Made with  in India

Buy PremiumDownload Kuku FM

जोकर जासूस भाग - 05

Share Kukufm
जोकर जासूस भाग - 05 in  | undefined undefined मे |  Audio book and podcasts
4 KListens
प्रोफेसर अर्थर  स्मिथ एक विदेशी वैज्ञानिक था जिसने एक ऐसे हथियार का आविष्कार कर लिया था जिसे पाने के लिये विश्व के कई आतंकवादी संगठन व  माफिया लालायित थे।  खुफ़िया एजेंसीज़ व पुलिस इस आविष्कार की तह तक पहुंचना चाहती थी । इस बीच अर्थर  स्मिथ की रहस्यमय हालातों में मौत हो जाती है और उसकी एक फ़ाइल जिसमे हथियार से सम्बंधित सीक्रेट कोड्स छिपे थे, कई हाथों से होते हुए जोकर नाम के जासूस के हाथ आ जाती है। फ़ाइल पाते ही जोकर अपनी ही एजेंसी से बगावत करते हुए माफिया से जा मिलता है। आविष्कार को खोजते हुए सभी दिग्गज पहुँचते हैं भारत – जहाँ सीक्रेट सर्विस के एजेंट जावेद-अमर-जॉन उनके मंसूबो पर पानी फेरने के लिए तैयार हैं। writer: शुभानंद Voiceover Artist : RJ Manish Author : Shubhanand Producer : Saransh Studios
Read More
Transcript
View transcript

मौलवी के उम्र पचपन के आसपास लग रहे थे । चेहरे पर ताडी थी मुझे साफ थी आंखों पर मोटे लाइन वाला चश्मा था जो कि ना तक चुका हुआ था । शरीर पर कोता और चूडीदार पाये जाना था । कर ते के ऊपर कालाकोट था और सिर पर काले रंग की ही तो भी शरीर तंदुरस्त था मगर चलते वक्त उसे पीठ चुकानी पडती थी । हाथ में लकडी की छडी सहारा दे रही थी । उसके साथ थी उसकी भी जिस तरह से पाँच तक बढ के बैठी हुई थी । उसकी गोद में करीब एक साल का बच्चा था । वे लोग सक्रिय सी गली के अंत में ऑटो से पहुंचे थे । गली में खेल रहे दो वेलिया के गोरे बच्चे उन्हें देखकर हंस रहे थे । महल भी सभी मकानों को बारी बारी से ध्यानपूर्वक देखने लगा । चारों तरफ देखने के बाद उसने पास खडे एक तो विलियन लडके की तरफ देखा । वह उसे ही तो कुछ टुकुर देख रहा था । होटों पर शरारती मुस्कान थी । मौलवी ने छडी के सहारे उस की तरफ कदम बढाया तो बहुत डर कर भागने को हुआ । बाढ खोडाल चुनाव खाओ मौलवी ने कुछ कर रहे हैं लडका हो गया बेटा क्या आप जानते हो कि गुश्ताबा आपको कहाँ रहते हैं । लडके ने गली के अंत में बनी इमारत की तरफ इशारा किया और कर एक तरफ भाग गया । मालती से सुरक्षित दूरी बनाने के बाद बहस हसने लगा और अपने दोस्तों के साथ कानाफूसी करने लगा । बाकी बच्चे भी खेल खिलाने लगे । उन पर ध्यान दिए बगैर महल भी अपने परिवार सहित उसके भारत की तरफ पड गया । बैल बचने पर एक जवान लडका हाजिर हुआ । उसे ऊपर से नीचे तक देखने के बाद उसने कडक सफर में पूछा क्या बात है? हमें गुस्ताफ पासपोर्ट वाला से मिलना है । उसने बुरा सा मुंह बनाते हुए थे पर फिर उसे और उसकी पीवी की तरफ देखा । फिर बोला यहाँ कोई पासपोर्ट वाला नहीं रहता । इससे पहले रह दरवाजा बंद करता । मौलवी ने छडी अडा दी हमारा मिया ऍम हमेशा यही घर बताया गया था हूँ क्या बताया गया था ॅ गुस्तावो का घर है ये कुछ आपको का घर है । किसी पासपोर्ट वाले का नहीं हो फॅमिली सकते हैं । वो घर पर नहीं ऍम आएंगे । कह नहीं सकता बाद में आना । आप कहे तक हम इजहार करेंगे वही तो है फॅमिली वक्त गुजाल मलविंद्र लॉन की तरफ इशारा किया वहाँ पे की कुछ कुर्सियां थी युवक में कुछ सोचा फिर बोला अंदर आ जाओ । दरवाजा पार करके लोग बैठक में पहुंचे । बैठने के बाद युवक में पूछा यहाँ का पता कैसे पता चला हो? जो ये तो हमें कोई ऍम वहाँ एक होशंगशाह एक है । हमारा वायॅस कहने लगे गुस्ताव! हमारे भाई की तरह ॅ में यहाँ रुकने का टाइम खत्म हो रहा था । कहने लग गए की कोई दिक्कत नहीं । वो स्टाफ काम करवा देगा । बाॅस की पासपोर्ट या वीजा का कोई विकास हो तो विजिट क्यों? मैं करवा देंगे कितना टाइम और बढवाना और ये लोग का नहीं । उसने उसकी बीवी बच्चे की तरफ इशारा किया । ऍम यह हमारी बेगम मैं ये हवाये शाहाब जा रहे हैं । बर्के में छिपे उसके बीवी ने कॉलेज से सब झुकाकर आधा पोलर युवा था । ऍम कहकर मैं अंदर चला गया । कुछ देर बाद वापस आया और उन्हें अंदर जाने का इशारा किया तो अन्य हैं गुस्सा होता है अच्छा आप कह रहे थे कि बाहर गए हुए हैं है फॅमिली योग खडा खडा सोच रहा था कि वहाँ से किस एंगल से मजा क्या लगा । अंदर के कमरे में उन्हें वो स्टाफ हो सोफे पर बैठा मिला । मैं पैंतीस साल का एक हट्टा कठ्ठा द्विधा बाल कम होने की वजह से माथा चौडा दिखाई दे रहा था । चेहरे पर फ्रेंच का दादी थी । शरीर पर शानदार सूट तो उसने सामने पढे सो वेपर उन्हें बैठने का इशारा किया और पूछा कितने दिन और रखना है फॅमिली बस तीन महीने में काम चल जाएगा । दो महीने से ज्यादा नहीं हो पायेगा । वॅार में कहा तेजी लोग हैं या कोई और भी नहीं हो जाएगा । अब यहाँ तो हम तीन ही है । वैसे लाहौर में हमारे चार लडके और हैं । सबसे बडा वाला तो आप ही की उम्र का होगा और दो बीस हजार लगेंगे । उसने उसके खानदान में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई । ब्लॅक बहुत ज्यादा है । अब अल्लाह आपको हमेशा खुश रखें । कुछ हैं फोने हाथ उठाकर चुप रहने का इशारा किया । मौलवी की बकवास पर उससे झुंझुलाहट हो रही थी पर वह किसी तरह संयम बनाए हुए था । कितना लाया हूँ अब पांड्रा हेलो भेज पता नहीं कहाँ कहाँ से आ जाते हैं कुछ आपने बडबडाते कोई सहमती में सर हिलाया ब्लॅक उसने बीवी से कहा बीवी ने बुरखे के अंदर हाथ डाला और शायद पैसे निकालने लगे की ये क्या ऍम लोग और अब के हाथ में पिस्तौल देखकर गुस्सा आपको बौखला गया । इधर मौलवी ने अपनी कोर्ट के अंदर हाथ डालकर बहुत चीज निकली, जिसे देखकर गुस्सा फूट की । सिट्टी पिट्टी गुम हो गए । उसे समझते देर में ही लगी कि वे दोनों पाकिस्तानी आतंकवादी हैं । फॅमिली उसकी आंखों के सामने ना चाहते हुए मौलबी होने से हजार हूँ । पाॅलिश क्या जितनी चाहो ऍम नहीं मत मानना मुझे क्या दुश्मनी है तुम्हारी तो दुश्मनी तो कुछ भी नहीं है । वर्क का नकाब ऊपर करके मर्दाना आवास में उसकी बीवी बोली पर अगर तो हमारी मदद नहीं करेगा तो जरूर हो जाएगी हूँ । जलबेहडा मालवीय बोला अब बताओ तो नहीं जोकर और टाइम इनके लिए पासपोर्ट और वीजा बनवाया था ना कौन जोकर साले टकले कहते हुए मौलवी ने उसके चौंकने पर एक घुसा दिया हूँ कि भाई बडे वाला बोला ऐसे शायद उनके असली नाम नहीं पता होंगे । ये काम तो नकली नहीं होते हैं । और ऍम सॉरी भाई लगी तो नहीं मुडके वाले ने जो करके एक असली फोटो निकली और गुस्सा आपको पका रही है । याॅर्क इंडिया के लिए तो बीज बनवाए होंगे । इसमें कुछ आपने ध्यान से फोटो देखी और हमें सर हिलाया । इसने ऐसी फोटो दी होगी जिसमें इसका और इसके साथ ही का कुछ और ही भेज होगा । हमें दोनों की फॅमिली फोटो चाहिए तो पाॅश इनके साथ लग गई कमाल है ऍम दिया एक नहीं ऐसा कैसे हो सकता है मैं सच कहाँ? भाई लोगों मैंने पांच पांच फोटो मांगी थी एक स्तर का मैं क्या करता? फिर भी देख लेता हूँ । शायद इत्तेफाक से रह गयी । वो पास रखे एक फाइल में देखने लगा । उसके हाथ का रहे थे । फिर एक जगह से उसने फोटो का एक छोटा सा बंडल उठाया और रबर बैंड उतारकर मेजबान सारी फोटो बिखेरती । सारी फोटो देखने के बाद वह मेमरी की तरह में भी आया । इसमें नहीं है । बुर्के वाले ने उसे एक झापड रसीद किया और बोला ये क्योंकि आप बंद कर और हमें उस फोटोग्राफर के पास ले चल जहाँ उनके फोटो की चलें और अगर वहाँ कोई नाटक किया तो वहीं सुना होगा । फिर ये लोग गुस्ताखों के साथ सामान्य ढंग से बाहर निकल गए । ऍम हूँ जो खुशी के साथ ही खाते हैं । ऍम उत्साह के साथ मुठेभेड चली मिल गया सहमने मुझ से हटाया कहाँ मैं जहाँ पे खडा हो गया जो करने लैप्टॉप उनकी तरफ कमाया । अरब सागर में यहाँ उन्होंने देखा । बाकी अरब सागर में तो छोटे छोटे विंडो देख रहे थे । उन्होंने सुन किया तो मालूम पडा कि दोनों पे भारत के तट से मात्र पचास किलोमीटर की दूरी पर थे । द्वीप के करीब सबसे महत्वपूर्ण शहर था पंजी यानी कि गोवा की राजधानी क्या हाल है जो करने पूछा था फिलहाल तो हमारी फाइट तलने पहुंच रही है । वहाँ से हम को आ जाने की तैयारी करेंगे । फॅस ध्यान से मैं द्वीप के चारों तरफ का मुआयना कर रहे थे । अब ये काम तो हो गया । आप हम लोगों को फाइल पर ध्यान देना चाहिए सामने का क्योंकि अचानक की मुस्कुराने लगा उसकी मुस्कान ऐसी थी जैसे उनकी खिल्ली उडा रहा हूँ जहाँ इसको इस बात से सख्त चिड थी क्या हुआ? उसने सकती से पूछ रहे हैं कुछ नहीं । मैं सिर्फ ये सोच रहा हूँ कि आप लोगों को क्यों लगता है । आपके फाइल में इस से ज्यादा कुछ और जानकारी होगी । बिल्कुल होगी ऍम करन क्या केरल पांच चले ट्राॅफी खान करवाना है था और ये फाइनल से भी प्यार है । फाॅर्स से क्यों निकलता है? फॅमिली को पर हमला क्यों कर रहा था? अर्चक पहुंचे रहने में आविष्कार बन पाया । दस चाह रहे हैं क्या बेहतर उसे पता ही होगी । फिर ऍम हासिल करने की कोशिश क्यों करता है? इस्काॅन फाइल में इस्काॅन खर्च हर चयन कह रहे हैं । यानी आविष्कार से रिलेटेड जानकारी ऍम वह चयन करेगी जब अच्छे ही कर नहीं बताया । टेक्निकल पाते हो सकती है जो करने करता कुमार फिर तो बहुत जानकारी तभी काम आएगी जब हमें आविष्कार मिल जाएगा । ऍम चाहिए वही तो मैं सोच रहा हूँ जो कर रहा हूँ । बार बार फाइल में दिमाग लगाने को बोलते हैं । अभी बहुत टाइम है । ऐसा नहीं है कि हम ने दिमाग नहीं लगाया, पर पहले हमें उस अविष्कार को अपने कब्जे में करना चाहिए । बाकी के ये सब का तो बाद में भी हो जाएंगे । अभी मेरे दिमाग में के चल रहा है । कितनी आइलैंड पर हमारे लिए कौन कितनी तैयारियों के साथ इंतजार कर रहा होगा? जवाब में कोई कुछ नहीं बोला । तो फिर उमर दिल्ली के एक स्कूल में टीचर था । इस समय है । आठवीं क्लास को पढा रहा था । चौकसे गणित का कोई फार्मूला लिखी रहा था कि उसका मोबाइल बचने लगा । उन करने वाले का नाम देखकर क्लास से बाहर निकल आया । सलाम वाले का दूसरी तरफ से शराब पता नहीं क्या बाजार वालेकुम, अस्सलाम भाईजान कैसे बजाते, बस लगता जल है पर भाई कैसे याद किया तो मैं आज एक मेल भेज रहा हूँ । उसमें एक शख्स कीबोर्ड है, उसका नाम है जोकर । ऍसे दिल्ली पहुंच रहा है । आज जो फोटो भेज रहा हूँ मैं उसके असली जरूरत नहीं । मैं कह रहा हूँ समझे ना जी इसके साथ सेटल के आदमी नहीं होंगे होंगे ये पता नहीं पाॅल के बारे में जानते हो या नहीं जानता हूँ भाई आईएसआई में आठ साल काम करने के बाद खुद दुनिया की इतनी जानकारी रखता हूँ । कम बोला शराफत कर रहा हूँ । ऍम हाँ बोलिए । होटल के बारे में जानते हो ये अच्छी बात है । अब जो कर के बारे में भी जान लगाओ डाॅ का सबसे खाॅन फिलहाल पेटल के साथ ये हमारे मूल के खिलाफ काम कर रहा है । इससे हमें जिंदा पकडना है । समझे जी आप फिक्र न करें कम हो जाएगा । अंधेरा छा गया था । एयरक्रू वेलिया कम्प्लेन अपने लक्ष्य की तरफ पड रहा था । ऍम तो कुछ दिन पहले कॉपरेट की तरफ गया था ऍम ट्रेन चढाने के बाद नशे में छोडते हुए तो चला गया जो काॅमन भी इत्मीनान से खा पी रहे थे । ऍसे बोला ऍन टूर है हाँ तैयारी करो ट्रेवल तो आगे बढ गया । उसने फेटल के दो सदस्यों को इशारा किया और तो इनकी पिछले भाग की तरफ चल दिया । दोनों उसके पीछे चले गए । क्या हथियार गिराने की तैयारी हो रही है? डाॅ । सामने हमें भरे हैं । मैं देखना चाहूंगा अगर आपको कोई ऐतराज हूँ बिलकुल तेरे का डॅाल तो और उसके साथियों के पीछे चला गया मुझको तो आपके साथ ही की फिक्र हो रही है । काफी टाइम ओके टॉयलेट में कहते हुए जोकर खडा हो गया । उसके ऍम सहमत भेदभरी मुस्कान के साथ बोला इतना ऍम टॉयलेट में हालत नहीं करेगा । फिर साइमन हस दिया पर कर लापरवाही से नया सिगार सुलगाने लगा । उसने जवाब नहीं दिया । जो खर्चे क्या था, वर्ष टॉयलेट की तरफ चला गया । टॉयलेट के दरवाजे को खटखटाकर बोला माॅस् क्या बात है? अरे कितना निकाल होगे हम आसमान में भी इतना प्रेशर बनता है । कभी कोई जवाब नहीं मिला । फिर उसका ध्यान डोर पर गया । खुला हुआ था, थक करेगी, जो करने दरवाजा खोलकर देखा । अंदर कोई नहीं था । मैं वापस जाने के लिए मुडा ही था कि उसे किचन की तरफ से कुछ आ जाएगा । वह धीरे धीरे उल्टे कदम लौट आया और फिर किचन की तरफ जैसे काम जला दिया । आवाजे सुनकर चोकर के चेहरे पर मुस्कान आ गई तो इस काम में टाइम लग रहा है । उसने सोचा फिर कुछ सोचते हुए अपने दरवाजे की नौ कमाई दरवाजा लायक नहीं था । उसने बेहद धीरे से दरवाजा खोला । ॅ अंदर था और उसके साथ थी एक एयर होस्टेस खूबसरत जिसमें की मल्लिका तो रारंग सुनहरे बात किस में जैसे सांचे में डाला हुआ । दोनों एक दूसरे में समय हुए थे और आई है । अचानक ही जो घर से लाया उसकी आवाज से दोनों ही बौखला गए और झटके के साथ एक दूसरे से अलग हो गए । तो तुम जाओगे ठहराने के साथ उठा चेहरे पर ऐसे भाव जैसे चोरी करते पकडा गया हूँ । ऍम से लाल होते हुए सिमट कर बैठ गई और अपनी नग्नता को हाथों से छिपाने की कोशिश करने लगे । मैंने कुछ नहीं देगा । जो करने अपनी आँखे बंद कर रही, उसको भूख लगी थी इसलिए कराया सारे मैं चलता हूँ । आप तो लगे रही पर ऐसे भले काम करने से पहले दरवाजा नहीं करना चाह रहे थे । जो कर तेजी से बाहर निकल गया । उसके हंसने की आवाज किचिन तक सुनाई दी थी । फॅार रह गया । दूर दूर तक कोई आबादी थी न कोई इमारत । भारतीय भूमि का बयान क्षेत्र बंजर जमीन और छोटे छोटे रेत के टीलों से सराबोर था । कुछ पेड अवश्य थे पर उनमें अधिकतर कटीले बबूल और कैक्टस के थे नहीं । पेडों के साइड में एक जीत करी थी और उस जीप के बोनट पर एक व्यक्ति आराम से लेटा हुआ था । अच्छा उन की रोशनी में उसकी फौजी वर्दी साफ दिखाई दे रही थी । सिर पर कहती थी पैरों में पूछ पैरों को लापरवाही से हिलाते हुए वह आसमान की तरफ देख रहा था । आसमान जाता था । असंख्य तारे टिमटिमा रहे थे । कई नक्षत्र में ध्यान से देखने पर पहचान में आ रहे थे । उसने रेस्ट पहुंच पर एक नजर डाली और फिर से आसमान को ताकते लगा । कुछ देर बाद तेज गडगडाहट की आवाज सुनाई देने लगी । शनि शनि आवाज तेज होती चली गई । लाल हरी बत्तियां आसमान में दिखाई देने लगी । फौजी खोदकर बोनट से उतर रहा और चीफ के अंदर बैठ गया । उस ने जीत की हेडलाइट ऑन कर ली । साथ में चेहरे पर नाइट विजन गॉगल्स चढा लिए फॅस की मदद से अंधेरे में भी देखा जा सकता था । हैं । आसमान की तरफ देखने लगा । फिर कुछ देर बाद उतार दिया । लगातार उनके इस्तेमाल से सब होने लगता था । कुछ देर के अंतर के बाद बहर गॉगल्स दोबारा लगा लेता हूँ और फिर आसमान की शिनाख्त करने लगता । तभी उसे अपने कंधे पर किसी चीज का एहसास हुआ । उसने चाहते हुए कौशल, सितारे और पीछे पालता उसके पीछे विकास नहीं खडा था, जिसने उसके कंधे पर हाथ रखा था । क्या हो गया भाई उसने बच्चे ऐसे दिखाते हुए कुछ आप डाॅॅ क्या देख रहते हैं? कनो कारोबारों टूट गया है । ऍम पहुंचे नहीं सकती के साथ पूछा यहाँ क्या कर रहे हो? साधारण सी वेशभूषा में था वह हृष्ट पुष्ट व्यक्ति उसका जिसमें कसरती किस्म का था । बिना कोई जवाब दिए मैं ऊपर से नीचे तक उसे घोर मिलेगा क्या देख रहे हो ऍम और ये सवाल तो मैं आपसे पूछ सकते हैं आप उनकी कर रहे हो? दिखाई नहीं देता । फौजी ने अपने वर्दी की तरफ ज्यादा क्या पंजीयन देखते हो गया है । फौजी वर्दी है पर पर गया मैं चला है अपने देश के फौजी तो ना लागे हो साले तो पाकिस्तान का बहुत ही देख रहा हूँ । बिल्कुल नहीं जी पाकिस्तान के हो गई । मैं तो कह रहा था कि आप अमरीकी फजीला गया हूँ । अच्छा और नहीं तो क्या अजय अंधेरे में देखन वास्ते ऐसी दूर बिना तो वही रख सके ना । उसकी इस बात से फौजी चौकिया बाहर से देखने वाले आदमी से उसे इतनी खुल बंदी की उम्मीद नहीं थी । मैं सतर्क हो गया । उसने आगे बढकर उसका गिरेबान पकड लिया । फॅसे बकवास करे चला जा रहा है । बताइए ऍम और इस वक्त यहाँ क्या करना है मेरे पीछे भेजा है किसी ने तो नहीं नहीं साहब हम तो हम तो सीधी तरह से जवाब देवर वरना गोली चल जाएगी तेरे लिए क्यारडू फॅमिली तो मेरे हाथ काफी फौजी ने मुट्ठी बनाकर का आप से नहीं थी हम से गोली चल जाएगी । कह कर उसने आंखों से नीचे की तरफ इशारा किया । फौजी ने सुन दही के साथ उसे देखा भाजपा नीचे इशारा करने लगा आखिर उसने दीजिए देख लिया और एकदम से गिरेवाल छोड दिया उसका वो खुला रहेगा तले हुए हाथ एकदम से ढीले पड गए वो अलवर का रुख ठीक उसकी ना भी बंद था मैं कुमार पडे प्यार से उसे देखते हुए मुस्कुरा रहा था ये ये इसी की बात कर रहे हम इतनी देर से हाथ में पकडे आपकी देखते ही नहीं है । ऍम दे रहा है तो आप अपनी ऍम काम आएगी तभी दूर की नहीं रेत के टीलों से धक धक की आवाज आई आप क्योंकि फौजी के पीछे की तरफ से आई थी तो उसकी गर्दन स्वतः ही पीछे घूम गए । ऍम हजार था । उसने अग्रवाल पर घुमाया और उसके सिर के पिछले हिस्से पर तय माना । फौजी टक्कर खाते हैं, कोई नहीं चल रहा क्या आपसे बात में के टाइम पास हुआ जी फुल मजा आ गया । फिर अचानक इसका बदल गया और उसकी आवाज में शहरी होना गया । पर अब टाइम हो गया तो मुझे लेने का ऍम और मैं लेट होना सहन नहीं करता है । पांच मिनट बाद उसके शरीर पर फौजी वर्दियां उसने अपने कपडे आ पहुंची के बेहोश शरीर को उठाकर जीत के अंदर डाल दिया । उसके सिर से गांगल सुधारना नहीं बोला था । मैं उन्हें अपनी आंखों पर चलाकर मैं उन तीनों की तरह पड गया जहाँ से आप आ जाइए । कुछ ही देर में मैं उसकी ले के पास पहुंच गया । वहाँ एक बडा सबका स् पैराशूट से बना पडा था । कुछ ही दूरी पर उसे कंसारी साया भी नजर आया । उसने टॉर्च निकालकर उस की तरफ इशारा किया । वह व्यक्ति पहला शूट निकाल रहा था । कुछ देर में बहुत उसके पास पहुंच गया । अब आई सफर कैसा रहा? फौजी के भेज में व्यवहार में पूछा ठीक था आज हवा ज्यादा चल रही थी । उसने सतर्कता के साथ जवाब दिया । शायद ये सवाल जवाब कोडवर्ड्स थे जिनसे जान पहचान की जाती थी । अगर तुम भी पहुंची, वर्दी में था, बहन के पास पहुंचा और उसे चेक करने लगा । कहीं बताए खुला नहीं बढना, काम बढ जाता हूँ । कब हारने सहजता के साथ कहा तो जीत यही लिया इसे जीत तक ले जाना । हम दोनों के बस की बात नहीं है । गवार ने वैसा ही किया । फिर दोनों ने मिलकर बस जीत में रखा । बस रखने में दोनों की सांस फूल गई । क्या है आगंतुक? थके हुए सर्वे का पानी होगा हमारे पास ये लोग गवार ने एक बोतल से पानी पीते हो । इसमें करवा समूह बनाया । यह किए कैसा पानी? दूसरे देश का एकदम से पानी पी होगे तो ऐसा ही लगेगा । उसने कहा फिर थोडा पानी और क्या रास्ते में बिसलरी ले लेंगे? गवार ने कहा कुछ ही देर में आगे तक को अपना सर चलता हुआ महसूस हुआ । सब कुछ ऊपर नीचे होता हुआ दिख रहा था । क्या हुआ? गवाह है सर । पहले बताते हुए बोला तो मैं पानी में जरूर रोमिला रखे हैं । अबे कौन से देश से आॅल आपने पानी मिलाया जाता है? पानी में शराब नहीं इसमें कुछ और है । फॅस लडखडाते हुए कमाल की तरह पढा खोले माॅक ऍम गोली मार लेना लाॅकर उसमें उसके हाथ में अपनाने वालबर्ग पकडा दिया । उसने बडी मुश्किल से रिवॉल्वर हाथों में लिया और लडखडाते हुए उस पर डाल दिया । फिर त्रिगर्त तब आता चला गया ऍम ऍम कालेज केवल देता है गोलियाँ जीत की पिछली सीट पर पडी है घोटाले मैं उनके जीत के पीछे पहुंच गया । गवार उसके पीछे पहुंचा और एक भरपूर ठोकर मारकर उसे जीत के अंदर पहुंचा दिया । धीरे धीरे उसकी आंखे बंद हो गयी । ऍम दिल्ली के इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर लाइन कर चुका था । एक एक करके साइमन जॅनरल के अन्य सदस्य बिना किसी दिक्कत के कस्टम से निकला है । एयरपोर्ट से भी लोग बाहर निकले । कल हम लोग ऍसे गोवा के लिए फ्लाइट लेंगे । ऍम बोला तो रात नहीं चलकर वेटिंग रूम में बताई जाए । जो करने पूछा ठीक है तो महिला हूँ । हम तो आराम से होटल में सोने का इरादा रखते हैं । क्या उसका हाथ पकडकर बोला तो तो मैं छोड देता हूँ और मैं तो मजाक कर रहा था । मैंने प्लेन में आपके साथ थोडी शरारत कर दी । इसलिए आप नाराज हो गए । क्या कर जो करने आंख मारे तो चालीस दिन चला कर रहे हैं । कुछ बोल नहीं सकते । हाँ, उस वक्त मेरे पास कैमरा होता । जोकर उसके कान में बोला । फिर आपको प्लाॅट मिल करने का एक और हथियार मिल जाता जाउं । घुटने लगा । फिर के लोग होटल रेडिसन के लिए चल दिया । एयरपोर्ट से निकलते ही उनकी टैक्सियों के पीछे एक सेंट्रो लग गई । उसमें तो उसी को बाहर बैठा हुआ था । मैं सावधानी से इनका पीछा कर रहा था । उसने उन्हें रेडिसन के विशालकाय खेत में प्रविष्ट होते देखा । कुछ समय व्यतीत करने के बाद भी वहां पहुंच गया । कारपा करके वहाँ होटल के अंदर विशालकाय हॉल में पहुंचा । वहाँ काफी भीड थी । स्विट्जरलैंड कंपनियों से रिसेप्शन पर नजर आए । मैं इधर उधर घूमने लगा जब ऍसे हटते दिखाई दिए । बहुत तेजी से वहां पहुंचा । उसने ध्यान से उन होल्डरों को देखा जहां से होटल के स्टाफ ने फेटल के लोगों के लिए चाबियाँ निकली थी हूँ नहीं थे किसी उतरी फॅर फॅस तीन सौ तीन नंबर के आॅडीशन सुमित में दाखिल होते ही जहाँ पे उसने अपना मोबाइल निकाल दिया । डॅाक फोन नहीं किया । मैं बोला डाॅ उनके उस आदमी का नाम था जो हथियारों के साथ पहला शूट से पूरा था । जिस शॅाट रहे हैं उनके नाॅक मैं मैंने कहा फिर उसका नंबर डायल किया नंबर नॉट रीचेबल आ रहा था फॅमिली है एक बार करता मुझे कि वह हथियार समेत सही सलामत पहुंच गया है तो वहाँ के लिए निकल गया था । चिंता मत था कुछ देर है तो आपको कॉल कर के देखेंगे । उसके बाद पूरी पार्टी ने होकर डिनर लिया और अपने अपने कमरों की तरफ बढ गए । जो कभी अपनी सेहत का दरवाजा खोल ही रहा था कि फेडरल का एक आदमी एल्बर्ट वहाँ पहुंचे क्या हुआ भाई जो करने पूछा कुछ नहीं काम ॅ ऍम पहुंचा यार तुम यहाँ से चले आ रहे हैं मुझे आप लोगों के साथ ही सोना । उसने कहा अब लोगों के साथ जो करने आगे पहले भाई ये कौनसा वाला सुना एक मैं शरीफ इंसान सिर्फ अपने औरत के साथ होता हूँ डायमंड के मुख से हंसी छोटे ऍम मुस्कुराकर बोला मेरा तो मतलब नहीं होना भी नहीं चाहिए । अच्छी बात नहीं होती है सर जब तक शादी न हो जाए आॅनलाइन होना चाहिए । जब तुम भी हो जाता है पूरा दिन भी दिया हवा में उडते होते हैं । कल फिर छोडना है मुझे आप लोगों के साथ मेरा मतलब आपके कमरे में सोने के लिए बोला गया । किसने बोला सर नहीं किसके सिर ने मुझे लगता था कि मुझे बोलता है सिर्फ और सिर्फ खिलाया जाता है । हाँ क्या नाम है और तुम्हारा कहना है कि किसी के सिर्फ तुमसे कहा । एल्बर्ट कुछ कहने के लिए मुंह खोला पर जो कर छत से ताली बजाकर इट लाते हुए बोला तो ये बात है । अब मुझे समझाते हैं तुम से यहाँ होने के लिए किसी के सिर में नहीं बल्कि खुद तुम्हारे सिर में कहा है सीधे का होना तुम्हारे दिमाग में ये बात है मुझे क्या पागल को देने का आता है । जब तेरे से पागल के साथ हूँ ऍम पर भाई देखो जोकर हाथ उठाकर बोला मुझको तो अकेले सोना ही पसंद है । तुम चाहो तो इसको उठा कर ले जा सकते हो । डायमंड की तरफ इशारा किया उसने ऍर में बोला सामान और चावल सर का आदेश के आदेश है । यही की रात हो गई है जिसको जिसके साथ सोना और गुलछर्रे उडाने हैं । उडाओ पर देखो मैं ऐसा वैसा आदमी नहीं हूँ । वो ऍम चलाया ठीक है तुम सो जाओ, हमें कोई दिक्कत नहीं है । धवन ने कहा था उसने चैन की सांस ली, उसके बाद है पहले चला गया क्या बात है तो जब बडी मसखरी सोच रही है डाॅ । इन लोगों को डर है कि कहीं हम भागना जाए इसलिए से लगाया अभी मुझे गुस्सा आ रहा था । करने थे महीने तसल्ली हमारा क्या जा रहा है? फ्री में सिक्योरिटी मिल रही है क्योंकि ये बात भी ठीक है जो करने सोचते हुए कहा फिर कूदकर बिस्तर पर पसर गया पानी से भरा जब सोए हुए अमर वर्मा के ऊपर खाली हो गया ऍम क्या चाहिए? पहाड बढाते हुए बैठा और फिर आंखें मैच में जाते हुए चारों तरफ देखने लगा इंद्रदेवता है बात हो हमें क्रोध आ रहा है अगर तुम फौरन ना उठे तो हम तो मैं चुल्लूभर पानी में तो बोल देंगे । कहते हुए फॅसने थोडा से पानी और छुआया मेरी जान अमन गंभीरता के साथ बोला बोल आन बुढा गाए हो मगर बच्चों वाली आदतें नहीं छोडी । कहकर उसने गिरी चादर एक तरफ फेकते फॅमिली बहस चुराकर सोया था जो इस तरह उठा रहा है टाइम तो देख ये कोई सोने का वक्त दुनिया में क्या चल रहा है? कुछ खबर भी है दुनिया के खबर रखने का । किसे होता था मेरी दवा आंखों के सामने अभी तक पानी का गुलाबी चेहरा घूम रहा है । पहाडी वादियों में कितने खूबसूरत लग रही थी । पूछा वो तो इतनी सेक्सी होती जा रही है कि क्या बताऊँ? अमर आज ही अपने दोस्तों के साथ शिमला टूर से वापस आएगा । उससे बात मत कर यार फरीद कल दिखाकर तो मेरी आंखों से वहाँ हसीन चेहरे ओझल कर दिया । इन हसीनाओं के चक्कर से बाहर निकल वरना किसी दिन कोई गले पड जाएगी । नहीं खानी पूजा उस टाइप की लडकियाँ नहीं है मॉडर्न है बस तो उस रहती हैं और इन दवाई करती है अभी भारतीय लडकियाँ कितनी भी मॉर्डन हो जाए उनके दिल में हमेशा किसी लडके को फंसाने का अरमान होता है । ऐसा है क्या? अगर आपके गोल करके बोला था तो मैं वही तेल मालिश चालू कर देता हूँ । उससे क्या होगा जैसे फंसाने के लिए पकडेगी मैं फिसल कर निकल जाऊंगा । अच्छा अब और कार्य में बैठो कहकर जॉन ने उसका हाथ की जाएगी करीब ये क्या बात होती है यार । अमर नाराजगी के साथ बोला सोकर उठने वाले को भले चाय वाय पूछा जाता है, तैयार होना पडता है । ये कैसी सरकार में बैठो । वो तो मैंने तेरह हुई दिया । आधी तैयारी हो गई है जाए रास्ते में पी लेंगे पर जाना है । अमर खडा होकर बोला था दिल्ली दस मिनट बाद जॉन की कार हाइवे पर दौड रही थी । जॉन का ध्यान सडक पर था । अमर जब भाई लेते हुए बोला ऍम तो मामला गया । काफी गंभीर मामला है । हो सकता है कि हाईअलर्ट डिक्लेयर हो जाएगा । हो गया । चीफ का कहना है कि पाकिस्तान भारत के खिलाफ कोई बडी साजिश में लगा हुआ है । शक है कि पाकिस्तान ने किसी ॅ के साथ मिलकर खतरनाक हथियार बना लिया है । ऐसा हथियार ऍम बेटी का प्रयोग करता है । क्या बात कर रहा हूँ? क्या फॅमिली वाले भी छेना अमेरिका की तरह पाकिस्तान का पालन पोषण करने लगे? फॅमिली के मिनिस्टर का कहना है कि ये काम पाकिस्तानियों ने उस साइंटिस्ट को मजबूर कर के बनवाया । ये सब बहानेबाजी और दिया वो खुद से मिला । मैं बस को बता रहा हूँ जो चीज में कहा है हो के बाद आगे क्या कहानी? पाकिस्तान के इस कारनामे के बारे में दो बिलियन अपराधी संगठन पेटल जान गया और उसने कैसी फाइल हासिल कर ली है, जिसमें आविष्कार संबंधित बेहद महत्वपूर्ण जानकारियां हैं । साइंटिस्ट के मरने के बाद से वह फाइल इधर उधर न चल रही थी । सबसे पहले मिली साइंटिस्ट के भतीजे डायमंड को जो खुद एक टीसीआई एजेंट फॅस के पास रखवाई, वहाँ से फिर टलने चलाई ऍम वही जोकर जिसका नाम हमेशा चर्चा में रहता है । हाँ, दूसरी तरफ जेल में बंद आतंकवादी बातचीत अली भाग गया । उसने जो काॅपर हमला करवाया पर पेटल ने उन्हें बचा लिया । खदशा चोकर और डायमंड के साथ उनकी सुना हो गई । सब लोग मिलकर इंडिया पहुंचे तो कब अमर सीट से उछल पडा । उसकी सारी नहीं एकदम से गायब हो गई । कुछ ही देर पहले इतनी जल्दी जल्दी सब कुछ हो गया । लग रहा है कि साउथ की कोई मूवी देख ली । फिर अभी क्या हम उन्हें पकडने का रहे? नहीं तो फिर क्या आरती उतारेंगे? जीत का आदेश है की उन पर नजर रखकर उस हथियार तक पहुंचा जाए और फिर हथियार समेत सबको कहकर चौदह सिर कलम करने के स्टाइल में हाथ घुमाया । हमारे हार इसका तो मतलब है कि हथियार इंडिया में ही कहीं वहाँ पाकिस्तान इतने पर निकला । इन लोगों के इंडिया के खिलाफ इंडिया में ही हथियार बनवा रखा है । ये तो हो गई, एक बार वहाँ पहुंच जाएगा । फिर उनसे पाकिस्तान कोई उडाएंगे अमर जोश में बोला तो वहाँ मेरे शेयर आइडिया जो हमने वो बनाया अपने पास तो आइडिया का भंडार है पर एक तो सोचो अगर फाइल लेकर ये लोग यहाँ आ गए हैं तो बातचीत और पाकिस्तान वाले कौनसा रखेंगे । वो भी आ रहे होंगे पीछे पीछे । मुझे तो लग रहा है कि ये भारत की धरती पर अपना युद्ध लडने वाले हैं । बहुत ही करते रहे मेरे हम पर मेरी जान । फिर हम क्यों नहीं पाकिस्तान की विरोधी से मिल जाते हैं । उनकी भारत से तो कोई दुश्मनी है नहीं । क्या पता पर है तो वह अपराधी ही तो कौन सा हम उनके साथ जिंदगी भर रहेंगे । मिशन के बाद उनकी भी आॅस्कर देंगे । फिलहाल चीफ ने सिर्फ पर नजर रखने के लिए कहा है । यही तो सारा मजा खत्म हो जाता है । जूनियर एसिड होने का कोई फायदा नहीं । हम अपना दिमाग इस्तेमाल नहीं कर सकते । जो चीज या सीनियर ने कहा उसे सिर झुकाकर मान लिया । ऍम पत्ते का जब से प्रमोशन हुआ है, दिखाई नहीं देता, पूरी स्वतंत्रता के साथ काम करता है, सामने आता है तो हम लोगों का ऐसे ट्रीट करता है जैसे हम साले सडक के कुत्ते हैं । है । जहाँ भी है अपनी काबिलियत की वजह से ज्यादा बडा है । अमर हाथ दिखाते हुए बोला मुझे तो लगता है कि आगे चलकर वही हमारा जीत बनेगा । अब ऐसा लिख कीडे पडे तरह में वह हमारे हिटलर भाई जाने चीज वन इयर मार लेगा सबकी जहाँ मुस्करा दिया ऍम पूरी तरह से चौका मैं बहुत जैसे गवार ने बेहोश किया था जिसमें के पूर्व से पसीना बहना शुरू हो गया । अब आप आप वही चाहिए खान है कौन वही जीत चलाते हो? जावेद कडक सफर में बोला आपका नाम बीबीसी पर सुना था छोटा शकील के चमचे को दुबई में पकडा था आपने पता टीवी बहुत ध्यान से देखते हो अपनी लाइन के लोगों की खबर रखनी पडती है ना? अरे नहीं मैं तो बस ड्राइवर हूँ । पैसों के लालच में पहली बार ऐसा काम किया । मैं जीत के पिछले भाग में बना हुआ पाई तरफ पडा था दाहिनी तरफ मैं दूसरा आदमी यानी कि डैरल था । जो पैराशूट से आया था वह भी बनाता है । दोनों के बीच में हथियारों से बडा बॉक्स था तो पैसों के लालच में कुछ भी करेगा ऍम या नहीं? विदेशी हथियार कितना बडा जरूरी है । जानता है क्या नहीं होगा आप की कसम सर, अपने बीवी बच्चों के कसम मुझे नहीं पता था । मुझे तो बताया गया कि कुछ विदेशी सामान्य टैक्स बचाने के लिए इस तरह से लाया जा रहा है फॅमिली ले पुलिस रिमांड में जाने के बाद देना । उसके बाद तुम्हारा घर बनने का जेल तो तो कर भी रहेगा । अरे तो विलियन कैसे रहेगा? वहाँ बता दे से भी कोई कुछ भी नहीं बोला । दोनों पंधे पडे कभी एक दूसरे को देखते हैं । तभी जावेद को जीत इस वक्त किसी हाइवे पर थी । सडक के दोनों तरफ काफी देर से सिर्फ पेड दिख रहे थे । धीरे धीरे कुछ वहाँ पे और दुकानें देखने लगी । शायद कोई शहर आने वाला था । जावेद ने जेब से मोबाइल निकालकर एक नजर डाली । फिर कुछ आगे जाकर सडक किनारे जीप लगा दी । ऍम कुमार खर्चा वेद की तरफ देखा तो उसकी नजर मोबाइल पर पडी । ये तो मेरा हैं । वह बहुत लाया मालूम है इसमें नेटवर्क आने लगा है । आपने बहुत कपडे कुशल मंगल नहीं बताना चाहोगे । मेरा कोई बहुत नहीं है । ऍम का नंबर क्यों? मैं चुप रहा । आपने मौत को बचाने की कोशिश मत कर । अगर मेरे पास ये नंबर है तो मैं ये भी जानता हूँ कि वह कहाँ है और तुम लोगों का प्लान किया है । जब हम सब जानते हो तो फोन भी खुद ही क्यों नहीं कर लेते हैं । उसने रोके स्वर में कहा उसके इस तेवर से जावेद के चेहरे पर कोई बदलाव नहीं आया । आराम से सीट लांघकर पीछे हट गया । एक बार को तो डेरेन को लगा । वह उस पर हाथ उठाने वाला है । पर उसके विपरीत पर दूसरे व्यक्ति पर जुड गया और उसके बंधन खोलने लगा । उसे खोलने के बाद पहले वापस अपनी सीट पर आ गया और रिवॉल्वर निकाल लिया । आपने बंधन खुले देखकर वहाँ सोच में पडा हुआ था । उसका दिमाग दौडने लगा था । जाना की वैसे ही था जैसे पाँच तक उसके पूरे शरीर में झुनझुनी दौडते । फिर अचानक की वह हाथ जोडकर के खिलाने लगा । सर, प्लीज ऐसा मत करना कैसा जावेद ने रिवाल्वर की नाल मिलाकर मुझे मुझे मुझे समझ आ गया । आप आप इसे डराने के लिए मेरा एनकाउंटर करने की सोच रहे हैं जहाँ पे तू से खोलता रहा । इसलिए मेरे हाॅरर ही लूंगा भी नहीं । यहाँ से जावेद असर नहीं । मेरा ऐसा कोई इरादा नहीं । फिर फिर क्यों? मैंने तुम्हारे हाथ इसलिए खोला था की तो इनका इस्तेमाल कर सकते हो? रामचंद्र शिंदे आप खुद भी रामनाथ क्या मैंने उसकी बात काटी? उसके गाल पर एक जोरदार थप्पड टाॅक । शिंदे ने आंखें फाडकर टेरेन को देखा । उसके चेहरे पर कोई भाव नहीं । शिंदे हिचकिचाया जावेद केजरीवाल पर धमकाते हुए हैं तो शिंदे ने हाथ हवा में उठा लिया । गढ तप्पड जोरदार होना चाहिए । तुम तो नहीं हो रहा है शिंदे ने नाम करेला तो लगा साले जावेद हूँ । चाॅद लगती शिंदे नहीं क्योंकि डेरेन के हाथ कर लेते है । किसी प्रकार से बचने की कोशिश नहीं कर सकता था । चटा जावेद करता है । हद कुमार शिंदे के काल पर चढ गया है । उसके भारी भरकम हाथ के प्रहार से उसका पूरा चेहरा भन्ना गया । अब समझ आया ऐसी आवाज आनी चाहिए । चिंदे निकाल सहलाते हुए सहमती में सिर्फ खिलाया । मारत अच्छा हाँ चाॅस बस चल रहा है बिचारे डेरेन को एक थप्पड मुफ्त में मिल गया । आपके हुए शिंदे वापस सीट पर बैठ गया । मारते हुए वह लगभग खडा हो गया था । डाॅन के होठ पड गए थे । गांव टमाटर की तरह लाल हो गया था । फोन करने का मूड बना । जावेद ने नम्रता के साथ पूछा डाॅ कोई जवाब नहीं दिया । ऍम जावेद मिस कर रहा हूँ । खुशी की बात है । मेरी तो विशेषता ही यही है । मुझे कोई मुस्लिमों को टॉर्चर देकर मुंह खुलवाना मुझे तुमसे कुछ सीखने को मिलेगा विदेशी मुस्लिमों को टॉर्चर करने का मौका कश्मीर बार बार मिलता है । उत्तर क्या किया जाए? जावेद रिवाल्वर की नाल खोट पर रखकर सोचने लगा अपना ऐसा करते हैं एक गेम खेलते हैं तेरी पांच उंगलियां और मेरी पांच गोलियां एक एक कर के तौर से है ना कहकर जावेद झपट कर उसके पीठ पर बने हाथ को भेज दिया । एक अंगुली दबोची और टाॅवर का मुख्य उस पर चिपका दिया । डाॅ । खुद को छुडाने की नाकाम कोशिश करते हुए बोला तो ऐसा नहीं कर सकते हैं मैं मैं तुम्हारी कैद में हूँ । मुझे अपने ऑफिसर के पास ले चलो मेरा गाँव के सर मैं खुद और मैं तो मैं थोडी ना हूँ । बस उंगलियाँ तोडूंगा । लोग समझेंगे कि तुमने मंच पर फायर करना चाहा होगा और मैंने बचाव में तुम्हारे हाथ पर फायर कर दिया । हाँ जी नहीं नहीं बच्चे घर । शिंदे ने तो अपनी आंखे बंद कर ली । इतना हेल्मसे खोली गई और लग जाएगी । कहते हुए जावेद ने तो घर पर दबाव डाला ऍम मैं उनको करता हूँ । मैं बोला ठीक है तो इतना नाटक करवाने की क्या जरूरत थी तो मैं तुम्हारे बॉस का नंबर मिलाऊंगा और तुम वैसे ही बात करोगे जैसे नवंबर हालत में करते हैं । खर्चा है कि या तो सीक्रेट इशारा किया तो ऐसी हालत करूंगा की मौत की भीक मांगू गए । घर मिलेगी नहीं । डाॅ । आंखों से सहमती जाहिर । उसके बाद जावेद ने नंबर लगाया । तब दूसरी तरफ से किसी ने उठाया नहीं पिटल । पार्टी के दिन लेने से पहले तौफीक ओमार रिसेप्शन हॉल के उसके अंदर में खडा था । जहां टॉयलेट था । उसने हॉल में घूम रहे मीटर को इशारे से बुलाया । मैं तुरंत उसके पास पहुंचा । येस मैं एक पढा लिखा युवक था । आखिर फाइव स्टार होटल था । ये देखो यहाँ टॉयलेट की हालत कहते हुए टॉपिक टॉयलेट के अंदर आ गया । क्या वो असर बेटर उसके पीछे पहुंचा? अंदर आते ही फटाक से टॉयलेट का दरवाजा एक दूसरे व्यक्ति ने बंद कर लिया । वेटर चौकर बढता है । उस व्यक्ति के हाथ में रिवॉल्वर था तो भी हमारा एक काम करना है तो आप एक में उसका ध्यान आकर्षित किया । काम बेटर की आंखों में मौत का भाई था । अमरीकी डुप्लीकेट चाबी रिसेप्शन पर होती है तो तीन सौ तीन तीन सौ, चार सौ पंद्रह सौ तीन सौ सोलह की चाबी अलानी तो यही इंतजार करूंगा मेरा ये साथ ही तुम्हारे साथ हॉल में जाएगा और अगर तुमने कोई चालाकी तो यही तो मैं गोली मार देगा । मैं तैयार हूँ मुझे मत मानना मगर मेरे हिसाब से इस तरह का भी हमारा एक और साथ ही होगा ना बॅाल चाय रखेगा मंगा उठाकर तुम चाभी गायब कर देना । काम बहुत रिस्की असर अगर रिसेप्शन पर ही पकड लिया तो मेरी नौकरी चली जाएगी । पकडे गए तो सिर्फ नौकरी जाएगी और अगर कोशिश नहीं की तो जान जाएगी फॅसने हजार के दस नोट उसके हाथ में पकडा है ये हैरान था रखो तुम्हारी मेहनत की कमाई है हूँ ।

Details
प्रोफेसर अर्थर  स्मिथ एक विदेशी वैज्ञानिक था जिसने एक ऐसे हथियार का आविष्कार कर लिया था जिसे पाने के लिये विश्व के कई आतंकवादी संगठन व  माफिया लालायित थे।  खुफ़िया एजेंसीज़ व पुलिस इस आविष्कार की तह तक पहुंचना चाहती थी । इस बीच अर्थर  स्मिथ की रहस्यमय हालातों में मौत हो जाती है और उसकी एक फ़ाइल जिसमे हथियार से सम्बंधित सीक्रेट कोड्स छिपे थे, कई हाथों से होते हुए जोकर नाम के जासूस के हाथ आ जाती है। फ़ाइल पाते ही जोकर अपनी ही एजेंसी से बगावत करते हुए माफिया से जा मिलता है। आविष्कार को खोजते हुए सभी दिग्गज पहुँचते हैं भारत – जहाँ सीक्रेट सर्विस के एजेंट जावेद-अमर-जॉन उनके मंसूबो पर पानी फेरने के लिए तैयार हैं। writer: शुभानंद Voiceover Artist : RJ Manish Author : Shubhanand Producer : Saransh Studios
share-icon

00:00
00:00