Made with  in India

Buy PremiumDownload Kuku FM

muskurane ki wajha tum ho 16

Share Kukufm
muskurane ki wajha tum ho 16 in  | undefined undefined मे |  Audio book and podcasts
377Listens
रनबीर, अदा को चाहता है और उसके लिए दुनिया छोड़ सकता है। उसके पास अच्‍छी नौकरी है, मोटी सैलरी है लेकिन उसकी इच्‍छा कुछ और करने की है। एक दिन काफी सोच-विचार के बाद, वह अपनी नौकरी को छोड़ पूरी तरह से लिखने के काम में जुट जाता है। वह जब इस क्षेत्र में संघर्ष कर रहा होता है, तो अदा उससे दूर होने लगती है। इन सारी उलझनों के बीच, पीहू शर्मा उसकी जिंदगी में आती है, जो उसकी अब तक की पहली प्रशंसक, और पूरी तरह से उसके प्यार में डूबी हुई लगती है। किसका प्‍यार सच्‍चा है अदा या पीहू का? सुनें पूरी कहानी।
Read More
Transcript
View transcript

रात को रणवीर अपने फ्लैट की सीढियां चला रहा था । अंदर लक्ष्य आपने गर्लफ्रेंड क्रेशा के साथ डिनर टेस्ट के लिए तैयार हो रहा था । रणवीर है अपने जूते उतारे और धीरे से अपने कमरे में चला गया । लक्ष्य उसके पीछे उसके बेटों में आ गया । रणवीर का भी स्थिर लग रहा था । लक्ष्य समझ गया कि रणवीर अपने विचारों के साथ अकेला रहना चाहता था । उसने रणबीर के कमरे में नर्सें कुमाई तो देखा कि उसने अदा की तस्वीरें हटा दी थी । बिस्तर के पास वाले भी जो उसे बहुत पसंद थी । लक्ष्य अचानक असहज हो गया और उसने देखा की रणबीर भी अपने विचारों में खोया हुआ था । रणवीर बालकनी में बैठा था और लक्ष्य ने देखा कि वह पीहू की तस्वीरों को घूम रहा था । लक्ष्य ने ध्यान दिया की रणबीर किस तरह पीहू की तस्वीरें देख रहा था । रणवीर नहीं उसे देख लिया लेकिन कुछ कहा नहीं । पीहू के बारे में किसी भी चर्चा से बचने के लिए उसने ब्राउजर विंडो बदल दिया । आखिरकार सब उनके बीच की चुप्पी कष्टदाई होने लगी तो लक्ष्य उसके सामने बैठ गया । क्या चल रहा है उस खास नहीं? रणवीर नहीं उससे आंखें मिले इलाका तुम कुछ अजीब हरकतें नहीं करता हूँ नहीं तो मैं तो बस कुछ चीजों के बारे में सोच रहा हूँ । रणबीर मुझे बताया तो तुम्हारी पीहू से मुलाकात कैसी नहीं । क्या तुम सच में उसके बारे में जानना चाहते हो? रणवीर हूँ मुझे लगता है मैं सुन सकता हूँ । लक्ष्य एक पल रुका और फिर अपनी जेब से एक सिगरेट निकालकर चलाई और बोला यह सिगरेट खत्म होने से पहले मुझे सब बता दूँ । मुझे उसके साथ बहुत अच्छा लगता है । बस वो कुछ दिन नहीं रहने वाली है । मुझे लगता है कुछ अच्छी चीजें होने वाली है । लक्ष्य ने चेहरे पर कोई भाव लाए बिना कहा मुझे नहीं पता रणबीर ने का हो सकता है आगे अच्छा समय हूँ । अच्छा समय मतलब एक रिश्ते में हूँ । आपका तो चुनाव होना । जैसा मैंने कहा मुझे नहीं पता । मैं तो ये भी नहीं कह सकता कि उसके दो दिन कॉल न करने पर मुझे कैसा लगेगा । रणवीर ने का सच कहूँ तो मैं आगे बढना चाहता हूँ लेकिन बल्कि मैं लगभग पड रही चुका हूँ । लक्ष्य ऍफ का क्या जो तुम्हारा अदा के साथ था । मैं नहीं जानता हूँ । लेकिन अगर सिर्फ मैं ही हूँ जिससे इस रिश्ते की परवाह है तो मैं इससे क्यू चिपका रहूँ, ठीक है । लक्ष्य ने कहा और बाहर देखने लगा । रणवीर ने देखा कि वो छोडा हुआ सा लग रहा था । पल भर बाद जब लक्ष्य आपने सिगरेट खत्म कर चुका था और अंतिम कष्ट ले रहा था, उसने रणवीर की ओर देखा ये क्या था? रणवीर ने भी उसे खोलते हुए कहा, जानते हो मैं कई सालों से सिगरेट पी रहा हूँ और कई सिगरेट पीने वालों से मिला । हम सिगरेट को लगभग अंत तक भी सकते हैं । लेकिन सबसे महत्वपूर्ण बात है उस अंतिम कश् से अपने होठों को सुरक्षित रखा । तो तो मैं लगता है सिगरेट में बचा हुआ है । तुम चल रहे ऐसे गुस्से से चल रहे हो जिसने तो मैं शांत कर दिया है ताकि तुम बदला ले सकते हो । तो मैं कुछ देर ये अच्छा लगेगा । लेकिन सबसे महत्वपूर्ण बात है तुम्हारे जीवन को उस चलते हुए गुस्से या पतले के धोनी के अंतिम हिस्से से बचा रहा हूँ जो तुम्हें लगता है । तुम्हारे अंदर शेष है अनजाने में उसने रणबीर के ही आंतरिक विचारों को अपनी आवाज देती थी । लेकिन रणवीर खुद से यही कहता रहा कि लक्ष्य सब उसका ध्यान भटकाने के लिए ऐसा कर रहा है । तुम चाहते हो मैं ताली बच्चों पिछले बार तुमने वाइन का उदाहरण दिया और इस पर सिगरेट ड्रग्स लेकर बैठे हो गया । हमारे लिए भी हो तो ड्रग्स का साथ तुम्हारे हिसाब से अच्छा है । अब नहीं आता के साथ रिश्ते में था तो तो मैं समस्या थी और जब पीहू के साथ तैयार रिश्ता बनाने जा रहा हूँ तब भी तो मैं समस्या है । मुझे कोई समस्या नहीं है । मैं सिर्फ इतना चाहता हूँ कि जिस रास्ते पर तुम पहले चल चुके हो उस पर अपनी नजर रखो । हो सकता है कभी तुम क्यूँ के साथ जीवन बिताना चाहूँगी और तब तो मैं अपने फैसले से निराश नहीं होना पडे । पीते अपना सिर हिलाकर का मैं वैसे भी ज्यादा समय यहाँ रहने वाला नहीं क्योंकि मैं जल्दी ही पीहू के साथ जाकर रहने की योजना बना रहा हूँ और तुम्हें नहीं लगा ये बात पहले बताना जरूरी था । लक्ष्य ने पूछा नहीं मुझे नहीं लगा दक्षिण से अपनी भावनाएं उठाएंगे । अच्छा ऐसा क्यूँ क्योंकि पिछली बार जब तुमने पीहू के बारे में बात की थी तो हम इस रिश्ते को लेकर बहुत खुश नहीं थे । ऐसा नहीं है । हम पाँच तो अलग अलग पन्नों पर थे । मैंने देखा कि आज सुबह भी जब भी हो । नहीं, मुझे सरप्राइज दिया तो तुम खुश नहीं थे । रणवीर के साथ अपनी असहमति जारी रखते हुए लक्ष्य सीधे रणवीर की आंखों में देखते हुए बोला, अगर तुम थोडे और होशियार होते हैं तो शायद समझ पाते कि मैं ज्यादा खुश क्यों नहीं था? अच्छा क्योंकि मैं बेवकूफ की तरह अपने अतीत को लेकर होते रहने के बजाय समय का आनंद लेना चाहता हूँ । लक्ष्य रणबीर के और कुछ कहने का इंतजार करता रहा लेकिन इस बार वो सच में गंभीर लग रहा था । जब से उनके बीच पीहू को लेकर चर्चा हुई थी, दोनों के बीच तनाव चल रहा था तो मैं एक बच्चे की तरह हरकतें मत करो तो मैं फ्लाइट से जाने की जरूरत नहीं है । मैं तुमसे रूखेपन से बात नहीं करना चाहता था । बस इतना कहना चाहता हूँ कि अपने रिश्तों के लक्ष्य में पीहू को शामिल बात करो । टोमॅटो के बारे में कुछ कहा गया तुम जो खुद इसके बारे में कुछ नहीं डालते हैं, लक्ष्य तो मैं किसी भी तरह के रिश्ते में कभी दिलचस्पी नहीं थी और तुम्हारी एक से कल फ्रेंड दे तो मैं इसलिए छोड दिया था क्योंकि तुम उसकी सौतेली बहन त्रिशा के साथ सोए थे तो शायद तुम्हारे जैसी बकवास लडकी है । रणवीर ने पुराने पन्ने खोल दिए थे मेरे अतीत को छूने की कोशिश पद करोड भी तृशा के खिलाफ एक सबका मत कहना बहुत बुरा हो सकता है । रनवेज खडा हो गया और एक ही क्लास में ऐसी कई बातें कह गया जो वो कहना नहीं चाहता था । और कई ऐसी बातें कहने से छूट गया तो वो कहना चाहता था, लक्ष्य सिर्फ इसलिए कि तुम्हें तो भारत जीवन में प्यार नहीं मिल पाया तो तुम पाना चाहते थे तो मुझे भी ऐसा करने से रोक रही हूँ । जब मैं अदा के साथ था तब भी तुम मुझे रोकते थे और अब जब मैं बिहू के साथ हूँ तब भी रोक रहे हो तो हमेशा से एक लेडीज थी । प्यार के मामले में तुम बिल्कुल विफल रहे हो । तुम अपने बताने हिस्से को कभी स्थिर नहीं रखता है और इसी वजह से तुमने उस लडकी को खो दिया जो तो मैं सबसे ज्यादा प्यार करती थी । धोखा मैंने नहीं दिया था वो खुद हफ्ते नए प्यार के साथ चली गई थी । अगर तुम मत पे निगाहें सडक पर रख पाते हैं जिस पर तुम चल रहे थे तो तो मैं किसी और के लिए उसे खोला नहीं पडता है । लक्ष्य को एक रोमांचक साथ महसूस हुआ जैसे वो एक स्काईडाइव के लिए बैठा हूँ और उसे किसी भी पल नीचे कूदना पड जाए बिना ये सोचे कि आगे क्या होगा । इस बातचीत में उन्हें एक दूसरे से दूर कर दिया, एक भाई चारा और एक प्यारा सा बंधन टूट गया था । ये एक ऐसी बात थी जो दोनों ही समझ नहीं पा रहे थे और रणबीर उसका हर्ट सुनने के मूड में भी नहीं लग रहा था । अच्छे इरादों के बावजूद लक्ष्य दोनों के बीच के मतभेद की वास्तविकता को समझाते लगा था । उसे डर था कि रणवीर के जीवन में एक बार और दिल टूटने की संभावना हो सकती है । वो जीवन जिसका लक्ष्य भी एक महत्वपूर्ण हिस्सा था, मैं कल यहाँ से जा रहा हूँ । मैं इस महीने का किराया दे दूंगा और मकान मालिक से आपने डिपॉजिट के बारे में बात करूँगा । लक्ष्य भी किसी भ्रम में नहीं था और जानता था कि इस बहस के बाद उन दोनों के बीच पहले जैसा संबंध नहीं होगा । फिर भी उसने ये नहीं सोचा था कि रणबीर इस तरह फ्लैट छोडने का उसे अपने अंदर कुछ टूटता हुआ महसूस हुआ । अपने सबसे अच्छे दोस्त से उसका अलगाव आसान था । कुछ ही देर में रणवीर ने आकर कहा ये तो भारी कार की चाबियां और पांच हजार रुपये हैं । कार्ड तो हो गई थी और उसमें आगे थोडा टेंट भी पड गया है । अगले कुछ घंटों तक लक्ष्य यही सोचता रहा कि कैसे अचानक सब कुछ बदल गया था । वो आगे कोई बहस करना नहीं चाहता था । पहली बार वो कमजोर और दुखी महसूस कर रहा था । उसके भीतर ही आवाज में कुछ था जो रणवीर को पीहू के साथ रिश्ता शुरू करने से रोकना चाहता था । उसे लग रहा था कि उसे रणवीर को बता देना चाहिए कि उसने उस दिन क्या देखा था । लेकिन शायद ये सही समय नहीं था । शायद कुछ दिनों बाद, महीनो बाद या शायद तब जब वो सुनने को तैयार हो । लेकिन अगर वे संपर्क में रहें तभी तो उसी शाम रणवीर और लक्ष्य के मौखिक विवाद से छह घंटे पहले लक्ष्य टहलता हुआ कैफे कॉफी डे तक चला गया था । कई दिनों बाद सूरज निर्दयता से आग बरसा रहा था । वो उलझन में था की आइस टीम बनवाए या कैसे फ्लॉप पे । तभी उसने एक परिचित आवाज सुनी और मोडकर देखा तो बी जे के साथ ज्यादा थी । वो किसी को ढूंढ रही थी । लक्ष्य ने चारों ओर से घुमाकर देखा की उसके साथ कौन आया था लेकिन वहाँ कोई नहीं था । लक्ष्य एक सुरक्षित सीट पर बैठ गया था और उनकी नजरों से बचने के लिए कहाँ पहले पता नहीं ले । शॉर्ट्स और सफेद झीने टॉप में बेहद आकर्षक लग रही थी । बीजेपी एक की तरह लग रही थी लेकिन बहत हॉट पेस्ट लक्ष्य सोचने लगा कि रनवीर कितना खुशकिस्मत था तो उसे वीजा नहीं चुना था । उसके सोरखा लाल होट जीवन भर के लिए उसकी वासना की पुष्टि कर सकते थे । जहाँ पागलों की तरह किसी का इंतजार कर रही थी, वहीं बी जे काफी उदासीन से लग रही थी । तभी अदा खडे होकर मुस्कुराई । विजय ने भी उसका अनुसरण किया । मैंने तुम्हारे बारे में बहुत सुना है । विजय बोली, अदा नहीं, रेहान को आलिंगन में ले लिया और पूरी मुझे बहुत खुशी है कि तो माँ आएगा । रिहाल विषय काफी समय से तुम से मिलना चाहती थी । देखो कितने उत्साहित हैं । विजय ने चारों ओर देखा कि कहीं लोग उन्हें देखते नहीं रहे थे लेकिन लक्ष्य पर उसका ध्यान नहीं गया । तुम क्या लोगी? विजय रेहान और मैं लीची शेख लेंगे । अरे कुछ नहीं । विजय ने जवाब दिया मैं तुम्हारे लिए भी ले चीज शेक मंगवा रही हूँ तो मैं पसंद आएगा । अदा ने कहा और वेटर को ऑर्डर दे दिया । अच्छा बताती रही कि वह और रिहान कैसे मिले थे और कैसे वे बचपन से एक दूसरे को जानते थे । कुछ ही देर में बेटर उन्हें तीन लीची शेख गया अदा फस रही थी । ताली बजा रही थी और खुशी से चिल्ला रही थी । वो रणवीर के साथ इतनी खुश कभी नहीं लगती थी । वहाँ बैठे लोग बीस बीच में उसे मुड कर देख रहे थे । विजय अभी भी उदासीन लग रही थी, तुमसे क्यों नहीं ले रही हूँ । मेरा मन नहीं है वो भी हर एक । ये पानी ही तो है चलो या ये हमारी पसंदीदा ट्रिंग हैं । प्रेस पीलो विषय सिर हिलाया और हॉल में चारों ओर नजर घुमाकर देखा तो उसे खुद पर अंजान लोगों की आंखे महसूस होने लगी । कुछ देर बाद पीछे अदा को सुन रही थी और अदा अपने बचपन के संबंधों और यादव के बारे में बता दी जा रही थी । उससे अपने पहले प्यार के बारे में बताया । पहला ब्रेकअप के बारे में बताया और फिर ये भी बताया कि कैसे रणवीर के साथ आगे बढने पर उसे दस के सिवाय कुछ नहीं मिला । विजय बेमन से अपना लीची शेक पी रही थी । वो थकी हुई लग रही थी । लेकिन जब माता ने बोलना शुरू कर दिया तो वह पहले की तुलना में ज्यादा खुश और सहज लगने लगी । मेरा विश्वास करूँ मैं रणवीर के साथ कभी खुश नहीं रह सकती थी । विजय से पूछूँगा नहीं का हाँ इसके लिए सब तुम थे । रिहान तुम्हारे ब्रेकअप के बाद कभी आगे नहीं बढ पाई । रणवीर नहीं सिर्फ परेशानी और बुरी या देती हैं । विजय ने हाँ में हाँ मिलाई । लक्ष्य वहां बैठा हुआ उनकी बातें सुन रहा था । उसे विजय की बात से उलझन हो रही थी । किसी और बहुत से ज्यादा उसे अदा की चिंता हो रही थी और उसके चेहरे पर चिंता और सहानुभूति झलक रही थी । रिहाल मैं तो ऐसी कई बातें नहीं बता पाई थी जो मैं बताना चाहती थी । लेकिन वो सिर्फ तुम हो तो मुझे सबसे ज्यादा खुश कर सकते हो । जब मेरे जीवन में कोई नहीं था तब तुमने मुझे सहारा दिया और जब तुम्हें मेरी सबसे ज्यादा जरूरत थी, मैंने तुम्हें रणवीर के लिए छोड दिया । समय के साथ मुझे तो भारी परवाह बारे प्यार और सहारे की आदत होगी । मैं ये कह रही मैं तो मैं मिस कर रही हूँ । तुम फौरन मुस्लिम मिलने यहाँ तक आ गए । उसके चेहरे पर शोकपूर्ण भाव के साथ देहान् पर नजरे टिका दिए और पूरी पीस कुछ किसी और के लिए कभी मत छोडना । सब की शादी तोड दो । अपने वादे भूल जाऊँ । मैं तो मैं सबसे ज्यादा प्यार करती हूँ और मैं जानती हूँ कि तुम भी मुझे प्यार करते हो । हम एक दूसरे को ऐसे प्यार करेंगे जैसे वह दुनिया का आखिरी प्यार हो । हम एक दूसरे को ऐसे प्यार करेंगे जैसे हम तो छुट्टी तो और एक ज्ञान हूँ और वो भी जीवन भर के लिए । सिर्फ एक बार स्वार्थीपन जाऊँ और इस पर हमेशा के लिए बेटे हो जाऊँ । अच्छा सभी संभावनाओं के बारे में सोच रही थी लेकिन इस बार वो न सुनने के लिए तैयार नहीं थी । नहीं मुझे पता हूँ क्या तुम फिर से मेरे साथ खाने के लिए तैयार हूँ । पता नहीं रिहान से पूछा । अगले कुछ पल छुपी में बीत गए । एक वेटर उनकी टेबल से लीची शेख के खाली क्लास लेने आया । उसने पूछा किसी और को कुछ चाहिए था क्या? तो बी जे और अदा ने मना कर दिया । फिर पता नहीं रहना से पूछा लेकिन अदा के मना करने के बाद बेटर और कुछ सुनने के लिए नहीं रुका और चला गया । तुम कुछ बोल क्यों नहीं रहे हो रहे हैं पता नहीं पूछा । उसने जवाब नहीं दिया । अदा ने बी जे को इशारा किया कि ध्यान से वह बात करें । हम इसके बारे में घर चल कर बात करें था । विजय ने कहा यहीं पर बात करते हैं ना पता नहीं तोड देते हुए यहाँ तो बोलना चाहिए तो इस तरह चुप नहीं रह सकते । तुम्हारे साथ रहने के लिए इसमें सबको छोड दिया है । बीजे बोली तुम जानती हो ये सब कैसा है । मेरे लिए सब कुछ खत्म करना आसान नहीं है । मैं भी आसानी से अपनी शादी नहीं तोड सकता हूँ । मेरी शादी को कुछ ही महीने बचे हैं और मुझे नहीं लगता कि मैं इतनी आसानी से उसके लिए मना कर सकता हूँ । रेहान बोला हूँ यही वो कारण है जिसके लिए मैं तुम से मिलना चाहती थी । मैं देखना चाहती थी कि क्या हम लोग किसी तरह ये सब ठीक कर सकते हैं लेकिन पहले तो उनसे इतनी निराशा की उम्मीद नहीं की थी । रहन तुमने मुझसे कितने लंबे समय से बात नहीं की है और तुम मुझसे एक झटके में फैसला करने की उम्मीद करती हूँ । उसके बाद की छुट्टी में लक्ष्य को अदा के सुप रखने की आवाज आने लगी । मैं तुमसे एक झटके में फैसला करने के लिए नहीं कह रही हूँ । मैं तुमसे मेरे जीवन में वापस आने के लिए सोचने को कह रही हूँ । रणवीर के बाद मुझे किसी को खोते लेकर डर लगने लगा है । आता नहीं चलाती तो बदल गए होते हैं । कुछ नहीं बदला है । क्या तुम कल्पना कर सकती हूँ? ये महसूस करना कैसा लगता है कि दो महीने में तुम्हारी शादी एक अजनबी से होने वाली है और अब वो जिसे तुम प्यार करते थे तो भारी जीवन में वापस होना चाहते हैं तो मुझे लगता है ये आसान है लेकिन कम से कम वो लडकी तुम्हारे जीवन में वापस को आना चाहती है । बयान अगर तुम अभी मुझे नहीं अपना हो गए तो कई जिंदगियां बर्बाद कर तू के जिनमें तुम्हारी तुम्हारे मंगेतर की और मेरी भी होगी । मेरे साथ ऐसा मत करो । मुझे तुम्हारी जरूरत है । पूरी तरह से तो कुछ छोड नहीं सकते । यहाँ और जोर जोर से रोने लगी । वहां मौजूद सभी लोगों का ध्यान अब इस नाटक पर था । रिहान को उसके शब्दों से चोट पहुंची और वह दुखी हो गया । लक्ष्य ने देखा कि वहाँ से निकलकर अपनी कार में बैठा और पीछे मुडकर देखे बिना चला गया । उसी पल में लोगों ने अपनी बातचीत बंद करती वेटर नहीं टीवी बंद कर दिया और सबकी नजरें अदा की हो गई । अभी भी उदासीन लग रही थी तो सुबह हुई ज्यादा को लेकर बाहर निकल गई और फिर लक्ष्य की दृष्टि से ओझल हो गई । लक्ष्य चुप था । जो कुछ भी हुआ था उसे देखकर को उलझन में था । वो वापस जाकर दोबारा सब कुछ देखना चाहता था, शायद इस पर और निकट से ताकि वह इस मीटिंग का मतलब और भाव समझ सकें । वो बाहर निकल आया और घर के रास्ते में उस व्यक्ति के बारे में सोचता रहा जिससे दोनों लडकियाँ बात कर रही थी । आखिर मामला किया था अच्छा इतना क्यों हो रही थी और उसके सबसे अच्छे दोस्त होने के बावजूद बीचे कितनी उदासीन लग रही थी । उसे उनके अजीब व्यवहार या उनकी मीटिंग के पीछे का उद्देश्य नहीं मालूम था । वो अपने घर में भी बात कर सकते थे । कुछ ही देख नहीं वो अपनी सडक के किनारे पहुंच गया । लेकिन अभी भी तो उनके अच्छी पे वहाँ का कारण नहीं समझ पाया था । सबसे पहले उसने सीधे अदा से पूछने का सोचा लेकिन ये विचार मन में आते ही उसने बेवकूफी भरा समझकर रद्द कर दिया । समय देखकर उसने अंदाजा लगाया कि रणवीर एक आठ घंटे में घर आ जाएगा । उसके मन में छवियां आ जा रही थी और वह विभिन्न संभावनाओं के बारे में सोच रहा था और हालांकि उन में से कोई भी उसे सटीक नहीं लग रही थी । उसके खुद के विचार उसे परेशान कर रहे थे और वह प्रार्थना कर रहा था कि जो कुछ उसने अभी सोचा था वह सपने में भी कभी सच ना निकले । उसके मन में निरंतर बिना रुके विचार आ रहे थे और फिर उसने निश्चय कर लिया कि जब रनवीर पीहू के घर से वापस आएगा तो वह उसे सब कुछ बता देगा ।

Details
रनबीर, अदा को चाहता है और उसके लिए दुनिया छोड़ सकता है। उसके पास अच्‍छी नौकरी है, मोटी सैलरी है लेकिन उसकी इच्‍छा कुछ और करने की है। एक दिन काफी सोच-विचार के बाद, वह अपनी नौकरी को छोड़ पूरी तरह से लिखने के काम में जुट जाता है। वह जब इस क्षेत्र में संघर्ष कर रहा होता है, तो अदा उससे दूर होने लगती है। इन सारी उलझनों के बीच, पीहू शर्मा उसकी जिंदगी में आती है, जो उसकी अब तक की पहली प्रशंसक, और पूरी तरह से उसके प्यार में डूबी हुई लगती है। किसका प्‍यार सच्‍चा है अदा या पीहू का? सुनें पूरी कहानी।
share-icon

00:00
00:00