Made with  in India

Buy PremiumDownload Kuku FM
Chhoti Sarpanch - Part 12 in  | undefined undefined मे |  Audio book and podcasts

Chhoti Sarpanch - Part 12 in Hindi

Share Kukufm
578 Listens
AuthorParteek Saxena
शहर में पढ़ी लिखी लड़की, पिछड़े गांव के माहौल को किस तरह आधुनिक बनाती है। किस तरह वो गांव पर राज कर रहे, सरपंच का सच गांव के सामने लेकर आती है। Author : Prateek Saxena Voiceover Artist : Shrikant Sinha
Read More
Transcript
View transcript

इतना हॉस्पिटल में थी । डॉक्टर नेता को घर जाने की सलाह देते हैं और उत्र नेत्रा के माता पिता एवं उसकी बहन हॉस्पिटल में मौजूद थे । रूद्र अपनी गाडी में सभी को गांव की तरफ ले जाने के लिए अपनी गाडी मतदाता हैं एवं सभी पुत्र के साथ एक गाडी में बैठ कर वापस गांव की तरफ चल पडते हैं । रास्ते में काफी संख्या में पुलिस बल तैनात था । नेतरा दो तरह रहती है कि वो पुलिस मुलाजिम से पूछे की बात क्या है । तब पुत्र एक मुलाजिम से बात करता है तो पता लगता है कि आज प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत प्रधानमंत्री खुद उनके गांव में पहली बार आ रहे हैं । पूरा गांव दुल्हन की तरह सजाया गया था । हर जगह फूलों की मालाओं के साथ बच्चे उनके इंतजार के लिए खडे हुए थे । नेत्रा रूद्र को उसी जगह पर ले जाने को कहती हैं जहाँ प्रधानमंत्री का मंच बनाया गया था । सभी नेत्रा को समझाते हैं परन्तु नेता अपने सिर पर गाडी रही सभी नेत्रा को मंच तक ले जाने के लिए मान जाते हैं । नेता को मंच से छह सौ मीटर पीछे ही तो रोक दिया जाता है क्योंकि सरपंच का खूब मत्था इस मंच पर नेत्रा एवं उसका परिवार शामिल नहीं हो सकेंगे । नेतरा प्रधानमंत्रीको मिलने का मन बना चुके हैं परन्तु आज पूरा गांव सरपंच के साथ खडा था क्योंकि सभी को लग रहा था दी प्रधानमंत्री सरपंच जी के कारण ही उनके गांव में आ रहे हैं । नेतरा अपने परिवार के साथ वापिस गांव की तरफ चल पडती है परन्तु किसी दूरी पर वह गाडी रुकवाकर परिवार को कुछ क्षण प्रतीक्षा करने के लिए कहती हैं । सभी नेत्रा के कहने पर वहाँ तो चाहते हैं प्रधानमंत्री का काफिला उस रास्ते से निकलता है नेत्रा स्रोत्र को उस काफिले के पीछे गाडी तो नानी को कहती है इतना जानती थी यदि किसी ने उसे पकड लिया तो काफी मुश्किल होगी इसलिए उसमें अपने परिवार को गाडी से उतारने के लिए कहा और खुद श्रोत्र के साथ काफिले के पीछे रुपये की गाडी लगा देती है । जब प्रधानमंत्री का काफिला मंच तक पहुंचता है तो रूद्र की गाडी भी उस काफिले के साथ मंच करना चाहते हैं । उत्तर एवं नेता मंच के ठीक सामने बैठ जाते हैं । गांव के मुखिया प्रधानमंत्री से कुछ ही दूरी पर मंच पर बैठे हुए थे । गांव के मुखिया नेत्र को देखकर हैरान होते हैं परन्तु वो अभी कुछ नहीं कर सकते थे । प्रधानमंत्री अपना भाषण देना शुरू करते हैं । भाषण के दौरान नेत्रा मंच पर जाने लगती है तभी उसे पुलिस बल के जवान रोक देते हैं । पुलिस बल द्वारा नेत्रा को रोकना गांव वालों को रास नहीं आया परन्तु सरपंच कब से कोई कुछ बोल नहीं पाया । प्रधानमंत्री जी को भी इस घटना के बारे में सूचना मिल चुकी थी । वह नेता को मंच पर बुलाते हैं । नेतरा केसर हाथ पर पट्टी बंधी हुई थी । प्रधानमंत्री जी पहले ले इतना के लिए कुर्सी मनवाते हैं फिर नेता को अपनी बात कहने के लिए कहते हैं । नेत्रा प्रधानमंत्री जी से कहते हैं आज आप प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत यहाँ घरों का उद्घाटन करने आए हैं परंतु उन घरों में लोग किराया तय कर रहे हैं । गांव के लोगों को पता ही नहीं गांव के घर आप के द्वारा गांव वासियों के लिए बनाए गए हर जगह बातें होने शुरू हो जाती हैं । गांव का मुखिया खुद को हर जगह से फंसा हुआ देखकर वहाँ से पहले ही निकल जाता है । प्रधानमंत्री तुरंत जिला मजिस्ट्रेट को इस बारे में रिपोर्ट करने को कहते हैं और नेत्रा को अपनी पार्टी के दफ्तर में आने के लिए कहते हैं । इतना कहकर प्रधानमंत्री वहाँ से चले जाते हैं । गांव के मुखिया को पकड लिया जाता है । मुखिया का सर गांव वासियों के सामने झुक चुका था । पूरा गांव पुलिस स्टेशन की तरफ पहुंच जाता है । गांव मुख्या पर सरकारी पैसे के साथ हेराफेरी करने में शामिल है । होने की धाराएं लगाई जाती हैं । इतना कहकर प्रधानमंत्री वहाँ से चले जाते हैं । गांव के मुखिया को पकड लिया जाता है । गांव का सर गांव वासियों के सामने छुप चुका था । पूरा गांव पुलिस स्टेशन की तरफ पहुंच जाता है । गांव मुखिया पर सरकारी पैसे के साथ हेराफेरी भी शामिल हैं । होने की धाराएं लगाए जाते हैं । क्या कोर्ट में सरपंच को सजा मिल पाएगी ।

Details

Sound Engineer

शहर में पढ़ी लिखी लड़की, पिछड़े गांव के माहौल को किस तरह आधुनिक बनाती है। किस तरह वो गांव पर राज कर रहे, सरपंच का सच गांव के सामने लेकर आती है। Author : Prateek Saxena Voiceover Artist : Shrikant Sinha
share-icon

00:00
00:00