Made with  in India

Buy PremiumDownload Kuku FM
Chapter 24  in  |  Audio book and podcasts

Chapter 24

647Listens
Buy Now
अंतर्द्वंद्व जावेद अमर जॉन के पिछले उपन्यास ‘मास्टरमाइंड' का सीक्वल है। मास्टरमाइंड की कहानी अपने आप में सम्पूर्ण अवश्य थी पर उसकी विषय-वस्तु जो जटिलता लिये थी उसे न्याय देने के लिये एक वृहद कहानी की आवश्यकता थी और प्रस्तुत उपन्यास उसी आवश्यकता को पूर्ण करने हेतु लिखा गया है। writer: शुभानंद Author : Shubhanand Voiceover Artist : RJ Hemant
Read More
Transcript
View transcript

वर्तमान समय से सात साल पहले सन दो हजार बारह अज्ञात जगह ऍम कमरे में सिगरेट का धुंआ मौजूद था । धीरज नहीं कि अपने दो साथियों के साथ उस कमरे में मौजूद था । उनमें से एक लेपटॉप के सामने बैठा था । दो सर पर हाथ रखकर खडा था वो छोटे कद का छोटी छोटी आंखों वाला बलिष्ठ पहाडी था था । सिगरेट का कश लेकर धूम छोडते हुए नेगी बोला क्या हुआ नहीं टम परेशान क्यों तुमने मेरे प्लान के बारे में सोचा सोचा पर वो प्लैन हमारा नहीं किसी और का है । मिशन अंतर्द्वंद किसी और के टर्म्स पर नहीं चल सकता है । कौन टाॅस बता रहा है । अल्टीमेट ली तो प्लान किसी और का है तो टाइम भी उसी की चलेंगे । ऍम हमें उनके साथ मिलकर बनाना है जो हमारा है । देश को करप्शन से मुक्त करना सिर्फ कहने से क्या होता है? फॅस कर लें । अमीन प्लेन हाईजैकिंग कोई मजाक नहीं और इसके पीछे उनका असली उद्देश्य कुछ और भी हो सकता है । तो मुझ पर विश्वास नहीं, बेटों का सवाल है । जिस तरह तुम्हें मुझ पर विश्वास है उसी तरह मुझे भी उन पर है । मैं जानता हूँ कोई टेरेरिस्ट माफिया नहीं । मैं तुम्हारी उनसे मीटिंग कराता हूँ लेकिन उसे टोका तो बाद में करेंगे । पहले बताओ देश से किया है । इस प्लान के जरिए दो करोड लोगों को ब्लैकमेल किया जाएगा । उससे हजारों करोड की जो धन राशि मिलेगी उसे वापस गवर्मेंट को पहुंचाया जाएगा । सोचो ये बात जब आम पब्लिक तक पहुंचेगी तो हर कोई जाने का की मिशन अंतर्द्वंद वाले क्या कर सकते हैं । हमें माँ सपोर्ट मिलेगा उसका हम क्या करेंगे? हमें इलेक्शन थोडी ना लडना तुम ही कहते हो ना की मिशन के बारे में ज्यादा से ज्यादा लोगों को पता चलना चाहिए । हाँ और प्लेन में कितने बेकसूर लोग होंगे उनकी जान को खतरे में डालना ठीक नहीं है । हाँ, कुछ बडा करने के लिए थोडा तो रिस्क लेना ही होगा और अभी प्लान बनना है । वो हमारे ऊपर है । ऐसा प्लान बनाए कि किसी पैसेंजर को नुकसान नहीं हूँ । प्लेन ही हूँ । उन लोगों को सीधे के ना क्यों नहीं कर लिया जाएगा । वो एक वीवीआईपी से जुडे लोग हैं । उन्हें खास सिक्योरिटी हासिल है । देश में रहकर उन पर हर डालना मुश्किल है । अगर सफल हो भी गए तो सब कुछ होने के बाद कहाँ मांगेंगे । इसलिए प्लेन द्वारा देश के बाहर ले जाकर ये डीलिंग आसान होगी । फिर वो सब उनका है देख है हमें कहीं नहीं जाना होगा नेगी ने सिगरेट का फिल्टर ऐश ट्रे में कुछ ला वो सोच में डूबा था । निक निक ने पहले नेगी को यही लगा कि उसके हाल चाल पता किए जाएं क्योंकि भारत छोडने के बाद से उसके कॉन्टेक्ट में नहीं था । नेगी को पता चला कि बहुत धर्मशाला में किसी धर्म गुरु के आश्रम में रह रहा था और एक से मिलने पहुंचा नहीं तो उसे देखकर चौका फिर उसके गले लग गया हूँ लेकिन उसे आश्रम में रहने का कारण पूछा । निक ने बताया कि उसे पुलिस ने ड्रग्स बेचने के झूठे इल्जाम में फंसा दिया था और तीन साल जेल की सजा काटने के बाद डिप्रेशन से जूझता धर्मगुरु सुजुकी के आश्रम में आ गया था । नेगी उसे आश्रम से बाहर लाया । उसने उस पुलिस वाले के बारे में मिशन अंतर्द्वंद के अंतर्गत पहले नेगी ने उस सब इंस्पेक्टर के बारे में बैग्राउंड चेक किया । पता चला कि वह करप्ट ऑफिसर था । ये पहला मौका था जब नेगी ने किसी वर्दीधारी पर हाथ डाला था पर काम निर्विघ्न हुआ, उसे किडनैप किया गया । उसे टॉर्चर करके उसके सारे कालेधंधे पता किये गए और फिर उसकी लाश उसकी काली करतूतों के सबूत सहित पुलिस थाने के बाहर डाल दी गई । पुलिस ने बहुत हाथ पांव मारे पर हमेशा की तरह मिशन अंतर्द्वंद में कोई सबूत नहीं छोडा था । सब इंस्पेक्टर के सताए हो रही काफी लम्बी थी इसलिए किसी ने नहीं पर शक भी नहीं किया । उसके बाद आश्रम छोडकर निकलेगी के साथ दिल्ली आ गया और मिशन अंतर्द्वंद में उसका अहम साथ ही बन गया । अगर हमें बारिश में कुछ बदलाव लाना है तो इसी तरह से कुछ बडा करना होगा । निक बोला तभी कुछ होगा । अरबों की आबादी में यू कब तक हम एक एक तरफ से इंसान को ढूंढेंगे और सजा देंगे लेकिन चुप चाप शून्य में घूमता रहा । लेपटॉप में मशगूल उसके साथ ही में काफी देर बाद नजरे उठाए और बोला मुझे निक्की बात सही लग रही है लेकिन सहमती में सिर हिलाया ठीक है उन के साथ मीटिंग फिक्स करूँगा । निकने उत्साह से उसकी तरफ देखा फिर अपने मोबाइल की तरफ हाथ बढाया ।

Details
अंतर्द्वंद्व जावेद अमर जॉन के पिछले उपन्यास ‘मास्टरमाइंड' का सीक्वल है। मास्टरमाइंड की कहानी अपने आप में सम्पूर्ण अवश्य थी पर उसकी विषय-वस्तु जो जटिलता लिये थी उसे न्याय देने के लिये एक वृहद कहानी की आवश्यकता थी और प्रस्तुत उपन्यास उसी आवश्यकता को पूर्ण करने हेतु लिखा गया है। writer: शुभानंद Author : Shubhanand Voiceover Artist : RJ Hemant
share-icon

00:00
00:00