Made with  in India

Buy PremiumDownload Kuku FM

Part 18

Share Kukufm
Part 18 in  | undefined undefined मे |  Audio book and podcasts
173Listens
हमारी अधूरी कहनी एक ऐसे इश्क़ की कहानी है जो इश्क़ चाह कर भी पूरा न हो पाया, पर अफसोस कुछ कहानियों वहीं से शुरू होती है जहां उनका अंत होता है writer: अर्पित वगेरिया Voiceover Artist : Mohil Author : Arpit Vageriya
Read More
Transcript
View transcript

अरमान के किसी मीटिंग के लिए लगाना होने के बाद सारा भी क्या आपसे अपने ऑफिस रवाना हुई है? अरमान का ख्याल उसके दिमाग में आता रहा । मैं उससे अपने मौजूदा संबंध की स्थिति के बारे में सोचती रही । की बात है कि अरमान ने उससे उसके अतीत के बारे में ज्यादा कुछ नहीं पहुंचा चाहे इसकी कोई भी बच्चा हो । उसके दिमाग में यह बात आई कि हो सकता है मै उसके अतीत की अनदेखी करना चाहता हूँ । इसमें कोई शक नहीं कि उसका निश्चित रूप से अरमान के प्रति झुकाव था लेकिन उसके साथ होना जी था । उसने वास्तव में उसके साथ किसी तरह के प्रेम संबंधों के बारे में सोचा भी नहीं था । लेकिन आप मैं निश्चित तौर पर इसे उस नजर से देख रही थी । कल रात सबकुछ आवेश में हुआ लेकिन निश्चित तौर पर उसमें कहीं भावनाएं हुई थी । घर मान संभवता बहुत न कुत्ता चीनी करने वाला बॉयफ्रेंड नहीं था, में जरूरत से ज्यादा अपने हाथ चटाने वाला या उस पर नियंत्रण रखने वाला भी नहीं लगता था । और ऐसा लगता है कि यही बातें सारा को उसकी ओर और आकर्षित कर रही थी । पूरे दिन अरमान की ख्याल ही उसके दिमाग में आते रहे । उसके मन में सवाल उठ रहा था की अगर मान के प्रति उसकी भावनाएं या उसके प्रति अरमान की भावनाएँ क्या हमेशा ऐसे ही बनी रहेंगी । उसका पिछला प्रेम सम्बन्ध और उसकी परिणति उसे अरमान को अपनी जीवन में पूरी तरह स्वीकार करने से रोक नहीं थी । आमतौर पर बाद में अकेले नहीं रह जाती है । ये हिस्सा उसे तकलीफ देता था लेकिन उससे भी अधिक तकलीफ उसके सामने वाले व्यक्ति के भाग्य से होती थी । एकतरफावाद ए निश्चित रूप से बाद में स्थिति को और खराब कर देते हैं । क्या वे अगर मान के बारे में बहुत अधिक निष्कर्ष निकाल रही है, उसने अपने से पूछा, मैं उन चीजों के बारे में बात करना चाह रही थी जो हो रही थी लेकिन उसे पता था कि रहे इस बारे में चाहे कितनी बात करना होना चाहिए, इसके लिए मैं सही शब्द नहीं हो पाएगी । नहीं ऐसे बता पायेगी कि मैं उसे प्यार करती है लेकिन वादा करने से घबराती है क्योंकि उसे अलगाव से डर लगता है या जब अरमानों से देख रहा था और उसने उसे ताकते हुए पकड लिया तो उसे कितना अच्छा लगा था । यहाँ की जब प्यार करते हुए उन की सास है और शरीर एक हो गए थे । तब उसे कितना अच्छा लगा था कि उनके संभव के बाद भी फिर बातें करते रहना चाह रही थी । सारी बातें तो रोमांटिक बात है । मैं ये बातें नहीं बता पाएगी क्योंकि उनके संबंध कितने समय तक रहेंगे इसको लेकर मैं आश्वस्त नहीं है । उससे ये भी डर था कि उसे अकेला ही ना छोड दिया जाए है । इस बात की स्वीकृति चाहती थी कि इसमें कोई बात नहीं की उन्होंने इतनी जल्दी शारीरिक संबंध बना लिए । उसने अपनी क्या आपसे बाहर देखा । आकाश में काले काले बादल छाए हो गए थे । इस बार वर्ष बहुत सामान्य थी जो की बहुत आसामान्य बात थी । मुंबई कभी भी अपने मौसम से आपको चकित कर देती है । लिफ्ट बिल्कुल भरी हुई थी और अपने रोजमर्रा के अनुभव से उसे पता था कि अगली बार के लिए उसे और दस मिनट इंतजार करना पडेगा । इसलिए उसने सीढियों से ही जाने का निर्णय किया । इमारत के अंदर की गर्मी के कारण उसने अपनी फॅमिली नहीं रोज के मुकाबले एक घंटे देर से ऑफिस पहुंची । कर्मचारी देर तक आ रहे थे और उसकी नजर तुरंत तनुज की अहम निशा पर पडी जो कॉन्फ्रेंस रूम में मीटिंग कर रहे थे । एक मिनट से भी कम समय में सारा ने देखा कि तनुज और लेकिन उसे घोर रहे हैं । आम तौर पर ऐसी नजरों की परवाह नहीं करती । लेकिन अभी उसे उन नजरों में कुछ गंभीरता नजर आई । फॅस रूम में घुस गई सौरी मुझे कुछ हो गयी । कल देर रात की पार्टी खर्च रास्ते के ट्रैफिक की वजह से हमारे लिए यह सब कुछ मायने नहीं रखता । अनुज ने कहा, क्यों हम सब देर रात तक पार्टी कर रहे थे, यहाँ तक कि तुम्हारे और अरमान के जाने के बाद भी और हम भी मुंबई में ही रहते हैं । इसलिए मुंबई के ट्रैफिक के बारे में रोना बंद करो टेन । उसने कहा और सारा को समझ आ गया ये आज उस का दिन अच्छा नहीं जाने वाला । इसलिए मैं चुप हो गई । क्या हो रहा है? फॅसने पूछा । विकी और निशा सारा के जवाब का इंतजार कर रहे थे । मैं साफ साफ कह रहा हूँ इस कंपनी में कोई भी मेरे संदेश की अनदेखी नहीं करता । समझाया । अनुज ने कडे स्वर में कहा, लेकिन मैंने कभी अनदेखी नहीं की । मैंने निशा से कहा था कि तुम्हें फोन करके इस अत्यावश्यक बैठक की जानकारी दे दे । तुमने फोन उठाया मेरे पास निशा का कोई फोन ही नहीं आया । सारा ने सच्चाई बता दी । सर, आप चाहे तो मेरा फोन देख सकते हैं । मैंने से तीन बार फोन किया था, निशाने कहा और अपना फोन तनुष्का पकडा दिया । वजय दिख रहा है कि फोन किये गए थे । अनुज ने सारा को फोन दिखाते हुए कहा, खाकर में आपको फोन मिला हूँ और उसे तुरंत कार्ड तो भी का यही दिखाएगा कि फोन किया गया था । सारा ने अपना बचाव करते हुए कहा, तुमने मुझे कभी नहीं बताया कि तुम कानून की छात्रा हो । सारा कभी भी कानून की छात्रा नहीं रही । फिर इतनी दलीले क्यों कर रही हो? माफी मांग और आगे बढो तनुज ने चलाकर कहा कहा लोन की डिग्री भले ही ना हासिल की हो लेकिन जो भी डिग्री हासिल किए हैं वह मुझे बिना किसी गलती के माफी मांगना नहीं सिखाती । सारा ने पलट कर ऊंची आवाज में कहा इतनी चढाओ ये तुम्हारा ऑफिस है, तुम्हारा घर नहीं । जहाँ तुम अरमान के साथ रहती हो । वहाँ तुम जितना चाहो चला सकती हूँ लेकिन मेरे सामने नहीं । सारा ऍफ नहीं । गुस्से में जवाब दिया । उस झंड सारा बिल्कुल स्टाफ रह गई और उसे कुछ बोला नहीं गया । उसे नहीं पता था कि रहें और अरमान एक ही फ्लैट में रहते हैं । ये बात किसने बताई लेकिन निश्चित तौर पर इससे उसका मामला कमजोर हुआ । मेरा व्यक्ति का जीवन है और आप उस पर टिप्पणी करने वाले कोई नहीं होते हैं । क्या इस तरह तो मैं शो चला रही हो । उसे अपने घर का मामला बनाये ले रही हूँ । उसने पलट कर पूछा और इस तरह आप मुख्य महिला किरदार का चयन करते हैं । पहले उसके साथ होते हैं और फिर उसे नया शो दी थी । क्या आप उसके खराब अभिनय के पक्ष में कुछ कह पाएंगे? सारा ने बेहिचक पूछ लिया तो हमारे प्रति जवाबदेह नहीं हूँ तो मेरी बॉस नहीं हो । नए चैनल के लिए काम करता हूँ और बेहतर होगा कि तुम मेरे चरित्र पर उंगली मत उठाओ । टेन । उसने कहा । ठीक उसी तरह मैं भी उन व्यक्तिगत बातों को लेकर जवाब देने को बात ही नहीं जो आप यहाँ उठा रहे हैं । और मैं भी चैनल के लिए काम करती हूँ, व्यक्तिगत तौर पर आपके लिए नहीं । इसलिए बेहतर होगा कि बीरी अनुमति के बिना मुझे छोडने की कोशिश न करें जैसा कि कल आपने किया था । क्या कर लोगे तो ऍम नए तुम्हारे गाल पर करारा तमाचा मारूंगी और तुम्हें ऐसी जगह खींच कर लाख जमा हूँ कि कि तुम जो अपनी अभिनेत्रियों के साथ होते करते हो ना सब भूल जाओगे । तुम मुझे परेशान मत करो तो में उन कानूनों की अच्छी तरह जानकारी होगी जो महिलाओं को भरपूर सुरक्षा देते हैं । उनके कार्यस्थल पर भी सारा नी सीधे उसकी आंखों में देखकर यह बात कहती मैं तुम्हें ये कंपनी छोडने के लिए एक महीने का नोटिस देता हूँ । अनुज ने कहा तुम सिर्फ मेरे बॉस हो जिससे मैं काम के मामले में रिपोर्ट करूंगी । तुमने मुझे नौकरी पर नहीं रखा है । बेहतर होगा कि तुम उनसे लिखित में आदेश लेकर आओ और मैं चार प्रमुख हो । इस कक्ष में हुई थी कि बहस कि पूरी रिकॉर्डिंग दिखाती हूँ । सारा ने कहा और अंतिम बात मैं किसी की भी सात सौ या मैं किसी के साथ भी बैठक करूँ । जब तक मेरा शो तुम्हें रेटिंग दे रहा है तब तक तुम अपना भूल बंद रखो । उसने आक्रमक होते हुए कहा और उसके हाथ में जो नोन थी उससे दीवार पडते मारा । ऑफिस में हर एक को टन उनके कैबिन से गुस्से से भरी तेज तेज आवाजें सुनाई पड रही थी । कैबिन के शीर्ष कितने भी साउंड प्रूफ क्यों ना हो, ऍफ तो नहीं थे । हर कुछ थोडी आवाज तो बाहर तक आई नहीं जब बाहर आकर बैठ गई और अपने शांत होने का इंतजार करने लगी । हर आदमी उस की ओर देख रहा था । उसे सुनाई पड रहा था कि लोग तभी आवाज में उसके और तनुज के बारे में बात कर रहे थे और समझ नहीं पा रहे थे कि उसके दिमाग में क्या चल रहा है । उसने सोचा कि वह बडी सी बालकनी में जाकर थोडी देर पहले मैं तब भी नाराज दिखाई पड रही थी पर अपनी नाराजगी निकालने के लिए एक खाली कब उठाकर पटक दिया जो आम तौर पर उसके स्वभाव के विपरीत था । उसे अरमान से एक संदेश मिला जो एक बैठक खत्म कर कहीं दूसरी जगह किसी से मिलने जा रहा था । मैं तुम्हें बिहार करता हूँ मेरी कार्यकारी निर्माता उसने संदेश में लिखा तो प्यार के बारे में क्या जानते हो? मिस्टर अरमान उसने गुस्से में जवाब दिया, मैं प्यार के बारे में कुछ नहीं जानता हूँ । इस दुनिया में सिर्फ तुमसे बात करते रहना चाहता हूँ और फिर भी तुम से बात करने की चाहत बनी रहती है । में जाना चाहता हूँ कि तुम कहाँ खाना चाहोगी तुम्हारा देन कैसा रहा, क्या अच्छा रहा तो किस बात से परेशान हूँ । मैं तुमसे किसी भी बात पर बहस करना चाहूंगा । मैं तुम्हारी दलीलें सुनना चाहता हूँ तो मैं पता है कि पूरी तरह गलत होती हैं । मुझे पता है कि आसान नहीं है । मुझे पता है मैं सोचता हूँ कि अगर तुम्हें विश्वास है कि मैं तुम्हारे लिए बना हूँ तो मेरे लिए बनी हो तो बाकी हम सब सुलझा लेंगे । हाल फिलहाल मुझे पता है कि बहुत ही आवाजें मेरा ध्यान अपनी ओर खींचना चाहती हैं और कई बार तो ये हालत हो जाती है कि मैं अपनी आवाज तक नहीं सुन पाता तो मैं देखता हूँ । हाँ, जिस तरह तुम अपने बाल संभालती हूँ और मुझे देखकर जब मुस्कुराती हूँ मैं अपने होश होता हूँ । इस पर प्रतिक्रिया देना कठिन है क्योंकि मुझे पता है कि मैं हमेशा यही देखना चाहता हूँ और मन में इसे खोने का डर बना रहता है । अपने प्यार के बारे में कुछ नहीं जानता हूँ । मुझे नहीं पता लेकिन मुझे कुछ पाते पता है । मुझे पता है कि मैं अपनी हर लॉन्ग ड्राइव पर हमारे साथ ही जाना चाहता हूँ । मैं चाहता हूँ की जब भी में नशे में रहूँ था मेरे साथ नहीं हूँ । मैं चाहता हूँ की जब भी तुम परेशान ना हो मैं तुम्हारे साथ हूँ और मैं जीवन भर ज्यादा से ज्यादा वक्त तुम्हारे साथ बता सकूँ क्योंकि मैं प्यार के बारे में कुछ नहीं जानता हूँ और मुझे उम्मीद है कि तुम किसी दिन मुझे समझा होगी कि प्यार क्या होता है । अरमान का यह संदेश बढते हुए मुस्कुराई । एक मिनट बाद बालकनी में शांति से खडी थी और सोच रही थी कि ऑफिस में अभी जो बहस हुई उससे क्या है । आपा खो बैठी हैं इसमें कोई आश्चर्य नहीं लेकिन अरमान की छवि उसकी आंखों में उभरी हल्का सा मस्करा गई । पर इस बात पर आश्वस्त हो गई कि कम से कम कोई ये कैसा है जो उसके चेहरे पर उस समय भी मुस्कान ला सकता है जब वह सबसे ज्यादा खराब मूड में हो हैं ।

Details
हमारी अधूरी कहनी एक ऐसे इश्क़ की कहानी है जो इश्क़ चाह कर भी पूरा न हो पाया, पर अफसोस कुछ कहानियों वहीं से शुरू होती है जहां उनका अंत होता है writer: अर्पित वगेरिया Voiceover Artist : Mohil Author : Arpit Vageriya
share-icon

00:00
00:00