Made with  in India

Buy PremiumDownload Kuku FM

Part 47

Share Kukufm
Part 47 in  | undefined undefined मे |  Audio book and podcasts
205Listens
लंबे कोमा से जागने के बाद दमन को पता चलता है कि वह एक जबरदस्त कार हादसे का शिकार हुआ था, जब उसके साथ एक लड़की भी थी, जो उसे मरा हुआ समझकर हादसे के फौरन बाद वहां से गायब हो गई। अजीब बात है कि उस लड़की का धुंधला चेहरा, सम्मोहित करनेवाली आंखें और उसका नाम श्रेयसी दमन को अब तक याद है, जबकि उसकी याददाश्‍त जा चुकी है। उसने सपने में देखी अपनी और श्रेयसी की कहानियों को जोड़ना शुरू किया, और फिर उसे अपने जबरदस्त लोकप्रिय ब्लॉग में ढाल दिया। कुछ समय बाद दमन अपने ब्लॉग को एक उपन्यास के तौर पर प्रकाशित करने का फैसला करता है। तब एक खूबसूरत लड़की, जो श्रेयसी होने का दावा करती थी, दमन का पीछा करने लगी और धमकाया कि दमन को अपना जमीर बेचने की भारी कीमत चुकानी पड़ेगी तथा अपना बदला लेने के लिए वह किसी भी हद तक जाएगी। दमन उससे निपटता, इससे पहले उसे मालूम करना था : क्या वह सच में वही है, जैसा दावा कर रही है? उसे अब उससे क्या चाहिए? अगर उस लड़की की बात नहीं मानी तो उसके साथ क्या होगा? जानने के लिए सुनें पूरी कहानी। Author - Durjoy Dutta
Read More
Transcript
View transcript

भाग साॅस ऐसी तीन घंटे से उसकी राह देख रही थी और सोच रही थी उससे कि किन शब्दों में बात करेगी । धवन ने अपने अपार्टमेंट में दाखिल होते हुए श्रेयसी की तरफ बढ कारों से चुम लिया हो । इसमें कुछ करता हूँ । उसने श्रेयसी से दीपिका पादुकोण की नई फिल्म देखने के बारे में पूछा । उसने अपने जूते उतारे और एक कोने में फेंक दिया । वो अपनी स्टडी टेबल पर बैठा और अपनी मेल्स चेक करने में लगा था तो मैंने देखा मैंने तीन चार्टर्स ले गए । मैं फिर से लिखने की गति पकड रहा हूँ । लगता है सारी चीजें वापस अपनी जगह बना रही हैं । श्रेयसी की तरह घुमाते हुए दमन बोला तो कहाँ थे? ऐसी ने पूछा बॅाल क्यूँ? किसके साथ अपनी उसने जवाब दिया तो मैं इस बात को छिपाने की कोशिश भी नहीं कर रहे । धवन ने अपनी शर्ट उतारी और अपना पसीना पोछा हूँ । अलमारी से एक धुली टी शर्ट ढूँढा लगा और एक घिसीपिटी ग्रे कलर की टीशर्ट पहले क्यों करुँ? छुपाने की कोशिश हम बस मिले और बैठ कर कुछ देर बात करी ऐसी बदला नहीं कुछ हम तो पहले यही इसी कुर्सी पर बैठे हुए तुम चलाओ लाकर उसे ये कह रहे थे ना कि चले जाओ और वह दरवाजे की तरफ खडी होकर रोड होकर तुम्हारा नाम ले रही थी । उसके बाद तो उस समय से बातें मुझे बाउंसरों ने मारा था । सुमित ने नहीं ऍम तुम को ज्यादा ही रिहा कर रही हूँ अपनी और मैं आगे बढ चुके हैं । बस दोस्त हैं । धमन बोला क्या? उसने तो मैं बताया कि उसे आगे बढने में किसने मदद की है । ऐसी दहाडी हान तुमने कुछ ऐसा तानाबाना बुना की बार करने वालों ने उसे नौकरी पर वापस रख लिया । उसने मुझे थैंक्स बोलने को कहा था तुम्हारे लिए । लेकिन ईमानदारी से कहा जाए तो उसे पुरानी नौकरी से निकलवाने का काम भी पहले तुम ही नहीं किया था उस वीडियो की वजह से जो मन तो मुझे सजा देना भी बंद करोगे । तो मैं जो कहना है तो एक बार में कहकर बात खत्म क्यों नहीं कर देते । किसी ना किसी बहाने से मुझे रोज झगडा करते हूँ । मैं चलाई है तुमसे नहीं चल रहा हूँ बल्कि तो मुझसे झगड रही हो । देखो मैं तुम से कितना प्यार करता हूँ । हम दोनों का मैच एकदम परफेक्ट है । मुझे कोई कमियां गलती नहीं दिखाई देती है । बावजूद इसके कि तुम एक ऐसे आदमी को अपनी कामुकता में फंसा रही थी, जिसे मैं रखना पसंद करता हूँ । ये महीने हम दोनों की खुशी के लिए क्या इस दिन का मैंने लंबे समय तक इंतजार किया? जो भी किया वक्त मारी घाटे, क्या उसको मैंने छुआ तक नहीं? और तो कोई कॉन्ट्रैक्ट मिल गया मिला की नहीं तो ऐसे क्यों कह रहे हो? तो वहाँ नहीं मुझे यह सोच रही हो । कार्तिक को तो महीने अपने कमरे में बुलाया था ना । अगर भरने का बीच में ना दी तो तुम क्या करने जा रही थी । कार्तिक के साथ कुछ नहीं । मुझे जो चाहिए था मिल गया था । वर्णिका ना भी आती ना तो भी मैं आगे कुछ नहीं करने वाली थी । मैं क्या जानूँ सामान? क्योंकि मैं तो मैं चाहती हो तो उनसे प्यार करती हूँ । कुछ हफ्तों पहले तुम अपने आप को बर्बाद करने पर तुले हुए थे । मुझे ऐसा करना पडा । शराब अपने आप को देखो । हम तो तीन अध्याय लिख चुके हो । उसकी बात काटकर दमन बीच में ही बोला ऐसा है तो ले जाओ । ये तीनों अध्याय कहते हुए उसने उन्हें फेंक दिया । मुझे इस तरह की बात करने की हिम्मत मत करो । ऐसी पलट कर बोली दमन ने आंखे तरेरी और जेब से मोबाइल निकालकर ऐसी को कार्तिक आई और कम मैसेज दिखाया । आप बताओ मैं इसका क्या जवाब दूं? मैं देख लूंगी उसे फिर से धमकी देकर । लेकिन मैं उसके उन शब्दों से कैसे छुटकारा पाऊंगा जो मेरे दिमाग में हलचल पैदा कर रहे हैं कि तुम्हारे लिए नहीं, उसके लिए शर्म की बात है । तो तो इस सारी बात से फायदा उठाने के लिए तैयार हूँ वहाँ । कितना अच्छा फायदा सोचा तुमने थे उनसे मेरी गर्लफ्रेंड को दूर करने का तोहफा है । ये ऍम मुस्कुराते हुए दमन बोला तुम कुछ ज्यादा ही बोल तुम्हारे पति से तो मैं दूर रखने के एवज में मुझे दलाली में क्या मिलने वाला है । भुगतान सप्ताहिक होगा, मासिक होगा । अर्धवार्षिक हो गया वार्षिक मैं तो कहूंगा कि हर महीने के महीने में भुगतान ही ठीक हैं । फॅालो ऐसी चीज थी । आपसे एक तमाचा जड दिया । ॅ हूँ करते हुए बोला देखो दो जरा कौन बोल रहे हैं । नहीं तो मैं अपने जीवन के तीन साल दिए है तीन साल उसके लिए मैं तुम्हारे एहसान मानूँगा तो मैं जो भी क्या सिर्फ इसलिए क्योंकि तुम ऐसा चाहती थी तुम ही हो जिसमें मेरा पीछा किया तो ही हो जो गोवा तक आई तो तुम्हें ऐसा इसलिए किया क्योंकि तुम मुझे जहाँ भी समझी तो ऐसे जनता हूँ जैसे कोई गलती हो गई । ऐसी बहुत बधाई हो । शायद तो हमारे सामने ही है । खुलासा करते हुए बडा अफसोस हो रहा है कि मैं वो नहीं हूँ तो मुझे समझ रही हूँ । लेकिन लगता है तो हरी रिलेशनशिप की खासियत है धोखाधाडी एक दूसरे को धोखा देना क्योंकि वास्तव में तुम वो नहीं हो जिससे मैं समझ रहा था । कम से कम अपनी के पास जाकर । तुम्हारी तरह कचोरी बात तो नहीं करता लेकिन शायद अब करूंगा ध्यान रखना । दमन ने उसका उपहास उडाते हुए कहा ठीक नहीं है । मैं व्यवहार के लायक तो नहीं हो । कम से कम यहाँ हम दोनों की सोच एक जैसी है । किसी ने अपना बैग उठाया और तेजी से दमन किया । पार्टमेंट है, निकल गई । उसने क्या ब्रो की और बैठकर सीधे चली गई । ऍम उसकी नींद उड गई थी जैसा कि पहले भी हो चुका है । कई बार दमन कुछ ही घंटों में शांत हो गया और माफी मांगने लगा । उसने श्री इसी का फोन ऍसे भर दिया । उसे धमकी देने लगा कि वह उसके घर पहुंच जाएगा, दरवाजे भर बढाएगा और सुबह तक उसके अपार्टमेंट के बाहर बढा रहेगा । पहले की तरह ही श्रेयसी ने भी उसे माफ कर दिया, डाली लगा लिया और कार्तिक के साथ जो भी हुआ उसे पीछे छोड दिया हूँ । गमन ने अपनी किए गलत व्यवहार की माफी मांगी और दोबारा ऐसा न करने की कसम खाई । ऐसी ने हर बार की तरह इस बार भी उस पर विश्वास कर लिया । वो हैवी उसे इतनी जल्दी छोडने वाली नहीं थी । इतना कुछ करने के बाद उसने जो ये संबंध बनाया था, उसे बरकरार रखना चाहती थी तो मुझे ऐसा जाती हो, वैसा ही करूंगा । कहते हुए उसने श्री इसी को गले लगा लिया और रोने लगा । जहाँ तक हो सकेगा, मैं एक बेहतरीन किताब लिखने की कोशिश करूंगा । हमारे बिहार को कोई भुला नहीं पाएगा । मुझे ज्यादा करता हूँ तुम से अगली रात ऐसी शांति से सो सकें ।

Details
लंबे कोमा से जागने के बाद दमन को पता चलता है कि वह एक जबरदस्त कार हादसे का शिकार हुआ था, जब उसके साथ एक लड़की भी थी, जो उसे मरा हुआ समझकर हादसे के फौरन बाद वहां से गायब हो गई। अजीब बात है कि उस लड़की का धुंधला चेहरा, सम्मोहित करनेवाली आंखें और उसका नाम श्रेयसी दमन को अब तक याद है, जबकि उसकी याददाश्‍त जा चुकी है। उसने सपने में देखी अपनी और श्रेयसी की कहानियों को जोड़ना शुरू किया, और फिर उसे अपने जबरदस्त लोकप्रिय ब्लॉग में ढाल दिया। कुछ समय बाद दमन अपने ब्लॉग को एक उपन्यास के तौर पर प्रकाशित करने का फैसला करता है। तब एक खूबसूरत लड़की, जो श्रेयसी होने का दावा करती थी, दमन का पीछा करने लगी और धमकाया कि दमन को अपना जमीर बेचने की भारी कीमत चुकानी पड़ेगी तथा अपना बदला लेने के लिए वह किसी भी हद तक जाएगी। दमन उससे निपटता, इससे पहले उसे मालूम करना था : क्या वह सच में वही है, जैसा दावा कर रही है? उसे अब उससे क्या चाहिए? अगर उस लड़की की बात नहीं मानी तो उसके साथ क्या होगा? जानने के लिए सुनें पूरी कहानी। Author - Durjoy Dutta
share-icon

00:00
00:00