Made with  in India

Buy PremiumDownload Kuku FM

16. Taste of Success

Share Kukufm
16. Taste of Success in  | undefined undefined मे |  Audio book and podcasts
331Listens
अपनी महान् उपलब्धि हासिल करने में मात्र दो घंटे ही लगे, लेकिन इसके पीछे वर्षों की मेहनत और कठिन साधना थी। मात्र 27 वर्ष की उम्र में सफलता का कीर्तिमान स्थापित करनेवाला यह महानायक मात्र 33 वर्ष की अल्पायु में संसार से विदा हो गया। अनजाने अंतरिक्ष को जानने की ललक ने यूरी गागरिन को अंतरिक्ष अभियान की ओर प्रवृत्त किया। और वह भी पहली बार अंतरिक्ष में जाने की कल्पना करना ही दिल को दहला देनेवाली थी। वहां पहुंच भी पाएंगे और पहुंच गए तो क्या जीवित धरती पर लौट पाएंगे? इन सभी सवालों से परे यूरी गागरिन ने अंतरिक्ष में पहुंचकर मानव जीवन को एक नई ऊंचाई दी और भविष्य के अंतरिक्ष अभियानों का मार्ग प्रशस्त किया। सुनें अद‍्भुत जिजीविषा और अप्रतिम साहस के धनी यूरी गागरिन की प्रेरणाप्रद जीवनी।
Read More
Transcript
View transcript

स्ट्रेचिंग को गैगरीन को एयरबेस अधिकारी के क्वार्टर में ले गया जहां उसे अपने परिवार से फोन पर बात करने और फोन पर ही आपने फर्स्ट सेक्रेटरी को अपनी कामयाबी की रिपोर्ट देने का अवसर मिल गया । यूरी ने काफी सावधानी को रुकवा देंगी क्योंकि उसे अच्छी तरह मालूम था कि उसका प्रत्येक शब्द आने वाली पीढी के लिए इतिहास में दर्ज होगा । तुम्हारी आवाज सुनकर खुशी हुई गैंगरेप निखिता मुझे रिपोर्ट करते हुए खुशी हो रही है की पहली अंतरिक्ष उडान सफलतापूर्वक पूरी हो चुकी हैं । क्रिश्चिन कुछ देर तक तो अधिकारी के लहजे में बात करता रहा हूँ लेकिन बहुत देर तक वो अपने आप को आम स्तर के प्रश्न पूछने से नहीं रोक सका । उडान के दौरान तो मैं कैसा लगा? अंतरिक्ष में कैसा लगता है? मुझे अच्छा लगा । मैंने काफी ऊंचाई से धरती को देखा । मुझे समुद्र, पर्वत, बडे शहर, नदियाँ और जंगल नजर आ रहे थे । क्रिश्चियन काफी खुश लगा । उसने कहा इस खुशी को हम सभी सोवियत वासियों के साथ मिलकर मनाएंगे । अब दुनिया हमारी तरफ देखे और समझने की हमारा देश कितना सक्षम । वह समर्थ हैं । हमारे महान लोग और हमारे सोवियत का विज्ञान क्या कर सकता है । यूरी ने भी कर्तव्य निष्ठापूर्वक इसी भाव की प्रतिक्रिया नहीं हूँ । अब दूसरे देश कोशिश करें और हम से आगे बढने की सोचे बिल्कुल अब पूंजीवादी देश हमसे मुकाबला करें । उसके वरिष्ठ सहायक जोडो रॅाकी के मुताबिक कृष्य यूरी के जवाबों की प्रफुल्लता वह उत्साही स्वभाव से काफी प्रभावित था । मॉस्को में दो दिवसीय शानदार सार्वजनिक समारोह के दौरान यूरी से मिलने की प्रतीक्षा नहीं । प्यूरी ने कहा धन्यवाद निकिता मुझ पर विश्वास करने के लिए मैं आपको एक बार और धन्यवाद देता हूँ और विश्वास दिलाता हूँ कि अपने देश के लिए आगे भी कार्य करने के लिए तत्पर रहूंगा । शायद वो चंद्रमा के विषय में सोच रहा है । आखिर कोरोलेव ने उसकी उडान से पहले उसके हाथ में चंद्रमा अंतरिक्ष यान का एक स्मृति चिन्ह रखकर कहा था कि एक दिन वो वास्तविक अंतरिक्ष में पहुंच सकता था । ईगल्स में ठहरने के दौरान उन जरूरी फोन वार्ताओं के बाद यूरी ने कुछ देर आराम किया । तत्पश्चात उसने इल्यूशिन चौदह विमान से कोई विशेष जो कि आज का समर है वहाँ के लिए उडान भरेंगे जो वोल्गा नदी पार सातारा से साढे तीन सौ किलोमीटर उत्तरपूर्व स्थित है । यहाँ एक या दो दिन आराम करने के बाद चौदह अप्रैल को वो मॉस्को के लिए रवाना होगा । यूरी कि रॉकेट के लॉन्च पैड छोडने के ठीक एक घंटे बाद टिप टॉप गलाई काम आने और प्रतिनिधिमंडल बैकोनूर से एंटोनोव बारह विमान से कोई भी शेव के लिए रवाना हो चुके थे । इस विमान में कोरोलेव नहीं था । वो एक सुदूर रेडियो स्टेशन से संचार यानी कम्युनिकेशंस की मॉनिटरिंग करते हुए उन यानों के विषय में सुन रहा था जो वो स्टॉक की कक्षा और उतरने के अंतिम चरण को ट्रैक कर रहे थे । टिटोली का मिजाज कुछ खडा हुआ था । हम कोई विशेष एयरबेस पर उतरे जो कि यात्री विमान बनाने का एक बडा कारखाना था । इसके बाद इल्यूशिन चौदह से यूरिया गया । उसे सातारा उस क्षेत्र ले जाया गया । वो सेना के जंगलों से घिरा था और मैं उनके सामने मात्र एक वरिष्ठ लेफ्टिनेंट । लेकिन मैं ये जानने के लिए उत्सुक था कि भारहीनता कैसी होती है । यूरी गैंगरेपर चलकर आगे बढ रहा था । मैंने सभी को धकेलकर किनारे कर दिया । सभी ने मेरी तरफ देखा । ये पागल लेफ्टिनेंट कौन है? उन्होंने कहा है, हम अन्य काॅल्स बडे गोपनीयत लग रहे थे लेकिन मैं यूरी के पास पहुंच गया । भारहीनता का अनुभव कैसा था? मैंने पूछा ठीक था उस ने कहा था उसकी उडान के बाद यही हमारी पहली मुलाकात एयरफील्ड घेराव के बाडे उत्सुक दर्शकों के वजह से चुके जा रहे थे जिन्हें मालूम था कि क्या होने वाला था । जब जूरी की कार एयरबेस से निकलकर मोटर साइकिल सवार पुलिस की सुरक्षा में शहर के प्रमुख मार्ग से गुजरी तब सारा कोई विशेष शहर उत्साही भीड की गहमागहमी से भरा था । भीड में से ही किसी ने यूरी की कार के पहियों के बीच से एक साइकिल फिर क्योंकि वे लोग चाहते थे कि यूरी रूककर उनसे कुछ बोले टिटो कार नहीं था । वो कहता है, मैं नहीं जानता कि कार क्षतिग्रस्त हुई थी या नहीं लेकिन लोग उसे देखना चाहते कोई विशेष की सीमा पर वो लगा के किनारे एक विशेष ढांचा तैयार किया गया ताकि यूरी का चिकित्सीय परीक्षण हो सके और एक दिन आराम करने के बाद चौदह अप्रैल को सुबह मॉस्को के लिए रवाना हो सके । लेकिन युवा नेवस्की को उससे वहाँ की हुई मुलाकात और गले में ना याद है । मैंने उससे पूछा तो मैं कैसा लग रहा है? उसने जवाब दिया अपना तो बताओ जब लॉन्च पैड पर तुमने हैच खोला तब तो मैं अपने आप को देखना चाहिए था । तुम्हारे चेहरे पर तो इंद्रधनुष के सारे रंगों बनाए थे । हर कोई उस की तरफ भागा चला रहा था । लेकिन मैंने अपना आपा नहीं खोया । मैंने उस दिन सुबह प्रथम पेज पर छपे उसके हेलमेट पहने फोटोग्राफ बगल में कुछ शब्द लिखती है । वोस्टोक से जुडा हर व्यक्ति उसके पास आता जा रहा था और पूछता है क्या वो वो स्टॉक के उनके अपने विशेष उपकरण के विषय में कुछ कहना चाहता था । किसी तरह यूरी ने स्नान करने का समय निकाला । तत्पश्चात बोलेगा नदी के किनारे टहलता रहा । इस दौरान वो बीच बीच में साथ चल रहे लोगों से भी काफी खुशमिजाजी । वह सहयोगात्मक अंदाज में बात करता जा रहा था । एक प्रारंभिक प्रेस कॉन्फ्रेंस में उसने अंतरिक्ष से पृथ्वी के नजारे के विषय में अपने अनुभव सुनाए । पृथ्वी का दिन वाला भाग साफ नजर आता था । महाद्वीपों के तट, टापू, बडी नदियां, जल की विशाल सतहें मैंने पहली बार अपनी आंखों से पृथ्वी का गोलाकार रूप देगा । मुझे बताना ही होगा कि क्षितिज का दृश्य अनुपम वह खूबसूरत था । इसके बाद उसने कक्षा से सूर्यास्त के नजारे के विषय में और पृथ्वी के वायुमंडल की एक छोड से देखी गई और विश्वसनीय नाजुकता के विषय में बतलाया । आप पृथ्वी के चमकीले पन से अंतरिक्ष के अंधेरेपन के रंगीन परिवर्तन को एक पतली विभाजन रेखा के रूप में देख सकते हैं, जो ऐसा महसूस होता है मानो फिल्म की एक परत में पृथ्वी की गोलाई को लपेट दिया गया हूँ । ये हल्के नीले रंग की दिखाई पडती है और इसका परिभ्रमण अत्यंत धीमा और प्यारा लगता है । जब मैं पृथ्वी की छांव से बाहर आया तो क्षितिज रेखा के साथ साथ चमकीली नारंगी रंग की पट्टी नजर आई जो नीले और फिर गहरे काले रंग में तब्दील हो गई । कुछ पत्रकार और कुछ काॅफी नब्बे मिनट वोस्टोक का आधारभूत कक्षीय काल के अंतरिक्ष काल में सुर्योदय और सुर्यास्त विवरण से सहमत होने में संकोच प्रकट कर रहे थे ही, बहुत से लोग पृथ्वी की छांव के प्रति उसके तात्पर्य को समझ सके । अंतरिक्ष उडान का साहसिक अभियान जो आज इतना सामान्य माना जाता है, सन में काफी जादुई और विचित्र लगता था । शाम को जब उसके सभी सहकर्मियों को भेजा जा चुका था । यूरी ऍम टू घर मंटो के साथ बिलियर्ड्स में हम आ रहा हूँ । टी तो स्वीकार करता है । मुझे अभी भी इच्छा होती है बिल्कुल अभी तक मेरा चरित्र बहुत ही विस्फोटक है, में आसानी से रूखे शब्दों का प्रयोग कर सकता हूँ । किसी की भावनाओं को आहत कर चलता बन सकता है । लेकिन यूरी सभी से खुलकर बात करता है । चाहे वो स्काउट के लडके, कर्मचारी, वैज्ञानिक, कृषक कोई भी हूँ उनसे घुल मिल जाता है । इन बातों से मुझे दिशा होती थी । फिर भी दोनों पायलट दोनों में हमेशा यह बात बराबरी की रहेगी और एक दूसरे के प्रति प्रेम नहीं तो सम्मान रहेगा ही । बिलियर्ड्स खेल रहे थे । उस दौरान यूरी अपनी यात्रा के विषय में जो कुछ बता रहा था घर मान बडी रूचि से सुन रहा था । कुछ सफलता जिसे आज इतिहास के पन्नों में हमेशा के लिए याद रखा गया है उससे कम से कम अगले कुछ महीनों में कॉस्ट टू अंतरिक्ष में उडान का अवसर निश्चित हो सकता था । वो स्टॉक सफल हो चुका था और अब कोरोलेव के लिटिल सेवन के अब ज्यादा विश्वसनीय तरीके से काम करने की संभावना नहीं । किंतु ढांचा के बिलियर्ड कक्ष के सार्वजनिक स्थल होने के कारण इक्विपमेंट मॉड्यूल्स के असफल होने के विषय में यूरी पूरे विवरण नहीं दे पाया होगा । यही एक कमी रह गई । जिसका पता स्वयं यूरिको लगाना पडा हूँ, उसे यूरी द्वारा विशेष रूप से इसके बारे में दी गई चेतावनी याद नहीं है । एक अडियल पत्रकार ने बिलियर्ड्स की हल्की रोशनी में यूरी के जाने से पहले उस की कुछ तस्वीरें खींच ली थी तो मैंने कहा निश्चित ही वही तस्वीरें मेरे लिए अब काफी है । चाय ये तस्वीरें पर्याप्त नहीं अगले दिन करो ले ऍम कमेटी के अन्य सदस्य ढांचा पहुंचे और यूरी से उसकी उडान के सक्षी ली । बंद कमरे में उसने रेट्रो पैर की समस्या को खुलकर विस्तारपूर्वक बताया । आज तक इस बात का कोई स्पष्टीकरण नहीं । छह अगस्त को टिक टोक की उडान के समय पर इस मुद्दे को हल क्यों नहीं किया गया? पीछे के इक्विपमेंट मॉड्यूल से डेटा केलों को सत्रह दिन वाले प्लग से होकर बॉल पर लगी बडी गोल प्लेट पर घुसेडा जाता है । प्रत्येक दिन में छोटी दिनों का संग्रह होता है जिससे कुल मिलाकर अलग अलग अस्सी कनेक्शन तैयार किए गए थे । ऐसे जटिल प्लग को इंजॉय करना साधारण बात नहीं थी । रूसी अंतरिक्ष प्रयास के प्रारंभिक वर्षों में किसी तरह की आधारभूत तकनीकें रूसी अंतरिक्ष प्रयासों के प्रारंभिक वर्षों में किसी तरह की आधारभूत तकनीकी समस्याएं आ जाया कर दी नहीं । अमेरिका में नासा के इंजीनियरों ने भी उडान के बाद रीएंट्री केप्सूल के अलग होने की कठिनाई को पहचाना । रूस की तरह उन्होंने भी कैप्सूलों को उनके सपोर्ट मॉड्यूल से जोडने के लिए वायर के मोटे मोटे बंडलों पर भरोसा किया । इसमें खास अंतर यह है कि उनके लोगों के काम न करने की स्थिति में वो विस्फोटक बोर्ड से ऊर्जा ग्रहण करने वाली जिलेटिन ब्लेड अंबिली कल बंडलों को स्लाइस कर सकते हैं । यदि वो ब्रेड भी काम न करें तो दूसरे से काम चलाया जा सकता था । भारी लोगों की अपेक्षा लचीले तारों से ज्यादा आसानी से निजात पाई जा सकती है । अपनी फितरत से हटकर कोरोलेव के दिमाग में ये समाधान नहीं टकराया और ऍम से कुछ ज्यादा सुसज्जित चौदह अप्रैल की सुबह यूरी मॉस्को के लिए रवाना हो गया । वो लंबी उडान में सक्षम क्यो शिन अठारह एयरलाइनर के गैंग पर चढ गया । कुछ हफ्ते पहले तक वो इसे आईएल अठारह कतई न कहता था । मॉस्को की उडान के दौरान उसका ज्यादातर समय पत्रकारों के प्रश्नों का जवाब देने में बीत गया । कॉकपिट पर लगे रेडियो के माध्यम से लगातार बधाई संदेश आ रहे थे और एयरक्राफ्ट के स्टाफ बारी बारी से उससे कुछ बात करने के लिए यात्री केबिन में आ रहे हैं जो ही चार घंटे की लगातार उडान के बाद विमान अपने गंतव्य पर पहुंचा हूँ । यूरी ने आराम से खिडकी से बाहर जाकर देखा तो पाया उसकी पुरानी जिंदगी तो ऊपर आकाश में गुम हो गई और धरती पर एक नई जिंदगी उसका इंतजार कर रही नहीं । हमें लडाकू विमान के दस्तों के साथ मॉस्को में हमारी लैंडिंग तक ले जाया गया । ये सभी मैं एक विमान थे । वहीं जिले में पहले उडाया करता था । ये विमान हमारे इतने नजदीक आ गए कि मैं पायलटों के चेहरे की स्पष्ट पहचान कर सकता था । वे खुशी से मुस्कुरा रहे थे । मैं भी उनकी ओर देखकर मुस्कुराया । मॉस्को की सडकों पर लोगों की भारी भीड जमा थी । शहर के प्रत्येक हिस्से से मानव लोगों की नदियां बह रही थी और उनके ऊपर क्रैमलिन की दिशा में लाल बैनर लहरा रहे थे । ऍम अपेक्षित समय से पहले व नुकोवा एयरपोर्ट पर उतर गया । यूरी को कुछ समय तक विमान में ही तब तक बैठे रहना पडा जब तक पूर्वनिर्धारित समारोह शुरू नहीं हो गए । यूरिको खुशी के साथ साथ चीज भी महसूस हुई । नीचे धरती पर वैलेंटीन बोरिस सोया वाॅक मॉस्को में निकिता ख्रुश्चेव उसकी पत्नी नीना से मिल चुके थे । वहीं उन्हें अन्ना फालिया भी मिले थे । जोया को फर्स्ट सेक्रेटरी वह उसकी पत्नी का व्यवहार बहुत ही सहानुभूतिपूर्वक लगा । वो हमारे प्रति बिल्कुल साधारण अनौपचारिक था और उसने अपना सारा समय हमारे साथ गुजारा । हमने मॉस्को में चार दिन बिताएंगे और प्रतिदिन सुबह नहीं ना हमारे पास आ जाया करती थी और दोपहर को लौट थी । ये बडी अच्छी स्थिति थी । सबसे पहली औपचारिक घटना एयरपोर्ट पर संपन्न हुई । हमको चार आराम करने के लिए मॉस्को में ठहरे । तत्पश्चात चौदह तारीख को हमें यूरी से मिलने के लिए वनों को वाले जाया गया । उन्होंने एक लंबी लाल कालीन बिछा रखी थी । ऍम को बताया सामान्यतय नीले रंग का होता है । यूरी गैंगवे से नीचे उतरकर कालीन पर आ गए । मेजर की नई वर्दी और हरे रंग की कोर्ट में वो हर नजरिये से हीरो नजर आ रहा था । लेकिन तभी जोया को कुछ अजीब सा महसूस हुआ । मुझे जमीन पर उसके पीछे कुछ खींच कराता हुआ हूँ । ये उसके एक जूते का लेना था । यूरी को भी इसका आभास हो गया था लेकिन उसने चुपचाप शेष दूरी इसी तरह ये प्रार्थना करते हुए ते की कि कहीं उसमें फंस कर वो गिर ना पडे और ऐसे संजीदा मौके पर लोगों की हंसी का शिकार । बाद में उसने वैलेंटीन को बताया कि उसे अंतरिक्ष उडान के दौरान उतनी निराशा नहीं हुई जितनी उस दिन कालीन पर चलने के दौरान हुई । लेकिन सहयोग वर्ष उस प्लेस पर उसका पैर नहीं पडा । उसके जूते के लिए इसको आज भी उस दिन तैयार किए गए एक स्मरणोत्सव चलचित्रों में देखा जा सकता है । अंतरिक्ष यात्रियों के अधिकृत कैमरामैन व्लादिमीर सुबह रोज ने अपनी डायरी में लिखा है कि उस जूते के खुले लेस वाले दृश्य को हटाने, वह यथास्थिति में रखने के संबंध में बाद में बहुत ज्यादा तर ट्विटर हुआ । अंततः यूरी की जिद पर उन दृश्यों को उसकी मानवता की पहचान के रूप में रहने दिया । यूरी मुस्कुराते हुए फूलों से सजे स्वागत मंच पर पहुंचा, जहां नहीं किताब पार्टी के अन्य वरिष्ठ अधिकारियों ने उसका स्वागत किया । तत्पश्चात वो अपने परिवार के लोगों से मिला है । वाल्या पंक्ति में खडी होकर उसे आलिंगन करने वह चुम्बन लेने के इंतजार में थी । ऍम और अन्ना साधारण ग्रामीण शैली के वस्त्र पहने हुए थे । उन्हें कुछ शहरी अंदाज की पोशाक पहनने के लिए भी मना किया गया हूँ । लेकिन खुश्चेव की इच्छा थी कि वे सीधे साधे । खेतिहर किसान तबके के ही नजर अन्ना की आंखों में गर्व खुशी के आंसू छलक आए । यूरी को ये आभास था कि अंतिम दिन जब उसे ये खबर मिली होगी तो कितनी सहम गई होगी । उसने रुमाल से उसकी आंखें पहुंची और बचकानी से आवाज बनाते हुए कहा, लोग मतलब मैं दोबारा ऐसा नहीं करूंगा । वालों को वो का समारोह कुछ ही देर का था । उस दिन का ज्यादा अहम समारोह मध्य मॉस्को में रखा गया था । गैगरीन वक्त निश्चय परिवार काली जेल लिमोजिन में सवार होकर रेड स्क्वेयर की ओर बढ गए । जो यह सोच रही थी कि यदि उसकी ख्याति लब्ध भाई को आराम मिल जाता है तो हमेशा की तरह खूबसूरत वो ऊर्जावान नजर आता है । उस दिन यूरी को बडा दुर्लभ विशेषाधिकार दिया गया था । एक निजी ड्राइवर ने अधिकारियों से ब्रांड न्यू गोलघर ट्वेंटी वन कार हासिल कर ली थी । जो आधुनिकतम वह सर्वाधिक फैशन वाली एक्सेसिरीज से परिपूर्ण थी । थर्ड ऍम अब से वो और उसका स्थायी रूप से मेजर गैगरीन के पास नहीं । सर जी कोरोलेव की उतनी अच्छी तरह आवभगत नहीं हुई थी । उसने भी गैगरीन से वन गोवा में मुलाकात की थी । लेकिन चीज डिजाइनर प्रमुख स्वागत समूह की ओर खडा था । खुश्चेव ने उस व्यक्ति की सेवा को मान्यता देने के लिए कोई खुलेआम घोषणा नहीं की थी । जब की इस कामयाबी के पीछे किसी भी दूसरे व्यक्ति की अपेक्षा उसका योगदान कहीं बढकर था । कुरुली कुछ चमचमाती हुई नहीं बोल काका नहीं देंगे । उसने एक विदेशी दूतावास से एक पुरानी चौका लिमोजीन खरीद ताकि कम से कम एक शैलीगत तरीके से वो वालों को वहाँ पहुंच सके क्योंकि किसी और को से इस अंदाज में पेश करने की चिंता नहीं थी । वो एक स्टेट सीक्रेट था । उसके विषय में खुलकर बोला भी नहीं जा सकता था तो सार्वजनिक तौर पर सामने लाना तो बहुत बडी बात है उसे उसके अपने तमगे पहनने की भी बनाई थी । दुर्भाग्य वर्ष उसकी साॅफ्ट टूट जाने के कारण मॉस्को के रास्ते में ही इसमें धोखा दे दिया । हारकर उसे ट्रेड फेयर के लिए एक साधारण से वाहन में लिफ्ट लेनी पड । इस महान समारोह में शिरकत करने वाले वैज्ञानिकों, सैनिकों, अधिकारियों, शिक्षाशास्त्रियों, वार, राजनेताओं जैसी बडी हस्तियों की सूची में कुलिंग का नाम नहीं था । उसका सहकर्मी सर्जरी आज कहता है कि करौली की स्थिति बहुत ज्यादा अनुचित थी और यूरिको इसका दुख भी था । नोबेल पुरस्कार की समिति ने भी जानना चाहा कि क्या वे दुनिया का पहला उपग्रह बनाने वाले वह अंतरिक्ष में प्रथम मानव भेजने वाले व्यक्ति को पुरस्कृत कर सकते हैं, लेकिन आधिकारिक तौर पर इस प्रश्न का कोई जवाब नहीं दिया है । आज भी इस अन्याय की क्षतिपूर्ति नहीं की गई है । रेड्स फेर में यूरी और उसका परिवार ग्रुप जैव अन्य पार्टी नेताओं के साथ कम्युनिस्ट शक्ति के पारंपरिक शीर्ष पर खडा था । प्लेनिंग के विशाल स्मारक के ऊपर बने स्टैंड पर ऊपर हेलिकॉप्टरों से शहर के प्रमुख मार्गों पर लीफलेट गिराए जा रहे हैं । रेड आर्मी स्पेयर के खाली हिस्से में मार्च पास्ट कर रही थी । वहाँ पहुंचे खुशी से मदमस्त भारी समुदाय के लिए रखा गया था । जीवेम डिपार्टमेंट स्टोर के सामने के हिस्से को लेने में विशाल पोर्ट्रेट से ठक्कर ये नारा लिखा गया सामने वाद के विजय की प्रस्ताव । आज वो विजय कम से कम संभावनाओं की सीमा के अंदर उस दिन की गरिमा के लिए केवल इतना ही प्रचार बहुत नहीं था बल्कि और भी बहुत कुछ किया जाए । सोवियत यूनियन ने एक इंसान को अंतरिक्ष में भेजा । निकिता ख्रुश्चेव का वरिष्ठ एवं भाषण लेखक जो डोर पर लटकी अपने संस्मरण में बताता है । मेरी आंखों में आंसू थे और सडकों पर अनेक लोगों की आंखें बंद है । ये खुशी के आ सकते हैं । सर्वप्रथम तो एक इंसान आकाश में ईश्वर के प्रदेश में उड रहा था और जो सबसे अहम था वो ये कि वो रूसी था । उस दिन उत्सव का मिजाज स्वाभाविक लग रहा है । आम तौर पर रूस में स्टालिन के समय और खुशियों के समय भी लोकप्रिय भावनाओं के इन आयोजनों का बडी जोर शोर से प्रदर्शन किया जाता था । किन्तु इस आयोजन में ऐसा नहीं था । यह तो स्वाभाविक वह सोवियत यूनियन के प्रतिशत लोगों के दिलों के भावों की अभिव्यक्ति थी । टिटो प्रथम समूह के कई फॅसने सादे लिबास में इन समारोहों में शिरकत की । उन्हें लेनिन के स्मारक के शीर्ष पर यूरी के साथ खडे होने का मौका नहीं दिया गया इसलिए भी जमीन पर ही रहे हैं । मैंने लोगों को इससे आपको शोर करते मुस्कुराते हुए देखा । उन्होंने छोटे बच्चों को मंच की झलक दिखाने के लिए कंधों पर उठा रखा था । जूरी बडी शासकी हस्तियों के बीच स्मारक के शीर्ष पर खडा टिटो बताता है । उसे वहाँ देखकर बडा आश्चर्य होता । केवल इसी समय मुझे इस घटना की एहमियत का एहसास हर एक व्यक्ति भावुक हो था । सभी खुश थे । सारी दुनिया ही खुश थी । आखिर इंसान के कदम अंतरिक्ष में जो पढ चुके थे । एक असामान्य घटना यूरी ने मंच से अपना भाषण दिया । उसके भाव वैसे ही थे जैसे कि आमतौर पर ऐसे अवसरों पर देखे जाते । लेकिन उसके शैली में वहीं स्वाभाविक प्रसन्नता वन निष्ठा झलक थी जो सादा से उसके व्यक्तित्व का हिस्सा रही थी । उसके उद्बोधन में साम्यवादी धारणाएँ एक पल के लिए जीवन थी । हाँ ।

Details
अपनी महान् उपलब्धि हासिल करने में मात्र दो घंटे ही लगे, लेकिन इसके पीछे वर्षों की मेहनत और कठिन साधना थी। मात्र 27 वर्ष की उम्र में सफलता का कीर्तिमान स्थापित करनेवाला यह महानायक मात्र 33 वर्ष की अल्पायु में संसार से विदा हो गया। अनजाने अंतरिक्ष को जानने की ललक ने यूरी गागरिन को अंतरिक्ष अभियान की ओर प्रवृत्त किया। और वह भी पहली बार अंतरिक्ष में जाने की कल्पना करना ही दिल को दहला देनेवाली थी। वहां पहुंच भी पाएंगे और पहुंच गए तो क्या जीवित धरती पर लौट पाएंगे? इन सभी सवालों से परे यूरी गागरिन ने अंतरिक्ष में पहुंचकर मानव जीवन को एक नई ऊंचाई दी और भविष्य के अंतरिक्ष अभियानों का मार्ग प्रशस्त किया। सुनें अद‍्भुत जिजीविषा और अप्रतिम साहस के धनी यूरी गागरिन की प्रेरणाप्रद जीवनी।
share-icon

00:00
00:00