Made with  in India

Buy PremiumDownload Kuku FM

Transcript

थॉमस हार्डी की लोकप्रिय कहानियाँ - Part 1

आप सुन रहे हैं को को एफ एम किताब का नाम है थॉमस हार्ड की लोकप्रिय का धनियाँ जिसे अनुवादित किया है सुमन वाजपेयीने और मैं हूँ आशिष दिखाना सिन्हा को एफ । एम सुनी जो मनचाही आई सुनते हैं कहानी ना लेडी बिक्सबाई न्यूज पडे गृहयुद्ध के समय की बात है अगर मैं एक निष्ठावान प्रजा की तरह इसे महान विद्रोही प्ले ब्रेंडन की तरह लगाओ । मैं कहूंगा कि हमारे इतिहास, कहीं उसको खर्च, समय में किसी एक वर्ष को शरद ऋतु के आगमन होने के समय सात हजार फीट से ज्यादा तो वो सात टुकडों के संसद । ये सेवाएं शैल्टन महल के सामने बैठे हैं । जैसा की हम सब जानते हैं उस महल पर उस सदी में सवरन के फिर इसका अधिकार था और उसकी सहायता के लिए कभी जाते मार्क्स को नियुक्त किया गया था । जस्टिन भागों में राजा की सेना की कमान संभाली । उस और उसके बडे पुत्र ऍम इस समय राजा के लिए सेना बनाने के लिए किसी और स्थान पे थे । लेकिन जब घेरा डालने वाले माल में आए तो वहाँ पुत्र की गोली पत्नी लेडी बेक्स पाई अपने नौकरों, अपने पति के कुछ मित्रों, वार रिश्तेदारों के साथ वहाँ मौजूद थी और उनकी मोर्चाबंदी इतनी अच्छी वह पर्याप्त मात्रा में थी कि उन्होंने मान लिया कि खतरे की कोई बात नहीं है । संसदीय सेनाओं की कमान भी एक आप जाते सामंत नहीं संभाली हुई थी । युद्ध के इस समय में निष्ठा हर तरह से राजा के प्रति थी और रात के समय उसके दृष्टिकोण द्वारा इसका अवलोकन किया गया और सुबह जब तो चली गई तो पाया गया कि वह बहुत उदास और हताश था । सच्चाई गई थी कि भाग के अजीब निरालेपन द्वारा जिसके लिए को ध्वस्त करने आया था तो उसकी बहन का घर था । जैसे वो उसके कुमारे पन में अत्यधिक प्यार करता था और उसके पति के परिवार के साथ शत्रुता के कारण उत्पन्न मनमुटाव के बावजूद वो उसे आज भी प्यार करता था । वो भी मानता था कि इस क्रूड विभाजन के बावजूद वो आज की पूरी सच्चाई के साथ नहीं करती है । जो लोग उसके परिवार के इतिहास से अनभिज्ञ थे उनको दीवारों पर गोला बारूद ताकतें पर उसके हिचकिचाहट समझ नहीं आ रही थी । वो खेले के उत्तरी तरफ के मैदान पर ही था । उसके वहाँ पडाव डालने के कारण जैसे आज भी उसके नाम से जाना जाता है । फिर उसके मन में अपनी बहन इन को एक पत्र द्वारा संदेश भेजने का विचार आया जिसमें उसने बहुत ही गंभीरता से अपनी बहन से प्रार्थना की थी क्योंकि वो उसका जीवन बचाना चाहता था कि वह दक्षिण के छोटे से किले के त्यौहार से चुप चाप बाहर निकल जाए और उसे दिशा में अपने किसी मित्र के घर चली जाएगी । थोडी देर बाद उसने जो देखा उसे देखकर वो आश्चर्यचकित रह गया । किले के सामने की दीवारों से घोडे पर सवार हो एक महिला बाहर आ रही थी और उसके साथ एक मात्र परिचारिका थी । वो सीधे उस क्षेत्र की ओर आई और उस प्लान पर चढ गयी जहाँ उसकी सेना वह शिविर लगा हुआ था । जब तक वो उसके एकदम नजदीक नहीं आ गई तब तक उसे पता ही नहीं चला की वो उसकी बहन इन्ना है और वो इस बात से भयभीत हो उठा थी । उसकी सेना की कार्यवाहियों से अंदर एक वो ऐसा जोखिम उठाकर उन पर धावा बोलने के लिए बाहर आ गई है जब उसके इस तरह सामने आने पर उसे मारने के लिए किसी भी क्षण उसकी तरफ से गोलाबारी आरंभ हो जाएगी । उसके बहुत करीब आने से पहले वो खोले से उतर गई और उसने उसके चेहरे को देखा जो घोडा निस्तेज था लेकिन उस पर वैसे दुख में डूबे भाव नहीं थे जैसे कि उनके युवा दिनों में होते थे । वस्तुतः जिस तरह का विवरण दिया गया था उसे माना जाए तो वो उसकी चिंता में उससे कहीं अधिक दुखद स्थिती में था । उसने आसपास की निगाहों से उसे बचाते हुए अपने शिविर में उसे बुलाया । हालांकि अनेक साल एक ईमानदार और विचारशील थे । वो ये बर्दाश्त नहीं कर सकता था की वो जो बचपन में उसके प्रिय साथ ही थी उसके इस अत्यंत शोक के समय में उसके बारे में लोगों को पता चले । शिविर के एकांत में उसने उसे अपनी बाकू में भाग लिया क्योंकि उसने उसे उन खुशनुमा दिनों के बाद से नहीं देखा था जब जब तक के आरंभ होने पर उसका पति और वो खुद राजा के निरंकुश आचरण के बारे में सामान सोच रखते थे और उन्होंने ये सोचा तक नहीं था कि वे इसका विरोध करने के लिए कभी एक चोट नहीं । कहा जाता था कि वह दोनों भाई बहनों में सबसे अधिक शांत है और उसने ही पहले एक सिलसिला बनाते हुए बातचीत शुरू की । ऍम मैं तुम्हारे पास आई हूँ लेकिन जैसा तुम सोच रहे हो अपने को बचाने नहीं क्यूँ आखिर तुम क्यों इस देश द्रोही उद्देश्य का समर्थन इतनी रहता था कर रहे हो और हमें इतना दुखते रहे हूँ । उसने कहा था ऐसे बात नहीं है गाली हमने जल्दी ही उत्तर दिया । अगर सच्चाई को हुए के तल में छुपी हो तो तुम बच्चे स्थानों पर से न्याय की उम्मीद कैसे कर सकती हूँ? मैं किसी भी कीमत पर सच का साथ होगा । ऍम तुम के लिए को छोड कर चली जाऊँ तो मेरी बहन हूँ, यहाँ से जाओ और अपना जीवन बचाओ कभी नहीं । वो बोली क्या तुम ये हमला करना चाहते हो और वस्तु तक इसके लिए को गिरा देना चाहते हो? बिल्कुल मैं ऐसा ही करूंगा । वो बोला अगर ऐसा नहीं हुआ तो चारों ओर फैले सेना का क्या फायदा? फिर तो मैं उस खंडहर के नीचे दफन अपनी बहन की हड्डियाँ मिलेंगे जैसे तुम दोनों के वो बोली फिर कुछ और कहे बिना वो मुझे और वहाँ से चली गई ना मेरी बात मेरी बात मान लो उसने अनुनय विनय की खून पानी से अधिक काढा होता है । वह तुम्हारे पति के बीच में क्या सामान्य रह गया है? लेकिन उसने अपना सिर हिलाया और उसकी बात अनसुनी कर फूटती से खोले पर सवार हो गई और किले की ओर जहाँ से वो आई थी वापस चली गई । मैच जितने भी बार शिकार करने के लिए उस युद्ध क्षेत्र से निकला मेरे सामने वो दृश्य साकार हो गया जब युद्ध क्षेत्र से काफी दूर चली गई और मध्यवर्ती युद्ध क्षेत्र को भी पार कर लिया और किले के दायरे में पहुंच गयी । जब से उसके घोडे की सफेद पहुंच का सेना तक दिखाई नहीं दे रहा था तो उससे जुडी भावनाओं से अत्यधिक और उसकी भलाई को लेकर उससे कहीं ज्यादा प्रभावित हुआ था । जब उसके सामने थी उसने खुद को इस बात के लिए बेताहाशा उलाहना दिया कि उसने उसके खुद की भलाई के लिए जबरदस्ती उसे रोके नहीं रखा ताकि चाहे जो हो वो उसकी सुरक्षा में रहे न कि अपने पति की जिसके उग्र स्वभाव दें । तात्कालिक प्रभावों और योजनाओं में अचानक लिए जाने वाले बदलाव के लिए प्रस्तुत किया था । अब इस उद्देश्य के लिए कार्य कर रहा था और इस मुश्किल में अब वो एक महिला की सुरक्षा करने के लिए अनिवार्य धैर्यपूर्ण निर्णय लेने में असमर्थता महसूस कर रहा था । उसका भाई उसके द्वारा कहे शब्दों के बारे में लगातार सोच रहा था । रूप से एक ठंडी स्वास्थ पानी और ये तक सोचा कि काश बहन सिद्धांत से ज्यादा मूल्यवान होती और कांस्य उसके उसके साथ अपने भाग्य के बन्दे होने की बात को इतने स्वाभाविक ढंग से नहीं होगा । किले पर आक्रमण करने के लिए बहुत हार करने में दे रही है, उनके नेता के सामने आए । इस पर प्रधान के कारण थी जो कुछ अनिश्चित कार्रवाइयों को करते हुए उसी जगह पर कायम था और बार को इसके साथ जिसके हाथ में कब कमान थी, जिले की सीमा में ही आधी रात को सेनाओं के साथ विचार हो उसे । इस बीच ये खयाल तक नहीं आया की उसकी बहन गोवा बिक्सबाई की मनोस्थिति भी उस समय उसके जैसी ही थी । उसके भाई की परिचित आवास और आती तो युद्ध में डटे रहने के कारण थक जाएगी । और इस तक दुश्मनी के कारण कलवार मनभेद पूरी तो उसकी आंखों के सामने साकार होते रहे । जैसे जैसे दिन बीतता गया वो अपने सिद्धांतों के प्रति और अधिक कट्टर होती गई । हालांकि एकमात्र तक जो उस को बार बार कचोट रहा था वो था पारी, बारिश बंधन उसका पति जनरल लॉर्ड फिक्स पाई कांत के पूर्वी भाग का भ्रमण कर किसी भी समय लौट सकता था । क्या उसके पीछे क्या हुआ था इसके बारे में उसे संदेश भेजा जा चुका था और शाम को वह अनअपेक्षित संख्या में सामने बाल के साथ लौट आया अपनी सेना और स्वयं को थोडा विश्राम देने के लिए इससे पहले ही उसका भाई कोई चार पांच मिल दूर ईमेल के पास एक पहाडी पाँच चला गया था । लाॅक सफाई ने अपनी सेना को हर जगह तैनात कर दिया और अभी फिलहाल किसी बात का खतरा नहीं था । अब लेडी ब्रेक सवाई पहले से कहीं अधिक स्वयं को कुशल वस्त्र महसूस कर रही थी और अपनी तरंगा में अपने भाई का थकावट भरा अनुमोदन अपने पति द्वारा पराजय उसे हृदयहीन बनाते प्रतीत हो रहे थे । जब उसका पति उसके कक्ष में तेजी से और उम्मीदों से भरा रखता चेहरा दाखिल हुआ । उसने उसका स्वागत किया लेकिन दुखी मन से और उसके भाई के पीछे हट जाने के बारे में कहे गए । उसके कुछ शब्दों को सुन जो उसके साहस पर लांछन लगाते प्रतीत हो रहे थे, उसने उस पर नाराजगी प्रकट करते हुए प्रत्युत्तर में कहा, लॉर्ड एक्सवाई स्वयं शुरू में खुद ही कोर्ट पार्टी के विरोध थे । यहाँ अगर उपस् थित होता तो उसे ज्यादा श्री मिलता और निष्ठा खोखले सिद्धांत के खाते राजा की छूटी नीति का समर्थन करने के बजाय जो राजा के अपनी प्रजा के साथ न होने पर एक रिक्त प्रदर्शन लगता है उसे उसके भाई की राय के साथ संगती रखनी चाहिए थी । उनके बीच विवाद के कारण थोडा मनमुटाव पैदा हो गया क्योंकि दोनों को ही जल्दी गुस्सा आ जाता था । लाॅक सफाई अपने लंबे दिन के अभियान तथा अन्य आवेगों की वजह से बहुत थक गया था और जल्दी ही हो गया । कुछ समय बाद उसकी पत्नी भी लेट गयी । उसका पति तो चैन से कहते नहीं हो रहा था पर उसे नहीं नहीं आ रही थी । इसके वह खिडकी की छुट्टी के पास बैठ सोचने लगी । प्रार्थियों की चहलकदमी के बीच सन्नाटे में उसे दूर पहाडी पर लगे अपने भाई के शिविर की अस्पष्ट सी आवाजें सुनाई दे रही थी जहाँ शाम को लौटने के बाद से सेना ने अपना पढाओ नहीं डाला था । शरद ऋतु की पहले सर्दी ने घास का स्पष्ट कर लिया था और बेलों की अत्यधिक नाजुक पत्तियां कहाँ गई थी? उसने सोचा इन कठिनाइयों के तनाव के नीचे ठंडी जमीन पर विलियम सो रहा होगा । उसके साहस पर अपने पति के लांछन की बात याद कर उसकी आंखों से आंसू बहने के लिए । जैसे कि पिछले कुछ दिनों उसने जो कुछ किया था उसके बाद लॉर्ड विलियम के साहस पर कोई सुनते हो सकता है । आपने आरामदायक बिस्तर पर लाॅक सफाई की लंबी और शांतिपूर्ण सांसे अब उसे परेशान कर रही थी और आवेश में उसने एक निर्णय ले लिया । चलते ही एक हल्की रोशनी चलाते हुए उसने कागज के टुकडे पर लिखा खून पानी से काढा होता है । प्रिया विलियम मैं आउंगी और उसे हाथ में पकडे । वो कमरे के दरवाजे तक गए और सीधे सीरीजों के पास पहुंच गई । पल भर के लिए कुछ सोचते हुए वो पीछे मोडी और फिर अपने पति का हैट और लगता पहला वो वाला नहीं जो वह रोज पहनता था कि अगर उसे कोई उजाले में देख ले तो लगे कि कोई लडका या किसी औरत का पीछा करने वाला कोई पिछले को है । इस तरह से स्वयं को सचित कर वह घुमावदार सीढियों से नीचे उतर आई जिसके नीचे पश्चिम की ओर उसका भाई जस्ट दिशा में था । चबूतरे मारे द्वार खुलता था । उसका मकसद था कि वह प्रहरी की नजरें बचाकर वहाँ से निकल है । बस समझ में पहुंचाए और एक परिवार और एक परिषद को जगाकर और उसे अपने भाई को चेतावनी देने के लिए उस पूछे के साथ साथ बात पर प्रश्न वो उस समय प्रहरी थे, उसके सामने से हट जाने की प्रतीक्षा करते हुए पश्चिमी चबूतरे की दीवार की छाया में खडी थी । जब उसके कानों में पास की छाया से आवाज पडे मैं जहाँ हूँ वो आवाज किसी औरत की थी । लेडी बिक्सबाई ने कोई उत्तर नहीं दिया और दीवार से सटकर खडी हो गई मेरे लॉर्ड एक स्पाइल तो आवाज ने फिर का वो पहचान गए कि शेल्टन के छोटे से शहर की अस्थान लहजे वाली कोई लडकी वहाँ खडी हैं । मैं तुम्हारी प्रतीक्षा करते करते थक कई छूट ये लॉर्ड बेक सफाई मुझे डर था के तुम कभी नहीं होगी । लेडी बॉक्सर पाई सिर से पांव तक काम नहीं यानी कि ये उससे प्यार करती है । आवाज के ऐसे अनुमान लगाते हुए उसने स्वयं से का जो दुखी वह मीठा और चिडिया की तरह को मन था । वो क्षण भर में कूटनीतिक के पत्नी में बदल गई । वो बोली लार्ड आपने दस बजे आने को कहा था और अब बारह बजने वाले हैं । आप मुझसे प्यार करते हैं, जैसा कि आपने कहा था तो आखिर आप मुझे प्रतीक्षा कैसे करा सकते हैं? अगर ये आपके लिए नहीं होता ऍम तो बस सेना के ही अपने प्रेमी से ही चूडी रहती है । इसमें कोई संदेह नहीं था कि ये बहुत युवती लेंगे । ब्रेक सब भाई को उसका पति समझने की भूल कर बैठे नहीं । यहाँ चोरी छिपे सब कुछ चल रहा था । यहाँ के रूप से चालबाज हो गई थी । उसका धूर्त पति जैसे अब तक वो विश्वसनीय मानती आई थी । उसके साथ ऐसा कैसे कर सकता है? लेडी बॉक्सर भाई हर बढाते हुए बुर्ज के द्वार की ओर रहेगा । उसे बंद किया । उस पर ताला लगाया और सीढियां उतर गई । यहाँ बच कर निकल जाने का एक रास्ता था । मैं नहीं आ रही हूँ । बॅाक्स पाई तो मैं और तो भारी सारी व्यभिचारी जाती का तिरस्कार करती हूँ । वो द्वार पर खडे हो तो कारी और फिर ऊपर की ओर चढ गयी । किले के किसी भी पुरुष की तरह राजस्वी सिद्धांतों को गढता सही था में उसका पति अभी भी थकावट भरे पेट और अत्यधिक शराब पीने के बाद के नींद में था । ऍम बिना किसी सहायता के अपने कपडे पतले उसके परिचारिका बहुत पहले ही विश्राम करने चली गई थी । लेने से पहले उसने धीमे से दरवाजा बंद किया और अपने तकिए के नीचे चाहती रखती । इतना ही नहीं उसने तनी ली और अपने पति के पास रखते हुए चुपके से उसके लंबे बालों के गुच्छे में कसकर उस तकनीक को बांध दिया और तनी के दूसरे सीधे को पलंग के डंडे से बहुत दिया क्योंकि अब तक वो स्वयं बहुत हो चुकी थी और उसे डर था कि कहीं उसे गहरी नींद आ जाए और अगर पति जांच हो जाता है तो उसे तुरंत पता चल जाएगा । जब वो लेती तो उसने पूरी तरह से आश्वस्त होने के लिए अपने पति का हाथ पकड लिया । लेकिन ये बीवियों के बीच चलने वाली बात है और इसकी पुष्टि नहीं हुई है । अगली सुबह लॉर्ड ब्रेक सब ाइलें उठने पर इतनी अच्छी ढंग से खूब से बंधे देख क्या सोचा और क्या कहा केवल अटकल लगाने का मामला है । हालांकि ये ना मानने की कोई बच्चा नहीं है की उसे बहुत तेज गुस्सा आया । इस षडयंत्र के बारे में उसकी संतोष ता इतनी अत्यधिक थी कि उस दिन शैल्टन के पास एक चौराहे के पास रखते हुए उसने एक सुंदर युवा लडकी के साथ चुहलबाजी जिसके अनिच्छा जाहिर न करने पर उसने अंधेरा होने के बाद उसे किले के चबूतरे पर आने का निमंत्रण दे दिया । ऐसा निमंत्रण जिसके बारे में वो खाते हैं, वापस लौटने पर बिल्कुल फट गया । जहाँ तक ज्ञात है कि लॉर्ड और लेडी बॉक्स वाई के रिश्तों में फिर झगडों के कारण उत्पन्न होने वाली कटता नहीं दीजिए । हालांकि बात के जीवन में पति के आचरण में बीच बीच में सडक दिखाई देने लगी और उसके सार्वजनिक जीवन का चढाओ होता एक लंबे निर्वासन में पदक गया । मैं जिस समय का वर्णन कर रहा हूँ, उसके दो तीन वर्षों तक जब तक किले की घेराबंदी नियमित रूप से नहीं की गई थी, जब तक की उस समय के राज्यपाल की पत्नी के सिवाय लेडी बेक सफाई और वहाँ रहने वाली तमाम औरतों को एक सुरक्षित दूरी पर नहीं पहुंचा दिया गया था । फिर फेक सोमवारा, पंद्रह दिनों की वह यादगार खेरापति और पुरानी जगह का अगस्त महीने के एक शाम को आत्मसमर्पण इतिहास की बात है और मुझे इसके बारे में बताने की जरूरत नहीं है । जब कर्नल को अपनी सहमति देते हुए मुख् यानी के पास बताई और की घोषणा की गई की ये कहा नहीं इतिहास का एक सच्चा आलेख है क्योंकि ये जानने के लिए उसके पास ठोस कारण थे कि उसके खुद के लोग विख्यात छीना झपटी में शामिल थे । उसने कर्नल से पूछा, क्या उसने इतने ही प्रमाणित? हालांकि किसी लेडी मैंने लोग की कुछ काम वैवाहिक कहानी के बारे में सुना है तो उसी साडी की थी और उस स्थान से बहुत ज्यादा दूर भी नहीं रहती थी । कर्नल नहीं, उसके बारे में नहीं सुना था । नहीं और किसी ने सेवाएं स्थानीय इतिहासवेत्ता की और जांच करने वाले तथा छानबीन करने के लिए प्रेरित किया गया ।

थॉमस हार्डी की लोकप्रिय कहानियाँ - Part 2

एक बदलाव हुआ । आदमी वो व्यक्ति जो स्वयं कलाकारों के करीब था जो उन के बारे में बहुत कुछ जानता था । एक पूरा नहीं मजबूती से निर्मित घर में डॉक्टर टाउन जैसा की उस जगह को कहा जाता था कि नीचे रहता था और प्रथम तल पर एक झरोखे जैसी घिर की होने के कारण पडोसियों द्वारा एक विशिष्ट पहचान उसे मिली हुई नहीं जहाँ से पश्चिम और पूर्व की हाई स्ट्रीट का एक कदम वृहन दम दृश्य दिखता था जिसमें लौरा का घर भी था । ऍम जिसमें अजीत शरारतें किया करते थे जिनके बारे में बाद में बताया गया है स्पोर्ट ब्रेडी की सडक जो पश्चिम की ओर जाती थी, से जुडा था और वह घुमाओ जो घुडसवारों पहुंच के बैरकों की ओर ले जाता था, जहां कप्तान ठहरा हुआ था । उसी प्रशंसात्मक बोल चुके शहर में पूर्व की तरफ कभी मुड घरों के लम्बे परिदृश्य होने लगते हैं और तब तक घटते जाते हैं जब तक कि वे बंजर भूमि के बार राजमार्ग में विलीन नहीं हो जाते हैं । सडक कि सफेद पट्टी एक चौथाई मील दूर ग्रीन ब्रिज पर आकर तब तक का दृश्य हो गई जब तक कि वह अनगिनित बच्चे को मागूं सतर्क अच्छा आया हूँ और एक सौ बीस मील एकल लड रही ऊपरी पहाडी और नीचे घाटी में घुल मिल नहीं ताकि वो व्यस्त और भाषण प्रिया दुनिया के साथ छोडने के लिए एक सपाट वसवा उनमें सट्टा के रूप में स्वयं को हाइट बारह कॉर्नर पर प्रदर्शित कर सके । पहले वर्णित बैरकों से हाल में आया सैन्यदल अनुसार बोलने के लिए नया था । शहर के लोगों का उनसे कोई परिचय होता है उससे पहले ये बात फैल गई कि वह सनकी लोगों का दल है और अपने साथ शानदार टोरी लाया है । इसी कारण किसी कारण वश वर्षों से शहर का इस्तेमाल घोड सवार फौज के मुख्यालय के रूप में नहीं किया गया था । यहाँ तैनात विभिन्न सैन्य दलों में केवल आम मौजे ही समाहित नहीं । इसलिए ये एक सम्मान की बात थी कि हर किसी यहाँ तक की मामूली सा फर्नीचर विक्रेता भी । जिससे विवाह ही सैनिक में इस वक्त कुर्सिया किराया बढा लिया करते थे तो उनके सनकीपन की खबर मिल गई । उन दिनों में खुला रेजीमेंट आपने पाये कंधे पर उन आकर्षक बिल्ली को धारण करती थी या फिर वाले हाफ कोर्ट पहनती थी जो उनके पीछे किसी पक्षी के घायल पंद्रह की तरह लटके होते थे जिसे पेल्सी कहा जाता था । हालांकि फौज में उसे स्लिंग जैकेट के नाम से जाना जाता था । ये औरतों की नसों में उनकी विलक्षणता को बढा देती थी और मुस्तैद और वस्तु ता पुरूषों की नजरों में भी । वो व्यक्ति जो झारो के जैसी खिडकी वाले घर में रहता था तो सृष्टि को देखने के लिए वहाँ घंटो बैठा रहता था क्योंकि वह आश्वस्त था और उसके पास समय की कमी नहीं थी । दुलारों के आने के एक हफ्ते बाद ही नीचे काली में खडे स्कूल में पढने वाले लडके की तेज आवाज उसके कानों में पडी जो किसी और लडके से चिल्लाकर कुछ कह रहा था क्या तुमने दुलारो के बारे में सुना उसके पीछे भूत पडे हुए हैं । हाँ एक भूत उन्हें परेशान करता है । वो बरसों से उनका पीछा कर रहा है । एक होता वेस्टर्न रेजीमेंट चाहे और शक वह हट्टा कठ्ठा व्यक्ति ये उसके लिए नई बात थी । भरोसे पर बैठे श्रोता से निष्कर्ष निकाला दुलारो के बीच अवश्य कुछ जीवंत लोग हैं एक दोपहर चाय पर अपने कप्तान मुंबर्इ से बहुत ही औपचारिक तरीके से परिचय क्या वो उनसे मिलने विल चेयर पर गया था । अपने बिगडे स्वास्थ्य के कारण बदले ही वो बाहर निकलता था । मुंबर्इ । अट्ठाईस या तीस वर्ष का सुदर्शन पुरुष था जिसके आचरन में उसे शरारत का एक आकर्षक संकेत नजर आया जो निश्चित रूप से युवा औरतों की नसों में आदरणीय बना सकता है । पडी कह रही आंखें जो उसके निस्तेज चेहरे पर चमक ले आती थी इस शरारत को बडे शिद्दत से व्यक्त करते थे । हालांकि उनके किरणों की अनुकूलन क्षमता ऐसी थी कि कोई सोच सकता था क्योंकि उदासी या गंभीरता व्यक्त कर रही है अगर वो ऐसा सोचने की क्षमता रखता हूँ । वहाँ अवस्थी देख बूढी वह बाहरी महिला नहीं निर्भिकता से कप्तान मुंबर्इ से पूछा हम तुम्हारे बारे में ये क्या सुन रहे हैं, कहाँ जा रहा है कि तुम्हारी रेजीमेंट भूत आविष्ट है? तब तक मान के चेहरे पर गंभीर यहाँ तक दुखी भाव तो बाहर आए । हाँ वो बोला ये सच है । कुछ युवा महिलाएं तब तक मुस्कुराई जब तक कि उन्हें नहीं लगा कि वो वास्तव में कम रेट देख रहा है । सच मौत ऍम स्वाभाविक है । हम इसके बारे में कुछ ज्यादा बात नहीं करना चाहेंगी । नहीं नहीं बिल्कुल नहीं पर होता विश्व कैसे? असल में बात ये है कि मैं कहूंगा जो हमारा पीछा करती है । देश के प्रदेश या शहर में विदेश से अपने देश में आपको एक ही हैं तो मैं इसकी वजह क्या बताओगे? ठीक है । मोहन बरी ने धीमे स्वर में कहा हमें लगता है की पहले कभी हमारी किसी रेजमेंट द्वारा कोई अप राहत वजह हो सकती है । हूँ कितना भयानक और विचित्र है । लेकिन जैसा कि मैंने कहा हम इसके बारे में ज्यादा बात नहीं करते हैं । नहीं नहीं जब खुला चला गया तो बहुत देर से दवाई हुई । अपनी इच्छा को बाहर लाते हुए एक युवा महिला ने पूछा क्या शहर में किसी ने भूत को देखा है? वकील का बेटा जिसके पास नगर की हमेशा नवीनतम खबर होती थी । उसने कहा कि उसे किसी अन्य तो कभी नहीं देखा पर खुला रोने नगर के किसी पुरुष या स्त्री के बजाय स्वयं उन्हें देखा है । बैरकों के सबसे नजदीक नगर रास्तों के खानें पेडों के नीचे तेज हूँ । आप सर छायाएं दिखाई देती हैं । वो कोई दस फीट लंबा है । उसके तहत सूखी आवाज से कट कट आते रहते हैं । जैसे कि वे किसी कंगाल केदार हूँ और उसके नितम्बों की हट्टियां उन कटोरों में तहाँ पीस रही हूँ । धरती के गहनतम हफ्तों में उनके डरपोक व्यक्ति इस मजेदार वर्णन का उत्तर देने वाली चीज से सचमुच हैबिट हो गए और पुलिस मामले की जांच पडताल के कुछ सैनिकों ने राहत की सांस लेते हुए कहा केस्टर प्रदेश में आने के बाद से भूतहा विपत्र से जितना बुक महसूस कर रहे हैं तो ऐसा वर्षों में महसूस नहीं किया था । ये भूत का खेल उन युवाओं द्वारा मनोरंजन का सबसे मजेदार साधन था जो पत्थर के फूल वाली लाल ईंटों वाली इमारत में नगर में रहती थी जिसपर डब्ल्यूटी लिखा था और उसके कोलोनियों पर एक चौडा तीर बना हुआ था । गंभीर शरारतों से परे प्यार वाइन ताश लगाने से संबंधित छिछोरेपन के बारे में बात होती थी वो भी अत्यधिक बढा । चढाकर ये कि कप्तान मुंबर्इ सहित खुला नगर और देहात के अनेक युवतियों के दुख भरे आंसू लाने की वजह है । निसंदेह एक सच बात है । इस सच के बावजूद की इस पुराने चलन की जगह पर युवा पुरुषों के रंग रलियां किसी विशाल वा आधुनिक शहर की तुलना में कहीं अधिक भर्ती ली है । हफ्ते में एक बार नियमित रूप से गई प्रयाण आदेश का पालन करते हैं । मंद दक्षिणपश्चिमी हवा में प्रत्येक घुड सवार के कंधे के पीछे छूटती रोमेंटिक फॅमिली के साथ ऐसे ही एक अवसर पर नगर में लौटते हुए कप्तान मुंबर्इ को झरोखे पर नजर आई । वहाँ बैठे व्यक्ति जो पढ रहा था के साथ आपसी अभिवादन हुआ । पडने वाले व्यक्ति और कमरे में उनके साथ बैठा मित्र तब तक सडक पर से जाते हैं, साल ने दल को देखते रहे । जब तक सैनिक उस घर के सामने नहीं पहुंच गए जिसमें लाहौरा रहती थी वो यूपी बालकनी में खडे दिखाई दे रही थी । मैंने सुना है उनकी शादी होने वाली है । मित्र ऍम कभी नहीं इतनी चलती हाँ वो कभी शांति नहीं करेगा । बहुत सारी लडकियों ने इस बारे में उसका नाम लिया है । मुझे लौरा के लिए खेद हैं तो पर तुम्हें अफसोस करने की जरूरत नहीं है । उन दोनों की जोडी खूब चलती है वो भी दूसरों की तरह एक और लडकी है वो एक और है और फिर भी उन से बढकर हैं । वो रोज उनसे मिलती है वो तीनों के खेल की चाँद बच्चा खिलाडी है और जानती है कि उसे उसी की पद्धतियों में कैसे हराया जाए । अगर मगर में कोई ऐसी औरत है जिसका खुद पर नियंत्रण है और उससे शादी करने को तरह है, वो यही आ रहा है । ये सही था जैसा कि हुआ भी स्वाभाविक झुकाओ के द्वारा लौरा ने पहले सैन्य प्याज के अंदर पूरी तरह से प्रवेश किया । जैसा कि उन जीवन प्रतिनिधियों, थाना को वो अच्छा मित्रों में प्रदर्शित किया गया तो उस की दृष्टि में आए अपने आरंभिक युवा स्त्रियोचित पदाधिकारियों में चाहे कितने ही होना हार क्यों थे, उनका उनके दिलचस्पी को प्राप्त करने की कोई संभावना है । अगर औसत था सीमा के आज तक ऐसा हो सकता था की बैरकों के नजदीक बेस्ट स्ट्रेट के कोने में उसके अंकल के घर पे स्थिति जो उसका घर था, वहाँ से सैन्य दलों का रोज निकलना, उसकी खिडकियों से कुछ की दूरी पर बिल्कुल का बचना और साथ ही यह तथ्य कि वह सैन्य जीवन की आंतरिक वास्तविकताओं के बारे में कुछ नहीं जानती है और इसलिए उसे आदर्श मानती है ने भी ये सोचने पर उसकी मदद की कि योद्धा ही केवल किसी औरत के दिल में उतरने लायक होते हैं । कप्तान मुंबर्इ एक विशिष्ट व्यक्ति था जिसके चारों ओर सारी कुमारी लडकियाँ ललचाई से घूमती रहती थी । उसके लिए दर्द महसूस करते थे, उसे फंसाना चाहती थी, उसके लिए रोती थी । वो उसके विवेकपूर्ण प्रबंधन के कारण उसके उद्देश्य को पूरा करने के लिए अभी भूत हो गया और जिस व्यक्ति से वह प्यार करती है । उसके आनंद के अतिरिक्त लौरा को इस बात की खुशी थी कि आस पडोस की सारे विवाह योग की लडकियों की माँ उससे नफरत कर रही है । झरोखे में बैठा रहने वाला व्यक्ति साथ ही में गया मेहमान के रूप में नहीं है क्योंकि उस समय तक वो जश्न के बारे में चंद नहीं लगा था । मुख्य तो इसलिए क्योंकि चर्च उसके घर के पास था और कुछ इस कारण से भी जिसने आने अन्य लोगों को भी समारोह का दस तक बनने के लिए प्रेरित कर दिया था । एक अवचेतना की हालांकि मुगल अपने अनुभवों में खुश लेकिन इस बात की पर्याप्त संभावना थी कि वैसे अनुपात लगाने की सुखद कारों निकता के साथ किसी दर्शक की कल्पना में रंगा भरे जाए । वो इन दोनों में अवसर या ऑनलाइन बंदी के प्यारे आग हाथ कर सकता था और उसने इंतजार की घडियों को बहलाने के लिए अपने प्रार्थना की किताब के खाली पृष्ठों पर कुछ पंक्तियां देखती हूँ । हालांकि तब उन्हें उसने किसी को नहीं दिखाया । शायद यहाँ दी जा सकती हैं एक फॅमिली अष्टपदी अगर घंटे बर्फ होते हैं दोनों को आज शुरुआत मिलता था क्योंकि अब ये जीवन भर के बंधन के द्वारा तोते इच्छा को दिलासा देते हैं जो उत्साह को खूंटे से बांध देता है । अगर घंटे वर्ष होते दोनों का आशीर्वाद मिलता है पूर्व का सूरज कभी पश्चिम में नहीं जाता । नहीं पीली राख आपका पीछा करती अगर घंटे वर्ष होते दोनों को आशीर्वाद क्योंकि अब वे तृत्य इच्छा को दिलासा देते हैं जैसे कि जद्यपि सारी भविष्यवाणियों को झूठा साबित करने के लिए युगल विवाह में प्रणय निवेदन के उन्माद को कायम रखते के रहस्य के बारे में जानते हुए प्रतीत होते हैं, जो कम से कम वाम भरी की तरफ से तो बिना गंभीर उद्देश्य के खुल गया था । आने वाली सब्जियों में फॅमिली बल्कि साउथ वेसेक्स में सबसे प्रचालित युग थे । नगर में आसानी से तय हो जाने वाली तोड के अंतर्गत युवा और जिंदादिल परिवारों के घरों का शानदार रात हूँ । उनकी प्रफुल्ल उपस् थिति के बिना पूरे नहीं होते थे । प्रांत के नाच में मिसेज मुंबर्इ तेजी से घूमने वाले लोगों में सबसे प्रफुल्ल व्यक्ति मानी जाती थी । हाँ, फिर जब रक्षा सेना वाले नगर के जीवन में वह घटना घटी एक अनुपर नाटकीय मनोरंजन तब भी बात पैसे ही थी । अभिनय इतने उत्कृष्ट परोपकार के फायदे के लिए था और किसी ने इस बात की परवाह ही नहीं की किसके लिए था । बस नाटक खेला गया और कप्तान मुंबर्इ तथा उसकी पत्नी दोनों ही उसमें थे । मजे की बात तो ये है कि आपसी सहमति से भी अभिनय के प्रवर्तक भी । और इसलिए हंसी तथा बिना सुविचारित और गति तो सब वहाँ खुशी से हुआ । युगल के बिल का भुगतान करने में स्कूलिंग का जैसी दिखाई गई पर उनके साथ न्याय करने के लिए ये कहना चाहती है कभी ना कभी सारे दिन हो चुका दिए जाएंगे । सेना द्वारा दूर के प्रार्थनागृह में शामिल होने पर रविवार की एक सुबह प्रवचन मंच पर एक अनजाना चेहरा अवतरित हुआ । ये सरकारी पुरोहित का छह था । उसने डेस्क पर उपदेश के किताब नहीं रखी वरन एक बाइबिल को रखा । उस उपासना में वो व्यक्ति उपस् थित नहीं था जो ये सब बातें बताता था । पर वो चलती है । इस बात को भी चल गया की उसके भक्त मंडली के लिए वो युवा पुरोहित किसी आश्चर्य से कम नहीं था । हमेशा हालांकि पूरी इमारत में खुसाल फैले हुए थे । उसके कोनी नागरिकों से भरे हुए थे, जिसे परोपकार न करने वालों ने ये कहकर वर्णित किया कि वह सेना के बजाय उपासनाओं से कम आकर्षित होता है । पहले से भरे हुए चर्च में से खोलकर बैठने का एक और दूसरा कारण उत्पन्न हो गया । मिस्टर सेंड की आकर्षक और सामने वाकपटुता ने उन पर किसी संबोधनों की तरह का जो देश देने के उच्च फॅमिली के अभ्यस्त थे और कुछ समय के लिए नगर के अन्य चर्चों में बैठने वालों की संख्या में कमी आ गया । उन्नीसवी सदी में उस समय धार्मिक लोगों के विस्तृत समूह के बीच चर्चा जाने का एकमात्र कारण उस देश की थी । उपासना पद्धति एक औपचारिक भूमिका थी । न्याय दरबार बजे से राजस्व घोषणा की तरह वास्तविक को देश से आरंभ होने से पहले गुजरना पडता था और घर पहुंचने पर प्रश्न यही होता था । किसने उपदेश दिया और उसने अपने विषय पर कैसे प्रकाश डालना? अगर उपासना में किसी महा धर्माध्यक्ष को नियुक्त किया जाता है तो भी क्या कहा या गाया गया, इसके बारे में किसी नहीं ज्यादा परवाह नहीं की होती है । जो लोग पहले सुबह के समय जाते थे वे अब शाम को जाने लगे और यहाँ तक कि दोपहर में होने वाले विशेष भाषण में भी । एक दिन जब कप्तान मुंबर्इ अपनी पत्नी की बैठक में आएगा जो किराया के फर्नीचर से भरी हुई थी । उसे लगा कि तो कोई और है क्योंकि वह ऊपर हवा में तैरती । संगीत मैं आवृत्तियों को गुनगुनाता था । अपने आप लापरवाह ढंग से नहीं आया था । क्या बात है जैक वह जो नोट लिख रही थी उस पर से सिर उठाए बिना उसने पूछा कुछ खास नहीं है ये मैं जानता हूँ, लेकिन कुछ तो है । वो लिखते लिखते बहुत होता ही है । आखिर चाहते में ये नया पैबंद क्यों लग गया है? मेरा मतलब है नया पाॅवर रविवार की दोपहर में बजने वाले बैंड को बंद करवाना चाहता है । ऐसा क्यों? यही तो एक चीज तो आसपास के कुछ बुद्धिमान लोगों को शनिवार से सोमवार तक जीवंत बनाए रखता है । उसका कहना है कि सारा शहर संगीत सुनने को एकत्र होता है । ना की उपासना के लिए ये है कि जो संगीत रचनाएं बनाई जाती हैं वे आपका वित्र कुछ और निरर्थक है । ऐसा ही कुछ है वो नहीं जिससे रविवार को बचाया जाना चाहिए । निःसंदेह तो लाइट में नहीं हैं जो ये सब तय करता है । लाॅस था यह संस्था की रविवार की दो भर बैरक क्रीम नगर के प्रसन्न रहने वाले अनेक लोगों के लिए विचरन अस्थल बन गया था । उनमें से अनेक जिन्होंने सुबह मिस्टर सेंड की उपासना में हिस्सा लिया था और वे छोटे लडके जिन्हें पात्र के दोपहर के लेक्चर को सुनना पड रहा था वे बीच बीच में खास को मसलते और अत्यंत प्रतिष्ठित श्रोताओं के पीछे से बनाते दिखाई है । हालांकि दो तीन हफ्तों तक लौरा ने फिर इस बारे में कुछ नहीं सुना लेकिन अचानक इस बात को याद करते हुए उसमें अपने पति से पूछा फिर कोई विरोध किया गया है? फॅमिली मैं तो मैं बताना भूल गया था । मैंने उसकी जानकारी हासिल की है । वो रात में नहीं है । उन्होंने पूछा कि नंबरी या अन्य किसी अफसर नहीं भृष्ट पूरोहित को उसके हस्तक्षेप के लिए भडकाने, उसके हस्तक्षेप के लिए भडका नहीं । हम ये भूल गए हैं । वो तो एक बेहतरीन उपदेशक है । उन्होंने बस मुझे बताया बाद में परिचय हो गया क्योंकि कप्तान ने कुछ समय बाद का रवि की । दोपहर को बैंड नाम बचने के बारे में ऍम के तरफ में काफी दम है । आखिरकार तो उनके चर्च के बहुत पास है लेकिन वह बिना वजह अपना विरोध नहीं चाहता था । है तो उसका पक्ष ले रहे हैं । ये सुनकर मुझे आशक्ति ये तो एक विचार है तो मेरे मन में आ गया है । स्वाभाविक है कि अगर मैं पसंद नहीं करते हैं तो हम शहर के निवासियों को नाराज नहीं करना चाहते हैं पर करते हैं भरोसे में बैठा ऐसा है व्यक्ति समझे और पुरोहित मत के इस संबंध में कभी भी इस बारे में स्पष्ट से जान नहीं पाता है कि आखिर हो क्या रहा है । पर संगीतकारों को इस बात से निराशा विचरन पसंद करने वालों को खुद और शहर व प्रांत कि वयस्क आबादी को पछतावा हुआ । क्रिस्टर ब्रिज अभ्यास प्रांगण में रविवार की दोपहर को फाॅर्स बजाये जाने पर रोक लगा दी गई । अब तक मोहम्मदी दंपत्ति लगातार इस भत्र लेकिन संकेत ना विचारों वाले पुरोहित के उपदेश सुन चुके थे क्योंकि ये मस्त मौला, लापरवाह, धूर्त लोग, दूसरों की तरह सम्मान की खातिर चर्चे आपकी पक्की सांसारिकता की तरह कोई भी उतना संकीर्ण विचारों वाला नहीं था । खेती पर बैठे व्यक्ति के लिए सबसे असाधारण घटना थी गंभीर बात चीत में मसगूल कप्तान मुंबर्इ और मिस्टर सेलवे का हाई स्ट्रीट पर से निकलना । एक बुलाने वाले को इस तथ्य के बारे में बताते हुए नहीं यकीन था । यह आम चर्चा का विषय बन चुका है कि वे हमेशा साथ होते हैं । अगर किसी को इस बात का पता न हो तो वो खुद जल्दी ही अपनी आंखों से ये देख लेगा । वे दोनों इकट्ठे लगभग हर दिन ही वहाँ से गुजरने लगेंगे । तब तक आधुनिक कपडों में सचिन मैसेज मोवंबर ही आम तौर पर अपने पति के साथ होती थी । लेकिन अब ऐसा बहुत कम हो गया था । दो पुरुषों के बीच घनिष्ठ वहाँ अनोखी मित्रता लगभग एक वर्ष तक रही । मिस्टर सेन को मध्यदेश के प्रांतों में एक खानी आबादीवाले शहर में रहने के की एक स्थान दिया गया । जब उन्होंने अनिच्छा से अपने पुराने स्थान के यजमानों से विताली जो हम स्पष्ट वो तेज में देते थे, उसे एक स्थान ने प्रिंटर प्रकाशित क्या हर किसी को उनके जाने का दुख था और वास्तविकता आपके एक साथ उनके टेस्टर ब्रिज के भक्त मंडली को बाद में पता चला की उनकी याद किये । वृत्ति के तुरंत बाद किसी खराब मौसम के कारण क्षेत्रों में सूजन होने के कारण वह गंभीर रूप से बीमार हो गए, जिसके कारण बाद में उनकी मृत्यु हो गई । अब हमें चीजों की तरह के बारे में पता चल गया है । जितने भी लोग मृत रोहित को जानते थे, किसी भी उस आदमी की तरह मातम नहीं मनाया गया, जिसने उसके आगमन पर उसे चादर में लगा पैबंद कहा था मिसेज मुंबर्इ को कभी उस प्रभावशाली पातरी से अत्यधिक सहानुभूति नहीं थी । वस्तु तार उन्हें इस बात की खुशी थी कि वह स्वयं ही चला गया । उसने उस औरत के सुख को काफी हद तक खत्म कर दिया था जिसके द्वारा पृथ्वी की खुशियाँ और उसके साथ की खुलकर प्रशंसा की जाते हैं । उन्हें पति के लिए दुख था जिन्होंने अपना मित्र खो दिया था । जो उन का कुछ नहीं था वो घटनाचक्र के लिए अभी तैयार नहीं थी । कुछ ऐसा है जो मैं तुम्हें कब से बताना चाहता था । उसने ही इसकी जाते हुए सुबह नाश्ते के समय एक दिन का क्या तुम अनुमान लगा सकती हूँ? क्या है उसमें कुछ भी अनुमान नहीं लगाया कि मैं सेना, सेना चार हनी की सोच रहा हूँ क्या जबसे सेलवे के व्यक्ति हुई है मैं उसके वो जो मुझसे कहा करता था के बारे में ही लगातार सोच रहा हूँ और मुझे लगता है कि इस लडाई वाले व्यापार को छोडने और चर्च से चले जाने के लिए अपनी अंतरात्मा से आती आवाज को सुनना ठीक है । क्या पुरोहित बनना चाहते हो वहाँ? पर मैं क्या कर पुरोहित की बीवी बनो, कभी नहीं वो दृढता से होंगे लेकिन तुम और क्या कर सकती हूँ । मैं इसके बजाय भाग चाहूंगी । उसने तेजी से कहा, नहीं, नहीं तो मैं ऐसा नहीं करना चाहिए । मोहम्मदी ने उस लाइन में उत्तर दिया जिसका इस्तेमाल वह सब करता था जब वो अपना मन बना चुका होता था । तुम इस बात की अभ्यस्त हो जाऊंगी तो क्योंकि मैं ऐसा करने को बात फिर हूँ । हालांकि ये मेरे सांसारिक खेतों के विरुद्ध हैं । मैं किसी बाहरी हाथ द्वारा बाधित हूँ कि मैं सेंड के रास्ते पर हो । शायद शाम भाव और आंखों को गोल गोल घुमाते हुए वो बोले तुम गम्भीरता से सोच रहे हो, ऍफ की बजाय पुरोहित बनना चाहते हो । मैं कह सकता हूँ कि एक पुरोहित एक सैनिक हैं, चर्च प्रयास मान का । पर मैं तो मैं सिद्धांतों से ठेस नहीं पहुंचाना चाहता हूँ । मैं स्पष्ट रूप से कहता हूँ । यहाँ

थॉमस हार्डी की लोकप्रिय कहानियाँ - Part 3

कुछ समय बाद एक शाम उसने उसे अपने कमरे की लकडियों की चलती आपकी मध्यम रोशनी में बैठे देखा था । उसके आने के बारे में उनसे पता नहीं चला और उसने देखा कि बोर हो रही है । तुम किस लिए रो रही हूँ मैं फ्री जो तुमने मुझसे कहा उसकी वजह से कपडा हूँ, दुखी हो गया लेकिन वह अपनी बात पर अडिग रहा । कुछ ही समय में शहर को ये बात पता लग गई और हूँ ये जानकर आश्चर्यचकित रह गया । कप्तान मुंबर्इ उस हिसाब से रिटायर हो गए और पुरोहिताई के लिए तैयार होने के लिए फाॅल थी और लॉजिकल कॉलेज गए और की तरह दुख की बात है ऐसा जोशीला सैनिक, इतना लोकप्रिय शहर के लिए इतनी बडी उपलब्धि, यहाँ के सामाजिक जीवन की आत्मा और अब व्यक्ति के बारे में बुरा नहीं बोलना चाहिए । लेकिन पूरा ऍम उसने ये क्रूरतापूर्ण काम किया जब कप्तान जो अब आदरणीय कौन वाम पड रही है । ईसाई धर्म के पुरोहित की हैसियत से अपने पूर्व सोशण करने वाले के स्थान पर लौटने की, अपने दिल की इच्छा को पूरा करने के लिए स्थितियों द्वारा समर्थन होने पर जो कहा गया उसका सारा राज है । शहर का एक निम्न स्थान में प्रांत, जो तब का अंदाज झोपडीवासियों से भरा हुआ था, एक पुरोहित की मांग कर रहा था और मिस्टर मोहम्मद ही नहीं स्वयं को एक ऐसे व्यक्ति के रूप में प्रस्तुत किया जो काम करने को तैयार था, जो निश्चित रूप से थोडे से परे लाभदायक होते हैं और कोई भी धन्यवाद से या पारिश्रमिक उन्हें उससे नहीं मिलता । पातरी के रूप में उनकी सच्चाई को बताया जाना चाहिए । उन्होंने एक सफलता का परिचय दिया । बहुत श्रम के साथ स्वयं निर्णय लेते हुए बहुत उत्साह जैसा कि सब देख सकते हैं । उस काम में मेहनत थी, उनके उद्देश्य सुनने में नीरस लगते थे और बहुत होते थे । यहाँ तक की वाइट बॉल एक सराय जो पूर्वोक्त गरीब बस्ती और बाम्बरी की पूर्व उपस् थिति के आधुनिक मोहल्ले के बीच की वृहत्तर रेखा पर स्थित थी कि शराब खाने में घंटों बैठने वाले, संवेदनहीन न्यायाधीश और इसलिए कठोर पक्षपातरहित स्थिति रखने वाले पर िश्मा भी मुख्य युवा महिलाओं के कथन से सहमत थे । हालांकि उनके बीवियों ने बहुत ही रूकें ढंग से अपनी बात कही थी । निश्चित रूप से विश्व कप्तान मुंबर्इ को एक पुरोहित में तब्दील किया तो उसने एक अच्छे सैनिक को एक पूरा पुरोहित बना दिया । बम्बई जानता था कि ऐसी बातें कही जाएंगे । पर वो निश्चिंतता के साथ अपना काम करता रहा । उसी समय भरोसे पर बैठा वो अशक्त व्यक्ति ऍम बेटे के लिए मात्र अभिवादन करने वाले परिचित से भी बढकर और कुछ बन गया । वो अपने पति के साथ शहर लौट आई थी और उसके पुरोहिती सेवा के मंडली के मध्य में उसके साथ एक छोटे से घर में रह रही थी । जबकि नहीं कारणों से अशक्त व्यक्ति से मिलने जाने वालों में से एक बन गई । दोनों के एक मित्र के साथ उसके कमरे में बैठे हुए हैं । एक आम बातचीत के बाद एक घटना ने ऐसे विषय को उठा दिया जो अभी भी गहरे तक उनकी आत्मा में कर सकता है । उनका चेहरा अब पहले से कहीं ज्यादा पीला और पतला हो गया है । कहीं ज्यादा आकर्षक हो गया है । उनकी निराशा उनकी नसों में सहमी हुई सोच के साथ अंकित हो गयी जिसमें कभी चल चलता हुआ करती थी । दोनों महिलाओं को खिडकी का इस्तेमाल चाहते हुए दुलारों को देखने के लिए बुलाया गया था जो लंदन के करीब बैरकों में जा रहे थे । हाईस्ट्रीट के ऊपर बैरक रोड के कोने में सैनिक मुझे उनके आगे आगे उनका पाॅच चल रहा था । जो गर्ल आई लेफ्ट बिहाइंड भी वो पहले ऐसे समय के लिए हमेशा बजाई जाने वाली धुन थी । हालांकि अब उसका इस्तेमाल नहीं होता था । धुन बजा रहे थे पे आए और झरोखे के सामने से कुछ जहाँ एक दो अफसरों ने जब पर देखा तो पाया की मिसेज वाम बारी खानी है । उसने उन्हें सैल्यूट किया इन की आप की ली थी । उनकी आवाज धीरे धीरे कम होती जा रही थी । इससे पहले कि वे लोग उस नैना भी राम विदाई युक्त को रोमेंटिक भावना शुरू कर पाते, मिस्टर मोहन भरी पटरी पर खडे दिखाई दिए । उन्होंने शायद गली के आरंभ में ही अपने पूर्ववर्ती सैनिकों को विदाई दे दी होगी क्योंकि वह उस दिशा से आपने काफी गंदे पुरोहित वाले कपडों में आए थे और उनके हाथ में एक टोकरी थी जिसमें शायद कुछ खरीदी कई चीजें रखी हुई थी जो उन्होंने अपने गरीब जजमानों के लिए ली थी । सैनिकों से भिन्न वो काफी बेख्याली से चल रहे थे मानो आस पास से बिल्कुल खबर ये भी जानना था लॉरा के लिए बहुत अधिक थी । उसने अशक्त व्यक्ति से पूछा वो उसमें आए बदलाव के बारे में क्या सोचते हैं? इस बात का उत्तर देना कठिन था और एक हठधार्मिता के साथ जो उसमें बहुत प्रबल थी । उसने प्रश्न तो उठाया । आपको लगता है किसी और के पति के साथ ऐसी चीज करने का अधिकार है चाहे उसे लगता हूँ कि ऐसा करने की आवश्यकता हूँ । उनके श्रोता ने दिनों के साथ इतनी ज्यादा सामने भूति प्रदर्शित की पर उसके जवाब सोने संतुष्टि नहीं लौटाने खुला, रोकी पतली धूलभरी पति की ओर खिडकी से चाहत करेंगे । सोच से देखा जो अब फॅमिली हो जा रही थी । मैं जिसे लंदन के रास्ते पर उनकी वैन में होना चाहिए । टर्नओवर लेन के कंधे स्थान में स्वर्ण निकल के बाद थे, होना पड रहा है । उस दिन वहाँ से जाने के बाद अशक्त व्यक्ति के दोबारा उसे देखने से पहले अनेक घटनाएं हुई और अनेक अफवाहें उसके लिए चिंता का विषय बनी रही । किस सर ब्रिज कई सैन्य और आम नागरिकों से जुडी घटनाओं का गवाह है और अब उस देशांतर का समय आ गया था । पीडित देश पर है जी की महाविपत्ति टूटी और इस प्राचीन नगर के निम्न अस्थि क्षेत्र को अपने हिस्से से ज्यादा पूजा को सहना पडा । डर्न ओवर मोहल्ले में मिक्स न लेन और मुंबर्इ की यजमानी में सबसे ज्यादा इसका कहते का फिर भी उसके होने की तारीख में कुछ तय हुई क्योंकि मुंबर्इ वैसे ही समय को संभाल सकता था । महामारी इतनी तीव्रता से फैली कि अनेक लोग शहर छोड कर चले गए और कानून वह खेतों में उन्होंने शतरंज सब से संक्रमित करें । मिस्टर मुंबर्इ का घर बहुत ही नजदीक था और वह स्वयं सुबह से लेकर रात तक प्लेग को समाप्त करने और पीडितों की यात्राओं को काम करने में छोटा हुआ था । इसलिए कि सामान्य बचाव के रूप में आपने कुछ समय के लिए अपनी पत्नी को अपने से अलग कहीं दूर भेजने का निश्चय किया । उसने पुल माउंट रेगिस के पास समुद्र किनारे स्थित एक गांव में जाने की बात सुझाई और उसके कहने के लिए क्रिस्टन को चुना गया । वो स्थल जो एक ऊंचे ब्रिज द्वारा क्रिस्टर ब्रिज घाटी से अलग हो जाता है जो से अलग ही वातावरण प्रदान करता है । हालांकि वह मात्र अच्छा किलोमीटर की ही दूरी पर था । उन्हें उधर भेजा गया जब वो सुरक्षा के लिए इस जगह पर बस रही थी और उसका पति गंदी बस्तियों में काम कर रहा था । उसके मुलाकात फट एक परिचित लेफ्टिनेंट मिस्टर वन्नी कुक से हुई जो अपनी टुकडे के साथ गुड बहुत पैदल सेना बैरकों में तैनात था । लौरा चुकी अक्सर प्रत्येक पतली लहर को अपने तक आते और सुनते बिना सावधानी बरते मंदिर हाल पर बैठा करती थी, जहाँ से लहर जाते हुए अपने पत्थरों को घिसती थी । बहुत उस रात्रि पर शायद करने जाया करता था । परिचय पडा और कहता हुआ उसकी स्थिति, उसका इतिहास, उसका सांझेदारी, उसकी उम्र जो उसके खुद की उम्र से एक दो वर्ष ज्यादा ही थी । सपने उस युवा व्यक्ति के हफ्ते में एक छाप छोडी और उस एकांत तटपर लापरवाह मस्ती नहीं आकाश ले लिया । बाद में उसके निंदकों ने कहा कि उसने इस व्यक्ति के करीब होने के स्थान को चुना था पर ये मानने के पीछे एक कारण था । उसके वहाँ आने से पहले उसे कभी देखा नहीं था । उस समय तो क्रिस्टर ब्रिज अपने खुद के दुखद मामलों को लेकर व्यस्त था । रोज किसी प्रेत को दफनाना और संक्रमित कपडों व बिस्तरों को नष्ट करना कि वो इन अफवाहों को प्रचारित करने का इच्छुक नहीं था जो शायद उसके कानों तक पहुंच रही थी । कोई भी अब नहीं मान रहा था कि लॉरा किसी दुखद बातों से खेती हुई हैं जो उन पर मंडरा रहे थे । इस बीच पहाडी के बुड्ढे साउथ की तरफ पुरुषों की मन स्थिति इससे भी प्रदीप थी । देशांतर कल और बहुत पहले ही हो चुका था तथा सामान्य पेशे एवं समय बिताने के साधन अपनाए जा चुके थे । मिस्टर मुंबर्इ ने खुली हवा में हफ्ते में दो बार लौरा से मिलने की व्यवस्था की ताकि उन की वजह से उसे कोई भी जोखिम उठाना न पडे और उस हल्की अफवाह के बारे में कुछ भी सुना न होने के कारण उससे एक दिन हमेशा की तरह विभाजित करने वाली पहाडी के शिखर पर उसका और तेज हवाओं वाली एक दोपहर में मिले जहाँ संपूर्ण में जिसके पास ऊंची सडक एक शहर से दूसरे शहर में पुराने रज रास्ते को पार करती है, उसने अपना हाथ हिलाया और उसे पास आते देख मुस्कुराया तथा जोर से चिल्लाया प्रे, हम अपने बीस दीवार रखेंगे । यहाँ दीवारें खेतों की बडे हैं तो मैं डरने की जरूरत नहीं है । इस वर्ग की मदद से अब ये लंबे समय तक नहीं चलेगा । तुम जैसा था होगे मैं वैसा ही करूंगी जाए पर तुम खुद पे इतना ज्यादा जोखिम उठा रहे हो । क्या ऐसा नहीं है? मुझे तुम्हारी खबरें मिलती रहती हैं पर मुझे लगता है कि ऐसा ही है, दूसरों से अधिक नहीं । इस प्रकार इस तरह की औपचारिक बातें उन्होंने की । एक उस मारो धित हवा उनके बीच की दीवार पर शक्ति के बीच की तरह आग हाथ कर रही थी । लेकिन तुम मुझ से कुछ पूछना चाहती थी ना? हाँ, तुम जानते हो कि हम यहाँ बोर्ड बहुत में तुम्हारे पीडितों के लिए कुछ धन इकट्ठा करने की कोशिश कर रहे हैं और इसके लिए हमने नाटक करने का निर्णय लिया है । वे चाहते हैं कि इसमें मैं हिस्सा लोग, उसके चेहरे पर उदासी छा गई । मैं कुछ इस तरह की बातें और जो भी उसके साथ होता है, के बारे में कुछ जानना चाहता हूँ । काश तुमने कोई और तरीका ढूंढा होता । उसने बहुत धीरे से कहा, अब तो सब हो चुका है यानी कि तुम्हें मेरे उसमें हिस्सा लेने में आपत्ति है, नहीं सकते । उसने उससे कहा, वो ये कहना पसंद नहीं करता कि वह स्पष्ट रूप से इस बात का विरोध करता है । उसने कामना कि कि काश उन्होंने अनिवार्यता को ध्यान में रखते हुए किसी संकेतन या ब्याख्यान या किसी और तरीके के बारे में सोचा होता है । पर वो बहुत अध्यता से बोले, लोग संघ कीर्तन हूँ या व्याख्याओं में नहीं आती । वे प्रशासनों वर्तमान में एकत्रित होते हैं । मैं बोर्ड बहुत पर किसी भी तरह से इस बात के लिए आदेश नहीं दे सकता हूँ । वो जो हमें पैसा देने वाले हैं उसे वो कैसे अच्छे करें । ये नाटक कौन तैयार कर रहा है? यहाँ के लडके और हमारा पुराना के मिनिस्टर मुंबर्इ ने उत्तर दिया कैस्टर ब्रिज का दुखन उनके उत्साह के एक बात होना है । अस्पष्ट शब्दों में करूँ तो मेरे फॅमिली तुम इसमें हिस्सा नहीं होगा लेकिन मैं तो मेरे रोकूंगा नहीं । मैं सब कुछ तुम्हारे निर्णय पर छोड दूँ । साक्षात्कार खत्म हो गया और वे उत्तर की हूँ तथा दक्षिण की ओर अपने अपने रास्तों पर चले गए । लोगों के सामने ये बात आई । प्रहसन मैसेज मुंबर्इ नहीं, एक नायिका की भूमिका निभाई और प्रेमी की भूमिका मिस्टर रेनी उप नहीं निभाई । इससे उस घटना में मदद मिली जिसमें जिसे आपस में आकर्षित लोगों का आचरन कुछ समय से उत्पन्न कर रहा था । वेस्ट्रिच जानकारी देना आवश्यक है । फुटबॅाल चले गए और इसने उनके काम में जल्दी मचा दी । एक हफ्ते के हिचकिचाहट के बाद क्रिस्टन का अपना घर छोडकर ऍम से छोटी पर मिलने और उसके साथ हुई जाने को दासी हो गई जहाँ उसने उसको रहने का प्रबंध कर दिया था । ताकि वो अपने माँ खुलने से उसे केवल बारह मिल दूर ही हो । जब शाम को चुना गया था उसे दिन उसने अपने पति के लिए ट्रॅवेल पर के लोग छोडा । स्त्रियाॅ मैं जीवन को और सहने में असमर्थ हूँ पर अब मैंने विराम देने का निश्चय किया है । मैंने तुमसे कहा था कि अगर तुम पादरी बनोगे तो मैं भाग जाऊँगी और अब मैं वही कर रही हूँ । हर कोई अपने स्वभाव के आगे विवश होता है । मैंने अपने भाग्य को मिस्टर वैन नहीं कुक को सौंपने का निश्चय किया है और मुझे आशा है बल्कि उम्मीद करती हूँ कि तुम मुझे माफ कर चुके हैं । फिर बहुत ही कम सामान के साथ वो एक शाम के धुंधलके में वो छोटी पर चढती चली गई । लगभग उसी जगह पर जहाँ उसका पति उनकी अंतिम बार भेट हूँ । भेंट के समय खडा था । उसे वैन नहीं कुक की आकृति नजर आई जो ब्रिस्टल से उसे लेने आया था । मुझे यहाँ मिलना पसंद नहीं है । ये बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण जगह है । वो जोर से भुनी इश्वर के लिए हमें अपनी खुद की जगह बनानी चाहिए । वापस मिल के पत्थर पर जाओ और मैं वहाँ पर जाऊंगी । वो वापस मिल के पत्थर पर गया जो छोटी के उत्तरी ढलान पर था । जहाँ पुराने वन नहीं सडके अलग हो जाती हैं और वो उसे वहीं मिली । जब उसने पूछा कि वो उससे शिखर पर क्यों नहीं मिले तो वो छुप उदास थी । आखिरकार उसने पूछा कि वह कैसे जाएंगे? उसने बताया कि वह कैस्टर ब्रेस् की दूसरी तरफ मिल स्टॉक हिल तक पैदल चलकर जाना चाहता है । ऍम के पास उन्हें आईपीएल रोड ले जाने के लिए एक गाडी उनका इंतजार कर रही है और वहीं उन्हें आगे शहर तक ले जाएगी । आई विल जाने के लिए ब्रिस्टल से रेलगाडी जाती थी । इसी योजना का उन्होंने पालन किया और वे धुंधलके में तब तक तीस देश चलते रहे कॅलेज के नजदीक नहीं पहुंच गए । उस स्थान को उन्होंने रोमन एम्फीथियेटर की ओर दाई तरफ मुडते हुए छोडा और डाॅ की ओर हो गए रास्ता पहाडी तक बंजर भूमि के पास सुनसान खुला था जहाँ आई विल गाडी उनका इंतजार कर रही थी । वो बोली शहर के दर ओवर सीधे के ऊपर मैं कुछ समय से भी की चाहौन देख रही हूँ लगता है जैसे वो मेकसन लेना नहीं है लाइन होंगे उससे का पूरी गली में इतना बडा लाइन नहीं है ये बहुत है जहाँ सबसे ज्यादा है जा फैला हुआ है । स्टाॅफ के पास क्रॉस से थोडा परे उन्हें अचानक गली का अंतिम सीरा नजर आया । हवा को शुद्ध करने के उद्देश्य से रास्ते के बीचोंबीच बडे बडे अलावा चल रहे थे और घटिया को धारियों से जो उन दिनों में पूरे रास्ते पर ही बनी होती थी । लोग रिसर्व कपडे बाहर ला रहे थे । उसको आदमी फेंक दिया गया था । बाकियों को एक पहिया ठेलों पर रख दिया गया और उन्हें भगोडों के रास्ते पर सीधे बंजर भूमि में धकेला जा रहा था । वे चलते रहे और वहाँ पहुंच गए । यहाँ खुली हवा में ताम्बे का विशाल पात्र रखा हुआ था । वहाँ चाह रहे उबाल कर उनमें से संक्रमण हटाया जा रहा था । लालटेनों की रोशनी से लौरा को पता चला कि उसका पति उस तांबे के पात्र के पास खडा और उसी ने एक पहिया ठेलों को खाली कर उसकी चीजों को उसमें डाला था । को रात इतने शांत वह नमस्कार थी । लम्बे से पात्र के पास होने वाली बातचीत उसके कानों तक पहुंच रही थी । आज रात क्या और वही सामान हैं, उन लोगों के कपडे हैं जिनके स्टोपर मृत्यु हुई है सर लेकिन उन्हें कल तक के लिए रोका जा सकता है क्योंकि आप अवश्य ही थक गया हूँ । हम तुरंत ही करेंगे क्योंकि मैं और किसी को ये काम करने के लिए नहीं कर सकता हूँ । उस सामान को खास पर उलट तो और बाकी ले जाओ । उस व्यक्ति ने वैसा ही किया और एक पहिया ठेला लेकर चला गया । अपना चेहरा पहुंचने के लिए मौत ही बाल भर के लिए होगा और इसके इन्होंने वह पत्ति उतार मंगल के बीच अपनी घरेलू शाकिरी में वापस लौट आए । एक पुराने बेलन जैसा दिखने वाली किसी चीज से वह तांबे के पात्र की चीजों को दबाने वर्चा लाने लगा । उससे निकलने वाली आप जिसमें मृत्यु की दुर्गंध थी, घास के मैदान के पार धीरे धीरे फैलने लगीं । लाहौर अचानक बोली, आखिरकार मैं रात को नहीं जाऊंगी । वो इतना खर्चा हुआ है और मुझे उसकी मदद करनी चाहिए । मुझे नहीं पता था की स्थितियां इतनी खराब हैं । वेंडिंग आपके बाह उसके कमर से हट गई जिसे उनके चलने के दौरान उसने वहीं रखा हुआ था । क्या तुम चले जाओ गई? उसने पूछा अगर तुमको होगी कि मुझे जाना चाहिए तो मैं चला जाऊंगा । पर मैं भी मदद करना चाहता हूँ । उसकी आवाज में कोई विरोध नहीं था । लौरा आगे पड गयी वो बोली शहर मैं तुम्हारी मदद करते आई हूँ । खतरा हुआ पुरोहित थोडा और लालटेन को पूछा उठाया तो ये क्या है तुम हो लाहौरा उसने आज शरीर से पूछता हूँ तुम यहाँ क्यूआई अच्छा होगा कि तुम वापस चली जाऊँ जो की बहुत जाता है । लेकिन मैं तुम्हारी मदद करना चाहती हो जाएगा । मुझे मदद करने दो । मैं स्वयं अकेली नहीं आई । ऍम को मेरे साथ थी । वो अगर कहीं नहीं होंगे तो वो भी मदद करेंगे । डिस्टर्व को ऍम अनिच्छा से आ गया । मिस्टर मोहन मरीने उससे औपचारिकता से बात की । फिर अब तक काम करते हुए पुणे कुछ लेने का फिर फिस्टर गया है । हम कहे थे पर मुझे फिर से कुछ चीजों की जरूरत पड गई । दोनों नवागंतुक सहायता करने लगे वे नहीं । कुक ने उस छोटे से बैठ को जमीन पर रख दिया जिसमें लौरा की प्रसाधन सामग्री थी । ठेलेवाला और सामान के साथ जल्दी ही वापस आ गया और सब लगभग आधे घंटे तक काम करते रहे । फिर उत्तर के धुंधलके से एक कार्य वाहन बाहर आया । मैं माफी चाहता हूँ सर वो ऍसे फुसफुसाकर बोला लेकिन मैं मैंने स्टॉक दिल पर बहुत देर से प्रतीक्षा कर रहा था और आखिरकार ऍम फाटक तक गया और वहाँ रोशनी देखकर मैं देखने के लिए भागा चलाया कि क्या हुआ है । लेफ्टिनेंट ऍम उसे कुछ मिनट इंतजार करने के लिए कहा और आखिरी खेले के सामान को उतारा गया । मिस्टर मुंबर्इ ने अपने शरीर को खींचा और जोर से सांस लेते हुए कहा हम अब और नहीं कर सकते हैं । जैसे कि कम से आराम मिलने के बाद भयानक लिया पकड में आ गई हूँ । उसने अपनी कमर के दोनों तरफ अपने हाथों को दबाया और आगे की हो चुका है । मुझे लगता है अक्सर का उसने मुझे जकड गया है । उसने बहुत कठिनाई से कहा मुझे मुझे घर जाना चाहिए ऍम तो मैं वापस ले जाएंगे । वो कुछ कदम चला भी उसकी मदद कर रहे थे पर उसने खास पर फिर जाना उचित समझा ना उसे लगता है तो मैं किसी घोडी, ऍम या किसी चीज को मंगाना पडेगा तो बहुत ही थी । में स्वर्ण बोला है तो हम उसके थैले में दिखाने की कोशिश करूँ लेकिन बॅान्डिंग लेकिन बिल्ली को अपने गाडी कोई ड्राइवर को बुला लेकिन मैंने अपने ड्राॅ लेकिन वे नहीं । कुक ने गाडी के ड्राइवर को बुला लिया था और उन्होंने तब तक इंतजार किया जब तक कि उसे शुल्कों फाटक से वापस लाया गया उसमें मिस्टर मुंबर्इ को लेता दिया गया । लाहौर अभी उसके साथ बैठ गई और वे क्रॉस के पास उसके साधारण से घर तक जहाँ से सीढियों से ऊपर चढाया गया रहने को कुछ समय तक खाली गाडी के पास खडा रहा हूँ पलौरा नहीं आई फिर वो गाडी खुसी और ड्राइवर को उसे वापस आईपीएल ले जाने को कहा । पीडित गरीबों को राहत पहुंचाने में मिस्टर मुंबर्इ ने स्वयं को अत्यधिक धक्का दिया था और हुई उसका शिकार हो गए थे उस महामारी से जिसने अनगिनत लोगों को अपनी चपेट में ले लिया था तो तीनों बार वो अपने ताबूत में लेते हुए थे । लौटा नीचे कमरे में थी । एक नौकर कुछ पत्र लाया और उसने उस पर नजर नहीं एक नोट बामबारी के लिए उस की तरफ से था जिसमें उसने उसे बताया था कि वो उसके साथ और जीवन बिताने में असमर्थ है तथा बेलने को के साथ भागने वाले हैं । पत्र पढने के बाद पोस्ट पर लेकिन जहां मृत व्यक्ति था और उसके ताबूत ने उसे रख दिया । अगले दिन उसने उसे दफना दिया । अब वो मस्त थी । उसने डाॅ अपने घर को बंद किया और क्रिस्टन में आपने रहने के अ स्थान पर वापस लौट आई । चलते उसे दैनिक का एक पत्र मिला और उसके पति की मृत्यु के छह हफ्तों बाद उसका प्रेमी उससे मिलने आया हूँ ।

थॉमस हार्डी की लोकप्रिय कहानियाँ - Part 4

उस रात मैं तुम्हे के देना भूल गया था । उसने छोटे से बैंक को उसके साथ हुई कहा जिसे उसने जाते हुए पूरे सामान के रूप में ही था । लौरा ने उसे ले लिया और अनजाने में ही उसे हिला दिया । वहाँ कालीन पर उसका भ्रष्ट कंधा, चप्पलें रात्रि में पहने वाली पोशाकें हाँ और यात्रा के लिए अनिवार्य आप चीजें गिर गई । अब असहनीय रूप से डरावनी लग रही थी और उसने उन्हें ढकते की कोशिश की । वो बोला, क्या तुम से मेरी कानूनी रूप से बनने के लिए कह सकता हूँ जब एक उचित अंतराल बीत चुका है । जैसा की हमने सोचा था उसके विपरीत उसके कथन में उदासीनता थी जो संभावना की ओर इशारा कर रही थी के उसे लापरवाह धन से निर्मित किया गया है । लौरा ने ये कहते हुए कि वह निश्चित रूप से उससे पूछ सकता है क्योंकि वह मुक्त है, आपने चीजें उठा लें, फिर भी उसके भावों को एक उत्साहपूर्ण उत्तर कहा जा सकता था । फिर वो बार बार आंखें छक्का नहीं लगेंगे और रुमाल को अपने चेहरे पर रखते लगी । वो सो शोर से रो रही थी । वो ना तो हिला और नहीं उसने किसी भी तरह से उसे दिलासा देने की कोशिश की । उनके बीच कौन आ गया था? कोई जीवित व्यक्ति नहीं प्रेमी थी । उनके एक होने में अब कोई भौतिक बाधा नहीं थी । लेकिन उस अवचेतन की एक आप कही छाया थी उसकी बारीक सी आकृति । टर्नओवर पंजाब भूमि के अंधेरे में ध्याना भट्टी के सामने आगे पीछे चल रही थी । फिर भी जब वो आस पास होता तो वे को लौटा से संपर्क स्थापित करना । वो भी असर नहीं होता था । कभी दो साल में एक बार मानो विवाह करने के उद्देश्य को पूरा करने के लिए जिसकी सबको उम्मीद थी । फट वोट मौत ॅ लौट गया था । उसके बाद वे दोनों कई बार एक दूसरे से टकराए । बच्चा है बाधा प्यार का स्रोत थी या भूलवश और चुकी मिसेज मुंबर्इ के चेहरे पर अब विधवा के रूप में पहले से कहीं काम आकर्षण था । उनकी भावनाएं पहले की वो देखते से घटकर मात्र निरुत्साहित शिष्टाचार में तब्दील होती प्रतीत होती थी । सैनिकों की आगे की काकानी में कौन से घरेलू मुद्दे बीच में आ गए? भरोसे में बैठा व्यक्ति कभी नहीं जान पाया लेकिन मिसेज मुंबर्इ एक विधवा की तरह ही जी और मरी आतंकवाद आप सीमित सदस्य हम अपने पुराने ढंग के पनघट को जॉॅब के बारे में बात कर रहे थे जो अठारहवीं सदी की शैली वाली अब आपने ठोस के हुआ लाल और फुसर ईटकी इमारतों के साथ तट तक वाहित सो हूँ या तुम असवारी स्ट्रेट का एक हिस्सा जैसी लगती है और आधुनिक पर्यटक के होठों पर उन्हें देखते ही मुस्कान आ जाती है जिसमें पांच बनी हुई इमारत की मजबूती को भांपने की कोई समझ नहीं है । काफी युवा लेखक मातृक श्रोता की तरह उपस् थित था । बातचीत तब आम देशों से कुछ खास चीजों तक जा रही रही जब तक एक बूढी ऍम जिनके याददाश्त अस्सी बरस में भी एकदम दुरुस्त थी जैसे कि पूरे जीवन भर रही थी, अस्पष्ट ईमानदारी द्वारा हम में दिलचस्पी पैदा की जिसके साथ उन्होंने अनेक बार अपने बारे में कहानी सुनाई । जो उनकी माने तब सुनाई थी एक घरेलू नाटक जिसने उसके माता पिता के किसी परिचित के जीवन पर अत्यधिक प्रभाव डाला था । किसी में सुप्रीम पर वो फ्रेंच भाषा की शिक्षिका थी । घटना शहर में तब घटी थी जब उसका स्वर्णकाल था । उस समय जब अठारह सौ दो तीन में फ्रांस के साथ हमारी थोडे समय के लिए शांति स्थापित हुई थी । अपनी माँ के मृत्यु के बाद मैंने उसे एक कहानी का रूप देते हुए लिखा था मिसेज ने कहा अब वो मेरे डेस्क में बनता है, उसे पढे नहीं । वो पूरी रोशनी बहुत कम है और मुझे वो अच्छी तरह से याद है । शब्द भाषा आप सब कुछ उन परिस्थितियों में हम कुछ कह नहीं सकते थे और उन्होंने कहना शुरू किया इसमें दो लोग थे निसंदेह पुरुष । वहाँ इस्त्री और वह सितंबर महीने की एक शाम थी जब पहली बार उसे उस से मिलने का अवसर मिले । ऍम में हर मौसम में बहुत ज्यादा भीड नहीं होती है । महामहिम सम्राट जॉर्ज प्रीति अपनी सारी राजकुमारियों और गज सडिया को के साथ वहाँ उपस्थित थे । यही नहीं उस समय शहर में तीन सौ से अधिक अभिजात वर्ग के तथा अन्य प्रतिष्ठित व्यक्ति भी वहां मौजूद थे । लंदन व अन्य स्थानों से गाडियाँ और अन्य वाहन हर बजट में वहाँ पहुंच रही थी और जब उनके बीच में हेवन पुल तट से होती हुई उपमार्ग से एक गंदी सी गाडी वहाँ आई और एक घटिया शराब खाने के सामने आकर रुकी तो उस पर किसी का ध्यान नहीं किया । उस फूल भरे वापस से एक आदमी उतरा । कुछ समय के लिए अपना थोडा सा सामान ऑफिस से छोडा और रहने की जगह घूमने के लिए गली में चलने लगा । उसकी उम्र लगभग पैंतालीस वर्षों होगी । सम्भवता पचास और उसने ठीक एक बेहतरीन कपडे का लम्बा कोट पहना हुआ था जिसका कॉलर बहुत बडा था और एक उठा हुआ करने का कपडा था । प्रतीत होता था कि वह गुमनामी की चाह रखता है । लेकिन इस समय उपस् थित प्रदर्शन उसे प्रभावित कर गया और उसने गली में मिले थे हाथ से पूछा कि क्या हो रहा है उसका ऐसा ऐसा था मानो उसके लिए अंग्रेजी का उच्चारण करना कठिन है । देहाती ने उसकी ओर थोडे आश्चर्य से देखा और बुलाना सम्राट जॉर्ज और उनका रात से दरबार कहाँ है? अच्छा भी नहीं पूछा कि क्या वे यहाँ लंबे समय तक रहने वाले हैं? पता नहीं सर मेरे ख्याल से जैसा हुए हमेशा करते हैं, वैसा ही करेंगे । कितने समय तक रखते हैं कोई अक्तूबर में ऍसे प्रत्येक करने में यहाँ आ रहे हैं । अजनबी सेंट थॉमस स्ट्रीट की ओर बढा और बंदरगाह के प्रवाही चलते ऊपर बने पुल की ओर जाने का । वो उस समय पुराने शहर को कहीं अधिक आधुनिक भाग से जोडता था । उस स्थल पर हल्के सूरज की किरणें पढ रही थी जिसने लम्बाई में बंदरगाह को रोशन कर दिया था और उस आदमी की टोपी के किनारे और आंखों में पढ रही थी तो पश्चिम को देख रहा था । उस की आपने दिशा के विपरीत चमकती आप नहीं दिया जो वहाँ से गुजर रही थी । उनमें मेरी माँ के बाहर वाली परिचित मिलती थी । वो एक समृद्ध पुराने फ्रांसिसी परिवार बेटी थी और उस समय अट्ठाईस या तीस साल की लंबी वह सुरुचि संपन्न महिला थी जिसने सादे कपडे पहने हुए थे । तो शाम उस समय के चलन का एक मसलिन का शौक अपने वक्षों पर डाला हुआ था और उसे पीछे बांधा हुआ था उसके चेहरे पर जो जैसा कि वह हमें बताया करती थी । छाती हुई सोने के रोशनी से एक अलाव के काम अच्छा लग रही थी आपने इतिहास से जुडे भयानक करन की वजह से वो थोडा डर गई थी और कुछ कदम आगे चलते हुए वह मोठा आने के दौरे में पुल के मंदिर के पास गिर गई । अपनी ही तल्लीन था में उसने विदेश व्यक्ति का ध्यान खींचा । उसने तुरंत गाडी के रास्ते को बार किया और उन से सटी पहले दुकान में ले गया और बताने लगा कि ये वह महिला है जो बाहर बीमार हो गई थी । वो जल्दी ही होश में आ गई लेकिन स्पष्ट रूप से काफी उलझन में थी । उसके सहायक ने सोचा कि वह अभी भी उससे डर रही है जो आत्म संयम को उसके पूर्ण स्वास्थ्य लाभ में पर्याप्त रूप से पानी था । उसने बहुत चलती और घबराए हुए स्वर में दुकानदार से गाडीवान को बुलाने को कहा । दुकानदार नहीं किया और उसके जाने के बाद मिस भी और वो अजनबी एक कृत्रिम चुप्पी साधे खडे रहे । गाडी आई और उस व्यक्ति को पता देकर वो उसमें बैठ कहीं और वहाँ से चली गई तो मैं कौन है? एक तभी आई पुरुष ने कहा वो आपके ही कौन से है जैसा कि मुझे लगता है । दुकानदार ने कहा और अपने उस व्यक्ति को बताया कि मैं सुबह ही हैं । उसी शहर में चंद्रलाल न्यू बोलके गवर्नर्स यहाँ काफी विदेशी हैं । अजनबी नहीं जानना चाहता हूँ । हाँ, हालांकि अधिकांश फॉलोवर के हैं लेकिन जब से शांति स्थापित हुई है वे भद्र समाज में फ्रेंच सीख रहे हैं । और देखा जाए तो फ्रेंच पढाने वालों की बहुत मांग है । हाँ, मैं भी पढाता हूँ । आगंतुक ने कहा मैं आदमी में शिक्षक का काम ढूंढ रहा हूँ । फ्रांसीसी को वर्गों द्वारा दी गई जानकारी ने उस व्यक्ति को जता दिया कि उसके देश के महिला जैसा आचरन उसमें नहीं है जो वास्तव में सही भी था और वह दुकान से चला गया तथा दोबारा बोल करूँ उन की ओर जाने के लिए दक्षिणी घाट का रास्ता पकडा जहाँ उसने एक कमरा ले रखा था उसे देखकर उसे देखकर किसनी इतना क्षोभ प्रकट किया उस महिला के बारे में वो नवागंतुक लगातार सोचता रहा । हालांकि जैसा कि मैंने कहा था तीस वर्ष से कम केमिस्ट्री उसकी अपनी ही कॉम की अत्यंत परिष्कृत और नासिक आकृति वाली ने मध्यम वय के भद्रपुरुष की छाती में एक स्थल दिलचस्पी जागृत करते थे और उसकी बडी गहरी आंखें जो उसकी ओर देख खुले और बंद हुई थी, एक कारूणिक साम दरें प्रदर्शित करते थे जिससे कोई भी पुरुष अछूता नहीं रह सकता है । अगले दिन कुछ पत्र लिखने के बाद वो बाहर गया और शहर के दफ्तर गाइड और समाचार पत्र में ये जानकारी दी की फ्रेंच और कैलीग्राफी सुलेख का अध्यापक पहुंच गया है । साथ ही पुस्तक विक्रेता के पास उसने अपना कार्ड भी छोड दिया । फिर वह निरुद्देश्य चलता रहा लेकिन विस्तार से जनरल न्यू बोल तो जाने के रास्ते के बारे में पूछताछ करता रहा । दरवाजे पर अपना नाम बताए बिना उसने कहा कि वह मिस बीस से मिलना चाहता है और उसे छोटी सी पीछे बनी बैठक का रास्ता दिखा दिया गया । जहाँ वो आश्चर्य भरी नजरों से उसे देखते हुए वहाँ आई खेत भगवान आप यहाँ तुम आये महोदय उसके चेहरे को देखते ही वह फ्रेंच कर बोल नहीं, आप जब कल गई थी तो अस्वस्थ थी । मैंने आपकी मदद की । अगर मैंने आपको उठाया नहीं होता तो शायद आप पहुंचाती । निश्चित रूप से ये मानवतापूर्ण कार्य था लेकिन मैंने सोचा की मैं आपसे पूछता हूँ कि आप ठीक हुई हैं या नहीं । वो एक उरमूल गई और उसने जो कहा था उसे सुना तक नहीं । मैं तुमसे खडा करते हूँ । घृणित व्यक्ति उसने कहा तो भारी मदद को मैं बर्दाश्त नहीं कर सकती हैं । चले जाओ लेकिन तुम तो मेरे लॅाग भी होगा । मैं तो मैं बहुत अच्छे से जानती हूँ तो आप फायदे में है । मैं मैं हूँ । जहाँ तक मुझे याद पडता है मैंने इससे पहले तो मैं कभी नहीं देखा और राष्ट्रीय रूप से मैं तुमसे घृणा नहीं कर सकता । नहीं करता हूँ क्या तुम मिस्टर भी नहीं हूँ वो हिचकिचाया मैं पेरिस में था । वो बोला पर यहाँ मैं रिटर्न हूँ घटिया पर हैं । काम वही व्यक्ति हो तो मेरा असली राम कैसे जानती हूँ? मैंने तो मैं परसो पहले देखा था जब तुम ने मुझे नहीं देखा था । तुम सम्मेलन के अंतर्गत जन सुरक्षा समिति के भूतपूर्व सदस्य थे । हाँ मैं था तुमने मेरे पिता, मेरे भाई, मेरे अंकल, मेरे सारे परिवार का सरकार दिया था और मेरी माँ का दिल तोड दिया था । उन्होंने कुछ नहीं किया बल्कि चुके हैं । उनकी भावनाओं का केवल अनुमान लगाया गया उनके सिर्फ वही इन लाशों मौसे क्युकी कब्रिस्तान के कट्टों में अंधाधुंध ठीक दिया गया है । शून्य से नष्ट कर दिया गया । उसने सिर्फ खिलाया तुमने मुझे मित्रों, बहन कर दिया और मैं एक विदेशी भूमि में एक दम अकेली जो हुआ उसका मुझे खेद हैं, इरादा के लिए नहीं । मैंने जो किया वो भी तो एक का मामला था और ऍम तुम्हारे द्वारा अतेंद्र मैंने सही किया । मुझे कंपनी का भी फायदा नहीं हुआ पर मुझे इस पर बहस नहीं करनी चाहिए । तो मैं मुझे भी यहाँ निर्वासन देख गरीबी साथियों द्वारा धोखा और तुम्हारी तरह मेट्रो बहन संतुष्टि मिली होगी । मेरे लिए ये कोई संतुष्टि की बात नहीं है । मैं होते हैं, सही है, चीजों को बदला नहीं जा सकता है । अब सवाल यह उठता है कि क्या तुम पूरी तरह से स्वस्थ हो गई हूँ । तुमसे खिलाओ, वो तुम्हारे डॉक्टर से नहीं था हूँ । शो प्रभात शो प्रभात वे दोबारा फिर कभी नहीं मिले । लेकिन एक शाम थियेटर में उनकी मुलाकात हुई जिससे बहुत कठिनाइयों के साथ मेरी माँ की सहेली बार बार जाने को प्रेरित करती रही थी ताकि अंग्रेजी के उच्चारण में वो नहीं हो जाएँ । वो चाहती थी कि अपने देश में वो अंग्रेजी की अध्यापिका बने । उन्होंने उसे अपनी बगल में बैठे देखा और उसने उसे उदास ऍम कर दिया । क्या तो मत भी मुझसे डरती हो था । मैं करती हूँ वो तो मैं ऐसे नहीं समझ सकते हो । मैं नाटक को बहुत मुश्किल से समझ पा रहा हूँ । उसने कहा मैं भी वो बोली । वो उसे देर तक देखता रहा और वो इस बात से अवगत थी और जिस समय उसकी नजरें मंच पर टिकी हुई थी आवासियों से बढ गई । फिर वो नहीं मिली और आंसू उसके गालों से होकर पहनेंगे । हालांकि नाटक खुशियों भरा था । वो मिस्टर ऍम का प्रशासन ऍम था जिसमें ऍम बने थे । उसने उसका दुख देखा और ये भी है कि उसका दिमाग कहीं और है और मोमबत्ती बुझने के समय अपनी सीट से उठ गया और वो थिएटर से चला गया । वो एक पुराने शहर में रहता था और वो नए में वे दूर से ही निरंतर एक दूसरे को देखते रहते थे । उनमें से एक अवसर तब था जब बंदरगाह के उत्तरी तरफ फेरी के पास पार्ट ले जाने के लिए नाव की प्रतीक्षा कर रही थी । वह विपरीत घाट पर खूब रोक के पास खडा था । जब नाओ आई तो उसमें बैठने के बजाय वो घट के पीछे हो गई । पर ये देखती रही कि अगर वो वहाँ है तो उसे फेरी नाव की ओर जाने का इशारा करेगी । घुसो वो इतनी तेज आवाज में बोला ताकि उस तक पहुंच चाहे बिस्फी एकदम स्थिर खडी रही । खुश हो वो बोला और चुकी वो हिल्ली तक नहीं । उसमें तीसरी बार शब्द तो हराया । वो वास्तव में पार उतरने वाली थी और अब कहने पर नाव में बैठ गई जब कभी उसने आंख नहीं उठाई क्योंकि वो जानती थी कि वो उसे देख रहा है । उतरनेवाली सीढियों पर उसने अपनी टोपी के किनारे के अंदर से एक हाथ को आगे पढे हुए देखा । सीढियाँ टेढी मेढी और फिसलनभरी थी नहीं बहुत वो बोली हाँ, अगर तो मैं ईश्वर में विश्वास करते हो और अपने पास भरे अतीत का प्रायश्चित करना चाहते हो । मुझे खेद है कि तुम्हें दुख उठाना पडा लेकिन मैं सिर्फ करन नामक ईश्वर में विश्वास करता हूँ और पछताता नहीं । मैं राष्ट्रीय सिद्धांत का सम्वाहक हूँ । मेरे उद्देश्य के लिए तुम्हारे मित्रों की बलि नहीं दी गई । फिर उसने अपना हाथ पीछे खींच दिया और बिना सहायता के ऊपर चढ गईं । बुलुक आउट हिल पर चर्चा हुआ । आगे बढता गया हूँ जो एक किनारे पर जाकर विलीन हो रही थी । उसको भी उसी वोट जाना था । उसका काम था अपनी निगरानी में दो युवा लडकियों को घर वापस लाना जो एक रोमांचक अभियान पर गई थी । जब वो ऊपर छोटी पर उनके पास पहुंची तो उसमें दूर किनारे पर उसे खडे देखा । वो समुद्र के पास स्थिर खडा था । जितनी देर वो अपने शिष्यों के साथ रही वो बिना मुडे खडा रहा, मानव जलपोतों को देख रहा हूँ पर संभव का चिंतन में था । इस बात से भी खबर की वो कहाँ है । उस जगह से आते हुए एक बच्ची नहीं स्पंज बिस्कुट का आधार टुकडा फेंका जिसे वो खा रही थी । उसके पास गुजरते हुए वो रुका सावधानी से उसे उठाया और अपनी फॅमिली डाला मिस्ट्री स्वयं से पूछते हुए वापस घर की हो रही है । क्या हो रखा है? उस समय के बाद से वो इतने लंबे समय तक गायब रहा कि उसने सोचा कि वह हमेशा के लिए चला गया है । पर एक शाम एक अच्छा उसके पास आया जिसे उसने कांपते हाथों से खोला । उसमें लिखा था, मैं बीमार हो और जैसा की तुम जानती हो, अकेला हूँ । एक दो चीजें हैं जो मैं पूरा करना चाहता हूँ । इससे पहले कि मेरी मृत्यु हो जाए और मैं यहाँ के लोगों से मदद लेना नहीं चाहता । क्या तुम गे परोपकार कर सकती हूँ और मेरे मरने से पहले मेरे इच्छाओं को पूरा कर सकती हूँ? असल में हुआ था कि उसे टूटा हुआ एक उठाते देखने के बाद से वो अपने देश के व्यक्ति के प्रति अनजाने में ही ऐसा कुछ महसूस करने लगी थी जो उत्सुकता से कुछ जाता था । हालांकि चिंता से कुछ काम था और उसका नाजुक व संवेदनशील है ते ऐसा नहीं था जो उसके निवेदन को ठुकराते था उसमें उसके पहने की जगह जो उसने पैसों की वजह से ओल्ड रूम इनमें पतली थी का पता लगाया । जो एक दुकान के ऊपर कमरे में थे, वो पुराने शहर के ऊपर खबर और संकरी गली के बीचोंबीच थी, जहाँ धोनी एक यात्री विरले ही चाहते थे । एक तरह की आशंका के साथ वो घर के अंदर खुशी और जिस कमरे में वह लेटा हुआ था, उसमें दाखिल हुई तुम वहाँ अच्छी हूँ, बहुत ही अच्छी हूँ । वो बहुत बताया और फिर पूरा तो आए हैं । दरवाजा बंद करने की जरूरत नहीं तुम सुरक्षित महसूस करों की और शो हम कहेंगे उसे वे नहीं समझ पाएंगे क्या? तो मैं कुछ चाहिए क्या? मैं तुम्हें मैं चाहता हूँ । तुमने तो मामूली से काम करते हो जिन्हें खुद करने की मुझे ताकत नहीं है । भारत को भा रहे हैं । शहर में वो और कोई नहीं जानता कि मैं कौन हूँ । ये बहुत अलग है । तुमने बता दिया हो । मैंने नहीं बताया । मैंने सोचा कि उन दुखभरे तीनों में तुमने अपने सिद्धांतों के लिए काम किया । यहाँ तक तुमने इतना सोचा यही तुम्हारी दयाल होता है । धारा हद तक इससे पहले आप की बहुत बहुत कम सोच रहा हूँ । मैं अपने कागज को नष्ट करना चाहता हूँ लेकिन दराज में तुम्हें लेलन के कपडे, आपके कुछ टुकडे मिलेंगे । केवल तो या तीन पर पहला अक्षर लिखा है नहीं पहचाना जा सकता है । क्या तुम उन्हें चाकू से काटकर अलग कर सकती हो? जैसा कि निवेदन किया गया था उस ने ढूँढा अक्षरों की सिलाई को काटा और लेलन को वापस वही रख दिया । असली मृत्यु हो जाने पर एक पत्र जो भेजना था, उसने उसके हाथ में रख दिया और वो सब पूरा कर दिया जो वो उससे चाहता था । उसने उसे धन्यवाद दिया । उसे लगता है तो मैं मेरे लिए खेत हैं । वो बहुत बताया । मुझे याद हो रहा है, तुम्हें खेत हैं । वो प्रश्न से बचना चाहती थी । क्या तुम पछताते हूँ और विश्वास करते हो? उसने पूछा था नहीं उसकी और आपने भी उम्मीदों के विपरीत वो ठीक हो गया । हालांकि बहुत ही देते थे और उसके बाद उसके तौर तरीको में एक दूसरी आ गई । हालांकि उस पर उसका प्रभाव जितना वो समझते थे उस से कहीं से आता था । हफ्ते गुजर गए और मई का महीना गया । उस समय एक दिन उत्तर की ओर तक के किनारे धीरे धीरे चल रहा था । वो उसको मिली क्या? तो खबर पता है दो बोला तुम्हारा मतलब है फ्रांस और इंग्लैंड के बीच दोबारा दराद हूँ । और बात सोम अंग्रेजों की बोनापार्ट की वजह से निरंकुश रहता रही तो हमारे देश में मौज मस्ती के लिए घूमने आए थे । विरोध की भावना पिछले युद्ध से कहीं ज्यादा प्रबल है । मुझे लगता है कि युद्ध लंबा वह दुखद होगा और इंग्लैंड में अज्ञात की तरह रहने की मेरी इच्छा निराशाजनक खुद आएगी । यहाँ देखो उसने अपनी जेब से अखबार का एक टुकडा निकाला जो उन दिनों देश में बिकता था और उसने पढा विदेशी धारा के अंतर्गत काम कर रहे मजिस्ट्रेट से निवेदन किया जाता है कि वो हमारे शहरों व अन्य जगहों में अकादमियों जिनमें फ्रांसिसी शिक्षक नियुक्त हैं और उस सारी नागरिकता पर जो इस तेज में शिक्षक का काम करते हैं, पर पैनी नजर रखी है । उनमें से कई राष्ट्र के लिए कट्टर दुश्मन वह रोहित है । जिन लोगों के बीच उन्होंने आजीविका वगैहर ढूंढ लिया था । वो आगे बोला, मैंने युद्ध की घोषणा के समय से यहाँ अपने प्रति लोगों के मामूली वर्क के आश्रम में एक अंतर लिखा है । अगर बडा युद्ध हुआ जैसा की जल्दी होने वाला है, नहीं सकते हैं, भावना पराकाष्ठा तक पड जाएगी तो मेरे लिए एक मामूली से पेशे के छत, मवेशी व्यक्ति के लिए क्या कहना मुश्किल हो जाएगा तो भाडे साथ जिसके ऍम वो पूर्ववर्ती क्या बात हैं काम कठिन होगा लेकिन फिर भी सुखद नहीं होगा । अपना ये प्रस्तावित करता हूँ तुमने शायद ये देखा होगा एक ऐसे तुम्हारे साथ मेरी गहन सहानुभूति बहुत चलता एक्स नहीं मई भावना में बदल गयी है । और मेरा मेरा कहना ये है कि क्या तुम मुझे अब का हाथ देकर मुझे सम्मान देते हुए तो भारी रक्षा करने के लिए एक उपाधि होगी । मैं तुमसे उम्र में बडा हूँ के साथ है लेकिन एक पति पत्नी के रूप में हम एक साथ इंग्लैंड छोड कर जा सकते हैं और पूरी दुनिया को अपना देश बना सकते हैं । हालांकि मैं कनाडा में क्यूबेक का नाम ऐसे स्थान के रूप में प्रस्तुत करना चाहता हूँ जहाँ रहने के लिए उपयुक्त स्थान मिल जाता है । भगवान हम ने मुझे आश्चर्यचकित कर दिया । वो बोली पड गया तो मेरा प्रस्ताव स्वीकार करती हूँ । नहीं बिल्कुल नहीं और फिर भी मुझे लगता है कि तुम किसी दिन करोगी । मुझे नहीं लगता अब मैं तो और परेशान नहीं करूंगा । बहुत बहुत धन्यवाद । तुम्हें अच्छा देखकर मुझे खुशी हो रही है । मेरा मतलब है कि तुम अब स्वस्थ लग रहे हो । वहाँ मेरी सेहत में सुधार हो रहा है । मैं रोज धूप में सैर करता हूँ और लगभग रोज ही वो उसे देखती हूँ । कई बार बहुत रूखे ढंग से हिलाते हुए कई बार औपचारिक भ्रष्टाचार का पालन करते हुए तो मंत्री तक नहीं गए । उसने ऐसे ही एक अवसर पर कहा नहीं इस समय मैं तुम्हारे बिना जाने की बात नहीं हो सकता । लेकिन यहाँ तो तुम बहुत असहज महसूस कर रहे थे । थोडा बहुत तो तुम कब मेरे ऊपर दया करोगी । उसने अपना सिर हिलाया और अपने रास्ते चली गई । फिर भी वो थोडी द्रवित हो गई थी ।

थॉमस हार्डी की लोकप्रिय कहानियाँ - Part 5

उसने सिद्धांतों के लिए क्या वो बहुत बताती है? उसके मन में उसके प्रति कोई लायक नहीं था । तब से कोई फायदा नहीं हुआ । वो सोचती कि वह कैसे रहता था ये तो स्पष्ट था । वो इतना गरीब भी नहीं था जैसा कि उसने सोचा था । उसके देखा कि गरीबी हो सकती है, बचने की निशानी हो । वो कह नहीं पाई पर वो जानती थी कि वह खतरनाक रूप से उठते हैं । दिलचस्पी नहीं नहीं थी और उसका स्वास्थ्य सुधरता गया । जब तक की उसका पतला वो पीला चेहरा अधिक भरा भरा और कैसा कैसा नहीं हो गया । जैसे जैसे वो ठीक होता गया, उसे उसके अनुरोध का सामना करना पडा जिस में और अधिक दृढ आपका जोडता जा रहा था । इन दो अकेले प्रवासियों और एक ही देश के लोगों के लिए उस मौसम के लिए सम्राट और दरबार का आगमन हमेशा की तरह चरम पराकाष्ठा का मामला लेकर आया था । फ्रांस के साथ ऐसे खतरनाक नजदीकी में समुद्र तट के एक हिस्से के रूप में सम्राट की अभी पसंद नहीं । ये अनिवार्य बना दिया की रात से निवासियों की चौकसी करने के लिए एक कडी सैन्य निगरानी का पालन किया जाए । खाली के पार की देखा पर हर सात जलपोत तैनात और प्रहरियों की दो कतारें की जाती थी । एक पानी के किनारे पर और दूसरी ॅ के पीछे, जो प्रत्येक रात आठ बजे के बाद समुद्र के आगे के पूरे हिस्से को घेर लेती थी । इस विचित्र फ्रेंच शिक्षक और लेखन गुरु के प्रति उसके मित्रता, जिसके पास कोई भी शिष्य नहीं था तो कई लोगों ने महसूस किया जो थोडा बहुत ही उसे जानते थे । जनरल की पत्नी जिसके यहाँ वो काम करते थे, उसने उसके इस परिचित के लिए चेतावनी जबकि हेनोवर एडियन और विदेशी सेना के अन्य सैनिक, जिनको उसके मित्र की राष्ट्रीयता का पता लग गया था, अंग्रेजी सैन्य वीरों से कहीं अधिक उम्र थे, जिन्होंने उस पर नजर रखना अपना काम बना लिया था । इस तनावग्रस्त स्थिति भी उसके उत्तर और अधिक आप घूस भरे हो गए । अगर मैं तुमसे शादी कर सकती हूँ तो कहती तुम करोगी, तुम अवश्य ही करोगे । उसने फिर उतना दिया, मैं तुम्हारे बिना नहीं जाऊंगा । और अगर मैं यहाँ रहा तो जल्दी ही मजिस्ट्रेट के सामने पूछताछ के लिए बुला लिया जाऊंगा । सम्भवता जेल में डाल दिया जाऊँ तो होगी । उसे लगा कि उसकी प्रतिरक्षा के सारे रास्ते खत्म हो रहे हैं । सारे कारणों और परिवार के सम्मान के विपरी किसी सामान्य इच्छा के तहत उसके प्रति एक नार्मल से फट रही थी । कई बार दूसरों की तुलना में उसके इस नहीं मई भावनाएं कम चलती थी और सब उसके आचरण की खोलता । अपने आप कहीं ज्यादा चकाचौंध करने वाले वर्णों में दिखाई देती । इसके तुरंत बाद वो अपने चेहरे पर एक संतुष्ट भाव के साथ आया । ये वैसा है जैसे कि मैं नहीं उम्मीद की थी । वो बोला मुझे जाने का संकेत मिले । देखा जाए तो मैं ना तो कोई बोसॅन का दुश्मन नहीं हूँ लेकिन किसी स्पष्ट पेशे के बिना सम्राट की उपस् थिति एक विदेशी के लिए के बडे शहर में रहना संभव बना देती है और जो हो सकता है क्या सूसू अधिकारी शिष्ट हैं पर कठोर हैं, केवल समझता है । ठीक ही मुझे जाना चाहिए तो तुम भी मेरे साथ चलो, वो कुछ नहीं होता पर उसने सिर हिलाकर सुख देती थी और उसकी आखिर छुप गई । ऍफ में अपने घर की वो वापस जाते हुए उसने स्वयं से कहा मैं खुश हूँ, मैं अन्यथा नहीं कर सकती हूँ । ये बुराई के लिए अच्छा हुआ है पर वो जानती थी कि उसने इसमें स्वयं का मजाक उडाया है और ये कि उसे स्वीकारने में भौतिक सिद्धांत नहीं रखती, भर भी काम नहीं किया है । वास्तव में वो भावनाओं कि पूरी उपस् थिति को समझ नहीं पाई थी, जो उसके अंदर अनजाने में ही इस अकेले और कठोर व्यक्ति के लिए बढ गई थी, जो उस की परंपरा के अनुसार प्रति हिंसक और आधार भी प्रकृति का था । प्रतीत होता था कि उसने उसके पूरे स्वभाव को आत्मसात कर लिया है और उसे नियंत्रित करने के लिए आत्मसात कर रहा है । शादी के लिए जो दिन तय किया गया था, उससे एक या दो दिन पहले उसके अपने ही देश की एकमात्र परिचिता की तरफ से एक पत्र के आने की उम्मीद थी, जो इंग्लैंड में रहते हैं, जिसे उसने अपने विवाह करने की सूचना बिना ये बताए कि वह किससे शादी कर रही है, भेजी थी । उसकी इस मित्र का तो ढाक के उसके दो भाग्य से कुछ कुछ मिलता था, जो उनकी आत्मीयता का एक कारण भी था । उसके मित्र की बहन मूॅग की एक मठ पास नहीं, उसी को मेरे दस सैलूट बस लिख के हाथों द्वारा दी गई फांसी पर मर गई थी । जिसने मिसपी को प्रमाणकिता किया था । उसके सदस्यों में बात सत्ता थी । लेखक ने उसकी स्थिति को काफी देखता महसूस किया । वो बोली युद्ध के दोबारा होने के बाद से और पत्रलेख को के आपसी शो और होने वाली मुश्किलों के ताजे दोषारोपण के साथ भेजा गया । उसमें जो लिखा था, उसने मिस्री पर ऐसा ही असर किया जैसा कि मित्र आचारी पर पानी की बाल्टी ढील दी जाएगी । हाथ को स्वयं को सौंपने में वो क्या कर रही है? क्या वो घटना के बाद स्वयं को एक पितृ जमता नहीं बना रही है? इस संकट के समय में उसकी भावनाओं में उसके प्रेमी ने उसे पुकारा । उसने अपने आप को काम से रोका और उसके प्रश्न के उत्तर में उसने आपकी नष्ट कपटता में अपने नैतिक संकोच को बता दिया । वो ऐसा नहीं करना चाहती थी और उसके कोमल आदेश के दृष्टिकोण नहीं, उसे स्पष्टवादिता को अपनाने को बात किया । उसके बाद उसने ऐसा घोष प्रदर्शित किया जो पहले उसमें दिखाई नहीं दिया था । वो बोला, लेकिन वह सब अतीत की बात हैं तो तुम परोपकार का प्रतीक हूँ और हमने विगत को भुलाने की शपथ ली हैं । उसके शब्दों ने एक क्षण के लिए उसे सुकून पहुंचाया । लेकिन वो एक काम छुट्टी थी और वो चला गया । उस रात उसने एक भी शक्ति द्वारा भेजे स्वस्थ को देखा जिस पर वह अपने जीवन के अंतिम दिनों तक विश्वास करती रही । उसके मृत रिश्तेदारों का चुल्लू पिता ढाई चाचा, चचेरा भाई ऐसा लगा कि उसके पलंग खिडकी के बीच उसे कक्ष से दूसरे और शब्द उसने उनके शक्लों को पहचानने का प्रयास किया तो उसने पाया कि वह सर वही है और उसने केवल उनके कपडों द्वारा उन्हें पहचान था । सुबह आपको अपने अंदर के इस दृश्य के प्रभावों को झटक नहीं पाई । उस पूरे दिन उसके अपने प्रणय याचक को नहीं देखा तो उनके जाने का प्रबंध करने में व्यस्त था । शाम तक शादी से एक दिन पहले वो बढ गया । पर उसको भरोसा दिलाने वाले आगमन के बावजूद उसका परिवार के प्रति कर्तव्य ज्यादा प्रबल हो गया की अब वो अकेली रह गई है । फिर भी उसमें स्वयं से पूछा कि वो आखिर कैसे अकेले और सुरक्षित एन वक्त पर जा सकती हैं और एक वहाँ तक पति को जाकर कह सकती है कि वो उससे शादी नहीं कर सकती और नहीं करेगी । जबकि वो इसके साथ साथ ये भी कहना चाहती है कि वो उससे प्यार करती स्थिति भी उसे निराशा से भर दिया । उसने गवर्नेस के रूप में अपनी नौकरी को छोड दिया और इस समय कोच ऑफिस के पास वो अस्थायी रूप से एक कमरे में रह रही थी जहां से वह सुबह उसे फोन करके ये कहने वाली थी कि एक होने और जाने की बात का पालन किया जाए । समझदारी से या मुर्खतापूर्ण ढंग से मिस्टर भी एक निष्कर्ष पर पहुंच गई थी कि उसकी सुरक्षा केवल भागते में ही है उसके सामने पे नहीं इतनी समझदारी से उसे प्रभावित किया था कि उसके पास कोई वजह नहीं थी । इसलिए जो थोडा बहुत सामान उसके पास था उसे समझते हुए और वो मेरा थोडा सा धन जो उसके पास था उसे रखते हुए वो चुप चाप चली गई । लंदन कोर्ट में अंतिम उपलब्ध सीट को सुरक्षित किया और इससे पहले की पूरी तरह से अपने कदम पर विचार करते हैं । सितंबर माह की शाम को झुटपुटे में शहर से बाहर निकल रही थी ऐसा शब्द यजनक कदम को उठाने के बाद वो अपने कारणों पर विचार करने लगी । वो उस दुखद समिति में से एक था जिसके नाम की थाने तक सब दुनिया के लिए एक आतंक थी । फिर भी वो अनेक सदस्यों में से एक था और प्रतीत होता था सब के सक्रिय सदस्यों में उसकी गिनती नहीं होती थी । उसने नामों को सिद्धांतों के आधार पर चिन्हित किया था । उसकी अपने द्वारा पीडित हुए लोगों के प्रति कोई निजी दुश्मनी नहीं थी । तो जिस कार्यालय में था, उसके बाहर उसने स्वयं को पैसा खाकर संपन्न नहीं बनाया था । इस बीच बहुत से प्यार करता रहा और उसका है ते उसकी ओर उतना ही झुकता जितना कि वह स्वयं को विगत से अलग करना चाहती । अखिर क्यों नहीं? जैसा कि उसने कहा था यादों को दफना तो और इस मिलन के द्वारा एक युग का शुभारंभ करूँ । दूसरे शब्दों में आखिर क्यों नहीं उसके इस नहीं को अपनाया था है क्योंकि उसे न काटने से कुछ अच्छा नहीं होगा । इस प्रकार तो कैस्टर ब्रिज और साठ स्पोर्ट और मैनचेस्टर भी वाइट हार्ट से गुजरते हुए जैसे स्थान पर उसके नवीनतम इरादों के सारे तंतु सिकुड गए थे । स्पोर्ट्स में अपनी सीट पर बैठे स्वयं से बात करती रहीं । इतनी दूर निकल आने पर मजबूत रहना ही ठीक है । चीजों को अपनी दिशा स्वयं ही तय करने तो और निर्भय होकर तो उस व्यक्ति से शादी कर लो जिसने उसे इतना प्रभावित किया था । वो कितना महान था तो कितनी छोटी थी और उसने अनुमान लगाया कि उसने उसके बारे में जो सोचा है वही सही है । कोच में हडबडी में अपना स्थान छोडना जो उसके उठाया कदम का प्रतीक था । जब तक गाडी चलना थी उसने तब तक इंतजार किया । टारों से चमकते आसपान के नीचे बाहर के यात्रियों की जाती हुई आकृतियाँ उसे अचंभित कर रही थी जो से बात नहीं आता रही थीं । इस समय जाने वाली कोच द मॉर्निंग हेरॉल्ड शहर में प्रदेश किया और उसने शिखर से ऊपर की सीट ले ली । मैं अधिक्र होंगे, मैं उसकी रहूंगी, चाहे इसके लिए मुझे अपनी प्राण ही क्यों न देने को नहीं । वो बोली और हफ्ते हुई । स्वास्थ्य के साथ वो वापस उस सडक पर चल दी जहाँ से अभी अभी आई थी । तब तक सुबह हुई वो हमारे राजस्व पनघट पर पहुंच गई और उसका पहला लक्ष्य था उस किराये वाले कमरे तक वापस पहुंचना जहाँ उसने अपनी पिछले कुछ दिन बिताए थे । वो मिस बी केक घबराए हुए स्वर में बार बार पुकारने के जवाब में माकन मालिक बाहर आ गई तो उसमें अपने अचानक आने और वापसी के बारे में जितना संभव था, अच्छे ढंग से उसे समझाया और उसके कमरे को दोबारा किराये पर लेने में कोई आपत्ति नहीं प्रकट की गयी । वो अपने कमरे में कई और हाथ हुई । बैठकें वो एक बार फिर से वापस आ गई थी और उसकी अजीब से टालमटोल उससे छिपे हुई थी । जिससे उन का मतलब था अमेठी फाइनल्स पर एक पंद्रह पत्र रखा है । ये तुम्हारे लिए फॅस । उसके पीछे पीछे आ रही महिला ने कहा, पर हम सोच रहे थे कि उसका क्या करें । जब तुम पिछली रात चली गई थी तो नगर का एक संदेश वाहक इसे लाया था । जब मकानमालकिन चली गई, मिस बीने पत्र खोला और पढा मेरे फिफ्टी सम्माननीय मित्र तुम हमारे परिचय के पूरे समय अपनी आशंकाओं के बारे में पूरी तरह से स्पष्ट थी लेकिन अपनी आशंकाएं छिपाये रखती हूँ । हमारे बीच वही अंतर है । तो मैंने शायद ये अनुमान नहीं लगाया होगा कि हमारे विवाह के संदर्भ में प्रत्येक आशंका तो तुमने महसूस की । वो मेरे हाथ में भी पूरी तरह से समान रूप से थी । इससे ये हुआ की कल अनजाने में तुम्हारा पश्चाताप बाहर निकला था । हालांकि तो भारी उपर स्थिति में मेरे द्वारा मशीनें ढंग से विरोध किया गया था जो हमारे एक होने की समझदारी पर मेरे संशय की आखिरी चीज थी जिसने उन्हें बल दिया था की मैं अब और विरोध नहीं कर सकता । मैं घर आया और सोचने पर कितना मैं तुम्हारा सम्मान करता हूँ । मैंने तुम्हें मुक्त करने का लक्ष्य क्या ऐसे व्यक्ति के रूप में जिसका जीवन समर्पित हैं और हो सकता है कि स्वतंत्रता की खाते मेरी बलि चढ जाए? मैं तुम्हारे निर्णय सम्भवता स्थायी निर्णय उद्घाटना के द्वारा जो केवल अस्थायी है, को मुक्त करने के अलावा बंधन रहते नहीं कर सकता । ये हम दोनों के लिए ही किसी यंत्रणा से कम नहीं होगा कि मैं यह निर्णय कर कर तो मैं सुना हूँ । इसलिए मैंने लिखने के कम पीडादायक तरीके को अपनाया है । जब तुम्हें ये मिलेगा मैं लंदन के लिए शाम की कोच से निकल चुका होगा, जब शहर में पहुंचकर मेरी गतिविधियों के बारे में किसी को नहीं बताया जाएगा । बस मुझे ब्रेड समझता हूँ और मेरे सम्मान स्मृति फसने के नवीनीकृत आश्वासनों को स्वीकार करूँगा । जब वो आश्चर्य और दुख के अपने आप हाथ से बाहर निकले तो उसे याद आया कि भोर से पहले मैनचेस्टर से बाहर निकलने पर कोच के चलने पर तारो भरे आकाश के नीचे बाहर निकलते यात्रियों की आकृति के बीच एक आकृति ने उसे क्षणिक हैरानी से भर दिया था, क्योंकि वह काफी कुछ उसके मित्र से मिलती जुलती थी कि दूसरे के इरादों से अनजान और अंधेरे में एक दूसरे से छिपे हुए उन्होंने एक ही वाहन से शहर को छोडा था । वो बडा क्रिकेट प्रत्यक्ष क्या मैं छोटी वापस लौट रहे हैं? अपनी भाव सुन नेता से वापस आने के पास मिस्री ने अपने नियोक्ता के बारे में फिर से सोचा मिसिज न्यू बोल चुने हाल की घटनाओं ने उदासीन कर दिया था । उस महिला के पास वह पूरे मन से गई और हर बात बताती मैसेज नहीं, बोर्ड नहीं है । घटना के उसके विचार को अपने तक रखा और उस छोडी हुई दुल्हन को परिवार की गवर्नर्स की पुरानी नौकरी पर दोबारा से रख लिया । वो अपने जीवन के आखिरी दिनों तक गवर्नर्स रही । फ्रांस के साथ अंतिम शांति समझौता होने के बाद वो अपनी माँ से अवगत हुई जिसके साथ उसने इन अनुभवों को धीरे धीरे पार्टी जब उसके बाल सफेद हो गए और उसके नए नक्ष सिकोडते गए । मैं भी सोचती है कि अगर वह जिंदा होगा तो आखिर दुनिया के किसी भी कोने में उसका प्रेमी होगा और क्या हूँ दोबारा उसको मिलता है । पर जब बीस में दर्शक में उसकी मृत्यु हुई तब उसकी उम्र बहुत ज्यादा भी नहीं । सुबह किताबों के नीचे वो आकृति उसके अंतिम छनक के रूप में नहीं, जैसे कभी उसने अपने परिवार का दुश्मन माना था जो कभी उसका वागदरी पति था ।

थॉमस हार्डी की लोकप्रिय कहानियाँ - Part 6

यूट्यूब का पुराना आविर्भाव एक पारिवारिक परंपरा एक रिश्तेदार के अनुसार उसने मुझे ये कहानी सुनाई थी । किंग्स हैं तो गांव के उप कांत में उन तीनों क्रिस्टोफर स्वाॅट का घर उस समय से कहीं बडा और व्यवस्थित था जब कई वर्षों बाद स्वाॅट के परिवार का होने के कारण से सटे हुई जांगीर के सामंत को भेज दिया गया था । जैसा की कहा जाता है, विजय के बाद से कुछ लोगों का ये भी कहना था कि सामने वाले घर में जो एक बच्चे का था जिसके परिवार के साथ स्वीट मैंने बात में अंतर विवाह किया था, चीजें घटी थी पाॅइंट के मूल क्षेत्र में इसे विभिन्न तरीको से दर्शाया जा सकता है । मुख्य तैयार परिवार की अटूट परंपरा के द्वारा और आप प्रत्यक्ष रूप से दीवारों के साक्षी द्वारा जो एलिजाबेथ के ढंग में खिडकियों के साथ वहाँ छाड के रूप में लगी हुई है और अस्पष्ट दिया घटना के पूर्व की तारीख के रूप में जबकि अन्य घर शायद पचास या अस्सी वर्ष बात खडे किए गए हूँ और हो सकता है की छुट्टी स्वाॅट को घर का चयन भगौडों के द्वारा नहीं सकते । किसी परिस्थिति द्वारा चालित होने के बजाय उपयुक्त अकेलेपन के अधीन हूँ । भोर से पहले जुलाई के बातों वाली सुबह थी । दो बजे का घंटा सीढियों पर लगी स्वाॅट मैन की एक सोई वाली घडी में बच्चा जैसे अभी एक परिवार ने संभाल कर रखा गया था । क्रिस्टोफर ने सिंधियों के ऊपर बने अपने कक्ष में घंटे की आवाज सुनी जो घर के सामने वाले भाग में था । उसे इस बात से आश्चर्य नहीं हुआ कि वो अभी तक सोया नहीं था । जिन अफ्वाहों और उत्तेजना ने हाल ही में आसपास में सबको चौंका दिया था और जिसका प्रभाव इतना हुआ था कि इंग्लैंड का वैध सम्राट हॉलैंड से उस बंदरगाह में पहुंच गया था जो स्वीट पहन के घर के दक्षिण पश्चिम सही केवल अठारह मिल दूर था । उसके जैसे संतुष्ट छोटे जमींदार को जगाने और चिंतित बनाने के लिए पर्याप्त था । कुछ गांव वाले जो खबर सुनकर मदहोश हो गए थे वे अपनी दरांत ियों को भी हमलावर की ओर भागे । क्रिस्टोफर स्टेट्मेंट दो पक्षों के प्रश्नों पर विचार किया और घर में ही रहा । अब जब वो इन सबके तथा अन्य चीजों के बारे में सोच रहा था तो वो कल्पना करने लगा कि उसे एक व्यक्ति के कदमों की आवाज उस सडक पर सुनाई दे रही है जो उसके घर की ओर आती है । एक उपमार्ग जो शायद ही कहीं और ले जाता हूँ और इसलिए अगर वहाँ खडा हो तो उस के बजाये उस क्षेत्र के निवासियों को चौंकाने के लिए चलना किसी समय भी उपयुक्त होगा । कदमों की आवाज गेट के पीछे तक आई और वहीं हो गए । एक मिनट फिर दो मिनट दूसरे और पैदल चलने वाला आगे नहीं पडा । क्रिस्टोफर स्टेटमैन पलंग से उठा और खिडकी को खोला । कौन है वहाँ? वो चिल्लाया एक मित्र अंधेरे में से आवाज है और रात के इस समय में तुम क्या चाहते हो? स्टेट मैंने कहा आश्रय मैं रास्ता भटक गया हूँ । तुम्हारा नाम क्या है? कोई उत्तर नहीं आया । सम्राट मॉनमाउथ के आदमी हो गया । वो मुझसे कोई प्रश्न नहीं पूछता हूँ और मेरी तरफ से उसे कोई झूठ सुनने को नहीं मिलता हूँ । मैं कुछ भी हूँ और खाता हुआ तथा भूख अब कि आज रात मुझे अपने साथ रहने दो गए । मुश्किल में पहले लोगों के प्रति स्वीट मैन दयालु था और उसका कमरा भी काफी बडा था तो वो बोला मैं नहीं चाहता हूँ और देखता हूँ । उसने लाइट चलाई, अपने कपडे पहने और गलियारे में कील पर टंगी अपनी लालटेन लेकर नीचे उतारा तथा दरवाजा खोलने से पहले उसे जला दिया । उस की किरणें एक लंबे वक्त काले रंग के बैठती पर पडेगी जो अश्वारोही सेना कि सच्चा में था और एक तलवार लटकी हुई थी । थकावट की वजह से वो स्टेज लग रहा था और मस्ती से सुना था । हालांकि मौसम खुश्क था, मेरे रंगरूप पर ध्यान मत देना । वैष्णवी बोला पर मुझे अंदर आने तो निसंदेह उसका आगंतुक अत्यंत परेशानी में था और छोटे जमींदार की स्वाभाविक मानवता नहीं । उसके दुखद आपका और विनम्र स्वर की सहायता की । स्वीट मैन उसे अंदर ले गया । लेकिन इस संदेह के साथ कि किसी ना किसी तरह से वो व्यक्ति मोनमाउथ के उद्देश्य में शामिल हैं जिसके प्रति वो मन ही मन विरोधी नहीं था । उसके निवेदन पर नवागंतुक को उसके अपने कपडों के बदले में छोटे जमींदार के पुराने कपडों में से एक सूट दिया गया जिन्हें उसकी तलवार के साथ स्वीट मैन के कमरे की एक अलमारी में छिपाकर रख दिया गया । फिर उसके सामने खाना रखा गया और पीछे के कमरे में उसके रहने की व्यवस्था की गई । यहाँ वो अगले दिन बहुत देर तक सोता रहा जो रविवार था और तारीख थी छह जुलाई । जब उन कपडों में नीचे आया जो उसने उनसे लिए थे तो पाया के परिवार के लोगों के चेहरे पर एक उदास मुस्कान छाई हुई है । स्वाॅट के अलावा वहाँ उसकी दो बेटियां थी ग्रेस और लियोनार्ड । अच्छी बात है कि लियोनार्ड यहाँ महिलाओं का नाम होता है और दोनों को ही गोपनीयता बनाए रखने का आदेश दिया गया था । उन्होंने कोई प्रश्न नहीं पूछा और उन्हें कोई जानकारी वह दिलचस्प बहुत गहन लगी । उसके रूस मथुरा के सुबह के सूखे बांस और सेब के आ सकता । नाश्ता करने के बाद उसने कहा कि उसे थकान महसूस हो रही है और जिस कमरे से वो आया था उसमें वापस चला गया । कुछ घंटे के बाद बहुत दोबारा नीचे आया । तब तक दोनों युवतियां सुबह की उपासना के लिए चली गई थी । बिना किसी सहायता के क्रिस्टोफर को घर में दौड धूप करते थे । उसने पूछा की क्या वो उसकी कुछ मदद कर सकता है? जैसा कि प्रतीत हो रहा था कि वह सारे अंतर को छिपाकर उनमें से एक लगना चाहता है । स्टेटमैन उसे बगीचे में सब सिया लाने और घर के पास बने ढलान पर स्थित बटक स्प्रिंग से पानी लाने का काम सौंपा । हालांकि बाद में इस स्प्रिंग को टेस्ट नाम से नहीं बुलाया जाता था और मैं क्या कर सकता हूँ । इन सारे कामों को करने के बाद उस अजनबी ने पूछा उसके विनम्रता नहीं स्टेटमैन को छू लिया और उसका दिल जीत लिया चुके तुम भी प्रबल हो इसलिए तुम प्लेट में निकालकर रात के भोजन के लिए मैं इस पर लगा सकते हो । अपने लिए जस्ट की प्लेट ले लो, हमारा लकडी की प्लेटों से काम चल जाएगा । लेकिन उसने नहीं किया बल्कि स्वयं के लिए लकडी की प्लेट ले ली और ऐसा करते समय उसने दोनों लडकियों के बारे में बात की और कहा कि वे कितनी मनोरम है । बाहर दरवाजे पर चलने फिरने की आवाज को सुन बातचीत हम गई जो स्वाॅट का ध्यान खींचने के लिए भी पर्याप्त थी और वह बाहर चला गया । खेतों पर काम करने वाले लोग जो डीप के आगमन पर उसके साथ सम्मिलित हो गए थे, वे इस खबर के साथ वापस आने शुरू हो गए थे कि उत्तर की बंजर भूमि पर अब अर्धरात्रि युद्ध लडा गया था । क्यूकि सेना पर आक्रमण हुआ और वह पूरी तरह से हार गए तथा ट्यूब स्वयं एक तो सामंतों एवं अन्य मित्र के साथ भाग गया । किसी को पता नहीं कि कहाँ गया युद्ध हुआ था । इन खबरों के बाद अंदर आते हुए और अजनबी की ओर गम्भीरता से देखते हुए स्वीट मैंने कहा अब मुद्दा जो भी हो काश जी तंत्र में न्यायपूर्ण की होगी । अन्य व्यक्ति ने एक दुखद उसास भारतीयों का सच इसके बारे में कुछ नहीं पता । क्रिस्टोफर ने कहा, मैंने तुम्हें उसे युद्ध का कोई व्यक्ति समझा था । मैं यहाँ सुबह के तीन वजह से भी पहले से और ये लोग अभी आए हैं । सही का छोटा जमींदार बुला फिर भी मुझे लगता है अपने प्रश्न को दबाव नहीं ऍम क्या मैं तक्लीफ में हूँ और अपनी मदद करने वाले को किसी बात से इंकार नहीं कर सकता हूँ । इसलिए इस प्रचार के पूछताछ अनुचित है । फिर से सही कहा, ऍम बोला और फिर चुप हो गया । घर की बेटियाँ चर्च से लौट आई थी । इस तेजना की वजह से योग पास ना को जल्दी खत्म कर दिया गया था । उनके पिता के पूछने पर कि क्या उन्होंने उसके बारे में कोई बात की है जो यहाँ ठहरा हुआ है, उन्होंने जवाब दिया था । उन्होंने एक शब्द भी नहीं कहा जो वस्तुतः संस्था जैसा की घटनाओं ने भी सिद्ध कर दिया था । उसने उन्हें रात्रि का भोजन परोसने को कहा और युद्ध की खबर सुनने के बाद से आगंतुक ने स्वयं को कमरे में बंद कर लिया था । उसके लिए ऊपर ही खाना ले जाने की तैयारी करने लगे पर उसमें नीचे आकर परिवार के साथ ही भोजन करना पसंद किया । दोपहर में और भगोडे गांव से निकले पर क्रिस्टोफर स्वीट में उसका आगंतुक और उसका परिवार घर के अंदर ही रहा । हालांकि शाम को अपनी गेट से बाहर आया और इन खबरों की ओर ध्यान से सुनता रहा और सोचती लगा कि उसके पिछली रात के कार्य का क्या परिणाम निकलेगा । वो घर की ओर मत्वा सबको पार करता हुआ जो उसके अपने बागान के किनारे पर ही था, लौट आया । वहाँ से गुजरते हुए उसमें अपनी बेटी लियोनार्ड की आवाज सुनी जो बाढ के अंदर विरोध प्रकट कर रही थी । उसके शब्द थे ऐसा न करे सर, कृपया मुझे जाने थे । शुक्रिया क्योंकि मैंने किसी और से वादा किया है अंदर छापते हुए क्योंकि वह स्वयं करने से रोक नहीं पाया । उसने देखा की लडकी आशना थी बहुत से छोटे की कोशिश कर रही थी और उसका चुम्बन लेने का प्रयास कर रहा था जो उसका चुम्बन लेने का प्रयास कर रहा था पर उसके विरोध को सही पाते हुए उसके दुःख को सच्चा महसूस करते हुए उसने बेमन से उसे छोड दिया । स्वाॅट के चेहरे पर उदासी छा गई क्योंकि उसकी बेटियां उसके लिए सबसे बढकर थी । वह पूरे रास्ते खिन्नता से चिंतित मनन करते हुए जल्दी जल्दी चलता गया । वो गेट के अंदर घुसा और सीधे बागान की ओर पढा । वो वहां पहुंचा । उसकी बेटी वहाँ नहीं थी । पदर्शन अभी अभी भी वहाँ खडा था । सर छोटा जमींदार बोला, उसके ग्रोथ की कोई सीमा नहीं थी । जो भी एक पडोस और एक स्त्री की आकृति और उसका चेहरा पहले सब ऍफ का था और स्त्री शायद उसकी महारानी थे । बहुत हैरान और अचंभित स्वाॅट नई चीजें अलमारी में वापस रखती हूँ और सोचता हुआ नीचे चला गया । आपने अंदाजे के बारे में उसने अपनी बेटियों से कुछ नहीं कहा । केवल इतना बताया कि वो व्यक्ति चला गया है और कभी नहीं बताया कि बागान में जो दुखद घटना घटी थी, उसको उस ने अपनी आंखों से देखा था और उसके जाने का यही मुख्य कारण है । आने वाले हफ्ते में हिन् टोक में कुछ भी नहीं घटा । सिवा यूट्यूब की सेना कि हार से और उसके खुद के युद्ध के आरंभिक चरण में गायब होने से संबंधित और निश्चित खबरों के अनियमित आगमन को फिर के बताया गया की मॉनमाउथ को पकड लिया गया । उसके अपने कपडों में नहीं बल्कि एक देशवासी के छद्मवेश में उसे लंदन भेज दिया गया और टावर में कैद कर रखा गया । ये संभावना की उसका मेहमान ट्यूब के सिवाय और कोई नहीं था । डाॅन को अत्यधिक लानी से भर्तियां उसका हिरदय उसे इस खयाल पर दिख काटने लगाके उसने अच्छे विश्वास के छोटे से धोखे के लिए इतना कठोर कदम उठाया । हो सकता है कि वह उपलब्ध भगोडों को पकडवाने का माध्यम बन सकता था । लडकियों के उसके पास आने पर वो बोला व्यभिचार बंद करूँ, मुझे डर है तो मैं कब भागे आदमी की बर्बादी का कारण बन सकती हूँ । अगले दिन वीरवार की सुबह जब जमींदार हमेशा की तरह अपने कक्ष में हो रहा था । उसने कहा कि किसी के अंदर आने का उसे आभास हुआ था । अपनी आंखे खोलते हुए उसने चांद की रोशनी में जो उसके घर के सामने दिख रहा था, एक आदमी की आकृति देखी जो आज नबी लग रहा था और जो दरवाजे से अलमीरा की को ज्यादा प्रतीत हो रहा था उस समय उसने कुछ अलग ही तरह के कपडे बैठे हुए थे लेकिन उसका चेहरा आप के पूर्व मेहमान जैसा ही विषादग्रस्त था और आकृति की लंबाई भी वैसे ही थी । वो अलमारी के पास गया । आपने आगंतुक को अपने अधिकारों का प्रयोग करते देख क्रिस्टोफर हिला सकते हैं । व्यक्ति ने अपनी बडी थापिता की आंखें स्टेटमैन के पलंग की ओर हो पाई । मेरे लिए यही ठीक होगा । कभी नहीं दुखी स्वर्ग में कहा । हालांकि वे जितने मेरे लिए अनुपयुक्त हैं दे अब मेरे दुर्भाग्यपूर्ण भाग के के लिए अनुपयुक्त नहीं बाल गई । क्रिस्टोफर ने अच्छा से कहा मैंने ही काफी जल्दबाजी की प्रतीक्षा करते हैं लेकिन वो करने को तैयार नहीं था और उसने कहा कि अच्छा यही होगा कि चीजें समय के अनुसार हूँ । इसके बावजूद स्टेट मैंने उससे आपका किया था । उसने केवल इतना ही कहा अगर मैं कभी वापस नहीं आया तो मेरी चीजों के साथ वही कर रहा हूँ जो आपने तय किया है । जब मैं आपको सोने की एक सुबह ही दानी मिलेगी और उस सुननी दाने में सोने के पचास टुकडे मिलेंगे लेकिन उन्हें अपने इस्तेमाल के लिए रख लो । छोटे जमीन नातिक नहीं जाने वाले । मेहमान ने कहा पे विदेशी टुकडे हैं और अगर मैं उन्हें ले जाऊंगा तो मुझे नुकसान पहुंचाएंगे । जैसा कि मैंने कहा है वैसा ही करें । उन चीजों को फिर से रखते हैं और तलवार का विशेष ध्यान रखें । मेरे पिता पिता की और मेरे लिए बहुत कीमती है लेकिन अब मेरे लिए कुछ और ज्यादा आम बन गया है । ऐसा कहकर जैसे ही वो नीचे गया उसने एक छडी उठाने जिसका प्रयोग स्टेटमेन्ट चलने के दौरान करता था, जमींदार उसे बगीचे के दरवाजे तक ले क्या जहाँ से वह सडक किनारे बने कॉमर्स गेट के द्वारा गायब हो गया । जो किंग्स ऍसे स्वस्थ है तब चाहती थी । क्रिस्टोफर ऊपर बने अपने कमरे में लौट आया और विचार करते हुए अपने पलंग पर बैठ गया । फिर उसने पीछे छोटी चीजों को देखा और यकीनन एक सेब में सोने की एक सुनंदा नहीं नहीं उसमें से सोने के पचास टुकडे मिले जैसा कि भगोडे ने बताया था फिर जमींदार तलवार को देखा हूँ जिसके बारे में उसके मालिक ने कहा था कि वो उसके दादा की है । वो तो धार वाली थी इसलिए उसे पकडने में उसे डर लग रहा था । उसके ब्लेड पर अंकित था एंट्रिया फॅस और अनेक उत्कृष्ट नक्काशियों में एक गुलाब और मुकुल बना हुआ था । फॅस का पंख था और तो आकृतियाँ वो सब मैंने देखा मैं स्वयं को खतरे में डालकर तुम्हें अपने घर के अंदर ले गया और तुम चाहे जो भी हो, मैं कम से कम इतनी तो तुमसे अपेक्षा रखता हूँ । आपके घर की लडकियों के साथ काम पत्र ता से पेश हो । तुम ने ऐसा नहीं किया । ऍम उन पर विश्वास नहीं करता हूँ । उनके माँ नहीं है । इसलिए मैं उनका ज्यादा ही खयाल रखता हूँ और आपसे कहना चाहूंगा केस रात अंधेरा होने से पहले यहाँ से चले जाओ । अच्छा अभी उस बात का पता चल जाने पर तब तक है जो उसके क्षणिक आवेश नहीं उससे करवाई थी । उसका निस्तेज चेहरा आप निस्तेज हो गया । कुछ समय तक उसमें कोई उत्तर नहीं दिया । जब बोला तो उसकी नरम आवाज भावनाओं से भारी हो रही थी । जी सर, वो पूछा किधर? अगर आप इस मामले को गंभीरता से लेते हैं तो मैं मानता हूँ कि मैंने गलत किया । हम जो करते हैं वो नहीं करना चाहिए बल्कि जो करना चाहिए वो करना चाहिए । हालांकि मैंने आपकी बेटी को एक औरत की तरह चोट नहीं पहुंचाई है । एक मेहमानदारी, ॅ और जरूरत के समय मित्र की तरह मैंने उसके साथ विश्वासघात किया है । जैसा की आपने कहा, मैं चला जाऊंगा । मुझे यकीन है कि मुझे कहीं और रहने की चकम मिल जाएगी । वे एकदम चुप चाप घर की ओर चलने लगे । जहाँ स्वीट मैंने जोर देकर कहा कि जाने से पहले उसके मेहमान को खाना खाकर जाना चाहिए । जब उन्होंने खाना खत्म किया तब तक झुटपुटा छा गया था और राजनीति नहीं घोषणा की कि वह जाने को तैयार है । वो ऊपर गए जहां कपडे वक्त तलवार छिपाकर रखी गई थी । घर जाने वाले व्यक्ति ने कहा कि तो उनका एक और एहसान चाहता है की उन कपडों को उसके साथ रहने दिया जाए जिन्हें उसने पहना था और तब तक उसका मेहमाननवाज अन्य कपडों व तलवार को अपने पास रखती है । जब तक की वह जो बोल रहा है वापस आए या उन्हें लाने के लिए किसी को भेजे जैसी आपकी इच्छा स्टेटमेन्ट नहीं का फायदा तो मुझे ही होगा क्योंकि इन कपडों को अगले शरद में बीज को पहनाने के लिए रखेंगे । स्वीट में लेटा हुआ था और फिर उन चीजों को वहाँ से निकाला जहाँ छिपाकर रखी हुई थी जो उस की थी । फिर से क्रिस्टोफर पर एक गहरे दृष्टि डालते हुए वो बिना कोई आवाज के बिना अपनी में अपने चीजों को थामे कक्ष से बाहर निकल गया । सीढियों से बाहर जाने की आवाज सुनाई दे रही थी । साथ ही बगल वाले दरवाजे से उसका निकलना जिसके द्वारा उनके लिए आना और ज्यादा आसान था । जो उस जगह को जानते थे इसके आ गए और कुछ नहीं हुआ और सुबह तक स्वाॅट सोता रहा । हर तरह के जोखिम से बचने के लिए उसने लडकियों से रात के उस पेट के बारे में कुछ नहीं कहा और घर के बाहर तो बिल्कुल भी किसी को नहीं बताया क्योंकि उस समय खुलेआम कुछ भी कहना खाता था । विरोध करते समय जो लोग मरे थे उसमें जागीर के सामंत का भाई भी था । जो किंग्स हिंट तो कोर्ट के पास रहता था । अगले दिन शोक के कपडों में उसे वहां से गुजरते सुषमा भी उसके साथ सांत्वना देने के लिए चल पडा । उसका वहाँ कोई काम नहीं है । दूसरे ने उत्तर दिया उसके शब्दों बाहर में कटुता थी जिसमें उसका पछतावा भी मिला हुआ था लेकिन उसके बारे में और कुछ ना हो मेरे ख्याल से तुम्हें पता है तब से क्या हुआ है मैं जानता हूँ । वो कहते हैं कि मॉनमाउथ को ले जाया गया है था बस पर मुझे वो सच नहीं लगता । स्वीट मैंने उत्तर दिया । अरे नहीं ये काफी हद तक सच है । सामान लाया और बात केवल इतनी ही नहीं है । क्यों आपको दो दिन पहले टावर हेल्पर फांसी दी गई? क्या वास्तव में ऐसा हुआ है? स्वीट मैंने का आप उसने बहुत कठोर मृत्यु पाई । उसका अंदर भारतीय थॉमस ने कहा उसके लिए सब कुछ खत्म हो गया और मेरे भाई के लिए भी लेकिन बाकियों के लिए नहीं । यहाँ शीघ्र ही खोजबीन और जांच पडताल होने वाली है । वो व्यक्ति ही चैन से रह पाएगा जिसका इस मामले से कोई मतलब नहीं है । स्वीट मेन उसके आखिरी शब्दों को ठीक से नहीं सुन पाया क्योंकि वो खबरों की विलक्षणता हूँ के द्वारा हैरान था कि पिछले मंगलवार को उद्योग की मौत हो गई क्योंकि आज के दिन जो शुक्रवार खा उससे एक रात पहले ही उसने पूर्व मैदान को देखा था जिस पर उसने ये संदेह करना छोड दिया था कि डूब के अलावा और कोई उसके कमरे में आया था और जैसा की उसने वादा किया था, अपना साजोसामान ले गया था, वो सपना नहीं हो सकता । जब सामंत चला गया तो क्रिस्टोफर ने स्वयं से कहा, लेकिन मैं पीछे जाऊंगा और देखूंगा कि क्या चीजें अभी भी आलमीरा में हैं । फिर मुझे अवश्य पता चल जाएगा कि वो कोई सपना था या नहीं । वो उस अलमारी के पास गया जिसे उसने अजनबी के जाने के बाद से देखा तक नहीं था और चीजों को छिपाने के लिए रखी गई जगह पर ढूंढने पर उसने पाया जैसा कि उसने कभी संशय नहीं किया था, वे वहाँ नहीं थी जब पेस्ट में विदेश में ये अफवाह फैली कि टावर में जिस व्यक्ति का सिर काटा गया था, आपको व्यस्तता नियुक्त नहीं था बल्कि उसका एक अफसर था जिसे युद्ध के पास पकडकर ले जाया गया था और ये कि ड्यूक की देश से बाहर जाने में मदद की गई थी । स्वीट मैन को एक स्पष्टीकरण में के पता लगा जिसे उसने इतनी पूरी तरह से कपडा दिया था ये कि उसका आगंतुक शायद युक्ता मित्र हूँ जिससे डूबने चीजें लाने भेजा हूँ । स्वाॅट इस बात को कभी नहीं स्वीकारेगा उसका इस अफवाह ने विश्वास अगले तमाम लोगों की तरह की बॉल माहौल था, उसके अंतिम दिनों तक कायम रहा । संक्षेप में इस तरह मेरे बंधु ये ऐसी परंपरा है जो पिछले दो सौ वर्षों से क्रिस्टोफर स्विट्जलैंड के परिवार को सौंपी जाती रही है ।

थॉमस हार्डी की लोकप्रिय कहानियाँ - Part 7

एक घोड सवार सिपाही का प्रवेश करना । हाल ही में मुझे एक निराशा चडक अनुभव हुआ । उस व्यक्ति ने कहा, जो इस कहानी की सच्चाई के प्रति जवाबदेह था, वो तो भाग के पूरा घर की बात थी, जिसके बाहरी पहलू से मैं लंबे समय से अवगत था । ऐसा घर जिससे बेड फंस और पुराने हो जाने की वजह से अगले हफ्ते में गिराया जाने वाला था । इमारत में चालीस से पहले वस्तुतः पुरानी खूबी के लोगों की तरफ पूरा और सडा हुआ कुछ आ पर हटा दिया गया था । ये देखकर की वह मात्र एक बहुत ही छोटा घर है, जिसे आमतौर पर कोटी रनिवास कहा जाता है । एक दूरस्थ गांव में स्थित था और सौ वर्षों से ज्यादा पुराना नहीं था । ऐसा ही मैं नहीं, उसके खाली कमरों से गुजरते हुए अनुमान लगाया था । उसकी दीवारों में दरारें पडी हुई थी और अच्छे फल थे । कितनी आकस्मिक पारिवारिक घटनाएं यहाँ हुई हैं, केवल उनका हिसाब रख सकता था, जिसकी जानकारी मुझे थी और नहीं सकते हैं । और भी अधिक घटनाएं घटी होंगी जिनके बारे में मुझे नहीं पता । ये बगीचे के मोल आपके ऊपर बना था, जो उस गली तक चाहता था, जो मिल स्टॉक पेरिस में एक कोने में बने निवासों से कुछ रखती थी । निचले प्रवेश द्वार पर हर िकेट से, जिसके ऊपर एक लंबी कतरन द्वारा कटेली बाढ एक मेहरात जैसी आकृति बनाती थी । सामने के दरवाजे की ओर कभी तराशी हुई रसभरी स्ट्रॉबेरी और सब्जियों के खेतों के किनारों के बीच से एक कच्चा रास्ता चाहता था । ये पुराने वी रंजीत हरे रंग में थे, जिसे उंगलियों से पूछा जा सकता था और उसमें एक छोटी वन लम्बी आकृति वाली तांबे की कुंडी थी जिसकी दरारों में जंगाल थे । इसमें धन से से पहले कुछ वर्षों तक पास भूमि का विकास हो गया था और खेतों के मजदूरों के रहने के लिए दो कोठारी में उन्हें बता दिया गया था । लेकिन अपने अच्छे समय में उसे बिना किसी भी विवादास्पद दावे के साथ सुन्दर और सजा समझा समझा जाता था । विविध घटनाओं के बारे में ऊपर सुन के दिया गया है । ये मुख्य तैयार अवधि के साथ छोडी हुई है कि किस तरह से इस स्थान पर वे परिवार रहते थे जो ऐसे जगहों पर रहने को अभ्यास कर नहीं थे, बोलो जिनकी परिस्थितियां पद या पूर्ववर्ती जो कुछ कुछ बेफिक्र किस्म के थे और इन निवासियों में जस्ट परिवार की अवधि से जुडी कहानी मैं सुनाना चाहता हूँ । वो माली मिस्टर जैकब पेट रोग की है जो वहाँ कुछ वर्षों तक अपनी पत्नी का एक बेटी के साथ रह रहे थे । एक अस्पष्ट होहल्ला परिसर में गूंज रहा था जिसमें आगे के भूखंडों में तेज शोर भर दिया था जो छेडे गए मधुमक्खी के छत्ते से आती आवासों जैसे लग रहा है । अगर दरवाजे पर घर का कोई व्यक्ति आता तो वो कल्पना और चिंता के मुखमण्डल के साथ खाता शाम दृश्य पर छाने लगी थी और गांव के अन्य निवासी पानी खींचने के लिए बाहर निकल आए थे । उनका कुमार बगीचे और पेडो को घर के सामने वाली जान सडक पर स्थित था । अपनी बाल्टियों को ऊपर तक पूरा भर कर वे वही रुक गए और आपस में बातें करने लगे । उनके शब्दों से आम श्रोता घटना की जानकारी हासिल कर सकता था । लकडहारा जो कहानी के अ स्थान के सबसे पास रहता था जिसने लगभग सारी कहानी सुना दी । पैडोक की बेटी से लेना अपने किसी समय के भावी पति जो कब नायक था, पर अब कोर्सवार सिपाहियों का साॅल्वर है से एक पत्र पाकर हैरान रह गई थी, जिससे वह अब तक दो या तीन वर्ष पहले हुई एल्मा के युद्ध में मारे जाने वालों में एक समझती थी । उसने अपने पिता की इच्छा के विरूद्ध जाकर उसे छोडा था । जैसा कि हम जानते हैं और उसका फीता मिलने से पहले उसके सूचना देने वाले ने बात जारी रखी है । वो बहुत ही सच्चा व्यक्ति था जैसे कि आपको लंदन के इस तरफ देखने को मिलते हैं लेकिन असल में जाकर चाहता था कि वो कुछ बेहतर करें और उसके इस बात को समझा जा सकता है । हालांकि तो उस समय वो उसके साथ ही रहना चाहती थी और जो हुआ उसके लिए उसे दोष नहीं दिया जा सकता है । अरे शादी करने ही वाले थे कि तभी युद्ध छिड गया और उसने सब बिगाड दिया । यहाँ तक की शादी के लिए सुबह तक को मारा गया और आपने कहा और प्लेयर के पीछे मंगवाए गए । वो व्यक्ति काफी सम्मानीय माना जाता था लेकिन एक दूसरे देश में युद्ध करने के लिए दो दिनों में जाने वाला था । उसके पिता का ये कहना कि उसके आने तक वह इंतजार करेंगे, स्वाभाविक ही था और वो वापस नहीं आया । छाया में खडा एक आदमी बुदबुदाया युद्ध समाप्त हो गया पर उसका प्रेमी लौट कर नहीं आया । उसे पता तक नहीं था कि वह मारा गया है कि नहीं लेकिन उसे बहुत घमंड था या वो डरपोक थी कि जाकर उसकी तलाश करती है । उसके पिता को ये पता चलने पर कि मामला क्या है, उनके माफ करने का एक कारण ये था । जैसा कि उसने उस समय साफ शब्दों में कहा था कि उसे वो व्यक्ति पसंद है और ध्यान रखेगा की उसका इरादा सही हो । इसलिए बूढे माता पिता ने उस बात के लिए हर संभव प्रयास किया जिससे भी सुधर नहीं सकते थे और उसे अपने पास रखा जब कोई ऐसा न करता हूँ । वक्त ने ये जता दिया था कि वह सही ढंग से चलना चाहता था और अब उसने उसे लिखा है कि वह वापस आ रहा है । अगर वह सात ना आया होता तो उसे जिंदगी भर उसके साथ रहना होता है । कोर्टशिप के दौरान लकडहारे को फिर से बोलना पडा । ऍम टेस्टर फ्रीज पैर को में ठहरी हुई थी और उन दोनों की मुलाकात तब हुई थी जब वो उसके पिता के बगीचे के फल खरीदते आया था । हालांकि कहा जाता है कि उसने बीच ओर से दोनों को खरीदने की बात की । उसने कहा, ये उस किस्म के बीच है जिनकी हमेशा से वो कल्पना करता आया था और जब तक पेड के सारे से खत्म नहीं हो जाते हैं उन्हें खरीदने की उसकी पेश कश्मीर उसे लेने की बात पर आकर खत्म हुआ । वे एक हजार डॉलर थे और एक साथ नहीं दे सकते थे । चलो देर से ही सही, इसके लिए अब वो उसे अपना बना लेगा । उसे विश्वास है कि वो अब नहीं मानते कि वो जीवित है । जब वो नहीं आया तब हमारे कब्रिस्तान में परम व्यक्ति जीवित था । उसने इसके सिवाय और किसी के बारे में नहीं सोचता हूँ । और नहीं उसके लिए अब ये बहुत ही अजीब है । फिर भी उसने किसी नए आदमी से शादी नहीं थी । हालांकि निश्चित रूप से वो अगले हफ्ते के लिए प्रतिबद्ध है । यहाँ तक की लाइसेंस भी मिल गया है क्योंकि इस बार उस पर कोई प्रतिबंध नहीं है । इतनी अभागी वही है । शायद साॅफ्ट जनरल सोचे की वो छूट गया है और जैसा आया है वैसे चला जाए तो वैसा नहीं जैसा मैंने संकेत दिया था । खासकर सैनिक का प्रतिबंध और उसके पास अभी भी काफी बडा फर्नीचर है । होगा ये कि वह अपने सैनिक को लेगी और मुख्य पढाई की मदद से तोड देती । अगर वो ऐसा नहीं करेगी तो मेरे दिल के ये बस तब रह जाने वाली बात होगी ऍम नियमित अटकल पार्टियों के बीच अंधेरे में एक अन्य पडोसी की आकृति उभरी । उसने एक मम्मी के पास खडे लोगों को देख सेट दिलाया । जब वो ऍम की गेट से होती हुई अपने दरवाजे पर पहुंची तो उन्होंने जवाब दिया ऍम । वो मिस्टर पेडों के परिवार के घनिष्ठ मित्र थी । वहाँ खडे लोगों की निगाहें पूरे रास्ते उसका पीछा करती रही और वह खिडकी के आगे से निकली जो अंदर चली मोमबत्तियों से इस समय रोशन हो रही थी । मिसाइल स्टोन द्वारा मैसेज स्टोन द्वार पर रुकी, घट घटाया सेलिना की माँ ने दरवाजा खुला जो तुरंत उन्हें बाई तरफ बैठक में ले गई जहां खाने के लिए मैं इस लगी हुई थी । दीवार के पास बनी बर्तन रखने की अलमारी के पास खडी एकमात्र वस्तु नहीं सम्भवता स्थानीय आज तभी का ध्यान उस सामान्य रूप से सजे कमरे में नहीं था । एक बडे से आलूबुखारे के एक को ऐसे संभाल कर रखा गया था जैसे संग्रहालय में वस्तुओं को शीशे के शेड में रखा जाता है । उसके पीछे लकडी का पट्टा था जो पर के भरी हुई चीजों को बंद करने के लिए लगाया जाता है । ये उसके की प्रतिकृति थी जिसे सेलिना और सैनिक की शादी के लिए तैयार किया गया था । जिससे उन लोगों ने अप्रिय परवर्ती परिस्थिति के बावजूद बहुत निष्ठा और प्यार से उसको इरादातन सम्मान के प्रमाणपत्र के रूप में सुरक्षित रखा हुआ था जिसका जिक्र किया जाएगा । ये इस स्मृति चिन्ह ईट की तरह सूखा नहीं था और लगता था मालूम किसी बहुत पहले विद्यमान सभ्यता का हो । अभी तक उसके सामने रुकते कि सेलिना की आदत थी और उस दुर्घटना की भी वो याद करती हैं जिसके परिणामों ने तब से उसके जीवन में एक काली छाया डालती थी जिसके बारे में पालन खींचने वालों ने कहा था एक दिन सुबह अचानक इस खबर का आना आपके घर सवार सैनिकों के लिए प्रयाण आदेश आ गए हैं । जाने से पहले केवल दो दिन का समय क्या करना है, इसके बारे में जल्दी जल्दी विचार विमर्श किया गया । दूसरी बार पूछना तो ठीक था पर तीसरी बार की अनुमति नहीं थी । और ये निर्णय की ऐसी जल्दबाजी में शादी करना बुद्धिमानी नहीं होगी । चाहे वह संभव ही होता है जिस पर भी सुनते था । अब वो युवा महिला एक निचले स्कूल पर दिवास्वप्न स्थिरता में आपके सामने बैठ गई और एक नन्द है तो लडका उसके चारों ओर फर्श पर खेलने लगा और ऍम धीरे से उठते हुए सेलेना ने कहा आपने यहाँ आने की मेहरबानी की आपको खाने के लिए प्रतीक्षा करनी पडेगी नहीं जानते हैं मैंने आपको वो अजीब खबर सुनाती होगी नहीं पर मैंने बाहर उसके बारे में सुना कि तुम ऍफ का पत्र आया है । जैसा कि वे कह रहे थे कि अब वो यहाँ तुम्हारे पास वापस आ रहे हैं हूँ । आज की रात आ रहे हैं उत्तरी इंग्लैंड की ओर से जहाँ वो नियुक्त हैं । मैं नहीं जानती कि मैं इस बात से खुश हूँ या डर ही हूँ । आपने सकते । मुझे इस बात का विश्वास था कि अगर वो जीवित होंगे तो अवश्य वापस आएंगे और मुझसे विवाह करने के लिए अपने वायदे को निभाएंगे । लेकिन जब गेट हो व्यक्ति मारा गया है, आप क्या हो सकते हैं तो क्या छपा था? क्यूँ हाँ, अलमा के युद्ध के बाद मारे गए और घायल व्यक्तियों के नामों की किताब को ऍम हॉल के दरवाजे पटना दिया गया था । वो शनिवार का दिन था और मैं वहाँ अपने लिए पडने के उद्देश्य से गई थी क्योंकि मैंने सुना था कि उसका नाम होता है उस किताब के चारों ओर लोगों की भीड लगी हुई थी जो अपने रिश्तेदारों का नाम उसमें देख रहे थे । अब मुझे याद है कि जब उन्होंने मुझे देखा तो मेरे लिए रास्ता छोड दिया । ये जानते हुए कि हम शादी करने वाले थे और जैसा की आप कहें मैं उसकी हूँ । मैं वहां पहुंचकर किताब के पन्ने पलटने लगी और मरे हुए लोगों में मैंने उसका उपनाम देखा । परचा उन के बजाय उन्होंने जेम्स लिखा हुआ था और मुझे लगा कि ये छपाई की गलत ही है और ये वही है कौन सोच सकता है की एक रेजीमेंट में दो लोग लगभग एक जैसे नाम वाले हो सकते हैं । चलो अब तो वो उसके बाद को सम्पन्न करने आ रहा है । जैसा की कहा जा रहा है इसलिए कोई बात नहीं । जो होता है अच्छे के लिए ही होता है । ऐसे ही उसकी बातों से प्रतीत होता है । पर उसने अभी तक मिस्टर मेलर के बारे में नहीं सुना है और यही बात मुझे डरा रही है । भाग के वर्ष अगले हफ्ते मेरी उनसे शादी लाइसेंस के द्वारा है और प्रतिबंधित नहीं है । जैसा कि जॉन के मामले में है और वो अभी तब वो स्पष्ट रूप से सब को पता भी नहीं है । फिर भी मुझे समझ नहीं आ रहा है कि मैं क्या करूँ । हर चीज ऐसी प्रतीत होती है । मानव कुछ होने से पहले ही कुछ गलत हो सकता है । ऐसा ही है मॅन दो शादियों का टूटना अच्छी बात है । तुमने किस तरह से मिस्टर मिला को अपनाया तो इतने अच्छे और निष्ठावान हैं । बच्चों को लेकर भी उन्हें कोई परेशानी नहीं है क्योंकि वो कहानी की सच्चाई को जानते हैं । वो जॉनी को बहुत ज्यादा पसंद करते हैं । मानो की वो उन्हीं का बेटा हो । ऐसा ही है ना । बेटा मिस्टर मिला तो मैं प्यार करते हैं या नहीं । हाँ और मैं भी मिस्टर मिलर को प्यार करता हूँ । बच्चे ने जवाब दिया, ऐसा है मैसेज हिस्टोन । उसने कहा कि वह मुझे सुविधाजनक जिंदगी देगा और मुझे लगता है कि जाने के लिए ये अच्छा है । बस्तर मिला, मुझ से कहीं अधिक संपन्न है । मैं अंततः मान गई । जैसा की शायद कोई विधवा करती । जैसा कि मैंने हमेशा स्वयं को सुलझा है । जब से मैंने वो देखा इसे मैंने सोचा कि जॉन का नाम वहाँ छपा है । मुझे उम्मीद है कि जॉन मुझे माफ कर देगा वो माफ करते का क्योंकि उसके साथ किसी भी तरह से गलत नहीं हुआ है । उसे वो लिख कर भेजना चाहिए था कि वह कोई अन्य आदमी था । सेलिना की माँ अंदर आ गई । हमें इसके बारे में पहले से कुछ भी पता नहीं था । मिसिस स्टोन ने कहा इस दोपहर को ही स्कूल का बच्चा लोवर ऍम पोस्ट ऑफिस से ये पत्थर लाया था । शादी के बारे में चीजें तय करने के लिए मिस्टर मिला । आज रात यहाँ आ रहे हैं । अरे ये तुम्हारे पिता हैं, फॅमिली पहुंच गए कदमों की था । आप पोर्च में दाखिल हुई पायदान पर रगडने की आवाज आई और कमरे का दरवाजा करीब तीस वर्ष की उम्र के लाल व्यक्ति को प्रकट करने के लिए झटके से खुला । उसकी छवि को देखकर कहा जा सकता था की कोई संपन्न वह प्रभावशाली व्यक्ति है और निश्चित रूप से सहनशील किस्मत का बच्चे को देख कर और बडों पर ध्यान दिए बिना आने वाले व्यक्ति नहीं । मुर्गी की स्कूलों की तरह आवाज निकली और इस तरह अपनी बाहों को फैलाया धानों की तो बाकी हूँ प्रवेश करने का ऐसा तरीका जिसमें जाने के लिए पूर्ण सराहना थी । हाँ, ये वही है । सेलिना ने जबरदस्ती आगे बढते हुए गा क्या? क्या तो मेरे बारे में बात कर रही थी । प्रेम जब उसने अपनी कुकडू को खत्म कर दी और माने हुए व्यवहार को अपना लिया तो उस हसमुख युवा पुरुष दे का क्या बात है । वो आरोप बोला आपको देखकर लगता है की बहुत सारी चीजें एक साथ घट गई हैं । मिस्टर मिलर के खुद के चेहरे पर चिंता की बहुत छा गई और आगे तक खींचकर कुर्सी को वहाँ ले गया और माँ क्या प्लास्टर मिलर को बता देंगे अगर उन्हें नहीं पता मिस्टर मिला है और छः दिनों में शादी होने वाले हैं । वो बीच में बोल पडा तो उसे अभी तक नहीं पता । ऍम बताई या नहीं पता जॉॅब जॉॅब अलमा में उनकी मृत्यु नहीं हुई थी तो उसी नाम का कोई अन्य व्यक्ति था । ये तो बहुत दिलचस्प बात है । ऐसे तो अनेक मामले देखने में आए और वो वापस आ रहा है । वो आज रात दिन से मिलने आ रहा है । मैं जो भी करूं वो उससे पुराना महसूस करें जो मैंने क्या है? सेलिना बीच में बोल पडे लेकिन ऐसा होता है तो क्या फर्क पडेगा और अगर वह मुझे माफ करते तो मुझे उसकी पत्नी बदले को सहमत होना होगा, नहीं सकते हैं । मुझे अवश्य ही ऐसा करना हुआ अवश्य ही । लेकिन अगर वो तो मैं माफ भी करते तो भी ले लेना । तुम बना क्यों नहीं कर देती हूँ वो नहीं । मैं निर्णय हुए बिना ऐसा कैसे कर सकती हूँ । आप बहुत दयालु है । मिस्टर मिलर कि आपने मुझे अपनाने की बात कही वर्ना जो हुआ है उसके बाद कोई अब अन्य पुरुष ऐसा नहीं करता हूँ । और मैं मानती हूँ की जितना नहीं मई मुझे आप के प्रति होना चाहिए था उसकी आधी भी मैं नहीं हूँ । फिर भी ये उसे मेरा कंपनी में होने के मानने की वजह से है क्योंकि मैं जानती हूँ की अगर वह वहाँ नहीं होता तो वो अवश्य ही अपना वादा निभाता और ये दर्शाता है कि मेरा उस पर यकीन करना सही था हूँ अवश्य तो बहुत अच्छा इंसान होगा । मिस्टर मिला दे रहा हूँ जो क्षण भर के लिए घुड सवार सैनिक के साथ रेंट मेजर अत्यंत निष्ठावान आचरन से इतने प्रभावित हो गए थे तो उन्होंने ये भी नहीं सोचा की ऐसे उनकी अपनी स्थिति पर क्या भरना पडेगा । उसने धीमे से उॅगली और कहा सलेहरा निर्णय तो तुम्हें लेना है । मैं तुमसे प्यार करता हूँ और तुम्हारे बच्चे से भी प्यार करता हूँ । मेरा चिमनी का कोना और साझे सामान तुम दोनों के लिए तैयार है था । मैं जानती हूँ पर अपने इस बारे में और कुछ नहीं सुनना चाहते हो । सलीना जल्दी से बहुत बताएँ । चाहौन आने वाला ही होगा । आशा है जब मैं उसे बताऊंगी तो सब देख लेगा की सब कैसे हुआ । फिर मैंने उसे पत्र लिख दिया होता तो ज्यादा अच्छा होता है तो मैं लगता है की उसे हमारे रिश्ते के बारे में कुछ भी नहीं पता । पर हो सकता है की बात इसके विपरीत हूँ । उसने इस बारे में सुना हो और इसके लिए वो यहाँ आ रहा हूँ तो शायद उसके सुना । वो चाहते हुई नहीं और मुझे माफ कर चुका हूँ । अगर नहीं पता होगा तो एकदम स्पष्ट धन से बता देना और पैसे सब हुआ इसके बारे में बता देना । अगर वह पुरुष है तो इसे समझ लेगा । वो सही मायने में पुरुष हैं । पर मुझे नहीं लगता कि मुझे उसे बताने की जरूरत पडेगी क्योंकि तुमने मुझे ऐसी स्थिति में डाला है । चुकी जॉनी के सोने का समय हो गया था इसलिए उसे ऊपर ले जाया गया । सेलिना जब दोबारा नीचे आई तो उसके माँ नहीं उसे कुछ चिंता से देखा । मुझे लगा कि अगर वह आ रहे हैं तो मैं सब क्लार जल्दी ही यहां पहुंच जाएंगे और अगर ऐसा होता है तो शायद मिस्टर मिला को हमें शुभ रात से कहने में कोई हिचक नहीं होगी क्योंकि तुम अपने सार्जेंट मेजर से जुडे रहने को हो । उनके शब्दों के बीच थोडी सी कटुता हो रही है । मिस्टर मिला के यहाँ होने से कम आजीविक स्थिति होगी अगर वह मुझे ऐसा करने की अनुमति देता हूँ । निश्चित रूप से विश्वास के साथ मुख्य बना ही नहीं । आपने कुर्सी से उतरते हुए कहा ईश्वर तुम्हारी मदद करें । आपने टोपी और छडी उठाते हुए उसने कहा और हमें छह तीनों में शादी करनी है । बना लेना तो ठीक ही कह रही थी तो बच्चे के पिता की अमानत हूँ क्योंकि वो जिन्दा है । मैं अपनी तरफ से पूछ लूँ मैं अपनी तरफ से पूरी कोशिश करूंगा । इसके पहले की दयालु मिला, आगे बढता क्योंकि आवाज के साथ दरवाजे पर खटखट हुई । मुझे लगा कि मैंने किसी गाडी की आवाज सुनी मिसिस पैडोक देखा हूँ उन्होंने मिस्टर पेडो को जो सामने वाले कमरे में सिगरेट भी रहते हैं उसका दरवाजे की ओर जाते हुए सुना और क्षण भर में एक हवा जिससे से लेना परिचित थी कह रही थी हाँ सरकार मैं यहाँ दोबारा आ गया हूँ । अनेक व्यवधानों के बिना नहीं । मिस्टर पे तो आप कैसे हैं और वो कैसी है अवश्य ही सोचा होगा की मुझे दोबारा कभी देख नहीं पाएगी । एक घंटा ना हट के साथ एक बदलनी प्रवेशद्वार के पास सुनाई थी । अगर मैं क्यों नहीं यहाँ रुक सकता । बताते हुए मिस्टर मिला प्लॉट हैं कोई बात नहीं कहीं और के बजाय मैं उससे यही मिलने था हूँ और मैं उस व्यक्ति को देखना चाहता हूँ तो उसके साथ दोस्ती करना चाहता हूँ । वो मुझे सही इंसान लगता है । वो चेन्नई के पास लौट आए और तभी सार्वजनिक पेजर में प्रवेश किया । वो उन दिनों के लंबे सेवा सैनिकों का बेहतरीन नमूना था जो एक सुदर्शन पुरुष था जिसके पास दिखावे रहित एक गौरव था जिसके बारे में कुछ लोग ये कह सकते हैं कि गर्दन के पास से उसकी भर्ती के खडे होने की वजह से हो सकता है । सलीना जब उस से अलग हुई थी उस की अपेक्षा वो कहीं अधिक पब्लिश हो गया था । हालांकि वह किसी तरह के भावों का प्रदर्शन नहीं करना चाहती थी लेकिन उसे देखते ही सीधे ही वो उस की ओर था की और उसे बापू में भर कर चूमने और फिर थोडी उग्रता से वो कुछ फुसफुसाई जिसे सुनकर उसे हैरानी उसे अभी अभी सुनाया है । वो बोले तो ऊपर जाकर उसे देख सकते हो । मैं जानती थी कि अगर तुम जिन्दा होगे तो अवश्य होंगे । पर मैंने सोचा कि तुम्हारी मृत्यु हो गई है । जब से युद्ध खत्म हुआ है क्या तो मैं इंग्लैंड में ही थे । आप तुम पहले क्यों नहीं है? यही बात मैं स्वयं से पूछता हूँ । जस्टिन मैंने तटपर अपना पहला कदम रखा था यहाँ आने की जल्दी करने में तेजी क्यों दिखाई? पैसे भी किसने सोचा था कि तुम हमेशा की तरह इतनी सुन्दर लग होगी कितना ऊपर की ओर थोडा झांकते के लिए वो उसे थोडा ऊपर की सीढियों पर जाना है जहां अगले की छड के पास देखने पर उसे खुले दरवाजे से जॉनी का पलंग दिख रहा था । जब वो नीचे उतरा तो मिस्टर मिलर जाने की तैयारी कर रहे थे । अब ये क्या बात है । मुझे देखकर खेत हो रहा है कि जैसे ही मैं आया कोई जा रहा है सार्वजनिक जाते विरोध प्रकट किया । मैंने सोचा था कि हम साथ शाम गुजारेंगे । बाहर दोपहिया गाडी में फॅस बियर के नौ काॅपी पे हैं ऍफ आया मान आदर शुद्ध चीज है क्योंकि मुझे लगा था कि इस जैसे निर्जन स्थान पर हमारे पास चारे की कमी हो गई और मुझे खयाल आया कि शायद किसी पडोसी से ये सब मांगना पडेगा । शायद ये जरूरत से ज्यादा फायदा उठाना होता है । अरे नहीं, बिलकुल नहीं । मिस्टर पैडोक ने बहुत ही निष्पक्ष धन से कहा जो इस समय कमरे में थे, आपने सोचा ये अच्छी बात है पर इस की आवश्यकता नहीं थी क्योंकि आगामी समारोह के लिए हमने हाल ही में खाने की चीजों और पेयपदार्थों का अतिरिक्त संचयन किया है । ये तो मेरे लिए बहुत ही खुशी की बात है । क्या आपने मुझे ऐसे प्रसन्नतादायक तैयारी के लायक समझा? जबकि आपको तो मेरा पत्र आज सुबह ही मिला हूँ । सेलिना ने अपने पिता को आगे बोलने से रोकने के लिए हो रहा और मिस्टर मिलाना उससे नजरे मिलते हैं । उसे शर्मिंदगी महसूस नहीं । अपने उम्मीदों के विपरीत सार्जेंट ब्लॅक को बिल्कुल भी नहीं पता था कि जिन तैयारियों का जिक्र किया गया था, ये उनके खुद के आगमन से बिल्कुल अलग थी । बाहर से खोल के खडे होने की आवाज और गाडी के ऊपर चाबुक के हैंडल कि बार बार था । बाहर से उन्हें याद आया कि क्लार्क ड्राइवर अभी भी प्रतीक्षा कर रहा है । घर के अंदर सामान को ले आया गया और गाडी चली गई । मिला के वस्तुतः बहुत हल्के दबाव के साथ खाने के आमंत्रण को स्वीकार कर लिया और एक उल्लास से भरी पार्टी के लिए कुछ पडोसियों तो वो भी आने के लिए राजी कर लिया गया । खाना लगाने के दौरान और उसके जारी रहने के दौरान सलीना जो आपने पहले भावी पति के साथ बैठी थी नहीं दूसरे के साथ अपनी सगाई होने की खबर उसे देने की बार बार कोशिश की जिसका अब अचानक अंतर हो गया था और उसके दिल की खुशी दे नहीं और उसे स्त्रियोचित थोडा की भावना के लिए । लेकिन बातचीत पूरी तरह से बीते हुए युद्ध की तरह ही केंद्रित रही और हालांकि सार्जेंट मेजर द्वारा लाये तेईस बीयर के कारण बहुत ही मत आ गई नहीं फिर भी उसने निश्चय किया कि जब खाना खत्म हो जाएगा तो अकेले में सार्जेंट मेजर की स्थिति को उजागर करना ज्यादा ठीक रहेगा । खाने के बाद क्लास अपनी कुर्सी पर आराम से बैठ गया और चारों ओर देखने लगा । कई बार खाने के बाद हम इस कमरे में क्या करते थे मेरे से लेना मुझे याद है । शुरू करने से पहले हम कमरे के सारे फर्नीचर को हटा देते थे । क्या तुमने अभी भी वैसा सिलसिला जारी रखा है? बिल्कुल नहीं । उसके प्रियतमा ने दुखी मन से कहा, हम कुछ दिनों में ऐसा करने भी नहीं वाले हैं । मिस्टर पे रोकते का पर देखा जाए तो जैसा कहा जाता है कि कैसे कुछ घट चुका है, बहुत कुछ घट चुका है । हाँ, मैं इसके बारे में जॉन को धीरे धीरे करके बताओगे । सलीना बीच में बोल बडी जैसे समझते हुए वो रहस्य जिसे वो और रखना नहीं चाहता है, उसे अभी भी बनाए रखना । उसके पिता नहीं कुछ झल्लाते, कोई अपनी जुबान पर काबू रख लिया ।

थॉमस हार्डी की लोकप्रिय कहानियाँ - Part 8

नृत्य करने के विषय के उठने से उससे व्यवहार में लाने की बात सबके मन में आई । उत्साही हाथों द्वारा दूसरे कमरे में मैं इस वक्त कुर्सियां लाए जाने और दो गांव वालों को घर से बेला वर्ड फूल लाने के लिए भेजने के तुरंत बाद अधिकांश लोगों ने सुनसान घाटी में विख्यात विशेष नृत्यशैली करना शुरू कर दिया । स्वाभाविक ही था कि सेलेना मेजर साॅफ्ट के साथ व्यक्त कर रही थी । हालांकि अपने पिता की मर्जी के विरुद्ध और अपनी माँ के बचाने के साथ दोनों इसके बजाय तब तक समारोहों को स्थगित करने के लिए तैयार थे जब तक के चर्च के आदेश द्वारा पहले से उसकी बेटी व क्लास के बीच के संबंध अंधाधुंध ढंग से मांगने को तैयार हो जाए । जब तभी उन्होंने एक प्रत्यक्ष विरोध प्रदर्शित नहीं किया । मिस्टर पेडो पे स्वयं को धिक्कारते हुए याद किया कि उनके सेलेना के एक सैनिक की पत्नी बनने को लेकर दृढता से जताई गई असहमति के कारण ही उनके विवाह में विलंब हुआ था और अंतत रुकावट आ गई थी । वो भी इतने खराब परिणामों के साथ जिनकी कल्पना तक नहीं की गई थी । जब उसकी सरकार द्वारा दुर्घटना के बाद सामने आई है उसने घटनाओं को समय पर छोड दिया है । मैं तुम्हारा होंगी तो उसकी बात पर चारों ओर तल्लीनता से घूमते हुए से लेना फुसफुसाई और लगा जैसे वो नींद में चल रही है । मुझे पता नहीं हमें नाज करना चाहिए कि नहीं या अपनी कोई और सौप पहन कर रहा हूँ । मैं ध्यान रखना जाने वाले हैं । हमने यहाँ पहले भी नहीं किया है तो लगता है कि तुम्हारे पिता अभी मेरे विरुद्ध हैं । मेरा तो बंदी बढ गया है । मुझे लगता है कि वह अभी भी मेरे विधुत हैं तो कभी पचता चुके हैं और मैं भी । अगर मैंने तुमसे शादी कर ली होती तो मैं कितने दुर्भाग्य से बच्चा था । मैंने कई बार सोचा था मेरे जाने से पहले किसी तरह शादी करना संभव है । हालांकि हम केवल तब पूछ ही रहते ना । और अगर जब हम क्रीमिया से लौटे थे तो सीधे यहाँ आ गया होते हैं और तब तुम से शादी कर लेता तो हम कितने खुश होते तो ये चाहूँ आखिर हमने ऐसा क्यों नहीं किया? विलंब, कार्य और विचार और इतने लम्बे समय बात तुम्हारे पिता का सामना करने का टाइम जानती हूँ । मैं कुछ समय के लिए अस्पताल में था लेकिन जगह फिर से कितने जाने पहचाने लग रही है । वो क्या है जो मैंने दूसरे कमरे में अलमारी के पास रखा देखा था वो वहाँ पहले कभी नहीं होता था । बिल्कुल किसी एक का सूखा हुआ तो खुला लगता है । निश्चित रूप से वो पुराना दुल्हन वाला केक नहीं है । हाँ, ये हमारा ही है, ये वही है । इस से तीन साल पहले हमारे विवाह के लिए बनाया गया था कि भगवान लेकिन क्यों? इस बीच तो कितना समय निकल गया और और अब के बीच कुछ भी समान नहीं है । कुछ शादी के गाउन का क्या? वो जो वो इस कमरे में तैयार कर रहे थे? मुझे याद है एक नीला, सफेद, झागदार जैसा कुछ मेरे पास वो भी है, उसे अब क्यों नहीं पहन लेती हूँ । अब मुझे कैसे अच्छा लगेगा अगर हमने उन्हें बताया कि वो क्या है? वो सब को याद दिला देगा कि कैसे हम शादी करने वाले थे । उसकी आंखें फिर से नाम हो गई थी । हाँ, बहुत दुखद बात है कि हम नहीं करवाए लगती । कुछ समय मालूम उदासी छा गई हूँ जो स्वाभाविक रूप से कोई मौन सहमति नहीं देता है । क्या तुम वो बोला मैं एक और नृत्य करना चाहूंगी अगर माँ को बुरा नहीं थे इसलिए अगली आकृति बनने से एक दम पहले सेलिना गायब हो गई और डिब्बे से तभी बाहर निकले । पर फिर भी हवादार और ग्यारह मसलिन के काम में तेजी से नीचे आई वस्तु था । ये वही था जो तीन साल पहले उसे दुल्हन के रूप में सजाने के लिए तैयार किया गया था । वो बहुत ही पुराने फैशन का है । उसने माफी मांगी, बिलकुल भी नहीं । मेरा ये खयाल कितना अच्छा है । चलो अब फिर से डांस करते हैं । जब वो उसे दूसरे नाच के लिए ले गया तो उसने उनमें से कुछ लोगों को बताया की उसके लिए ये ऍम क्या मायने रखता है और ये कि उसने इसे उसके अनुनय पर पहला है और फिर से वो स्कूल मूल घूमने लगे । तुम दुल्हन लग रही हो वो बोला लेकिन अब शादी के लिए मैं इसका उनको नहीं पहन सकती हूँ । उसने उल्लासित भाव से जवाब मिला या मुझे इसे पहनकर गंदा नहीं करना चाहिए था । ये सब मुझे बहुत पुराने फैशन का है और उत्तम मनसा और खराब है कि कोई सोच भी नहीं सकता । ऐसा मेरा इसे बार बार देखने के लिए बाहर निकालने की वजह से हुआ है । पहले से कभी नहीं पहना कभी नहीं आज ही पहनाए । सेलेना मैं सेना को छोडने की बात सोचता हूँ क्या तो मेरे साथ में उसे लाइन होगी । मेरे वहाँ एक अंकल है जो काफी संपन्न है और भी जल्दी ही मेरी अच्छी आय अर्जित करने में मदद करेंगे । ब्रिटिश सेना बहुत शानदार है लेकिन उतनी समृद्ध नहीं । बिलकुल तुम जहाँ भी जाने का निर्णय लोगें क्या वहाँ जाना जाने के लिए स्वास्थ्यकर होगा? बहुत ही प्यारा मौसम है और अब मैं इंग्लैंड में खुश नहीं रह सकता हूँ । उसने फिर से अनअपेक्षित कटुता के साथ अपनी बात की । मैं यहाँ सीधा चलाया । ये बहुत अच्छा हुआ जब नृत्य पडोसी के बाद दूसरे पडोसी तक गोल गोल घूमते हुए आगे बढने लगा और दोबारा मिला युगल बॉल हार ऑल के सानिध्य में पहुंच गए वो जिसका पुराना भाव था की वो अपने बेहतर एक छुट खुला लेकर घूमता है जो अपने खुद के विस्तार के साथ बाहर निकल आता है । उसमें से लेना की ओर अपना सिर्फ जाते हुए अपनी इस खूबी को दिखाने के लिए इस अवसर का लाभ उठाया और मंदिर स्वर में उनसे संबोधित कर पुला ये दूल्हे के लिए थोडा सा नमूना है तो ये उन्हें उस आजादी के बारे में सिखाएगा जो तुम शादी होने के बाद चाहते हो नमूने से इसका क्या तात्पर्य हैं? सार्जेंट मेजर ने पूछा जो स्थानीय निवासी न होने के कारण स्थानीय भाषा को तो अच्छा समझता था और उसने शायद दुल्हा शब्द को अपने लिए प्रयोग किया गया नाम समझ दिया था । मैं केवल यही आशा करता हूँ की मेरे साथ उससे ज्यादा बुरा व्यवहार न किया जाए । जैसा कि तुमने आज रात मेरे साथ क्या था? सेलिना भयभीत लग रही थी, तुम्हारी बात नहीं कर रहा है । वो जब आगे बढे तब वो बोली हमने सोचा कि तुम्हारा इस समय में वापस आने का कारण शायद तुम्हें पता हो कि क्या हुआ है । क्या तुमने कुछ सुना है जो मैं करने वाली थी? बिल्कुल भी नहीं है । आखिर मुझे कैसे पता चलता है । मैं तो यार शहर में था । ये तो मात्र संयोग है कि आपने विलंब के लिए उनसे माफी मांगने के लिए मैं इस से आ गया । मेरे मिस्टर बार्थोलोम्यू मिला से शादी होने वाली थी । हमारी सगाई हो चुकी है । बस यही बात है । मैं तुम्हें ये बात पत्र द्वारा बताना चाहती थी पर समय ही नहीं था क्योंकि तुम्हारा पत्र आज तो भर को ही मिला । इस वजह से तुम छोडो तो नहीं दोगे ना जान? जैसा कि तुम जानती हो । मैंने समझा के तुम्हारे मृत्यु हो चुकी हैं । उसकी आंखें चिंता के आवासों से लबालब थी और उसे शायद उसके अंदर से सिर्फ स्त्रियों की आवाज ही महसूस हो रही थी । बस की धुन के दौरान सैनिक कम शाम हो रहा है । तुम्हारे उस मिस्टर बार्थोलोम्यू मिलर से शादी कब होने वाली है? उसने पूछा बहुत चलती, कितनी चलती अगले हफ्ते वो बिल्कुल वैसे ही जैसे ये तुम्हारे और मेरे साथ था । मैं कई बार सोचती हूँ कि मेरे ऊपर व्यवधान की एक अजीब नियति लटकी हुई है । तो एक लाइसेंस लाया है जो मुझे पसंद है । इसलिए वह हो सकता है हमारे जैसा ना हो, लेकिन इससे उसके भाग्य पर कोई फर्क नहीं पडता है । लाइसेंस ले आया है, है, था, कहीं का नहीं । मैं गुस्सा नहीं । उसने ऐसा सोचा या उसके भलमनसाहत है था नहीं सुनते हैं तो हमारा ऐसा कदम उठाना कितना स्वाभाविक था । मुझे दोबारा कभी न देख पाने के विचार में सोच कर मिस्टर मिला । क्या वही हैं जो नृत्य में थे था? क्लास में बात हो, लोमडियों के चारों ओर देखा और फिर कुछ पल के लिए खामोश हो गया । वह पता लगाने के लिए वह बदलाव हुआ लग रहा है । उसने चोरी से उसे देखा बुलाना तो मैं स्वस्थ्य लग रहे हो । वो सिर्फ क्या ले रही थी क्या मेरी वजह से? वो ये नहीं? हालांकि मैंने ऐसे कुछ की उम्मीद नहीं की थी । बाल भर के लिए मुझे लगा कि तुम्हारी कोई गलत ही नहीं है और मुझे नहीं पता तो मैं नहीं लगता । ये देर तक नाचने का शौकीन है । हमे कोई बीस मिनट हो गए हैं । नाचते नाचते मेरी सांस खुल रही है । ये बहुत ही ज्यादा देर तक नाज पसंद करते हैं । क्या हम बीच में ही छोड दे क्या मैं बेला रुकते थीं? नहीं ठीक हैं । मुझे लगता है मैं पूरा कर सकता हूँ । पर हालांकि मैं देखने में स्वस्थ लगता हूँ । मैं चित्ता पहले था अब उतना मजबूत नहीं रहा हूँ । जब से लम्बी बीमारी की वजह से मैंने स्कूटरी में अस्पताल में रहा था और इस बारे में मुझे कुछ नहीं पता हूँ तो मैं कैसे पता होता? प्रिया क्योंकि मैंने इसके बारे में कुछ बताया नहीं था तो मैं कितना मुर्गी था । उसने ऐसा झटका मालूम तक में ही जब ये खत्म हो जाएगा तो मैं दोबारा नहीं ना चुकी । असल में आज मैं पूरे दिन यात्रा करके आया हूँ और लगता है इसकी वजह से थोडा डर के इसमें कोई संदेह नहीं था कि साॅफ्ट मेजर की तबियत ठीक नहीं थी और सेलिना अभी भी ये मानते हुए स्वयं को पीडित कर रही थी कि उसकी कहानी बीमारी का कारण है । अचानक पतले हुए स्वर में उसने कहा और उसे लगा कि वह पहले से भी अधिक मुरझाया हुआ लग रहा है । मुझे बैठ जाना चाहिए तो उसकी कमर पर से अपना हाथ हटाकर जल्दी से दूसरे कमरे में चला गया तो उसके पीछे पीछे गए और उसे एक कुर्सी पर बैठे देखा था । उसका चेहरा उसके हाथों वहाँ वहाँ पर टिका हुआ था जो मेरे पर रखे हुए थे । क्या बात है उसके? पिता जी ने कहा जो वहाँ आप के पास बैठे उन रहे थे । जॉन की तबियत ठीक नहीं है । हम शादी करने के बाद न्यूजीलैंड चले जाएंगे । बहुत अच्छा देश है । जॉन तुम कुछ पीने के लिए लोगे । उस पुराने आउटलेट की ऍम के कुछ खून ठीक रहेंगे जो शायद सीढियों के नीचे रखी है । उसके पिता ने सुझाया आजकल बेशक वो लाइसेंस वाली शराब से ज्यादा अच्छे नहीं है । जॉन उसके चेहरे के पास चेहरे को ले जाते हुए और उसकी बाहों को दबाते हुए वो हूँ या तुम कुछ खूब शराब के या किसी और चीज के लोगे । उसने जवाब नहीं दिया । सेलिना ने देखा के उसके कान और उसके चेहरे के दोनों हिस्से काफी सफेद हो गए । ये मान करके उसकी बीमारी काफी गंभीर है । एक पार्टी हुई, निराशा उस पर खा भी हो गई । नृत्य खत्म हो गया । ये जानने के बाद कि क्या हुआ था । उसके माँ अंदर आई और बहुत कस और बहुत संकुचित ढंग से फॅार को देखा । हमें इन्हें ऐसे ही बैठे नहीं रहने देना चाहिए । इन्हें उठाओ । वो बोली इन्हें कुशन के उपर बेंच पर आराम करने तो उन्होंने मेज पर जकडे । उनके वाहन वह हाथों को छुडाया और उनका सर उठाते हुए उनके भावों को देखकर व्यक्ति की छाया नजर आएगा । बारतोली हूँ मिला जो अब वहाँ गए थे । खिडकी के पास सबके सोफे तक उन्हें ले जाने में मिस्टर पे लोग की मदद की । जहाँ उन्होंने क्लार्क खोल लेता दिया । वो अभी भी अच्छे लग रहे थे । हमें डॉक्टर को बुलाना चाहिए से लेना बोले हो मेरे प्यारे कौन? आखिर तुमने इस तरह का दर्द अपने ऊपर क्यों लिया? मुझे लगता है कि ये मर चुका है । फॅमिली बताए वो इतनी भी साफ नहीं ले रहे हैं कि जिससे चिडिया के पंख तक कोई लाया जा सके । बहुत सारे लोग डॉक्टर को बुला लाने के लिए तैयार थे पर चुकी उन्हें यहाँ आने में कम से कम एक घंटा लगता । इसलिए मामला बिल्कुल ही बिगडा हुआ लग रहा था । नृत्य करने वाली पार्टी वैसे ही बिना किसी औपचारिकता के खत्म हो गई जैसे कि शुरू हुई थी । लेकिन डॉक्टर के आने तक मेहमान इधर उधर चक्कर लगाते रहे । जब हुआ है तो साठ दिन मेजर का शरीर ठंडा हो चुका था और इसमें अब कोई संदेह नहीं था कि जिस क्षण वो बैठे थे तभी मृत्यु ने उन्हें आपको उसमें ले लिया था । चिकित्सक तुकी सेलिना के मत से सहमत था की उस की सच्चाई बताने के कारण ही क्लार्क कि अचानक मृत्यु हो गई थी । उसके बाद वो और अब मृत्यु विचारक दोनों अपने हिलते गति के एकदम रुक जाने के कारण का पता लगा लिया था । मैंने कहा कि ऐसे अंधविश्वास तथ्यों के द्वारा अनुचित है । उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि पूरे दिन की यात्रा पहुंचने की चलती है और फिर थकाने वाला ना ऐसे ही पर अपना असर दिखाने के लिए पर्याप्त था । जोशी मिया कि सर्दी के कष्ट के बाद चर्बीदार विकास व अन्य तकलीफ थे । अनुभवों द्वारा दो पल हो गया था और उसके द्वारों सहयोग वर्ष सच बताए जाने की दुखद घटना के साथ मात्र एक दुर्घटना ही था । हालांकि इस निष्कर्ष नहीं सेलेना के विचार को हटाया नहीं की उसकी कहीं बात के आघात का एकदम खाता का असर हुआ था जिसने शरीर को इतना दुर्बल बना दिया था । इस समय टेस्टर ब्रिज पैर खुद सवार फौज का आवास था । उनका तोपों को अपनाने का असर काफी वर्षों बाद सामने आया । ये इस तथ्य की वजह से से था कि घुडसवारों फौज जिसमें क्लार्क था, झूठ बोल रही थी कि सेलेना ने उस से परिचय कराया था । उसके मृत्यु के समय बैरकों में स्टाॅक का आधिपत्य था । पर जब सार्जेंट मेजर के मृत्यु की दुखद परिस्थितियों के बारे में शहर में पता लग गया तो ग्रे के अफसरों ने अपनी बेहतरीन बासुरी और ब्लॅड की सेवाएं देने की पेशकश मी ताकि पूरे सैन्य सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार हो सके । फिर उसके शरीर को बैरक से हटाकर अगले दोपहर टर्नओवर क्वार्टर के कब्रिस्तान में लाया गया । इस अवसर पर क्लार्क के खोने का प्रतिनिधित्व करने के लिए ग्रे के सबसे प्राचीन और आप क्या कार्य खोने को तैयार किया गया था । हर कोई सेलेना के प्रति दया दिखा रहा था जिसकी कहानी सबको प्यार थी । एक मात्र शोकाकुल के रूप में वो लव के पीछे पीछे चलने लगी क्योंकि देश के इस हिस्से में क्लार्क का कोई रिश्तेदार नहीं था और उसका निजी में जो सूचना भेजने के बावजूद दूरी की वजह से कोई नहीं पहुँच पाया था वो छोटे से गंदे, पूरे काले शोक वाले वाहन में, साल की धुन पर शहर से निकलते धीमे वरनाथ के प्रयाण के दृश्य से स्वयं को बचाने के लिए जितना संभव था कुत्ता अपने को सिकोडते हुए कोने में बैठ नहीं । उसे दफनाने के बाद दो पेज होली गयी और वापसी की यात्रा शुरू हो गई । उस लगे देखकर कह रहा था का लगा उसकी यादव के जीवंत प्रयास पर सैन्य मार्ग रक्षी तेजी से प्रयाण कर रहे हैं । मानो बंदूकों के छोडे जाने के साथ साथ फॅार को खत्म हुआ मान लिया गया हूँ सहयोग बस जब वो भरा उस समय के स्थान पर वे थिरक रहे थे और उन सब को बर्दाश्त नहीं कर पा रहे थे । ये वही थी उसमें जल्दी थे । ड्राइवर से धीरे धीरे चलने को कहा ब्लॅड और सैन्यदल हाईस्ट्रीट पर जाकर लुप्त हो गया और सेलिना स्वान ब्रेक की ओर मुडी तथा मेल स्टॉप की ओर अपने घर की ओर चलती । फिर अपने लिए एक ऐसे जीवन का पुनरारंभ क्या जिसकी घटनाएं स्पष्ट रूप से उसे मेल खाते थे जो सैनिक की वापसी से पहले घटी थी । लेकिन अब उनको वो अलग ही नजरिये से देखने लगी थी उस मंदगति घटना से जिसे पुनर्प्राप्त होने वाले सम्मान की उन्होंने उम्मीद की थी । इससे बाल बाल बचाना नहीं उसके माता पिता को छू रहा दिया और उनके साथ अपने जीवन के पहले एक दो हफ्ते शोक में बिताने के बाद उनका समर्थन मिलना बिल्कुल बंद हो गया । ब्रेड के साथ इस नैतिक संबंध का पूर्वानुमान जिससे केवल इसने सबसे अपेक्षित दुर्घटनाओं के द्वारा वैधानिक नहीं माना था, उसके बूढे लोगों को जब ये उसे उसके उन कपडों में देखते जंग करने का मौका दिया । हालांकि उसे ये सुनकर जितने तकलीफ होती है उससे कहीं ज्यादा तर उन्हें ऐसा करने पर होता हैं । उसके सारे दिन घर में रहना हीं और पिता द्वारा व्यापार संभाले जाने के अभ्यस्त होने के बाद उसने उन्हें एक दिन बच्चे के साथ चौक न्यूटन माइकल शहर की दिशा में जाकर और वहां फल सब्जियों के एक छोटी सी दुकान खोल कर अपने उत्पादों को आईपीएल बाजार में बेचकर आज शरीर में डाल दिया । उसका व्यापार चलते ही विस्तृत रूप से फैल गया और वो उसे और उसके बेटे को सुविधाजनक जिंदगी देने के पर्याप्त हो गया । उसने जिस दिन से घर छोडा था वो स्वयं में से जान क्लार्क कहने लगी थी और आपने साइनबोर्ड पर उसने के नाम रख दिया था । कोई भी पुरुष उसे रोक नहीं पाया । नई परिस्थितियों में धीरे धीरे करके उसके दर्द की स्थिति भुला दी गई और उसे लोगों ने खुद सवार पहुंच के साथ एंड मेजर की विधवा के रूप में स्वीकार किया । एक ऐसी धारणा जो उसका विनम्र और शोकाकुल आचरन साबित करती प्रतीत हो रही थी । उसका जीवन शांति स्थिति में आ गया था । उसका मन सपने के उदास सुख में डूबा रहा था कि वो उसे वहाँ ले जाने के लिए जीवित रहता तो जान के साथ न्यूजीलैंड में उसका भविष्य क्या होता है । वो केवल घर से बाहर हट के दिनों में आईपीएल जाने और पंद्रह दिनों में एक बार कब्रिस्तान जाने के लिए निकलते थे, जहाँ क्लास भी कम थी । वहीं जॉनी की मदद से उसने जैसा कि अन्य विधवाएं करना चाहती हैं । उसकी कपडे पर फूल पौधे लगाते थे । उसकी अनअपेक्षित मृत्यु के अठारह तीनों बार सेलिना अपनी छोटी सी दुकान में बार्थोलोम्यू मिला को देखकर आश्चर्यचकित हो गई । उन्होंने एक दो बार पहले भी उसे फोन किया था और उन्होंने बिना कोई टिप्पणी किए उसे उसी नाम से पुकारा था जिस नाम से वो जानी जाती थी । मैं इस बार इसलिए नहीं आया हूँ क्योंकि मैं यहाँ से गुजरात था बल्कि मैसेज क्लाॅक यह पूछने आया हूँ तो शायद तुमने अनुमान भी लगाया होगा । संक्षेप में कहूं तो मैं तुमसे शादी करना चाहता हूँ । वह मुस्कुराई तो मुझसे दोबारा पूछ रहे हो क्या मैं तुमसे शादी करूंगा? हाँ बिल्कुल । असल में उसका वापस आने से यह सिद्ध कर दिया है कि जो मैं हमेशा मानता था हालांकि दूसरे नहीं मानते थे । हमारी यहाँ तुम्हारे आत्मन् से हर किसी को खुशी होगी । अब जब की तुमने अपनी आत्मनिर्भरता दिखाती है और उसके वादे पर अपने विश्वास को कायम रखा है, क्या तुम आओगी? मुझे लगता है मैं ऍम की तरह कहना चाहेंगे । उस ने उत्तर दिया मैं अपनी स्थिति पर बिल्कुल भी शर्मिंदा देंगे क्योंकि परमात्मा के निगाहों में मैं जॉन के मैं पूरी तरह से तो भरी बात से सहमत हूँ इसलिए मैं यहाँ आया हूँ । फिर मैं तुम हमेशा के लिए दुकान को संभालने और बाजार में खडे होने में अपने आपको थकाना नहीं हूँ और ये चलाने के लिए भी अच्छा होगा कि उसकी देखभाल करने के अलावा तुम्हारे पास करने को और कुछ नहीं होगा जहाँ उसने अपने प्रस्ताव के लिए सेलेना के विरोध का एक कमजोर बिंदु पे छुपा था । बच्चे की भलाई उसकी भलाई के लिए अगर किसी और से भी शादी करनी पडती तो बिना उसे प्यार ये भी पहचान जाते हैं । पर वो इस योग्य वक्ता को अपने युवा दिनों से जानती थी । स्थिति पल भर के लिए भी स्वयं को मिसेज पिलर फैलाने के ख्याल से वो खुश नहीं हुई तो वो कुछ क्षण छुप रहा ऍफ को बताना चाहता हूँ । उसने थोडी देर बाद का आपकी शादी करना मेरे लिये दबाव डालने वाला प्रश्न होगा । मेरे हिसाब से तो बिलकुल भी नहीं । सच तो यह है कि माँ पूरी हो रही है और मैं काफी दिनों तक घर से दूर रहता हूँ । इसलिए यह आवश्यक है कि मेरे अलावा भी घर में उनके साथ कोई और अन्य व्यक्ति हो तो मेरे साथ ले जाने की मेरी इच्छा के अलावा ये एक व्यावहारिक पहलू हैं जिसमें मुझे तो मैं पत्नी बनाने के बारे में सोचने को बात किया है और तुम जानती हो कि दुनिया में और कोई नहीं है जिसकी मैं इतनी परवाह करता हूँ उसने उससे बेहतर और तुम और ऐसे ही कुछ अन्य मामूली बातें उनसे कहीं लेकिन उसे इन बातों का यकीन दिलाया कि वो उसके प्रति जो भावनाएं रखता है उसके प्रति वो अत्यंत अकृतक के हैं । बस होता जैसे कि वह भी रखती है । जब तभी से लेना नहीं उसके आरामदायक घर में तीसरा व्यक्ति बनने के लिए सहमती नहीं थी । किसी भी हाल में उसके साथ चाय पीने के बाद वो विदाई लेते हुए अपने लिए किसी तरह की उम्मीद रखें, वहाँ से चला गया ।

थॉमस हार्डी की लोकप्रिय कहानियाँ - Part 9

उस शाम के पास उसने काफी लंबे समय तक ना उसे देखा और नहीं उसके बारे में सुना । छपी मौसम मुझे ऐसा करने से नहीं रोकता । उसका साथ झंड मेजर की कब्रों पर पंद्रह दिन में एक बार जाना चाह रहा था और उसने सोचा कि मिस्टर बिल्डर तो उसके इस स्टोर को जानते हैं पर जब कभी उसके क्षेत्र से कब्रिस्तान बहुत ज्यादा दूर नहीं था जैसे की जॉब कंप्यूटर में उसके दूंगा । फिर भी वो संयोग वर्ष कभी दिखाई नहीं दिया जैसे कि प्रेमी अक्सर करते हैं । उसके माँ के पत्र के रूप में चलती ही इसका स्पष्टीकरण आ गया जिन्होंने ऐसे ही उसमें जिक्र किया था के मिस्टर बार्थोलोम्यू न्यू शॉर्ट्स फूट फोरम के दूसरे हिस्से में एक संपन्न वाले की बेटी से शादी करने के लिए चले गए । मोदी से जानते हैं । लिखा था कि उनका मुख्य उद्देश्य प्यार से बढकर अपनी बूढी मां को किसी का साथ प्रदान करना था । सेलिना उस बात को समझने के लिए पर्याप्त व्यवहारिक थी कि जो कुछ हुआ है उसके बाद जीवन में घर बसाने का उसने एक अच्छा और सम्भवता एकमात्र अवसर खो दिया है । पल भर के लिए उसे अपनी आजादी पर पछतावा हुआ पर इस बारे में सोचने पर वो शांत हो गयी और स्वयं को उस काम के लिए मजबूत करने में छूट गई जो साॅल्वर की कब प्रति देखभाल करने के लिए उसी दोपहर को शुरू हुआ था जिसे करने में उसे पहले जैसा ही आनंद मिलता था । कब्रिस्तान पहुंचने पर और अस्थल कि ओ हमेशा की तरह होने की ओर मुडते थे वो एक और भारत वहाँ देख कर आश्चर्यचकित रहेंगे जो देखने में सम्माननीय विधवा लग रही नहीं । उसके साथ एक धंधा लडका था और वो क्लास की कंपनी की खास पर झुकी हुई थी और अपनी छत्र की नोक से मार वल्ली की चलो को खोज रही थी जिससे सेलिना नहीं पी ले के ऊपर एक हरा भरा आवरण बनाने के लिए बहुत ही जत्तन से वहाँ लगाया था । आप मेरी मार्वल ली को क्यों खुद रही है? सेलिना चिल्लाते हुए उत्तेजित हो इतनी तेजी से आगे भागी झटके से जाने के हाथ को खींचने के कारण वो जोर से कपडे पर बीत गया । आपके मार्वल ली उस औरत निगाहें क्यूँ हाँ मैंने इसे यहाँ लगाया था अपने पति की कपडे पर आपके पति की हाँ स्वर्ग ऍम वैसे भी वो मेरे पति जैसा ही था क्योंकि वो होने ही वाला था मैं शत लेकिन अगर वह नहीं तो और कौन? मेरा पति हो सकता है । मैं ही एकमात्र में से जॉन क्लार्क हूँ । खुद सवार सेना के स्वर्गीय सार्जेंट, मेजर के विद्वान और उनका एकमात्र बेटा वहाँ उत्तराधिकारी है । ऐसा कैसे हो सकता है? ऍफ खटाई लग रहा था कि उसके कल ऐसे आवाज नहीं नहीं नहीं पर वो इस बात के होने की संभावना के बारे में सोचते नहीं । वो मुझसे दो बार शादी करने वाला हूँ और हम न्यूजीलैंड जाने वाले थे । मुझे तुम्हारे बारे में याद है । कानून विधवा ने बहुत शांत भाव से और बिना रुसवाई से उत्तर दिया तो अवश्य ही सलीना । वो तुम्हारे बारे में अक्सर बातें करता था और कहता था कि तुम्हारे साथ उसके संबंध हमेशा उसके अंतर्रात्मा पर एक दोस्त की तरह है । उसके साथ मेरे जीवन के इतिहास के बारे में जल्दी ही पता चल गई । जब वह क्रीमिया से वापस आया तो उत्तर मेरे घर में मुझे उसका परिषद हुआ और एक दूसरे को जानने के एक महीने बाद ही हमारी शादी हो गई । तो भाग के वर्ष कुछ महीने साथ रहने के बाद हमें लगा कि हम साथ नहीं रह सकते और एक बडे झगडे के बाद जिसमें शायद मेरे ही ज्यादा गलत ही थी । जो बात मैं यहाँ उसकी कब्र पर खडे होकर कह सकती हूँ तो मुझसे दूर चला रहे हैं और उससे कहा कि अपने को सेवामुक्त कर न्यूजीलैंड चला जाऊंगा और कहाँ की फिर मेरे पास कभी नहीं आएगा । उससे पहले सुना किसी पान कोष्टी में मैंने स्टॉक में उस की अचानक मृत्यु हो गई और चुकी वो और चुकी वो बहुत गुस्से में मुझे छोडकर गया था कि कभी फिर मेरे साथ नहीं रहेगा । मैं उसके अंतिम संस्कार में नहीं आना ही नहीं या उससे संबंधित कुछ औपचारिकता नहीं कर पाई । नहीं पहचानती हूँ की मैं बहुत गुस्से भी थी लेकिन यही सच्चाई है । अगर दोस्तों की तरह एक दूसरे से अलग हुए होते हैं तो भी वहाँ पहुंचने के लिए ऐसे व्यक्ति के जिसके पास बहुत पैसा हो । तीन सौ बेल का रास्ता तय करना बहुत महंगा पडता है । कुछ खेद है कि पहले तो भारी मार्वल ली की चढे बुखार थी लेकिन मेरे देश में इस तरह की आम मार्वल लीको छारछुम खार समझा जान रहे हैं । हूँ अन्धविश्वासी व्यक्ति की कहानी विलियम जैसे कि तुम शायद जानते हो एक विचित्र चुप रहने वाला व्यक्ति था जब वो आपके नजदीक आता है तो उसे आप महसूस कर सकते हैं और अगर आपको दिखाई दिए बिना आपकी पीठ के पीछे या कहीं और होता है तो हवा में कुछ चिपचिपापन महसूस होता है । मान लो आपकी कोहनी के एक दम पास किसी तरह खाने का दरवाजा हो गया । एक बार एक रविवार हो उस समय जब विलियम हर तरह से बहुत ही स्वस्थता । चर्च के लिए बचने वाली घंटी अचानक बहुत तेज हो गई गिर जाता है जिसने मुझे इस बारे में बताया था । मैंने कहा कि उसे ज्ञात नहीं की इतनी परसों में उसके हाथों से इतनी तेज घंटी बजती आई है । ये बिल्कुल ऐसा ही था जैसे मानव चूल में तेल डालने की जरूरत है । ये रविवार की बात है । जैसा कि मैंने कहा इसके एक हफ्ते बाद सहयोग वर्ष ये हुआ के विलियम की पत्नी अपने स्त्री करने के काम को खत्म करने के लिए देर रात तक रुकी । वो मिस्टर और मिसेज हार्ड काम के लिए कपडे धोने का काम करती थी । उसके पति रात का खाना खाने के बाद हमेशा की तरह कोई एक दो घंटे पहले सोने के लिए चले गए थे । इसलिए करते हुए उसे उनके सीढियों से उतरने की आवाज आई । वो सीढी पर अपने जूते पहनने के लिए रुके जहाँ वो हमेशा नहीं लगते थे और फिर बैठक में है जहाँ वो स्त्री कर रही थी दरवाजे की ओर वहाँ से निकलते हुए क्योंकि घर के बाहर जाने का सिढियों से एकमात्र दासता था । दोनों ने कुछ नहीं कहा । विलियम तो ज्यादा बोलने वालों में से था ही नहीं और उसकी पत्नी अपने काम में व्यस्त थी । वो बाहर गया और दरवाजा बंद कर दिया । रात में जब वो अस्वस्थ नहीं था या दीन नहीं आ रही थी या उसे सिगरेट की जरूरत थी, बाहर गया था । उसने इस बात पर कोई विशेष ध्यान नहीं दिया और इस तरह करती रही । बहुत ही जल्द उसने वो काम खत्म कर लिया और चुकी तब तक वो वापस नहीं आया था इसलिए थोडी देर उसने उसका इंतजार किया । इस बीच उसने प्रेस और अन्य चीजों को संभालकर रख दिया और उसके सुबह के नाश्ते के लिए मेरी लगाने लगी । तब भी वो नहीं लौटा पर ये सोचकर कि वो शायद ज्यादा दूर गया नहीं होगा । स्वयं चुकी वह थके होने के कारण सोना चाहती थी । दरवाजे के पीछे चौक से ये लिखने के बाद की याद से दरवाजा बंद कर देना क्योंकि वह भुलक्कड व्यक्ति था वो दरवाजे को ऐसे ही खुला छोड ऊपर सीढियां चढकर जाएंगे । सीढियों पर पहुंचकर उसे यह देखकर आश्चर्य हुआ और कहूँगा की बहुत चाहूँ कहीं की जब वो आराम करने जाता था । उसके जूते जहाँ हमेशा रखे रहते थे वहाँ रखे हुए थे । जब वो अपने कमरे में पहुंची तो पाया कि वह अपने पलम पर एक काम में स्थित हो रहा है । उसे देखें या उसके आने की आहट सुने बिना वो वापस कैसे आ गया, ये बात उसके समझ से बाहर थी । ऐसा हो सकता था कि जब वह प्रेस के साथ साथ इधर उधर हो रही थी तो चुपचाप ऊंट वहाँ से निकल गया । लेकिन इस विचार से वह संतुष्ट नहीं निश्चित रूप से असंभव था कि इतने छोटे से कमरे से निकलते हुए वो उसे न देखें । वो इस पहेली को नहीं सुलझा सके और इसके बारे में संदिग्ध वहाँ साहब महसूस करें । जब तभी उसने कुछ पूछने के लिए उसे जगाया नहीं और स्वाॅट उसके जागने से पहले वह बहुत सुबह ही उठा और काम के लिए निकल गया और वो उससे पूछने के लिए बहुत उत्सुकता से नाचते पर उसकी प्रतीक्षा करने लगती है । इस समय उस बारे में सोचने से वह और अधिक हैरान हो रही थी । जब वह दोपहर में आया उसके कुछ पूछने से पहले ही बोला दरवाजे पर चौक से लिखे शब्दों का मतलब क्या है? उसने उसे बताया और रात के बाहर जाने की बात के बारे में पूछा । विलियम ने कहा कि स्वयं कक्ष में जाने के बाद वो बाहर निकला तक नहीं । बस पता कपडे बदलने के बाद वो लेट गया और एक काम ही उसे नींद आ गयी । वो खडे के पांच बचने से पहले तक एक बार भी नहीं चाहता हूँ और अपने काम पर जाने के लिए वो उठ गया था । बेटी प्राइवेट को अपने खुद के होने की तरह इस बात पर यकीन था कि वो बाहर गया था और इस बात को लेकर वह सुनिश्चित नहीं था कि वो लौटा था या नहीं । उससे बहस करने से वह परेशान हो उठे और मामले को इसलिए जाने दिया मानो उस से ही गलती हुई हूँ । बाद में जब वो लौंग पैदल सडक से जा रही थी तो उसकी मुलाकात खेल मॅाडल की बेटी नैंसी से हुई और वो बोली ऍम आज तुम उन्हें हिंदी लग रही हूँ । आमिर ऍम किसी को बताना मत पर इसकी वजह क्या है की आपको बताने में मुझे ऐतराज नहीं है । पिछली रात कुल मिनट समर की पूर्वसंध्या होने के कारण हम कुछ लोग चर्च की जोडी पर गए थे और एक वजह से पहले घर नहीं लौटे थे । सोलमेट संबंध कल था । मिसिस प्राइवेट ने कहा, सच में मैंने सोचा तकनीकी मिट समर या मिशल मेस था । मेरे पास करने को बहुत कम था । हाँ और हम बहुत करते हैं तो हमने देखा वो मैं आपको बता सकती हूँ । तुम्हें क्या देखा आपको शायद जाता हूँ । सर तो बहुत कम उम्र में भी देशों में जा चुके हैं । यहाँ विश्वास किया जाता है कि मिट समझ नाइट पर यजमानी में जो भी लोग एक साल के भीतर निश्चित प्राप्त करने वाले होते हैं उनके धन से या फिर उनको चर्च में प्रवेश करते देखा जा सकता है । जो लोग अपनी बीमारी से ठीक हो जाते हैं, कुछ समय बाद फिर बाहर आ जाते हैं । जिनके मृत्यु लिखी होती है वो वापस नहीं आते । तुमने क्या देखा? विलियम की पत्नी ने पूछा था हमें बताने की जरूरत नहीं है कि हमने क्या देखा हूँ या किसे हमने देखा । ॅ बहुत अच्छा से कहा तुमने मेरे पति को दिखा शायद भाव से बैठे प्राइवेट कहा चुकी आपकी ये कहा है ऍम नहीं आप लटकाते हुए हमें लगा कि हमने उन्हें देखा है लेकिन वहां बहुत अंधेरा था और हम डर गए थे और निसंदेह वो आपके पति नहीं हो सकते हैं । ऍम चोटिल में हूँ उसे कहते हो । हालांकि ये बात दयालु था की वजह से तो नहीं बता रही हूँ और वो फिर चर्चा से बाहर नहीं है तो भारी तरह मैं भी जानती हूँ फॅमिली इस बात के उत्तर में हाँ या ना कुछ नहीं कहा और फिर आ गई कोई बात नहीं हूँ । लेकिन तीन दिनों के बाद नियम प्राइवेट जॉन जिले के साथ हार्ड काम के पास के मैदान में कटाई कर रहे थे और दिन की गर्मी में वे अपना खाना खाने एक पेड की छांव में बैठ गए और आपने सुना ही खाली करती । उसके बाद बैठे बैठे ही दोनों हो गए । चिलिज पहले जाएगा जब उसने अपने कटाई करने वाले साथी की होते था । उसने उन बडे बडे सफेद कइयों को देखा कैसा हम उन्हें कहते हैं और सोते हुए विलियम के खुले मुंबई में एक क्या पतंगा निकला और हो गया । हाँ उनको ये बहुत जीत लगा क्योंकि विलियम जब लडका था उसने अनेक वर्षों तक एक कारखाने में काम किया था । फिर उसने एक सूरज की ओर देखा और पाया तो वे बहुत तक सोते रहे थे और चुकी विलियम नहीं जाता था । चार ने उसे पुकारा और कहा कि अब काम दोबारा शुरू करना चाहिए, उसमें कोई उत्तर नहीं दिया । तब चौहान ने उसे हिलाया और पाया कि वह मर चुका है । उसे दिन ऍम पानी के खडे को दे देते हैं । लाॅ स्प्रिंग था । जैसे ही वो बोला उसने जिसे दूसरी तरफ से झडने की ओर आते देखा तो और कोई नहीं । विलियम नहीं था तो बहुत ने स्टेज वहाँ अजीब सा लग रहा था । ये देखकर फिलिप बुखार उनको बहुत हैरानी हुई क्योंकि बहुत वर्षों पहले विलियम का नहीं ना बेटा उसका एकमात्र बच्चा खेलते हुए इस छात्र में डूब गया था । ये बात विलियम के दिमाग में इतनी बस थी कि उसके बाद किसी ने उसे झरने के पास नहीं देखा हूँ और उस जगह से बचने के लिए आते मील लम्बा दूसरा रास्ता तय करता था । पूछने पर पता चला कि दो मिल दूर मत वास्तव में सिंधु होने के कारण विलियम झरने के पास नहीं खडा होगा और ये भी पता चला कि जिस समय उसे छत पे पर देखा गया था तो वही समय था जब उसकी मृत्यु हुई थी । काफी दुखद कहानी है बाल भारती छुट्टी के बाद कवासी ने हाँ हमें उतार चढावों को एक साथ रहना चाहिए । बीज होने वाले है जाने का मुझे लगता है आप मिस्टर लेकलैंड को नहीं जानते । ऍसे शैल और चाॅस और ऍफ के बीच क्या वो आदमी आश्चर्यजनक घटना घटी थी? मुख्य छप्पर डालने वाले ने कहा वो अपनी उसकी आंखों में अभिभूत करने वाली चमक थी जिसने अभी तक अपना सारा ध्यान मुख्यतया छोटी छोटी चीजों पर रखा था । वो अपने पैर बाहर लटकाए वैन में आके बैठा हुआ था । पातरी और क्लब के अच्छे अनुभव थे क्योंकि कुछ ही लोगों को होते हैं और शायद इस उदासी के बाद कुछ खुशी मिल जाए जो हमारी आत्मा परछाई लौटने वाले नहीं । सर स्टाइल के व्यक्तित्व को याद करते हुए जवाब दिया कि वो इतिहास के बारे में कुछ नहीं जानता हूँ और उसे ये सुनकर खुशी होगी और नहीं ये ऍम उससे शियाल का बेटा है जिसे तुम जानते हैं । इसका विवाह हुए दो या तीन साल से ज्यादा नहीं हुए हैं । वहाँ के समय पर ये दुर्घटना हुई थी जिसके बारे में मैं क्या यहाँ कोई और बता सकता है । नहीं नहीं तो मैं इसके बारे में अवश्य बताना चाहिए । बहुत सारे लोगों ने कहा ऐसा अनुरोध जिसमें मिस्टर लेकलैंड भी शामिल हो गए और कहा कि सेशेल् परिवार हो है, जिसे वहाँ जाने से बहुत पहले से जानते हैं । मैं केवल जिक्र करूंगा क्योंकि आपका नाम भी हैं । वाहक लेकलैंड के कान में फुसफुसाया कि क्रिस्टोफर की कहानियों को काट छाट सैनी पडेगी । प्रवासी ने से फैलाया, वैसे मैं बहुत जल्दी बता सकता हूँ । वास्तविकता के लहजे में स्वयं को प्रशिक्षित करते हुए मुख्य छप्पर डालने वाले ने कहा हालांकि उसका संबंध ॅ के बजाय पातरी और अलग से ज्यादा है । इसके बारे में मेरे बजाय खर्चा घर के किसी बेहतर पातरी द्वारा बताया जाना चाहिए ।

थॉमस हार्डी की लोकप्रिय कहानियाँ - Part 10

ऍम पातरी और क्लाॅक आपको पता होना चाहिए ये सब एंट्री के उस समय शराब को बेहद पसंद करने के कारण उठा । हालांकि वो अब हर तरह से सब व्यक्ति बन चुका है । इतना कि उससे बेहतर और कोई हो ही नहीं सकता । पता है उसकी दुल्हन है चीन ऍसे कुछ बडी है और कितनी बडी है है मैं कहने का दिखावा नहीं करूंगा वो हमारी जजमान इन पैसे नहीं है और रजिस्टर से ही केवल ये बात पता चल सकती है । पर किसी भी कीमत वो अन्य आत्मिक परिस्थितियों सहित अपने युवा पति से उम्र में कहीं से आता है तो बेचारा एक औरत नाॅक । इसके पहले की वो अपना इरादा बदलते कम हो जाने के लिए वो बहुत जल्दबाजी करने लगी और प्रसन्नतादायक चेहरे के साथ । उनका कहना है वो एंट्री और उसके भाई भाभी के साथ नवंबर की एक सुबह चर्च की ओर चलती ताकि एंटर के साथ अपनी बाकी की जिंदगी गुजार सके । उजाला होने से पहले ही हमारी जगह से चले गए थे और जब हो गया सपने उस पर अपनी लालटेनें झपकाई और अपनी टोपियां लगाई । उसकी यजमानी का खर्चा घर घरों से एक में की दूरी पर था क्योंकि वह वर्ष का एक बेहतरीन योजना ये थी कि जैसे ही उनकी शादी होता है वे उस टूर के संबंधी के घर जिसके साथ हो रहती थी, खाना खाने वापस आते हैं और अपनी सारी दोपहर खराब करने के बजाय जहाँ जो वह समुद्र को देखने के लिए सीधे छुट्टी मनाने स्पोर्ट रेडी की वो निकल जाएगा । कुछ लोगों ने गौर किया कि उस सुबह एंड्रे गिरजाघर में कुछ लडखडाते कदमों से आया । सच यह था कि एक पहले उसके पडोसी के बेटे का नामकरण हुआ था और एंट्री धर्मपिता के रूप में पूरी रात बपतिस्मा देने के लिए चाहता रहा क्योंकि उसने स्वयं से कहा था अगर मैं हजार वर्षों तक थे, जीवित रहा तो फिर से किसी दिन धर्म था और उसके बाद पति और शायद उसके बाद पिता बन पाऊंगा है और इसलिए मैं अधिकतम सुभाशिष को लेना चाहता हूँ । इसलिए जब सुबह घर से निकला था तो पूरी रात सोया नहीं था इस वजह से जैसा कि मैंने कहा कि जब वो और उसकी होने वाली पत्नी विवाह करने गिरजाघर की ओर पर हैं । पात्री ने बाहर चाहे जो पर चर्च के अंदर वो अत्यंत कठोर व्यक्ति था लेकिन नजरों से एंट्री को देखा और तीखे स्वर में कहा ये क्या हम ने शराब पी रखी है और वह भी इतनी सुबह मुझे तुम पर सर आ रहे हैं सर असल में ये सच है ऍम पर मैं ज्यादा हारी को देशों के लिए सीधे चल सकता हूँ । मैं एक दम से चल सकता हूँ है । उसने कहा उसका आश्रय किसी का अपमान करने का नहीं था है कहीं भी अन्य लोगों की तरह और थोडा गर्म होते हुए मैं ये दावे के साथ कह सकता हूँ पातरी दिल्ली रोड आपके अगर उसी तरह पूरी नामकरण के लिए खडा रहना पडता हूँ जैसा कि मैंने किया था तो आप तो ठीक से खडे भी नहीं हो पाता । आप ऐसा कर पाते हैं । उत्तर में पादरी बिल्ली जैसे कि वे उन्हें बुलाते थे । क्रोधित कर रही उग्र नहीं कहा जा सकता था क्योंकि अगर उन्हें उकसाया जाए तो वो गुस्सैल किस्म के व्यक्ति थे और उन्होंने बहुत विनम्रता से कहा मैं तुम्हारे व्यवस्था में शादी नहीं करा सकता हूँ और नहीं करूंगा । घर जाओ और सब बलों और उन्होंने चूहे दाने की तरह किताब को जोर से बंद कर दिया । फिर दुल्हन ऐसे रोने लगी जैसे कि उसका दिल टूट गया है । उसे इस बात का डर था उसे पाने के लिए उसने जो मेहनत नहीं है उसके बाद वो एंट्री को खोदेगी और पादरी के सामने की लडाई की वह अनुष्ठान को पूरा करें पर नहीं इसको लावे नशे में धुत आदमी के साथ मैं तुम्हारी शादी का विधिवत अनुष्ठान करने में भागीदार नहीं बन । उनका मिस्टर घुटने का ये सही और साले नहीं है । मुझे तुम्हारे लिए खेद है और अच्छा होगा कि तुम वापस घर चले जाओ तो यही सोच रहा हूँ कि तुमने इसे यहाँ ऐसे शराब के नशे में लाने के बारे में सोचा भी कैसे? लेकिन अगर ये पीकर नहीं आता तो आज ही नहीं पाता सर, उसने रोते रोते का, मैं इसमें कुछ नहीं कर सकता । पात्री ने कहा । और फिर उसने चाहे कितनी अनुनय विनय की, वो टस से मस नहीं हुआ है । फिर उस ने दूसरा तरीका अपनाया । ठीक है अगर आप घर जा रहे हैं सब और हमें यही छोड कर जा रहे हैं तो घंटे दो घंटे में चर्च वापस आ जाना । मैं ये वचन देती हूँ । ये किसी न्यायाधीश की तरह शिष्ट हो जाएगा । वो बोली हम आपकी अनुमति से यही प्रतीक्षा करते हैं क्योंकि अगर वो एक तारीख चर्च से आप विवाहित चला जाएगा तो साॅफ्ट खोले भी उसे वापस खींच कर नहीं ला सकेंगे । ठीक है पागल देखा मैं तो मैं दो घंटे देता हूँ और फिर मैं लौटाऊंगा । असर कृपा करके दरवाजे पर ताला लगा जाए ताकि हम भाग ना सके । वो बोली, हाँ! और किसी को पता भी नहीं चलना चाहिए कि हम यहाँ है । फिर रात्रि ने अपना वंशीय सफेद उत्तर यह उतारा और चले गए और ताकि इस मामले को गुप्ता रहने के बेहतरीन माध्यमों के बारे में विचार विमर्श करने लगे । जो करना बहुत कठिन कार्य नहीं था क्योंकि जगह एक काम सुनसान थी और अभी तक सुबह भी नहीं हुई थी । एंट्री का भाई और भाई की पत्नी जो साक्षी थे, किसी को भी एंटर के जेल से विवाह करने को लेकर कोई परवाह नहीं थी और बल्कि वह उनकी इच्छा के विरुद्ध थे, यहाँ आया था । मैंने कहा कि वे इस छोटी सी जगह पर दो घंटे प्रतीक्षा नहीं कर सकते हैं और रात के खाने से पहले अपने घर लौंग पैदल पहुंचाना चाहते हैं । वे इतनी चिडचिडे हो रहे थे की क्लास ने कहा कि वे जो चाहे कर सकते हैं, वे घर जा सकते हैं, मानो उनके भाई की शादी वास्तव में हो गई है और विवाहित युगल जैसा कि वे चाहते थे स्पोर्ट ब्रेडी में मस्ती करने चले गए । वो कलर और कोई भी वहाँ से गुजरने वाला पातरी के वापस आने पर साक्षी की भूमिका नहीं निभा सकता हूँ । गुजरने वाला पातरी के वापस आने पर साक्षी की भूमिका निभा सकता है । ये बात तय हो गई और ऍम चले गए । कोई भी अनिच्छुक नहीं और लाख नहीं । दरवाजा बंद है और युगल को बंद करने की तैयारी करने लगा । दुल्हनों पर गए और फुसफुसाई उसकी आंखों से अभी तक हाँ सुबह गए थे मेरे प्यारे अच्छे क्लास । अगर हम यही चर्च में प्रतीक्षा करते हैं तो हो सकता है लोग हमें खिडकी से देखें और उन्हें पता लग जाएगा कि क्या हुआ है । और फिर ऐसी बात है । वहाँ पता होगी कि मैं उससे कभी बाहर नहीं निकल पाएंगी । और हो सकता है ऍम निकलने की कोशिश करें और मुझे छोड दे । क्या मेरे अच्छे निकला हूँ आप हमें टावर पे बंद कर सकते हैं तो बोली मैं इसे बहुत लेता हूँ । अगर आप ऐसा करोगे तो ब्लॅक को उस बेचारी युवा महिला को इस तरह अनुग्रहित करने में कोई आपत्ति नहीं हुई । एंट्री को टावर के अंदर ले गए और क्लास नहीं दोनों को तुरंत बंद कर दिया और दो घंटे बाद वापस लौटने के लिए घर चला गया । चर्चों से निकलने के बाद पातरी कुडकी घर पहुंचे । अब ज्यादा देर नहीं हुई थी जब उसने अपनी खिडकी के पास से गुलाबी और उनसे जूतों में एक व्यक्ति को गुजरते देखा और अचानक कर्मी की एक अचानक चौंद के साथ उसे याद आया कि उसकी यजमानी के किनारे पर ही उस दिन शिकारी से मुलाकात हुई थी । बातों को खेल बहुत ये थे और वहाँ जाने की उस की बडी इच्छा थी । संक्षेप में सेवाएं रविवार के और हफ्ते में किसी किसी दिन पात्र फॅमिली शिकार की तलाश करता था । ये सच है कि वह गरीब था और गेहूँ की उसकी कालीखोली की पूंछ चूहे जैसी थी और वो बूढी थी और उसका शरीर एक रंग का था । एकदम सफेद पूरा और उसमें दरारें थी । लेकिन वह तीन हजार लोमडियों को मार चुका था और एक अविवाहित पुरुष होने के कारण जब भी वो गर्मियों में सोने जाता, नीचे के पलंग को खोलता हूँ और आने वाली सकती और जो बेहतरीन खेल उसने खेला और लोमडियों के मिट्टी में जाने की याद दिलाने के लिए सबसे आगे सिरकोट नहीं है और जब भी ऍम में वापिस का होता है और उसके बाद वह रात का खाना खाता जैसा कि वह हमेशा करता था । वो बंदर कहा कि वाइन की बोतल में दोबारा वापिस का करना नहीं होता । अब क्लार पात्रिका, साइस माली और चंद्र मैं चाहता हूँ और वह तभी बगीचे में काम करने आया था जब उसने भी उस शिकारी आदमी को वहाँ से गुजरते देखा । इस समय भी उसे और भी भद्रपुरुष और कुलीन वर्ग के लोग नजर आ रहे थे । फिर उसने शिकारी को तुम वार शिकारी जस हेड कडी हूँ देखा था । मुझे नहीं पता कि उसके साथ कौन था । क्लार्क को भी पादरी की तरह सडक बन की तरह शिकार करने जाना पसंद था । इतना कि जब वो जानवरों के किसी झंडे को देखता या सुनता वो अपनी भावनाओं पर काबू नहीं कर पाता । मानव स्वर्ग की हवायें चाहे वो बिस्तर लगा रहा हो या बुराई कर रहा हूँ, सब कुछ भूल जाता था । इसके लिए उसने अपना आप लोग का और बातें की ओर उठाएगा जो उस समय तक उस की ही तरह जाने के लिए उन मानती हूँ । था सर आपके दो खोडी उसे सुबह एक्सरसाइज की बहुत ज्यादा थी । क्लास में कहते हुए कहा आपको नहीं लगता है की मैं उसे एक घंटे के लिए कहीं घुमा कर लिया था तो निश्चित रूप से उसे ऍम करने की बहुत जरूरत नहीं है । मैं उसे स्वयं ही कुमार लाऊंगा । बात रहने का आप उसे खुद कुमार लाएंगे पर सर भाई खोडा है । वास्तव में वो थोडा सा डबल में इतनी देर रहने के कारण अनियंत्रित हो रहा है । अगर आप कहे तो मैं उसकी जीन चढा दूँ । ठीक है उसे बाहर ले आओ । इस बात की परवाह किए बिना कितनी देर तक लाख ने क्या किया क्योंकि वह स्वयं तुरंत जानना चाहता था । इसलिए जितनी जल्दी हो सके उतनी जल्दी उसने घुड । सवारी करने के बूट और नाल पृष्ठ में स्वयं को घुस आते हुए वह एक घंटे में वापस लौटने के इरादे से मिलने की जगह की ओर चल दिया । वो छह से ही निकला, क्लार्क खोले पर सवार हो गया और उसके पीछे पीछे चल दिया । जब पातरी मिलने की जगह पर पहुंचा तो उसे वहाँ बहुत सारे मित्र नजर आएगा और उस की ही तरह वे भी बहुत प्रसन्न थे । जैसे कि उन्होंने आरंभ किया । उन्हें शिकार मिल गया और चारों तरफ एक उत्तेजना फैल गई । इसलिए भूल करके उसे तुरंत वापस जाना है । पातरी बाकी शिकारियों के साथ लिम्फ गुड और ग्रीन कोट्स के बीच स्थित खाली भूमि पर आगे बढ गया था । जैसे उसमें सरपट दौड लगाने शुरू की । उसने क्षण भर के लिए पीछे मुडकर देखा की क्लास बिल्कुल उसके पीछे था ऍम यहाँ वो बोला हाँ सर मैं यहाँ उसने कहा घोडों के लिए बेहतरीन । ऍफ ने कहा इस तरह वे स्क्रीन कोर्स में आगे ही बढते गए । फिर हाई जी तो उन को पार किया फिर कॅप्टन रिस्की हो जाने वाले शुल्क फाटक वाली सडक को, फिर तू खेल बारी फुट का और हक की तरह पढाई के ऊपर और नीचे घाटी की ओर क्लास पाखरी के पीछे पीछे था और पात्र ही शिकार से ज्यादा दूर नहीं था । न तो छोंड जैसे तेज इससे पहले कोई भागा था नहीं । पादरी ही क्लास ने अब जाहीर गूगल के बारे में सोचा जो चर्च के टावर में बंद उनके आने की प्रतीक्षा कर रहा था । सब आपके ये खोडे इस तरह और बेहतरीन हो जाएंगे । क्लास नहीं । उसके साथ साथ घोडा दौडाते इतने का फिर भाकरी से मात्र थोडी सी दूरी पर ही था । आज ही ने बाहर लाने का ये आपके उत्कृष्ट दिमाग का बढिया विचार था हूँ । एक दो दिन में बहुत ठण्ड हो जाएगी और ये बेचारे हफ्तों तक अस्तबल से बाहर नहीं निकल पाएंगे । वो नहीं निकल पाएंगे, नहीं निकलता हूँ ये सही है । एक दयालु व्यक्ति अपने पशुओं के प्रति भी ते आलू रहता है । बात ही नहीं क्लार्क ने पादरी की आंखों में छुपके से देखते हुए गा । हाँ हाँ पादरी ने वापस क्लास आपकी आंखों में देखते हुए का हैलो लोमडी को उस क्षण वो देख चलाया हलो वो जा रहा है हर एक यहाँ तो दो लोग मिली है तेज क्लास तेज दोबारा मैं दो शब्द ना सुनु हमारा संकेत यात्रा था बिलकुल ठीक है । पर क्या वास्तव में अच्छा खेल किसी पुरुष को इतना संबोधित कर देता है की वो अपने उच्चतम विश्वास को भूलने पर मजबूर हो जाता है । और फिर अगले ही क्षण क्लार्क की आपके छुपके से पात्र की आपने देखा और पात्र ने पूरा क्लास को हो सकता है । हाँ हाँ पादरी सिकुडने का हो सर ऍम सकते कि सुबह आपको हमेशा आमीन चिल्लाने से कहीं बेहतर है । हाँ प्लान हर चीज के लिए एक ऋतू होती है पातरी घुटने का क्योंकि वो एक पानी साई पुरुष था जिसे अध्याय वह पत्र रखते रहते थे जैसे कि पादरी को होनी चाहिए । आखिरकार शाम होते होते हैं शिकार करना लोमडी के भाग कर एक पूर्ण ही महिला के घर में उसकी मेज के नीचे और ऊपर घडी के डिब्बे पर चढने से खत्म हुआ । पांचवी बकला उसके पीछे पीछे पहुंचने वालों में सबसे पहले है । उनके चेहरे बूढी महिला की खिडकी से झांक रहे थे और घंटा ऐसे बज रहा था जैसे कि उसने पहले कभी नहीं सुना था । फिर अपने घर वापस जाने के लिए रास्ता ढूंढने का सवाल था, न तो पादरी को और नहीं । क्लार्क को पता था कि वे इसे कैसे करेंगे, क्योंकि वे पूरी तरह से थक कर चूर हो चुके थे । लेकिन जितनी अच्छी तरह से भी कर सकते थे, वे उनके साथ वापस चलने लगे । हालांकि वे इतने थक चुके थे कि केवल खुद को घसीट पा रहे थे । हम वहाँ का भी नहीं पहुंच पाएंगे । मिस्टर रिकॉर्ड परेशान सफर में होना अभी नहीं । क्लास में आप ही ये हमारे भूलों की सजा है । मुझे भी ऐसा ही लगता है । पातरी बहुत बताया । जब उन्होंने रोहित आश्रम में प्रवेश किया, तब तक काफी अंधेरा हो चुका है । वे यजमानी में इतने धीरे से घुसे, मानो उन्होंने हथोडा छुडाया हूँ । ये और वे ये कामना कर रहे थे कि इस बात का पता धर्म संघ को ना चले की पूरे दिन क्या कर रहे थे और चुकी वे अत्यंत थके हुए थे और घोडों के बारे में चिंतित थे । उनके मन में एक बार भी आप विवाहित युगल का खयाल रहे । आया घोडों को अस्तबल में बांध चार आता ना खिला दिया गया है । पात्र ऑफ क्लब भी फिर खुद थोडा बहुत खाकर सोने के लिए चले गए । अगली सुबह नाश्ते के समय जब पातरी गुड पिछले दिन के शानदार खेल के बारे में सोच रहा था । क्लब जल्दी से दरवाजे पर आया और उससे मिलने की इच्छा जाहिर सर, अभी अभी मेरे दिमाग में ये बात आई है कि हम उस युगल के बारे में बिल्कुल ही भूल गए है जबकि हमें कल शादी करानी थी । आधा खाना खाना है, पातरी के मुंह से ऐसे बाहर देते या मानो उस पर पूरी फॅमिली नहीं । उस सच कुछ हम भूल गए । कितनी अच्छी बात है । हाँ सर बहुत शायद हमने शुभ गाडी को बर्बाद कर दिया है । निश्चित रूप से मुझे याद है उसका विवाह पहले होना हूँ कहीं और मैं उसे कुछ हो ना हो वहाँ डॉक्टर है न दस वो बिचारी और तो नहीं उसके पास भाई ये हमारे लिए त्रैमासिक न्यायालय का मुद्दा है । चर्च में इस अनहोनी के बारे में बात नहीं करता हूँ । भगवान के लिए क्लार मुझे पागल बात करो, पात्र ही देगा । आखिर क्यों नहीं मैंने उनकी शादी करती, चाहे वो शराब किए हुए था या एकदम ठीक था । इससे क्या फर्क पडता है? उनका क्या हुआ ये देखने के लिए तुम चर्च गए थे या गांव में किसी से था नहीं । सब ये बात तो क्षण भर पहले मेरे दिमाग में भी आई थी और आपके चर्च के मामलों में मैं हमेशा पीछे ही रहना पसंद करता हूँ । जब मैंने इसके बारे में सोचा तब आप मुझे गौरैया के पर से मार सकते थे । मुझे पूरा यकीन है कि आप कर सकते हैं । पादरी नाश्ता छोड करोड के और दोनों चर्च के लिए निकल गए । उसे नहीं लगता वे लोग अब वहाँ होंगे । मिस्टर घुटने चलते चलते कहा और मैं आशा करता हूँ कि वे नहीं होंगे । वे अवश्य ही वहां से भागकर खर्चा ले गए होंगे । हालांकि उन्होंने चर्च के दरवाजे को खोला, चर्च के आहाते में प्रवेश किया और जब ऊपर टावर की ओर देखा तो उन्हें घंटा घर की खिडकी के पास एक छोटा सा पेट चेहरा और एक छोटा हार हिलता हुआ नजर आया । वह दुल्हन थी ही राहत । मिस्टर कोर्ट ने कहा मुझे समझ नहीं आ रहा है कि उनका सामना कैसे करूँ और वो एक समाधि प्रस्तर के ऊपर गिर गया का मैं इतना हाथ ही ना होता था । हाँ, ये दुख की बात है की शुरुआत करने के बाद हमने खत्म नहीं किया । क्लास ने कहा फिर भी क्योंकि आपके पवित्र पुरोहित प्रपंच की भावनाओं ने ऐसा होने नहीं दिया । युगल ने अवश्य उसे सहेलियाँ होगा, सही कह रहे हो क्लाॅक क्या वो ऐसी लग रही है? मानव कुछ समय पहले घट गया हूँ मुझे उसके बगल तब के अलावा और कुछ नहीं दिखाया । उसका चेहरा किस तरह का दिखता है । वो बहुत ज्यादा सफेद लग रहा है । हमें पुणे के लिए तैयार रहना चाहिए । कल के खोल सवारी के बाद से मेरी पीठ का ही सब कितना दुख रहा है हूँ और अच्छा काम करना है । वो चर्च के अंदर गए और टावर के सीढियों का नाम तुरंत बेचारे चेंज और एंट्री अलमारी में बंद सूखे चूहों की तरह बाहर आ गई । इंटर लंगडा रहा था पर अब काफी सभ्य लग रहा था और उसकी दुल्हन निस्तेज ठंडी परण था । सब ऐसा ही था । तुम तब से ही हूँ । पात्र ने राहत की सांस लेते हुए कहा हाँ सर, कमजोरी के कारण एक सीट पर स्वयं को धकेलते हुए दुल्हन ने कहा एक ताना भी बहुत में नहीं, किला या सूखा । तब से हम ने कुछ नहीं खाया । बिना मदद के यहाँ से निकलना संभव था और हम यही रुके रहे । लेकिन तुम लोगों ने शोर क्यों नहीं मचाया? पांचवी देखा इससे मुझे ऐसा करते नहीं दिया । ऍम हुआ उसे लेकर हम बहुत शर्मिंदा थे । चेन्नई सुपर नहीं लगी । हमें लगा कि अगर हमने शोर मचाया तो सबको ये पता चल जाएगा । एक दो बार ऍम घंटी बचाने के बारे में सोचना और फिर उसने सोचा मैं पहले भूखा राॅड । मैं अपने और तुम्हारे नाम को कलंकित नहीं होने देते हैं और इसलिए हम इंतजार करते रहे करते रहे और कहीं शक्कर लगाते रहे । पर आप आप नहीं आए कुछ खेत हैं हैं पर अब हम जल्दी ही काम पूरा कर देंगे । मैं कुछ खाने की सामग्री चाहता हूँ ऍम इससे मुझे ताकत मिल जाएगी । चाहे वह ब्रेड का टुकडा ही हो या प्यास । क्योंकि मैं महसूस कर पा रहा हूँ की मेरा पेट है रिलेटेड की हड्डी को छू रहा है । मुझे लगता है कि हमें अभी से कर लेना चाहिए । तो उन्होंने कुछ चिंतित स्वर में कहा, क्योंकि हम सब यहाँ सुविधा में भी है । एंटर खाने की बात चाह रही थी और क्लास नहीं दूसरे साक्षी को बुलाया जो इस बारे में बातें नहीं बताता और जल्दी ही विवाह संपन्न हो गया हूँ । फिर दुल्हन मुस्कुराने वर्ष हो कि और एंटर हमेशा की तरह है । लगा रहा था पादरी ई कोर्ट ने कहा, अब हम लोग मेरे घर चलो कुछ और करने से पहले कुछ खालो । वो इस प्रस्ताव से बहुत खुश हुए और एक रास्ते से चर्च के आहाते से बाहर नहीं देनी जबकि तातरी और क्लास दूसरे रास्ते से बाहर है इसलिए किसी का ध्यान उनपर नहीं गया । वैसे भी अभी सुबह खेली नहीं थी ।

थॉमस हार्डी की लोकप्रिय कहानियाँ - Part 11

वे इस तरह पुरोहित आश्रम में दाखिल हुए, मानो अभी अभी पोर्ट रेडी की यात्रा से लौटे हूँ । वे खाने और पीने लगे । जब तक उनका पेट नहीं भर गया था । उनकी कहानी के बारे में पता लगने में इस समय लगा । पर इसके बारे में बातें हुई और वे स्वयं अब उस पर हसते हैं । हालांकि जेन ने छोटा सा हा वो काम नहीं था । ये सच है कि उसने अपने नाम को कलंकित नहीं होने दिया । क्या ये वही ॅ जो जागिरदार के घर में क्रिसमस के एक बेल वादक के रूप में किया था? बीस होने वाले व्यक्ति ने पूछा नहीं नहीं । स्कूल मास्टर मिस्टर प्रॉफिट ने जवाब दिया, ये उसके पिता नहीं किया था तो उसके इतना खाने और पीने वाला आदमी होने की वजह से ये देखते हुए कि वो अच्छा होता है । स्कूल मास्टर ने बिना रुके अपनी बात जारी रखी । संगीतकार के रूप में पूरे एंड्रेका अनुकूल । मैं उस समय गायक मंडली के लडकों के दस्ते में था और हमें वादकों को उस क्रिसमस हफ्ते में जमींदार के खर्चे, मैनर हाउस पर जमींदार के लोगों और आगंतुकों जिसमें पार्टी लॉर्ड और लेडी बेक सफाई और मैं नहीं जानता कौन कौन थे के लिए गाने बजाने के लिए उपस्थित होना था और उसके बाद जैसा कि हम हमेशा करते थे खाना खाने के लिए नौकरों वाले हॉल में जाना था । ऍम जानता था की ये प्रथा थी और जब हम निकलने लगे थे हम से मिलने पर वो हम से बोला तो मैं गाय के मांस तरकी, पीरू आलूबुखारे की पुडिंग और बियर पीने के लिए कितना लालायित हूँ जिसे खाने तुम खुशकिस्मत लोग अभी जा रहे हो । एक व्यक्ति कम या ज्यादा होने से जमींदार को फर्क नहीं पडेगा । मेरी उम्र ज्यादा है जिसकी वजह से मैं आने वाले लडकों की श्रेणी में नहीं आ सकता हूँ । पर चुकी इतनी ज्यादा दाढी है की लडकियों की मंडली में भी शामिल नहीं हो सकता हूँ । क्या तुम मुझे एक बेला दे सकते हो ताकि मैं तुम लोगों के साथ ब्लॅड बजाने वाले की तरह सकूँ । हम उसके प्रति कठोर नहीं होना चाहते थे इसलिए उसे एक पुराना बेला दे दिया । हालांकि एंड्रू को जाइंट हूँ । कैरॅल के अलावा संगीत के बारे में कुछ भी पता नहीं था और पूरा नहीं वाद्य से सचेत वो हम सबके साथ निर्धारित समय पर जमींदार के घर के लिए चल पडा और आपने पेला को बगल में दबाए हुए निर्भिकता से चलने लगा । संगीत की पुस्तकों को खोलने और स्वरों पर सही जगह पर रोशनी डालने के लिए हम पत्तियों को फिर खाने का काम करते हुए हैं । वो बहुत स्वाभाविकता दिखा रहा था और जब तक हम ने वाइॅन् ऍम आया और बचाया, सब कुछ सुचारु रूप से चल रहा था । फिर जमींदार की हाँ एक लंबी वरुड बंदी बूढी महिला, जिसे चर्च से संगीत में ज्यादा दिल चलते थी । नहीं अचानक एंटर उसे कहा, मैं देख रही हूँ कि तुम बाकी लोगों के साथ बाते नहीं बजा रहे हूँ । ऐसा क्यों? ऍप्स दुविधा में था । उसे देखकर मंडली के सारे लोग जमीन में धंसने को तैयार थे । हम देख सकते थे कि वह पसीने से भीग गया और वो उस स्थिति से कैसे बाहर निकला, हमें नहीं पता । मेरे साथ एक दुर्घटना घटती मैडम । एक बच्चे की तरह मेरी सा झुकते हुए उसने कहा रास्ते में आते हुए मैं गिर गया और मेरी गज टूट गई । ये सुनकर वहाँ तो खून क्या वो ठीक नहीं हो सकती? उन्होंने कहा अरे नहीं मैडम, वो बिल्कुल धीरज की रच हो गया है । देखती हूँ कि मैं तुम्हारे लिए क्या कर सकती हूँ? उन्होंने कहा, और फिर लगा कि अब सब कुछ खत्म हो गया है और फिर हमने बचाया । रिजॉर्ट्स ये ड्रा उसी मॉर्डल्स और और जैसे ही वो खत्म हुआ उन्होंने एंट्री उसे कहा मैंने अटारी में किसी को भेजा था । हमारे कुछ पुराने बाते रखें वहाँ मुझे गरज मिल गया । उन्होंने उसपे चार एंट्री को वो कच्छ साहब थी जिससे यह तक नहीं पता था कि उसे किस सिरे से पकडना चाहिए । अब हमारे पास पूरी संगत है । उन्होंने कहा, अपनी किताब के सामने जब एंट्री गायकों के व्रत में खडा हुआ तो उसका चेहरा किसी सडक हुए सीट जैसा लग रहा था क्योंकि यजमानी में केवल एक ही व्यक्ति था जिससे सब करते थे और वो थी ये शुक्र नासिका वाली महिला । हालांकि अगले व्यक्ति के थोडे पीछे खडे होकर बिना तारों को छुए आपने गज को आगे पीछे करते हुए उसने बजाना शुरू करने का दिखावा दिया ताकि ऐसा लगे कि वह धुन के साथ पूरे दिल से झूठ बोल रहा है । ये सवाल था कि अगर वह ऐसा ठीक से नहीं कर पाया अगर जमींदार के घर आया कोई अगर तो पातरी के अलावा और कोई नहीं ये न देखे कि उसने बेला उल्टा पकडा हुआ है और ढेबरी उसके थोडी के नीचे हैं और पीछे का सारा भाग उसके हाथ में है और वो ये सोचकर कि बजाने का ये कोई नया तरीका है । उसके चारों ओर एकत्र होने लगी । इस से हर चीज प्रकट हो गई । जमींदार की माँ ने एन्ड को नीच व धोखेबाज कहकर घर से बाहर निकाल दिया । संगीत के तालमेल में बहुत ज्यादा बाधा आ गयी । जमींदार ने घोषणा की कि वो उसी दिन अपना कॉलेज छोड दें । हालांकि जब हम नौकरों के हॉल में पहुंचे तो वहां एंड्रयू बैठा हुआ मिला जिससे जमींदार के आदेश से आगे से प्रवेश न करने देने पर जमींदार की पत्नी के आदेश से पीछे के दरवाजे से वाहन लाया गया था और उसके कॉलेज छोडने के बारे में कुछ सुनने को नहीं मिला । पर उस रात के बाद एक संगीतकार के रूप में सार्वजनिक रूप से कंट्रोल नहीं फिर कभी नहीं बजाकर फिर कभी नहीं बजाया । पर अब उसके मृत्यु हो चुकी है । बेचारा जैसा की हम सब के साथ भी होगा । मैं पुरानी गायन मंडली को उनके बेलो और बडे वाले को भूल चुका हूँ, हर आने वाले नहीं । ध्यान मत होते हुए का क्या वे अभी भी पुराने की तरह आज भी कहाँ जा रहे हैं? उसका कहना छप्पर डालने वाले क्रिस्टोफर पिंग देखा इन बीस वर्षों में उन लोगों ने क्या किया? अब चर्च में एक युवा मध्य त्यागि ऑर्गन बजाता है और बहुत अच्छा बजाते हैं । हालांकि वो उतना अच्छा संकेत नहीं है जो पुराने समय में होता था क्योंकि ऑर्गन ऐसा पिंच के साथ चलता है और युवा मध्य त्यागी कहता है कि वो अपनी बातों को बिलकुल अपने से दूर ना रखते हैं । फिर उन्होंने ये परिवर्तन क्यों किया हूँ? जो कुछ कुछ जो चलन की वजह से और कुछ इसलिए क्योंकि पुराने संगीतकार किसी तरह की मुसीबत में फंस गए थे वो भी एक बडी मुसीबत में हैं । हैना जॉन मैं उस बात को कभी नहीं भूल सकता । कभी नहीं उन्होंने पूर्णतया चर्च के अवसरों की भूमिका ऐसे गवाह थी जैसे कि वे कभी उस भूमिका में थे ही नहीं । ये उनके साथ बहुत ही पूरा हुआ था । छप्पर डालने वाले नहीं पीते । समय पर ऐसे एकाग्रता से ध्यान देते हुए कहा जैसे वो अभी गुजरा हो और अपनी बात जारी रखी है । पल्ली के गायन मंडली में अन्य मनस करता वो क्रिसमस के बाद रविवार को घाटा जैसा की वो लाभ बहुत चर्च की गाल, गाल में संगीत के कार्यक्रम का आखिरी रविवार साबित हुआ । हालांकि तब उन्हें इस बारे में पता नहीं था । जैसा की आप जानते हो, सर वादकों ने बहुत बढिया बैंड का गठन किया था । उतना ही बढिया जितना कि यूज के नेतृत्व वाले मेले स्टॉक फॅमिली के बाद । उसमें उन का नेता निकोलस स्पोर्टिंग काम था पहले बेला के साथ और वाइलिन वादक टिमोथी निकोलस । पुरुष स्वर वेला वादक जॉन पायलट था सर्पीले आकार जैसा वाद्य बजाने वाला डेनियल हॉर्न हेड शायद डाउन दाल और शहनाई के साथ मिस्टर नेक्स्ट सारे बेहतरीन वसूल गीतकार और जिन्हें बचाते थे उनमें जोर से हवा देने वाले आदमी । इसी वजह से छोटे कार्यक्रमों और नाजकी पार्टियों के लिए क्रिसमस के सप्ताह में उन की बहुत मांग रहती थी क्योंकि वे नाच में उतनी ही बढिया तरह से लोगों की भीड एकत्र कर देते थे, जितनी की भजन का आईटी में समापान देते थे या उससे भी कहीं बेहतर श्रद्धा हिंदी तक उसमें सम्मिलित हो जाता था । संक्षेप में जमींदार के हॉल में महिलाओं वह पुरुषों के लिए डेढ घंटा वे क्रिसमस भजन गायेंगे और संतों की तरह उनके साथ चाय कॉफी पीएंगे और फिर उसके बाद ॅ के साथ जंगली खोलो की तरह टिग्वाॅन । उस पर नौ युग लोगों के साथ गोलियाँ जाते रहेंगे और चिंगारी की तरह गर्म, गर्म और साइडर का सेवन करेंगे । इस क्रिसमस कि प्रत्येक रात एक के बाद एक उधम मचाते रहे हैं और बिल्कुल भी नहीं । तो फिर क्रिसमस के बाद रविवार आया वो खातक दिन उस वर्ष इतनी ज्यादा ठण्ड थी कि उनके लिए गैलरी में बैठना कठिन हो रहा था । हालांकि चर्च के अंदर भक्त जनों के लिए सर्दी को दूर रखने के लिए स्टोर था लेकिन गैलरी में स्थित बाद लोगों के लिए कुछ नहीं था । इसलिए सुबह की प्रार्थना सभा में निकोलस ने जब हर घंटे में सर्दी बढ रही थी वहाँ स्वस्थ अब सुन करने वाले मौसम को बर्दाश्त नहीं कर सकता हूँ । स्टो बहर हमारे अंदर हमें कर्म करने के लिए कुछ होना चाहिए चाहे इसके लिए सम्राट किसी रहते भी क्यों ना मांगने पडते हैं । इसके वह दोपहर में अपने साथ चर्च में तैयार गर्म ब्रांडी और बीयर के मिश्रण के गैलन को ले आया और बोतल को टीमोथी थॉमस के वाइलेंट के बैंक में लपेटकर रख दिया । वो पीने लायक उसमें उन की जरूरत के समय तक गर्म बना रहा जो क्षमादान में मात्र छलने के बराबर था और दूसरा धर्म सार के बाद और बाकी बचा उपदेश के आरंभ पर जब उन्होंने आखिरी खून क्या तो बहुत आराम हो अगर में महसूस की और जब आदेश चल रहा था उनके लिए ये दुर्भाग्य की बात थी कि उस दोपहर वो कुछ ज्यादा ही लम्बा था । उन्हें नींद आ गई । हर आदमी ने उन्हें उठाने की कोशिश की और जहाँ पे चट्टान की तरह गहरी नींद में सोते रहे । उस दोपहर काफी अंधेरा था और उपदेश खत्म होने तक सब चर्च का भीतर हिस्सा दिखाई दे रहा था । जिसमें दो पात्री थी जिनके दोनों प्रवचन मंत्र पर दो नंबर दिया थी और उनका बुझा हुआ चेहरा उनके पीछे था । आखिरकार उपदेश खत्म हुआ और बातें नहीं संध्याकालीन भजन गाने किया लेकिन कोई भी गायन मंडली धुन के साथ ताल मिला पा रही थी और लोगों के कारण जानने के लिए अपना सीवर घुमाना शुरू कर दिया था और फिर ले भी लिपट नाम का लडका जो कैंटीन में बैठा था । टीमोथी वार निकोलस को तो फोन का मारा और कहा अरे शुरू करो अरे क्या निकोलस ने चौंकते हुए चर्च में इतना अंधेरा था और उसका दिमाग इतना चकराया हुआ था कि इसमें सोचा के हुए उस पार्टी में हैं जिसमें उसने पिछले पूरी रात बजाया था और वह दूर गया तथा डेविल ममता टेलर्स की धुन निकालने लगा । उस समय वह हमारे आस पडोस का मन पसंद था । बाकी बैंड जिसकी मनाई स्थिति भी वैसे ही थी और किसी बात पर संशय नहीं था । प्रथा के अनुसार अपनी सारी शक्ति के साथ अपने नेता का अनुसरण किया । वो तब तक अपनी धुन बजाते रहे जब तक कि डॅालर्स के निचले मंत्र गाय की सूत्रों ने भूतों की तरह छत पर लटके जानो को कब का पारा शुरू नहीं कर दिया । फिर निकोलस ने ये देखकर की कोई भी हिल नहीं रहा है, ऐसे चिल्लाया जैसे कि वह खडखडा आता था । मृत्यु में आपने आम निर्देश देने के तरीके से जब लोगों को आकृतियाँ पता नहीं होती थी ऊपर वाले युगल एक दूसरे के हाथ पकड ले । और जब मैं अंत में वाइलिन से चीन चीन की आवाज निकालूंगा तो प्रत्येक पुरुष मिस लटों के नीचे अपने साथ ही का चुंबन लेगा । वो लड कल ले भी इतना डर गया था की कैमरे की सीढियों से नीचे उतारा और घर की ओर बिजली की गति से भागा । जब पात्री ने चर्चा से आती अशुभ धुन को सुना उनके बाल खडे हो गए और ये सोचकर कि गायन मंडली का दिमाग खराब हो गया है । उन्होंने अपने हाथ ऊपर उठाया और कहा रुको रुको यह है क्या? पर उन्होंने अपनी ही धुन के शोर के बीच उनकी आवाज नहीं सुनी और जितना उन्होंने पुकारा उतनी तीव्रता से धुन बजाने लगे । फिर पेलो नीचे सोचते हुए मंच से उतरे और उन्हें ऐसे थोडी तथा से आपका तात्पर्य क्या है? फिर सच्चा हरे बनाने के साथ कतारबद्ध मंच से बाहर निकले । जहाँ घर पर आए अनगिनत सामंत उनकी पत्नियां उनके साथ प्रार्थना कर रही थी और जाकर गैलरी का सामने खडा हो गया तथा ये कहते हुए संगीतकारों की ओर अपने मुठ्ठी हिलाई क्या ॅ थे इमारत में क्या और आखिरकार उन्होंने अपने वादन के दौरान उनकी बात सुनी और रुक गए ऐसी अपमानजनक, वहाँ आशिष बात कभी नहीं हुई । समाचार ने कहा जो आपने जोश को रोक नहीं पाया, कभी नहीं । पात्री ने कहा जो नीचे आकर उसके साथ खडा हो गया था, स्वर्ग के पर या भी हूँ, तब भी नहीं । सच्चाई का वह धूर्त किस्म का व्यक्ति था । हालांकि अब वो सच्चा था, पर कभी वह सामंत की तरफ था, तब भी नहीं अगर स्वर्ग के पर या नीचे धरती पर आ जाएंगे । क्या तुम से कोई भी दुष्ट वाहन फिर से इस चर्च में मेरे परिवार, मेरे मेहमानों और ईश्वर का अपमान करने के लिए कोई धुन बजाएगा, जो तुमने इस दोपहर क्या फिर दुर्भाग्यपूर्ण शर्च का बैंड अपने होश में आया और याद आया कि वे कहाँ थे और निकोलस बोर्डिंग का आना तथा टीमोथी थॉमस ऍफ का अपने बाजू के नीचे, अपने वायलिन के साथ और बेचारी डेनियल फॉरहेड का आपने वाते और शायद बट डाउगल का । अपनी तो ही के साथ गैलरी की सीढियों से खिसकना देखने वाला दृश्य था । सारे हॉस्पिटल से भी छोटे लग रहे थे, फिर वे चले गए । सच आने के बाद पादरी नहीं अवश्य उन्होंने माफ कर दिया होगा, पर साहचर्य कभी नहीं करेगा । उस हफ्ते उसने बैरल बाते मंगवाया । जो पाइस नई भजन कि धोनी निकाल रहा था, वो इतना सटीक था । हालांकि तुम पाप की ओर कितने प्रभावित थे और तुम जब चाहे सिवाय भजन की धुनों के और कुछ नहीं बचा सकते थे । जैसा कि मैंने कहा था बेंच को पलटने के लिए वास्तव में उसके पास एक संभावित व्यक्ति था और पुरानी बात को ने और वादन नहीं किया और निसंदेह मेरी पुराने परिचित वार्षिकी ग्राही मिसेज विंटर जिनके दिमाग में हमेशा कुछ ना कुछ चलता रहता था, अब बढ चुकी है । एक लंबी चुप्पी के बाद घर लौटने वाले ने कहा, लगता था वैन में बैठे किसी भी व्यक्ति को वो नाम याद नहीं था । वहाँ उन्हें मारे तो काफी समय हो गया होगा । जब मैं बहुत छोटा था, उस समय वह सत्तर वर्ष की थी । उसने आगे कहा, अगर और किसी को नहीं तो मुझे मिसेज विंटर अच्छी तरह से याद है । एक वृद्ध पंसारी महिला लगा था । उन्हें मारे कम से कम पच्चीस वर्ष हो गए होंगे । क्या आपको पता है कि उनके दिमाग में क्या चलता था जिसकी वजह से मुझे लगता है कि उनकी आंखों में एक खोखलापन नजर आता था । शायद उसका संबंध उसके बेटे से था । मुझे लगता है कि मुझे एक बार बताया गया था, लेकिन पूरी बात समझते के लिहाज से तब मैं बहुत छोटा था । बीते दिनों को याद करते हुए पंसारी ने ठंडी सांस की था । वो बहुत बताई । उसका संबंध उनके बेटे से ही था । ये देखकर के वैन में बैठे लोग सुनने के मूड में हैं । उसने बोलना शुरू किया । हीटर और पाल्मर अगर पीछे की ओर नजर दौडाएं तो जब मैं बच्ची थी तो उस समय पल्ली में दो महिलाएं थी जो रूपरंग मैं निश्चित रूप से एक दूसरे की प्रतिद्वंदी थी । विस्तार से इस पर बात न करें तो भी इस कारण से वे एक दूसरे की घोषणा होती है और जब उन में से एक दूसरे के प्रेमी को लुभा और जब उनमें से एक ने दूसरे के प्रेमी को लुभाकर उससे शादी कर ली तो दुश्मनी और पड गयी । वो विंटर एक युवा था और उनका एक बेटा हुआ । दूसरी महिला ने कई वर्षों तक शादी नहीं लेकिन जब वो लगभग तीस वर्ष की थी तो पाल माले नामाक एक शांत पुरुष नहीं उससे अपनी पत्नी बनने का आग्रह किया और वो मार नहीं आप कुछ शायद ये जानकर पूरा ना लगे पर पाल मिले । लोगों पंगल के निवासी थे पर मुझे लगता था उसका भी एक बेटा था जो पहले वाली के बेटे से नौ दस साल होता था । बच्चा बहुत ही मंदबुद्धि किस्मत का था लेकिन अपनी माँ की आंखों का तारा था । उस महिला का पति उस समय मर गया जब बच्चा आठ वर्ष का था और वो अपने पीछे अपने विधवा और बेटे को गरीबी में छोड गया । उसके पूर्व प्रतिद्वंदी वो भी अब तक विधवा हो चुकी थी लेकिन संपन्न थी तो उस पर दया करने की खाते उसके बेटे को अपने बेटे चायक जो अब तक सत्रह वर्ष का हो गया था कि छोटे मोटे काम करने के लिए रखने को तैयार हो गयी । उसकी गाडी पडोसन के पास अपने बच्चे को वहाँ भेजने के सिवाय और कोई विकल्प नहीं था । और फिर आमिर औरत के घर में नंदा पाल मले चला गया । हालांकि किसी ना किसी तरह से कैसे इसके बारे में स्पष्ट रूप से ज्ञात नहीं है । संपन्न औरत मिसेस पेंट नहीं उसने अंधे लडके को उसकी इच्छा के विरुद्ध दिसंबर के एक दिन एक संदेश के साथ गांव भेजा । अंधेरा हो चुका था और बच्चे को घर लाॅक लग रहा था इसलिए बच्चे ने प्रार्थना की कि वो उसे न भेजे । पर मालकिन ने जोर दिया, संवेदनहीनता और क्रूरता की वजह से ज्यादा और बच्चा चला गया । वापस लौट के समय उसे थोल बडी जंगल से गुजरना पडा और कुछ चीज पेड के पीछे से आई और लडका डर के मारे कांपने लगा । लडके पर उसका काफी बुरा प्रभाव पडा था । वो एक बकवास करने वाला मुल्क बन गया और इसके बाद चलती है उसकी मृत्यु हो गई । फिर उस दूसरी औरत के पास जीने के लिए कुछ नहीं बचा था और उसने प्रतिद्वंदी से बदला लेने की शपथ जिसने पहले उसके प्रेमी को उससे छीन लिया और अब उसके शोक का कारण बढ गई थी या आखिरी दुख निश्चित रूप से उसकी संपन्नता के भुगतान से नहीं छोडा था । हालांकि ये देखा गया कि जब ऐसा हो गया वो थोडी चिंतित देखी । बेकरी मिसेज पाल्मा लेने चाहे जैसे भी प्रतिशोध लेने की बात सोची हूँ, उसके निष्पादन का उसके पास कोई अवसर नहीं था और आपने एकाकी जीवन को खींचते हुए उसकी कल्पित गलतियों को भूलने के समय ने शायद उसकी भावनाओं को कोमल बना दिया हूँ । इसलिए मामला तब उठा जब बच्चे के मृत्यु के एक वर्ष बाद मैसेज पाल मलिक की भतीजी जिसका जन्म और पालन पोषण एक्सॅन बारे में हुआ था, उसके साथ रहने आई वो युवती ऍम वाले एक अभिमानी वसुंधर लडकी थी । उसका पालन पोषण बहुत अच्छी तरह से हुआ था । हमारे गांव के लोगों की तुलना में वो कहीं अधिक स्मार्ड और भत्र थी । वो जहाँ से आई थी उसको देखते हुए बहुत स्वाभाविक । वो स्वयं को मिसेज विंटर और उनके बेटे से कहीं अधिक बेहतर समझती थी जैसे की मिसेज विंटर और उनका बेटा स्वयं को बेचा दी मिसेज पाल्मस से कहीं अधिक बेहतर समझते थे । लेकिन प्यार एक अनौपचारिक चीज हैं । पर्चा है दुनिया जो हो पर उस युवा चैट विंटर ने जैसे ही फॅमिली को देखा वो पागलों की तरह उसके प्यार में टूट गया । वो उस की अपेक्षा कहीं अधिक शिक्षित थी और गांव वालों की इस धारणा की उसके बुआ से उसकी माँ कहीं ज्यादा श्रेष्ठ है की परवाह नहीं करते हुए उसने उसे ज्यादा अहमियत नहीं थी । पाॅर्न दाल कोई बहुत बडी दुनिया तो नहीं थी इसलिए वहाँ रहते हुए उनका एक दूसरे से मिलना संभव ही नहीं था । और अवज्ञापूर्ण वो युवती जैसे कि वो थी लगता था कि उसके प्रति आकर्षित होने में आनंद आ रहा है ।

थॉमस हार्डी की लोकप्रिय कहानियाँ - Part 12

एक दिन चलते दोनों एक साथ सही बच्चन रहे थे तो उसने उससे शादी करने के लिए कहा । उसे इतनी जल्दी ऐसा कुछ हो जाने की उम्मीद नहीं थी । उसने उससे अधूरा फायदा क्या? किसी भी कीमत पर उसने पूरी तरह से उसे इनकार नहीं किया और उसने जो बाहर दिए उन्हें ले लिया । लेकिन उसने देखा कि वो उसे किसी ऐसे युवा जिसका आदर किया जाए के बजाय एक सरल से गांव के लडके की तरह देखती है और उसे लगा कि उसे अपना बनाने के लिए उससे कुछ बडा काम करना होगा । इसलिए उसने एक दिन का था । मैं एक बेहतर नौकरी पाने के लिए यहाँ से जा रहा हूँ । दो तीन हफ्ते बाद उसने उससे विदा ली और एक फॉर्म का निरीक्षण करने के लिए मांग दस बारी चला गया । वो चाहता था कि वो स्वयं किसान की तरह काम की शुरुआत करेंगे । वहाँ से वो नियमित रूप से उसे पत्र लिखता । मान उनका विवाह तो होकर ही रहेगा । ऍम उस व्यक्ति के उपहार और उसकी आंखों में अपने प्रति प्रशंसा को पसंद करते थे । लेकिन पत्र उसे ज्यादा लुभा नहीं रहे थे । उसकी माँ एक स्कूल की है । डाॅट में लिखने की स्वाभाविक योग्यता के अलावा उन देखो जब आज की तरह लिखना इतनी आम बात नहीं थी और जब वास्तविक हस्तलेखन को अपने आप में पूर्ण माना जाता था, प्रेमपत्रों के रूप में चैक विंटर अधिकारियों ने उसके शहर में और उसके उस कृष्ट पसंद एक हाल चलना चाहती थी और जब अपनी बहुत ही सुंदर लिखाई में, जिस पर उसे गर्व था, उनमें से एक पत्र का उत्तर दिया तो उससे बहुत कठोरता से और अखंडता से उसे आदेश दिया कि अगर वो उसे खुश करना चाहता है तो अपने लेखन और बरतने की किताब से अभ्यास करेगी । उसने उसके प्रार्थना सोने की नहीं, कोई नहीं जानता पर उसके पत्रों में सुधार नहीं हुआ । वो अपने ही अस्तव्यस्त ढंग में उसे कहता रहा कि अगर उसके हिरदय में उसके प्रति प्यार है तो उसे इसकी लिखाई वह वर्तनी के बारे में चिंता नहीं करनी चाहिए जो वास्तव में काफी सही भी था । जब की अनुपस्थिति में हैरियट के दिल में जो एक मंदिर लौट चल रही थी वो जल्दी ही बहुत धीमी हो गई और आखिर का फिर कुछ भी गई तो उसे लगातार पत्र लिखता रहा और प्रार्थना करता रहा कि आपने ठंडेपन का कारण तो वो उसे बताए और फिर उसमे अस्पष्ट रूप से उसे बता दिया कि वह शहर में पैदा हुई है और वो उसे खुश करने के लिए पर्याप्त रूप से शिक्षित नहीं है । जैंग विंटर लिखने के प्रशिक्षण नहीं, उसे दूसरों से किसी भी तरह से कम संवेदनशील नहीं बनाया वस्तु था । वो अत्यंत कोमल और किसी भी चीज के बारे में अत्यंत संवेदनशील था । जो कारण उसने अंततः दिया, उसमें से दो वर्ष शराब में डूबो दिया और उसे इतना अपमानित किया जिसके बारे में आज के समय में बताया तक नहीं जा सकता । और सिन सुंदर शब्दों के साथ लिखने में सक्षम होने और ऐसा न कर पाने का दुख बहुत ज्यादा बढ रहा था । फॅसने बहुत गुस्से के साथ उसे जवाब दिया । और फिर उसने ये कहते हुए कि कैसे उसने अपने आखिरी पत्र में कितने शब्द लिखे थे और ये घोषणा करते हुए कि उसके साथ किसी भी रिश्ते को खत्म करने को यही एकमात्र पर्याप्त स्पष्टीकरण है, बहुत होशियारी से उस पर वार दिया । एक बेहतर विद्वान उसके पति को होना चाहिए । उसने उसकी अस्वीकृति को चुपचाप सहन, जहाँ पर उसका दुख बहुत गहरा था । इतना गहरा की बताया नहीं जा सकता । फिर उसने जैक के साथ कोई पत्रव्यवहार नहीं किया और चुकी उनका बाहरी दुनिया में जाने का कारण उसे उसके लायक घर प्रदान करना था । अब उसे खोने के बाद उसके पास घर जैसे किसी वस्तु की कोई योजना बाकी नहीं रह गई थी । इस प्रकार उसने खेती के व्यवसाय को छोड दिया जिसके द्वारा उसने स्वयं को एक बडा किसान बनाने की आशा की थी और अपनी माँ के पास वापस जाने के लिए उस जगह को छोडकर चला गया जैसे वो लौंग पटल पहुंचा । उसने पाया कि हैरियट पहले ही से किसी प्रेमी को ढूंढ चुकी है । वो एक युवा सडक ठेकेदार था और चेक को ये मानना ही पडा के उसका प्रतिद्वंदी आचरन और विद्वता दोनों में उससे कहीं श्रेष्ठ है । वस्तुतः वह उस सुंदरी के लिए ज्यादा समझदार साथ ही था जो इस गांव में अचानक ही आ गई थी और इसे मुश्किल से ही ऐसा पुरुष मिल पाता जो अपने अनिश्चित भविष्य और दुनिया के साथ भिडने की अपनी कमतर क्षमताओं के साथ जैक से कहीं ज्यादा बेहतर मौका उसे दे सकता था । वास्तविकता उसके सामने थी कि उसे दोस्त देना प्रकार है । एक दिन संयोगवश शॅार्ट के नए प्रेमी की दिखाई एक कागज के टुकडे पर देंगे । वो झरने की तरह रह रही थी । सही वर्तनी के सात को ऐसे आदमी का काम था जो सियाही की बोतल और डिक्शनरी का अभ्यस्त था । ऐसा व्यक्ति जिसे पल्ली में लोग अच्छा विद्वान मान चुके थे और फिर अचानक चैक के दिमाग में आया कि उसने अपने खराब पुराने पत्रों से इस युवक के पत्र कितने भी है और उसके पत्र उसके लिखी पंक्तियों को कितना बेकार दिखाते होंगे । तो कराहा और उसने कामना कि काश उसने उसे पत्र लिखते होते और सोचता की क्या कभी उसने उसके उन बेकार पत्रों को संजो कर रखा होगा? संभावना उसने रखा हो क्योंकि औरतों को ऐसा करने की आदत होती है । उस ने सोचा और जब भी वे उसके हाथ में होते होंगे तो संभव है उसके ईमानदार वह बेवकूफी भरे, उसे दिए प्यार के आश्वासनों का ऍफ अपने वर्तमान प्रेमी के साथ मिलकर मजाक उडाती हो या कोई और मजाक उडाता हूँ जिसके हाथ में संयोगवश लग जाते हूँ । घबराया वहाॅं रहने वाला वो युवक टेस्ट विचार से उत्तेजित हो गया और आखिरकार उसने उन्हें उससे वापस मांगने का निश्चय किया क्योंकि वो उचित था क्योंकि सगाई टूट चुकी थी । उसने काफी समय उस संक्षिप्त नोट को लिखने और ठीक करने में बिता दिया जिसमें उसने निवेदन किया था और उसे लिखने के बाद उसने उसे उसके घर भेज दिया । उसका संदेशवाहक उत्तर के साथ वापस आ गया तो लिखित रूप में नहीं था । बल्कि उसने कहा कि मैं पाल वाले ने बोला है कि जो उसका है वो उसे नहीं देखी और उसे परेशान करने के निर्भिकता पर आश्चर्य प्रकट गया । चैट ने इस बात से और अपमानित महसूस किया और स्वयं जाकर उन पत्रों को लेने का निश्चय किया । उसने ऐसा समय चुना जब उसे पता था कि वह घर में होगी । उसने दरवाजा खटखटाया और बिना प्रतीक्षा की अंदर चला गया । हालांकि हैरियट इतनी अहंकारी थी पर जैकेट के मन में उसकी फॅमिली के प्रति थोडा बहुत सम्मान था जिनका नाम ना बच्चा आरंभिक दिनों में उसके जूते साफ किया करता था । हैरियेट कमरे में थी जब उसके द्वारा छोड दिए जाने के बाद से पहली बार उससे मिल रहा था । उसने उसकी ओर एक कठोर दृष्टि डालते हुए अपने पत्र वापस मांगे । पहले तो उसने कहा कि वह सारे वापस ले सकता है क्योंकि उसे उन से कोई मतलब नहीं है । ऑल आंध्र और अलमीरा में से जहाँ उसने उन्हें रखा हुआ था, बाहर निकाल दिए । फिर उसने एक पैकेट के बाहर नजर डाली । और अचानक अपना विचार बदलते हुए उसमें उन पत्रों को अपनी आंटी की सुई दाने के संदूक में रख दिया जो मेज पर खुला रखा था और बंद करते हुए परिहास उडाती हुई । हासिल के साथ बोली तो उसने अवश्य सोचा था कि उन्हें रखना ही ठीक होगा क्योंकि वे इस बात का प्रमाण देने में उपयोगी साबित होंगे कि उसने अच्छी वजह से शादी करने के लिए मना किया था । वो गुस्से से तमतमा था । मुझे ये पत्र तो मेरे हैं नहीं है, तुम्हारे नहीं है, ये मेरे हैं । उसने जवाब दिया चाहे वो जिसके हूँ मुझे वापस चाहिए । वो बोला मैं अपनी लेखन शैली की वजह से अपनी हंसी नहीं करवाना चाहता हूँ । तुम्हारे पास एक अन्य युवा पुरुष है, उसके साथ तुम्हारा विश्वास है और तुम अपने सारे किस्से उसे सुनाती हो तो मैंने भी उसे दिखा होगी । शायद फॅसने बहुत ठंड अपन से उत्तर दिया बिल्कुल फिर दयाहीन इस तरह की तरह जैसी की वो थी । उसके व्यवहार ने उनसे इतना पागल कर दिया कि वह संतू की ओर पढा और उस ने उस पर झपट्टा मारा हूँ । अलमारी में बंद कर दिया और उसकी और मोडते हुए विजय भाव से देखा । एक्शन के लिए लगा कि वो उसके हाथ से अलमारी की चाबी छीन लेगा पर उसने स्वयं को रोका और तेजी से घुमा और वहाँ से चला गया । जब हूँ वहाँ से निकला तो रात होने वाली थी । वो बैठानी से चलने लगा और उसके द्वारा हर तरह से परास्त होने के खयाल से वो पूरी तरह से प्रथित हो रहा था । वो अपने आप को ये कल्पना करने से नहीं रोक पाया की वो अपने नए प्रेमी यातनाएं परिचितों तो इस घटना के बारे में पता नहीं और उसकी उन टेढी मेढी खराब पंथियों पर प्रस्तावक के साथ हस रही है जिन्हें प्राप्त करने के लिए वो इतना चिंतित था । रात होते होते उसने ये संकल्प कर लिया की चाहे किसी भी कीमत पर हो वो उन्हें वापस लेकर ही रहेगा । अंधेरी रात में वो अपनी माँ के घर के पिछले दरवाजे से बाहर आया और बगीचे की बाढ से निकलता हुआ सात लगे खेत में तब तक चलता रहा जब तक उसकी आंटी के घर के पिछवाडे में नहीं पहुंच गया । चंद की चमकता रोशनी सीधे दीवारों पर पड रही थी और लताओं कि प्रत्येक व्यक्ति पत्ती किरणों में छोटे छोटे शीर्षों की तरह लग रही थी । लंबे समय से वहाँ की जानकारी होने के कारण जैक मिसाइज पॉल मिले और उसकी माँ की प्रत्येक चीज कहाँ रखती है और कैसे रखी है इसके बारे में जानता था । पिछले खिरकी जिसके नजदीक वो खडा था नंदी चौक ओरों के साथ एक फर्म मेदार खेती जैसे कि वो आज भी है । एक तो बाल बैठक को रोशनी कर रहे थे, दूसरी जो आगे थी उसका शटर गिरा हुआ था लेकिन उसके पीछे एक भी पैसा नहीं था और चारों तरफ चमकती चांदी । वहाँ से फर्नीचर थी । एक एक वस्तु को दिखा रही थी । कमरे के दायां तरफ अलाउ था । जैसा कि आपको याद हो उस समय बाई तरफ को अलमीरा थी । अलमारी के अन्दर हैरियट का सुविधां संदूक के अंदर पत्र थे । उसने एक छोटा सच्चा को निकाला और बिना आवाज के एक खिडकी का बल्ला उठा दिया ताकि वह शीशी बाहर निकाल सके और छह के अंदर से अपना हाथ अंडा डालते हुए उसने खिडकी को खोला । उसमें से अंदर खूब गया पूरा घर यानी की मिसेज पाल, माॅक और नौकरानी सब सो रहे थे । जैक सीधे अलमारी की ओर गया की उम्मीद करते हुए कि उसे शायद दोबारा खोला गया, उसे ऐसे साधारण जगह न रखा गया हूँ । पर हैरियट ने जब से उसके अंदर उन पत्रों को रखा दोबारा उसे खोला नहीं था । देखने बाद में बताया कि कैसे उसने सोचा कि वो हो रही होगी और कैसे उसने उसका और उसके पत्रों का मजाक उडाया था और अब यहाँ तक आने के बाद उसे रुकता नहीं था । अलमारी के पालने के अन्दर आपने चाकू की लंबीधार को खुल जाते हुए उसने कमजोर साले को तोड दिया । उसके अंदर वो रोज वोट का संदूक था जिसे उसने जल्दबाजी में उससे छिपाने के लिए उसमें रखा था । उस समय उसमें से पत्रों को निकालने का समय नहीं था । इसके लिए उसने उसे अपनी बगल में दबाया, अलमारी को बंद किया और खिडकी को बंद करते हैं तथा शीशे को उसकी जगह पर लगाते हुए घर से बाहर निकल गया । विंटर जैसे अपनी माँ के घर से आया था, उसी रास्ते से वापस चला गया और बहुत ज्यादा था का होने से ऊपर जाकर उसने सांदू को छिपा दिया । ये सोच कर के बाद में पत्रों को नष्ट कर देगा ऑफ हो गया । अगली सुबह उसने सबसे पहले ये काम करना आरंभ किया और अपनी माँ के घर के पीछे बने छप्पर में संदूक खोल ले गया । वहाँ चूल्हे के आगे उसने संदूक को खोला और एक एक करके उन पत्रों को चलाने लगा जिसके लिखने में उसे इतनी मेहनत लगी और इतना अपमान सहना पडा था । वो पत्र को जलाने के बाद संदूक को बिना चाहते के खोलने से हुई । थोडे से नुकसान की मरम्मत करने के बाद वो एक नोट के साथ उसे ॅ को लौटाना चाहता था । आखिरी नोट जो उसे उसकी तरफ से मिलेगा जिसमें उसने विजयी भाव से लिखा होगा की जो उसने मांगा था उसे लौटाने से इनकार करके उसने अपनी सडक पर उसके निवेदन उसने बहुत अधिक निश्चितता के साथ नाप तौल कर कर ली थी । पर संदूक से आखिरी पत्र निकालने पर उसे एक आधा हाथ लगा क्योंकि उसके नीचे एक दम पहले पर धन रखा था । अनगिनत सोने की किंडिया निश्चित रूप से हैरियेट का जेब खर्च होगा । उसमें स्वयं से कहा हालांकि वो उसका नहीं था बल्कि मिसेस पाल वाले का था । इस खोज पर वो अपने संशय से बाहर निकलता । उससे पहले उसने घर के गलियारे की तरफ से आर्थिक कदमों की आहट सुनी । जल्दबाजी में उसने संधू और जो भी उसके अंदर था उसे किसी झाड झंखाड के नीचे जो छप्पन में निहित थे, धकेल दिया । पर चेक को देख लिया गया था । दो कॉन्स्टेबल वहाँ आए और जब वो अ लाओ के पास रुका हुआ था तो उसे पकड लिया गया । साथ ही उस संदूक और उसमें रखे सामान को भी कबसे में ले लिया गया । वो पिछले रात को मैसेज पाल वाले के घर में घुसने के जुर्म आ में उसे गिरफ्तार करने आए थे । इससे पहले की चाय के समझ पाता तो उसके साथ क्या हुआ है । मैं उसे उस काल में से लेकर चलने लगे जो अपनी शुल्क फाटक सडक के साथ गांव के अंतिम छोड को जो होती थी और वह वहीं से चलते चलते कैस्टर फ्रीज जेल तक पहुंच गए । चैक के कार्य को रात में की गई चोरी माना गया जब तभी उसने ऐसा कभी सोचा नहीं था और उन तीनों में चोरी महापाप रात मृत्युदंड अपना जब मिसेज पाल मलिक के पीछे वाली खिडकी से वापस आ रहा था तब चालने से चमक दीवार पर किसी ने उसकी आकृति देखी थी और उसके पास संदूकों धन मिला था । जबकि अलमीरा का टूटा हुआ ताला और दोबारा लगाया खिडकी का शीशा पारिस्थितिक प्रमाण के लिए पर्याप्त थी । चाहे उसका ये विरोध की वो सिर्फ पत्र लेने गया था जिससे वो मानता था कि उन्हें न लौटाया जाना था । अगर वे अन्य प्रमाणों द्वारा वो प्राप्त कर सकता था जिनके बारे में मुझे नहीं पता । लेकिन एक व्यक्ति जिसे साबित कर सकता था बहुत ही हैॅ और उसने पूरी तरह से जो उसकी आंटी ने कहा वही क्या उसकी आंटी जैक विंटर के एकदम विरूद्ध थी? मैसेज कॉल वाले का समय आ गया था वो वो सौरभ से प्रतिशोध ले रही थी जिसने पहले उनके प्रेमी को छीन लिया था और फिर उन्हें उनके दिल के खजाने उनके नन्ने बच्चे को छीनकर उन्हें बर्बाद और सुनता नहीं बना दिया था । जब नया सत्र का हस्ता आया और जैक को अपने मुकदमे में पेश होना पडा तब हैरियट उस मुकदमे में एक बार भी नहीं आई जिसने मिसेज पाल्मा लेके चोरी के आम तथ्यों को जांचने में अपना समय लिया । अगर जैक ने अपील की होती तो हैरियट उसकी मदद के लिए आती की नहीं । ये नहीं पता सम्भवता उसने ऐसा गया वर्ष कर दिया होता । लेकिन ऐसी लडकी से किसी भी तरह का एहसान लेने के लिए तैयार नहीं था जिसने उसे छोड दिया था और उसने उससे कुछ नहीं कहा । मुकदमा ज्यादा लंबा नहीं चला और उसे मृत्युदंड सुना दिया गया । युवा जैक की फांसी का बिल मार्च का एक ठंडा धूल पता शनिवार था । वो इतना बालसुलभ और छरहरा था की जेल में रखी सबसे भारी बेडी में उसे फांसी देने की करुणा दिखाते हुए उसे इस बात के लिए कृतार्थ किया ताकि उसका भार उसकी गर्दन को ना हो गई । उसमें स्वयं को घसीट तक नहीं पा रहा था । उस समय में सरकार जेल के आहाते में ही फांसी दिए व्यक्ति के शव को दफनाने को लेकर उतनी कठोर नहीं थी और उसकी लाचार मांग की प्रार्थना पर उसके शरीर को घर लाने की इजाजत दे देंगे । उनके आगमन के लिए उनके घर के दरवाजे पर सारा आप बल्ली इंतजार कर रहा है । कुछ याद है कि कैसे एक छोटी बच्ची के रूप में मैं अपनी माँ के बगल में खडी थी । लगभग आठ बजे जब हम दरवाजे के पास ठंडी चमकता तारों की रोशनी में खडे थे, अमेल शुल्क फाटक के दिशा से एक बैगन के हल्के से चर्चा रहने की आवाज सुनाई थी । फिर जब मैंने खाली ज्यादा में घुस गए तो आवाज गायब हो गई । फिर हूँ फिर से अब अगली लम्बे ढल की ओर पढी तो फिर सब शांत हो गया और तब उसने लांग पटल में प्रवेश किया । ताबूत को रात के लिए घंटा घर में रखा गया और अगले दिन रविवार को प्रार्थना के बीच हमने उसे दफना दिया । उसे दोपहर एक शोक में उपदेश दिया गया । जो इस तरह था वो अपनी माँ का एकलौता बेटा था और वो एक विधवा थी । था । बहुत क्यूट समय था । जहाँ तक हैरियट की बात है तो कुछ समय बाद वो और उसके प्रेमी ने शादी कर रही है । लेकिन किसी भी तरह से उसका जीवन प्रसन्नता से भरा नहीं था । वो और उसके अच्छे पुरुष को लगा कि जैक के दुर्भाग्य के साथ संबंध होने के कारण वे लौंग पटल में एक आरामदायक जिंदगी नहीं जा सकते हैं । वे टूर के देश में जाकर बस गए और हमने फिर उनके बारे में कुछ नहीं सुना । फॅमिली को लगा कि उनके साथ जाकर रहना ठीक है । काली आंखों वाली दुबली पतली पुणे मिसेज डॉक्टर को यहाँ का प्रवासी सज्जन पुरुष याद करता है । जैसा कि आपने इस कहानी को मिसेज विंटर के बारे में पहले से ही अनुमान लगाया गया था और मैं कहूँगी कि आप सोचेंगे कि वो कितनी एक आती थी । बच्चे उनसे कितना डरते थे और उन्होंने हमारे बीच में स्वयं को आज नबी बनाए रखा । हालांकि बोल लंबे समय तक जीवित रही । बॅाल के सुखद अनुभव के साथ दुखभरे अनुभव भी हैं । लैंड ने कहा, हाँ पर शुक्र है कि पैसे बहुत सारे नहीं थी । हालांकि अच्छा और बुरा हमारे बीच ही रहता है । एक चौथी ग्रुप खेलते थे । वो कुछ नीच किस्म के थे जैसे कि इसकी वजह भी मुझे पता है । रजिस्ट्रार ने ऐसे व्यक्ति की तरह कहा जो अपनी बात मनवाना चाहता हूँ । मैं सुना करता था कि स्कूल में एक बच्चे की तरह वो कैसे थे । फिर उन्होंने सुनाना शुरू कर दिया । निश्चित रूप से वो फांसी देने के मामले जितना लंबा नहीं खिंचा । पर ठंड आवश्यकता रास्ता से वो पाल बाल बच गए । एक बार तो वो ठग को पकडने का मामला था ।

थॉमस हार्डी की लोकप्रिय कहानियाँ - Part 13

मिस्टर चार्ज खेल के जीवन में घटना एक दिन रजिस्ट्रार ने अपनी बात चाहते रखते हुए कहा चार्ज फॅमिली से मार गेलटू पर मैनचेस्टर के बाहर टहल रहा था । मिला तभी खत्म हुआ था जब उसने अपने सामने सुदर्शन युवा किसान को उसे दिशा में इस साइड से बाहर खोले । पर चाहते देखा तो एक अच्छे ताकतवर ओवर सुंदर जानवर परसवार था जिसका मूल्य पचास कम से कम नहीं आंका जा सकता है । जब वे ऊपर की ओर दस से खेल की तरफ जा रहे थे । जांची ने उस युवा किसान से आगे निकलने को जैसा अपना एक काम ही बना लिया । एक दूसरे से बात करते हुए इस समय को साथ रहे थे । चौथी ने सडकों की स्थिति के बारे में चर्चा की और बहुत ही मित्रवर ढंग से बातचीत करते हुए उस पर जा खुद सवार के साथ साथ मंथर गति से चलने लगा । शुरू में किसान चौदह से ज्यादा बातचीत करने को इच्छुक नहीं था पर धीरे धीरे वो भी काफी मिला । अनुसार हो गया । उतना ही मित्रवत जितना चौथी उसके प्रति था । उसने तो खेल को बताया कि वह मेले में व्यापार कर रहा था और उस रात वो शॉर्ट्स, फोर्टी फोर हो तो अवश्य जाएगा । ताकि अगले दिन तक वह कैस्टर ब्रिज बाजार पहुंच सके । जब छोटी एक्स सराय पर पहुंचे वे आपने खोलों को चारा खिलाने के लिए वहाँ होते हैं और एक साथ शराब पीने पर सहमत हो गए । इससे उनका व्यवहार एक दूसरे के प्रति और भी मित्रवत हो गया और फिर वे आगे बढ गए । लेकिन इससे पहले कि वे शॉट्स फोर्ड फोरम पहुंचते हैं, बारिश शुरू हो गई । अब जब वे ऍम के पास से गुजर रहे थे और बहुत अंधेरा हो रहा था । चौथी ने युवा किसान से आगरा किया कि वहाँ और आगे न जाए क्योंकि बारिश से ठंड बहुत पड जाएगी । उस ने सुना था की यहाँ की छोटी सी सराय बहुत ही सुविधाजनक है और वो यहाँ अपना चाहता है । आखिरकार युवा किसान भी वहाँ रुकने को तैयार हो गया । वे घोडे से उतरकर अंदर गए और उन्होंने एक साथ बेहतरीन खाना खाया । उन्होंने अपने प्रेम प्रसंगों के बारे में उन पुरुषों की तरह बात की जो बरसों से एक दूसरे को जानते एवं विश्वास करते हूँ । जब सोने का समय हुआ तो वे ऊपर दो बिस्तरों वाले शयन कक्ष में गए जिससे जॉर्जी ने मकान मालिक से कहा था कि वो उन दोनों को देते ताकि वे साथ साथ रह सके । अब तक उनमें इतने मित्रता हो गई थी । सोने से पहले कमरे कभी किसी चीज के बारे में तो कभी किसी चीज के बारे में बात करते रहे हैं । और फिर बातचीत छद्मवेष धारण करने और किसी विशेष कार्य के लिए कपडे बदलने की ओर मुड गई । किसान ने जॉर्जी को बताया कि उसने ऐसा करने वाले लोगों के बारे में बहुत किस्से सुने हैं लेकिन ग्रुप खेलने दिखाया कि वो ऐसी सारी युक्तियों से अनजान है । फिर जल्दी ही युवा किसान गहरी नींद में हो गया । अगली सुबह जब युवा किसान तब भी सो रहा था मैं कहा नहीं वैसे ही सुनाऊंगा जैसे कि मुझे बताई गई है । ईमानदार चौथी चुप चाप अपने पलंग से उठा और किसान के कपडे पहले उन कपडों की जेब में किसान के पैसे थे । अब हालांकि जॉर्जी को विशेष तौर पर किसान के बढिया कपडे और बढिया खोना चाहिए था और मेले में हुए थोडे से लेन देन की वजह से जिसने ये वांछनीय बना दिया था कि उसे आसानी से पहचाना नहीं जाएगा । उसके इच्छाओं की अपनी सीमाएं थी । वो अपने युवा मित्र का धन नहीं लेना चाहता था और इसलिए अपने बिल का भुगतान करने की जितने पैसे की जरूरत थी वो उस से ले लेंगे । फिर पर्स को उसने शयन कक्ष की मेज पर रख दिया और नीचे चला गया । सराय के लोगों ने अपने ग्राहकों के चेहरों को बहुत गौर से नहीं देखा था और जो एक दो लोग झुके हुए थे उन्होंने यही समझा की जॉब ही किसान है इसलिए जब उसने बहुत खुले हाथों से बिल का भुगतान किया और कहा कि वह जा रहा है किसान के घोडे पर उसके सवार होने पर किसी तरह की आपत्ति नहीं की गयी । वो उस पर सवार होकर ऐसे चला गया । मानव वो उसका ही थोडा हो आधे घंटे बाद जबकि स्थान जाऊँगा और कमरे के चारों ओर देखा तो पाया कि उसका मित्र जॉर्जी उन कपडों को पहनकर जा चुका है जो उसके नहीं थे और उसके लिए कृपाकर अपने द्वारा पहले पुराने चिथडे कपडों को छोड गया है । ये देख कर शोर मचाने की जल्दबाजी करने के बजाय वो बैठकर सोचने लगा पैसा पैसा चला गया । उसने स्वयं से कहा की पूरी बात है लेकिन कपडे भी चले गए । फिर उसने मेरी तरफ देखा और उस पैसे की तरफ देखा । उसमें अधिकांश पैसा वही था हूँ । वो चिल्लाया और कमरे में नाश्ता शुरू कर दिया था उसमें फिर कहाँ सीसे के आके और बॉम्बे के वक्त इदान के सामने खडे हो कर मुस्कुराने लगा और फिर पूरी दुनिया के लिए इस तरह अपनी बाहें फैला दिन मानव तलवार चलाने का अभ्यास कर रहा हूँ । चौथी के कपडे पहनकर जब वो नीचे गया तो उसे ये देखकर बिल्कुल भी बुरा नहीं लगा कि उन लोगों ने उसे दूसरा व्यक्ति समझा और यहाँ तक कि जब उसने ये देखा कि अच्छे घोडे के बदले उसके लिए एक मरियल खोडा छोड गया । उसके चिल्लाने की इच्छा नहीं । उन्होंने उसे बताया कि उसके मित्र ने बिल का भुगतान कर दिया है जिसे सुन उसे बडी खुशी हुई और नाश्ते का इंतजार किए बिना तो जॉर्जी के खोले पर सवार हो गया और उसी तरफ चला गया । बिना ये जाने की जॉब जी ने भी उपमार्ग चुना है । उसने भी मुख्य सडक के बजाय नजदीकी उपमार्ग से जाना पसंद किया । चौंतीस तो खेल के निजी चरित्र में अभी दो मिल से ज्यादा दूर नहीं गया होगा जब अचानक एक मोड से घूमते हुए जो वहाँ गाली ने बना दिया था उसने एक व्यक्ति को देखा जो गांव के दो कांस्टेबलों से स्वयं को छुडाने की कोशिश कर रहा था वो उसका मित्र उँची था जिसमें उसके कपडे व खोडाल गया था । लेकिन अब चीजें लेने के लिए आगे बढने की तत्परता दिखाने की युवा किसान ने कोई इच्छा नहीं और वो चाहता तो उस मरियल घोडे को पांच के जंगल की ओर मोड सकता था । कोई सहायता करो, कॉन्स्टेबल चिल्लाये सम्राट के नाम पर कोई सहायता करो । किसान कुछ नहीं कर सकता था पर वो आगे की ओर पढा क्या बात है उसने जितना धैर्य से संभव था पूछा भगोडा है भगोडा वो बोले वो जिस पर सैन्य न्यायालय में मुकदमा चला था और बिना संधि वार्ता के रखा गया था । ये कुछ दिनों पहले छह टोटेनहेम में सिपाहियों की कैद से भाग निकला था और इसका पता लग गया था । पर घूमने निकले टुकडी को ये कहीं नहीं मिला और हमें निर्देश दिए गए हैं कि ये हमें जहाँ भी मिले हम इसे तुरंत सौंपें । जस्टिन ये बैरक से भागा था । उसके अगले दिन दस बदमास के मुलाकात एक प्रतिष्ठित किसान से हुई । इस ने उसे एक सराय में शराब पिलाई और उससे कहा कि एक अच्छा सैनिक बनने के गोलू उसमें हैं और उसे कपडे बदलने के लिए मना लिया और देखो वो कैसे एक सैनिक की वर्दी उसकी हो गई । सरल किसान ने ये किया जब हमारे भगोडे ने कहा कि मजाक के लिए वह कमरा छोडकर मकानमालकिन के पास ये देखने के लिए जाएगा की क्या उसे उन रेस में वो पहचान पाएगी तो फिर वापस नहीं आया और किसान चालीस नहीं स्वयं को सैनिक के कपडों में पाया उसकी जेब में रखे पैसे भी नहीं थे और जब वो अस्तबल में गया तो वहाँ उसका घोडा भी नहीं था । हाँ जी के कपडे पहने व्यक्ति लेगा पाॅलिश और क्या ये वही नीचे चांदी की ओर संकेत करते हुए नहीं नहीं । सायली के भगोडे पन के इस मामले में बच्चे की तरह मासूमियत से जॉर्जेट चिल्लाया यह व्यक्ति है जिसने किसान चालीस के कपडे पहने हुए हैं और ये मेरे साथ एक ही कमरे में सोया था और कपडे बदलने की बात उठाई थी जिसने मेरे दिमाग में उसके जाने से पहले उसके सूट को पहनने की बात डाली थी । इसने मेरे कपडे पहने हुए हैं । आपने इस दुष्ट बात सुनी लम्बे युवा व्यक्ति ने आप करते हुए कॉन्स्टेबल से का जो सबसे पहला मासूम व्यक्ति दिखा उसी पर आरोप लगाते हुए अपराध से बचने की कोशिश कर रहा है । नहीं सैनिक ऐसा नहीं चलेगा । नहीं नहीं ऐसा नहीं चलेगा । कॉंस्टेबलों ने भी सुर में सुर मिलाया । जब हमने इसे पकड लिया तो ऐसे बात कहने की गुस्ताखी करने की हिम्मत करता हूँ । शुभ रहे हैं कि हमने इसे कडी लगा दी है । हमने ऐसा कर दिया । शुक्र है लम्बे युवा व्यक्ति ने कहा चलो अब मैं चलता हूँ आपके कहने के साथ आपका शुभ हो और वह चला गया । जितनी तेजी से वह मर गए थोडा उसे भगाकर ले जा सकता था । फिर कॉन्स्टेबल जॉर्ज को दोनों तरफ से हथकडी से पकडे और घोडे को खींचते हुए दूसरे दिशा में उस गांव की ओर चल दिए जहाँ भगोडे को वापस लाने के लिए भेजी गई सैनिकों की एक टुकडी से मिलना था । जॉर्ज करा रहा था मुझे कोहली बात ही चाहिए । मुझे गोलीबार थी जाए । वे एक मिल से ज्यादा दूर नहीं गए होंगे जहाँ पे उन्हें मिल गए । अरे सुनो ऍम! हमने तुम्हारे मुस्लिम को पकड लिया है । कॉन्स्टेबल बोला कहाँ दफा? दाद ने कहा यहाँ हमारे बीच ऍम बोलने का केवल इसके वर्दे की वजह से आप इसे पहचान नहीं पा रहे हैं । दफादार ने खोल कर जांची को देखा फिर अपना सिर हिलाया और कहा ये भगोडा नहीं है लेकिन भगोडे ने किसान कॉलेज के कपडे पहन लिया और खोडा ले लिया और इस व्यक्ति के पास हुए हैं तो देख सकते हो ये हमारा मुजरिम नहीं है । सैनिकों ने कहा वो एक लंबा युवक व्यक्ति है जिसके दायरे गाल पर एक दिल है और एक सैन्य आचरन है जो इस व्यक्ति में निश्चित रूप से नहीं है । मैंने पुलिस के दो अफसरों को बताया था कि ये कोई अन्य हैं । चाची ने प्रार्थना की लेकिन उन्होंने मेरी बात पर विश्वास ही नहीं किया और ये स्पष्ट हो गया कि गायब सैनिक वो लंबा युवा किसान था । ना की जॉब ठीक खेल । ऐसा सच जिसके जॉल इसने स्वयं उस समय पुष्टि की थी जब वह स्थल पर पहुंचा था । चुकी जॉब ही ने सिर्फ एक चोर को लूटा था । उसकी सजा बहुत कम थी । अश्वारोही सेना के भगोडे का पता नहीं चल पाया । बचकर निकलने में उसका कपडों को बदलना अत्यंत लाभकारी सिद्ध हुआ । हालांकि वह जॉर्जी के घोडे को कुछ मिल आगे छोड गया था और वह बेचारा पशु साहब की बजाय अवरोध ज्यादा साबित हुआ । प्रतीत हो रहा था कि विदेश से आए व्यक्ति को लांग पड्डल के संदिग्ध पात्रों और उनके अजीब कारनामों के बजाय सामान्य निवासियों और सामान्य घटनाओं में ज्यादा दिलचस्पी हैं । यद्यपि उसके स्थान में साथ ही यात्रियों को बातचीत करने के विषय के रूप में लांग पड्डल ज्यादा दिलचस्पी पैदा कर रहा था । अब उसने पहली बार विपरीत लिंग के युवा लोगों के बारे में पूछा । क्या शायद उनके बारे में जब युवा थे तब अपने स्वदेश को छोडकर गया था? उसके मुख फिर अपने ही बात पर टिके हुए थे कि सामान्य की बजाय असाधारण के बारे में बात करना कहीं ज्यादा उपयुक्त हैं और वह उसे उनके सरल इतिहास पर विचार नहीं करने देगा । जो मात्रा आया और चले गए । उन्होंने पूछा कि क्या उसे नाॅट याद है देखती? ऍम हाँ, मुझे वो याद है । अगर मेरे बचपन की यादों पर भरोसा किया जाए तो मैं यहाँ से गया था कि वह ज्योति आपने अंकल के साथ रहती थी । वो आई थी । वो बहुत ही नीति परख थी । उसमें कोई दोष नहीं था, बल्कि हर तरह से अच्छी थी । आप ने सुना ही होगा कि उसने ऐसे अपने घर की अवधि को पाँच साल गया था । क्या ऐसा नहीं किया था? मिनिस्टर थे, उसने किया था दुनिया से नजर अंदाज हुए पूरे चित्रकार ने कहा उसे बता देंगे । स्टार्ट आपसे बेहतर इसे कोई नहीं कह सकता और आप मेरे से कहीं से बेहतर ढंग से कानूनी पेचों को जानते हैं । डेने माफी मांगी और बोलना शुरू किया निफ्टी सजन के घर की अवधि पर खाना वो झाडियों के पास स्थित अपने घर में अंकल के साथ रहती थी तो जो एक लंबी चुस्त दुरुस्त युवती थी उस समय की उसके काले बाल और प्रगतियां थे हैं कितने अच्छे से याद है और जब वो किसी को चिढाती थी तो अपने मुंह को धूर्तता से कसना जब छोटे छोटे फ्रॉक पहना करती थी तभी से और के उसके पीछे पडने लगे थे । और फिर एक युवक से वो मिलने जुलने लगी जैसे शायद आप नहीं जानते । उसका नाम था जांच पर क्या? और जब भी उसे अच्छा इंसान बन जाता है लेकिन उसने उसे इतना आकर्षित कर लिया कि गैस पर के अलावा उसे कोई पसंद ही नहीं आता था तो एक स्वार्थ एक राहत था जो हमेशा यही सोचता था कि जो से करना है उसे कम से कम करें और जो कुछ कर रहा है उसका लाभ बहुत ज्यादा हो । बेशक जैस्पर की आंखें नाइंटी पर टिकी हुई थी, पर उसका दिमाग उसके अंकल के घर पर हटता हुआ था । हालांकि मैं मानता हूँ कि वो उसे पसंद करता था । ये घर उसके पर ज्यादा के पिता ने बनवाया था जिसमें एक बगीचा और छोटा सा खेत था और पुराने नियमों के तहत जिंदगी भर के लिए कॉफी खुल घर की अवधि कायम रखना प्रदान किया गया था और ये पीढियों के लिए प्रदान किया गया था । उसके अंकल संपत्ति के आखिरी मालिक थे । किस लिए उनके मृत्यु के बाद अगर कोई नया उत्तराधिकारी नहीं होगा तो वहाँ जाकर के सामन का उस पर अधिकार हो जाएगा । पर ये मानना आसान था कहीं अच्छा था । जैसा की कहा गया कि जमींदारी की प्रथा के अनूठा अवधि बढाने के नए दस्तावेज बनवाने के लिए कुछ पांडव भी काफी थे और सामान फिर उसमें रोडा नहीं अटका सकता था । उसकी भतीजी और उसके एकमात्र रिश्तेदार के पास अपना एक घर होने के अलावा और कुल बेहतर विकल्प हो ही नहीं सकता था और निफ्टी के अंकल को देखना था कि नया जुर्माना चुकाने से पहले अंतिम उत्तराधिकारी के मृत्यु से पहले जब की की अचीव प्रथा के कारण उसका नवीनीकरण समय पर हो जाए क्योंकि जमींदार जमीन और घर को हथियाने को बहुत उत्सुक था और प्रत्येक रविवार जब बूढा आदमी चर्चा आता था और जमींदार के घर के आगे से गुजरता था तो जमींदार कहता चलने से घुटनों में दर्द होता है और पीठ थोडी टेडी हो गई है और पूना प्रवेश के लिए अभी तक आवेदन नहीं किया गया । हाँ हाँ मैं किसी दिन जागीर के उस कोने की पूर्ण या सफाई कर दूंगा । अब अगर हम पीछे मुडकर देखते हैं तो बूढे सार्जंट का इतना बिलम बकारी होना बहुत ही अच्छी बात थी । फिर में कुछ लोग ऐसे ही होते हैं और वह जुर्माने के साथ हर हफ्ते जमींदार के एजेंट के दफ्तर में खून करना भी बंद कर दिया था और वह स्वयं को समझाता मेरे पास आज के बजाय अगले बाजार के दिन ज्यादा समय एक दुर्भाग्यपूर्ण अवरोध ये था कि वह जैस्पर प्लेस को बहुत अधिक पसंद नहीं करता था और चुकी जांच पर नाइंटी को उकसाता रहता था और निफ्टी फिर अंकल को साथ ही रहती थी । उस स्वार्थ युवा प्रेमी के परेशान करने के लिए वो वृद्ध जितना कर सकता था, भारमुक्त होने को स्थगित करता जा रहा था । आखिरकार वो वृद्ध साॅफ्ट बीमार पड गया और फिर जांच पर से और बर्दाश्त नहीं हुआ । उसने खुद जुर्माने की रकम जमा की और नाइनटीन तेजी तथा उससे स्पष्ट शब्दों में बात तो तुम्हारे अंकल और तो मुझे ज्यादा पता होगा तो मैं उन पर और दबाव डालना चाहिए । ये पैसे हैं अगर तुम्हारे हाथ से घर और जमीन निकल जाएगी तो मुझे फांसी पर लटकाते तो वो लोग ऐसे ही चीजें करते हैं । उन्हें पति नहीं मिलना चाहिए । चिंतित लडकी ने पैसे ले लिए और घर कहीं और अंकल से कहा कि अगर घर नहीं तो पता भी नहीं मिलेगा उसे प्रोत्साहन घंटे पैसे को देखकर ना फॅमिली क्योंकि रकम पर्याप्त नहीं थी पर अब तौर धूप करने में लगता हैं क्योंकि उन्होंने देखा कि वह जस्ट पर से शादी करने को व्याकुल है और वो उसे दुखी नहीं करना चाहते थे क्योंकि वो बहुत ज्यादा थी । जमींदार को ये देख कर बहुत क्रोध आया के साथ है । आखिरकार इस काम के पीछे पड गया है पर वो इस बात का प्रतिवाद नहीं कर सकता था और कागज तैयार हो गए क्योंकि इस जाकर पर रिकॉर्ड रखने वालों के पास अपनी संपत्ति के साथ सस्ता पे थे । जब कभी कुछ राहगीरों पर उनके पास एक भी नहीं था क्योंकि वृद्ध साॅफ्ट इतना कमजोर हो गया था कि एजेंट के दफ्तर जाना आपके लिए मुश्किल था इसलिए उनके घर पर हस्ताक्षर करवाकर दस्तावेज लाए जाते थे और पैसे की रसीद के रूप में उसे उसकी प्रतिलिपी पर सार्जेंट को हस्ताक्षर करके जमींदार के पास वापस भेजा जाना था । फॅस काम के लिए शाम पांच बजे पुणे सारे को फोन करने का फायदा क्या और निफ्टी ने पैसों को देखकर के अंदर रख दिया । ऐसा करते समय उसने अपने अंकल के हल्के से ठीक सुनी और वापस होने पर उसने देखा तो की वो अपनी कुर्सी पर किसका हैं तो कई और उन्हें उठाया पर वह बेहोश हो गए थे और बेहोश ही रहे । ना तो दवाइयाँ और नहीं शक्ति वर्द्धक औषधियां उन्हें बेहोशी से वापस ला सकें से बताया गया की वो ऐसे ही रहेंगे और लग रहा था मानो उनका अंतर हो गया है । इससे पहले की डॉक्टर को बुलाया जाता उनका चेहरा और सभी अंग काफी ठंडे वह सफेद पढ चुके थे । उसने देखा की कोई भी सहायता अभ्यर्थ है वे निर्जीव हो चुके थे । लिट्टी की स्थिति अपनी सारी गंभीरता के साथ उसके उत्तर इक मन में उठ खडी हुई । कुछ घंटों के अंतर से घर प्रतीक्षा खेत हाथ से निकल गए थे और उनके साथ ही अपने वहाँ अपने प्रेमी के लिए घर पे तो यही सोचकर बहुत स्वार्थीपन से जैस्पर के बारे में नहीं सोच रही थी कि आप कि अपने द्वारा जल्दबाजी के लिए संकल्प पर फोर्टी के का नहीं । पर फिर भी वो कहाँ गई । आखिर क्यों उसके अंकल और कुछ घंटे जीवित नहीं रहे हैं । जबकि वही इतने लंबे समय तक जीवित रहे थे । तीन बच चुके थे, पांच बजे एजेंट को फोन कर रहा था और अगर सब कुछ ठीक रहा तो पांच बजकर दस मिनट तक घर वर संपत्ति उसके और जैस्पर के जीवन के लिए पूरी तरह से उनकी हो जाएगी । यही बात तीन में इसे दोनों ने प्रस्तावित की थी कि जुर्माना देकर ऐसा हो जाएगा । अखिल कैसे वो टोटल जमींदार अपने हाथ में उस थोडी सी अवधि को पाकर खुश हो सकता है । वास्तव में उसे इस की आवश्यकता नहीं थी वरना मूल्य था । वो इन छोटी अवधियों, पट्टा और पूर्ण स्वामित्व से घृणा करता था, जो उसके भू संपत्तियों के निष्पक्ष वह सुगम समुद्र में स्वतंत्रता के द्वीप बनाती थी । फिर मिट्टी के दी । बाद में विचार कौन था कि अंकल की लापरवाही के बावजूद कैसे अपने लक्ष्य को पूरा किया जाए । वो दिसंबर के निरस्त दोपहर थी और उसकी योजना में पहला कदम हूँ । इस तरह का हानि चलती है और उस पर संशय करने का मुझे कोई कारण नजर नहीं आता ।

थॉमस हार्डी की लोकप्रिय कहानियाँ - Part 14

ये रोशनी की तरह सच है । क्रिस्टोफर पिंक नहीं सहमति जताई । मैं बस यहाँ से गुजरात रहा था । उसकी योजना का पहला कदम था बाहर के दरवाजे को बंद कर देना ताकि कोई आना सके । फिर अंकल की छोटी वक्त हारें बलूत की । मैं इसको आपके सामने रख कर काम में छूट गए । फिर वो अपने अंकल के शव के पास कहीं जो वैसे ही कृत कुर्सी पर बैठे हुए थे । ठंडी पर एक पाटीदार आरामकुर्सी जो काफी ऊंची थी तो मुझे बताया गया था और कुर्सी, अंकल और सब चीजों को सरकाते हुए तो वेज के पास नहीं खिडकी की ओर पीठ करके उन्हें वहाँ शक्तियां ताकि ये लगे कि वो उस मलोत की मेज पर चुके हुए हैं जो की बच्चे की तरह और साथ ही मेरे अपने घर में किसी फर्नीचर की तरह है जिसके बारे में मुझे पता था । मैं इस पर उसने उनके लिए बडी पाइप खोलकर रखती है और पृष्ठ पर उनकी उंगली टिकट थी । फिर उसने उनकी पाल के थोडी सी खोलती हूँ फिर उन पर चस्पा लगा दिया ताकि पीछे से पूरी दुनिया को ये लगे कि बाइबिल पढ रहे हैं । फिर उसने दरवाजा खोल दिया और बैठ गए और जब अंधेरा हो गया तो मोमबत्ती चलाती तथा अंकल के किताब के पास में रख दिया । आप लोग अनुमान लगा सकते हैं कि जब तक एजेंट नहीं आया उसका समय कैसे बीता होगा और कैसे जब दरवाजे पर उसके खटखटाने की आवाज आई तो उसके जैसे रोंगटे खडे हो गए । कम से कम कुछ यही बताया गया था निफ्टी तुरंत दरवाजे की ओर बाकि मैं । मैं माफी चाहते हो सर । अपनी सांसों को संभालते हुए वो बोली आज रात मेरे अंकल की तबीयत कुछ ठीक नहीं है और मुझे लगता है कि वो आप से मिल नहीं पाएंगे । ये तो कोई कहानी लग रही है यानी कि मैं निरर्थक ही रखती । वो छोटे से काम के लिए इतनी दूर चल कर आया हूँ तो नहीं सर ऐसा नहीं है । उसे लगता है कि नए दस्तावेजों को देने का काम फिर भी हो सकता है नहीं, बिल्कुल नहीं । उन्हें नवीनीकरण कराने का पैसा देना होगा और मेरी उपस् थिति में चर्मपत्र पर हस्ताक्षर करने होंगे । वो संदेहास्पद लग रही थी । अंकल कानून के मामलों को लेकर बहुत घबराए हुए । जैसा की आप जानते हैं वो टालते रहे और वर्षों से टालते आ रहे हैं और आज सब कुछ । मुझे इस बात का डर है कि कहीं उनके दिमाग से वास्तव में निकल ही नहीं हूँ । जब मैंने उनसे कहा कि आप चर्मपत्र की लिखाई के लिए चलते हैं, यहाँ आने वाले हैं तो उनके कमजोर तीन दांत हिलने लगीं । उन्हें हमेशा सही एजेंटों से डर लगता था । वे लोग गिनाया लेने आते थे और वैसे ही किस्म के लोग निशारा । पूरा व्यक्ति मुझे खेद है उनके लिए लेकिन काम तब तक नहीं हो सकता जब तक कि मैं उन्हें देखना लू और उनके हस्ताक्षर न करवाना हो । छह । मान लीजिए आपने हस्ताक्षर करते हुए देखते हैं और वो आपको उनकी ओर ना देखते हुए ना देखें । मैं उन्हें ये कहकर शांत कर होंगे कि आप साक्ष्यों के तरीके से बारे में बहुत ज्यादा कठोर नहीं है और अंदर नहीं आना चाहते हैं । इसलिए आपकी जितनी उपस्थिति अनिवार्य है उसमें काम हो जाएगा । क्या ऐसा हो सकता है क्योंकि वो इतने बूढे वक्त आपके व्यक्ति हैं । इसलिए अगर आप ऐसा कर देते हैं तो ये आपका बहुत बडा उपकार होगा । निःसंदेह मेरे नाम मात्र की उपस्थिति से कम हो जाएगा । इसी के लिए मैं यहाँ हूँ लेकिन पीला उनको वो मुझे देखें मैं कैसे साक्षी हो सकता हूँ । तो ऐसे सर अगर आप मुझे यहाँ जाने की इजाजत देकर अनुग्रहित करें । वो उन्हें कुछ कस्तूर बाई तरफ ले कहीं और वे बैठक के खिडकी के पास पहुंच गए । खिडकी के पर्दे को जानबूझकर खुला छोड दिया गया था । मोमबत्ती की रोशनी बाहर पहुँचे की झाडियों तक पहुंच रही थी । उसी से एजेंट को कमरे का दूसरा सिरा दिखाई दे रहा था । साथ ही पूरे व्यक्ति की पीठ ऍम तथा उसके कंधे बताओ जिसके सामने किताब और एक मोमबत्ती रखी हुई थी । उसका चश्मा उसके नाक पर था जैसा कि उसने वहाँ दिखाया था । जैसा कि आप देख रहे हैं, सर तो अपनी बाइबिल पढ रहे हैं । उसने बहुत ही डाॅ का । हाँ मुझे लगता था कि धर्म के मामले में ये बहुत ही लापरवाह इंसान है । इन्हें अपनी बाइबिल बहुत पसंद था । निफ्टी ने उन्हें आश्वस्त किया मुझे लगता है शिक्षण वो उसके ऊपर झपकी ले रहे हैं । जब की पूरे और अस्वस्थ व्यक्ति के लिए आम बात है । अब आप यहीं खडे होकर उन्हें हस्ताक्षर करते हुए देखें क्योंकि वो बहुत ही हो चुके हैं । ठीक है ना सब ठीक है । ऍफ चलाते हुए कहा निसंदेह प्रवेशांक क्या के लिए जो थोडा पैसा देना है उसकी तुमने व्यवस्था कर ली होगी? हाँ, मैं निकाल कर लाती हूँ । उसने रकम निकाली, उसे कागज मिला, बेटा और उसे पकडा दिया और जब उसने उन्हें लिया तो कर्मचारी ने अपनी कोर्ट की ऊपर की जेब से बहुमूल्य चर्मपत्र निकले और उनमें से एक उसे हस्ताक्षर करवाने के लिए दे दिया । अंकल के हाथ में थोडा लकवा मारा हुआ है । सर और चुकी वो अभी उन से हैं । इसलिए मुझे नहीं पता कि वह किस तरह के हस्ताक्षर कर पाएंगे । इससे कोई फर्क नहीं पडता । बस हस्ताक्षर होने से मतलब है हो सकता है पूछे उनका हाथ पकडना पडेगा । उनका हाथ पकडता हूँ, वही ठीक रहेगा । नीति नहीं । घर में दोबारा प्रवेश क्या ॅ खिडकी के बाहर खडा सिगरेट पीता रहा । हमने टीके अपने का सबसे नाजुक हिस्सा आया । कर्मचारी ने उसे अपने अंकल के आगे कलमदान रखते हुए और उसकी को ही छूटे हुए देखा । मानव वो उसे छकाना तो उससे बात करना चाहती हैं और दस्तावेज फैलाते हैं । जब उसने उन्हें ये दिखाने के लिए इशारा किया कि कहाँ हस्ताक्षर करने हैं, तब उसने खुद पेन को सियाही में डुबोया और उनके हाथ में पकडा गया । उसका हाथ पकडने के लिए वह बहुत कुशलता से उनके पीछे आकर खडी हो गई ताकि एॅफ थोडासा उनका सिर्फ और उनके द्वारा पकडे हाथ हूँ देख सके । पर उसने वृद्ध को दस्तावेज पर अब का नाम लिखते देखा । जैसे ही वो कम हो गया वह चर्मपत्र लेकर कर्मचारी के पास आई और बैठक की । खिडकी से आने वाली रोशनी में उसने साक्षी के रूप में उस पर हस्ताक्षर कर दी है । फिर उसे जमींदार द्वारा हस्ताक्षर किए हुए कागज उसे पकडा थी और चला गया । अगली सुबह ऍम अपने पडोसियों को बताया की रात को सोते सोते बिस्तर पर उसके अंकल की मौत हो गई । उसने अवश्य उन्हें कपडे बदलकर वहाँ लिटा दिया होगा । उसने अवश्य किया होगा तो उस लडकी में बहुत हिम्मत है । बहरहाल लंबी कहानी को अगर संक्षिप्त कर दिया जाए तो इस तरह से उसने अपना घर और फिर वापस पाया तो वास्तव में उसके हाथ से चला गया था और उन्हें पाकर उसे अपना पति भी मिल गया । जब वृद्ध जमींदार की मृत्यु हो गई तो उसके बेटे ने संपत्ति संभाली । फॅमिली ने जो किया था उसके बारे में बातें होने लगीं क्योंकि उसने इस बारे में अपनी एक तो मित्रों को बताया था पर लेटी एक युवा संदर्भ होती थी और उस समय जमींदार का बेटा भी काफी सुंदर युवक था और अपने पिता की तुलना में खुले विचारों का नहीं और उसे थोडी बहुत संपत्ति रखने पर कोई आपत्ति नहीं थी । उसने उसके खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं । अब बोलने के दौरान एक शोर उत्पन्न हो गया था और जल्दी ही वैन एक पहाडी से नीचे उतरने लगीं जो एक लंबे पहले हुए गांव की ओर ले जाती थी । जब घर नजर आने लगे तो एक एक करके यात्रियों को उनके घर के आगे उतारा जाने लगा । सराय पहुंचकर वापस लौटे, प्रवासी नहीं, एक पलंग लिया और हल्का भोजन करने के बाद उस घटना से अवगत था । हालांकि उगते चांद की रोशनी से भरे होने के कारण कोई भी वस्तु अपने इस वास्तविक प्रस्तुति में आकर्षण मुक्त नहीं थी जो कभी उसकी कल्पना के क्षेत्र में अपनी छवियों के साथ रहती थी । जब कोई दो हजार मील उनसे दूर था जैसा की एक पूर्णतया विदेशी अजनबी की आंखों के द्वारा देखा गया था कि पुराने देश के एक पुराने कहाँ से चुडा खास आकर्षण इस मामले में बचपन की यादों से बडी बडी उम्मीदों द्वारा कम हो गया था । वो कभी चिमनी तो कभी पुराने दीवार को देखता हुआ तब तक चलता रहा जब तक चर्च के आहाते मैं नहीं गया जिसमें उसने प्रवेश दिया । कब्र के सिर की तरफ लगे पत्थर की पत्ती जो चंद द्वारा और सफेद हो गई थी पर जो लिखा था तो अब आसानी से नजर आ रहा था । उस समय पहली बार लेकलैंड को महसूस हुआ कि वह भी इस गांव का हिस्सा है जिससे वो पैंतीस वर्ष पहले छोडकर गया था । यहाँ से लेट्स डॉॅ और कॉलेज के अलावा प्राइवेट स्पाॅट और अन्य भी थे जिनके बारे में उसने हाल ही में सुना था । वेनाम दो उसे उनकी अपेक्षा कहीं ज्यादा अच्छे से याद हैं । एक्सॅन परिवारों के संसद, हिम प्रतिनिधि या उनमें से कुछ अभी बीच जीवित थे पर उसके लिए बॅाबी ही थे । यहाँ आसानी से मिलने वाली चलो और प्रताप को देखने के अतिरिक्त उस ने सोचा कि इस अस्तर पर वापस लौटने पर उसके ऊपर आरंभ से स्वयं को पुनर्स्थापित करना आवश्यक होगा । विषेशकर जबकि वो इस जंगल को नहीं जानता था और जगह भी उसे पहचानती नहीं थी । समय ने उसके आनंद का इंतजार करने की कृपा नहीं की थी । नहीं स्थानीय जीवन ने उसका स्वागत करने की ऍफ के आगमन के बाद उन की आकृति कुछ दिनों तक सराये गांव की सडकों व खेतों और ऊपर लौंग पटल के क्षेत्रों में दिखाई थी और फिर भूत की तरह वो चुपचाप गायब हो गए । उन्होंने कुछ गांव वालों को बताया था कि इस जगह को देखने और उसके निवासियों से बातचीत करने के पास उनके आने का प्रत्यक्ष उद्देश्य पूरा हो गया है । पर उनका अप्रत्यक्ष उद्देश्य उनके बीच अपने जीवन के आखिरी दिनों को बिताना शायद कभी भी पूरा नहीं हो पाएगा । उनके आने के बाद से लगभग बारह या पंद्रह वर्ष गुजर चुके हैं और उनका चेहरा फिर दोबारा किसी ने नहीं देखा । लोक नृत्य के बेला पादक अगर प्रदर्शनियों विश्व में लूँ और ऐसे ही अन्य चीजों की बात करते हैं तो आज कल मैं उनमें से बहुत सारे को देखने के लिए इधर उधर नहीं जाता हूँ । वृद्ध संसद ने कहा, एकमात्र प्रदर्शनी जिसने की या जो कभी मेरी कल्पना को प्रभावित कर सकती है, वो थी इन सबकी चैनक क्रम में सबसे पहली और पुराने जमाने के बाद लंदन के हाइड पार्क में सन् अठारह सौ इक्यावन में हुई ग्रेट एक्सिबिशन आज की नहीं पर ही उस नएपन की भावना को नहीं समझ सकते हैं जो उसने हमारी युवावस्था में हम में उत्पन्न की थी । अब तक और अवसर को सम्मान में संज्ञा सोचा उसके लिए विशेषण बन चुका है । वो प्रदर्शनी, टोपी, प्रदर्शनी, हजार चिंता, घडी, प्रदर्शनी, मौसम प्रदर्शनी, उल्लास चाहने वाले शिशु बीबियां समय के लिए भी थी । साउथ में सेक्स के लिए वो वर्ष कई तरीकों से एक असाधारण कालानुक्रम, इत सिमान या संक्रमण पंक्ति पर जिसमें बहुत घाटा, जिसे समय में खडी चट्टान भी कहा जा सकता है । जैसे की भौगोलिक गलती में हमने स्वयं को प्राचीन वहाँ आधुनिक को अचानक मिलाकर प्रस्तुत कर दिया हो । ऐसा जो कभी भी देश के इस हिस्से में जीत हासिल करने के बाद किसी भी वर्ष में शायद हुआ हूँ । इन सब लोक उन्होंने हमें विभिन्न भत्र और सरल मान्य व्यक्तियों के बारे में बात करने को अग्रसर कर दिया, जो उस समय हमारे सीमित शांतिपूर्ण क्षितिज मिला है और उसी के अनुसार चले तथा तीन लोगों के बारे में, खासकर जिनके विचित्र थोडे से इतिहास नहीं के लिए बिंदुओं को प्रदर्शनी के द्वारा छुआ गया था, जिनके दिलचस्पी उनसे कहीं ज्यादा थी, जो दुनिया की उन बहीर भर्ती जगहों में रहते थे । स्टील, फॅमिली तीनों में से श्रेष्टता सबसे पहले वॉट ओला मोर आए थे । अगर वही उनका वास्तविक नाम था, जिन्हें हमारी पार्टी के वरिष्ठ लोग अच्छे से जानते थे । वे कहते थे कि और थे उन्हें पसंद करती थी । सर्वोच्च रूप से बाहरी रूप से थोडा हूँ । पुरुष उन्हें ज्यादा पसंद नहीं करते थे । शायद कई बार तो उनके प्रति विकास शक हो जाते थे । एक संगीत का फैला और कंपनी के आदमी सैद्धांतिक रूप से एक पशुचिकित्सक वो कहीं से आकर जिसके बारे में कोई नहीं जानता था कहाँ से कुछ समय के लिए ऍम में रुकी । हालांकि कुछ लोगों का कहना था कि इस क्षेत्र में उनका सर्वप्रथम आगमन ग्रीन हिल फेयर में एक कार्यक्रम में बेला वादक के रूप में हुआ था । उनके संपन्न आवासी उनकी भोली भाली कुमारी लडकियों पर अपना प्रभाव जमाने के कारण उनसे एशिया करते थे । ऐसा प्रभाव जिसे देखकर कई बार प्रतीत होता था कि उनमें कुछ अजीब और जादूगर ई का पुट हैं । व्यक्तिगत रूप से वह कुरूद नहीं थे । जब तक फ्री अंग्रेज कम लगते थे, उनका वर्ण कहना चाहते हो नहीं था । उनके बदबूदार और चिपचिपी से बाल थे और उन पर छुपाकर लेप लगाने की वजह से और चुप चुप हो जाते नहीं । उन्होंने जब पहली बार एक पार्टी में आए तो उनमें से दिए के तेल में भी के बॉयल लव दक्षिणी जंगल की कंधा आने लगी । कभी कभी वह बालों के छलने बना लेते । एक दोहरी बनती है जो लगभग उनके सिर से गाडी आ रही होती है, पर चुकी वे कई बात नहीं होते थे । तो ये निष्कर्ष निकाला गया कि वे उसके स्वाभाविक बाल नहीं है । उन लडकियों के द्वारा जिनका प्यार उसके प्रति घृणा में बदल गया था, उन्होंने उसे उसके पालों की प्रचुरता के कारण उपनाम दिया । कुछ अच्छा माँ जो इतने लम्बे थे कि उसके कंधों तक आते थे और समय के बीतने के साथ वो नाम से आता और ज्यादा प्रचलित हो गया । उसके बेला भारत का संबंध उसके उस आकर्षण से जाता था जिसका वो प्रयोग करना था क्योंकि अगर स्पष्ट रूप से कहा जाए तो उसकी एक बहुत ही खास और व्यक्तिगत विशेषता थी । जैसा कि दिल को छू लेने वाले किसी उपदेशक में होती है । उसमें असंख्य ऐसे थे जो इस बात पर दृढ थी कि व्यवस्थित उपयोग के लिए आलस और विमुक्त था । सब मुंह और दूसरे पे कि नहीं नहीं की कॅरियर के बीच में यही नहीं थे । बेला बजाते हुए वो आंख बंद कर लेता, किसी तरह के स्वच्छ इन लोगों का प्रयोग नहीं करना और ऐसे ही वायरल इनको अपनी इच्छा पर सबसे दुःख पूर्ण मारकों पर खून नहीं था, जिन्हें पहले कभी देहातियों ने सुना तक नहीं था । जिन विनय पूर्ण अभिव्यक्तियों को वो उत्पन्न करता था उसमें एक भाषाई भाव होता था, जो एक फाटक के खंभे के हिरदय से भी करार निकाल सकते थे । वह पल्ली के किसी भी बच्चे की जो संगीत के प्रति संवेदनशील था, उनकी आंखों में वह मात्र पुराने नृत्य की धूम को वाइलेंट पर बजाकर आंसू निकाल सकता था । उसने पिछले साडी की लगभग सभी धुनों को बजाया, ऍम के विकृत कुछ अच्छे । अब नए होटल मृत्यु में एक ना महीन छाया मासों की तरह उभरते हैं । उन्होंने केवल उत्सव क्या ऐसे पुराने जमाने और नए वह पुराने के बीच के लोगों द्वारा पहचाना जाता है जो अपने आरंभिक जीवन वार्ड ओला मोर जैसे पुरुषों के बीच रहे थे । उसकी तारीख पुराने मिले स्टॉप ऍसे थोडे बात में थी जिसमें डीयू सम्मिलित था । सम्पूर्णता को अपने ईमानदार प्यार में उन्होंने नए व्यक्ति की शैली की उपेक्षा करते थियों फिल्मस डीयू फेरी वाले का छोटा भाई रियूबेन कहाँ करता था कि उसमें बिल्कुल भी गहराई नहीं है । ना अभिव्यक्ति और ना ही ठोसपन नहीं था । वह सारा काल्पनिक था और शायद ये सच था । वैसे भी मोदी ने कभी भी चर्च का कोई स्वच्छंद प्रकट नहीं किया था । अपने जन्म के समय से संगीत वो कभी भी मिल स्टॉक चर्च कि गैलरी में कहीं बैठा था जहाँ सुन के बाद दूसरों नहीं श्रद्धया भजन कान कितने बजाये थी । कभी भी उसने सारी संभावनाओं से चर्च में प्रवेश नहीं किया था । उसके संग्रह में सारी महापापी धोनी थीं । वो अपने चरम समय में अब और बोल्ड हंड्रेड नहीं बचा सकता था जितनी की वो ब्रेशन सर्पेंट बना सकता था । फेरीवाला कहा था ब्लॅक स्टॉक में एक बात तय हुआ करता था जिसे बजाना बहुत ही कठिन था कभी कभी माॅस्को व्यक्तियों के अंतकरण पर और वह तो दिल को छू लेने वाला प्रभाव उत्पन्न कर देता था । विषेशकर सो कुमार और प्रति संवेदी संस्थाओं की युवा महिलाओं पर ऐसी एक थी का ऑफलाइन ऍम । हालांकि उस से मिलने से पहले ही उसकी सगाई हो चुकी थी । फिर भी सब में काट लाइन आप ओला मोर की हफ्ते छुडाने वाली धुनों से प्रभावित थी । आपने कस्ट बल्कि सुखद और परम क्षति तक वो एक प्यारी सहम, सहम कर बोलने वाली लडकी थी जिसकी अन्य लडकियों के साथ होने पर जब जब चिडचिडे हो जाने की प्रवृति थी उस समय वह मेल स्टॉप पल्ली में निवासी नहीं थी, जहाँ मौत कहता था । बल्कि नदी के पार कुछ मिल दूरी पर स्टील फोर्ड में रहती थी । उसका कैसे करता था उससे और उसके बाद उन से परिचय हुआ । ये वास्तव में किसी को नहीं पता पर का स्थान गई थी कि वो या तो एक मौसम की शाम शुरू या विकसित हुआ था जब लोअर मिलने स्टॉक से गुजरते हुए वह थोडी देर विश्राम करने के संयोग वर्ष उसके घर के पास बने पुल पर रुकी । ऑॅयल सी उसके मुंडेर का सारा ले लिया मौत अपने दरवाजे पर खडा था । जैसे उसकी आदत थी वहाँ से घुस जाते हुए लोगों के फायदे के लिए आपने वायलेंट के ई तारों से अर्थ और अंश अर्द्धस्वतंत्र कंपनों के सूक्ष्म धागों को काट रहा था और उसके चारों ओर खडे बच्चों के गालों से बहते आंसुओं को देख ऍफ का ऑनलाइन मेहराबों के अंदर नदी की लहरों में डूबे होने का दिखावा कर रही थी । पर वास्तव में वह सुन रही थी । वो जानता था उस समय उसके दिल केटर अनवरत चलने वाले नृत्य कि भूल भुलैया में हवा के पहले की अच्छी इच्छा के साथ खत्म हो गया था । अपने संबोधन से बाहर आने के लिए उसने वहाँ से जाने का निश्चय किया । हालांकि उसे इसके लिए उसके सामने से ही हो सकता था । वादक पर छुपकर नजर डालते हुए उसे ये देखकर राहत महसूस हुई की उसकी आंखें वाद्य संगीत शास्त्र के एकाकीपन में पंद्रह थी और वो तेजी से आगे बढीं । बच्चों को उसके करीब पहुंची तो उसके कदम सुस्त पड गए उसके ऍम के साथ और ज्यादा अपने आप से आते थे, रखने लगे और फॅसने लगे । जब वो एक काम उसकी विपरीत दिशा में थी । उस पर एक और नजर डालते हुए उसने देखा की उसकी एक आंख खुली है और उसकी मानसिक अवस्था पर जब मुस्कुराया तो मना हूँ, उससे सवाल पूछ नहीं है । उसकी चाल स्वयं तब तक उसको सम्मोहित करने वाले व्यवहार से विलग नहीं कर पाएंगे जब तक कि वह घर से बाहर नहीं निकल आई और ऑफलाइन घंटों तक उस अचीव सम्मोहन से स्वयं को बाहर निकाल नहीं पाई । उस दिन के बाद जब भी आस पास में कोई नृत्य होता जिसका उसे निमंत्रण मिल कम और वहाँ आप ओला मुॅह संगीतज्ञ की तरह होता काट लाइन उपस् थित होने का उपाय निकाल लेती हैं । हालांकि कई बार ऐसा करने के लिए उसे मीलों पैदल चलना पडता हूँ क्योंकि हूँ स्कूल फोड में उतने आपने कार्यक्रम नहीं करता था जितने की अन्य जगहों पर । उसके ऊपर उसके प्रभाव के अगले प्रमाण काफी विलक्षण थे और उसके बारे में पूरी तरह से बताने के लिए एक तंत्रिका विशेषज्ञ की सतत पडती । जब भी वह अंधेरा होने के पास किसी भी शाम चुपचाप अपने पिता पल्ली क्लब के घर में बैठी होती जो इसके इलफोर्ड गांव की सडक पर स्थित था, जो पांच में पूर्व की ओर लोअर मिल स्टॉप और मोर फोड के बीच उच्च सडक थी या था बिना एक्शन की भी चेतावनी के और उसके पिता बहल और उस युवक जिसके बारे में पहले संकेत दिया गया है जिसने उसको पता लगाने दिए बिना ही उसकी आत्मीयता को बहुत समर्पित भाव से प्रेम जता दिया था, के बीच होने वाली बातचीत के बीच में वह शिवनी में होने वाली अपनी जगह से अचानक उठ जाती । मानो उसे कोई बहुत तेज झटका लगा है और छत की ओर था । हाथ लगाते हुए उछलती और फिर जोर जोर से होने लगती है । आधा घंटा भी नहीं देता है कि वह पहले की तरह शाम हो जाती हूँ । उसके पिता उसके इस तरह दौरा पडने की प्रवृति के बारे में जानते हुए अपनी इस सबसे छोटी बेटे की इस आदत को लेकर अत्यंत चिंतित थे और उन्हें भरा था की ये किसी किस्म की मेरी का दौरान ना हो पर उसकी बहन झूठ लिया को ऐसा नहीं लगता था । जूलिया नहीं इसके कारण का पता लगाने गया था । होने के क्षण भर पहले केवल चिमनी के कोने में लगा असाधारण रूप से संवेदनशील थान ही चिमनी के नीचे आ रही है । राजपथ पर चलते आदमी के कदमों की ताल को पकड सकता था लेकिन उन्हीं कदमों की थाप में जिसका वह इंतजार कर रही थी, ऑनलाइन के अचानक उछलने का कारण नहीं था । पैदल चलने वाला व्यक्ति माओ ओला मोट था जो बात लडकी को अच्छे से पता थी लेकिन वहाँ आने का उसका उद्देश्य उससे मिलना नहीं होता था । वो किसी अन्य औरत से मिलने आता था जिसे वो अपनी एक अभिष्ट कहता था जो दो मिल दूर मोर फोड में रहती थी । एक और केवल एक अवसर पर ये हुआ की ऑनलाइन अपने आपको छुप नहीं रखता है वो तब भी जब केवल उसकी बहन ही बहुत ही वो वो चिल्लाई तो उसके पास जा रहा है और मेरे पास नहीं आ रहा है ।

थॉमस हार्डी की लोकप्रिय कहानियाँ - Part 15

पाठन के साथ कोई समझौता न करने के लिए उसने शुरू में इस अति संवेदनशील किस्म की लडकी के बारे में कुछ ज्यादा नहीं सोचा था । इसके बारे में कुछ खास बात की थी लेकिन चलती ही उसे इसका बहस से पता लग गया और उसके बहुत आसानी से दुखी हो जाने वाले हैं । के साथ मोर फोर में अपनी अधिक गंभीर प्रस्तुति के बीच एक प्रहसन की तारीख छोटा सा खेल खेलने से स्वयं को रोक नहीं पाया । दोनों में अच्छा परिचय हो गया । हालांकि केवल चुपके चुपके हैं । टेस्टिकल फोर्ड में उसकी बहन और उसके प्रेमी ने हिप ग्रुप के सेवाएं और किसी को इस चुनाव के बारे में हनत तक ना थी । उसके पिता नेट के प्रति उसकी तटस्थता के विरोध थे । उसके बहन भी जो चाहती थी कि वो शायद ऐसे आदमी के प्रति इस घबराहट भरे जुनून से उभर आए जिसके बारे में वो ठीक से जानती तक नहीं थी । अंतत था हुआ ये कि ऑफलाइन पुरुषोचित और सरल प्रेमी हूँ । एडवर्ड को लगा कि उसकी मंगेतर वास्तव में ला इलाज हो गयी । वो आप की तुलना में जो एक आम साहब होने का डॉक्टर था, एक प्रतिष्ठित मैं था और कहीं ज्यादा बेहतर स्थिति में था सब सब उसे छोडने से पहले ने उसके सामने उसने जो नकारात्मक रवैया अपना रखा था उससे कहीं और कुछ अधिक पानी की उम्मीद किए बिना ये सपाट और अंतिम प्रश्न रखा की क्या वो उससे शादी करेगी? तब और वहीं अभी या कभी नहीं । हालांकि उसके पिता और बहन ने इसके बावजूद नेट का साथ दिया की वो ऐसे वाले नहीं बचा सकता जिससे तुम्हारे शरीर से तुम हार यातना मकडी के एक ठाकरे की तरह बाहर खींच सकें । जैसे कि माफ करता है जब तक कि तुम हवा की तरह हल्की होकर किसी चीज को पकडने के लिए उसको नहीं मस्त होता है । वस्तुत आॅउट के संगीत में बिल्कुल भी दिलचस्पी नहीं बोलने में दो सौ भी नहीं आ सकता है । उसे बचाने की बात तो छोडी तो आरंभिक प्रोत्साहन के बाद जैसा ना कि उसने उम्मीद की थी और उसे उससे मिल भी गई ने नेट को नए सीधे से जीवन शुरू करने का मौका दिया । ये बात इस तरह से उदास अनुनायी बिना के लडके में कहीं गयी थी कि उसने उसे और ना मनाने का निश्चय किया । वो चाहता था कि सडक और गली के दूरस्थान परिदृश्य में उसकी आकृति की झलक पाने से दुखी ना हो । वो उस जगह से चला गया और सीधे लंदन गया । साउथ फिजिक्स जाने के लिए रेलमार्ग निर्माणाधीन था पर फिर भी अभी उसे यातायात के लिए खोला नहीं गया था और हेल्प ग्रुप छा तीनों तक पैदल चलकर राजधानी पहुंचा । जैसा कि उससे पहले अनगिनत लोग कर चुके थे । वो शिल्पकारों के वर्ग के आखिरी व्यक्तियों में से एक था, जिसने विलुप्त हो चुके मजदूरी के बडे केंद्रों की यात्रा करने के तरीके को चुनाव जो न जाने कितने समय से प्रचालन में था, लंदन में हो रहा हूँ और नियमित रूप से अपने काम को करता रहा । कईयों से कहीं अधिक भाग्यशाली उसकी आर उसी के अब अच्छा उसे पहले से अलग बनाती है । आगामी चार वर्षों के दौरान को कभी भी बेरोजगार नहीं हुआ । वो आधुनिक तौर पर न तो आगे बढना और नहीं पिछला उसने एक कार्य कर के रूप में अपने में सुधार किया । लेकिन सामाजिक स्थिति में वो एक भी नहीं । किसका ऑफलाइन के प्रति अपने प्यार के बारे में उसने कठोर चुप्पी बनाए रखी । निसंदेह वो अक्सर उसके बारे में सोचता था लेकिन हमेशा व्यस्त रहने के कारण और स्टील फोर्ड से कोई रिश्ता न होने के कारण उसने देश के हिस्से से कोई संपर्क नहीं रखा और लौटने के भी कोई इच्छा नहीं दिखाई । लंबित में आपने शांत प्रवास में जहाँ वो काम करने के बाद चाहता था जहाँ एक औरत की सुविधा थी, वो खुद खाना बनाता था, अपने घर के सामान का प्रबंध करता था और आजीवन कुमारे रहने के हिसाब से स्वयं को ढालता था । इस आचरन के लिए कोई भी इस प्रामाणिक कारणों के बारे में सोचने को मजबूर हो सकता है कि वह समय उसके दिल नंदी का ऑनलाइन स्पेंट की छवि को मिटाने में सफल रहा था और कुछ हद तक ये बात सच भी थी । लेकिन ये अनुमान भी लगाया जाता था कि स्वभाव से वह अपने आराम के लिए किसी औरत की सेवाओं पर अत्यधिक निर्भर रहना पसंद नहीं करता है । लंदन में एक मैं कहने के रूप में रहने का चौथा वर्ष हाइड पार्क एक्टिवेशन का वर्ष था जिसके बारे में पहले ही बताया जा चुका है और इस विशाल शीशे के भवन के निर्माण पर जो तब विश्व के इतिहास में एक उदाहरण नहीं बताया था, उसने प्रतिदिन कार्य करना शुरू किया । ये राष्ट्र उद्योगों के बीच बडी उम्मीद और गतिविधि का युग था । हालांकि छोटे तरीके से ही भी पक ग्रुप अभियान में मुख्य आदमी ने अपनी बाहरी स्वामिता के साथ ही परिश्रम किया था । फिर भी उसके लिए भी वह वर्ष आश्चर्य लाने वाला था क्योंकि जब इमारत को प्रवेश दिन के लिए तैयार करने की हडबडी खत्म हुई और समारोह संपन्न हो गए तथा दुनिया के हर हिस्से से वहाँ लोग एकत्र हुए उसे का ऑनलाइन का एक पत्र प्राप्त हुआ । उस दिन तक उसके और स्टील फोर्ड के बीच की चुप्पी कभी टूटी थी । उसने अपने पुराने प्रेमी को बहुत ही आस्था व्यस्त लिखाई में जो बता रही थी कि काम के हाथों से लिखा गया है लिखा के उसका पता ढूंढने में उसे कितना कष्ट हुआ और फिर उस विषय को उठाया जिसने उसे पत्र लिखने को प्रेरित किया था । उसने बहुत ही नफरत के साथ जिसमें वो सक्षम थी । कहा कि चार वर्ष पहले उसे मना कर के उसने कितनी बडी बेवकूफी की है उसके दुराग्रह नहीं । तब से उसे अनेक बार दुख में तो हो गया है और खासकर अब तो कुछ ज्यादा ही । जहाँ तक मिस्टर ओलम ओर की बात है वो तब से ही गायब है । जब से इंटरनेट गया है वो नहीं जानती की वो कहाँ चले गए हैं । अब अगर वह दोबारा उससे पूछता है तो खुशी से नेट से ही शादी कर लेगी और अंतिम समय तक एक संवेदनशील पत्नी बनकर रहेगी । इस खबर को सुनने के बाद अवश्य ही डाॅट के अंदर उसमा की एक लहर सर्वोच्च चली गई होगी । अगर हम इस बात के द्वारा उसे जांच है तो निसंदेह वो अभी भी उससे प्यार करता था चाहे प्रत्येक बाकी खुशी को ना छूटे हुए अपनी काट लाइन से । ये मिलने के बाद वो उसके लिए इन वर्षों में मर चुकी थी । पुरानी ऑफलाइन की तरह जीवित हो गई थीं जो अपने आप में एक सुखद और संतुष्टिदायक बात थी । ऍम का इतना आती या संतुष्ट हो चुका था कि शायद वो किसी बात पर भी प्रसन्नता जाहिर नहीं करता था । फिर भी उसके पहले आश्चर्य के बाद एक तरह की तल्लीनता था की उष्मा नहीं प्रकट किया । उसमें विश्वास के खुलासे ने उसे कितना हिला दिया है आपने? तरीको सही व्यवस्थित उसने उस दिन पत्र का उत्तर नहीं दिया । नहीं, अगले दिन और नहीं । उसके अगले दिन अच्छी तरह सोच अच्छी तरह से सोच रहा था । जब उसने उत्तर दिया तो उसमें उसके जवाब की सुन स्पष्ट को ममता के साथ विवेकपूर्ण तार्किकता मिश्र थी लेकिन कोमल था । अपने आप में ये प्रकट करने के लिए पर्याप्त थी कि उसके अस्पष्ट खुलेपन से खुश हुआ है कि कभी उसके दिल में उसने जो आश्रय प्राप्त किया था वो दोबारा आरंभ हो जाता है । अगर वो लगातार ढेड नहीं बना रहेगा उसमें उसे बताया और जब वो लिख रहा था तो उसके होट होली के कुछ शालीन शब्दों पर परिहास से थोडा रहे थे । मैंने उसने बाकी वाक्यों के साथ लिपिबद्ध किया था कि दिन के इस समय उसका आना बहुत अच्छा होगा । जब उसे पाना चाहता था तब उसने उसे क्यों नहीं पाया । ये जानकार उसे कोई संदेह नहीं रहा कि दो अभी तक काफी उत्साहित हैं लेकिन अगर उसे किसी और से प्यार हो गया हो तो उसे उससे माफी मांग नहीं होगी । फिर भी वो ऐसा आदमी नहीं था । वो जानकर उसे कोई संदेह नहीं रहा जो उसे भुला दें । पर ये सोच कर के कैसे उसका इस्तेमाल किया गया था और उसने क्या कहा था वो उसे ये तो उम्मीद नहीं रखती थी, किसके इलफोर्ड आकर उसे ले जाए पर आकर तो उसके पास आ जाएँ और उसे कहे कि उससे गलती हो गई जैसा की उचित था क्योंकि हाँ वो ये जानते हुए कि वह दल से कितनी अच्छी संवेदनशील स्थिति है उस से शादी कर ली । उसने ये भी लिखा कि उसकी उसके पास आने की प्रार्थना वो उससे बहुत कम है जो तब होती है जब वो स्टील फोड छोडकर गया या कुछ महीनों पहले क्योंकि अब साउथ इसेक्स में नया रेलवे खुल गया है और ऍम की वजह से उन्होंने अपनी अभी आश्चर्यजनक रूप से आविष्कार की गई विशेष ट्रेनों को चलाना आरंभ किया है जिसके कारण वो अकेली ही आसानी से यहाँ आ सकती है । उसने जवाब में लिखा कि ये कितना अच्छा है कि उसने उसके कर्म और ठन्डे व्यवहार के बाद की इतनी दयालुता से उससे व्यवहार किया । हालांकि वह यात्रा की लंबाई को लेकर भयभीत महसूस कर रही है और आज तक कभी रेलगाडी में नहीं बैठी हैं । केवल दूर से एक बार उसे गुजरते देखा है वो अपने पूरे दिल से उसके प्रस्ताव को गले लगाते हैं और वस्तु तक वो उस माफी को स्वीकार करती हैं जिसका वह हकदार है और उससे माफी मांगती है और हमेशा अच्छी बीवी बनने की कोशिश कर रही थी और गुजरे समय की भरपाई करने की भी कोशिश करेंगे । तब और कहाँ थी बाकी जानकारियां चलती तय हो गई । उसे भीड में जल्दी से पहचान लेने के लिए ऑफलाइन ने उसे सूचित किया की वो अपने नए टहनियों के डिजाइन वाले सुनती गांव को पहले की और नेट खुशी से इसके जवाब में लिखा है कि उसके आगमन के अगले दिन ही वो उससे शादी करने का और फिर उस दिन को उसे एक्सिबिशन में ले जाकर मनाएगा । गर्मी की एक दोपहर को वो अपने घर से काम पर आया और उससे मिलने के लिए जल्दी से वायॅस स्टेशन के लिए चल दिया । वो उतना ही नवी रात और ठंडा दिन था जैसा कि कभी कभी जून का दिन होता है पर जब वो गुंडा पार्टी में प्लेटफॉर्म पर इंतजार कर रहा था तो भीतर ही भीतर खुश हो रहा था और ऐसा प्रतीत हो रहा था की दोबारा से छीनने के लिए कुछ हैं । भ्रमण ट्रेन यात्रा के इतिहास में पूर्ण रूप से एक नया प्रस्थान बाॅक्स लाइन पर अभी भी नई चीज थी और सम्भवता हर जगह सारे स्टेशनों पर लोग ट्रेन के इतने लम्बे कल ग्यारह का असाधारण दृश्य देखने के लिए एकत्र हो गए थे । यहाँ तक कि जहाँ उन्होंने दिए गए अवसर का फायदा नहीं उठाया था । भारत के ट्रेन में इन आरंभिक प्रयोगों में यात्रियों के साधारण वर्ग, खेल के सीटें, हवा वहाँ बारिश से बचाव के लिए बिना खुले ट्रक थे और दोपहर होते होते नमीदार मौसम बन जाने के कारण उन वाहनों के अभाग्य यात्री, जिनका आखिरी स्टेशन लंदन था, अपनी लंबी यात्रा के कारण बहुत ही दयनीय स्थिति में थे । नहीं ले चेहरे तनी हुई करता नहीं । छींके बारिश से बेहाल हड्डियाँ तक ठंडी हो गई थी । अनेक पुरुष टोपियों के बिना थे । वस्तुतः वे आनंद के लिए भ्रमण करने के लिए निकले स्वदेशी लोगों के बजाये उन लोगों की तथा लग रहे थे, जो तूफानी समुद्र में पूरी रात तक खुली नाव पर और तुम्हें अपने गांवों की स्कर्ट को अपने सीटों पर उठाकर कुछ हद तक स्वयं का बचाव कर लिया था । पर इस व्यवस्था के द्वारा उनके नितंब अनावृत हो गए थे । और देखा जाए तो उनकी स्थिति भी बहुत सोच नहीं थी । स्त्री पुरुष दोनों आकृतियों के उतरने की हडबडी और भीड भाड में, जिसके बाद ही स्टेशन में विशाल श्रृंखला पकडता का प्रवेश हुआ । नेट हिप्पोक्रेट ने तुरंत ही उस छाधारी नहीं आकृति को पहचान लिया, जिससे उसकी आखिर ढूंढ रही थी । जैसा कि वर्णन किया था नीले गांव में वो उसके पास एक्टर हुई मुस्कान के साथ आई । अभी भी वो प्यारी थी । हालांकि इतनी भी की मौसम से प्रभावित हवा में लंबे समय तक रहने के कारण काम रही थी । नहीं वो पढाई मैं उसने उसे अपनी बातों में भाग लिया और चुनाव जबकि उसके आंसुओं की धार बहने के लिए तुम की नहीं होता है । कई तो करते ना लग जाए । उसने कहा और उसका उसके नाना फिर सामानों का निरीक्षण करते हुए उसमें हाँ क्या की? एक हाथ से उसने एक बच्चे को पकडा हुआ है तो तीन बरस की नहीं बच्ची जिसकी टोपी वैसी ही चिपचिपी कोमल चेहरा, पैसा ही नीला जैसा कि अन्य यात्रियों का था । कौन है तुम्हारी कोई परीक्षक? नेशनल उत्सुकता से पूछा हारने ये मेरी है तो भारी था । मेरी अपनी तो बाहर ही अपनी बेटी ऍम । मैंने इसका जिक्र अपने पत्र में नहीं किया था क्योंकि बहुत सब समझाना बहुत कठिन था । मैंने सोचा कि जब हम मिलेंगे तो मैं तुम्हें बताता हूँ की वो कैसे पैदा हो गयी । लिखने से कहीं ज्यादा ठीक रहता है । मुझे आशा है नेट तुम एक बार इस बात को माफ कर चूकें और मुझे डांट होगी नहीं । अब मैं कितने मीट टूर चली आई हूँ । इसका मतलब है मुझे लगता है कि मिस्टर मोदी बोला मुझे एक या दो कस्तूरी से उदासी से उन्हें देखते हुए हैं । क्रोफ्ट ने कहा को हराने से पीछे हट गया । ऑनलाइन हफ्ते हुए कहा पर वो तो वर्ष पहले चले गए थे । उसमें अनुनय विनय की और उससे पहले को यहाँ प्रति संतति में नहीं था और पहली बार किसी को पांच सकूँ । इस मामले में भी बहुत किस्मत था जबकि वहाँ के कुछ लडकियाँ किसी के भी पीछे भागते लगती हैं । नाइट विचारता हुआ चुक रहा तो मुझे माफ कर दोगे ना ने सुबह उठने को तैयार उसने जोडा आखिरकार मैंने बताया नहीं था अगर काम चाहो तो हमें वापस भेज सकते हो । हालांकि ये सौ बिलों की दूरी है और इतने गीले हैं और रात हो रही है और मेरे पास पैसे भी नहीं है । अब मैं क्या कर सकता हूँ । आॅडियो ने जो तैनी स्थिति दिखाई थी वो कभी भी बारिश के दिनों में नहीं देखी थी । वे बडे की चढ से भरे प्लेटफॉर्म पर खडे थे । उनके ऊपर की छत पर पूरा पांति हो रही थीं । जिनसुंदर कपडों में उन्होंने सुबह सुबह स्कूल फोर्ट्स यात्रा आरंभ कि नहीं गंदा और गीला हो गया था उनके चेहरे पर थकावट थी और उसका टर उनकी आंखों में था और बच्ची भी सोचने लगी थी मालूम से भी कुछ गलती हो गई हैं । इसलिए तब तक वो एकदम चुप नहीं जब तक उसके फुले हुये वालों से आंसू नहीं लुढकने लगे । क्या बात है? मेरी प्यारी बच्ची नेट नहीं है । प्रवक्ता का मैं घर जाना चाहती हूँ । उसने ऐसे जैसे मैं कहा जो होते हुए दिल की कहानी बयां कर रहा था और कुछ ठंड लग रही है और अब मेरे पास ब्रेड मक्खन भी नहीं है । मुझे नहीं पता कि इस बारे में मैं क्या करूँ । नेट का उसकी खुद की आंखें नम थीं । वो थोडा उससे झुकाते हुए कुछ कदम आगे चला । फिर उन्हें दोबारा से देखा । बच्ची बहुत मुश्किल से सांसे ले पा रही थी और चुपचाप आज सुबह आ रही थी । ब्रेड और मक्खन चाहिए । उसने दिखावटी कठोरता से कहा था मैं लाकर देता हूँ । स्वाभाविक है कि तुम्हें चाहिए ऑॅनलाइन तो मैं भी तो चाहिए । मुझे भी थोडी भूख लग रही है पर मैं कर सकती हूँ । वो बहुत होता है तो मैं ऐसा नहीं करना चाहिए था । उसने रुखाई से कहा अब मेरे साथ चलो । उसने बच्ची का हाथ पकडा था । वैसे भी आज रात हम लोग यही रहूँ और इसके अलावा आप क्या कर सकते हैं? जाकर चाय और खाने का कुछ सामान ले आता हूँ इस काम के लिए मुझे यकीन है कि मुझे नहीं पता कि क्या करूँ । यही एकमात्र रास्ता है । बिना कुछ बोले ऍसे रहने की जगह पर चलती है तो बहुत दूर नहीं थी । वहाँ उसने उन्हें सुखाया आराम से बैठाया और चाय बनाई तथा बहुत कृतज्ञता के साथ में बैठ कर चाय पीने लगे घर जिसका अचानक उसने स्वयं कुम्भक, जिसका अचानक उसने स्वयं को मुख्य महसूस किया । उसके कमरे का एक आरामदायक इस हफ्ते रहा था और वह स्वयं को अभिभावक मान रहा था । वह बच्चे की ओर मुडा और उसके खिले हुए गालों को चूमा और ऑनलाइन की ओर उत्कंठा से देखते हुए उसे भी चुका हूँ । मुझे समझ में नहीं आ रहा है कितने मिल दूर मैं वापस कैसे भेजूंगा तो करा । अब तुम इतनी दूर से एक उद्देश्य से मेरे पास आई हूँ, पर तुम मुझ पर विश्वास कर सकती हूँ । ऑनलाइन और एक का भी है कि काम मुझ पर सस्पेंस विश्वास करती हूँ क्या? मेरी ननद नहीं बच्चे काम थोडा क्या महसूस कर रही हूँ? बच्ची ने खुशी से सर खिलाया । पैसे वह खाने में व्यस्त थी । यहाँ आने में मुझे भी तुम पर विश्वास था और मैं हमेशा तुम पर विश्वास करूंगी नहीं । इस प्रकार उसे माफ करने के किसी निश्चित अनुबंध के बिना इसे भाग्य की सेना थी । मानते हुई उसने भी चुप चाप हो इस बात को मान दिया । केश्वर ने उन्हें यहाँ भेजा है और अपनी शादी के दिन वो उतनी चलती नहीं हुई थी जैसा कि उसने सोचा था । प्रतिबंधों के कारण चर्चा से वापस आने के बाद फॅमिली क्या जैसा कि उसने वादा किया था केवल फर्नीचर के लिए बने प्रांगड में एक बडे से शीशे के पास खडे हुए ऍफ कहीं क्योंकि शीर्ष में जो आकृति दिखाई थी हूँ हूँ ऍम बोट से मिलती थी एक काम उन जैसी के किसी के लिए भी यह विश्वास करना असंभव था कि वो कलाकार की मूल कृति हैं । उन वस्तुओं के सामने से गुजरते हुए जो डेट उसे और बच्ची को सीधे देखने में बाधित कर रहे थे, बाप कहीं नहीं दिखाई दिया । वो उस समय सचमुच लंदन में था, पिया नहीं ये भी नहीं पता था और काट लाइन नहीं हमेशा ही दृढता थी । इस बात का खंड न किया था कि उसके शहर में जाकर नेट से मिलने के उत्कंठा किसी भी ऐसी अफवाह की वजह से नहीं थी की मौत भी वहाँ गया था जिसके खानदान करने से संशय करने का कोई तार्किक आधार नहीं था । एक वर्ष अंक लगाकर हो गया एक्जीविशन खत्म हो गई और आती की बात बन गई । पार्क के पेड जो अच्छा महीनों तक खेरे में रहे थे, दोबारा से हवा तूफान के संपर्क में आते हैं और तृणभोजी मी फिरसे हरी भरी हो गई । नेट ने देखा कि काट लाइने जैसा निश्चय किया था वो एक अच्छी पत्नी और साथ ही साबित हो नहीं । हालांकि उसने स्वयं को उसके लिए बहुत ही साधारण सा बनाया गया था पर उसमें वो किसी और अन्य घरेलू वस्तु की तरह थी । एक सस्ती चाहता नहीं जो अक्सर ये अपने चाहने वालों की तुलना में ज्यादा अच्छी चाय बनाती हैं । शरद ऋतु के एक दिन ही क्रोफ्ट में पाया कि उसके पास करने को ज्यादा काम नहीं है और सर्दी में कुछ संभावना भी कम है । दोनों चुकी शहर में जन्मे और पले थे । उन्होंने सोचा कि दोनों एक बार से अपने प्राकृतिक वातावरण में रहना चाहते हैं । दोनों के बीच आपस में यह तय हुआ कि वे लंदन के किराये के घर को छोड देंगे और ये कि नेट अपने देश के नस्ती कम खुंटले का और काम अपने घर की तलाश के दौरान उसकी पत्नी और बेटी का ऑनलाइन के पिता के घर में रहेंगे । चुप्पी और बादलों के नीचे जब नेट के साथ उस जगह की यात्रा पर निकली जिसे उसने दो या तीन वर्ष पहले छोडा था तो एक सनसनी पैदा करने वाला शहर वाॅक के आकर्षक ढाकरे में व्याप्त हो गया । वहाँ लौट था जहाँ से कभी उपेक्षित समझा गया था । लंदन के विशेष उच्चारण के साथ एक मुस्कुराती हुई लंदन की पत्नी की ताकत लौटा हूँ । एक चीज थी जिसका साक्षी दुनिया हर दिन नहीं बनती हैं । ट्रेन उस छोटी से सडक किनारे बने स्टेशन पर नहीं रुकीं जो इसके फोन जो सबसे नजदीक पडता था और तीनों कॅश तक हैं । नाइट को लगा कि नगर में वर्कशाप अब में रोजगार के लिए कुछ आरंभिक पूछताछ करने का यह अच्छा अवसर है जहां लोगों से जानते थे और अपनी यात्रा की वजह से ठंड महसूस करने के कारण और पैरों तले बहुत उसको होने एवं अपील केवल झुटपुटा ही होने के कारण चंद ने अभी निकलने की शुरुआत की थी । ऑनलाइन और उसके नंदी बच्ची नाइट के पीछे पीछे तेज गति से आने और उन्हें किसी आधे रास्ते में बने घर जिससे सभाएं कहा जाता है मिलने के लिए छोड कर स्किल स्पोर्ट की ओर पैदल चलती हूँ । औरत और बच्ची अच्छी तरह से आधे रास्ते पर काफी आराम से चल रही थी । क्या तभी वे दोनों ही थक गई थी? तीन मिल के रास्ते में उन्होंने हिटलिस्ट विलियम का काला ब्लॅड द्वारा परिचित सीमा को पार किया था और अब फॅस के पास पहुंच रही थी । एक टन हित के निचले किनारे पर बना एकमात्र सडक पर स्थित हॉस्टल था । आगे की ओर बढते हुए ऑनलाइन नहीं । वहाँ से अधिक आवाजें सुनी जो इस समय में कभी नहीं हुआ करती थी और उसने छाना के उस दोपहर अस्थल के पास फसल के भंडार की पुणे रखी थी तो उसने सोचा कि बच्ची और उसे दोनों को ही आराम करके अच्छा लगेगा । उसमें अंदर प्रवेश किया मेहमान और ग्राहक गलियारे में भरे पडे थे और ऑनलाइन ने जैसे ही उस मेंहदी को पार्टियाँ जहाँ एक आदमी खडा था जिसे देखने पर वो याद आ गया कि कौन है दीवार के सारे टी कि अपने दोस्त की ओर गिलास और मतली आगे आया पर उसे देख कर उसने शिष्टाचार वर्ष उसे शराब पेश करते हैं जो चीन और बियर का मिश्रण था । एक पूरा मतलब उसके लिए उठ खेलते हुए वो बोला निश्चित रूप से ये नहीं आॅफलाइन ऍम के लिए हैं जिसके लिए फोर्ड में रहती थी । उसने हामी भरी और हालांकि वो वास्तव में इसपे को नहीं चाहते थे क्योंकि वह उसे दी गई थी इसलिए उसने उसे पीढियां और उसकी आवभगत करने वाले ने उससे और आगे आने और बैठने की प्रार्थना की ।

थॉमस हार्डी की लोकप्रिय कहानियाँ - Part 16

कमरे में पहुंचने के बाद उसने पाया कि वहाँ पर स्थित सारे लोग दीवार के सहारे टिककर बैठे हैं और वहाँ खाली कुर्सी होने के बावजूद उसने भी ऐसा ही किया । अगले ही क्षण उनके ऐसे बैठने का कारण सामने आ गया । विपरीत कोने में आप खडा था आपने वायलेंट गज को पकडे हुए और वैसा ही जैसा कि हमेशा दिखता था । कंपनी नाच के लिए कमरे के बीच के हिस्से को एकदम खाली कर दिया गया था और वे दोबारा दृष्टि करने वाले थे । चुकी हवा से बचने के लिए उसने दुपट्टा उडा हुआ था । इसलिए उसे नहीं लगता था कि वो उसे पहचान पाया होगा या सुंदरता । बच्ची के बारे में ही चार पाया होगा । उसे साफ शरीर से संतुष्टि हुई कि वो आराम से उसका सामना कर सकती है । लंदन के जीवन ने उसे जो मान दिया था, उसकी अपनी स्वामिनी के रूप में उसने गिलास भी पूरा खाली भी नहीं किया था । नृत्य आरंभ करने के लिए कहा गया और नर्तक दो कतार में खडे हो गए । संगीत, बचाव और आकृतियाँ नृत्य करते लगी । फिर का ऑनलाइन के लिए बात हैं । एक सिहरन ने तेजी से उसके अंदर जीवन डाला और उसका हाथ इतना पापा की वह गिलास को नीचे भी नहीं रखता है । ये ऍम या नर्तकों की वजह से नहीं हुआ था बल्कि उस पुराने वायलेंट के स्वस्थ है, जिसने लंदन वाली पत्नी को रोमांचित कर दिया । उन में अभी भी वैसा वशीकरण था जिससे वो पहले से परीक्षित थी और जिसके प्रभाव में उसने अपनी स्वतंत्र इच्छा के सारी इच्छा को खो दिया । कैसे ये सब वापस आ गया? दीवार से सटे वायलिन बजाती एक आकृति थी । पडा तेल से सना उसका कुछ जैसा सिर्फ था और कुछ के नीचे बंद आंखों सहित एक चेहरा था । सन दिवास्वप्न के पहले कुछ क्षणों के बाद परिचित अभिव्यक्ति में परिचित तुमने उसे साठ साठ हजार आया और फट आया । फिर एक आदमी ने नाच के बीस जिसकी साथ ही पीछे ही चली गई थी । अपने हाथ को फैलाया और उसकी जगह लेने के लिए उसे इशारा किया । वो नाच नहीं करना चाहती थी । उसने संकेत से अनुनय विनय की की वो जहाँ है वहीं रहना चाहती है । पर वो नृत्य करते आदमी के बजाये धुन । वह उसके बचाने वालों की चिरौरी कर रही थी । कुछ लेने की प्रवृत्ति जो वादक और उसका चालक बाते उसके अंदर शुरू कर देता था, वो ऑनलाइन को वैसे ही अपनी तरफ समय ले रही थी । जैसे कि उसने पहले भी किया था अच्छा । एक दिन और बीयर के मिश्रण का भी असर था तो बहुत थकी हुई थी । उसमें आपने नंदी बच्ची का हाथ पकडा और आकृति का हाथ पकडकर बाकी लोगों के साथ घूमने लगी । उसने पाया कि उसके साथ ही अधिकांश होता है । पडोस के कानून और फार्म से थे ब्लॅड ऍम और अन्य जगह हो गई नाश्ते हुए । कुछ हद तक उसे पहचान लिया गया । वो कामना करने लगे की मौत वायलिन बजाना बंद करते हैं ताकि उसके दुखते दिल और पापा को भी आराम मिल सके । लम्बे और अनेक मिंटो नाथ खत्म हुआ जब उसे स्वयं को ताकत देने के लिए वचन और बियर पीने की इच्छा हुई तो उसने पी क्योंकि वो स्वयं को बहुत कमजोर महसूस कर रही थी और उन्मादी समेत उस पर हावी हो रहे थे । आपने उपस् थिति से अनजान रखने के लिए उसने दुपट्टा नहीं हटाया । अनेक मेहमान जा चुके थे, ऑफलाइन नहीं । जल्दी से आपने होट पूछे और जाने के लिए मुझे पर जो कुछ वहाँ रह गए थे, उन के कहने पर उस शिक्षण पांच लोगों के साथ एक नाचने वाले नृत्य की मांग की गई जिसमें दो तीन लोगों ने उनके साथ सम्मिलित होने की प्रार्थना की । उसने थके होने और इसके इलफोर्ड से पैदल चलकर आने की बात है उसके लिए इंकार कर दिया । लेकिन तभी माँ अपने तेजी से डी मेजर माइक ऍम की झंकार छेड नहीं । जिसकी धुन पर व्रत करना था वो अवश्य उसे पहचान गया होगा । जब तक वो इस बात को नहीं जानते थे क्योंकि वह सारे बादक खींचा वों का तनाव था जिससे वह संभाल नहीं पा रहे थे वहीं थी जिसे उसने तब बताई थी जब उनके पहले परिचय के दिन वो पुल के साथ टिककर खडी थी । कार लाइन बाकी चार लोगों के साथ कमरे के बीच में हतोत्साहित से शामिल हो गई । यहाँ इस समय व्यक्त और ज्यादातर और उल्लास से भर गया था क्योंकि अत्यधिक ऊर्जा के कारण सामान्य जिसके आकादमिक खतने के लिए पर्याप्त रूप से सक्षम नहीं थी जैसा कि हर कोई जानता है और याद नहीं जानता हूँ, पांच मिनट तक क्रॉस के आकार में खडे होते हैं । तीन बार एक एक करके प्रत्येक पंक्ति में नृत्य किए जाते हैं । जो लोग बीच की जगह में पहुंचने में सफल हो जाते हैं, दोनों देशों से नाचते हैं । ऑनलाइन में स्वयं को उस चक्र में पाया । पूरी प्रस्तुति की धोरी के रूप में और उससे बाहर निकल नहीं पाई की ऐसा करने का अवसर बिना धुन पहले हिस्से में परिवर्तित हो रही थी । अब उसे संदेह होने लगा कि हाँ उसे जानता है और ऐसा जानबूझ कर कर रहा है । हालांकि वो जब भी उस पर चोरी छिपे नजर डालती, उसकी बंद आंखें उसके खुद के दिमाग के बाहर हर चीज का विस्मरण होने का संकेत देती । उसकी गति के द्वारा जो आठ आकार बन गया था, वो उसमें ही लगातार घूमती रही । वादक अपने स्वरों में एक दो उच्चतम विफलताओं में जीवंत आवाज के उन्मादी और खूड पीडा की मिठास को ढलता था । उसकी करोड का अंतहीन विविधता में कभी ऊंची तो कभी नीचे हो रही थी और उसके स्नायु के माध्यम से एक आठ पैदा कर रही थी । एक तरह की आनंददायक यंत्रणा कमरा चक्कर खा रहा था । धुन अंतहीन थी और लगभग पौने घंटे के समय में आकार में एकमात्र स्त्री पूरी तरह से थक चुकी थी । तो आप तो एक पेज पर बैठ नहीं, नृत्य ने स्वयं को तुरंत चार हाथ वालों में पता लिया था । ऑनलाइन वहाँ से जाने के लिए कुछ भी दे सकती थी या उसने सोचा कि उसके पास ताकत नहीं है । आप ऐसी धुनें बजाता रहा और इस तरह दस मिनट हो सके । फर्श, पत्थर और रेतीला होने के कारण अब मोमबत्तियों पर धूल की परत चाटने लगी थी । फिर एक और नर्तक बाहर निकल गया । पुरुषों में से एक और शराब को तुरंत पीने की तलाश में गलियारे में गया । आकार को तीन हाथ वाले नृत्य में बदला पल भर का काम था । उसी समय मौत दफेर डांस पे स्वर परिवर्तन कर रहा था जो संक्षिप्त गति के लिए ज्यादा उपयुक्त था और प्यार के उसको खुरा से कुछ काम नहीं तो उसके वजह से उत्पन्न होते थे और जो हमेशा उसे मादक बना देते थे । तीन लोगों के लिए नृत्य में बिल्कुल भी आराम लेने का वक्त नहीं था और उसके बाद की बच्चे दोनों साथियों के लिए चार पांच मिनट काफी नहीं जो अब पूरी तरह से दाग चुके थे । उन्होंने अपनी अंतिम खाती और अपने पूर्ववर्तियों की तरह कुछ पीने के लिए लडखडाते हुए बगल के कमरे में चले गए । अपने दुपट्टे में आधी दबी हुई वृद्ध करने के लिए वो अकेली रह गई । उसके माँ बाप और बच्ची के सिवा अब कमरे में कोई और नहीं था । उसने अपना दुपट्टा उठाया और उस पर अपनी नजरें गडा दी । मानो उसने मानव से याचना कर रही हूँ कि वो वातावरण से स्वयं तो आपने वैज्ञानिकता चुंबकत्व को हटा ले । बाप की अपनी एक आपको खोला जैसे की पहली बार और उसके ऊपर करती जैसे कल्पनालोक में हफ्ते में आपने खिंचाव को भावों के भंडार पे डाल दिया जिससे वह बडे और शोर मचाने वाले दस्त में पर बात नहीं कर सकता था । ऍम सूक्ष्मताओं भी जो एक बुक में से भी आपको निकालने की मालवन संवेदनाओं को बाहर निकालने को आतुर हो रही हूँ जो किसी इटली या जर्मनी के शहर में निर्वासन से तभी होगी । हाँ उसने सबसे पहले आकार और धोनी प्राप्त की थी । मौत की गहरी आंख में एक भाव था जो कह रहा था काम छोड कर नहीं जा सकती है चाहे तुम हो या ना चाहूँ और उसने उसके अंदर नाॅन ना कर दिया । उसने उसे थकाने की चुनौती से भर दिया । इस प्रकार वो लडकी हर लहर के साथ अकेली नाश्ते रही एक दम चुनौती की तरह जैसे उसने सोचा था पर वास्तविकता में वो तन्यता के साथ नाच रही थी और सम्मोहन करने वाली पैनी नजरें उसे गहराई से जांच रही नहीं, साथ ही मंदिर मुस्कार उसके चेहरे पर तैर रही थी तो इस बात का दिखावा कर रही थी कि ये उसका अपना ही सुख है और उसे ऐसा करने को बात कर रहा है । अगर उसे जाना हो तो वो उसे क्या करेगी? इसकी एक भयावह शर्मिंदगी में उसे नृत्य करते रहने का एक अनजाना बहुत था । बच्ची जो उस अच्छी स्थिति से परेशान हो गयी थी, वहाँ आई और का ऑनलाइन का हाथ पकडते हुए फुसफुसाई मेरे को मम्मी को चलो घर चलते हैं अचानक लडखडाते हुए ऑनलाइन फर्श पर पैर कहीं और अपने चेहरे के बाल गिरते हुए नहीं तब मौत के वायलिन ने खत्म करने की छोटी से ठीक नहीं है । नौ गैलन के बीयर के पी पेपर से उसका मंच पर हुआ था । तेजी से नीचे उतरते हुए वो नंदी बच्ची के पास गया तो निराशा से अपनी माँ के ऊपर चुकी हुई थी । मेहमान जो शराब और खुलकर सांस लेने के पीछे की कमरे में थे, वो कुछ अजीब आवाजे सुनकर वहाँ वापस आए जहाँ पे लाचार, कमजोर कारला इनको चित्कार करते और खिडकी खोलकर उठाने का प्रयास करने लगे । लेकिन उसका पति जो कैस्टर ब्रीच पर रुक गया था जैसे कि पहले बताया गया है ऐसा स्थान पर आ गया था और खुली खिडकी से आती उत्तेजित आवाजों को सुन रहा था । अपने पति का नाम सुनकर उसे बहुत आश्चर्य हुआ तो वो बाकी लोगों के बीच जाकर उनमें शामिल हो गया । ऑनलाइन इस वक्त ही हुई थी और बहुत जोर जोर से रो रही थी । बहुत देर तक उसके लिए कुछ भी नहीं किया जा सके । जिस समय वह स्किल फोर्ड जाने के लिए गाडी का प्रबंध कर रहा था उस समय आप ग्रुप ने बहुत देख नेता से पूछा कि क्या हुआ था? और फिर लोगों ने बताया कि इस स्थान पर पहले से परिचित वाइलिन वादक अपने पुराने अड्डों पर आया था और उस शाम सराय में बचाने के लिए बिना आमंत्रण के आ गया । नेट ने वादक का नाम पूछा और उन्होंने कहा, ओला मोड वो नेट में उसके चारों ओर देखते हुए गा । वो कहाँ है और मेरी ननद बच्ची कहाँ है? बोला मोर गायब हो गया था और उसकी बच्ची भी । फेसबुक ग्रुप आम तौर पर एक शांत और विनीत इंसान था पर एक था जो डरावनी थी । उसके चेहरे पर उस समय व्याप्त हो गई थी । उसे पकडो मैं उसकी खोपडी तोड होगा । वो चूल्हे पर रखी पूरे थी । को लेने दौडा और तेजी से कल ग्यारह से भागा लोग । उसके पीछे पीछे भाग है । राजमार्ग के दूसरी तरफ घर के बाहर आसानी से इतना पहुंच पाने वाले भीतरी धाक पर अंधेरी पंजाब भूमि का टुकडा ऊपर को उठा रहा था । एक तंग घाटी का पठार आकाश । वह निकला है आकाश में बाहर निकला दिखाई दे रहा था । कुछ मीलों की दूरी पर । मिस्टर ओवर कुछ मेलों की दूरी पर मिस्टर ओवर के देवदार के जंगल अल्बरी झाडियों से खेलते हुए थे । उस समय वो जंगल बहुत भयावह लग रही थी, जिसमें गोलंदाज पहुंच के तो खाने को सुरक्षित छिपाने की क्षमता थी । फिर एक आदमी और एक बच्ची की तो बात ही क्या । कुछ अन्य पुरुष उसके साथ उधर आए और कुछ सडक की ओर गए । वे कोई बीस मिनट तक चले होंगे, पर खाली हाथ सराय वापस लौट है । नेट बेंच पर बैठ गया और अपने हाथों से अपने माथे को पकड लिया । आप की कितना बोलते हैं और अगले इतने वर्षों तक वो ये सोचता रहा कि वो बच्चे उस की थी । जैसा कि प्रतीत होता है, वे फुसफुसाए फौरन था, बाकी सबको पता है नहीं । मैं नहीं सोचता कि वो मेरी है । अपने हाथों से झाकते ऍम आवास में जी फिर भी वो मेरी है क्या? मैंने उसे प्यार नहीं किया क्या? मैंने खिलाया? नहीं पढाया नहीं क्या मैं उसके साथ खेला नहीं? ऍम उस कुंटे के साथ चली गई । वैसे भी तुमने अपनी पत्नी को नहीं खोया है । वैसे भी तुम ने अपनी पत्नी को नहीं खोया है । उन्होंने उसे सांत्वना देने के लिए कहा । अब वह बेहतर महसूस कर रही है और वो बच्ची से ज्यादा तुम्हारी तो तुम्हारी नहीं वो वही है । वो आप मेरे लिए महत्व नहीं रखती है । विषेशकर आप जब उसने ननद बच्ची को खो दिया है, कैसी पे ही सब कुछ है । कल तुम है वह मिल जाएगी । पर क्या मैं उसे ढूंढो पाऊंगा तो उसे नुकसान नहीं पहुंचा सकता है । निश्चित रूप से नहीं ऍम कैसी है मैं तैयार हूँ क्या गाडी आ गई है उसे वाहन में पकडकर बिठाया गया । वे दुखी मन से टेस्टिकल स्पोर्ट की ओर चलती है । अगले दिन वो शाम तक थी पर उसे दौरे पढ रहे थे । उसे देखकर लग रहा था कि वो बिलकुल टूट गया है । बच्चे के लिए उसने काफी कम चिंता प्रदर्शित की । जब कभी नहीं एक काम सुम हो गया था । फिर भी यही उम्मीद की गई कि नटखट मौत एक दो दिन की शरारत के बाद बच्ची को वापस कर देगा । पर समय बीतता गया नहीं, उसके और नहीं बच्चे के बारे में कुछ पता चला । ये तो क्रॉप बताया कि शायद तो उस पर किसी अब पवित्रा संगीत मैं ज्यादा को कर रहा है, जैसा उसने पहले का ऑनलाइन के साथ किया था । अब तो बीत गए, फिर भी न तो उन्हें वादक के रूप में कुछ पता चला और नहीं बच्चे के बारे में वो उसे कैसे पहला कर ले गया । एक रहस्य ही बना रहा । फिर नेट जिस से पास में ही केवल अस्थायी नौकरी मिली थी तो अचानक अपनी स्वदेशी जिले से घृणा हो गई । पुलिस के माध्यम से उसके काम तक अफवाह पहुंच रही थी । उसी तरह के एक आदमी और बच्ची को वायलिन बजाते लंदन के पास एक मेले में देखा गया है । बच्ची पैर बात सब नाच रही थी प्रबलता के साथ । राजधानी में ही तो ग्रुप पर एक नई दिलचस्पी नहीं, काम क्या करेंगे जो उसे उधार लौटाने या जाने के लिए समय कभी नहीं देती थी । जब कभी उसे खोई हुई बच्चे नहीं मिले । हालांकि उसे खोज पाने की उम्मीद वो गलियों में खडे होकर अपना अधिकतम समय गुजरात देता और रात को ये कहता हुआ उठ जाता वो पांच उसे अपने पास रखने के लिए यातनाएं दे रहा है । जिससे सुन उसके पत्नी छोडकर कहती है नहीं स्वयं को इतना मत परेशान करूँ, दो से नुकसान नहीं पहुंचाएगा और वो पुना हो जाती है । लोगों की आमराय थी कि वह कैरी और उसके पिता अमेरिका चले गए थे । मैं आपको वो बच्ची एक अत्यंत बाल झंडी साथी के रूप में मिली थी जिसे उसने एक नर्तकी के रूप में अपनी कमाई है । तू अपने पास रखने के लिए प्रशिक्षित किया था । अब हो सकता है कि वे कहीं कोई कार्यक्रम प्रस्तुत कर रहे हैं जब कभी अब वह नब्बे वर्ष का कोई पूरा पता होगा और वह चौवालीस साल की एक हाँ

share-icon

00:00
00:00