BlogAbout us

Made with  in India

How to Formation a Habit by Hindi Audiobook in hindi |  हिन्दी मे |  Audio book and podcasts

How to Formation a Habit by Hindi Audiobook in hindi

Show: Hindi Audio Book

Click for Full Hindi Audiobook - https://anchor.fm/hindiaudiobook एटॉमिक हैबिट्स पुस्तक के अध्याय एक के भाग चार में लेखक एक example से समझाते है कि हैबिट्स को बनाने में कौनसी प्रोसेस काम में आती है आइये समझते है: लेखक लिखते है कि कल्पना करें कि आपके सामने एक टेबल पर आइस क्यूब रखी हुई है। कमरे का tempreture अभी 25 डिग्री है, आप अपनी सांसों पर ध्यान लगाये बैठे हैं। कमरे का tempreture धीरे धीरे बढ़ता है। छब्बीस डिग्री। सत्ताईस। अट्ठाइस। आइस क्यूब अभी भी आपके सामने टेबल पर वैसे का वैसे पड़ा हुआ है। उनतीस डिग्री। तीस। इकत्तीस। अभी भी कुछ नहीं हुआ। फिर, बत्तीस डिग्री।  बर्फ पिघलने लगती है। tempreture में मात्र एक डिग्री का बदलाव कोई ज्यादा मायने नहीं रखता है, लेकिन इसने, एक अभी अभी एक बहुत बड़ा बदलाव किया है। Breakthrough Moments अक्सर प्रीवियस एक्शन का रिजल्ट होते हैं, जो एक मेजर चेंज लाने के लिए रिक्वायर्ड पोटेंशियल को बिल्ड-अप करती हैं। यह पैटर्न हर जगह दिखाई देता है।  कैंसर अपनी 80% लाइफ इंसान के शरीर में undetectable रहती है, लेकिन जब यह दिखाई देती है तब मात्र 1 महीने में पुरे शरीर को खत्म कर देती है। bamboo को आप पहले पाँच वर्षों में बमुश्किल ही देख सकते है, क्योकि इस समय यह अंडरग्राउंड extensive रूट सिस्टम बना रहा होता है. लेकिन पांच साल बाद जब यह बाहर निकलता है तो नब्बे फीट तक की लम्बाई पाने में इसे मात्र 6 सप्ताह का समय लगता है।  इसी तरह, आदतें अक्सर हमें तब तक दिखाई नहीं देती, जब तक कि इनसे कोई फर्क नहीं पड़ता, लेकिन जब ये दिखाई देती है तब ये critical threshold को cross एक नए लेवल पर परफॉर्म कर रही होती है। किसी भी हैबिट के फॉर्म होने कि early एंड middle स्टेज के बीच disappointment कि एक गहरी खाई होती है। आप चाहते है कि प्रोग्रेस एक लीनियर फैशन में हो, लेकिन यह तब और ज्यादा निराशाजनक हो जाता है जब changes दिन, सप्ताह और महीने में भी दिखाई न देते हो। हमें एसा महसूस नहीं होता कि हम कहीं जा भी रहे हैं। किसी भी compounding process कि विशेष पहचान यह होती है कि: सबसे Powerful परिणाम आने में टाइम लगता है। आदतों को बनाना इतना कठिन क्यों है, और यही एक ठोस कारण है कि जिसकी वजह से बहुत से लोग छोटे-छोटे टास्क बीच में ही ड्राप करने पड़ जाते है। जैसे कि आपने सुबह-सुबह जॉगिंग करना शुरू करते है, लेकिन एक महीने बाद आपको अपने शरीर में कोई बदलाव नहीं दिखता? " जब एक बार इस तरह की सोच आप पर हावी हो जाती है, तो जॉगिंग जैसी अच्छी आदत बनानी बहुत आसानी से ड्राप हो जाती है. लेकिन एक meaningful डिफरेंस लाने के लिए, आदत बनाने के बीच में आने वाले temporary पहाड़ तोड़ने के लिए इसे लंबे समय तक जारी रखना होता है। यदि आप एक अच्छी आदत बनाने या एक बुरी आदत छोड़ने के लिए struggle कर रहे हैं, इसका मतलब यह नहीं है कि आप इम्प्रोव करने की ability खो चुके हैं। इसका मतलब है कि आप अभी तक आदत बनाने में आने वाले मुश्किलों के पहाड़ को तौड़ नहीं पाए है। लगातार काम करने के बावजूद सफलता न मिलने पर शिकायत करना उसी प्रकार है जैसे आइसक्यूब के लिए tempreture में पच्चीस से इकतीस डिग्री तक बदलाव के बारे में शिकायत करना। इस दौरान आपका काम नहीं व्यर्थ था; यह सिर्फ 32 डिग्री होने के लिए स्टोर हो रहा था। अंततः जब आप 31 डिग्री से 32 डिग्री पर पहुँचते है तो आप सफल हो जाते है, तब लोग सोचते है कि आप रातों-रात सफल  हो गए है। बाहरी दुनिया केवल आपकी सफलता देखती है, बल्कि उसके पीछे कि मेहनत नहीं देख पाती. लेकिन आप यह जानते कि इसके लिए आपने बहुत पहले से एक आदत बनाई थी और उस पर लगातार बने रहे थे जब तक आप सफल नहीं हो गए। मानव स्वभाव और जियोलाजिकल प्रेशर में एक समानता होती है। जैसे दो टेक्टोनिक प्लेटें लाखों वर्षों तक एक दूसरे को धकेलती रहती है, हर समय दोनों के बीच में धीरे-धीरे प्रेशर बनता रहता। फिर, एक दिन, आखिरकार एक दूसरी को धकेल देती है, जिसे बनने के लिए सालों तक के प्रेशर कि वजह से, धरती पर भूकंप के रूप में रिजल्ट आता है. यह रिजल्ट लाखों सालों बाद एक ही बार में आता है। किसी भी स्किल में मास्टरी के लिए पेशेंस यानि धैर्य की आवश्यकता होती है। आगे लेखक सैन एंटोनियो स्पर्स, जो NBA कि हिस्ट्री में सबसे सफल टीम है का उदाहरण देते है, उनके अनुसार जैकब रईस अपने लॉकर रूम में कुछ लाईने लिखी हुई है जो इस प्रकार से है: “जब कोई भी काम रिजल्ट नहीं देता है तब आप एक पत्थर तोड़ने वाले को हथौड़ा मारते हुए देखो,  जब वह पत्थर पर सैंकड़ों बार हथोडा मारता है, फिर भी पत्थर पर कोई असर नहीं होता। लेकिन फिर अचानक आखिरी चौट से पत्थर दो टुकड़ों में झटके से टूट जाता है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आखिरी चोट से पहले वाली चोट बेकार चली गई. पहले कि सभी चोट, आखिरी चोट तक पहुचने के लिए आवश्यक होती है।" How to Formation a Habit by Hindi Audiobook in Hindi, is one of our best self-help audiobooks available in Hindi from our catalogue. This Audiobook is created by Sitaram Maaker. Sitaram Maaker is well known for their self-help audiobooks. This How to Formation a Habit by Hindi Audiobook audio will motivate you to accept the way life is. It is a mental therapy that aims to train the mind for a positive outlook for life. Get out of the thoughts of self-blame and guilty. Negotiate with the present and break the clutches of the past. Self-help audiobooks are a great way to develop your personality. Listening to Self-help audiobooks is one of the best ways to rejuvenate your inner-self. We understand that our users emotionally connect with the audios more when it is in their language. Hence, we offer a variety of self-help audiobooks in different languages like Hindi, Gujarati, Telugu, Marathi, Bangla, etc. The audiobooks in our collection are available for free and can be downloaded and saved on our app. And the best part is that you can access it while traveling, while working out in the gym, and doing anything, anywhere at any point of time be it early morning or late at night. So, stream, download, and enjoy the ad-free experience.How to Formation a Habit by Hindi Audiobook हमारी सूची में हिंदी में उपलब्ध हमारी सर्वश्रेष्ठ स्व-सहायता ऑडियोबुक में से एक है। यह ऑडियोबुक Sitaram Maakerद्वारा प्रस्तुत की गई है। लेखक का नाम एक प्रमुख प्रस्तोता है जो उनके स्व-सहायता ऑडियोबुक के लिए मशहूर है। यह How to Formation a Habit by Hindi Audiobook ऑडियो आपको जीवन के तरीके को स्वीकार करने के लिए प्रेरित करेगी। यह एक मानसिक चिकित्सा है जिसका उद्देश्य जीवन के लिए सकारात्मक दृष्टिकोण के लिए मन को प्रशिक्षित करना है। आत्म-दोष और दोषी विचारों से बाहर निकलें। वर्तमान के साथ जीवन जीना सीखे और अतीत के चंगुल को तोड़ बाहर आए । स्व-सहायता ऑडियोबुक आपके व्यक्तित्व को विकसित करने का एक शानदार तरीका है। स्व-सहायता को सुनना आपके भीतर के आत्म-कायाकल्प के लिए अच्छा है और सर्वोत्तम तरीकों में से एक है। हम समझते हैं कि हमारे उपयोगकर्ता भावनात्मक रूप से ऑडिओ से अधिक जुड़ते हैं जब यह उनकी भाषा में होता है। इसलिए, हम हिंदी, गुजरती, तेलुगू, मराठी, बंगला आदि विभिन्न भाषाओं में विभिन्न प्रकार के स्वयं-सहायता ऑडियोबुक की पेशकश करते हैं। हमारे संग्रह में ऑडियोबुक मुफ्त में उपलब्ध हैं और इन्हें हमारे ऐप पर डाउनलोड किया जा सकता है। और सबसे अच्छी बात यह है कि आप इसे यात्रा करते समय, जिम में वर्कआउट करते समय, और कुछ भी करते हुए, कहीं भी किसी भी समय सुबह या देर रात को सुन सकते हैं। तो, विज्ञापन-मुक्त अनुभव को स्ट्रीम करें, डाउनलोड करें और आनंद लें।