LANGUAGES
कालचक्र को चलने दो | लेखिका - सुनीता सिंह in hindi |  हिन्दी मे |  Audio book and podcasts

कालचक्र को चलने दो | लेखिका - सुनीता सिंह in hindi

Listens
569
Comments
1
Duration
01:20:34

जो मनुष्य बैठा रहता है, उसका सौभाग्य भी रुका रहता है। जो उठ खड़ा होता है, उसका सौभाग्य भी उसी प्रकार उठता है। जो पड़ा रहता है, उस का सौभाग्य भी सो जाता है। और जो विचरण में लगता है उसका सौभाग्य भी चलने लगता है। इसलिए तुम विचरण ही करते रहो।

  • Episodes
  • More like this

1 Episode 1 mins

कालचक्र को चलने दो - Trailer

2 Episode 18 mins

कालचक्र को चलने दो - Part 1

3 Episode 22 mins

कालचक्र को चलने दो - Part 2

4 Episode 21 mins

कालचक्र को चलने दो - Part 3

5 Episode 17 mins

कालचक्र को चलने दो - Part 4