Made with  in India

Buy PremiumDownload Kuku FM

19. Berlin Wall

Share Kukufm
19. Berlin Wall in  | undefined undefined मे |  Audio book and podcasts
255Listens
अपनी महान् उपलब्धि हासिल करने में मात्र दो घंटे ही लगे, लेकिन इसके पीछे वर्षों की मेहनत और कठिन साधना थी। मात्र 27 वर्ष की उम्र में सफलता का कीर्तिमान स्थापित करनेवाला यह महानायक मात्र 33 वर्ष की अल्पायु में संसार से विदा हो गया। अनजाने अंतरिक्ष को जानने की ललक ने यूरी गागरिन को अंतरिक्ष अभियान की ओर प्रवृत्त किया। और वह भी पहली बार अंतरिक्ष में जाने की कल्पना करना ही दिल को दहला देनेवाली थी। वहां पहुंच भी पाएंगे और पहुंच गए तो क्या जीवित धरती पर लौट पाएंगे? इन सभी सवालों से परे यूरी गागरिन ने अंतरिक्ष में पहुंचकर मानव जीवन को एक नई ऊंचाई दी और भविष्य के अंतरिक्ष अभियानों का मार्ग प्रशस्त किया। सुनें अद‍्भुत जिजीविषा और अप्रतिम साहस के धनी यूरी गागरिन की प्रेरणाप्रद जीवनी।
Read More
Transcript
View transcript

टिटो की लैंडिंग के एक सप्ताह बाद बर्लिन बॉल का निर्माण शुरू हुआ । कुरुमेदेव की जीवनी लेखक जेम्स हरफोर्ड के मुताबिक ऍम की उडान के समय का आदेश जानबूझ कर जर्मन डेमोक्रेटिक रिपब्लिक को मॉस्को के प्रति निष्ठा कायम करने के लिए दिया था । खुश्चेव और कैनेडी के संबंध पूर्व पश्चिम की आक्रामकता से आगे भी कुछ थे । ये स्पष्ट होता जा रहा है कि इन दोनों व्यक्तियों में अंतरिक्ष की खोज है तो सहभागिता की संभावना चाहिए । इस मुद्दे पर अनुसंधान करने वाले लॉकेशन का कहना है, अंतरिक्ष के विषय में अपोलो की घोषणा करने के बाद भी कैंडी मिली जुली विचारधारा के थे । अपने उद्घाटन भाषण में उन्होंने सुझाव दिया कि यूनाइटेड स्टेट्स और सोवियत यूनियन को एकजुट होकर अंतरिक्ष अनुसंधान करना चाहिए । उसने आपसी सहयोग बढाने के तरीको की तलाश करने के लिए सलाहकारों का समय भी निर्मित किया था । उन्होंने अपने भाई बॉबी को इस बात की तो लेने के लिए क्रैमलिन भी भेजा था । अब हमें जानकारी हो रही है कि कृष्य हाँ और साथ काम करें कहने के लिए तैयार हूँ । यदि ये दो व्यक्ति जीवित रहते तो इतिहास कुछ और ही होता । लेकिन कैंडी की जगह लिंडन जॉनसन आ गया जो एक कट्टर राष्ट्रवादी था । उधर क्रिश्चयन का तख्ता पलट कर ब्रेझनेव गद्दी पर काबिज हो गया । रजनी अपेक्षाकृत अधिक सैन्यवादी इतिहास की व्यवस्था यही है कि जो कुछ हुआ है, आप उसी का अध्ययन कर सकते हैं ना कि जैसा होना चाहिए था । नासा ने तीसरी आंशिक कक्षा में मर्क्यूरी में अपेक्षाकृत अधिक आवश्यक मिशनों की अर्हता प्राप्त करने के लिए विचार किया, लेकिन छोटे ऍम रॉकेट से ज्यादा शक्तिशाली एटलस पूर्णरुपेण आईसीबीएम का एक कैप्सूल को अंतरिक्ष में ले जाने के लिए तैयार था । साथ ही आंशिक कक्षा की उडान भी रद्द कर दी गई थी । बीस फरवरी को जॉन ग्लेन ने पृथ्वी की कक्षा के तीन पूरे चक्कर लगाएंगे । अमेरिका में उसका उसी तरह स्वागत किया गया, जैसा रूस में जूरी का । नासा मानवरहित प्रोटोटाइप के परीक्षण अपने विशाल सेटल लूनर रॉकेट के लिए करने लगा । व्यवस्तता वे उन सुपर्ब दोस्तों के आकार से मात्र आधे हैं, जो अंततः अपोलो को चंद्रमा पर उडा कर ले गए । लेकिन पहले से ही वे कोरोलेव के आर सात की शक्ति पीछे छोडने के निकट थे । कोरोलेव शीघ्र ही वोस्टोक का उत्तराधिकारी विकसित करना चाहता था, जिसकी अपनी सीमित क्षमता हूँ, लेकिन क्रिश्चयन हफ्तों महीनों में और हासिल करना चाहता हूँ । ऍम निकोलाई को ग्यारह अगस्त को चार दिवसीय मिशन पर लॉन्च किया गया और पॉवेल पापो विच को इसके ठीक दूसरे दिन तीन दिवसीय अवधि के लिए भेजा गया । पहली बार दो लोग एक ही समय पर अंतरिक्ष भेजे गए थे । कोरोलेव ने इन प्रक्षेपणों की समय सीमा तय की थी ताकि दूसरा वोस्टोक पहले के सात किलोमीटर के दायरे पर इससे सोवियत अंतरिक्ष की मुलाकात का दावा कर सकता हूँ । वस्तुतः दोनों यान शीघ्र ही अलग अलग उडान भरने लगे और अपनी शुरुआती नजदीकी को दोबारा कभी हासिल नहीं कर सकते । उडान के दौरान उनकी छोटी मोट रे निष्क्रिय पडी रही ताकि मिशन के अंत में रीएंट्री ब्रेकिंग के लिए ईंधन संचय कर सके किंतु कूपरी रूपरंग का काफी फर्क पडता है । पश्चिम के एयरोस्पेस से व्यावसायिक तौर पर जुडे बहुत से लोगों को ऐसी सोच से मूर्ख बनाया गया कि सोवियत वालों ने अंतरिक्ष में मुलाकात का असली कौशल विकसित कर लिया था । सन में अंतरिक्ष इतिहासकार जेम्स हारफोर्ड बिजली मिशन, जिन्हें कोरोलेव के बाद में आपको के भी वन डिजाइन ब्यूरो नियुक्त किया गया, उन्होंने कहा, उन दिनों गोपनीयता के कारण हमने सारी सच्चाई नहीं बताई । जैसा की कहा जाता है कि हाथ की सच्चाई सादा धोखा नहीं होती । हमारे पश्चिम के प्रतिस्पर्धियों ने स्वयं को धोखे में रखा । बेशक हम नहीं चाहते थे कि उनकी भ्रमपूर्ण चाहिए । डबल वोस्टोक मिशन अमेरिकी उपलब्धियों से बढकर महसूस होता था । नासा ने चौबीस मई को एस्ट्रोनॉट स्कॉट कारपेंटर को लॉन्च किया । लेकिन सोवियत मिशन की निर्दयी मौलिकता की तुलना में मर्क्यूरी को सेकंड बेस्ट नहीं कहा जा सकता । वोस्टोक की दोहरी उडान के बाद भी नासा का प्रत्युत्तर साधारण पहले से कुछ अधिक था, जिसके तहत तीन अक्टूबर के वॉर्टेक्स गिरा का लॉन्च मात्र नौ घंटे कक्ष की उडान का था । कुछ दिनों बाद अमेरिकी जासूसी विमानों ने सोवियत मिसाइलों की तस्वीरें क्यूबा के गोपनिय ठिकानों में ली । परिणामस्वरूप सन की उस भयानक शीत ऋतु में अंतरिक्ष से हटकर अंतरराष्ट्रीय परमाणु युद्ध की तरफ लोगों का ध्यान खींच गया । वो कोई धुंधला और सुदूर प्रत्याशा के रूप में न होकर एक ऐसा आतंक था जो किसी भी क्षण भयंकर विभीषिका में तब्दील हो सकता था । फॅमिली ने सोवियत नौकायान के खिलाफ जहाज बंदी प्रारंभ करती जैसा की अभी हाल ही में व्हाइट हाउस से जारी किए गए संकट बैठकों के टेप से स्पष्ट है । तेईस अक्टूबर की रात कैंडी और उसका स्टाफ जब अपने बिस्तरों पर सोये तो उन्हें यह नहीं मालूम था कि अगली सुबह वे या दुनिया में कोई और जीवित बचता है या नहीं । कैंडी और खुश छे इस राह पर इतना आगे निकल गए थे कि अब वापस लौटना नामुमकिन था । एक वरिष्ठ रॉकेट इंजीनियर पोलिस्टर टोको जेम्स हारफोर्ड को दिए गए एक साक्षात्कार की बात याद आती है कि बैकनूर से मार स्ट्रोब अक्टूबर में लॉन्च करने के एक और प्रयास में तब बाधा पडी जब सेना ने चेयर टोक के लॉन्च वाहन को पैड से हटाने का आदेश दे दिया ताकि इसके बदले वे आईसीबीएम को ला सकता । उस समय एक तरह की राष्ट्रीय आपात स्थिति निर्मित हो गई नहीं । सेना द्वारा सभी फोन लिंग का प्रयोग किया जा रहा था इसलिए मैं कुरुली से संपर्क स्थापित नहीं कर सका जो उस दौरान मॉस्को में सर्दी से पीडित था । उन्होंने मुझे बताया कि यदि मैंने मार्च रॉकेट को पैड से नहीं हटाया तो मेरा कोर्टमार्शल किया जाएगा और उन्होंने अपनी मिसाइलों की प्रणाली की जांच शुरू कर दी । इन भयंकर निर्देशों को वापस लेने के लिए करोड लेव्ही क्रिश्चियन को मना सकता था । चाय टोकने मॉस्को के लिए उडान भरी और कोरोलेव के घर पहुंचा जहां चीफ डिजाइनर ने क्रैमलिन को अतिशीघ्र फोन करके समस्या का समाधान कर लिया । जब थी क्यूबाई संकट के मध्य में चौबीस अक्टूबर को मार्च को लॉन्च किया गया तो इसमें विस्फोट हो गया जिससे यूएस बैलेस्टिक मिसाइल फॅमिली वॉर्निंग सिस्टम को परमाणु आक्रमण का संदेह हो गया । सौभाग्यवश उनकी खोजी कंप्यूटर स्थिति को कुछ ही सेकेंडों में भाग गए और बदले की कार्यवाही शुरू नहीं की गई । एक अन्य भयंकर संयोग चौबीस अक्टूबर उन्नीस सौ को बैंगलोर में आर सोलह मिसाइल विस्फोट जिसमें एक सौ नब्बे लोग मारे गए क्यूबाई संकट से पहले ही हो गए होते हैं । मार्शल नेफ्थलीन जैसे घमंडी के अलावा बडी संख्या में कुशल सैन्य मिसाइल इंजीनियरों की जाने, उस दिन गई परिणामस्वरूप एक विश्वसनीय अंतरमहाद्वीपीय सोवियत परमाणु मारक क्षमता के विकास में उनकी मौत से विलंब हो । कुछ समय के लिए अमेरिका के न्यू रचनात्मक लक्ष्य सोवियत यूनियन के भीतर से नहीं पहुंच सकते थे । क्रिश्चियन के पास उपलब्ध एकमात्र पूर्णरुपेण कार्य करने वाला आईसीबीएम के नाम से चीफ डिजाइनर का आर साथ ही था जिसे तैयार करने में कितनी देर हो चुकी थी कि उसे लॉन्च करने के लिए तैयार नहीं किया जा सका । इसके अलावा ये उतनी तादाद में उपलब्ध नहीं था जिससे कोई बडी धमकी दी जा सकती । क्यूबा को भेजी गई मिसाइलें तुलनात्मक रूप से साधारण और कम शक्तिशाली जंगी परमाणु अस्त्र है जो छोटे बहुतायत में और प्रक्षेपण में सरल तो हैं किंतु कम दूरी की उडानों तक ही सक्षम हैं । क्यूबाई संकट के समाप्त हो जाने के बाद क्रिश्चयन ने सोचा होगा कि अमेरिका के साथ अंतरिक्ष का क्षति हीन खेल खेलना ही अच्छा है न कि जमीनी स्तर पर परमाणु टक्कर का जोखिम उठा । जहाँ तक अनुमान लगाया जा सकता है । अगली अंतरिक्ष उडान का प्रचार मुख्यता इसी विचार से प्रभावित था । वो चाहता था कि कोरोलेव ऐसे व्यक्ति को लॉन्च करें जिस के विषय में पहले किसी ने कुछ सोचा भी न हो । कोई महिला तक लगभग चार सौ महिला अभ्यार्थियों को संभाव्य अंतरिक्ष उडान के लिए आजमाया जा चुका था । सोलह फरवरी को इनमें से पांच का चयन प्रशिक्षण है । तू क्या गया? क्रिश्चियन के आदेश के मद्देनजर महिलाओं का चुनाव खेतीहर किसानों और फैक्ट्री कर्मचारियों में से किया गया था ना कि विशिष्ट वैज्ञानिक और शैक्षणिक पृष्ठभूमि के लोगों से । सर्वाधिक उपयुक्त अभ्यर्थी थे जो निम्नवर्गीय पारिवारिक पृष्ठभूमि से खाने के साथ साथ अंतरिक्ष उडान है तो किसी तरह की उपयुक्तता रखते हैं । परिस्थितियां कुछ ऐसी निर्मित हुई कि उन दिनों पैराशूट पर उडना लोकप्रिय रूचि था और हॉबी के तौर पर बढ रहा था । अंतरिक्ष प्रशिक्षण हेतु उभरकर सामने आने वाली सर्वाधिक उपयुक्त अभ्यार्थी थी । पच्चीस वर्षीय वेलेंटीना टेररिस्ट होगा जिसके खाते में पैराशूट चैंपियनशिप के अट्ठावन जम्पिंग का श्रेय था । तेरे इश्क गोवा के पिता सामूहिक कृषि काम पर काम करने वाले ट्रैक्टर ड्राइवर थे । युद्धकालीन परिस्थितियों में वे मारे गए थे । उसकी माँ एक टेक्स्टाइल प्लांट में बुनकर का काम करने लगी । स्वयं वेलेंटीना इस ट्रेड में प्रशिक्षित हुई । वो खुश्चेव के उद्देश्य के लिए आदर्श अभ्यर्थी थी । स्वस्थ, खूबसूरत और अंतरिक्ष प्रशिक्षण से जुडी बौद्धिक चुनौतियों के लिए सजग नहीं लेकिन शिक्षा में इतनी आगे भी नहीं कि वो सामान्य, खेतिहर और मजदूर वर्ग का प्रतिनिधित्व ही नहीं कर सकते । गर्म टिटो ने अपने संस्मरण में इस बात की चर्चा की है कि किस तरह से महिला कॉस्ट मिनट के स्टार सिटि आने पर विश्वास से स्वागत किया जाता है । सच तो यह है कि हम यकीन ही नहीं करते थे कि महिला वर्ग का फ्लाइंग मशीन से कोई लेना देना था । उस समय हमें यही लगता था कि अंतरिक्ष उडान से सम्बंधित सभी कार्य केवल पुरुष ही कर सकते थे । जब पहली महिला इस कार्य के लिए आई तो मेरी सोच नकारात्मक थी । जैसा कि सभी जानते हैं टिटो सभी चीजों के बारे में अपनी राय देता है लेकिन अंत कर हमने पाया कि महिला कॉस्ट मिनट का होना बिल्कुल सही है और शीघ्र ही हम उन्हें अपनी तरह अच्छे मित्र समझने लगे । अंत में यूरी गागरिन को सार्थक कार्य उन्हें सौंपा गया । उसे स्टार सिटि में महिला को स्पोर्ट्स के प्रशिक्षण कार्यक्रम का प्रमुख नियुक्त किया गया । उसके सहयोगी के रूप में उसका कोर्स, मिनट, सहकर्मी और मित्र ऍम निकालो ये भी था । बारह जुलाई को लेफ्टिनेंट कर्नल के पद पर उसकी पदोन्नति कर दी गई और निकोलाई और पासपोर्ट की अगस्त में दोहरी वोस्टोक उडान के दौरान वापस अपने असली काम में प्रमुख रेडियो संवाहक की हैसियत से आ गया । तत्पश्चात उसने अपनी पांच महिला छात्रों के लिए एक सघन शारीरिक प्रशिक्षण कार्यक्रम तैयार किया । यद्यपि बीच बीच में उसे अभी भी विदेशी दौरे पर बुला लिया जाता था । अब पूर्णतः स्वचालित वोस्टोक मिशन का प्रशिक्षण कोई खास कठिन नहीं था । सोलह जून को टेरिस गोवा की अंतिम उडान में बहुत ही कम नई तकनीकी चुनौतियां सामने आएगा । उसकी सफलता से खुश्चेव को मनचाहा अवसर हाथ लग गया । स्त्री पुरुष की समानता का राग छेडने का जब इस प्रचार का प्रयोग सफलतापूर्वक संपन्न हो गया तो चुपके से महिला कॉस्ट मिनट कार्यक्रम समाप्त कर दिया गया । तीन नवंबर को तेरे को वह और निकोला ये मॉस्को में विवाह सूत्र में बंध गए । ये कार्यक्रम सामाजिक समारोह के रूप में आयोजित किया गया था । ये उस सीजन की सामाजिक घटना थी जिसमें खुश्चेव बडी खुशी से शामिल हुआ था । तीन दिन बाद ही गैगरीन की नियुक्ति पूर्ण रुपेन कर्नल के रूप में कर दी गई । ऐसा लगा कि उसका करियर ड्राप ऊपर जा रहा था लेकिन उसे आगे चलकर मालूम हुआ कि ज्यादा ऊंचे और देख की वजह से उसकी एक और अंतरिक्ष उडान में बाधा पड सकती है । वर्तमान अटकल के मुताबिक बाइक ऑवर्स की और टेरिस गोवा की दोहरी उडान कॉस्ट ऑफ का अंतिम मिशन था । उन्होंने की गर्मी तक सोवियत को अमेरिका के मर्क्यूरी से होड करने की जरूरत ही नहीं रह गई थी । पंद्रह मई से चौबीस घंटे के गार्डन ऊपर को लॉन्च करने के बाद नासा ने तय किया कि इस कार्यक्रम को कुछ सिद्ध करने को नहीं रह गया है । आखिर एक अलाॅट वाली ये साधारण कैप्सूल लें । संभव तक कर भी क्या सकती थी । वस्तुतः नासा यूएस एयरफोर्स द्वारा विकसित एक नई मिसाइल टाइटन के प्रयोग की योजना बना रहा था जिसे अनमने से लाइसेंस पर लिया गया । टाइटन का ईंधन टैंक एवं बाद परात एक ही घटक थे जो वजन की बचत करते हैं । लॉन्च पैड पर ये रॉकेट इतना हल्का था कि यदि उस पर अक्रिय गैस का दबाव डाला जाता तो ये सीधा खडा हो जाता है । लेकिन अपने वजन के सापेक्ष में ये इतना शक्तिशाली था कि ये मरकरी कैप्सूल से भी ज्यादा वजन उठाकर ले जा सकता था । नासा जानता था कि इसका तीन व्यक्तियों वाला चंद्रयान और इसका विशाल सेटर्न बी रॉकेट इसकी अपनी पहली उडान से वर्षों दूर थे । अभी तो उनके पास डिजाइनरों द्वारा तैयार मौका यानी अनुकृतियां ही थे न कि वास्तविक हार्डवेयर । इस बीच एक अंतरिम वाहन तैयार किया जा चुका था, पर गिरी की सहजता और उभरते हुए अपोलो की जटिलता की मध्यवर्ती स्थिति जैमिनी दो व्यक्तियों वाला कैप्सुल था जिसे टाइटन मिसाइल से जोडने के लिए डिजाइन किया गया था । इसमें इंजेक्शन, सीटें और बच्चे शामिल थे जिसे कक्ष में खोल कर अंतरिक्ष में चहलकदमी की जा सकती थी । नासा कि खुले साहित्य के कारण इसके डिजाइन की जानकारी कोरोली को थी । तक जैमिनी कब सुनें कैलिफोरनिया के मैकडोनल्ड डगलस प्लांट में निर्माणाधीन थी लेकिन वस्तुतः उनमें से एक भी तब तक उडान में प्रयुक्त नहीं हुई थी । कोरोलेव वोस्टॉक का उत्तराधिकारी कार्य शुरू करने के प्रति चिंतित था जो नासा के लिए डिजाइन से मेल खाता हुआ या उससे बढकर हो । यदि जैमिनी के लॉन्च से पहले वो मल्टी मैन यान साफ प्रतीत होने वाला यान लॉन्च कर सकता तो उसे वास्तविक अर्थों में अधिक शक्तिशाली प्रतियोगी लॉन्च करने के लिए जरूरी राजनीतिक समर्थन मिल जाता है । खुश्चेव यही चाहता था कि जैमिनी को झटका देने और अपोलो के प्रयास को निरुत्साहित करने के लिए कुरोली जल्द से जल्द तीन शक्ति मिशन की रूपरेखा तैयार है । हालांकि इस प्रोजेक्ट में जिस सीमा तक उसने कॉसमॉस की जाने दाव पर लगाने का जोखिम उठाया उसका निर्णय आज नहीं किया जा सकता । क्रिश्चयन पर प्राया कुरुमेदेव पर जोखिमभरे निर्णय लेने की दिशा में दबाव डालने का दोष लगाया जाता है लेकिन संभव था वह सारे तकनीकी विवरणों का निर्णय नहीं ले सकता था । इस संबंध में उसे चीफ डिजाइनर के निर्णय पर भरोसा करना पडता था की कोई खास अंतरिक्ष प्रोजेक्ट सुरक्षित था या नहीं । कुरुली ने जोखिम उठाते हुए वर्तमान वोस्टॉक के हार्डवेयर अपनाने का प्रयोग उसी बॉल में दो अंतरिक्ष यात्रियों को ले जाने के लिए क्या यदि अंतरिक्ष पोशाके न पहनी जाती तो तीन अंतरिक्ष यात्री भी जा सकते हैं । सीट का ये नया इंतजाम पूरी तरह काम चला था । इसमें वो स्टॉक में कोई सुधार नहीं किया गया था । ये पहले से अधिक सकरा और निश्चित रूप से अधिक खतरनाक था । अतिरिक्त व्यक्तियों को इसके अंदर बैठाने के लिए इसकी भारी भरकम इंजेक्शन सीट को हटा दिया गया था और लॉन्च पैड में यदि कोई गडबडी होती तो बचने का कोई मौका ही नहीं था । इस नई योजना को वो ऑस्फोर्ड नाम दिया गया जिसका शाब्दिक अर्थ है सुनियो । इसके तमाम खतरों के बावजूद वो खोड, अंततः सोवियत नेतृत्व को कायम रखने में सक्षम रहता । इससे अपोलो और कोरोलेव के अपने स्वयं के चंद्रमा पर जाने के महत्वकांक्षी कार्यक्रम को गति आपको के भी एक में कोरोलेव का अंतिम उत्तराधिकारी वैसिली मिशिन इस बात पर जोर देता है कि चीफ डिजाइनर ने क्रिश चेयर से आमने सामने का सौदा किया । कोरोलेव ने अतिशीघ्र मल्टी मैन कार्यक्रम को विकसित करने के एवज में क्रिश्चयन द्वारा विशाल नए रॉकेट का अनुमोदन किया जाना जो नासा की सेटर्न बी का समतुल्य एंड एक था तक सुपर पावर देखा । विभाजन के दोनों ओर अंतरिक्ष प्रयास पूरी तरह स्थापित हो चुका था । अगस्त में पोलित ब्यूरो द्वारा एंड एक के विकास के साथ साथ कोरोलेव के प्रतिस्पर्धियों के दो प्रतियोगी प्रोजेक्टों को भी अनुमोदित कर दिया गया । अंततः इस उलझन और सन में कोरोलेव की मृत्यु के कारण सोवियत का चंद्र कार्यक्रम और सफलता की भेंट चढ गया कि ग्रीष्म में सभी अंतरिक्ष यात्री चंद्रमा पर कदम रखने हेतु अपेक्षाकृत अधिक सुरक्षित उडानों की ओर लामबंद हो रहे थे । ऍफ को निराशा में ऐसा महसूस होने लगा कि इस खेल से जुडने के लिए उसमें रहता नहीं थी । ऐसा मात्र इस वजह से नहीं था कि उसके सार्वजनिक कर्तव्यों ने उसे स्टार सिटि से उसके वास्तविक दूतों से अलग कर दिया था । पहले सन उन्नीस सौ इकसठ में भी उसने अपनी ऐतिहासिक उडान के कुछ महीनों बाद भी छुट्टी लेकर बात हाथों का कोपभाजन बनने का बहुत ही मूर्खतापूर्ण कार्य किया था ।

Details
अपनी महान् उपलब्धि हासिल करने में मात्र दो घंटे ही लगे, लेकिन इसके पीछे वर्षों की मेहनत और कठिन साधना थी। मात्र 27 वर्ष की उम्र में सफलता का कीर्तिमान स्थापित करनेवाला यह महानायक मात्र 33 वर्ष की अल्पायु में संसार से विदा हो गया। अनजाने अंतरिक्ष को जानने की ललक ने यूरी गागरिन को अंतरिक्ष अभियान की ओर प्रवृत्त किया। और वह भी पहली बार अंतरिक्ष में जाने की कल्पना करना ही दिल को दहला देनेवाली थी। वहां पहुंच भी पाएंगे और पहुंच गए तो क्या जीवित धरती पर लौट पाएंगे? इन सभी सवालों से परे यूरी गागरिन ने अंतरिक्ष में पहुंचकर मानव जीवन को एक नई ऊंचाई दी और भविष्य के अंतरिक्ष अभियानों का मार्ग प्रशस्त किया। सुनें अद‍्भुत जिजीविषा और अप्रतिम साहस के धनी यूरी गागरिन की प्रेरणाप्रद जीवनी।
share-icon

00:00
00:00