BlogAbout us
Thappad | Not A Movie Review by Sucharita Tyagi | Taapsee Pannu | Anubhav Sinha in hindi |  हिन्दी मे |  Audio book and podcasts

Thappad | Not A Movie Review by Sucharita Tyagi | Taapsee Pannu | Anubhav Sinha in hindi

Show: Film Companion Local

In Thappad, starring Taapsee Pannu, writer-director Anubhav Sinha and co-writer Mrunmayee Laagoo have succeeded in creating an entire, matter of fact, lived in universe, joh relatable bhi hai, aur isliye effective bhi. Listen to Sucharita Tyagi's Not A Movie Review to know more. Voiceover Artist : Sucharita Tyagi Producer : Sucharita Tyagi Author : Sucharita Tyagi Script Writer : Sucharita Tyagi Take a step against Domestic Violence before it becomes new normal. ‘Thappad’ is a slap on the societal conditioning, to make a marriage successful, every abuse has to be borne. Taapsee Pannu and Pavail Gulati starring Thappad is a social drama that questions the unwritten and unsaid rules laid for the social contract like Marriage. The movie is being directed and produced by Anubhav Sinha. He through his characters weaves a story that revolves around Amrita (Taapsee Pannu). Amrita’s world took a big turn when her ambitious husband Vikrant (Pavail Gulati) slapped her in a gathering, in front of everyone. That gathering was hosted to celebrate the success Vikrant achieved in the Corporate world. Amrita’s world falls apart as her husband was everything to him. Will the movie put forth the social message strongly or lose its movie somewhere in the middle of the runtime? Will the critics give it a thumbs-up? For this, Listen to the review of the movie ‘Thappad’ in Hindi by the movie critic Sucharita Tyagi in her Podcast ‘Not a Movie Review’. घरेलू हिंसा के खिलाफ कदम उठाना अनिवार्य है। 'थप्पड' समाज की सोच पर एक तमाचा है। शादी को सफल बनाने के लिए हर दुर्व्यवहार को सहन करना होगा, यह अनिवार्य नही। ‘थप्पड’ तापसी पन्नू और पवेल गुलाटी द्वारा अभिनीत एक सामाजिक नाटक है जो शादी जैसे सामाजिक अनुबंध के लिए रखे गए अलिखित और अनकहे नियमों पर सवाल उठाता है। फिल्म का निर्देशन और निर्माण अनुभव सिन्हा कर रहे हैं। वह अपने किरदारों के जरिए एक कहानी बुनते हैं जो अमृता (तापसी पन्नू) के इर्द-गिर्द घूमती है। अमृता की दुनिया ने उस वक्त बड़ा मोड़ ले लिया जब उनके महत्वाकांक्षी पति विक्रांत (पवेल गुलाटी) ने उन्हें एक सभा में सबके सामने थप्पड़ मार दिया। उस सभा की मेज़बानी कॉर्पोरेट जगत में विक्रांत द्वारा हासिल की गई सफलता को मनाने के लिए की गई थी। अमृता की दुनिया तहस-नहस हो जाती है क्योंकि उसके लिए विक्रांत ही सब कुछ था। क्या यह फिल्म सामाजिक संदेश को दृढ़ता से आगे रखेगी या बीच में कहीं अपने मुद्दे से भटक जाएगी ? इसके लिए आप पॉडकास्ट ' नॉट ए मूवी रिव्यू ' में फिल्म समीक्षक सुचरिता त्यागी द्वारा हिंदी में फिल्म ' थप्पाड ' की समीक्षा सुनिए ।