मिलना चाहूँगी तो तब आपत्ती नहीं करें । तुम भी वैसे ही बनना चाहते हो जैसे कि तुम कभी थे लेकिन तो वैसे हो नहीं पा रहे हो । हम सब ऐसे व्यक्ति चाहते हैं जो आपको समझने के लिए अपनी सीमा से आगे बढकर प्रयास करें । आप उस व्यक्ति को अपने दोस्तों से तलाशते हैं, अपनी प्रेमिका में या किसी अजनबी में भी । हम अपने जीवन में प्राय आह ऐसे व्यक्ति की तलाश करते हैं जिसमें ये सभी गुण होते हैं लेकिन अनजाने में आप जीवन भर उसकी अनदेखी करते रहते हैं । आप अपनी जिंदगी में इतने लंबे रहते हैं कि समझ नहीं पाते कि इसके पीछे कोई व्यक्ति है जो इंतजार करता रहता है की आपका ध्यान उसपर चाहिए क्योंकि वो सोचता है कि वह भी आपके जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है । ऐसा हिस्सा जिससे आप केवल व्यक्तिगत लाभ के लिए काट कर नहीं देख सकते हैं ।

Part 18

अरमान के किसी मीटिंग के लिए लगाना होने के बाद सारा भी क्या आपसे अपने ऑफिस रवाना हुई है? अरमान का ख्याल उसके दिमाग में आता रहा । मैं उससे अपने मौजूदा संबंध की स्थिति के बारे में सोचती रही । की बात है कि अरमान ने उससे उसके अतीत के बारे में ज्यादा कुछ नहीं पहुंचा चाहे इसकी कोई भी बच्चा हो । उसके दिमाग में यह बात आई कि हो सकता है मै उसके अतीत की अनदेखी करना चाहता हूँ । इसमें कोई शक नहीं कि उसका निश्चित रूप से अरमान के प्रति झुकाव था लेकिन उसके साथ होना जी था । उसने वास्तव में उसके साथ किसी तरह के प्रेम संबंधों के बारे में सोचा भी नहीं था । लेकिन आप मैं निश्चित तौर पर इसे उस नजर से देख रही थी । कल रात सबकुछ आवेश में हुआ लेकिन निश्चित तौर पर उसमें कहीं भावनाएं हुई थी । घर मान संभवता बहुत न कुत्ता चीनी करने वाला बॉयफ्रेंड नहीं था, में जरूरत से ज्यादा अपने हाथ चटाने वाला या उस पर नियंत्रण रखने वाला भी नहीं लगता था । और ऐसा लगता है कि यही बातें सारा को उसकी ओर और आकर्षित कर रही थी । पूरे दिन अरमान की ख्याल ही उसके दिमाग में आते रहे । उसके मन में सवाल उठ रहा था की अगर मान के प्रति उसकी भावनाएं या उसके प्रति अरमान की भावनाएँ क्या हमेशा ऐसे ही बनी रहेंगी । उसका पिछला प्रेम सम्बन्ध और उसकी परिणति उसे अरमान को अपनी जीवन में पूरी तरह स्वीकार करने से रोक नहीं थी । आमतौर पर बाद में अकेले नहीं रह जाती है । ये हिस्सा उसे तकलीफ देता था लेकिन उससे भी अधिक तकलीफ उसके सामने वाले व्यक्ति के भाग्य से होती थी । एकतरफावाद ए निश्चित रूप से बाद में स्थिति को और खराब कर देते हैं । क्या वे अगर मान के बारे में बहुत अधिक निष्कर्ष निकाल रही है, उसने अपने से पूछा, मैं उन चीजों के बारे में बात करना चाह रही थी जो हो रही थी लेकिन उसे पता था कि रहे इस बारे में चाहे कितनी बात करना होना चाहिए, इसके लिए मैं सही शब्द नहीं हो पाएगी । नहीं ऐसे बता पायेगी कि मैं उसे प्यार करती है लेकिन वादा करने से घबराती है क्योंकि उसे अलगाव से डर लगता है या जब अरमानों से देख रहा था और उसने उसे ताकते हुए पकड लिया तो उसे कितना अच्छा लगा था । यहाँ की जब प्यार करते हुए उन की सास है और शरीर एक हो गए थे । तब उसे कितना अच्छा लगा था कि उनके संभव के बाद भी फिर बातें करते रहना चाह रही थी । सारी बातें तो रोमांटिक बात है । मैं ये बातें नहीं बता पाएगी क्योंकि उनके संबंध कितने समय तक रहेंगे इसको लेकर मैं आश्वस्त नहीं है । उससे ये भी डर था कि उसे अकेला ही ना छोड दिया जाए है । इस बात की स्वीकृति चाहती थी कि इसमें कोई बात नहीं की उन्होंने इतनी जल्दी शारीरिक संबंध बना लिए । उसने अपनी क्या आपसे बाहर देखा । आकाश में काले काले बादल छाए हो गए थे । इस बार वर्ष बहुत सामान्य थी जो की बहुत आसामान्य बात थी । मुंबई कभी भी अपने मौसम से आपको चकित कर देती है । लिफ्ट बिल्कुल भरी हुई थी और अपने रोजमर्रा के अनुभव से उसे पता था कि अगली बार के लिए उसे और दस मिनट इंतजार करना पडेगा । इसलिए उसने सीढियों से ही जाने का निर्णय किया । इमारत के अंदर की गर्मी के कारण उसने अपनी फॅमिली नहीं रोज के मुकाबले एक घंटे देर से ऑफिस पहुंची । कर्मचारी देर तक आ रहे थे और उसकी नजर तुरंत तनुज की अहम निशा पर पडी जो कॉन्फ्रेंस रूम में मीटिंग कर रहे थे । एक मिनट से भी कम समय में सारा ने देखा कि तनुज और लेकिन उसे घोर रहे हैं । आम तौर पर ऐसी नजरों की परवाह नहीं करती । लेकिन अभी उसे उन नजरों में कुछ गंभीरता नजर आई । फॅस रूम में घुस गई सौरी मुझे कुछ हो गयी । कल देर रात की पार्टी खर्च रास्ते के ट्रैफिक की वजह से हमारे लिए यह सब कुछ मायने नहीं रखता । अनुज ने कहा, क्यों हम सब देर रात तक पार्टी कर रहे थे, यहाँ तक कि तुम्हारे और अरमान के जाने के बाद भी और हम भी मुंबई में ही रहते हैं । इसलिए मुंबई के ट्रैफिक के बारे में रोना बंद करो टेन । उसने कहा और सारा को समझ आ गया ये आज उस का दिन अच्छा नहीं जाने वाला । इसलिए मैं चुप हो गई । क्या हो रहा है? फॅसने पूछा । विकी और निशा सारा के जवाब का इंतजार कर रहे थे । मैं साफ साफ कह रहा हूँ इस कंपनी में कोई भी मेरे संदेश की अनदेखी नहीं करता । समझाया । अनुज ने कडे स्वर में कहा, लेकिन मैंने कभी अनदेखी नहीं की । मैंने निशा से कहा था कि तुम्हें फोन करके इस अत्यावश्यक बैठक की जानकारी दे दे । तुमने फोन उठाया मेरे पास निशा का कोई फोन ही नहीं आया । सारा ने सच्चाई बता दी । सर, आप चाहे तो मेरा फोन देख सकते हैं । मैंने से तीन बार फोन किया था, निशाने कहा और अपना फोन तनुष्का पकडा दिया । वजय दिख रहा है कि फोन किये गए थे । अनुज ने सारा को फोन दिखाते हुए कहा, खाकर में आपको फोन मिला हूँ और उसे तुरंत कार्ड तो भी का यही दिखाएगा कि फोन किया गया था । सारा ने अपना बचाव करते हुए कहा, तुमने मुझे कभी नहीं बताया कि तुम कानून की छात्रा हो । सारा कभी भी कानून की छात्रा नहीं रही । फिर इतनी दलीले क्यों कर रही हो? माफी मांग और आगे बढो तनुज ने चलाकर कहा कहा लोन की डिग्री भले ही ना हासिल की हो लेकिन जो भी डिग्री हासिल किए हैं वह मुझे बिना किसी गलती के माफी मांगना नहीं सिखाती । सारा ने पलट कर ऊंची आवाज में कहा इतनी चढाओ ये तुम्हारा ऑफिस है, तुम्हारा घर नहीं । जहाँ तुम अरमान के साथ रहती हो । वहाँ तुम जितना चाहो चला सकती हूँ लेकिन मेरे सामने नहीं । सारा ऍफ नहीं । गुस्से में जवाब दिया । उस झंड सारा बिल्कुल स्टाफ रह गई और उसे कुछ बोला नहीं गया । उसे नहीं पता था कि रहें और अरमान एक ही फ्लैट में रहते हैं । ये बात किसने बताई लेकिन निश्चित तौर पर इससे उसका मामला कमजोर हुआ । मेरा व्यक्ति का जीवन है और आप उस पर टिप्पणी करने वाले कोई नहीं होते हैं । क्या इस तरह तो मैं शो चला रही हो । उसे अपने घर का मामला बनाये ले रही हूँ । उसने पलट कर पूछा और इस तरह आप मुख्य महिला किरदार का चयन करते हैं । पहले उसके साथ होते हैं और फिर उसे नया शो दी थी । क्या आप उसके खराब अभिनय के पक्ष में कुछ कह पाएंगे? सारा ने बेहिचक पूछ लिया तो हमारे प्रति जवाबदेह नहीं हूँ तो मेरी बॉस नहीं हो । नए चैनल के लिए काम करता हूँ और बेहतर होगा कि तुम मेरे चरित्र पर उंगली मत उठाओ । टेन । उसने कहा । ठीक उसी तरह मैं भी उन व्यक्तिगत बातों को लेकर जवाब देने को बात ही नहीं जो आप यहाँ उठा रहे हैं । और मैं भी चैनल के लिए काम करती हूँ, व्यक्तिगत तौर पर आपके लिए नहीं । इसलिए बेहतर होगा कि बीरी अनुमति के बिना मुझे छोडने की कोशिश न करें जैसा कि कल आपने किया था । क्या कर लोगे तो ऍम नए तुम्हारे गाल पर करारा तमाचा मारूंगी और तुम्हें ऐसी जगह खींच कर लाख जमा हूँ कि कि तुम जो अपनी अभिनेत्रियों के साथ होते करते हो ना सब भूल जाओगे । तुम मुझे परेशान मत करो तो में उन कानूनों की अच्छी तरह जानकारी होगी जो महिलाओं को भरपूर सुरक्षा देते हैं । उनके कार्यस्थल पर भी सारा नी सीधे उसकी आंखों में देखकर यह बात कहती मैं तुम्हें ये कंपनी छोडने के लिए एक महीने का नोटिस देता हूँ । अनुज ने कहा तुम सिर्फ मेरे बॉस हो जिससे मैं काम के मामले में रिपोर्ट करूंगी । तुमने मुझे नौकरी पर नहीं रखा है । बेहतर होगा कि तुम उनसे लिखित में आदेश लेकर आओ और मैं चार प्रमुख हो । इस कक्ष में हुई थी कि बहस कि पूरी रिकॉर्डिंग दिखाती हूँ । सारा ने कहा और अंतिम बात मैं किसी की भी सात सौ या मैं किसी के साथ भी बैठक करूँ । जब तक मेरा शो तुम्हें रेटिंग दे रहा है तब तक तुम अपना भूल बंद रखो । उसने आक्रमक होते हुए कहा और उसके हाथ में जो नोन थी उससे दीवार पडते मारा । ऑफिस में हर एक को टन उनके कैबिन से गुस्से से भरी तेज तेज आवाजें सुनाई पड रही थी । कैबिन के शीर्ष कितने भी साउंड प्रूफ क्यों ना हो, ऍफ तो नहीं थे । हर कुछ थोडी आवाज तो बाहर तक आई नहीं जब बाहर आकर बैठ गई और अपने शांत होने का इंतजार करने लगी । हर आदमी उस की ओर देख रहा था । उसे सुनाई पड रहा था कि लोग तभी आवाज में उसके और तनुज के बारे में बात कर रहे थे और समझ नहीं पा रहे थे कि उसके दिमाग में क्या चल रहा है । उसने सोचा कि वह बडी सी बालकनी में जाकर थोडी देर पहले मैं तब भी नाराज दिखाई पड रही थी पर अपनी नाराजगी निकालने के लिए एक खाली कब उठाकर पटक दिया जो आम तौर पर उसके स्वभाव के विपरीत था । उसे अरमान से एक संदेश मिला जो एक बैठक खत्म कर कहीं दूसरी जगह किसी से मिलने जा रहा था । मैं तुम्हें बिहार करता हूँ मेरी कार्यकारी निर्माता उसने संदेश में लिखा तो प्यार के बारे में क्या जानते हो? मिस्टर अरमान उसने गुस्से में जवाब दिया, मैं प्यार के बारे में कुछ नहीं जानता हूँ । इस दुनिया में सिर्फ तुमसे बात करते रहना चाहता हूँ और फिर भी तुम से बात करने की चाहत बनी रहती है । में जाना चाहता हूँ कि तुम कहाँ खाना चाहोगी तुम्हारा देन कैसा रहा, क्या अच्छा रहा तो किस बात से परेशान हूँ । मैं तुमसे किसी भी बात पर बहस करना चाहूंगा । मैं तुम्हारी दलीलें सुनना चाहता हूँ तो मैं पता है कि पूरी तरह गलत होती हैं । मुझे पता है कि आसान नहीं है । मुझे पता है मैं सोचता हूँ कि अगर तुम्हें विश्वास है कि मैं तुम्हारे लिए बना हूँ तो मेरे लिए बनी हो तो बाकी हम सब सुलझा लेंगे । हाल फिलहाल मुझे पता है कि बहुत ही आवाजें मेरा ध्यान अपनी ओर खींचना चाहती हैं और कई बार तो ये हालत हो जाती है कि मैं अपनी आवाज तक नहीं सुन पाता तो मैं देखता हूँ । हाँ, जिस तरह तुम अपने बाल संभालती हूँ और मुझे देखकर जब मुस्कुराती हूँ मैं अपने होश होता हूँ । इस पर प्रतिक्रिया देना कठिन है क्योंकि मुझे पता है कि मैं हमेशा यही देखना चाहता हूँ और मन में इसे खोने का डर बना रहता है । अपने प्यार के बारे में कुछ नहीं जानता हूँ । मुझे नहीं पता लेकिन मुझे कुछ पाते पता है । मुझे पता है कि मैं अपनी हर लॉन्ग ड्राइव पर हमारे साथ ही जाना चाहता हूँ । मैं चाहता हूँ की जब भी में नशे में रहूँ था मेरे साथ नहीं हूँ । मैं चाहता हूँ की जब भी तुम परेशान ना हो मैं तुम्हारे साथ हूँ और मैं जीवन भर ज्यादा से ज्यादा वक्त तुम्हारे साथ बता सकूँ क्योंकि मैं प्यार के बारे में कुछ नहीं जानता हूँ और मुझे उम्मीद है कि तुम किसी दिन मुझे समझा होगी कि प्यार क्या होता है । अरमान का यह संदेश बढते हुए मुस्कुराई । एक मिनट बाद बालकनी में शांति से खडी थी और सोच रही थी कि ऑफिस में अभी जो बहस हुई उससे क्या है । आपा खो बैठी हैं इसमें कोई आश्चर्य नहीं लेकिन अरमान की छवि उसकी आंखों में उभरी हल्का सा मस्करा गई । पर इस बात पर आश्वस्त हो गई कि कम से कम कोई ये कैसा है जो उसके चेहरे पर उस समय भी मुस्कान ला सकता है जब वह सबसे ज्यादा खराब मूड में हो हैं ।

Part 19

लोगों से मिलने जुलने का सिलसिला खत्म कर अरमान घर पहुंचा और उसने देखा कि सारा तब तक घर नहीं लौटी है । उसने जल्दी से स्नान किया और अपने लिए शराब का एक बढा जाम बनाया । इसके बाद उसमें सारा का नंबर मिलाया । उसके खयाल सारा के इर्द गिर्द घूमने लगे । मैं हमेशा सोचता था कि सारा आपने अधिक के बारे में बात करने से कतराती है पर इसलिए उसने कभी उससे इस बारे में कुछ भी नहीं पूछा । उसे नहीं पता था कि इससे कैसे पेश आए और सोचता था कि क्या सारा के सत्यम से बहुत ही गहरे रिश्ते थे और उसके बाद उसे हालत से निपटने में काफी कठिनाई हुई । मैं सोचता था कि वह व्यक्ति कैसा था और उसने ऐसा क्या किया की सारा उसके बिहार में पड गई । उसने अपनी कल्पना में सत्यम की एक छवि बना रखी थी । लम्बा एटलेटिक और लचीला सारा की तरह पढाकू उसने सोचा कि जैसे ही मजाकिया किस्म का होगा वो अपनी कल्पना के घोडे चारों ओर दौडाने लगा और फेसबुक पर उसे तलाशना शुरू कर दिया । केवल सत्यम के नाम से मैं उसे ढूंढ नहीं पाया । अब उसने सारा के प्रोफाइल फोटो के जरिए उसे ढूंढना शुरू किया सारा ने आपका जितने भी लाइक किए थे उसने उन्हें तलाशना शुरू किया । पंद्रह मिनट की कडी मशक्कत के बाद उसे अन तथा सत्यम अरोडा नाम से एक प्रोफाइल मिला । उसके प्रोफाइल में इतनी कडी प्राइवेसी थी कि वह उसकी फोटो तक नहीं देख पाया । उसने देखा की रात के साढे दस बज गए थे और सारा अब तक घर नहीं लौटी है । उसमें साहब को फोन मिलाया लेकिन उसने फोन नहीं उठाया । उसने सारा को संदेश भेजा कि मैं जब भी उसका फोन देखें उसे तुरंत फोन करें । अरमान को से लेकर अक् चिंता हो रही थी । उसने सोचा कि इतने थकान भरे दिन के बाद क्या साडी अभी तक झगडा होगा । इसके अलावा उसे साडी को फोन करने में अजीब लग रहा था क्योंकि तब तक उसे समझ नहीं आ रहा था कि वह फोन करके उसे क्या बात करें । लेकिन साथ ही उसे ये भी पता था कि उसके लिए साडी से बात करना जरूरी है । इस समय से हर संभव सहारे की जरूरत है । अरमान ने उसका नंबर मिलाया हो । अरमान ने साडी के फोन उठाने पर कहा हूँ । साडी ने जवाब दिया उन कैसे हो भाई । पिछले कुछ दिनों के मुकाबले आज कुछ बेहतर महसूस कर रहा हूँ । मुझे पता था ये बहुत कठिन समय है । फरमान ने कहा ये इतना कठिन था की तुम उसकी कल्पना भी नहीं कर सकते । साडी ने लंबी सांस छोडते हुए कहा तो मैं ऐसा क्यों कह रहे हो? हनुमान ने पूछा और फिर साडी के पीछे से जोर जोर से रोने की आवाजें आती सुनाई पडीं । मुझे लगता है कि तुम नहीं आवाज सुनी होंगी । साडी नहीं कहा मैं तुम्हारे घर में चाय मातम का अंदाजा लगा पाता हूँ । काश ये माता मछली होता ये दुखिया दर्द से लडा नहीं है ये मेरी माँ की बहनों की आवाजें जब से बीमार थी तब एक बार भी है उसे देखने नहीं आई । अब अचानक ये सारा नाटक संपत्ति के लिए हो रहा है । किसी करीबी की मौत है । जहाँ लोगों को दुःख होता है वहीं मौका पैसा दोनों हाथों से मौके का फायदा उठाने की ताक में लग जाते हैं । उसने कहा और उसके बाद सौ फीसदी सही लग रही थी । ये तो बहुत बडी बात है । अब तुम क्या कर रहे हो? कुछ और दिन यहाँ होंगा । मुझे कुछ औपचारिकताएं पूरी करनी है । जैसे ही सब कुछ हो जाता है मैं मुंबई लौट आऊंगा । यहाँ के बिना कुछ भी नहीं था । मैं समझ पा रहा हूँ उसके जिंदा रहते मैंने बहुत से चीजों पर ध्यान ही नहीं दिया और मुझे हमेशा इस बात का सोच रहेगा । हाँ, मैं समझ पा रहा हूँ । अरमान ने धीरे से कम मैंने जो कुछ भी खोया है उसकी भरपाई में कभी नहीं कर पाऊंगा । मैं बस इतना चाहता हूँ कि मैं कुछ ऐसा करता हूँ कि किसी दिन मेरे माता पिता की आत्मा को शांति मिले । तुम जरूर ऐसा करवाओगे अरमान ने कहा और उसने देखा कि सारा का फोन आ रहा है ते उसे लगातार फोन किये जा रही है । एक बार उसके मन में आया कि वह फोन कांटें क्योंकि अभी जैसी स्थिति है ऐसे में परसेंडी से फोन काटने के लिए नहीं कह सकता । नहीं अभी अरमान से बात करना चाहता है । सैंडी को उसकी जरूरत है इसलिए उसने पूछा तुम्हारी मौसी का क्या हुआ? मैं बिलकुल देखा आ रहे हैं मेरी माँ और मेरा उनसे कोई रिश्ता नहीं था । पिछले कुछ सालों में हमारे बीच कुछ लाइनों से ज्यादा की बातचीत नहीं हुई है । अंतिम बार मेरी माने उनसे तब बात की थी जमाने किसी अत्यावश्यक परिवारे कारण से उन्हें फोन किया था । उन्होंने पूछा था फॅसे हो उन्हें यहाँ देखकर मेरा दम कटता है । मेरे मौसा वगैरा शराब आदि कुछ कुछ पीते हुए संपत्ति के बारे में चर्चा कर रहे हैं । उन लोगों को कुछ भी नहीं दूंगा । इसलिए नहीं कि मैं ये संपत्ति चाहता हूँ बल्कि इसलिए कि मेरी माँ कभी ऐसा नहीं चाहती थी । जब एक बार तुम यहाँ जाओगी तब सब ठीक हो जाएगा । ऍम कर रहा हूँ अपना ख्याल रखना । अरमान ने कहा उसका आधा ध्यान अभी भी सारा भर लगा हुआ था । ठीक है और मुझे अभी लौटने में कुछ समय लगेगा । अभी भी बहुत अजीब सा लग रहा है । जैसे ही मैंने उसे अपने कंधे पर उठाया, मुझे इस बात का एहसास हुआ कि अगर उसकी बीमारी के समय मैं उसके साथ होता हूँ तो मैं इस समय शायद उसे अपने गले लगा रहा होता है न की कंधे पर उस ने भराए । ओए डालने से कहा माता पिता के शव से भरी और कोई बोझ नहीं होता । ये वक्त भी गुजर जाएगा । समय सबसे बडा होता है । वक्त के साथ सभी घाव पाए जाते हैं । लेकिन इस बार आसान नहीं होगा । वही एक उम्मीद के साथ मारी है । अन्य एक अपराधबोध के साथ ही रहा हूँ । चांडी ने लगभग रोते हुए कहा, सारा आप लगातार आरमान को फोन कर रही थी । फॅमिली को फोन काटने को नहीं कह सकता था लेकिन वह सारा को लेकर भी बहुत चलता था । मुझे लगता है कि तुम अपने प्रति दे । वजह इतने कठोर हो रहे हो तो मैं काफी समय तक हालत का सही अंदाजा नहीं लगा । लेकिन तुम अपनी माँ के पास उस समय थे जब उसे इसकी सबसे ज्यादा जरूरत थी जब उन्होंने अपनी अंतिम सांस ली । अपने लिए स्थिति कठिन, मंदिरों हिम्मत रखो जैसे तुम ने अब तक रखी थी तब इस हिम्मत की तुम्हारी मार को जरूरत थी और याद तो मैं अपने लिए इस की जरूरत है । काश मैं तुम्हारी तरह अच्छा बेटा बन पाता । ऍम थी तो उन्हें हमेशा अपने माता पिता से काफी अच्छा नाता रखा है । साडी ने कहा और इस पर अरमान ने अपने आप से सवाल किया क्या मैं उनके लिए पर्याप्त कुछ कर रहा हूँ? सच बताऊँ तो नहीं । मुझे लगता है कि मुझे अभी भी काफी कुछ करना चाहिए ताकि बाज में मुझे तुम्हारी तरह पश्चाताप नहीं करना पडे है । मान ने कहा लेकिन तुरंत उसे यह समझ आ गया कि ऐसा कहकर वह तरह से साडी के अच्छे बेटे होने पर सवाल उठा रहा है साडी मुझे नहीं करना चाहिए था । मेरा मतलब वो नहीं था । सारी कहने की जरूरत नहीं है । इस सच्चाई है । ये ऐसा कुछ नहीं है जैसे स्वीकार करने में मुझे किसी तरह का कर्व में सोच रहा हूँ । मेरा मुझे जाना होगा । तुम से बात करके तनाव काफी खत्म हुआ । मेरे भाई जल्दी मुलाकात होगी । साडी ने कहा अपना ध्यान रखना । अरमान ने भी कहा ठीक है तुम भी अपना ध्यान रखना । अधिमान्य तुरंत सारा का फोन मिलाया लेकिन उसका मोबाइल से चौक जा रहा था । उसने सभी संदेश पढे थे लेकिन किसी काफी जवाब नहीं दिया था । अरमान चिंतित हो गया । उसने चाइना में भी फोन किया और वहाँ से उसे बताया गया कि वह जा चुकी है । अरमान और ऐसे किसी को नहीं जानता था जिससे मैं सारा के बारे में पूछ सकें । सामान्य उसके मुँह से कभी उसके दोस्त संबंधी या परीक्षित के बारे में नहीं सुना था । ज्यादा से ज्यादा नाॅक की को फोन कर सकता था । उसने सोचा कि तनुज को इतनी देर से फोन करना ठीक नहीं होगा इसलिए उसने देखी को फोन मिलाया । ऍम कैसे हो? हम औपचारिकता पूरी कर चुके हैं । अरब सीधे बताओ की क्या बात है । ठीक है, हाँ, सब ठीक है । मैं अगले सप्ताह के आसपास नए शो को लेकर मीटिंग करना चाहता था । अरमान ने कहा, और मैं खुद ही समझ नहीं पा रहा था कि वह क्या कह रहा है । फिर ये तो अच्छी बात है पर ऐसे क्या आफत आ गई थी तो मैं इसके लिए इतनी रात को फोन कर रहे हो? नहीं में सारा को फोन कर रहा था पर उसका फोन से चौक आ रहा है इसलिए मैंने सोचा की तो मैं बता दूँ । उसने कहा अच्छा । विकी ने कहा । और उसके बाद कुछ छडों तक किसी ने कुछ नहीं कहा । तो में आज सारा से कोई फोन वगैरह मिला है क्या? तो मैं ज्यादा पता होना चाहिए । अब तो तुम्हारी फ्लाइट में रहती है । विकी ने बिल्कुल महिलाओं की तरह कुछ बैंक के साथ पांच कहीं आईमान बिल्कुल ठाक रह गया । मेरा उससे संपर्क नहीं हो पा रहा है और व्याप्त घर नहीं पहुंची है । इसलिए मुझे चिंता हो रही है । उसके बारे में पता लगाने और कठिनाई काम करने के लिए तो भी शुक्रिया । विकी हनुमान ने कहा, अंतिम बार मैंने उसे तनुज के साथ देखा था लेकिन कहा किसी मीटिंग में या किसी काम में मुझे नहीं पता । आज सुबह उनमें बहुत लडाई हुई थी और मैंने बस दूर से उन्हें बात करते हुए देखा था । जी ठीक है शुक्रिया । अरमान ने कहा और फोन रख दिया । मैं पहले से ज्यादा चिंतित नजर आ रहा था । उसे पता था कि तनुज कैसा आदमी है और पिछली रात पार्टी में तनु जो कुछ कर रहा था वह भी उसने अपनी आंखों से देखा था । उस पर विश्वास नहीं किया जा सकता है । इसके अलावा विकी ने उसे बताया कि उनमें कोई लडाई ना तेरा हुई थी । उसके मन में बहुत ही बुरे बुरे खयाल आने लगे । उसने उसका सामान और उसकी गाडियाँ ढूंढ डाली । लेकिन दुर्भाग्य से कहीं किसी परिचित का कोई नंबर नहीं मिला । मैं उठ खडा हुआ अपने को शांत करने की कोशिश करता रहा और फिर दरवाजे से बाहर निकल गया । कार स्टार्ट करते हुए उसने फिर से सारा को फोन मिलाया लेकिन उसका मोबाइल बंद था । उसने तनुज को फोन किया लेकिन उसका मोबाइल भी स्विच ऑफ था । वो अपना सिर खुजलाने लगा । उसने उससे फोन पर संपर्क नहीं हो पाने से बहुत भी चैन महसूस कर रहा था । हालात ओवर खराब होती जा रही है । अरमान ने सोचा बेचैनी के मारे उसके पैर काम रहे थे और बुरे बुरे ख्याल उसके दिमाग में आ रहे थे । उसके वो उसे भी शक नहीं निकल रहा था । सारा की एक झलक पाने को इधर उधर घूम रहा था । वो अपने को जितना ही शांत और स्थिर करने की कोशिश कर रहा था उसकी हालत उतनी ही खराब होती जा रही थी । अरमान ने अपने दिल की आवाज सुनी और जो समुद्र तट की ओर अपनी कार बढा दी वही एकमात्र जगह थी जहां ऑफिस और घर के अलावा उसने सारा को देखा था । इससे पहले कभी रहे इतना चिंतित नहीं हुआ था । उसका सिर चकरा रहा था । उसके दिमाग में बोले बुरे खयाल आ रहे थे । उसने अपने सबसे बडे दुश्मन अपने दिमाग से बुरे बुरे ख्याल निकालने के लिए ट्रेनी ट्रंप भी नहीं लगा । उसने कल रात तनुज को जो नेता से व्यवहार घंटे देखा था और वहां बहुत ही अमानवीय था, उसके दिमाग में बहुत बुरे खयाला रहे थे । अगर तन उसने सारा के साथ वैसा ही किया होगा तो क्या होगा? अगर सारा सुरक्षित नहीं हुई तो क्या होगा? क्या होगा अगर सारा ने बी मन से ही सही तनुज के आगे आत्मसमर्पण कर दिया? क्या होगा अगर सारा बचने के लिए उससे संघर्ष करें और तरुण उसे कुछ नुकसान पहुंचा दे । उसका दिमाग जेट विमान की गति से दौड रहा था । सारे बुरे बुरे ख्याल उसके मन में आ रहे थे । जैसे ही है जुहू बीच पर पहुंचा । उसने कार पार की और बीच की ओर दौड गया । पुलिस लोगों को समुद्र तट से दूर कर रही थी क्योंकि ऊंची ऊंची लहरें उठ रही थीं और इन सब के बीच मैं सहारा की तलाश करता रहा हूँ । नहीं लगभग पंद्रह मिनट तक उसे तलाश करता रहा लेकिन मैं कहीं नहीं मिली । अंतिम विकल्प के तौर पर उसने वहाँ खडे एक दूसरे वाले से पूछा कि क्या उसने वहाँ पे उसे कहीं देखा है लेकिन उसने इंकार में सिर हिला दिया । उसे वहाँ केवल ग्राहक की तलाश से घूमती हुई कुछ थोडी वैश्याएं और कुछ ऐसे लोग जो घटिया रोमांच की उम्मीद में वहाँ जुटे हुए थे, दिखाई पडे हैं । एक वैश्या अरमान की ओर बढी लेकिन अरमान ने जिस तरह उसे देखा उसे देखते ही वह तुरंत बढकर चली गई । जब फरमान अपनी कार की तरफ बढ रहा था तब एक और वैशाली उम्मीद के साथ उसकी ओर देखा । उसका सिर अब तक चला रहा था और उसके सेल में तेज दर्द होने लगा जिसकी वजह कुछ और नहीं बल्कि सारा का अचानक लापता होना था । उसने बार बार सारा और ताज को फोन करने की कोशिश की लेकिन कोई सफलता हाथ नहीं लगी । उसने फिर अपनी कार घुमाई और कार में । हालांकि ऐसी बिल्कुल तेज था लेकिन वह बुरी तरह पसीने से लाजपत था तो बिल्कुल रोने के कधार पडा था । ऐसा लग रहा था किसी ने उसका दिल उसके शरीर से बाहर निकालकर उसे अपनी मुट्ठी में बंद कर लिया है । बिल्कुल असहाय महसूस कर रहा था और अपने को सजा देने के लिए उसने अपने को ही थप्पड मारने शुरू कर दिया । अरमान ने अपनी तार की स्पीड बढाई की तभी जुहू में कुछ पुलिसवालों ने उसकी कार रोक ली । लोग जांच कर रहे थे कि कोई शराब पीकर गाडी नहीं चला रहा है । एक पुलिस वाले ने अरमान को गाडी का शीशा करने का इशारा किया । उसे पता था कि वह बडी मुसीबत में फंसने जा रहा है । क्या नाम है तुम्हारा? जैसे ही उसने गाडी का शीशा नीचे क्या एक पुलिस वाले ने उसे सवाल किया अपना लाइसेन्स सिखाओ तो उसने पुलिस वाले नहीं कहा । कुरान मानने, उसे अपना लाइसेन्स और क्या अरमान । उसने कहा और शराब की गंध छुपाने के लिए उसने जानबूझ कर साथ अंदर खींची । क्या काम करते हो? मैं लेखक हूँ । उसने जवाब दिया तब तो तुम्हारे पास सुनने के लिए एक और कहानी होगी । पुलिस वालों ने कहा और हस्तियां बाहर आओ और ये एल्कोहल टेस्ट हो, उस तरफ अपनी गाडी खडी करो । एक दो स्टार अधिकारी ने धड आवाज में कहा अरमान ने जैसे ही अपनी कार किनारे खडी की पुलिस वालों ने उसकी गाडी की चाबी ले ली । इसमें सांस छोडो पुलिस वाले ने एक उपकरण उसके भूखे पांच लाते हुए हैं । उसकी सांसे शराब का पता लगाने के लिए कहा । मैंने शराब पी रखी है नहीं से पहले ही स्वीकार करता हूँ कृपया मुझे जाने दीजिए । अरमान ने आग्रह किया तो मैं पीने से पहले इस बारे में सोचना चाहिए था । पुलिस वाले ने कडक आवाज में गांव मैं पहले से ही बहुत मुसीबत में हूँ । करपिया समझने की कोशिश कीजिए, अपनी गाडी के कागज दिखाओ । पुलिस वाले ने कहा और अरमान ने उसे गाडी के कागज दिखा दिया । तुम्हारा नाम तो अरमान है और ये गाडी तो संदीप के नाम पर है । ये संदीप कौन हैं? हम एक ही फ्लैट में रहते हैं । क्या उसे पता है कि तुम शराब पीकर उसकी गाडी चला रहा हूँ । नहीं, मैं ऐसा दोस्त है जिसने तुम पर विश्वास किया । पुलिस वाले ने व्यंग से कहा अरमान चुप रहो । मेहमान चुप रहा हूँ तो उन्हें तीस हजार रुपये का चलान भरना होगा और हमारे साथ पुलिसथाने चलना होगा । पुलिस वाले ने कहा अनुमान्य उसके मैच पर लिखा उसका नाम पढ लिया । गायतोंडे साहब, कृपया मुझे जाने दीजिए । मैं तो मैं ऐसे ही कैसे जाने दे सकता हूँ । छह सौ से ऊपर सडक दुर्घटनाएं शराब पीकर गाडी चलाने से होती है । मुझे रसीद बनानी होगी । शहर प्यारा सीखना बनाए । मैं आपको तीन हजार रुपये दे दूंगा । कृपया मुझे जाने दें । अरमान ने फिर आग्रह किया इतने पैसों में कुछ भी नहीं होता है । ये तो उठ के मुंह में जीरे के बराबर है । पांच हजार ले लीजिए मैं पहले ही बहुत तनाव में हूँ । मेरे दोस्त हो गई है । तुम्हारी पीढी ने वैसा खो दिया जो तुम्हारे माता पिता ने तो मैं सिखाया था । पुलिस वाले ने अपने रसीद बुक में कुछ लिखने का दिखावा करते हुए कहा सर मेरे पास बस यही हैं, कृप्या मुझे जाने दीजिए । अरमान ने कहा और पांच हजार रुपये निकालकर पुलिस वाले के हाथ पर कर दिए । नहीं तो मैं जाने दे रहा हूँ क्योंकि तुम्हें देखकर लगता है कि तुम भले घर के लडके हो लेकिन अगली बार से ध्यान रखना पुलिस वाला खुश दिखाई पड रहा था और उसने पैसे लेने के बाद अरमान को उसका लाइसेंस गाडी की चाबी लौटा दी । सर, मुझे आपकी सहायता की जरूरत है । अरमान ने कहा मैं तुम्हारी और कोई सहायता नहीं कर सकता । निजी दोस्त हो गई हैं । मैं जरूर अपने दोस्तों के साथ पार्टी कर रहा होगा । सुबह होने तक उसका इंतजार करो । मैं नशे में धुत होकर घर लौटेगा । पुलिस वालों ने लापरवाही से कहा, मैं अपनी महिला दोस्त के बारे में बात कर रहा हूँ । उसे अंतिम बार अपने बॉस के साथ कसकर लडते हुए देखा गया था । उसका बॉस एक टेलीविजन चैनल का प्रमुख है । और भी लडकियों को धारावाहिकों में अभिनय का मौका देने के बदले उनके साथ शारीरिक संबंध बनाता है । मुझे डर है कि कहीं क्या अगर मेरी दोस्त से बलात्कार करने की कोशिश करता है और मैं कभी लौटकर नहीं आई तो अरमान ने काफी गंभीरता, चिंता और दर्द के साथ क्या बात कहीं ।

Part 20

पुलिस हालत अपनी मोटर साइकिल के पास पहुंचा और आपने बाढ में कुछ दस्तावेज रखें । अरमान ने जो कुछ कहा उसके बाद उसकी गतिविधियां कुछ तेज नजर आने लगी । गायतोंडे ने इससे पहले किसी को इस तरह बात करते नहीं सुना था । वेला पक्का निर्माण की कार में बैठा और उसे चलाने लगा । साडी मैंने शुरू में तुम पर विश्वास नहीं किया था । गोविन्द गायतोंडे ने कहा, अरमान ने आभार में से लाया । क्या तुम्हें लगता है कि तुम्हारी दोस्त किसी परेशानी में होगी? गायतोंडे ने अरमान से पूछा और भगवान ने पूरी बात उसे विस्तार से बता दी तो मैं उसका फोन उठाना चाहिए था । मुझे उन दोनों की फोटो चाहिए । गायतोंडे ने पूरी बात सुनने के बाद कहा और अरमान ने उसकी बात से सहमती जताई । मुझे दुख हो रहा है कि मैंने उसका फोन नहीं उठाया । ने अपने दोस्त का फोन नहीं काट सकता था । उसने अभी अभी अपनी माँ को खोया है । अरमान ने का हम कहाँ जा रहे हैं? अरमान ने पूछा और उसने देखा कि गायतोंडे सारा के लिए कुछ जरूरी फोन कर रहा है । समय बीतता जा रहा है और हमारी आशंकाओं के अनुसार मैं कुछ फोन करके सारा वाट अनुज के फोन की अंतिम लोकेशन का पता करने की कोशिश कर रहा हूँ । हाँ, हम कुछ होटल जा रहे हैं, होटल क्यों जा रहे हैं? आयुष्मान ने पूछा । हालांकि उसके मन में आते बुरे बुरे घायालों से उसका सिर चकराने लगा था । कुछ ऐसे होटल हैं जहाँ महिला को नशे में बेहोश करने के बाद आसानी से कमरा मिल जाता है । अगर तुम्हें पता हो तो तुम समझ रहे होगी कि मैं क्या कहना चाहता हूँ । गायतोंडे ने कहा और अरमान इस बारे में कुछ सोचना नहीं चाहता था । गायतोंडे की पत्नी लगातार फोन कर रही थी, लेकिन उसने बात नहीं । अपनी कमी, इसको ढीला करते हुए उसे उतारने के लिए उसने कमीज के बटन खोल दिया । एक मिनट को अरमान को बात समझ नहीं लेकिन फिर उसने देखा की गायतोंडे कमीज के नीचे आती बाहर वाली टीशर्ट पहने हुए हैं । और ये क्या है? उन होटलों वाली सडक पर जाने से पहले मुझे अपनी पहचान छिपानी होगी । ऐसा क्यों? अरमान ने पूछा और इस दौरान है । लगातार सारावाक अनुज के नंबरों पर फोन करता रहा । हम उन का पता लगाएंगे, एक आम आदमी के तौर पर पुलिस वाले की हैसियत से नहीं । ऐसे बहुत से इलाकों में पुलिस वालों को जाने ही नहीं दिया जाता । उसने कहा और उसके व्यक्तित्व से एक रोमांचक तलाश शुरू हो गई । इस बार ज्यादा केंद्रित और ज्यादा लक्ष्य तलाश पुलिस अधिकारी को पता था कि वे क्या चाहते हैं और रहे इस बारे में आश्वास्त था । इतना चिंतित होने के बाद अरमान ने सोचा कि कोई बात नहीं बता लगाने का तरीका चाहे जो भी हो उसकी सुरक्षा सबसे बडी जरूरत है । जैसे ही लगा कि उसके दिमाग में कुछ निराशावादी खयाल आ रहे हैं, उसने ये सोचते हुए उन्हें बता दिया कि वे हादसे पर हैं लेकिन वह अपने अंदर बैठे लडकों नहीं निकाल पा रहा था और इसके चलते उसके गले से कोई आवाज तक नहीं निकल पा रही थी और गायतोंडे जो कुछ भी कर रहा था उसे रहे चुप चाप देखता रहा । हाल के महीनों में उसकी सारी गतिविधियों का उद्देश्य सारा का दिल जीतना था और उसमें काफी हद तक मैं सफल भी हुआ था लेकिन आज रात में अपने प्यार के लिए लड रहा था । आज रात मैं सबसे खराब आशंका से नहीं पड रहा था जो सामने आ सकती है । पंद्रह मिनट तक कार से यात्रा करने के बाद गायतोंडे को अपने विभाग से फोन मिला और उसकी भूमि हल्की सी बन गई क्योंकि उसने फोन पर किसी को बात करते सुन लिया था । उसने अधिकतर बात मराठी में की और अरमान को कुछ भी समझ में नहीं आया । मैं चाहता था कि वे फोन जल्दी से जल्दी खत्म हूँ । वे आस पास के किसी बार रेस्ट्रो या सार्वजनिक स्थल पर नहीं दिखाई पडे हैं । गायतोंडे ने कहा, इसका क्या अर्थ है? आई मानने व्याकुल होकर पूछा, इसका कुछ भी हो सकता है । कुछ भी की कोई तो परिभाषा होगी । मुझे विश्वास है कि तुम जानते हो और अगर नहीं तो अच्छा है कि जब तक कोई सुराग नहीं मिल जाए तब तक कुछ मचानों आप मुझे और परेशान किए दे रहे हैं । आर मान्य असहाय की तरह कहा, मैं अपनी ड्यूटी में इस तरह का काम पसंद नहीं करता हूँ । उसने अपनी आवाज को अधिक से अधिक स्वाभाविक और शांत करते हुए कहा, मैं चिंतित और तनाव में हूँ । उस से कुछ नहीं होगा । आपको लगता है कि उसने उसके साथ कुछ गलत कर दिया होगा । क्या तुम्हारी आदत है? रहेगा? ऐसे अप्रिय सवाल करने की नहीं । असल में मैं खुद भी अभी बहुत तनाव में हूँ । जैसा कि मैंने कहा है, इस से कोई फायदा नहीं होगा तो मैं चुप रहने की जरूरत है क्योंकि मैं भी उतना चिंतित हो जितना कि तुम ऍसे । हताशा में ये बात कहीं आप क्यों चिंतित हो? आप के लिए तो ये महज एक और मामला है । मैंने अपनी बहन को गुंडों के हाथ होया है जिन्होंने दस साल पहले उसका बलात्कार करने के बाद उसकी हत्या कर दी थी । मैं उस समय काफी छोटा था, इतनी ताकत नहीं थे कि उनका मुकाबला कर पा था । उन्होंने मेरी आंखों के सामने उससे बलात्कार किया, उसकी हत्या की और उसका शव भी कर चले गए और तब नहीं कुछ भी नहीं कर सकता था । हर लडकी जिससे बलात्कार होता है जिसकी हत्या होती है या घरेलू हिंसा का शिकार होती है, मेरी बहन है और मैं हर उस आदमी को पीट पीट कर अधमरा कर दूंगा । सपने में भी ऐसा कुछ करने की पांच सोचेगा और तुम बेहतर होगा कि चुप रहो । क्योंकि जो महिला लाभ पता है उसे अब मैं अपनी बहन की तरह मान रहा हूँ और मेरा विश्वास करों की मैं भी उतना ही चिंतित हो जितना कि तुम हो, पुलिस वाले नहीं । एक साथ में ये सब के डाला । इससे अरमान को और तनाव हो गया । बॅाल आया पर चुप चाप सोचता रहा क्या क्या कहना चाहिए साडी आेमान नहीं कहा लेकिन गायतोंडे ने कोई जवाब नहीं दिया । क्या आपके पुलिस में भर्ती होने की यही वजह है? मेरे पास और कोई कारण ही नहीं था । उसने कहा और अपनी आंखों में आते आसूम को बखूबी रोक लिया लेकिन आप क्या ट्रैफिक पुलिस वाले नहीं हूँ? नहीं पुलिस पाल में हूँ और आज रात में वहाँ तो तीन चेकिंग पर गया था । गायतोंडे ने होटल वाली उस गली में घुसते हुए कहा जहाँ उन बडे बडे कारोबारियों और फिल्म उद्योग के जाने माने लोगों की गाडियां खडी थी जो यहाँ बेवफाई करते हुए अपने सेक्स की भूख मिटाने के लिए नवोदित अभिनेत्रियों या मॉडलों के साथ हम बिस्तर होने आते हैं । अरमान को वहाँ कुछ ऐसे चेहरे देखे जिनकी तरह बनने की उसके अंदर ख्वाहिश थी लेकिन है जिस तरह की लडकियों के साथ व्यवहार कर रहे थे उसे देखकर अरमान का दल पूरी तरह टूट गया । गायतोंडे ने कार रोकी और अरमान से वहाँ रुकने तथा घूम फिर कडी है । देखने को कहा कि वहाँ कहीं तरह की कार तो नहीं खडी है या कोई और सुराग हूँ । अरमान सडक पर चलता रहा और तनुज की कार की तलाश करता रहा लेकिन वहाँ से नहीं मिली । उसने रोनिता को एक फिल्म प्रोड्यूसर के साथ देखा । अनुमान यही है कि वह वहाँ वहीं करने आई थी जिसके लिए लोग वहाँ आते हैं । अरमान तुरंत वहाँ से हट गया । उसने जल्दी से सडक पार कर दूर तक नजर दौडाई और जो कुछ उसने वहाँ देखा मैं ठीक करने टन रह गया । उसने देखा की कोई कार से उतर रहा है और उसके साथ कोई महिला है । फॅालो लग रहा था और वह महिला बेहद खूबसूरत थी । उसे शक हुआ कि रेजर देख रहा है क्या सही है । उसने मन ही मन चाहा कि उसकी आंखों ने गलत देखा हूँ । मारेगी कुछ भी हो । मैं परिचित आवाज धीरे धीरे बात कर रही थी जो उसके कानों में पढ रही थी । बेहद चकित रह गया तो उन दोनों को देखता रहा और उसका मन कर रहा था की वहाँ जाए और उन से बात करें । लेकिन उसे हिचक महसूस हुई । हाँ नहीं, नहीं खडा रहा हूँ । उसकी टांगे काम रही थी । उसे पता था कि वह इस घटना को कभी नहीं भूल सकता और मन ही मन हो रहा था । आपने परेशान भी था और बेचैन भी था तो सरकार की ओर लौट आया और गायतोंडे से मिला । आप लोग यहाँ नहीं है । कोई सुराग मिला । गायतोंडे ने पूछा, नहीं मुझे कुछ भी नहीं मिला । अरमान ने कुछ हिचके चाहते हुए कहा और टाॅक संदेश मिला । ध्यान उनकी लोकेशन का पता नहीं लगा पाए, लेकिन अंतिम बार उनकी लोकेशन बांद्रा में पाई गई है । उसने अरमान को बताया, देखो हो इस बात की काफी अधिक संभावना है कि वे आज आज वापस आ जाएंगे । हो सकता है कि हम लोग कुछ ज्यादा ही सोच रही हूँ, लेकिन मैं अपनी जांच जारी रखूंगा और जैसे ही मुझे कुछ पता चलेगा मैं तो मैं बताऊंगा । उसने कहा ठीक हैं, क्या एफआईआर करने की जरूरत है? अरमान ने पूछा, नहीं, सुबह से पहले इस की कोई जरूरत नहीं है । बिना एफआईआर के ही हम सब कुछ कर रहे हैं । बेहतर होगा कि तुम घर जाओ और मैं अपनी ड्यूटी पर लौटा हूँ । गायतोंडे ने कहा और उन्होंने अपने नंबरों का आदान प्रदान किया । चिंता मत करो, मैं वापस आ जाएगी । हमने उसे हर बदनाम गली को चैनल थोडा और अब तक वहाँ नहीं मिली है और अगर वह वहाँ नहीं है तो इसका अर्थ है कि वह सुरक्षित है । उसने कहा, काश ऐसा ही हो । मैं भी ऐसी ही उम्मीद करता हूँ । मुझे तो रोज का फोन नंबर बता दो । मैं यहाँ भी पता लगाने की कोशिश करता हूँ कि कहीं इस सामने उसका हाथों नहीं शुक्रिया । अरमान ने कहा और गायतोंडे कुछ संदेश में तनुज का नाम, पता व फोन नंबर भेज दिया । इसके बाद गायतोंडे ने उसे पांच हजार रुपए वापस कर दिया, जो उसने शराब पीकर गाडी चलाने के कारण से वसूले थे । फरमान ने उसे एक औपचारिक मुस्कान दी । अरमान फिर समुद्र तट पर लौट आया । ऍम समुद्र तट पर टहल रहा था । उसे पता था कि आज रात में सो नहीं पाएगा । उसे सारा की याद सताने लगी । उसे उन का मेरे साथ चलना । सारा की मुस्कुराहट उसे नहीं उमंग दे जाती थी । सब याद आने लगी । उसे एक नए शो के लिए । नमूने के तौर पर आज एक एपिसोड की पटकथा भेजने को कहा गया था । लेकिन पिछले छह घंटों से वजन हालत से गुजर रहा था । ऐसे में काम की बात तो उसके दिमाग में रहे ही नहीं । कभी कभी जिंदगी भी हमारे साथ अच्छी खेल खेलती हैं । पच्चीस व्यक्ति से हमारी सोच की शुरुआत और अंत दोनों होते हैं । वही हमारी खुशी या कम का एकमात्र कारण बन जाता है । वो अपने को जितना मजबूत समझता था मैं उससे कई ज्यादा मजबूत है । सामान्य स्थिति में लौटने के लिए कोई कारण चाहता था और उसे मैं सारा के एक संदेश के रूप में मिल गया । प्याज मुझे वास्तव में बहुत अफसोस है । मेरे फोन बंद हो गया था और मैं भूल गई थी कि मेरे पास पावर बैंक है । तुम जरूर मुझे बार बार फोर करने की कोशिश कर रहे होगे । अच्छा मैंने फोन किया था । तब तुम किसी और से फोन पर बात कर रहे थे तो मैं जरूर चिंता हो रही होगी । अगले एक घंटे में मैं घर पहुंचा होंगी । तब महत्व में सब बताउंगी । अभी मैं अनुज के साथ हूँ । उसके साथ डिनर ले रही हूँ तो मैं बहुत सारी बाते बतानी है । घर पहुंचकर बताती हूँ मिलते हैं । सारा का संदेश पडने के बाद अरमान ने राहत की सांस ली । उसे पढने के बाद में मुस्कुराया । लेकिन जब मैं मुस्कुराया तब उसके चेहरे पर तनाव भी था । जब गढा होगी तब मुझे भी तुम को बहुत कुछ बताना है लेते हैं । फरमान ने जवाब दिया । अरमान ने गायतोंडे को फोन किया और उसे ताजा स्थिति बता दी । वो भी काफी राहत में लग रहा था । पिछले कुछ घंटों में उसने जितनी सहायता की थी उसके लिए अरमान ने उसका शुक्रिया अदा किया । इसके बावजूद अरमान ने रात को सडक पर जो देखा था उसी ने बोल नहीं पा रहा था क्योंकि ने साफ देखने के बाद उसका जीवन रुक सा गया था । मैं अपने दिमाग से वह बात निकाल ही नहीं पा रहा था और अपने को ठगा हुआ टूटा और साथ ही दुखी अगर हम हम इतने ही उस कर रहा था ।

Part 21

उसी दिन रात दस बजे के कुछ देर बाद का मस्त होगा । सारा फिर रिसोर्ट देखने में व्यस्त थी, जो अगले सप्ताह टेलीकास्ट होना था । उसने केबिन के दरवाजे पर किसी को दस तक देते हुये सुना । उसने सोचा आप तक सब लोग घर जा चुके होंगे और ऍम खत्म होने पर चली जाएगी । रिसोर्ट में उसके हिस्से के अंश बहुत हो जाएगा । विक्की या नेशा किसी ने भी नहीं दिखाना चाहा था । दरवाजे, बर्तन उच्चता । सारा ने चारों वो नजर दौडाई और उसने देखा की देखी जा रहा है । दस इतनी दूर तक देख सकती थी उसने उतनी दूर तक देखने की कोशिश की । लेकिन पूरे ऑफिस में उसके और तनुज के अलावा और कोई नहीं था । वो अपना बैठे हुए था । अंदर आया टेबल पर अपना दाढ रखने के बाद टेबल पर रखी सारा की बोतल की तरफ बढ गया । सारा ने देखा कि वह बोतल का पूरा पानी हो गया । सारा को अचानक वहाँ से हट जाने की जरूरत महसूस हुई और मैं वहाँ से चली गई । उसने देखा कि ऑफिस में और कोई नहीं है । फिर भी उसने रिसेप्शन पर फोन मिलाया । किसी ने फोन नहीं उठाया । उसने यह देखने के लिए नजर उठाई की कैमरे काम कर रहे हैं या नहीं । हमेशा की तरह उनमें से लालबत्ती नहीं चमक रही थी, काम नहीं कर रहे थे । अनुज ने अपने बैग से कैंटीन का चाकू निकाला । धरोच को उसने जितना सोचा था मैं उससे कहीं ज्यादा खराब लग रहा था । उसे अपनी तरफ से आते हुए कदमों की आवाज नहीं थी । वो आवाज तेज और काफी स्पष्ट थी और अचानक ठंडे कमरे में भी उसे पसीना आ गया । नई इंतजार कर रही थी कि तनुज कुछ बोलेगा लेकिन उसने कुछ नहीं कहा । कदमों की आवाज अब और तेज वह स्पष्ट सुनाई पडने लगी और उसके साथ ही एक चेहरा दिखाई पडा । वो ऑफिस का गांठना जो सारा के कैबिन की तरफ आ रहा था और जैसे ही उसने दरवाजे पर दस्तक दी सारा भागने के लिए उठ खडी हुई । लेकिन बीच में ही रुक गई जब उसने देखा कि वह बास्किन रॉबिन्स का केक देने आया । तनुज के चेहरे पर बच्चों जैसी मुस्कानों बनाई । गार्ड ने उन्हें कुछ लेते भी थी । छडा को चाकू चाहिए । गार्ड ने पूछा जब तनुज ने उसे पचास रुपए का नोट पकडाया । मैं पहले से ही कैंटीन से पहले आया हूँ । शुक्रिया तब उसने कहा कि क्या है । सारा ने पूछा या निश्चित तौर पर ऐसा कुछ नहीं है जैसा मैं तुम्हारी हत्या कर दो या तुम से बलात्कार कर सकूँ तो उसने जवाब दिया और जोर से हंस पडा तो मुझे बहुत डरा दिया था मुझे तुम मेरे साथ ऐसा क्यों किया? सारा ने राहत की सांस लेते हुए का क्योंकि मुझे समझ आ गया था की मैं गलत हूँ और मुझे तुमसे माफी मांगनी चाहिए थी । अगर तुम्हारे माफी मांगने का यही तरीका है तो तुम ने आज जो कुछ कहा और आगे भी जो कुछ तुम का होगे उन सब के लिए मैं तुम्हें माफ कर दूंगी । लेकिन आइंदा कभी भी इस तरह मुझसे माफी मत मानना । सारा ने कहा और जोर जोर से हंसने लगी । ये मेरे साडी कहने का तरीका है । मुझे पक्का विश्वास है कि तुम अपने स्कूल के किसी नाटक में जरूर बलात्कारी की भूमिका निभाई होगी है । ये कैसी तारीख है? सारा नी केवल अपने कंधे चटक दी है । सोचने की एक निकाला मैं अन्ना नाज्का के था । सारा का पसंदीदा उस पर कुछ लिखा था जिस से बढकर सारा का दिल पिघल गया । आयम सारी सारा सारा ने के पर लिखा हुआ संदेश पडा । सारा को उसके कहने के लहजे में ईमानदारी दिखाई पडी । आज मुझे ऐसा नहीं कहना चाहिए था । मेरा ऐसा कोई इरादा नहीं था । बाद में मुझे समझ आया कि मैं और उनकी बातों में आ गया था । चाहे कितना खराब, क्यों ना हूँ में आगे से अपनी जिंदगी में कभी भी तुम्हें यहाँ किसी और को इस तरह अपमानित नहीं करूंगा । नहीं गलती की है मुझे तुम पर चलाना या ऐसा बातें नहीं कहनी चाहिए थी । मैं रोज इन लोगों से मिलता हूँ । उनमें केवल कुछ गिने चुने प्रतिभावन लोग हैं और मैं चापलूसों से इस कदर गिरा हुआ हूँ कि मैं उन लोगों की इज्जत करना भूल गया था जब वास्तव में छह लोग हैं । अगली बार अगर में ऐसा करूँ तो मुझे चांटा मार देना । सारा आश्चर्य से उसे देखने लगी और उसने बिना उसकी और देखे तुरंत थोडा जब तक कोई आस पास ना हो, सारा उसके इस व्यवहार से नरम पड गई । मैं उठी और उसे कैसे लगा लिया । वे अपने किए पर शर्मिंदा दिखाई पड रहा था तो एक अपराधी की तरह अपनी गलती स्वीकार कर रहा था । इसके बाद उन्होंने केक काटा और उसे खाया था । तुम पर मेरा विश्वास बनाये रखने के लिए शुक्रिया । तनुज । आज तो बिल्कुल किसी शैतान की तरह लग रहे थे । मैं तुम्हारी उस छवि को स्वीकार नहीं कर भरी थी । इस ऑफिस में तुम ही मेरी एकमात्र उम्मीद हूँ । उसने कहा और मुस्कुरा गई और वैरी उसे लेकर मुस्कुरा गया । मैं केवल रोनिता के लिए शैतान हूँ, किसी और के लिए नहीं जरूर इसके पीछे भी कोई वजह होगी? वाह मेरी पूर्व प्रेमिका थी और उसने मुझसे शादी का वादा किया था । लेकिन फिल्म है किसी अन्य अभिनेता के साथ टेंट पर जाने लगी । कार्तिक कार्तिक उसका तीसरा प्रेमी था में काम के लिए और बहुतों के साथ शारीरिक संबंध बना चुकी हैं । तो मैं ऐसा भी मैं मना नहीं करूंगा । और हाँ ऐसे ही हम मिले थे लेकिन मैंने उसे सच्चे दिल से प्यार किया था तो उससे मिलना जुलना बंद कर देना चाहिए । तो मैं एक शादीशुदा व्यक्ति हूँ । तुम्हारी सुन्दर से पता नहीं है तो मैं बहुत प्यार करती है । ऐसा तुम सोचती हूँ । तनुज ने कहा और सारा को कुछ समझ नहीं आया । उसकी सालों से किसी और के साथ संबंध है । उसके सालों से किसी और के साथ संबंध है । फिर उसने तो उसे शादी क्योंकि क्योंकि उसकी भी किसी और से शादी हो चुकी थी । अनुज ने कहा जिंदगी में कई बार ऐसा होता है कि आप किसी को प्यार करने में बहुत देर कर देते हैं या किसी का प्यार पाने में बहुत देर हो जाती है । फॅसने में वासना ही राहत देने का काम करती है । तुम अपनी शादी को सफल बनाने की कोशिश क्यों नहीं करते? मैंने काफी कोशिश की है और अभी भी करता हूँ । अपने अपने को यह कहकर बहलाता रहता हूँ कि एक दिन सब ठीक हो जाएगा और ये जिंदगी इतनी भी खराब नहीं है । ठीक है अच्छा एक्टर में कोई जरूरत हो तो बताना में हमेशा तुम्हारी मदद करेंगे । सारा ने अपनी आवाज में नरमी लाते हुए कहा तो छोड के लिए ऐसा लगा कि तनुज अपने विचारों में हो गया है और उस छुट्टी में सहारा को समझाया कि तनुज ने उसके प्रति अपनी भावनाओं को दर्शाकर उसके लिए बडा सहारा बना दिया है जिसके बल पर मैं चैनल में एक नई शुरुआत कर सकती है । जहाँ तक उसे बहुत अच्छा नहीं लगता था, ठीक है हो सकता है कि वे अपने साथ पूरी तरह न्याय नहीं कर रहा हूँ । लेकिन मैं निश्चित रूप से यह नहीं चाहती थी कि वह और बहुत से लोगों की तरह एक गैर जिम्मेदार इंसान बने । जो संबंध तोड लेते हैं उसने भी सत्यम से अपने संबंध तोड लिया । लेकिन फिर में आगे बढ गई हूँ और अपने बारे में उसे यही बात पसंद आई । उसका तनूज की तरह पिछले संबंध की याद में ही जीवन बिता देने का कोई इरादा नहीं था । अचानक भविष्य की भारतीय मार्क में आते ही चिंतित हो गई । उसका क्या होगा? अगर निर्माण की मनपसंद लडकी ना बन पाई तो क्या होगा? मैं उस से काफी गहराई से जुड चुका है । ये विचार मन में आते ही उसे चिंता होने लगी । अरे तनाव में आ गई जो तनुज की अप्रत्याशित टिप्पणी में खत्म हुआ था । तुम्हारी और अरमान की जोडी बहुत अच्छी लगती है । शुक्रिया तो उसके साथ खुश होना । मुझे इससे पहले कभी भी ऐसी अनुभूति नहीं हुई । मुझे से बाते करना, उसके साथ रहना और बहुत कुछ पसंद है । तो बताओ ये कैसा संबंध है? क्या मतलब? क्या ये संबंध लंबे समय तक के हैं? बहुत कम लोग हैं जो इतने कम समय में इतने नजदीक आ जाते हैं । सीधे मेरी आंखों में देखकर बात करता है और दिल खोलकर बात करता है । आजकल ऐसे लोग बहुत कम मिलते हैं । मुझे ये बात अच्छी लगती है कि मेरे चेहरे पर मुस्कान लाने में उसे सिर्फ कुछ मिनट लगते हैं । ये बहुत सुंदर है, सास है और मुझे लगता है कि मैं भावनाओं की कद्र करना सीख रही हूँ । जिंदगी को पहले की अपेक्षा कुछ काम रफ्तार से जी रही हूँ । या तो मैं पक्का पता है कि ये प्यार है तो भी क्या लगते हैं । सारा ने पलट कर पूछा है उससे कहीं ज्यादा है तो मार मान पर पूरी तरह फिदा हो । मुझे लगता है कि यही तो बात है । इसे कोई न हम देना भी पर्याप्त नहीं होगा । सारा ने घर जाने की तैयारी में अपना बैक संभालते हुए कहा और तनुज ने सारा की मेज पर एक पत्र देखा । उसने पडने के लिए उसे उठा लिया आप जबकि मुझे अपनी शांत और विनम्र बॉस वापस मिल गए हैं । आप आप इसे फाडकर कूडेदान में फेंक सकते हैं । पहले ये तो बडे आश्चर्य की बात है । आज सुबह की आपकी व्यवहार के बाद ये कुछ भी आश्चर्यजनक नहीं है । नहीं मेरा मतलब है तो मैं ऐसी तो नहीं लगती जो जाने से पहले इस्तीफा सौंप जाए तो तो बस अचानक चले जाने वाले में लगती हूँ । तनुज ने कहा और सारा मुस्कुरा गई । वित्तवर्ष की कार की तरफ पडता है तो मेरे साथ डिनर करना चाहोगी । अनुज ने कहा सहारा ने अगले कुछ हद तक को जवाब नहीं दिया । मेरी पत्नी अपने बॉयफ्रेंड के साथ बाहर गई हुई है तो मुझे लगा की तो नहीं चाहूँगी कि आज रात मैं भूखा सोचा हूँ । तब उसने मुस्कराकर का ठीक है मैं चलूंगी । मुझे खुश है कि तुम राजी हो गई । मेरी एक आदत है कि जब कोई मना कर देता है तब मैं अपने को चाटा मारता हूँ । भर रहा जब तुम अपनी पत्नी के साथ सोते हो तब अपने को जरूर चांटा मारते होगे । सारा ने हसते हुए का मुझे लगता है कि तब किसी भी इंकार से बचने के लिए मुझे रोनिता के पहाड जाना चाहिए । ने कहा अगर तुम तीसरी बार दो का खाना चाहते हो तो उसने कहा और पाँच की कार्य में बैठ गईं । मुझे नहीं पता कि तुम डिनर में क्या खाना चाहोगी । कोई खास राष्ट्र बताना चाहूँगी तो फॅमिली होंगे, अच्छा ही होंगे । भारतीय मुंबई रेस्ट्रां की आती है तो मेरी कोई भी ऐसी खास पसंद नहीं होती । अगर जगह अच्छी है तो मुझे कोई दिक्कत नहीं है । मुझे बांद्रा में एक अच्छे राष्ट्रों के बारे में पता है चलो चलते हैं । तनुज ने कहा और सारा से सहमती मिलने के बाद उसने कार स्टार्ट कर दी । सारा चुप चाप अरमान को फोन मिलाती रही लेकिन उसका फोन लगातार व्यस्त जा रहा था । वे अगले दस मिनट तक कोशिश करती रही लेकिन जब बात नहीं हो पाई तब उसने अरमान के लिए संदेश देखना शुरू किया । लेकिन तभी उसका मोबाइल बंद हो गया । दुर्भाग्य से तनुज की मोबाइल की बैटरी भी खत्म हो गई । जैसे ही उनकी कार ने बांद्रा में प्रवेश किया उसे बडे बडे अपार्टमेंट और बंगले दिखाई पडे । मैं आश्चर्य से होने देखती रही । उसने हमेशा ऐसे घरों में रहना चाहा था । उसने देखा कि लोग शाहरुख खान और सलमान खान के बंगलों के सामने जुड रहे हैं । उसे ये एक तरह से पसंद आया । उसके बाद तंजौर सारा ने अच्छी शराब पी और स्वादिष्ट भोजन किया । सारा को समझा रहा था कि अरमान निश्चित तौर पर वहाँ चिंतित होगा और उसने तनुज के साथ अच्छा समय बिताया । लेकिन अब है जल्दी से जल्दी घर लौटना चाह रही थी क्योंकि तब तक सुबह की चार बच चुके थे । डिनर और काफी दूर तक टहलने के बाद जब कार में बैठे उसे याद आया कि उसके बैग में पावर बैंक है । उसने अपना फोन चार्ज किया और अरमान को संदेश भेजा । हाँ,

Part 22

अनुज के घर छोडने के बाद सारा दरवाजा खोलकर अंदर घुसी और बिस्तर पर थम से बैठ गई । मैं बहुत थकी हुई लग रही थी । अरमान ट्राइंग रूम में आया और सारा को वहाँ बैठे देखा तो उनसे बात करना चाहती हूँ । बात करने को है क्या? शर्मा ने कहा तुम जरूर मेरी चिंता में पगलाये जा रहे होंगे । है ना? मुझे नहीं पता क्या मैं तो मैं पागल दिखाई पढ रहा हूँ । तुम ना केवल वैसे लग रहे हो बल्कि देख भी वैसी ही रहे हो । उसने कहा और उसकी ओर देखा । उसे दोनों के बीच तनाव का भी एहसास हुआ तो तुमने बहुत अच्छा समय बिताया । अरमान ने अपने मोबाइल से खेलते हुए कहा । उसे लगा था कि सारा उसके प्रति उसकी चिंता को समझेगी । अच्छा समय बिताया । सुबह तनु से कसकर लडाई हुई थी और फिर सुधा करने के लिए मैं मुझे डिनर पर ले गया और माफी मांगी और तुम्हारे मोबाइल की बैटरी चली गई और बंद हो गया । हाँ ऍफ का मोबाइल भी स्विच ऑफ हो गया । हाँ, ये कुछ ज्यादा ही संयोग नहीं अरमान बन बनाया । सारा निश्चित नहीं थी कि उसे अरमान की बात सही सुनाई पडी थी या नहीं । लेकिन जब उसने देखा की वजह से घूम रहा है । तब मैं समझ गई कि वह गंभीरता । इसके साथ ही उसने महसूस किया कि उनके बीच तनाव बढ रहा है । ठीक जब अपने प्रति अरमान की भावनाओं को लेकर आश्वस्त होने जा रही थी । उसे लगा कि अरमान ने उस पर विश्वास नहीं किया । उसका फोन बाज उतने से उसके विचारों में खलल पडा । आपने तनूज का फोन था जो ये जानना चाहता था कि वह सुरक्षित अपने फ्लैट पर पहुंच गए या नहीं । फोन के बाद अरमान ने कहा क्या चल रहा है? स्थिति को सह पाना कठिन था । उसके अपना सिर पकड लिया । अपने को कुछ बोलने से रोक नहीं थी । फिर भी उसके हावभाव से उसकी हताशा साफ नजर आ रही थी । तो हरी बात सुन कर मुझे बहुत दुख हुआ तो हम सुबह चार बजे घर पहुंच रही हो और मेरी बात संकट में दुख हो रहा है । भगवान ने कहा उसकी गुस्से से भरी आवाज सुनकर सारा अपने को शांत करने का प्रयास करने लगी और सोफे पर पीछे सेफ्टी का दिया । मैं मन ही मन सोचने लगी कि काश उसका मोबाइल से चोट ना हुआ होता । काश मैं आपसे बात कर पाती । काश में उसे समझा । पार्टी और काश मैं सत्यम की तरह व्यवहार न करता तो हम कुछ कह क्यों नहीं रही हो? क्योंकि मुझे लग रहा है काहिका डर खुद से डर लगता है । लेकिन शुक्रिया मेरे जीवन में उन कुछ यादव को लौटा लाने के लिए जिनकी कमी मैं महसूस कर रही थी । सत्यम से मेरी तुलना करना बंद करो । कुछ लगता है की तुलना हो ही नहीं सकती । सारा ने पलटकर कहा क्यूँ, क्या मैं उससे भी घटिया हूँ? क्या मैं ऐसा कुछ कहा? लेकिन तुम यही तो कहना चाहती हूँ ना, कभी सपने में भी नहीं । उसने साफ कहा और लंबी सांस लेकर वहाँ से चली गई । मैं इस बात की पूरी कोशिश कर रही थी कि वे अपनी बेचैनी पर काबू पाले और अरमान ने उसके साथ अब तक जो भी अच्छा व्यवहार किया है उस पर ध्यान केंद्रित करने की कोशिश करने लगी । कितने दिनों में पहली बार उसके दिमाग में ये बात आई । क्या आखिर उसने अरमान के साथ रहने का फैसला क्यों किया? कर दिया । उस पर विश्वास नहीं करता हूँ तो उसके लिए रोज उसका सामना करना बहुत ही तकलीफ हो जाएगा । एक बार फिर भावनाओं में बह जाना संभव था लेकिन इस बार लहर इतनी तेज नहीं थी कि वे अतीत में सत्यम के साथ के अपने अनुभवों को भूल जाएंगे । उस है बहुत गहरी अनुभूति हो रही थी । मैं समझ नहीं पा रही थी कि अपनी आंखों पर विश्वास करें या नहीं । उसके अंदर कुछ बढने लगा और उसके दिमाग में बार बार वही सब घूम देने का जो उस ने कहा था । उस की आवाज उसके कानों में गूंज रही थी । अगर उसकी जगह कोई और होता हूँ तो उसकी अनदेखी कर देती है । लेकिन उसके इस तरह बात करने से उसे धक्का लगा । जब उसे समस्या की बिल्कुल भी उम्मीद नहीं, तब आ जाना तो उसके सामने ऐसी समस्या खडी हो गई । एक बार फिर चुप्पी छा गई । इस बार हालांकि छुट्टी के साथ को साबित था सत्यम । जब उसका सत्यम से ब्रेकअप हुआ था तब उसने अपने आप से वादा किया था कि मैं अब जिंदगी में किसी पुरुष से ऐसे संबंध नहीं बनाएगी क्योंकि उसके साथ हमेशा ऐसा ही होता है । और अभी अरमान के मामले में भी ऐसा ही हो रहा है और अंततः अरमान उसके जीवन में आ गया और बहुत अलग नहीं रहा क्योंकि वो भी ऐसी स्थिति तक पहुंच गया है जो उस पर जरूरत से ज्यादा हक जताने और संदय करने के बीच की हालत है । रात भर की मेहनत के बाद वो सिर्फ आधा घंटा पहले घर आया था और उसने देखा कि सारा शांति से बैठी हैं और अभी भी उसके सवाल का जवाब नहीं दे रही थी । हाँ इसी बीच सारा के बारे में न जाने क्या क्या सोचता रहा और इस से उसकी बेचैनी और बढ रही थी । जैसी उसने देखा कि सारा जल्दी से अपने कमरे की तरफ बढ रही है, उस ने उसे रोका । उसने कहा सुनो सारी आजम बहुत ज्यादा बात नहीं कर पाए थे और फिर तुम्हारा कोई फोन भी नहीं आया था । मैं चिंतित हो गया था । तुम पर अपने से ज्यादा विश्वास करता हूँ लेकिन मैं अनुज पर विश्वास नहीं करता । तुम्हारा कोई पता नहीं चल पा रहा था । मैंने बार बार तुम्हारा फोन मिलाया और तुम्हारा फोन से चौपा रहा था । तब मैंने विक्की को फोन किया और मुझे पता चला कि तुम्हारा तानों से झगडा हो गया था । और तो मैं अंतिम बार तंज के साथ देखा गया था । जब मैं तो मैं ढूँढने निकला तब मुझे पुलिस ने शराब पीकर गाडी चलाने के आरोप में पकड लिया । अंततः मैंने पुलिस को तो मैं ढूंढ निकालने में मदद करने को तैयार कर लिया । तुम्हारे लिए ये सिर्फ छह लाइनें हैं, जिसमें मैंने तुम्हें बहुत संक्षेप में बताया कि पीटी राज क्या क्या हुआ, लेकिन मेरे लिए मेरे लिए रहे । मेरे जीवन के लम्बे छह घंटे थे, चुकी में डर गया था । सहारा को प्रतिक्रिया व्यक्त करने में एक मिनट का समय लगा और चुकी है । तनाव में था इसलिए रहते नहीं कर पा रही थी कि वह इसपर बात करना चाहती भी है नहीं । लेकिन और माननियों से अपनी बात बताकर सदमे में डाल दिया और है ना केवल अचकचा गईं बल्कि डर भी गए हो । उसकी वजह से आयुष्मान जिन परिस्थितियों से गुजरा था, उसे लेकर में डर गई । उसे अपने पर आश्चर्य हुआ कि पहले उसके दिमाग में यह बात क्यों नहीं? उसके दिमाग में इतनी दुखद बातें लादेने के लिए अरमान को जिम्मेदार ठहराना आसान है, लेकिन दिल के किसी कोने में उसे एहसास हुआ सही था । दोनों के बीच पैदा हुआ तूफान, दवाब भरता नाम वास्तविकता अरमान ने पहले कभी ऐसी स्थिति का सामना नहीं किया था । अब तक मैं अपने से कहता रहा हूँ की रह जिंदगी । मैं बुरी से बुरी स्थिति का सामना करने को तैयार रहना चाहता है । लेकिन आज उसे एहसास हुआ कि है संभव है इतनी तनाव और स्थिति से नहीं निपट सकता । अपने खयालों में खोया हुआ अरमान निराश था कि उसने सारा से इतने सवारकर डालें और मैं काफी समय तक चल रहा है । बैठा खान महसूस कर रहा था । उसने हताशा में अपने कंधे चुका लिया । हरपाल पिछले पल से अधिक कठिन लग रहा था । सारा को अपराधबोध हुआ, फिर मान के पास गई और उसे बाहों में भर लिया । अरमान ने कोई आवाज नहीं लेकिन सहारा ने महसूस किया कि उसका गठन तनाव से कटा हुआ है । सारा ने उसके दायरे में हाथ फिराया । हर मैं मुस्कुरा दिया । आप ये जानकर बहुत संतोष मिलता है कि कोई तुम्हें इतना प्यार करता है । मुझे दुख है कि मैंने अनजाने में ही सही तभी न तनाव दिया । आपने अगली बार से इस बात का ध्यान रखूंगी और मैं पूरी कंप्यूटर से ये बात कह रही हूँ । सारा नहीं उसके सीने पर अपना से रख दिया हूँ । दोनों में से किसी ने भी काफी समय तक कुछ नहीं कहा और राज पूरी तरह शांति । एक मिनट बाद उसने आसमान को अपने पूरे दिन की बात बतानी शुरू की । तनुप से अपनी लडाई अरमान के संदेश से मिली राहत और तनुज का माफी मांगना । आॅन केवल तनुज के माफी मांगने का तरीका जिससे सारा डर गई थी तो छोड कर बाकी सारी बात बडे मन से सुनता रहा तो तुम भी बहुत कुछ बताना चाहूँ कि अच्छा या बुरा बहुत बुरा ऐसे किसी बात के लिए तैयार नहीं हूँ । फिर भी सुनूंगी । मैं साकी नाका की उस गली में गया था जहां जाने माने लोग अपने शरीर की भूख मिटाने के लिए होटलों के कमरे बुक कराते हैं तो वहाँ क्या कर रहे थे? तो मैं ढूंढते हुए वहाँ पहुंचे थे । हमें लगा कि कहीं ऐसा ना हो कितनों में कुछ बेहोश हो गया करके तनुज वहाँ लेकर आओ । उसने कहा और सारा हसने लगी तो उधर है दिमाग अपराधिक कॅाफी चलता है । मेरा सुझाव नहीं था । पुलिस वाला मुझे वहाँ ले गया था । फॅमिली लाया और उसे आगे बात जारी रखने का इशारा किया । मैंने वहाँ रोनिता को देखा । मेहमान न्यू से बताया क्या इसलिए तुम परेशान हो गए? उसने पूछा नहीं वहाँ मुझे स्लाॅट में मेरे साथ रहने वाला दोस्त ठंडी भी दिखाई पडा । अभी कुछ दिन पहले ही उसकी माँ की मौत हुई है । हो सकता है कि वह जीवन में कुछ आनन्द चाहता हूँ । इसमें गलत क्या है? मुझे बहुत गलत बात है कि हजारों रुपये बर्बाद करने के अलावा मुझे नहीं लगता कि इसमें कुछ भी गलत है । सारा ने कहा था जिससे पैसे मिलने थे वो वहाँ शरीर भी चला था । गुजरात मैं एक आमिर घमंडी औरत के लिए वैश्या बना था जो लगातार उसके नितम्बों पर हाथ मारे जा रही थी । ये औरत उसकी ग्राहक थी । अरमान ने पूरी गंभीरता से कहा और उसकी आवाज में दर्द झलक रहा था । क्या उसने अपने लिए यही जीवन सुना है? उसकी माँ का क्या जिसकी मौत हुई है और उस बातचीत का क्या अर्थ है जो कुछ घंटों पहले मेरी उसके साथ फोन पर हुई थी? मुझे लगता है कि भी जिस राह पर बढा है उस पर जाने से आगारों से अभी नहीं रोका गया । तो बच्चा का आप अपना चुनाव करने और उन पर गर्व करने या शर्मिंदा होने में स्वतंत्र है । लेकिन आप उसके परिणाम खुद नहीं तय कर सकते हैं । कई बार रहा इतने भ्रमित हो जाते हैं कि सही चुनाव करना कठिन ही नहीं, बहुत कठिन हो जाता है । जिससे आपके संबंध है उससे हटकर आप किसी और के साथ शारीरिक संबंध बनाने का फैसला करते हैं । आप अपने माता पिता को छोड देने का फैसला करते हैं क्योंकि मैं पूरे हो गए हैं, पुरानपंथी हैं और जब जीतते हैं तब अपने ऊपर हो मान नहीं रखते हैं । आप अपने पुरानी दोस्तों को छोडने का फैसला करते हैं क्योंकि मैं गवई लोगों की तरह बातचीत करते हैं और आप अब सभी तरीके से बात करते हैं क्योंकि आपके मालिक देश की सबसे अच्छी कंपनियों में से एक में आप काम करते हैं और उनके ऊपर छह अंकों की तन्खा मार सकते हैं । जब आप नौकरी छोड देते हैं तब आप अपने बॉस का अपमान करने का फैसला करते हैं क्योंकि आपको एक अन्य कंपनी में बेहतर नौकरी मिल गई है । अब आप उससे नहीं घंटे आप ये सब करने का फैसला करते हैं जो आपको समय करना सही लगता है । लेकिन जब आप ऐसा फैसला करते हैं तब आपको नहीं पता होता कि आपकी प्रेमिका को हो सकता है कि अपनी जिंदगी का सबसे बुरा झटका लगे पढते हैं अपने आप से नफरत करने लगे तथा तुम पर विश्वास को बैठे आपके माता पिता की सिंदगी और अधिक दिन ना रहे गई हो और तुम्हें उन्हें घर से निकाल कर उनकी जिंदगी और छोटी कर दी । हो सकता है कि आप की गवाई दोस्त आपको उस मुश्किल से बाहर निकालते जिसके लिए आप स्कूल दोस्त आपको सहायता देने की कोई पेशकश भी करें । हो सकता है कि आप जल्दी ही नौकरी को बैठे और उसके लिए दुखी हूँ । आप अपनी उस बहुत से फिर मिले और इस बाहर में आपके वहाँ तापमान को अच्छी तरह याद रखेगा और उस झंड आपने जो कुछ किया था, हो सकता है कि आप को उसके लिए अफसोस हूँ । आप के फैसले तय करते हैं कि आप आज कौन है और कल आप क्या होंगे? अपनी शब्द कहा है और नजदीकी लोगों का चयन बहुत सोच समझकर करें । चुकी आपको हमेशा के लिए बनाया बिगाड सकते हैं । कभी कभी आपको फैसले लेने पडते हैं इसलिए नहीं कि यहाँ पैसा चाहते हैं बल्कि इसलिए कि आपके पास कोई और विकल्प नहीं होता । अपनी मिलने की के कुछ अहम फैसले करते समय आप गलत निर्णय ले सकते हैं और जब तक आपको बात समझ जाती है तब तक बहुत देर हो चुकी होती है और वापस लौटने का कोई रास्ता नहीं बचता । आप के फैसले आपको ये डूबते हैं पर आप कितना ही लौटने की कोशिश करें । आप सारी उम्मीद खो बैठे । ये जानते हुए कि जो भी रास्ता आपने चुना था जहाँ तक था

Part 23

हमारे जीवन में दो चीजें होती हैं । सवाल और उनके जवाब समस्या तब शुरू होती है जब आपको सवालों के जगह नहीं नाम बंद हो जाएगा । क्या स्थिति तब और खराब होती है जब आप अपने सवालों के जवाब है तो कोई सवाल नहीं उठा पाते । अरमानी के ऐसे सवाल का जवाब ढूंढ रहा था जो उसे उस समय सबसे बडा सवाल लग रहा था साडी और उस गली में उसकी मौजूदगी हाल फिलहाल उसे ऐसा लगने लगा था कि उसे बहुत सी चीजों के बारे में पता ही नहीं है । साडी की कल रात की यात्रा के बारे में कुछ अच्छी बात थी लेकिन इस सवाल का जवाब अगर कोई देख सकता था तो वैसे एनडीए ही था । पिछली बातों के बारे में सोचते हुए उसने कहा कि काश मैं जिंदगी की कुछ चीजों को बदल सकता ताकि वह उन्हें फिर से जी सकें । एक बात तय थी ये एक अच्छा दोस्त होता और जैसे ही उसने साडी से अपनी भेंट के बारे में आपने से सवाल किया उसको तुरंत उसका उत्तर पता था । जैसे ही उसे अपना निर्णय स्पष्ट समाज आया उसमें सारा के दफ्तर जाने के पाठ साडी का नंबर में लाया । उसने लगातार चार बार फोन किया लेकिन चांडी ने नहीं उठाया । दरवाजे की घंटी बच्चे और अनुमान्य दरवाजा खोला अरे ये तो साडी था ऍम जामा पहने खडा था और सैंडी के उसे गले लगाने से पहले आरमान ने उसकी ओर देखा तो मैंने देखा कि तुम मुझे फोन कर रहे और मैं उधर ही आ रहा था इसलिए मैंने फोन नहीं उठाया । हमने कल रात ही बात की थी और तब तुमने आने के बारे में मुझे कुछ नहीं बताया । अरमान ने कहा और एक औपचारिक मुस्कान दी जहाँ चाहना कुछ काम आ गया इसलिए मुझे आना पडा । इसके अलावा वहाँ जरूर होना मचा हुआ है । उसमें मेरा दम घुट रहा था । साडी ने फ्लैट में अंदर घुसते हुए कहा । उसने देखा कि फ्लैट में काफी कुछ बताया गया है क्या कल रात यहां कोई लडकी आई थी? साडी ने पूछा क्यूँ ऐसी बात नहीं होती तो तुम कभी भी फ्लर्ट कर साफ रखने का जहमत मोल नहीं लेते । साडी ने अपने कमरे में घुसते हुए कहा और वह वहाँ कर चकित रह गया या यहाँ कोई और रहने आ गया है । सैंडी ने पूछा सौरी तुम्हारे यहाँ आने से पहले मैंने तो मैं नहीं बताया । ऐसा लगता है कि कोई और यहाँ फ्लैट में तुम्हारे साथ आ गया है । साडी ने कहा और वहाँ बैठने में भी उसने हिचकिचाहट महसूस की । मैं तुम्हारे लौटने के बारे में निश्चित नहीं था । फिर अकेले पैंतीस हजार रुपये किराया दे पाना मेरे लिए बहुत कठिन था । मुझे किसी की जरूरत थी जो आधा किराया बांट सके । अनुमान्य अपने चेहरे पर कोई भाव लाये बिना ये कहा क्या हो सकता है कि साथ में प्यार पाने की चाहत भी हो । साडी ने एक सिंगल बेड पर दो तकिये और केवल एक चादर देखकर कहा सारे ही मुझे यहाँ से जाना चाहिए । ये फ्लाटा मेरा नहीं रहा । चांडी ने कहा नहीं नहीं पागल मत बनाओ । जाने कितने दिन बाद हम मिले हैं । हनुमान इनका साडी ने ऐसा कुछ नहीं कहा कि वह परेशान है और फिर उसे होना भी नहीं चाहिए । अरमान को पता था कि वह क्या कहना चाह रहा है । अरमान आज उसके प्रति काफी बेरुखी दिखा रहा था । चांडी ने व्यंग भरी हसी हस्कर अपना बैग उठाया और जाने के लिए तैयार हो गया । साडी एक बात बताओ ऍम हमारी माँ की मौत हो गई है । साडी ने अपना बैग फेंका, मुडा और अरमान को दरवाजे की तरफ धक्का दे दिया । एकदम गुस्से से भरा और इतिहास दिखाई पड रहा था । उसके हाथ काम रहे थे । उसकी आंखें लाल हो गई थीं । तुम एकमात्र व्यक्ति हो गया जिससे मैं अपना दोस्त मानता हूँ और तो मुझ पर संदेह कर रहे हो कि कहीं मैंने झूठ बोल तो नहीं कहा कि मेरी माँ की मौत हो गई है । अगर तुम्हारी माँ के मौत के बाद कोई इंसान किसी दिन तुमसे यह बात पूछे तो मुझे बताना कि तुम्हें कैसा लगा । चांडी ने अरमान का कॉलर कसकर पकडे हुए ये बात कही । मेहमान को उसकी माँ का जिक्र करना अच्छा नहीं लगा । उसने साडी को दीवार की ओर धकेल दिया और अगले दस सेकंड तक उसे बेरहमी से थप्पड बाघों से मारता रहा । इसके बाद उसने गुस्से में साडी की कमी फाड दी और उसे तब तक मोस्टा रहा जब तक की साडी की पीठ से खून नहीं नहीं करने लगा । उसने फिर गुस्से में उसे मारा और मैं दोनों जोर जोर से सांसे ले रहे थे । साडी ने सीधे अरमान की आंखों में देखा । उसकी आंखों में गुस्सा भरा हुआ था । अरमान ने भी सीधे चांदी की आंखों में देखा । उसकी आंखों में आंसू, निराशा, अपराध, वोट और उम्मीद जो उसे अरमान से थी दिखाई पडी । मैंने सोचा था कि दो मुझे गले लगा लोगे और कहोगे कि तुम्हें मेरी कमी खल रही थी । लेकिन बदले में तो मैं मुझे मारा । मैंने सोचा था की माँ की मौत के बाद मेरे लिए तो बडा सहारा हो लेकिन मुझे लगता है कि मैंने तुम्हें भी खोल दिया । साडी नहीं होते हुए कहा । अरमान शांति से अपनी नजरें हटाकर दूसरी तरफ देख रहा था । उसने अपने को शांत करने की कोशिश की । मेरे पिता की मृत्यु काफी पहले ही हो चुकी है । मेरी माँ भी मर गई । मेरा ऐसा कोई सगा संबंधी नहीं है जो मेरी सुन ले । अरे तो मेरा दोस्त भी नहीं रहा जिसमें कभी मेरा बहुत ध्यान रखा था । मुझे भी मर जाना चाहिए । मेरे लिए आप कुछ नहीं बचा है । चांडी ने कहा और जब खडा हुआ उसका रोना भी तेज हो गया और मान ने उसे गले से लगा लिया और कुछ सेकंड कुछ नहीं कहा तो मैं मेरी माँ के बारे में ऐसा नहीं कहना चाहिए था । साडी ने कहा तो मैं भी मेरी माँ के बारे में ऐसा नहीं कहना चाहिए था । तुमने जो कहा था एक अलग था । अरमान ने कहा अरब मैं पहले से कहीं अधिक शांत था । तुम ने जो कुछ कहा, सुनकर में पागल हो गया था । मैंने तो मैं सब कुछ बताया और तुमने मुझे पसंद है क्या? कल रात तक मैंने तुम पर पूरा विश्वास किया था, लेकिन रात चल मैंने तुम्हें साकी नाका में देखा । उसके बाद मेरा विश्वास किया । अरमान ने कहा और सैंडी के चेहरे पर चिंता । वह घबराहट साफ नजर आ रही थी । रुका कुछ कहा नहीं । उसे पता था कि अपने को संभालने के लिए कुछ मिनट की चुप्पी से कोई परेशान नहीं होगा । अरमान ने धीरे से बात आगे बढाई । क्या जरूरत थी ऐसा क्या वाकई इतनी जरूरत थी? हाँ, ये बहुत जरूरी है, खासकर तब जबकि आप के सारे खर्चे उठाने वाली माँ की पीठ में ही मौत हो जाए और आपके सगे संबंधी ऐसे हो जो आपसे रहे एक एक पैसा भी छीन लेना चाहते हो, जो आपकी माँ ने आपके लिए बचाकर रखे हूँ तो मझे कह सकते थे तो हमने फ्लैट का किराया नहीं मांग कर पहले ही मेरे लिए काफी कुछ किया था । सैनी ने कहा, क्या इससे तुम्हारा वह कदम सही ठहराया जा सकता है? शायद नहीं, लेकिन मैं और पैसे नहीं मांग सकता था और आखिर तो मुझे कमाना होगा ही । मेरे पैसे बिल्कुल खत्म हो गए थे । मैं कुछ ऐसे लोगों को जानता हूँ जो मुझे जल्दी से कुछ पैसा कमाने का रास्ता बता सकते हैं । और जल्दी से पैसा कमाने का मतलब है कि तुम्हारे करियर कांड । मेहमान ने कहा, और सेंडी की बात है, बहुत आश्वस्त नहीं लग रहा था तुमने पिछली राज्य क्या है? अगर मैं आगे भी करते रहोगे तो तुम्हें जीवन भर बुरे बुरे ख्याल आते रहेंगे । क्या मेहरवानी करके तुम उस बारे में बात करना बंद कर होगी? तुम एक रात के लिए वैश्या बने । अरमान ने कहा और उसे साडी की आंखों में अपराधबोध चिंता दिखाई थी तो बात क्यों नहीं कर रहे हो? क्या पिछली रात उस अमीर औरत के हाथों अपना बदन भेजकर तो मैं मजा आया उसकी वासना की तरक्की के लिए किसने तो मैं उसका दास बनाया, चुप रहो । ये उन बातों में से एक है जिनके बारे में मैं जिंदगी में कभी सोचना नहीं चाहता । शांटी ने दूसरी तरफ देखते हुए कहा, तब बेहतर होगा कि तुम यह तय कर लोग कि आगे से ऐसे काम नहीं करोगे जिनके बारे में तो सोचना तक नहीं चाहते हैं । अरमान ने खडे होते हुए कहा अगले कुछ घंटों तक किसी ने कुछ नहीं कहा हूँ । देखो हम अकेले नहीं ऐसे लोग हैं तुम्हारे जैसे हालात से गुजरे हैं और मैं उन हालत से उभरे भी हैं तो हम भी उभर सकते हैं । इस दुनिया में ऐसी कहानियाँ भरी पडी हैं । कोई नहीं चाहता की तुम इस तरह हिम्मत हार जाता हूँ तो आज रात नकल और नहीं कभी भी अरमान ने कहा कुछ माफ कर दो मैं फिर कभी ऐसा नहीं करूंगा । साडी ने जवाब दिया, अरमान अपने कमरे में गया और कुछ मिनट बाद वापस लौटा मेरे पास ये तीस हजार रुपये हैं इन्हें लोग और जब चाहूँ तब मैंने वापस कर देना अगर और जरूरत हो तो मुझे बताना लेकिन आगे क्या कदम उठा होगे इस बारे में सोच समझकर फैसला करना । अरमान ने बडे भाई की तरह ये बात कही । साडी ने प्रेम वा कृतज्ञता से अरमान की ओर देखा और पैसे ले लिए । मुझे जाना होगा दो घंटे में मेरी वापसी की उडान है । साडी ने कहा क्या हमारी फिर मुलाकात होगी मुझे ऐसी उम्मीद है यहाँ वापस लौटना चाहता हूँ । मुझे तुम्हारी याद आती है, अपना काम याद आता है । मुंबई याद आता है साडी ने कहा लेकिन चिंता मत करो, मैं फ्लाइट ले लूंगा और तो और तुम्हारी गर्लफ्रेंड को परेशान नहीं करूंगा लेकिन में अपनी कार वापस ले लूंगा । तुम जब ऑटो तब यहाँ कर रहना । अरमान ने कहा और साडी को गले लगा लिया । शुक्रिया भाई । शानवी ने भावुक होते हुए कहा तुमसे जल्दी ही फिर मिलने की उम्मीद करता हूँ नेता हर चीज के लिए तो मैं शुक्रिया । सांधी ने उसे विदा लेते हुए कहा चीजें बदलती हैं क्यों बदलते हैं वो भी पतला है लेकिन साडी नहीं बदला । उसकी पसंद जरूरत नहीं । लेकिन सच यह है कि वह एक अंधेरी दुनिया की ओर बढ गया है जहाँ पैसों की चकाचौंध तो हैं लेकिन वह उसे अंदर से मार देगी । उसे सोचना चाहिए था कि वह क्या करने जा रहा है । उसे उसकी संभावनाओं और उसके परिणामों के बारे में सोचना चाहिए था । और आज साडी से उसने चाहे जितनी ही लडाई की हो, उसे लगा कि मानव उसका अपना भाई कर रहा है हूँ । साडी के दिमाग में जो कुछ चल रहा है उस सब को ठीक करने में काफी मेहनत करनी पडती है । लेकिन उसने तय किया कि वह सब कुछ सही करेगा नहीं । उसके परिवार से दूर परिवार है और मैं चाहता है कि घर से दूर उसके घर में कोई नकारात्मकता ना रहे हैं । वो सिर्फ उसके साथ फ्लैट में रहने वाला नहीं था बल्कि उसका भाई था । एक ऐसा भाई जो अपना रास्ता भटक गया है । एक भाई जैसे फिर से सही रास्ते पर लाना है । एक ऐसा भाई जैसे खून का रिश्ता नहीं लेकिन निश्चित तौर पर दिल से जुडा नाता है । एक ऐसा भाई जैसे जिंदगी में एक और मौके की जरूरत है । पैसे वाला साथी आप के साथ रहते हैं, आपके साथ होते हैं, आपके साथ हस्ते हैं और आप पर हसते हैं । वो आपके साथ नाचते हैं, आपके साथ खाते हैं । मैं आपके साथ भर उलटे सीधे मस्ती भरे काम करते हैं । जब वहाँ अपनी प्रेमिका के लिए सरप्राइज पार्टी की योजना बनाते हैं । मैं घर सजाकर और सारे इंतजाम कर आपको चकित कर देते हैं । जवाब का अपनी गर्लफ्रेंड से ब्रेकअप हो जाता है । तब आपको अपना कन्धा देते हैं जहाँ सिर रखकर अपना दिल खोलकर रख सकते हैं । इस डर के बिना की वहाँ कोई आप के बारे में कोई निष्कर्ष निकालेगा । जब आप अपने कॉलेज दफ्तर की मजेदार कहानियों ने सुनाते हैं, मैं आपके साथ मिलकर हस्ते हैं और हमेशा आपके लिए सर्वधिक याद काशन बना देती हैं । जब आप नाराज होते हैं, हताश होते हैं, हारा हुआ महसूस करते हैं । तब वहाँ पर हसते हैं और आपको भी अपनी मुर्खता पर जाते हैं । वे अजीब सजीव धानों पर नाचते हैं । एक आधा बैग पीने के बाद गाना गाते हैं । जवाब होते हैं । तब आपकी साथ होते हैं और आपको समय गले लगाते हैं जब आपको उसकी सबसे अधिक जरूरत होती है । आपके एक शब्द बोले बिना भी आपको समझाते हैं, अपने परिवार हैं । आप सालों तक उनसे अपनी हर भावना साझा करते हैं । जवाब लॉन्ग ड्राइव पर जाना चाहते हैं । तब आप के लिए रात दो बजे भी सौ करोड सकते हैं । वो आपके कपडे पहन लेते हैं और आपसे पूछते तक नहीं । जाॅन खाखा का रूप जाते हैं । तब ये आपके लिए कुछ खास खाना बनाते हैं और आपको चौंका देते हैं । वे आपसे लडेंगे, आपको मारेंगे, लेकिन जब आपको उनकी जरूरत होगी तब जरूर आपके पास लौटाएंगे । फ्लैट वाले साथियों की कहानी बिहार यहाँ दें क्यांग, यादगार पल लडाई, फिर दोस्ती, मजा फंसी और ऐसे सब कुछ की है जिस से आप जिंदगी में कभी बुलाया नहीं पाएंगे । जब वे आपसे अलग होंगे तब आपको रोना आएगा । प्रेस जिंदगी कार सबसे गजा हिस्सा है ।

Part 24

काफी अंधेरा होने के बाद सारा ऑफिस से नहीं । मैं आपको चीजों के बारे में सोचते रही । हास्यासपद चीज हैं, उसे है । दिन याद आया जब हार मान से मिली थी और उसके चेहरे पर मुस्कान आ गई । सारा को पता है कि अगर अब अपनी पूरी जिंदगी भर तलाश कर ले तो भी उसे अरमान से बेहतर कोई नहीं मिलेगा । ये एहसास सबसे अजीब समय पर होता है जब उस दिन उसे अरमान से एक लंबा संदेश मिला था । मैं उसे जैसे देखता है, शुरू में उसे संदेह होता था कि यह सही है या नहीं तो लेकिन खास तौर पर कल रात के बाद से जब उसने उसे ढूंढने के लिए कुछ असंभव प्रयास किए क्योंकि और मान को लगा था कि वह किसी संकट में फस गई हैं, उसे समझाया कि उस की भावना सकती है । उसके शब्द सच्चे हैं और उसका प्यार सच्चा है । सारा हमेशा से ऐसी ही है । सारा हमेशा से ऐसी है कि वह किसी से संबंध बनाने में तब तक पहल नहीं करती जब तक कि उसे पक्का विश्वास नहीं हो जाता है । लेकिन हो सकता है कि वह सही व्यक्ति हो । हो सकता है की उसे ये स्वीकार करने की जरूरत है की वैरी उससे प्यार करने लगी है । ये ऐसा नहीं है जो किसी शारीरिक आकर्षण से शुरू होता है और किसी दूसरे के साथ संबंध बनाने के साथ खत्म हो जाता है । नहीं ये कभी खत्म नहीं होता जो कुछ बीच में खत्म हो जाता है । बिहार नहीं होता और अगर ये खत्म हो जाता है तो है कभी प्यार था ही नहीं । मैं जानते थे कि वह एक दूसरे को पसंद करते हैं और और मान के बारे में उसके मन में जो एहसास पैदा हुआ उससे उसके अंदर काफी अच्छा बदलाव हुआ नहीं । इस बात पर आश्वस्त होना चाहती थी कि है ठीक रहेगा । ये उसे कुछ अवास्तविक सा लगा । जैसे ही उसके दिमाग में जरूरत से ज्यादा बातें घुमाने लगी, उसमें सिर्फ झटक दिया । उसने अरमान का नंबर मिलाया, क्यों तुम पहुंच गए हो? सारा ने पूछा और उसमें जवाब दिया ठीक है मैं भी जल्दी पहुँच जाउंगी । उसने कहा उसे समझ आ रहा था कि वह पिछले कुछ महीनों में काफी बदल गई है । पढते हैं । अब पहले जैसे नहीं रह गई है । उसे नहीं पता था कि क्या उसमें इसी तरह बदलाव आते रहेंगे और अगर ऐसा ही रहा तो क्या अरमान उसके साथ बना रहेगा । वो अपने से पूछती रहती थी कि क्या है अरमान के लिए सही पसंद हैं । वे हमेशा से अकेले रहने वाली रही है जिसका कभी कोई परिवार ही नहीं रहा । क्या है उसके परिवार के लिए सही होगा क्योंकि जहाँ तक उसे समझ आया है अनुमान उसके प्रति बहुत गंभीर है । सारा की आंखों में तनाव दिखाई पड रहा था । उसमें यूँही मुस्कुराने की कोशिश की । महत्व फरमान से मिलने से पहले वो अपने को सामान्य कर रही हो क्योंकि जहाँ तक उसे समझ आया है आयमान उसके प्रति बहुत गंभीर था । सारा की आंखों में तनाव दिखाई पड रहा था । उसने यही मुस्कुराने की कोशिश की । वहीं फरमान से मिलने से पहले वो अपने को सामान्य कर रही हो । मैं जैसे ही पहुंची उसने क्या चालक को पैसे दिए और उसका चेहरा सवालों से भर गया, जिनके जवाब उसके पास नहीं थे । लेकिन उस की उम्मीद उसी तरह बनी हुई थी । तुमने आज मुझे समुद्र तट पर क्यों बुलाया? अरमान ने पूछा समुद्र तट पर एक अच्छा पाव है और मैं वहाँ हवा का आनंद लेना चाहती थी । उसने कहा, और आपने सैंडल उतारकर नंगे पैर चलने लगी । उसे पैरों की नीचे गीली रेत महसूस हुई । किसी ने कुछ नहीं था । ऐसा लग रहा था कि समुद्र में ज्वार आया हूँ । मुंबई में मानसून भी आने वाला था । अरे क्या बात है । चुप्पी तोडते हुए अरमान ने कहा उसकी आवाज भावनाओं से ओतप्रोत थी । उसने कहा सकती तो है ही । हाँ ठीक ही है । देखो क्या है जो एक पहचान लो की मैं हमेशा तुम्हें प्यार करता रहूंगा । अरमान ने उसे आश्वस्त करने के लिए यह बात कही । सारा ने से लाया और कहा मुझे तुम पर विश्वास है । उसने आयमान की कंधे पर अपना सेफ्टी गाडियाँ उसे पिछली रात और मान के चेहरे पर आए दर्द के भाव याद आ गए । उसके बाद शायद ही उसने कोई और बात सोची थी । उसने अपने काम में व्यस्त रखने की कोशिश की लेकिन उसके दिमाग में वही बातें घूमती रही । इसलिए उसने अपने ऑफिस के बाद अरमान से मिलने का कार्यक्रम बनाया । क्योंकि यह वक्त है उसके साथ बिताना चाहती थी तो इस समुद्र तट पर बने पब में पहुंचे और जैसे ही वे वहाँ बैठे हर मानस के बाला में प्यार से हाथ फिराने लगा । खुले बालों में ये हमेशा अच्छी लगती थी । तुम्हे कांजी बात परेशान कर रही है । अरमान ने पूछा सच बताऊँ तो बहुत सी बातें हैं । मैं देख रहा हूँ कि तुम्हें इस बारे में बहुत सोच रही हूँ लेकिन मैं तो पहले ही कल रात के अपने व्यवहार के लिए तुमसे माफी मांग चुका हूँ । अरमान ने कहा अगर अभी भी तुम उसको लेकर आहत और नाराज हो तो मैं फिर माफी मानता हूँ । मैं तो मैं अच्छी तरह जानती हूँ और विश्वास करो इससे एक व्यक्ति के तौर पर तुम पर मेरा विश्वास और बडा है । हाँ, शिविरों में कुछ बुरा जरूर लगा था लेकिन जैसे ही मुझे पता चला कि मेरे बारे में पता लगाने के लिए तो मैं क्या कुछ किया मुझे तुमको अपनी जिंदगी में बात कर बहुत खुशी हुई । फिर तुम क्या सोच रही हूँ? आयुष्मान ने कुछ टकीला पहले और नाचो का ऑर्डर दिया । सारा ने कुर्सी पर पीछे से टिका लिया और लंबी सांस लें । मुझे पता है कि मैं इस तथ्य को पूरी तरह स्वीकार नहीं कर पाई हूँ । हम एक दूसरे को पसंद करते हैं लेकिन जब हम एक दूसरे से दूर रहते हैं तब अजीब चीजें होती हैं । मैंने अपने आस पास के लोगों के साथ ऐसे होते दिखाएँ । बाकी सब को छोडो मैंने अपने साथ ऐसा होते देखा है । जब मैं सत्यम के साथ थी । नहीं नहीं देखा है कि इससे अगर तीन नहीं तो कम से कम दो जिंदगिया प्रभावित होती हैं । इसके बाद सामान्य जीवन में लौटने के लिए आपको कुछ मत करनी पडती है । कुछ ऐसा मानने निर्णय लेने पडते हैं । सारा ने कहा उसे बताया था कि इसके बाद अरमान क्या करेगा? वैसा आनंद दूर दूर बैठे दो लोगों में थे । लेकिन मुझे नहीं लगता कि हमारे बीच ऐसी कोई संभावना है । अमेरिकी शहर में हैं, एक ही फ्लैट में रहते हैं और एक ही इंडस्ट्री में काम करते हैं । तो ऐसी आशंका क्यों हो रही है कि हमारे मामले में भी ऐसा कुछ होगा? आप कभी भी किसी भी संभावना से इनकार नहीं कर सकते । मैंने तुम्हारे अंदर इंदौर तोडी गृहनगर लौटने की लालसा देखिए हैं । पी नहीं देखा है कि तुम्हारे मन में अपने परिवार के प्रति कितना का है । सारा ने प्यार से कहा, मैं कोई अपवाद नहीं हूँ । हरेक के मन में अपने परिवार के प्रति ऐसा ही लगा होता है । मेरे मन में नहीं है तो आप बाद हो । तुम्हारे और मेरे पालने और बडे होने में काफी फर्क है । तुम बिल्कुल अलग माहौल में बडी हुई हो । हम में से कोई ये भाग्यवान है । मैं सेंड गाय नहीं करता । मैं अपने को खुशकिस्मत मानता हूँ कि मुझे माता पिता दोनों ने मिलकर बडा किया है । अपनी बात कर रही हूँ मैं ज्यादा भाग्यवान रही । सारा नहीं है । बात कही और दोनों ने लगभग एक ही साठ अपना पहला पैक खत्म कर दिया तथा वेटर को और लाने का इशारा किया । अच्छा ये बताओ कि माता पिता का न होना खुशकिस्मती कैसे है? अरमान ने कुछ भ्रमित होते हुए पूछा मुझे बताने में कोई दिक्कत नहीं है लेकिन तुम को मेरे कुछ सवालों का जवाब देना ओं का सारा ने कहा । और तब तक दोनों ने साथ ही अपना दूसरा पैर भी खत्म किया और वेटर से तीसरा लाने को कहा । मैं तैयार हूँ हूँ इस दुनिया में तुम क्या सबसे अधिक पसंद करते हूँ । इस तरह तो हमारे साथ बिताई जा सकने वाली राते चलो मैं और साफ करके पूछती हूँ तो जिंदगी में किसी सबसे ज्यादा प्यार करते हो । इसमें पूछने की क्या बात है? मेरे माता पिता मेरे परिवार तो तुम अपने माता पिता की तो ऐसी बात सबसे अच्छी मानते हूँ । सारा ने पूछा हुआ हाँ उन्होंने जिस तरह मुझे बडा क्या जिस तरह है अब तक मेरी परवाह करते हैं मैं मुझे अच्छा लगता है मेरे साथ जीवन के हर मोड पर जिस तरह खडे रहते हैं, मुझे पसंद है । मुझे याद पडता है तब से अब तक जो याद का ऑप्शन दिए है मुझे अच्छा लगता है और मेरी मांगों अब मेरी इच्छाओं की पूर्ति के लिए उन्होंने जो कष्ट हैं भी तारीफ के लायक है । इसके अलावा भी हजारों कारण है और तुम को या किसी और को उनके बारे में बताने के लिए ये जिंदगी बहुत छोटी है । ये किसी आने से जुडा मामला नहीं है । मेरी अपनी भावनाएं ये हैं इस पर बहुत सारी किताबें लिख सकता हूँ फिर भी उनकी प्रशंसा पूरी नहीं हो पाएगी । अरमान ने कहा और इसके साथ ही उन लोगों ने तीसरा पार्ट पूरा किया और बेटे को जागर बम बाहर लाने को कहा । मेरे साथ तुम्हारी सबसे अच्छी आधे कौन सी है? सारा ने पूछा पहली बार जब महीने तो मैं समुद्र तट पर देखा था तब से लेकर अब तक हमने इतने यादगार शहर दिए हैं कि उनके सहारे कोई अपनी पूरी जिंदगी गुजार सकता है । ऑटो रिक्शा की सवारी तुम्हारा पहली बार मेरी फ्लैट में आना जो फिर हमारा फ्लैट बन गया । हमारे सुबह की जॉगिंग, उस रात की पार्टी और पहली बार जब हमने प्यार का इजहार किया । क्या तुम अभी उनके बारे में सोचते हो? मैं रात बहुत खूबसूरत थी और मैं हरिश्चंद उसके बारे में सोचता हूँ । सारा तो उन्हें जो जो कुछ कहा था, मैंने उस सब के बारे में पूछा । केवल एक अकेली उस रात की बात नहीं । सारा ने मुस्कुराते हुए कहा ही, सारी बिल्कुल में बाकी सब के बारे में भी सोचता हूँ और यही कारण है कि मैंने उन का जिक्र तुमसे क्या जो कुछ तुम्हारे पास है । मैं सब अगर तुम किसी दिन को बैठो तो क्या होगा? सहारा ने पूछा क्या मतलब गए तो क्या कहना चाह रही हो? मेरा मतलब है कि तुम किसी दिन अपने माता पिता, मुझे और सबको जिसका तुमने जिक्र किया है, खोलते हो तो क्या होगा? मैं एक सिंधा लाश बन जाऊंगा । मैं तुम्हें से किसी के बिना अपनी जिंदगी की कल्पना ही नहीं कर सकता । मेरा मतलब है कि मैं ये मानने को तैयार नहीं हूँ । हो सकता है कि कुछ सालों में कुछ दशकों में नहीं इसके बारे में नहीं सोच सकता । उनके साथ तुम्हारी जो यादें जुडी हैं उनका क्या होगा? मुझे तडप आएंगे । सारा ने लंबी सांस लें लेकिन मुझे भी डर पाएंगी । पी जी माता पिता नहीं कोई दोस्त नहीं है और जिंदगी में कोई प्यार व्यार नहीं । मेरे जीवन में कोई ऐसी आती नहीं है और न ही मैं चाहती हूँ । मैं हर रोज संदेश, फोटो वगैरह मिटा देती हूँ ताकि उनसे जुडी कोई याद ना बन पाए । यादी किसी को किस कदर नुकसान पहुंचाती हैं ये मुझे पता है । अब तो मैं समझ आया कि मैंने अपने को खुशकिस्मत क्यों कहा था । मेरे पास खोने को कुछ भी नहीं है और तुम्हारे पास खोने को सब कुछ है । सारा ने का दोनों ने अपना जागर बम शॉर्ट निकला । तीन जो पिछले पंद्रह मिनट में चौथा था । ऍम तो ये संकेत है तो तुम क्या मेरे साथ इसलिए ब्रेकअप करना चाहती हो कि किसी दिन हम दोनों में से कोई एक मर जाएगा और जो बच जाएगा उसके लिए जीना दूबर हो जाएगा और बाकी सब भी मर जाएंगे । नहीं मेरे कहने का ये मतलब नहीं था । सारा ने अपना सिर हिलाकर ये बात कहीं । त्यौहार आपको जिंदा रहने की वजह देता है । पटाई आपने आपने मौत की वजह होती है । केवल मनुष्य की मौत नहीं बल्कि भावनाओं की मौत उम्मीदों की मौत और किसी भी संबंध में निश्चितता की मौत । हनुमान ने कुछ दार्शनिक अंदाज में कहा है, रात को वजह देती है क्या आप अपने को उन सब चीजों से अलग कर लो जो बाद में आपको तकलीफ दे सकती हैं । यह आपको अपने एक अलग व्यक्तित्व का अहसास कराता है । जवाब जिंदा रहते हैं । जब पढते हैं तब ये बहुत कम तकलीफ देता है । अब तक दोनों पर शराब का सुरूर चढ चुका था । आप अपना दिल खोलकर बातें कर रहे थे । जिंदगी को कुछ मौके देना जरूरी है । जिंदगी अपने आप एक मौका है अपने को खोज पाने का और आप दफ्तर रास्ता बीच में नहीं छोड सकते । क्या बिहार में बढने से कोई अपना रास्ता भटक जाता है? क्या प्यार नहीं करने से कोई अपना रास्ता ढूँढ लेता है? थोडा मैंने सवाल का जवाब नहीं दिया तो मैं ऐसे और उलझा रही हो । इससे हम किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंचेंगे । उन्होंने रेटर से साम बुक का शॉट लाने को कहा । अब तक रखाने के लिए कुछ ऑर्डर नहीं कर रहे थे । केवल उनकी बातचीत बढ रही थी और उसके साथ ही उनका बिल भी बढता जा रहा था । मुझे लगा था कि तुम अब तक समझ चुकी होगी कि मैं कुछ सवालों का जवाब नहीं देना चाह रही थी । कुछ प्रश्न अनुत्तरित ही रहने दो । अगर उनके जवाब अपने आप ही मिल जाते हैं तो वे सवाल अच्छे हैं । लेकिन अगर उनके जवाब अपनी आप नहीं मिलते तो उन्हें हवा में ही तैरने दो, उन्हें अनुत्तरित ही रहने दो क्योंकि किसी दिन फिर कोई ना कोई यही सवाल इस उम्मीद के साथ करेगा कि उसे इसका सही उत्तर मिल जाएगा और अंदाजा करो क्या होगा जिस दिन किसी को सही उत्तर मिल जाएगा, उस दिन समझ लेना कि इस दुनिया में छोटे लोग ज्यादा आएँ और सच्चे का क्योंकि ये सवाल एक ऐसी चाल है जिसका कोई जवाब ही नहीं । लेकिन किसी ने फिर भी जवाब देना चाहा तो और किसी ने झूठ बोला कि इसका उत्तर मिल गया है मैं तुमसे कभी झूठ नहीं बोलूंगा । अरमान ने कहा और उसकी आखिर बिहार से भरी हुई थी । सारा के प्यार से तुम कह सकते हो कि तुमने कभी झूठ नहीं बोला लेकिन तुम ये नहीं कह सकते की तुम कभी झूठ नहीं बोलोगे । ऐसा बोल कर तो पहले से ही किसी दिन तुम्हारा झूठा साबित होने की संभावना बन जाती है तो बहुत ज्यादा ऍम रही हो क्योंकि मैं तो मैं कुछ समझाना चाह रही हूँ । उसने कहा और आगे बढने से पहले कुछ रुकी तो बहुत बार लोगों का प्यार पाया होगा लेकिन तुम दोबारा बिल्कुल उसी तरह का प्यार नहीं पा सकते । वैसे किसी के अनुसार प्यार किया है । कुछ चुंबन, कुछ न्यायिक ही नजदीकी शरण । उसने कहा और पता नहीं क्यों बहुत निराश दिखाई पडा । सबके बीच दिया गया चुमन तो मैं कभी हमेशा के लिए नहीं बन सकता । लेकिन जब तुम हो रहे हो तभी कांत में तुम्हें बाहों में भर लेना । ये होता है सच्चा प्यार । तो फिर मैं हमेशा सोचती हूँ कि आखिर मुझे ऐसा किया था की तो फीस प्यार में पड गए । सारा ने अपनी भव्य चढाकर पूछा मैं तुम्हारे साथ तभी प्यार में पड गया था जब तुम बहुत कुछ कर रही थीं जिनके बारे में तो मैं खुद भी नहीं पता था कि तुम कर रही हूँ । अरमान ने कहा ये बिल्कुल एक लेखक का जवाब है । सारा लगभग खास पडी है लेकिन अनुमान बहुत गंभीर नजर आ रहा था । उन्होंने उस रात का अपना पहला नाचो खाया । खर सारा ने देखा कि अरमान की आंखे नींद नेता भी एवं बिहार से भरी हुई थीं । उसकी आंखें कुछ कह रही थी जिनका बहुत गहरा होता है । उसकी भावभंगिमा उससे नहीं जाने को कह रही थी और इस की छुट्टी उसे समझा रही थी कि अगर उसने जाने का फैसला किया तो इससे एक खालीपन पैदा हो जाएगा । उस हवा के साथ लेहरी रेस्ट्रों के पांच तक चली आ रही थी जिसके छींटे से अपने चेहरों पर महसूस कर रहे थे । इसके साथ ही सारा और बहुत लग रही थी । सारा एक ऐसी हवा लग रही थी जिसका अपना कोई परिवार नहीं है या जहाँ जाती है वहीं पर मैं परिवार बना लेती है । इसी हवा जब कभी पीछे नहीं लौटीं और सबसे शांत पानी में भी तूफान ला सकती है और सबसे तेज जल्दी आप को भी हो जा सकती है । ऐसी हवा जो बना भी सकती है और बिगाड भी सकती है लेकिन स्वतंत्र है । सारा स्वतंत्र थी और हवा चाहे की साबित तटपर बनी रहना चाहिए लेकिन पूर्णिमा की रात में जब ये बहती है तो सबसे अच्छी होती हैं । पूर्णिमा की रात थी लेकिन शांत चंद काले बादलों और उग्र हवा के बीच कहीं छुपा हुआ था । अरमान उस रात काले बादलों से उतना नहीं डर रहा था जितना कि उग्र हवा से घबरा रहा था । साथ काफी समय तक चुप रहे । ऐसा लग रहा था कि शराब और उसका नशा अब कर रहा था । कुछ देर बाद सारा ने कहा हमारे बीच अभी भी सब ठीक ठाक हेरमन फॅस मेरे मन में आये कुछ विचार थे मैंने कहीं रात को दोष तो मुझे नहीं । उसने कहा और मुस्कुरा गई । अरवानी सिंह ने उसकी आंखों में झांक कर देखा । उसके लिए यह विश्वास करना कठिन हो रहा था कि यह सिर्फ शराब का असर था, कुछ और नहीं पक्का ये सिर्फ शराब पीकर कहीं हुई कुछ बातें थी । मुझे पूरा विश्वास है कि इसमें ज्यादा असर शराब का ही था । सारा ने कहा अरे रोमांचक रहा गया ऍम हो कुछ नहीं तो जो कुछ रह से बनाए रखते हो फिर बहुत अंधेरे और गहरे होते हैं । सुनो हर इंसान की जिंदगी में कुछ ऐसे रहे होते हैं, दे रहे से आपको चकित कर सकते हैं । आपको चोट पहुंचा सकते हैं और आप को तोडकर रख सकते हैं । लेकिन मैं बस इतना चाहती हूँ की तो मैं बात समझो । ऐसे समय में तो अकेले नहीं हूँ और तुम कभी भी अकेले नहीं रहोगे । ऐसा नहीं है की तो मैं तीन मजबूत नहीं हूँ । ऐसा नहीं है कि तुम इतने मजबूत नहीं हूँ तो वहाँ पे ना बढ सकती हूँ । लेकिन ये है तुम्हारे अति संवेदनशीलता है कि मैं सुन्दर अतीत को बोलने नहीं दे रहे हैं । कार्य सौरी मेरा मतलब है कि मैं बहुत सी बातें अपने अतीत के अनुभव के आधार पर कह देता हूँ और हो सकता है कि वैसे लगती हूँ कि शायद तुम्हारे लिए हैं लेकिन मैं तुम्हारे लिए नहीं होती थी । मेरी हो अगर मेरे शब्दों एवं हाव भाव से तो मैं कुछ और भी लगा हूँ तो प्लीज मुझे माफ कर दो । सारा अपनी जगह से उठकर अरमान को अपनी बाहों के घेरे में ले लेती है और लगातार उसे चुनने लगी । मैं अपने आसपास बैठे लोगों से भी खबर थी । उसने उनकी चढी हुई भागों की भी परवाह नहीं की । सीधे अरमान की आंखों में देखती रही और उसे लगातार चूमती रहीं । उन्होंने देख चुका आया और जल्दी से घर पहुंचे । उसके बाद उन्होंने अपने प्यार का इजहार किया । अरमान ने महसूस किया कि ये अब तक का सबसे अच्छा अनुभव था । यह नहीं कि आप किसके साथ सोते हैं बल्कि जवाब होते हैं । तब आपके सपनों में कौन होता है? शरमाने अपने आप से कहा जब है उसके बगल में सोई तब उसने अपनी छोटी उंगली उसकी तर्जनी में फसा रखी थी मानो उसका अर्थ चेतन मस्तिष्क नहीं चाहता कि वह जाए छोडो जिंदगी में छोटी छोटी बातों को लेकर गंभीर मत हो जाये करो । सारा ने आंखे बंद करते हुए कहा हमारे जीवन की सबसे महत्वपूर्ण बातें मैं इस कोई चीज नहीं होती । उस ने कहा और उस दिन के सारा के व्यवहार के बारे में सोचना लगा । उसमें से अधिकतर बातें उसने अपने पिछले संबंध के आधार पर कहीं थी और अरमान का भी ऐसा ही मानना था । लेकिन उसका पिछला संबंध सारा के साथ उसके संबंध को कुछ हद तक प्रभावित कर रहा था जिससे वह बर्दाश्त नहीं कर पा रहा है । उसने बाहर आकाश की ओर देखा । उसने देखा कि बाहर तेजी से बादल गडगडा रहे हैं और बिजली कडक रही है । लेकिन बादलों की गर्जना, उसके अंदर चल रहे तूफान से कहीं अधिक शांति, उसकी नजर एक डायरी पर पडी उसकी डायरी की तरह ही रह गए लेकिन ये जाएगी उसकी नहीं थी तो सारा की डायरी थी । यहाँ पे बात करती थी, लिखती थी और अपने को अभिव्यक्त करती थी । डायरी के पन्ने धन लें और पीले लग रहे थे लेकिन उन पन्नों में ऐसे अनेक रहस्य छुपे हुए थे जो कभी सहारा से नहीं पूछेगा और हो सकता है कि वो अपने आप कभी उसे बता भी नहीं पाएगी । उसने कभी भी किसी के व्यक्ति का जीवन में तांकझांक नहीं की थी लेकिन उसने आज इससे पडने का फैसला किया क्योंकि उसका जीवन काफी कुछ इस पर निर्भर करता है । उसने पहला पन्ना पडता और उसे पडने लगा । कुछ रहता था तो मुझे आगे बढने के लिए जरूरी है चल मैं खडी रही हूँ तो मुझे टका देना और जब गिरूं तब मुझे विश्वास पैदा करना पूरी ताकत बनाओ । व्यक्ति बहनों जिसकी ओवर में उस समय देखो जब मैं ही रही हूँ और जो व्यक्ति बनूँ जिसे जम में खुश हूँ तब सबसे पहले गले लगा हूँ मेरी ताकत तब बनना मेरा बॉयफ्रेंड मुझसे नाता तोड दें मेरी ताकत तब बनना चल मैं अपना जीवन खत्म करने का निर्णय करूँ मेरी ताकत अपन ना चल मेरे नजदीक ही लोग मच्छी दूरी बना लें और मेरी ताकत तब बनना जब कोई भी मुझे ना समझ पाए । कुछ पूरी तरह तुम्हारी जरूरत है क्योंकि जब मैं जोर जोर से हसु तो मुझे किसी ऐसी की जरूरत है जो इस पागल पन में मेरा साथ दे सकें । मुझे तुम्हारी जरूरत होगी । अच्छा मैं होंगी । मुझे ऐसे व्यक्ति की जरूरत है तो मुझे चांटा मार सकें और मुझे बता सके कि जिंदगी खत्म नहीं हुई है । मेरे लिए और अच्छी चीजें मेरा इंतजार कर रही हैं । मुझे तुम्हारी जरूरत है क्योंकि जब इस दुनिया में किसी पुरुष और महिला के बीच कोई और संबंध नहीं समा जाता तब मैं उन्हें दिखा देना चाहती हूँ की ये बहुत गलत है । मुझे तुम्हारी जरूरत है क्योंकि मैं अपने जीवन में एक सच्चा लिखता चाहती हूँ । मुझे सारी ताकत दो तो मेरे चलते रहने के लिए जरूरी है क्योंकि मुझे अपनी सिद्की जी जी हैं, अपने सपने पूरे करने हैं, लोगों को खुश रखना है और मैंने अभी भी उस व्यक्ति से मिलने की उम्मीद नहीं छोडी है जो मुझे मुझसे ज्यादा समझ पाएगा ।

Part 25

उनतीस अगस्त जिंदगी गिरफ्तार कई बार दिल की धडकनों से अधिक तेज होती है । बहुत सी बातें होती है जब कभी आपको सही लगती है तो अभी आपका कुछ गलत लगता है । आप उम्मीद करते हैं कि आपकी जिंदगी उत्साह से भरी शानदार हो लेकिन ये कभी आपको खुश करती है तो कभी आपको निराश करती है । वो यहाँ वहाँ आपको जिंदगी जीने के लिए और परिपक्व बनाते हैं और ये जीवन भर आपको याद रहते हैं । पांच । जिंदगी में जब बिल्कुल निराश हो चुके होते हैं तब चमत्कारिक रूप से आपको हिम्मत देते हैं । हम सब हमेशा जैसे विचार को काफी पसंद करते हैं क्योंकि ये कहने और चर्चा करने के लिए बहुत अच्छी की है । लेकिन साथ ही हमें ये भी पता है कि हमारे जीवन में जो कुछ भी आता है सब कुछ हमेशा के लिए नहीं होता । हमें जब जरूरत पडती है तब तो चीजों को पीछा छोडना पडता है और बेहतरी के लिए आगे बढ जाना पडता है । तो आप अपने जीवन में सब कुछ लेने की चाहे कितनी भी कोशिश क्यों ना करें, कुछ ना कुछ जरूर आपके दिमाग में घूमता रहता है । फॅमिली हो जाना चाहा था उसके लिए चकित होना या किसी को चकित करना मनमोहक बात थी । हो किसी ना किसी कारण से मैं सोचता था आप क्या अचानक कुछ मिलना या होना वादों से कहीं बेहतर है क्योंकि सारा उसे कोई वादा करने को तैयार नहीं दिख रही थी और वह भी कोई उम्मीद नहीं करना चाहता था । लेकिन ऐसा व्यक्ति बनना चाहता था जो अपनी तरफ से निश्चित रूप से कोई उम्मीद तो ना करें लेकिन उसे बैठने में कुछ न कुछ मिले । जरूर मैं जो कुछ कर सकता था अब उसने किया । लेकिन ये है तो उसकी स्वभाविक इच्छा है कि रह सारा से किसी दिन उसी तरह के प्यार की उम्मीद रखता है जैसे कि रहे उसे दे रहा है । अगर कोई उससे उसके भविष्य के बारे में उसका अनुमान पूछे तो कुछ नहीं कहेगा और जो कुछ उसकी किस्मत में है, मैं अपने जीवन गौर से चकित कर देना चाहेगा और हो सकता है कि है सुंदर यात्रा हूँ । उससे याद किया क्या जाना, कुछ मिलने या होने से कैसा लगता है । उसने अपने माता पिता के जॅान सुंदर सके एक लाकर और उनका कमरा सजाकर उन को चौंका दिया था तो उसे याद आया कि कैसे उसके दोस्तों ने एक जोड की तरह मध्यरात्रि में उसकी छत फांदकर उसके कमरे का दरवाजा खटखटाकर उसे चौंका दिया था । उसे याद आया कि कैसे आपने पहले आकर्षण को दोनों के बीच सबकुछ ठीक करने के लिए सौरी कहने के इरादे से उसने पहली बार उस समय फोन कर चौंका दिया था जब ऐसी कोई उम्मीद नहीं थी हूँ । उसे याद आया कि कैसे पांच साल बाद अचानक उसने अपने दादा जी को हैप्पी बढते कहकर उन्हें चौंका दिया था और उनकी आंखों में आंसू आ गए । उसे याद आया हूँ कि बारह साल बाद अपने शिक्षक के घर जाकर कैसे उसने उन्हें चौंका दिया था । उसे याद आया हूँ की पहली बार स्काई डाइविंग के लिए दस हजार मीटर की ऊंचाई से छलांग लगाकर उसने अपने आप को ही कैसे चौका दिया था । उसे अपनी है । यादव याद आई जिसमें रह लोगों को जो मिलना चाहिए उन्हें उस समय देकर चौंका देता था जब ये उससे उसकी सबसे कम उम्मीद करते हैं और अब पहली बार उसमें कोई उम्मीद नहीं की । मैं उसे चौंका देने वाली किसी चमत्कारिक घटना घटने की उम्मीद कर रहा था हूँ । जैसे ही उसमें खिडकी खोली उसे समझाया कि बरसात हो रही है । सुबह से बहुत तेज बारिश हो रही थी । उसने टेलीविजन पर एक खबरों वाला चैनल लगाया और देखा के पैनल के कुछ लोग एक दूसरे पर चला रहे हैं क्योंकि मुंबई में उस दिन पिछले एक दशक में सबसे अधिक बारिश हुई थी । मुंबई की हालत का देशभर में असर पडता है और ऐसा लगता है कि हर जगह के लोग इससे प्रभावित होते हैं और इससे जुडे होते हैं । सभी चैनलों पर प्राइमटाइम की खबर आ रही थी । मुंबई के विभिन्न भागों में पहले पत्रकार बाढ के दृश्य दिखा रहे थे और स्थानीय परिवाहन पूरी तरह ठप पड गया था । सोशल मीडिया पर बाढ से एक से एक चिंताजनक चित्र आगे आने लगे थे । मुंबई में पिछले बारह घंटे में साढे चार सौ सेंटीमीटर वर्षा हुई थी । मुंबई बिल्कुल ठप पड गई थी । ग्रेटर जाम हो गए थे । राज्य सरकार अभी भी पानी के पंपों की बात कर रही थी जिनका है उपयोग कर रहे थे । विपक्षी है बोल कर कमियां खोजने में व्यस्त था कि जब स्वयं सत्ता में थे तब उन्होंने भी कोई खास काम नहीं किया था । मंत्री ये सुनिश्चित करने के लिए हवाई सर्वे कर रहे थे, किस ठीक ठाक है जो कि वास्तव कहा नहीं था । रेललाइनों में पानी भर जाने से पश्चिम हार्बर और मध्य रेलवे की ट्रेनों का परिचालन रोक गया । टैक्सी ओला उबर क्या और तो पानी से लबालब भरी सडकों से नदारद थे । फोन शायद ही कहीं कहीं मिल पा रहे थे और लोग मोबाइल की बैटरी खत्म होने की स्थिति में आने को लेकर चिंतित हैं । ऐसा लग रहा था कि अधिकारियों को कोई परवाह ही नहीं थी । टेलीविजन के आयंगर लगातार चलाए जा रहे थे । जो लोग घरों से नहीं निकले थे, ये अपने को खुशकिस्मत मान रहे थे । बहुत से बच्चे स्कूलों में ही फंसे हुए थे । नहीं नहीं पता था कि वे गावं में माता पिता से मिल पाएंगे । लोकल ट्रेनों के यात्रियों ने मुंबई की जीवन रेखा लोकल ट्रेनों में ही बना ली थी क्योंकि वही एकमात्र सूखा और सुरक्षित स्थानों ने मिल पाया था । लोग अपने अपने सगे संबंधियों को फोन कर पता कर रहे थे कि वे ठीक ठाक हैं और लोग तब भी कह रहे थे कि यह बारिश जुलाई दो हजार पांच की बारिश जितनी भयंकर नहीं, क्योंकि अब तक किसी की मौत नहीं हुई है । बारिश में बहुत सी कार्य फंस गई नहीं और स्टार्ट नहीं हो पा रही थी और मुंबई में जगह जगह मिट्टी रचना आम बात हो गई थी । इससे यातायात बुरी तरह प्रभावित हो रहा था । वहाँ ऐसे लोग भी दिखाई पड रहे थे जो बारिश में एक दूसरे को ताक रहे थे । आर जे बारिश की ताजा स्थिति बताने में बहुत व्यस्त थे । मुंबई की सरकार ने अगले दिन स्कूल और कॉलेजों में छुट्टी घोषित कर दी थी । हालांकि ऑफिस जाने वालों के लिए ऐसा कुछ नहीं था । भारत में ऐसी दलील है कि स्कूल और कॉलेज के छात्र भारी बरसात को नहीं कर सकते हैं लेकिन फिर जाने वाले ऐसा कर सकते हैं । ये एक ऐसी दलील है जिससे हर भारतीय अभी भी समझने की कोशिश कर रहा है । हमेशा की तरह आज सुबह भी मुंबई की बारिश मुंबईवासियों के हौसले की तारीफ के साथ शुरू हुई और उसके बाद सोशल मीडिया पर जगह जगह पानी भरने के चित्र आने लगे । एक घंटे बाद लोग बारिश से जूझ रहे थे और सडकों पर यातायात को नियंत्रित करने की कोशिश कर रहे थे ताकि वो सुरक्षित घर पहुंच पाएंगे । हाँ, अलग से जुडे कुछ फोटो आने के बाद न्यूज चैनलों ने एक बार फिर ऐसी हेडलाइन बनाई जिससे मुंबईवासियों के हौसले की तारीफ की गई थीं । मुंबईवासी जहाँ यहाँ फसे लोगों को अपने यहाँ पनाह देने की पेशकश कर रहे थे । उन्हें भोजन की भी पेशकश कर रहे थे, इंटरनेट में सहायता की पेशकश करते हुए संदेश भरे पडे थे जिसमें लगभग सब ने अपने फोन नंबर और पते दे रखे थे । उस दिन से आज ना भी अच्छे दोस्त ऍम व्यक्ति ने बारिश बंद होने के लिए प्रार्थना की । कहीं जोर जोर से ठंड था तो कहीं सच्चे दिल से की गई उम्मीद थी । शहर में जो कुछ भी हो रहा था और शहर के लोगों के हौसले की परवाह किए बिना शाम को बारिश की हालत और खराब हो गई । भारत की कथित कारोबारी राजधानी एक बार फिर खस्ताहाल थी । आप लोग हमेशा चाहते हैं कि मुंबई शंघाई की तरह बने लेकिन इस वक्त इस की हालत एक ऐसे गांव जैसी थी जिसमें बांध का पानी भर गया हो । एक शहर जहाँ एक अपार्टमेंट खरीदने में लाखों रुपये लगते हैं, वहाँ सिर छुपाने की जगह नहीं मिल पा रही थी । जैसे जैसे रात बढ रही थी बारिश ही तेज होती जा रही थी । कोई नहीं जानता था की है क्योंकि भी या नहीं ये प्रगति का लोगों से यह कहने का तरीका था कि मैं उससे छेडछाड करना छोड दें । लेकिन लोकल ट्रेन में बूढे लोग थे जो हो रही थी सडक पर दिखा रही थी जिन्हें चर्च पानी की कोई जगह नहीं मिल पा रही थी । ऐसे लोग थे जो ट्रैफिक में फंसे हुए थे और नेटवर्क मिलने की कोशिश कर रहे थे ताकि वो अपने परिवार को फोन कर सके और कम से कम उनको बता सके कि वह ठीक है । गूगल मैं बता रहा था कि ग्राफिक में सात घंटे का विलंब होगा । ऍफ सेवाएं मात्र कुछ दूरी के लिए हजार रुपए मांग रही थी । न्यूज चैनलों ने मरने वालों की संख्या बताना शुरू कर दिया हूँ और इसके साथ ही स्थिति डरावनी हो गई हूँ । अरमान ने सारा का नंबर मिलाया और उसका नंबर नहीं मिल रहा था और मान्य उसको एक संदेश भी पहुंचा लेकिन वह भी उस को नहीं मिला । बादलों की तेज गडगडाहट जा रही थी । उसको बिजली गढती दिखाई पड रही थी । इससे पहले उसने प्रकृति का इतना विकराल होती नहीं देखा था । उसकी माँ का फोन आया अरमान तो ठीक है बेटा उसकी माने चॅू अच्छा हेमा मैं बिल्कुल ठीक हूँ । तुम कहाँ हो मैं घर पर बहुत अच्छा । उन्होंने कहा राहत के साथ नहीं । किसी भी कीमत पर बाहर मैं चला और मुझे संपर्क बनाए रखना ठीक है । बेटा ठीक है, माँ में नहीं जाऊंगा । उसने कहा लेकिन मैं सारा की चिंता में ही डूबा हुआ था । क्या तुम्हारे पास पर्याप्त राशन होगा? वहाँ भी मरने नहीं जा रहा हूँ । फरमान ने कहा और उसकी माँ फोन पर ही रोने लगी । किसी कभी ऐसी बात ॅ उसकी माँ ने कहा तो मैं किसी तरह शांत नहीं हो रही थी । सारी मम्मा लेकिन प्लीज क्या तुम मत से इतने सवाल करना बंद कर होगी । उसने प्यार से कहा ठीक है लेकिन वो अपना ख्याल रखना । नाना ने कहा फोन काॅल ते लगातार सारा को फोन मिला रहा था लेकिन उससे संबंध नहीं हो पा रहा था । उसमें ऍम फोन मिलाया ऍम उसने कहा कि वह भी पिछले दो घंटे से सारा का फोन मिला रहा है क्योंकि है दिन में दो बजे के बाद ऑफिस से निकल गई थी । ऍम लग रहा था विक्की का नंबर पहुंचे बाहर आ रहा था हूँ । अरमान को पानी से डर लगता है । असल में अधिकतर मेरे सपने में भी देखता था कि किसी का पानी के नीचे दाम घट रहा है और ये तो पता चला जा रहा है कोई ऐसा जिसे मैं बहुत प्यार करता है । ये तो ये जानना चाह रहा था जो सहायता मांग रहा था और चारों ओर डरे हुए लोगों से सपने में दिखाई पडते थे । लेकिन कोई भी अपनी जिंदगी खतरे में नहीं डालना चाह रहा था । उसे हर बार उस महिला या पुरुष का चेहरा दिखाई पडता था । जो पानी से बाहर आना चाहता था वो लेकिन लहरें उसे वापस ले जाती थी लेकिन दो मिनट से भी कम समय में वह व्यक्ति नजरों से ओझल हो जाता था । हमेशा चलता और हिलाते हुए उसके नींद टूट जाती थी वो । अब तो उसके पास इसका भी कोई हिसाब नहीं रहा कि उसने कितनी बार ये सपना देखा था । हो सकता है कि उससे भी ज्यादा वायॅर हर बार जब भी रहे ये सपना देखता था । उसे तो इससे उबरने में काफी समय लग जाता था तो उसके लिए सांस लेना कठिन हो जाता था । उसके फेफडों में घुटन भर जाती थी । मानूं की कोई सपना नहीं बल्कि सच्चाई है जो उसकी जान निकाल देती थी । दो बार बार सारा को फोन में ला रहा था और वह बहुत से बाहर आ रहा था । उसने उसकी डायरी उठाई और उसका दूसरा पन्ना पडने का निर्णय किया हूँ । आपका हम ने मुझे अगली बार के लिए स्वीकार कर लिया होता तो हमारी जिंदगियां बहुत अलग होती । ऍम ने एकता है सुना होता हूँ की मुझे क्या बोलना है तो खाने बहुत से सुंदर बाल सजा होते हैं । फॅमिली बार बोलने दिया होता तो नहीं हमारे बिहार पर अफसोस नहीं हुआ होता हूँ कुछ अपने प्यार की हर छोटी बडी बात याद है । कैसे शुरू हुआ हूँ किसी ऍम? लेकिन मुझे ठीक किया नहीं पता हूँ की है कैसे पर क्यों खत्म हुआ हूँ । क्या वापसी की कोई गुंजाइश है? उन वालों को फिर जीने का क्या कोई संभावना है? क्या कोई उम्मीद है वो वक्त वो वही वापस लौटा ले जाने की ताकि सभी बहस से लडाइयाँ ऍम जहाँ मुझे कुछ कहना चाहिए था, उन सब को हम सही कर सके । मैंने सुना है कि हम अपना पहला प्यार कभी नहीं बोल सकते लेकिन अभी किस का अनुभव करना बहुत कठिन है । मुझे तो मैं खोने का डर नहीं । मुझे फिर भी तुम्हारा साथ नहीं मिल पाने को लेकर बहुत डर लग रहा है । तुम्हारे साथ । फिर कभी नहीं होने की बात सोचकर उन अधूरे सपने को फिर कभी पूरा नहीं कर पाने की बात को सोचकर फिर कभी पूरे दिल से खुश न हो पाने की बात को सोचकर ऍम कभी अपने प्यार को नाना जी पानी की बात सोचकर भी पूरी तरह निराश हो जाती हूँ । अगर मुझे कभी भी तुम्हारे साथ एक और दिन जीने का मौका मिला कभी भी आज हमारा आखिरी दिन हुआ तो मैं हर चीज के लिए माफी मांगती हूं तो मैं सारी खुशियां देखकर आश्चर्यचकित करती थी तो मैं कभी न छोडने के लिए चुंबन देती ऍफ उसे अपने प्यार का इजहार किया होता हूँ और उसके बाद उम्मीद करती हूँ कि तुम कभी मुझे छोड के नहीं जाते हो तो हर एॅफ बार मुझे उस समय जीत लिया था जब हम पहली बार मिले थे और मैंने अपने को पूरी तरह तो मैं सौंप दिया था क्योंकि मुझे पता था कि तुम्हें व्यक्ति हो जिसके साथ मैं अपनी पूरी जिंदगी पिता देना चाहूंगी । मैं तो मैं बताउंगी की ये सही है की काफी ॅ हो जाती हूँ । लेकिन उसके बाद मैं हर मैंने तब मोबाइल देखती रहती हूँ और जिस रात तो मेरा फोन नहीं उठाते हैं तो मैं सोई नहीं । पार्टी अगर एक आखिरी बार तो मुझे स्वीकारकर शो तो मैं तुम्हारे पास आऊंगी हूँ तो मैं बताउंगी । फॅमिली जिंदगी में एकमात्र व्यक्ति हो, ऍम करती हूँ और शायद कोई और भी मुझे इतनी खुशी ना दे सके तो मैं मुझे तीन हो सकता है कि इनमें से बहुत सी चीजों में मैं विफल रही हूँ । लेकिन मैंने काफी कोशिश की फॅस की बिल्कुल दिल कहता है कि तुम्हें यहाँ होना चाहिए । पिनटेल कहते हैं की धूम मेरे साथ सबसे ज्यादा खुश रहोगे हूँ । मेरे दिल कहता हैं कि कोई चमत्कार होगा लेकिन तुम्हारा तैयार कितना कह रहे ऍम लौट करा सकें द भी तुम समझ सकोगी की है यार कितना गजब होता ऍम मैं ।

Part 26

अरमान में पिछले आधे घंटे में दसवीं बार सारा को फोन मिलाया । लेकिन उसका फोन अभी भी नेटवर्क से बाहर था । उसने फिर से सारा की डायरी पढना शुरू कर दी । सत्यम तुम्हें पता है कि मेरा पालन पोषण तो उसे किसी भी और से अलग हैं । मैंने तो मैं कई बार बताने की कोशिश की इस दुनिया से मेरा लेना देना कम है और अपने से ज्यादा हैं । प्यार पाने की चाहत में क्या ये समझने की कोशिश में कि वास्तव में ये है क्या मेरे मन में प्यार के प्रति एक सौ रुपया पैदा हो गया है? और फिर भी तुम ने मुझे समझने की कोशिश नहीं की । मैंने तुमसे केवल इतना ही चाहता हूँ तो मुझे कम से कम एक बार समझे और तुम उसमें विफल रहे हैं । अगर तुम केवल एक बार मुझे समझ पाते तो स्थिति बिल्कुल अलग होती है । अगर तो मुझे समझ पाते हैं । मैंने कहा था कि मैं अपनी भावनाएं अपने तक ही रखती हूँ क्योंकि किसी के लिए भी मुझे समझ पाना कठिन है । तुमने मुझे समझने के अनेक वादों के साथ मुझ पर गुप्त बातों को जाने के लिए बाहर बाहर दबाव बनाया । तुम्हें जो कुछ भी किया मैं तो बहुत सी अन्यायपूर्ण बातों में से एक और था जब मैंने कहा था कि मेरे विकल्पों को जाने बिना मेरी पसंद ना पसंद पर कोई निष्कर्ष मत निकालो । ठीक है तुम नहीं केवल एक बार मुझे समझा होता मुझ से बार बार बदलने के लिए कहने की बजाय काश आ कर तो मेरे रहस् मेरी दलीलों और उससे जुडी मेरी असहाय स्थिति को समझ पाती तो मुझे होंगे उससे पहले मैं तुम्हारी कल्पना के अनुरूप तुम्हारा बिहार बनने की कोशिश में अपने को खुद होंगी । जब कोई मुझे नहीं समझ पाया था ऍम अगर तुम समझ पाते तो मैं साबित करके दिखाते की मैं इतनी खराब नहीं हूँ जितना तुम मुझे समझते होंगे । काश तुमने मेरा गुस्सा और मेरी दलीलों को समझा होता । तुम समझ पाते कि मात्र अभिव्यक्ति थी, किसी को नीचा दिखाने की कोशिश नहीं । जब मुझे सबसे ज्यादा जरूरत थी अगर केवल तब तुमने मेरे पक्ष में रुख अपनाया होता तो मैं ये सुनिश्चित करती कि जब तो मैं मेरी सबसे ज्यादा जरूरत होगी, तब मैं तुम्हारे बारे में कोई निष्कर्ष निकाले बिना हमारे साथ खडी रहती है । जब हम पहले दिन मिले थे तब तुम्हें जितने वादे किए थे उसमें से अगर आती भी तुमने निभाए होते हैं तो मैं ये सुनिश्चित कर दी कि उनको लेकर तुम्हें जिंदगी में कभी अफसोस ना करना पडे । ठीक हमारे बीच की लडाई को खत्म करने के लिए जब मैं अपने अहम को किनारे रखकर तुम्हारे पास आती थी, कहाँ है? तुमने समझा होता कि मेरा आशय केवल एक वादे से था और कुछ नहीं । कुछ अपने निर्णय के बारे में निश्चित होने के लिए केवल कुछ समय की जरूरत थी । नहीं समझना चाहती थी कि आखिर में किधर बढ रही हूँ और यह सुनिश्चित करना चाहती थी कि दिल नहीं टूटेगा लेकिन तो मुझे भी नहीं दे सके । अगर तुम एक दिन के लिए मेरी जिंदगी जी सकते हैं एवं समझ पाते कि किसी को भी और तुम सहित हर एक को खुश रख पाना कितना कठिन? तब तुम समझ पाते कि क्यों कई बार में ऐसा नहीं कर पाती थी । अगर तुम समझ पाते कि ये ईमानदारी और अपने लिए थोडी जगह मेरे लिए क्यों इतनी महत्वपूर्ण है तो तुम कभी भी मेरे व्यवहार में रूखापन होने की शिकायत नहीं करते हैं । में झूठे वादे करने और कभी भी ऐसी कोई कोशिश नहीं करने की बजाय कभी न कभी तुम्हारी उम्मीदों पर खरा उतरकर तो चौंका देने की कोशिश करती । अगर तुम समझ पाते हैं कि प्यार का किताबी ज्ञान से कम ही लेना देना होता है बल्कि ये भावनाओं पर वहाँ कोशिश और ईमानदारी आंखों में झलकते अहसास से जुडा होता है । अगर तो मुझे समझ पाते हैं तो तुम मुझे कभी नहीं होते हैं । कभी तो भारी रही सही है हूँ ।

Part 27

ऍम हूँ और फिर से टेलीविजन चला लिया । उसे केवल दिनभर की शहर के विभिन्न कोनों की चिंताजनक तस्वीर दिखाई पड रही नहीं मिला । गलत चैनलों में विभिन् हेल्पलाइन नंबर दिखाया जा रहे थे लेकिन ऐसा लग रहा था कि उनमें से कोई भी काम नहीं कर रहा था । ऊँट अरमान ने उन पर कई बार फोन करने की कोशिश की तो उसने फिर सारा का नंबर मिलाया हूँ । ऍम किस्मत से उसका नंबर मिल गया । फॅालो सारा ने कहा और अरमान ने राहत की सांस ली । तुम भी तो होना सारा हार मान चिंता मत करो । मेरा नंबर ठीक से काम नहीं कर पा रहा है और हालांकि में जुहू बीच के निकट फंसी हुई हूँ । लेकिन मैं ठीक हूँ, यहाँ ऍम है और इसका निकल पाना असंभव लग रहे हैं । इसके अलावा बारिश थी जो रिया की लगता है । आज पहले करी माने की और इसके चलती रुकने के आसार भी नहीं नजर आ रहे हैं । तो अभी ठीक कहाँ पर खडी हूँ मैं पार्किंग एरिया में एक शेड के नीचे खडी हूँ जहाँ पहली बार मिले थे । याद है उसकी आवाज मौसम की स्थिति के चलते साफ सुनाई नहीं पड रही थी लेकिन इससे अरमान और सारा दोनों के चेहरे पर मुस्कान आ गई तो चीजे ऐसी हैं जिन्हें में अपनी जिंदगी में कभी नहीं बोलूंगा । मेरी बिहारी सारा ब्रेड जगह है, उस सूची में सबसे ऊपर हैं । अगर मैं वहाँ जाऊँ तो मैं बुरा तो नहीं लगी का मुझे हमेशा से पता था कि तुम ढूंढो लेकिन मेरे लिए तो अच्छे बंद हो । उस ने मजाकिया अंदाज में कहा मुंबई के लोग पानी से भरी इन सडकों को बार करने के लिए बेटा हैं ताकि किसी भी तरह घर पहुंच सकें और तुम अपनी छह से उन्हीं सडकों पर आकर फसना चाहते हो । ऍम दोनों मिलकर मूर्खता करें ये बेहतर है । इससे ज्यादे बनती है और आज ऐसे कुछ यादगार बाल बना लेने में मुझे कोई दिक्कत नहीं है । सहारा ने खुश होते हुए कहा हम तो आज बहुत गैर सारा जैसी लगती हो । कभी कभी किसी अच्छे कारण के लिए अपने को बदला लेने में कोई नुकसान नहीं है । फॅर सुनो हमेशा की तरह मेरे फोन ऍम करूंगी कि कल सुबह से पहले तो तुम पहुंची चाहोगे । मैं आज रात बारिश की परवाह किए बिना निकलूंगा और बाकी लोगों से पहले ही पहुंचाऊंगा । क्या तुम्हारे पास कोई तैयारी शक्ति है जैसे की तुम मिस्टर दिखाते हो । सारा ने चढाया और अरमान एक मिनट के लिए भौचक्का रह गया । फॅालो जानते हो मुझे सबसे ज्यादा खुशी बारें और पानी को देखकर होती है । मैं ये मौका हाथ से कैसे जाने दे सकता हूँ । मैंने अभी देखा की मेट्रो ट्रेन चल रही है और मैं वहाँ जल्दी पहुंचाऊंगा । भर मान नहीं कहा हूँ । अंधेरे में रहने का फायदा ॅ हूँ और अगर मेरा मोबाइल बंद हो जाए तो मैं पता है कि मैं कहाँ होंगे । उसने कहा ऍम कल से ज्यादा कुछ नजर आ रही थी लेकिन हमेशा यही होता है तो अच्छा वस्त्र साथ बताते हो और फिर अचानक सारा अपने संबंध के बारे में अनिश्चित हो जाती है । शुक्रिया उसकी डायरी का भी फरमान को आप बताएँ की है तैयार का फोन दिया है किसी से नजदीकी बनाने से । सिर्फ इसीलिए डरना कि कहीं उसे कैसे दिन खोना देना पडेगा । हर मानने झाडा लिया और घर से निकल पडा ऍम बाहर नहीं वहाँ जगह जगह कार्य खरीदी जो स्टार्ट नहीं हो रही थी और वहां फंसे हर व्यक्ति ने बादलों की कब से अपने को बचाने के लिए कहीं ना कहीं किसी शेड में आश्रय ले रखा था हूँ । मेट्रो स्टेशन में पानी भरा हुआ था । ऍम पहुंच से बाहर लग रहे थे । ऍम वहाँ जुटे जनसमुद्र को इकट्ठा हुआ । आगे बढा तब उसे समाज आया कि वहाँ लोग टिकट खरीदने के लिए नहीं बल्कि बस या ट्रेन में चढने के लिए खडे हुए हैं । उसमें भी टिकट खरीदने की जहमत मोल नहीं ली और ट्रेन में चढ गया । ऍम स्टेशन के बाद सीट मिल गई । तब भी मैं भी डी एन नगर मेट्रो स्टेशन से दो स्टेशन दूर था । उसने फिर साला की डायरी पढने का फैसला किया । अध्याय का शीर्षक था संबंध तोडने के एक दिन बाद फिर हत्या । हमारे अलग होने से पहले अगर मुझे तुमको कोई एक आखिरी उपहार देना हो तो मैं तुमसे सबसे पहले एक घंटा मेरे साथ बिताने को कहूँगी तो ये बताते हुए बात शुरू करूँ कि क्यों मैं तो मैं कभी नहीं छोड सकती हूँ । तुमसे होंगी कि तुम्हारे मुझ से दूर जाने का में बुरा नहीं मानूंगी हूँ । लेकिन साथी है जान लो कि इसके साथ ही तुम मेरे जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा भी ले जाओगे हूँ । मैं तुमसे कभी नहीं होंगी की मेरे पास बसा हूँ लेकिन मैं निश्चित तौर पर उम्मीद करूंगी कि तुम वापस आ जाओ । मैं तुमसे कभी नहीं होंगे । कि अगली बार मुझे तुमको प्यार कर लेने दो हूँ । लेकिन हम दोनों ने जो सुखद पल तो सारे है ना, एक साथ मैं उनका लोगों की याद को जरूर ताजा कर उनकी तो उसे अपने निर्णय पर फिर से विचार करने को नहीं हूँ । लेकिन मैं निश्चित तौर पर प्रार्थना करूंगी कि तुम्हें कभी इसका सोचता हूँ । अगर मुझे तुमको कोई आखिरी उपहार देना होगा तो उस एक घंटे में मैं तो भेज दुनिया का सबसे खुश इंसान बना दूंगी हूँ । मैं सबसे दुखी व्यक्ति हो जाऊंगी जिससे पता होगा कि इसके पास अपनी जिंदगी जीने को एक मात्र एक घंटा बचा है । वो मैं क्लब रोड सुनिश्चित करूँगी कि तुम भले ही कुछ और याद रखूं हूँ, हमारे संबंध का ये आखिरी घंटा जरूर याद रखा हूँ अगर मुझे तुम्हें कोई आखिरी उपहार देना हूँ । मैं तो मैं खुश रहने का कारण दे दूंगी तो यह जरूर सुनिश्चित करूँ कि तुम अपनी बाकी की पूरी जिंदगी खुश हूँ । अगर मुझे तो मैं कोई अखिरी उपाय हो तो मैं तो मैं फाइट होंगी । जहाँ मैंने अपने प्यार भरे खूबसूरत संबंध की शुरुआत कि पिछले दिन से आज जब हम ये संबंध तोड रहे हैं तब तक हमारे बीच हुई सभी बिहारी बातें लिखी नहीं । अगर हमारी राहे जुदा होने से पहले कुछ है, तुमको कोई आखिरी उपहार देना हो तो मैं ये पूरी दुनिया तो हर एक कदमों में लाकर रख दूंगी । तो मैं हर चीज होंगी जिसके बारे में तुम्हें कभी सोचा हूँ और उसके साथ ही एक वादा भी कि तुम्हें फिर कभी ब्रिटिश तब नहीं करूंगी । लेकिन हमारी राहे अलग होने से पहले अगर तुम्हें मुझे कोई आखिरी उपहार देना हो तो क्या तुम एक बकरी बार मेरे साथ ना चुकी? मैं तो में एक आखिरी बार मुझे चूमो के और मुझे अपनी बातों में भरोगे तो फॅमिली अभी मेरे साथ संबंध होने को लेकर अफसोस नहीं करोगे तो मुझे इस बंदे को तोडने का कोई एक वहाँ पर एक कारण बताओगे । हमारे अलग होने से पहले अगर तुम्हें कोई आखिरी उपहार मुझे देना हो तो क्या तो मेरे हाथों में हाथ डालकर समुद्र तट पर आखिरी बार मेरे साथ है सकोगे । तुमको मुझे आखिरी उपहार देना हो तो क्या तुम हमेशा के लिए चले जाने से पहले ब्लॅक होगी? एक ही बार क्योंकि मैं अभी भी तुम्हारे बारे में सोचती हूँ और हमेशा उस आखिरी उपहार के बारे में सोचती रहूँगी, कभी तुम्हारी रही सारा आजाद नगर में ट्रेन निर्धारित समय से कुछ अधिक देर तक रुकी और लगातार हिंदी, अंग्रेजी और मराठी में बार बार ये घोषणा होती नहीं हूँ कि अगला स्टेशन डी एन नगर है । अरमान अपने सीट से उठा और गेट के पास जाकर खडा हो गया तो उसने सोचा कि डाॅ से पहले मैं ढाई में जितना बढ सके पढें इस उम्मीद के साथ उसने पहनना पडता हूँ और आगे बढने लगा हूँ तो ये ऍम तुम्हारी कमी कुछ कुछ हफ्ता खलती है वो जब मुझे हाथों में हाथ डाले कोई जोडा दिखता है जब सडक के नारे किसी ढाबे में कोई जोडा दिलखोलकर हस्ता दिखता है तो मुझे तुम्हारी कमी खलती है । तुम्हारी कमी खलती है जिनमें कोई जोडा देखती हूँ तो एक दूसरे के साथ अपनी जिंदगी गुजारने की योजना बना रहा होता है । मुझे उस मैं तुम्हारी सबसे ज्यादा अधिक याद आती है तो मैं देखती हूँ कि किसी बात से परेशान लडकी को उसका प्रेमी बहुत लाड करना होता है । मुझे तुम्हारी कमी थोडा करती है क्योंकि मैंने तुम्हें बहुत प्यार किया था । कुछ तुम्हारी थोडी आ जाती है क्योंकि कोई अभी भी मेरे अंदर एक ऐसा अंश बचाएं तो मैं प्यार करना कभी नहीं छोड सकता और मुझे तुम्हारी कमी थोडी करती हैं क्योंकि मैंने किसी को ये कहते सुना हूँ कि चमत्कार होते हैं और उस समय होते हैं जब आप उनकी उम्मीद खर्च कम करते हैं तो मुझे जब तुम्हारी कमी बहुत खलती है तो मैं तुम्हारी आवाज की पुरानी रिकॉर्डिंग सुनती हूँ । तुम्हारे पुराने संदेश भर्ती हूँ, सभी उपायों को देखती हूँ जो तुमने मुझे दिए थे । सिर्फ तुम्हारे कीमती समय की बचत, तुम्हारी कमी उस समय को ज्यादा खलती है जब कोई मेरे लतीफ ये नहीं समझ पाता हूँ । पर मुझे उस समय तुम्हारी कमी कुछ ज्यादा ही महसूस होती है । जब मुझे लोगों को अपनी कहीं हर छोटी बडी बात समझानी पडती है तो दिन तो हवा हो गए ऍम मिलना या हल्का सा कोई संकेत ही काफी होता था । कुछ तुम्हारी कमी कुछ करती हैं । हाँ, कुछ ज्यादा खलती है तो बहुत ज्यादा चलती है । जब मुझे याद आता है कि अब हम साथ नहीं रहे । इस बात को स्वीकार कर पाना आज भी उतना ही कठिन है जितना ये उस समय था जब हम साथ ॅ लेकिन कुछ ऐसी बातें हैं जो कभी नहीं बदलेंगे, जिस है तुम्हें मुझे एहसास कराया था । जिस तरह मैंने तो मैं अनुभूति कराई थी और सच्चाई ये है की हमें एक दूसरे के साथ सबसे ज्यादा खुश है । ये कभी नहीं बदलेगा और मैं इस बात पर खुश हूँ वो हमारी मुलाकात हूँ । हमारी बातें हो, हमारे पास हो इस सब हमेशा बहुमूल्य रहेंगे जिन्हें कभी भी उजागर नहीं करना है । ये सब अभी भी कहीं ना कहीं हमारे आस पास है और इससे मुझे लगता है कि अगर एक बार तो ये आपको प्यार कर लेता है तो स्थाई चीज हो जाती है और इस दुनिया में सम्भवता हूँ कोई भी से नहीं बता सकता हूँ आज की जबकि कोई तोहरा नाम नेता है तब मैं मुड कर देखती हूँ कि कहीं टोमॅटो नहीं हूँ । कुछ ले आती भी विश्वास है कि जब किसी वाहन के नंबर, पेट की संख्या धडी जन्म तिथि से मिलती जुलती होती है तो मैं उसे अचानक ही आया कोई ऐसा संकेत मानती हूँ जो मुझे तुम्हारी होर खींच रहा हूँ । वो मेरी इंद्रियां मुझे धोखा नहीं देंगी भर मैं कभी नहीं बदलूंगी ही कुछ भी हो जाएगा वहाँ भी मुझे बुला जाते हैं लेकिन फाइलों बारिश में सडकें रेललाइनें उनके पार्टी कुछ तुम्हारी याद दिला जाते हैं ही बदले का मैं नहीं होंगी हूँ और मुझे खुशी है कि कुछ चीजें कभी नहीं बदलती । ऍम खुश हूँ कि मुझे आज भी तुम्हारी याद आती है और तुम्हारी कमी खलती है । कभी तुम्हारी रही हूँ ऍम क्यूँ आगे बढने लगती है और उसने फैसला किया कि वह अब आगे और नहीं बढेगा । जब अपने फ्लैट से रवाना हुआ था तब के मुकाबले ऍम खर्च देख रहा था । उसके दिमाग में बहुत से सवाल घूम रहे थे । सारा के साथ उसने भले ही थोडा वक्त गुजरा था उसके बावजूद उसके मन में ही उसके साथ हमेशा संबंध बनाए रखने की बात है । उसे यह बात पक्का पता थी कि सारा के साथ उसके संबंधों में काफी उतार चढाव आएंगे और मैं नहीं चाहता हूँ कि उसे कहीं बीच में रुक ना पडे । मैं चाहता है कि सारा जसोवर बढ रही है उसके बारे में मैं आश्वस्त हो जाए । मैं नहीं चाहता कि वह तैयार नहीं रहे हो । मैं चाहता है कि वह सारा को जितना प्यार करता है सारा भी उससे उठ नहीं । क्या करें ऍम भर पहुंच गया हूँ और जब ये आगे बढा तो उसने कुछ ऐसा देखा हूँ कि वह वही रोक लिया । उसने जो देखा उसे देखकर में डर गया और उसने प्रगति पर नाराजगी जताई । उसने डायरी अंदर रख ली ताकि आकाश से बसते पानी में वो भी देखना चाहिए तो

Part 28

मुंबई की बारे सुबह से बहुत से लोगों की जान ले चुकी थी और अन्नान ने अपनी आँखों के सामने एक बूढे व्यक्ति का शव सडक पर बैठते देगा । मैं सडक से ज्यादा कोई नदी जैसी लग रही थी । अरमान को हमेशा से पानी से डर लगता था ऐसे मौसम में बाहर आने को लेकर ऍम लेकिन ये सारा का मामला था ऍम सोचा की मैं लौट जाए और सारा को फोन मिलाकर उससे किसी तरह स्टेशन तक आने को कहेंगे लेकिन उसका फोन नेटवर्क से बाहर था इसलिए उसने आगे बडने और उससे मिलने का फैसला किया । ऍम है उसका इंतजार करती रहे । उसके फोन पर सेंटी का फोन आया लेकिन उसने नहीं उठाया और उसके बाद उसके पिता का फोन आया हूँ । लेकिन अरमान ने वो भी फोन नहीं उठाया हूँ । बे उन्हीं के ऐसे बताता की रहे वहाँ पर क्यों हैं । जबकि अभी थोडी देर पहले उसने माँ को बताया था कि वह घर पर ही हैं । तो इसके अलावा अगर मैं बात करने के लिए अपना फोन निकालता तो इतनी बारिश हो रही थी कि उसका फोन भी कर बंद हो जाता हूँ । मैं ध्यान से जो बीच की तरफ बढ रहा था और बाद आॅल बच्चे की तरह गरज पड रहे थे । जो गुस्से में आकर अपनी जिंदगी तबाह करने को कुछ भी कर सकता है । उसे कभी मुंबई इतनी नहीं लगी थी तो सपनों का शहर बिल्कुल नरक लग रहा था । मीन होल से बचने के लिए सडक के किनारे चल रहा था । उसने उस राशि के बारे में सोचा जो सरकार ने निवेश करने का दावा किया था । अधिकारिक आंकडें हजारों लाखों में थे वो लेकिन उससे भी शहर को संकट से मुक्त नहीं किया जा सकता हूँ । मुंबई के आधे इलाकों में बिजली नहीं थी और मौसम विभाग ने अगले चौबीस घंटे में भारी बारिश होने की बात कही थी । अपने जैसे जैसे पानी से भरी सडक पर आगे बढ रहा था वैसे वैसे उसके दिल की धडकनें और तेज होती जा रही थी । तो पानी है, जितना डरता था उतना कभी आंख से भी नहीं भरा हो । तबाही सही थी उसका डर सही था और उसका लगभग चार फीट गहरे पानी में चलना भी सही था । वो सारा अरमान के पहुंचने का इंतजार कर रही थी और मान लगातार पैंतालीस मिनट तक चलकर था । क्या था उसे जो बीच पर पहुंचने में अभी कम से कम पंद्रह मिनट का समय लगता था । अंधेरा हो चुका था । शहर ऍफ बन चुका था और अपनी ये सांसों की आवाज सुन पा रहा था । अपनी जिंदगी में कभी भी नहीं चला रहा हूँ । मैं किसी की सहायता चाहता था लेकिन जब उसने अपने आस पास देखा तो वहाँ ऐसे लोग थे जिनको मदद की उससे ज्यादा जरूरत थी । कुछ देर बाद उसने छात्रा बैग में रखे और दौडने लगा कुछ नहीं होता है । जो दूरी तय की थी वो मुंबई के अधिकतर लोग नहीं कर पाए थे । जैसे ही वह जो बीच पर पहुंचा उसने सहारा को पार्किंग क्षेत्र के नजदीक खडे देखा हूँ । फिर चॉकलेट खा रही थी और अरमान को देखते ही बहुत खुश हो गई तो मैं दौड कराई और उसे बाहों में भर लिया और उसके घायल चोली सारा ने अपने हाथ सामने की और बांदिया तो कोई मुझे प्यार करते है कि उसने इस बारिश की भी परवाह नहीं की और आज रात हीरो बनकर ओबराय तो मेरे लिए इतना कुछ कर रहे हो कि मुझे इसकी आदत पडनी चाहिए और ये कम से कम मेरी उम्मीदें बढा देगा । मुझे कोई दिक्कत नहीं और मान्य सारा के चेहरे पर सच्ची खुशी देखकर कहा लेकिन मैं क्या हुआ है तो तो आज बिल्कुल अलग ही हूँ । तो मैं तुम्हारे बारे में लगातार सोच रही हूँ । जब से आज सुबह नहीं घर से निकले हूँ और अपने सवाल कर रही थी कि मैं जिस जहाँ पर बढ रही हूँ, हो रहा है । ऐसा क्यों लगता है कि तुम्हारी ओर जा रही है? क्यों जो रहा है अब तक धुंधली थी । ऐसा लग रहा है कि उनके कुछ मायने और क्यों? मेरी यात्रा, मेरी वास्तविकता, यात्रा, पिक्चर चल रही है । उसमें कम रोचक लग रहा है । अपनी जिंदगी में पहली बार मुझे अपनी यात्रा उस व्यक्ति से कम रोचक लग रही है जो इसमें मेरे साथ हैं । अब इसे मैं इस तरह सोचती हूँ कि तुम मेरे हो, मैं ही हूँ । सहारा ने सीधे उसकी आंखों में देखकर पूरे विश्वास के साथ ये बात कहीं जगह ये गार्ड कह रही थी । तब फरमान को उसकी आंखों में आंसू दिखाई दिया । खुशी किया हूँ । सही स्थिति समझाने के आंसू थे । सारा ने जिस तरह अरमान की आंखों में जहाँ का उससे साथ समझा रहा था कि उसे अरमान की और जरूरत है । पूरी तरह जरूरत है अभी और हमेशा के लिए सारी । मैंने तुम्हारे साथ सही से लोग नहीं किया । सारा नहीं रहा हूँ । अगर सब कुछ सही होता है तो है बिहार नहीं होता । ऍम था तो कभी भी सब कुछ सही नहीं हो सकता था । अरमान ने जवाब दिया हूँ तो मैं जिंदगी का प्रिय शब्द, प्रिया लाइन और ऍम पढा था कि अभी तुरंत ये बेहतर नहीं हो पाएगा । ॅ इंतजार करने के लिए तैयार थी । उसे पता था कि वास्तव में अभी तक है उससे संबंध नहीं जोड पाई थी । उसके अपने संदेह थे जो और उससे जुडे कम और उससे खुद से जुडे अधिक हैं । काफी दिनों तक आयमान इस बात का इंतजार करता रहा हूँ कि सारा जपता हूँ, उससे इतने ठंडेपन से व्यवहार न करें और उसने शायद ही कभी इस पर ध्यान दिया । रहे किसी और जोडे की तरह नहीं लडते थे । लेकिन उन दोनों के बीच तनाव हो जाता था । जिसे भारत चीज से हाल करना होता था । वो फरमान ने कभी भी उसके व्यवहार को लेकर किसी तरह की कोई शिकायत नहीं की थी । धमान की जिस बात की वह सबसे अधिक तारीफ करती थी था कि वह कभी भी उस पर हावी होने वाली प्रेमी की तरह का व्यवहार नहीं करता था और उसने कभी भी नहीं चाहता हूँ कि सारा अपने विचार बदले । पिछले सत्यम को बदलते देखा था और धीरे धीरे सोचने लगी थी कि उसे संबंधों को शादी के तौर पर अंतिम रूप देने की चलती है । जिसके बाद दूसरे किसी अवसर की गुंजाइश नहीं रह जाते हैं । उसको बोलने में उसे कुछ महीने लगे और अरमान की उसके जीवन में आने के बाद ही नया उसे पूरी तरह भुलाकर आगे बढ पाई । क्या तो मैं पत्ता विश्वास है कि तुम मुझे प्यार करती हो और मान्य पूछा हूँ । आज तो उनसे यह वादा करने के बदले में मैं कुछ भी छोड सकती हूँ । सारा नहीं उसे कसकर बाहों में भरकर कहा हूँ । दिल के किसी कोने में उसे पता था कि अरमान को इस पर सब होगा क्योंकि उसने पहले भी उसने ढंग से बातचीत की थी हूँ । उसके साथ प्यार के सम्बन्ध बनाने पर राजी हुई थी लेकिन कई बार उसके हिचक है । अरमान के मन में कई सवाल पैदा हुए थे । ऐसा नहीं है कि अरमान उसे आप प्यार नहीं करता हूँ । मैं फिर भी उसे इस पूरी दुनिया में सबसे अधिक प्यार करता है । लेकिन सहारा डायरी ने ऐसे किसी भी संबंध की अवधि को लेकर कुछ गंभीर सवाल उठा दिए थे जिनसे सहारा जोडी थी । उसने यह सब केवल अपने हाथ से नहीं लिखा था बल्कि है उसका रोता हुआ दिल था जो अपनी भावनाओं को व्यक्त कर रहा था । वो कितने वास्तविक लग रहे थे कि वह समय के साथ तो मिल नहीं हो सकते । ॅ केवल तुम्हारी वजह से रिश्ते के प्रति गंभीरता को लेकर मैं अपने पर कोई संदेह नहीं कर रही हूँ । कुछ नहीं पता था की तो नहीं है कैसे क्या लेकिन तुम एक निर्जीव पड गए दाल को फिर से झगडा से खा दिया । हमने मेरी भावनाओं की कद्र की । तुमने मेरी कर रखी है और ऐसा करके मेरा है कि तुम मेरा दिल जीत लिया । मुझे लगता है कि मैंने कभी किसी को इतना प्यार नहीं किया । घटना की मैं अब तुम्हें करती हूँ और मुझे इस बात का दुख है कि मैंने इसकी कीमत पहले नहीं समझे । सहारा नहीं कहा और मान नहीं कोई जवाब नहीं दिया । कुछ सुरक्षित देखने के लिए तो पांच किलोमीटर चलकर आॅन काम नहीं है । तो हर कोई अपने प्यार के लिए कर ले तो ली क्या जिसमें तो सबसे अच्छी हूँ और उनको प्रभावित करने में है । तुमने मुझे प्रभावित कर लिया और आगे मेरी बारी है कि मैं तुम्हारे मन में अपनी छाप छोड सकता हूँ । क्या तुम मुझे एक आखिरी मौका दोगे? क्या तो मुझे हमेशा के लिए तुम्हारा बनने की अनुमति दोंगे । ऍम कुछ ऐसी आदे बनने में मेरी सहायता करेंगे जो मैं किसी सही व्यक्ति के साथ जीवन भर बनाए रखने के आतुर थी । हूँ तो मेरा सही समापन बनोगी । वो सारा ने कहा अरमान ने उसे चूम लिया है । उसे कभी भी छोडना नहीं चाहता था । भारी बारिश के बीच दोनों चमकते सितारों की तरह लग रहे थे तो अपनी दुनिया को खोजने को टाॅक हूँ । नहीं, आस पास के लोग थे जो कुछ कुछ कहने लगे और तब अरमान और सारा को होश आया । वो लोगों की नजरों से बचने के लिए वहाँ बैंक वाली जगह की तरफ बढ गए और आपने बेकाबू होते प्यार को व्यक्त करने लगे । बिना वक्त गवाएं एक दूसरे को पूरे आदेश में आकर चुम्मन किया जा रहे थे । उन्होंने अपने वजन पर चिपके गीले कपडों से मुक्ति वाली लेहरी उत्ती गिरती रही और बारिश जाती रही और उसी आवेश में प्यार करते रहे हो । ऐसा प्यार जैसा जब दोनों एक दूसरे के प्यार में पागल होते हैं तब करते हैं बारिश जितनी ही उनके लगभग निर्वस्त्र शरीरों को छूती रही । खंड प्यार करना भी उसी तेजी से बढता रहा । प्यार करने के बाद जिस तरह दोनों ने एक दूसरे की आंखों में देखा प्यार था जिसका दोनों इंतजार कर रहे थे । फरमान को बताया था क्या किसी भी तरह के संदेह की कोई गुंजाइश नहीं है और सहारा को बताया था कि वह उसे हमेशा के लिए मिल गया है । सारा ने जल्दी से अपने कपडे पहने और छोटे बच्चों की तरह समुद्र तट की तरफ बढते हुए खुशी में अरमान का नाम पुकारने लगे । उसने अनुमान से भी अपने साथ आने को कहा लेकिन वह पानी से जितना डरा हुआ था उतना ही रह सारा को वहाँ देख कर डर गया । पानी, रात का अंधेरा, भारी वर्षा ये तीनों जगह अकेले अकेले होते हैं तब अच्छे लगते हैं लेकिन जब तीन और साथ साथ होते हैं तब बहुत ही घातक साथ होते हैं । सारा अरमान की ओर बहुत करके थोडी दूर खडी हो गई और चलाई मैं तुमसे प्यार करती हूँ और मान क्या तुम मुझसे शादी करोगे । अपनी हिंदी की नगर कभी भी इतनी खुश नहीं दिखाई पडी थी । ठीक वहीं खडी थी जहाँ अरमान ने उसे पहली बार देखा था और यही वह जगह थी जहां मान इस सुंदरी के प्यार में पढा था और इससे पहले कि बिहार के बारे में किए गए उसके किसी सवाल का जवाब अरमान दे पाता, उसकी खुशी डर में बदल गई । उसकी आंखें डर से भरी हुई थी । बुरी तरह डरा हुआ उसकी आंखों में निराशा छा गई और उसकी आवाज गले में ही फस कर रहे गई । एक विकराल नहर करीब पांच मीटर ऊंची सहारा की तरफ बढ रही थी और मैं इससे बिल्कुल भी खबर थी । लहर सैकडों लोगों को मौत की नींद सुला सकती थी और वहाँ तो केवल एक अकेली लडकी फॅमिली की दूरी पर खडी थी । अरमान चलाया लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी नहीं । उसने सहायता के लिए चारों नजरे दौडाई लेकिन उससे वहाँ ऐसा कोई भी नहीं दिखाई पडा जो उसकी मदद कर सके । लोग चला रहे थे लेकिन कोई भी एक अजनबी के लिए अपनी जान जोखिम में डालने को तैयार नहीं था । अरमान पानी से सबसे ज्यादा डरता था, चलना है और जोर जोर से चला रहा था लेकिन कोई भी सहायता के लिए आगे नहीं आया । एक मछुआरा समुद्र तट की तरफ दौड रहा था लेकिन वैसे भी एक मिनट की दूरी पर था । सारा जितनी बार पानी से बाहर निकलना चाह रही थी उतनी बाहर उसे उसका चेहरा दिखाई पड रहा था । लेकिन नहीं । अरे उसे अपने साथ बाहर लिया जा रही थी । बीस सेकेंड से भी कम समय के अंदर है, उसकी नजरों से दूर थे । हाँ, एक की नजर से तो इससे पहले कि बहुत देर हो जाए फिर मिलेंगे क्योंकि मेरे विचारों में तुम्हारा नाम रहेगा । तो फिर प्यार करना एक युद्ध था और मैं आज को समर्पण नहीं करूंगा, सर में लेंगे क्योंकि तुम मेरे अच्छे वक्त को सबसे अच्छा बनाया और मेरे कठिन समय को आसान क्या फिर मिलेंगे? क्योंकि मुझे बताएँ फिर भी नहीं है जहां इसे खत्म होना है । मैं तो हूँ और मैं अभी बस तुमसे मिलने से पहले फिट का इंतजार कर रहा हूँ क्योंकि हमेशा के लिए साथ रहने का मौका चाहे जब मिले तो कभी तेर नहीं होती ऍम क्योंकि अच्छी वन इतना अद्भुत नहीं जितना कि तुम्हारा साथ और हम हमेशा ऐसी चीजें करते रहते हैं जो मजबूत होती है । है ना मैंने ही किया जो मैं अच्छी तरह से कर सकता था । तो प्यार करना तो फिर मिलने की उम्मीद के साथ फिर मिलेंगे क्योंकि जब भी मैं मैं देखता हूँ मेरी आत्मा को ऐसा लगता है कि उसका फिर से हुआ है पर मैं इतनी जल्दी मरना नहीं चाहता हूँ तो फिर मिलना चाहता हूँ क्योंकि मैं स्वार्थी हूँ और मैं तो फिर प्यार करता हूँ । ऍम चाहता हूँ क्योंकि मैं खेल है उस वहाँ पर अपनी नियति नहीं बना पाऊंगा जो मुझे यहाँ से दिखाई पड रही है । मैं फिर मिलना चाहूँगा क्योंकि मुझे तुम्हारी कमी खलेगी हूँ क्योंकि मेरे शब्दों की आवाज हो उच्छे तुम्हारी कमी खलेगी क्योंकि मेरी मुस्कान की वजह तुम हो क्योंकि इस समय अपनी जिंदगी को खोल रहा हूँ । फिर जब हम मिलेंगे मैं तो मैं फिर कभी ना छोडने के लिए बाहों में भर लूंगा । तुम्हारा चम्मन करूंगा जिससे तुम कभी पीछे नहीं हट सको । फॅमिली है तो हमारी आंखों में देखूंगा । अच्छा तो भी बच्चे फिर मिलना चाटी हो नहीं

Part 29

मानने तरन समुद्र में छलांग लगा दी और सहारा को बचाने के लिए जब कुछ समझ आया करने लगा । जल्दी सुरक्षाबल के लोग पीछे से दौडते चले आ रहे थे । पानी को लेकर अपने अंदर के डर को भी वह कुछ हद तक महसूस कर रहा था । मैं सारा की ओर देखते हुए बार बार उसे इशारा कर रहा था कि रुखों मैं उसे बचाने आ रहा है । उसकी आंखों में कहाँ घर बना हुआ था? मैं चाहता था कि सारा सुरक्षित बचाए । मैं चाहता था कि वे दोनों बच्चाें मैं चाहता था कि उनका प्यार जिंदा रहे । पानी के नीचे संघर्ष करते हुए उसने ऑनलाइन पर करने के जितने भी तरीके देखे थे, उन सबको याद करने की कोशिश की । उसका सपना और उसका टर्न उससे ऐसे करवा रहा था । सारा कहाँ तब भी उसके अंदर कुछ उम्मीद बनाया हो गया था, लेकिन उसका सपना भी उसकी आंखों के आगे तरह रहा था । मैं चेहरे पानी में लहराते हुए आपको देख पा रहा था । में देख रहा था कि लोग सहायता के लिए चला रहे हैं, लेकिन उनकी सहायता के लिए कुछ नहीं कर रहे हैं । मैं देख पा रहा था कि उसके सबसे प्रिय व्यक्ति को लहरें निकलती जा रही थी । वो अपने को देख रहा था जो उसे बचाने के लिए भरपूर कोशिश कर रहा था । फिर हो रहा था पानी के बीच हो रहा था । भगवान से दया की भीख मांग रहा था लेकिन ऊंची ऊंची रह रहे है । वो दोनों को दो अलग अलग दिशाओं में बाहर ले गए । उसने देखा कि सुरक्षाबल उन्हें बचाने के लिए नाम लेकर आ रहे हैं तो लाइफ गार्ड थे और एक नाम थी । डूबते हुए दो लोग दो अलग अलग दिशाओं में थे और उनमें करीब सौ मीटर का फासला था जिससे दोनों को बचाना कठिन था । लाइफ कार जब नाव में चल रहे थे तब उनके चेहरे पर भ्रम और बेचैनी उसे दिखाई पडी । उन्हें पता था कि वह उन में से केवल एक को बचा सकते हैं और वहाँ उसी को बचाएंगे जिसके अगले एक मिनट में बचने की उम्मीद अधिक हैं । अरमान ने उन्हें भ्रम से बचा लिया और उन्हें आसान चयन का मौका दे दिया । उसने सांस रोक ली और ठीक समुद्र में भयंकर लहरों के बीच गहरी डुबकी लगा दी । उसे पता था कि उसके बाहर सब उसकी जिंदगी के आखिरी बाल रह गए । उसकी आंखों के सामने उसके माता पिता, भाई और बचपन के दोस्तों की याद करने लगी । उसे दुख हुआ कि एक अंतिम बाहर उसने अपनी माँ से बात नहीं की । उसे पता था कि उसकी माँ ये सहन नहीं कर पाएगी । पता था कि उसके पिता आप जिंदगी भर रात का इच्छुक का रास्ता बढाएंगे । अच्छा उसे बताया था कि उसका भाई हमेशा के लिए कम से कम हो जाएगा । उसे पता था कि भवन को जब पता चलेगा कि उसकी शादी से पहले ही चल बसा है तो पागल हो जाएगा । उसे बताया था कि सनी को उसके बाद पाक की कमी खलेगी । घरों से पता है कि सारा समझेगी । जिस व्यक्ति की मौत हुई है उसे सबसे ज्यादा प्यार करता था । सारा को बताया कि मैं उसे बचाने के लिए बारिश की परवाह किए बिना वहाँ आया था लेकिन उसके लिए अपने को सुरक्षित नहीं रख सका । उसे पता था कि सारा फिर कभी किसी को प्यार नहीं कर पाएगी और उसे पता है कि वाले ही मैं मर रहा है । सारा हमेशा उसका सही समापन होगी । अगर तुम है मुझको कोई आखिरी उपहार देना हूँ तो क्या तुम जाने से पहले अंतिम बार मुडकर देखोगी? उसने सोचा और सारा ने उसकी ओर मुड कर देखा । अपनी चेहरे पर मुस्कान लिए उसने ऍम तरी बार कहानी वहाँ खत्म होती है जहाँ हो रही है

Part 30

उत् संघाय उनतीस सितंबर दो हजार सत्रह शाम सात बजे अपने जीवनकाल में हम अक्सर सोचते हैं कि यह इस तरह नहीं खत्म होना चाहिए था । हम चाहते हैं कि चमकीली दो खेले और चारों ओर हरियाली रहें लेकिन कई बार यहाँ अंधेरा गिर जाता है और उदासी के बादल हमें घेर लेते हैं । इसलिए नहीं किताब दिन का उजियारा नहीं होता बल्कि इसलिए कि हम सब किसी भी बात का बिल्कुल सही अंजाम चाहते हैं । हम भूल जाते हैं कि वास्तविकता, जीवन और हमारी कल्पनाओं में जमीन आसमान का अंतर होता है । यहाँ जीवन में हमेशा संगीत नहीं होता और यहाँ दिल की धडकने जिंदगी के कदम ताल से कहीं तेज होती हैं । नववर्ष के आगमन के समय के उत्साह की तरह जिंदगी नहीं शुरू होती है और न ही उसे उत्साह में खत्म होती है । इससे भी बडी बात है कि जीवन तब भी नहीं रोकता जब आप किसी ऐसे व्यक्ति को खो बैठते हैं जिसके बिना कभी आप भी नहीं पाते थे । जीवन नातो कभी शुरू होता है और ना ही कभी खत्म होता है । ये दो बस चलता ही रहता है । आप अभी सांस लेते हैं तब भी आप अपना ध्यान रखते हैं और जिंदा रहते हैं । उस रात को बाद में सारा शराब का अंतिम बैठी रही थी । उसी गिलास में जिसमें उन दोनों के सैकडों पैक एक साथ पहले बनाए गए थे । सहारा ने खिडकी से बाहर देखा । इस खिडकी से उन्होंने अपने प्यार को परवान चढते देखा और इस से ये उनके प्यार को मर जाते हुए भी देखा । अरमान और उसका बातचीत करना लडना और फिर झगडे सुलझा लेना ये सारी याने अभी भी बिलकुल ताजा हैं । अच्छा अपने जीवन की कडवी सच्चाई पर विश्वास नहीं करना चाहते हुए सारा अलग से उठी सब कुछ जिसने उसके जीवन को हमेशा के लिए तहस नहस कर दिया था । उसने इसे स्वीकार करने से इंकार कर दिया । लेकिन उसके दिमाग के किसी कोने ने उससे कहा कि ये सच है । आखिर कब तक इस सच्चाई को नकारती रहेगी । उसके ऐसे दोस्त हैं जो उसको जो उसको आगे बढने में सहायता की पेशकश करेंगे, हमेशा के लिए आगे बढ जाने को, उसके अपने भविष्य के लिए हिसाब उससे कहेंगे कि वह कितनी खुशकिस्मत है । क्यों से जिंदगी में एक ऐसा सच्चा प्यार मिला । लोगों से कहेंगे कि प्यार का यह अर्थ नहीं है । किसी से आप प्यार करते हैं, हर वक्त आपके पास रहेगा या उससे भी कहीं अधिक गहरी भावना है । इसी तरह की बकवास करेंगे उसके दोस्त । उसकी जिंदगी में फिर से खुशी वापस लाने के लिए क्लब ऍम पार्टियों में उसको खाट लोगों से मिलवाएंगे । साथ ही उससे कहेंगे की उनका अपना जीवन उनके लिए प्यारे लोगों के साथ किस तरह कठिन होता जा रहा है । लेकिन ऐसे लोग केवल परेशानी ही पैदा करते हैं । सारा अपने को यही विश्वास दिलाने की कोशिश कर रही थी । क्या फरमान से उसका नाता खत्म हो चुका है । लेकिन अपने दिल की गहराइयों में बस ये पता था कि ऐसा नहीं है और कभी भी ऐसा नहीं कर पाएगी । उसे पता था कि ऐसा कुछ भी नहीं है जैसे कहकर या करके मैं उसे अपने जीवन में वापस आ सकती है । उसे पता था कि मरे हुए लोग वापस नहीं आती और उसे हालांकि बहुत बार अपने आस पास अरमान की उपस्थिति का अहसास होता था । गैस से बात करना चाहती थी । अगर आज मैं दोनों साथ होते हैं तो मैं कहीं किसी बीच पर बने अच्छे से रेस्ट्रों में अरमान का जन्मदिन मना रहे होते हैं । ये उनके लिए इकट्ठे नहीं था की दोनों एक विशेष शाम सात बिताने का कार्यक्रम बराबर है । दोनों शहर की अफरा तफरी से मुक्ति चाहते थे । उनका जिस तरह से व्यस्त कार्यक्रम रहा करता था ऐसे में वे किसी तरह का सरप्राइज देने की योजना बनाने के बजाय मिलकर पहले से ये अपना कार्यक्रम बनाना पसंद करते थे । क्योंकि अपने कामकाज की जरूरतों को देखते हुए हो सकता है की अंतिम शरण में उन्हें अपनी जिम्मेदारी पूरी करने को रुक जाना पडे और फिर इस तरह उन की दूसरे को सरप्राइज देने की योजना धरी की धरी रह जाती । जुलाई रोकने की कोशिश के बावजूद सारा ने महसूस किया कि उसके आंसू रह रहे हैं । नया बहुत नहीं होना चाहती थी । फरमान के साथ ही उसके सपने भी मर चुके थे । अरमान की आत्मा वहाँ थी । उसने देखा की सारा खिडकी के नीचे की अलमारी से निकालकर गिलास देख रही है । वो फर्श पर गिरते ही चकनाचूर हो गया लेकिन फिलहाल टूटेंगे आवाज उसके अंदर उठ रहे तूफान की आवाज से कहीं ज्यादा धीमी थी । पैमाने सांस लें जो उसने अब तक रोक रखी थी और दीवार पर मारने के लिए अपनी मुट्ठी भेजने ऐसा तब करता था जब किसी तरह की कठिन परिस्थिति में होता था । उसने अपने हाथ कसकर बांध ली हैं और उस दिन सहारा से अपनी मुलाकात भर दुखी होने लगा । नहीं सोचने लगा कि अगर है उससे उससे ना मिला होता, ना ही रह । समुद्र तट पर अपने प्यार का इजहार करते और ना ही वो समुद्र की और नजदीक कहीं होती हैं और ना ही उस ने अपने को उन ऊंची ऊंची लहरों में दो बोलियां होता है । पिछले कुछ महीनों में उसकी सारी सोच सारा से उसकी पहली और अंतिम मुलाकात की यादव के इर्द गिर्द ही घूमती रही । जब झंडा था तो कई बार उसने अपने मित्रों या सहकर्मियों को देखा था कि जिन लोगों का ब्रेकअप हुआ है और मैं उन से उबर नहीं पा रहे हैं, उनको वो इसका इलाज करने वाले विशेषज्ञों से मिलने की सलाह देते थे ताकि वे अपनी परेशानियों से उबर सकें और उस ने चाहा था की सारा भी ऐसी किसी विशेषज्ञ के पास जाए तो उसने सोचा कि कहाँ कोई ऐसा उपाय होता कि वह सारा से यह बात कर पाता । मेहमान को पता था कि सारा को सामान्य होने में कुछ समय लगेगा और ऐसी स्थिति में योग जो औपचारिक सहानुभूति दिखाते थे उससे उसे चिढ होती थी । इसकी वजह से सारा के हालत से पूरी तरह से उभरने में बाधा उत्पन्न होती थी । हर व्यक्ति उससे यही पूछता था कि आखिर उस रात क्या हुआ था और है कैसे बच गई? जबकि अरमान उसके बाद समुद्र में कौन सा था? उसके केवल कुछ सहकर्मियों ने वास्तव में उसकी पीर को महसूस करने की कोशिश की थी और बाकी सब के लिए ये मैं एक और कहानी थी और कब करने के लिए एक नया विषय था । बार मान्य देखा हूँ कि मूवर्स एंड आकर की तरफ से एक व्यक्ति सारा कि वार बढ रहा था । उसने चारों ओर नजर दौडाई और देखा कि बाकी सब कुछ नीचे खडे ट्रक में लादा जा चुका था । उसने पालन की तरफ बढते हुए कहा सुनी है मुझे वो पालन ले जाना है । जरूर सारा ने कहा और पलंग से उठ खडी हुई ताकि वे उसे ले जा सकें । पालन जिस पर लेटकर उन्होंने सैकडों घंटे बातचीत की थी । असंख्य यादें जुडी थी जिससे इस पर रिलेट कर उन्होंने पूर्णिमा की रात के चंद को निहारा था और सोए थे । उस व्यक्ति ने पालन को उठाया और यह जाने बिना उसे लेकर चल दिया कि वह पलंग उनके लिए क्या मायने रखता था । इस घर में कुछ तो ऐसा था जो फरमान और सारा को यह एहसास दिला रहा था कि इस मकान को छोडने के साथ ही अपनी जिंदगी का एक हिस्सा वहाँ छोडे जा रहे हैं । उन्हें बहुत अच्छी तरह पता था कि उन्हें यह है सास क्यों हो रहा है । ये खाली फ्लैट उन्हें क्यों प्रियतम की तरह बुला रहा है । उन दोनों ने मिलकर जिन यादों को संजोया था उन्हें उन पर गर्व था लेकिन अब वहीं आधे उसे दिया पहुंचा रही थी । सारा ने दरवाजे पर ताला लगाकर चाबियां मकान मालिक को देने से पहले अंतिम बार फ्लैट पर नजर दौडाई । आयुष्मान ने अपने आप से कहा था कि सारा को जिंदगी में कुछ दरवाजे बंद करने की जरूरत है क्योंकि वे उसे कहीं नहीं पहुंचाएंगे । मैं सोचते रहे कि कैसे ये सब शुरू हुआ और कैसे समय ने सब कुछ बदल कर हस्तियां ये अविश्वसनीय जरूर लग रहा था लेकिन उनके मन में एक बार फिर अपने फ्लैट में लौट जाने की अजीव इच्छा पैदा हुई थी या कम से कम उसके अंदर ऐसी उम्मीद जगी । भगवान को नहीं पता कि क्यों लेकिन उसमें ये सोचने की कोशिश की कि कैसे उसके अंदर का डर सच्चाई में बदल गया । मैं चाहता था कि सारा आहे भरना बंद कर दे जिनमें अपराधबोध और निराशा के साथ ही उम्मीद की हल्की सी किरण भी थे । सारा को पता था कि काले बादलों ने उसकी जिंदगी की सुनहरी दो को ढक ले आए । लेकिन उसके मन में यह विश्वास था कि परिवर्तन की बयार में घने से घने बादलों को उडाकर फिरसे सुनहरी दो फैला देने की ताकत होती है । बताया भी कभी कहानी शुरू ही वहाँ से होती है जहां वास्तव में खत्म होती है लोग फिर भी सांस लेते हैं फिर फिर भी हसते हैं और अपनी जिंदगी जीते हैं तो मैं भी जीनी चाहिए । अरमान की आठ माने फुसफुसाकर कहा और उसे पता है कि जिस हवा ने सारा के चेहरे को छुआ उसके जरिए सारा को उसका संदेश मिल गया । कई बाहर हर कहानी का सुखद अंत नहीं होता, लेकिन क्या सही समापन ही सब कुछ है?

share-icon

00:00
00:00