Made with  in India

Buy PremiumDownload Kuku FM
Part 4 in  | undefined undefined मे |  Audio book and podcasts

Part 4 in Hindi

Share Kukufm
655 Listens
AuthorAditya Bajpai
हमारी अधूरी कहनी एक ऐसे इश्क़ की कहानी है जो इश्क़ चाह कर भी पूरा न हो पाया, पर अफसोस कुछ कहानियों वहीं से शुरू होती है जहां उनका अंत होता है writer: अर्पित वगेरिया Voiceover Artist : Mohil Author : Arpit Vageriya
Read More
Transcript
View transcript

एक नहीं दो हजार सत्रह उस सुबह आकाश में बादल छाए हुए थे । आलू में शोक मना रहे हो सैंडी को क्या आपसे हवाई अड्डा छोडने के बाद अरमान समुद्र तट पर चला गया । उसने मुंबई को अपने सबसे खराब दौर में भी अपनी रफ्तार होते नहीं देखा जाए । कल रात से ही सुरक्षा निशान को पार कर ऊंची ऊंची लहरें उठ नहीं थी और गोताखोरों ने उसे समुद्र के और नजदीक नहीं जाने की चेतावनी दी । उस नहीं है पता लगाने के लिए चारों ओर देखा कि क्या वे वहां खेला है । हवा के साथ पानी तेजी से बढ रहा था । मूसलाधार बारिश हो रही थी । ऐसे मौसम में उसे समुद्र तट पर किसी और के होने की उम्मीद नहीं थी । मुंबई की बारिश क्या चीज है देखते देखते ही खुश मगर मौसम को बिलकुल बर्बाद कर सकती है । उसने ये पता करने के लिए मुड कर देखा कि गोताखोर अभी भी वहां है या नहीं । रैप कहीं दिखाई नहीं पड रहा था । उसने उस लडकी को याद किया जब काल उसके सपने में आई थी और अपने अवचेतन में उसकी छवि बनाने की कोशिश करने लगा । उसने जैसे ये शुरू किया की लडकी की छवि पूरी तरह गायब हो गई और उसकी जगह उसके बाई और खडी उस लडकी ने ले ली जो लगभग उससे पचास फीट की दूरी पर थे । गिरता पानी और बादलों की गर्जना भी वहाँ खडी सुंदरी को विचलित नहीं कर पा रही थी । वो अपने शरीर को पूरी तरह फैलाकर कसरत कर रही थी । अरमान की आंखें कुछ चढ के लिए उसके शरीर के बीच के हिस्से पत्ते गई । मैं बिलकुल बेदाग सफेद बच जगमगाता सा था और दो से रहे बिलकुल किसी जलपरी की तरह लग रही थी । कसरत करते हुए तो कई बार पीछे की तरफ जो कि और ऐसा लग रहा था की कोई जलपरी लहरों को चुनौती दे रही हैं । आम भारतीय लडकियों से मैं कुछ अधिक लंबी थी और उसकी उम्र चौबीस पच्चीस के आस पास होगी । जब समुद्र के पानी से खेल रही थी तो ऐसा लग रहा था कि उसे समुद्र से बिल्कुल भी डर नहीं लगता । हरमान को हमेशा पानी से डर लगता था और यही वजह थी कि वह हमेशा समुद्र को दूर से ही देखता था, तेजी से खोदने लगा । कुछ समय बाद उसने छह फीट की दूरी पर दो इंटर रखी हैं और अपने पैर चौडे किए ताकि उन पर पैर रख सके । इसके बाद उसने अपना सिर झुकाया । हर अपना से बारी बारी से दोनों घुटनों की तरफ मोडने लगा । उसने अगले पांच मिनट तक व्यायाम जारी रखा । तब तक अरमान बारिश में पूरी तरह भी चुका था । कुछ देर बाद उसने अपने हाथों से ईंटों को छोडना शुरू कर दिया । पूरी तरह मंत्र मुग्ध हो गया से इतना लचीलापन अंतिम बाढ तब दिखाई पडा था जब मैं एक वेब साइट पर एथलेटिक कौन देख रहा था । भारत में पौन पर प्रतिबंध लगने के बाद उसमें वेबसाइट् नहीं मिली । लेकिन है वही सब क्या सोचना है । थोडी दूर से गोताखोर चलाया और उसे तथा उस लडकी को तटपर से जाने को कहा क्योंकि बहुत ऊंची ऊंची लहरें उठने लगी थी । उसने कुछ दूर से सिली लाया और अपना बैग कंधे पर टंगा तथा टहलते हुए पार्किंग क्षेत्र की तरफ भड गई । जब हार मान के नजदीक पहुंची मैं कुछ ताकि हुई नजर आ रही थी, पर तब भी सुंदरी लग रही थी । उसके सारे शरीर मेरे चिपकी हुई थी । उसने बैग से आपने बोतल निकाली और उसका पूरा पानी भी गई । आईमान हालांकि लगातार उस की ओर ताक रहा था, लेकिन ऐसा नहीं लग रहा था कि उसका ध्यान इस बात पर क्या अर माननीय ऑटो को रोकने का इशारा किया और उसे रोक लिया । अगले कुछ पल उसने धीरे धीरे ऑटो की ओर बढने में लगा दी है और पूरी कोशिश की की रहे उसके नजदीक आ जाए क्योंकि वहाँ आस पास और कोई और तो नहीं दिखाई पड रहा था । पर इस बात की भी संभावना नहीं थी कि वह लडकी अपने वाहन से वहाँ आई होगी क्योंकि पार्किंग का इलाका खाली पडा था । केवल एक संभावना बच्ची थी कि उसका वहां समुद्र किनारे कोई बंगला हूँ जिसकी कीमत कम से कम सौ करोड रुपये होगी । हालांकि वो अमीर नजर आती है । ये तीनों से संदेह था की समुद्र के किनारे का कोई बंगला उसका था । अरमान ऑटो में बैठ गया । ड्राइवर से थोडा रुकने के लिए कहा और ढूंढ रही थी लेकिन से और तो नहीं मिला । सुनिये अनुमान ने आवाज लगाई मैं दवाई की तरफ जा रहा हूँ कि आपको रास्ते में कहीं छोड दूँ । शुक्रिया मुझे चलती ही कुछ न कुछ मिल जाएगा । उसने शहर सी मीठी आवाज में कहा विश्वास की थी मुझे कोई दिक्कत नहीं होगी । मैं अंधेरी ईस्ट में रहती हूँ । मेरा अनुमान है कि व्याप के रास्ते में ही पडेगा हूँ । उसने मुस्कुराकर कहा । अरमान ने हाल फिलहाल जो आवाज सुनी थी, उनमें से उसकी आवाज सबसे प्यारी थी । उसने पहले अपना बाइक ऑटो में रखा और उसके बाद खुद बैठीं निर्माण से कुछ दूरी बना कर बैठे हैं । उनकी खुशी हुई, आपने मुझसे पूछा जैसी बारिश हो रही है । जिसके हाल फिलहाल रुकने के कोई भी आसार नजर नहीं आ रहे हैं, उसे देखते हुए मैं किसी न किसी तरह आपको राजी जरूर कर लेता हूँ । अरमान ने शरीफ इंसान बनते हुए कहा, मैं सहमत हूँ । मुंबई में दो चीजें मिलना कठिन है । एक अकेले व्यक्ति के लिए फ्लैट और बारिश में ऑटो या क्या हूँ? बिल्कुल सही, लेकिन एक चीज जोडना बोल गई । अरमान ने कहा और उस लडकी ने अपनी बहुत चढाकर उसकी और देखा । अरमान ने मुस्कुराकर का आपको मुंबई में कहीं शांति भी नहीं मिलेगी । मैं आपसे कुछ हद तक है, मैं हूँ लेकिन मेरा इलाका बहुत शांतिपूर्ण है क्योंकि बाहरी लोगों को हमारी सोसाइटी में अंदर नहीं जाने दिया जाता है । कहाँ रहती हैं एॅफ? क्या आप किसी दूसरे ग्रह की निवासी हैं? ऍम मैं चेवी ने घर में रहती हूँ । उसने कहा और अपने बालों को ठीक करने लगी । मैं ठीक से वे और अधिक सुंदर लग रही थी । उसने भरपूर कोशिश की की उसकी तरफ नहीं देखें लेकिन ये संभव ही नहीं हो पा रहा था । सबसे अच्छी लग रही थी और उसने सोचा कि वह बिल्कुल खराब दिख रहा है । उसने अपना नीला स्लिप ठीक किया तो नीचे से उसकी काली ब्राज डालाकोटी जो उसके सुडौल शरीर पर बिल्कुल सही लग रही थी । उसने देखा कि ऑटो चालक भी रह रहे कर उसे देख लेने की कोशिश कर रहा है । वह उस पर अधिक ध्यान दे रहा था और सडक पर काम । अरमान ने भले ही उसे गुस्से से टका हूँ लेकिन ऑटो चालक नहीं, उस की परवाह नहीं की । वे हर लालबत्ती पर रोका ताकि रहे उसे देख सकें । अचानक ऑटो चालक घबराया और डरा हुआ दिखाई बडा इसकी वजह जानने के लिए हर मानने अपने भाई और देखा हूँ । लडकी गुस्से से उस ऑटो चालक को देख रही थी । मुझे हैं कितनी गुस्से से भरी नजर थी कि अरमान शायद ही उसे कभी भूल पाए । हरमान को उसकी तरफ देखने तक मेंटर लग रहा था तो आप शांति प्रिय इंसान लगते हैं । क्यों उसने अचानक अपनी चेहरे पर मुस्कान लाते हुए कहा उसके चेहरे से ऐसा लग रहा था मानो कहीं कुछ हुआ ही नहीं हूँ? नहीं, ऐसा नहीं है । हम पहली बार मिले हैं इसलिए शायद मैं ज्यादा बात नहीं कर रहा हूँ और मान नहीं कहा मैं हंसी और कहा ऐसी मैंने ये मतलब नहीं था । आपने कहा था कि मुंबई में शांति मिलना कठिन है इसलिए मैं नहीं कहा । अरे ऐसी बात नहीं है, वास्तव में मैं देखा हूँ और अगर आस पास शांति नहीं होती तो मैं लिख नहीं पाता हूँ वो तो इस दृष्टि से क्या पवई भीडभाड वाला इलाका है? शांतिपूर्ण इलाका नहीं है नहीं ऐसी बात नहीं है । मैं जहाँ रहता हूँ काफी शांतिपूर्ण इलाका है । मेरी शांति तो प्रायास है लो खत्म कर देते हैं जिनसे चैनल में मेरा वास्ता पडता है आज जानती हैं । अब तक मैंने जितने लोग देखे हैं, सम्भवता है । सबसे निरर्थक लोग हैं और मैं मूर्ख । लोग अपने काम को जायज ठहराने के लिए लेखक के काम में बहुत ज्यादा दखलंदाजी करते हैं । मैं काॅलर शो की पटकथा लिख रहा हूँ और चैनल ने मेरा पूरा सप्ताहंत बर्बाद कर दिया । खाना तो हाथ उन लोगों से जितने चाहे उतने सवाल जवाब कर सकते हैं । लेकिन मुझे पूरा विश्वास है कि कभी कभी विकेट सार्थक बातचीत भी करते हैं । उसने कहा, और असहमती से सर हिलाया । रुकिए अपनी बात की मैं व्याख्या करता हूँ । आपने कभी अक्सा बीच देखा हैं जी देखा है और क्या आपने गैनही क्रीक देखा है? हाँ वो भी देखा है । चैनल बीच है और लेखक संकरी खाडी । हालांकि सारे कामकाज संकरी खाडी से होते हैं लेकिन सारा फायदा चैनल ले जाते हैं क्योंकि वे बीच है तय कार्यक्रम का प्रसारण करते हैं । विश्वास कीजिए मैं ऐसे सैकडों लोगों से मिल चुका हूँ । उन में से कोई भी मुझे कुछ खास नहीं लगा । मोटे बदसूरत मूर्ख अरमान ने अपने अंदर के दबे गुस्से को अपने शब्दों के सहारे निकाल के बाहर क्या और कुछ राहत महसूस की लेकिन उसे नहीं पता था कि ये राहत बस थोडी देर की है । आज आप एक और से मिले । अरे आप को मेरी स्वीकृति की जरूरत नहीं है । आप जानती हैं क्या काफी सुंदर है और आपस महत्व बुद्धिमान भी लगती हैं आई मानने का । उसे एहसास हुआ कि पहली बीट जो हो सकता है कि आखिरी भी हो तो देखते हुए मैं बहुत अधिक बोल दिया । लडकी बिल्कुल चकित कर देने वाले अंदाज में मुस्कुराई और कहा मेरा मतलब है कि आज आप चैनल के एक और कर्मी से मिले और चैनल के बारे में आप की राय जानकर मुझे प्रसन्नता नहीं हुई । केवल हुआ मुझे माफ कर दें । लेखक को कोस का बात बराबर करना चाहती होंगी । अगर आप ऐसा करेंगे तो मैं बहुत प्रसन्न होंगा हूँ । उसने लगभग खेद व्यक्त करते हुए कहा, अभी जो कुछ भी हुआ उससे मैं बुरी तरह अचकचा गया और ये समझ नहीं पा रहा था कि मैं अपने पापा पर नाराज हूँ या इस नुकसान की भरपाई के लिए कोई नया रास्ता तला हैं । वे सोच ही रहा था कि ऑटो रिक्शा अपनी मंजिल पर पहुंच गया । मैं केवल कुछ चढ चाहता था ताकि रही है सोच ले कि इस पर किस तरह लीपापोती की जा सकती हैं । उसने ऑटो चालक को डेढ सौ रुपये पकडा है । मामले को संभालने की कोशिश करते हुए अनुमान्य जल्दी से कहा, आपको पैसे देने की जरूरत नहीं, मैं कर दूंगा और वैसे भी आप का हिस्सा तो केवल आधा रुपए होता है । आप पूरा पैसा क्यों देंगी? चैनल लिंक लिखा के लिए कम से कम इतना तो कर ही सकता है । उसने मुस्कराते हुए कहा, उसके चेहरे पर मुस्कान देखकर अरमान को राहत महसूस हुई । मैं उसे बाहों में भरना चाहता था । चम्मन देकर गुड बॉय करना चाहता था । पर उसे पता था कि अभी थोडी देर पहले उसने जो कुछ भी किया उससे वह पहले ही अपनी भरत बिटवा चुका है । इसके अलावा उसे गुस्से में भरी रह नजर भी याद आई हो । उसमें थोडी देर पहले ऑटो चालक पर आंखें तरेरते हुए डाली थी तो बिना गुडबाय कहे आगे बढ गई तो उसने सोचा ये बहुत ही रूखा व्यवहार है और उस यात्रा के रोमांच को महसूस किया जो उसने उसकी जानकारी में अब तक की सबसे सुंदर लडकी के साथ की थी । हालांकि वो यात्रा रूमानी नहीं थी । मनी ही मैन में उसे इस बात का भी बुरा लगा कि उसने इस लडकी का नाम तक नहीं पूछा हूँ । अपनी बाकी जिंदगी कम से कम उसका पीछा करते हुए बिता सकता था और आपने होते पोतियों को अपनी पहली नजर में ही प्यार के बारे में बता सकता था । लेकिन अभी अभी उसने वह मौका खोल दिया । उसके फोन में मैसेज आने की आवाज हुई । भेजने वाला सारा कॅश आपसे मिलकर बहुत अच्छा लगा । लेफ्ट के लिए शुक्रिया । मेरे कैमरे स्कॉलर्स सारा एकदम स्तब्ध और चकित रह गया । उसकी प्रसन्नता साफ झलक रही थी । उसने एक राहत भरी सांस ली । उत्तेजना में उसके पैर काम रहे थे । वहाँ एक नहीं दुल्हन की तरह शर्मा रहा था और उसके तेजी से जहाँ रहे दिल पर एक संदेश ने हम लगा दिया । अंतर रहा उसके सुस्त दिल ने किसी और के लिए धडक ना शुरू किया और सबसे आश्चर्य की बात है किए चैनल के कर्मी सारा के लिए उसने उसके साथ विषय वस्तु पर चर्चा का अपना विचार छोड दिया । एक सटीक जवाब टाइप करने में उसे पंद्रह मिनट लगे । अब आपने मुझे अपना लिया । पेशेवर स्तर पर उसका जवाब आया, इस बार कोई संकेत नहीं था । मेरा यही था । इसने वापस संदेश लिखा, इस बार कोई जवाब नहीं आया । उसने इंतजार किया तो तुरंत में संदेश का उत्तर पानी कि हमें छोड दी ।

Details

Sound Engineer

हमारी अधूरी कहनी एक ऐसे इश्क़ की कहानी है जो इश्क़ चाह कर भी पूरा न हो पाया, पर अफसोस कुछ कहानियों वहीं से शुरू होती है जहां उनका अंत होता है writer: अर्पित वगेरिया Voiceover Artist : Mohil Author : Arpit Vageriya
share-icon

00:00
00:00