अम्मा: जयललिता कैसे बनीं एक फिल्मी सितारे से सियासत की सरताज | लेखिका - वासंती in hindi |  हिन्दी मे |  Audio book and podcasts

Audio Book | 189mins

अम्मा: जयललिता कैसे बनीं एक फिल्मी सितारे से सियासत की सरताज | लेखिका - वासंती in hindi

AuthorAmit Ojha
तमिल फिल्मों की ग्लैमर गर्ल से लेकर सियासत की सरताज बनने तक जयललिता की कहानी एक महिला की ऐसी नाटकीय कहानी है जो अपमान, कैद और राजनीतिक पराजयों से उबर कर बार-बार उठ खड़ी होती है और मर्दों के दबदबे वाली तमिलनाडु की राजनीतिक संस्कृति को चुनौती देते हुए चार बार राज्य की मुख्यमंत्री बनती है| Writer: वासंती Voiceover Artist : RJ Manish अम्मा: जयललिता कैसे बनीं एक फिल्मी सितारे से सियासत की सरताज | लेखिका - वासंती in Hindi, is one of our best political audiobooks available in Hindi from our catalog. This Audiobook is created by Amit Ojha. Amit Ojha is well known for his political audiobooks. Politics, over good or bad, is politics. Politics audiobooks will tell you many things related to politics and give you an idea of the high points and shortcomings of the government. With these audiobooks, you can get detailed information about any political party. From its inception to the present day, complete information is available in these audiobooks. If you want to get into politics, these audiobooks tell you what to look after, and give you the energy to cheer you up. We understand that our users emotionally connect with the audios more when it is in their language. Hence we offer a variety of political audiobooks in different languages like Hindi, Gujarati, Telugu, Marathi, Bangla, etc. These politics audiobooks are available for free and can be downloaded and saved on our app. And the best part is that you can access it while traveling, while working out in the gym, and literally doing anything, anywhere at any point of time be it early morning or late night. So, stream, download, and enjoy the ad-free experience. अम्मा: जयललिता कैसे बनीं एक फिल्मी सितारे से सियासत की सरताज | लेखिका - वासंती हिंदी में, हमारी कैटलॉग से हिंदी में उपलब्ध सर्वश्रेष्ठ राजनीति ऑडियोबुक में से एक है। यह ऑडियोबुक Amit Ojha द्वारा बनाया गया है। Amit Ojha उनकी राजनीति ऑडियोबुक के लिए अच्छी तरह से जाना जाता है। राजनीति, अच्छी हो या बुरी पर राजनीति है। राजनीति ऑॅडियोबुक आपको राजनीति से जुड़ी कई बातें बताएगा और आपको सरकार के उच्च बिंदुओं और कमियों का अंदाजा देगा। इन ऑडियोबुक के साथ, आप किसी भी राजनीतिक पार्टी के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। इसकी स्थापना से लेकर आज तक, इन ऑडियोबुक में पूरी जानकारी उपलब्ध है। यदि आप राजनीति में उतरना चाहते हैं, तो ये ऑडियोबुक आपको बताते हैं कि आपको क्या ध्यान में रखना चाहिए, और ये ऑॅडियोबुक आपको प्रोत्साहन प्रदान करेंगे। हम समझते हैं कि हमारे उपयोगकर्ता ऑडिओ से भावनात्मक रूप से तब अधिक जुड़ते हैं, जब ऑडियो उनकी भाषा में होता है। इसलिए हम विभिन्न भाषाओं जैसे हिंदी, गुजरती, तेलुगू, मराठी, बंगला आदि में विभिन्न प्रकार के राजनीति ऑडियोबुक की पेशकश करते हैं। ये राजनीति ऑडियोबुक मुफ्त में उपलब्ध हैं और इन्हें हमारे ऐप पर, डाउनलोड और सेव भी किया जा सकता है। और सबसे अच्छी बात यह है कि आप इसे कहीं भी सुन सकते हैं चाहे वो यात्रा करते हुए हो, या जिम में वर्कआउट करते हुए। जल्दी ही सुबह में या देर रात तक, शाब्दिक रूप से, कहीं भी और किसी भी समय आप इसे सुनना शुरू कर सकते हैं। तो, स्ट्रीम करें, डाउनलोड करें और विज्ञापन-मुक्त अनुभव का आनंद लें।
Read More
Listens10,177
26 Episodes
Part13minsFeb 29,2020

अम्मा: जयललिता - 01 (अम्मा)

Part212minsFeb 29,2020

अम्मा: जयललिता - 02 (तन्हा बचपन)

Part311minsFeb 29,2020

अम्मा: जयललिता - 03 (एक सितारे का जन्म)

Part412minsFeb 29,2020

अम्मा: जयललिता - 04 (उनके नायक एमजीआर)

Part513minsFeb 29,2020

अम्मा: जयललिता - 05 (राजनीतिक शुरुआत)

Part66minsFeb 29,2020

अम्मा: जयललिता - 06 (खलबली)

Part77minsFeb 29,2020

अम्मा: जयललिता - 07 (सज़ा)

Part86minsFeb 29,2020

अम्मा: जयललिता - 08 (एमजीआर के बाद)

Part94minsFeb 29,2020

अम्मा: जयललिता - 09 (ताकत पर ताकत)

Part105minsFeb 29,2020

अम्मा: जयललिता - 10 (इतिहास का निर्माण)

Part117minsFeb 29,2020

अम्मा: जयललिता - 11 (मैडम मुख्यमंत्री)

Part125minsFeb 29,2020

अम्मा: जयललिता - 12 (उसे सारे राज पता थे)

Part135minsFeb 29,2020

अम्मा: जयललिता - 13 (दीवार पर लिखी इबारत)

Part148minsFeb 29,2020

अम्मा: जयललिता - 14 (आलीशान शादी)

Part157minsFeb 29,2020

अम्मा: जयललिता - 15 (सियासी बदला)

Part169minsFeb 29,2020

अम्मा: जयललिता - 16 (घायल बाघिन)

Part173minsFeb 29,2020

अम्मा: जयललिता - 17 (सियासी बदला)

Part186minsFeb 29,2020

अम्मा: जयललिता - 18 (सितारों पर जादू)

Part194minsFeb 29,2020

अम्मा: जयललिता - 19 (देवताओं की पूजा)

Part204minsFeb 29,2020

अम्मा: जयललिता - 20 (प्रतिशोध)

Part214minsFeb 29,2020

अम्मा: जयललिता - 21 (वापसी)

Part225minsFeb 29,2020

अम्मा: जयललिता - 22 (पराजय, लेकिन पतन नहीं)

Part236minsFeb 29,2020

अम्मा: जयललिता - 23 (डीएमके का पलटवार)

Part243minsFeb 29,2020

अम्मा: जयललिता - 24 (अभी नहीं तो कभी नहीं)

Part2510minsFeb 29,2020

अम्मा: जयललिता - 25 (ममतामयी मां)

Part2610minsFeb 29,2020

अम्मा: जयललिता - 26 (क्या सितारे उनकी रक्षा करेंगे)

Transcript
View transcript

आप सुन रही है तो कॅश किताब का नाम है अम्मा जयललिता कैसे बनी एक फिल्मी सितारे से सियासत की सरकार जिसे लिखा है वासंती है आर जे मनीष की आवाज में कोई ऍम सुनेगी जो मन चाहे हम मुझे सिर्फ दो साल की थी जब उसके पिता चाहे राम का मृत शरीर घर लाया गया । बहक काली दुखद रात जयललिता की स्मृति में अब भी जीवन है और उनके उठापटक भरे जीवन के निराशा भरे पलों में सतह उन्हें परेशान किया है । असाधारण खूबसूरती और प्रतिभा से शुरू हुए जीवन को अचानक बीच भवन तरह तरह के तहत क्यों के बीच फेंका गया जिसमें अबोध बच्ची को फौलाद से बनी अम्मा में परिवर्तित कर दिया । पति की मौत के बाद जयराम की वृद्धा बेटा के पास अपने दो छोटे छोटे बच्चों पुत्र तब तो और पुत्री अमोल जयललिता को घर में सभी इसी नाम से बुलाते थे को लेकर अपने पिता के घर बेंगलुरु जाने के अलावा कोई चारा नहीं था । मूलरूप से तमिलनाडु में श्रीरंगम के ब्राह्मण रंगास्वामी अयंगर हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड में एक साधारण नौकरी पाने के बाद बेंगलुरु में रहने लगे थे । उनका परिवार आकर्षक चाहे मोहरे अत्यंत गोरे रंग के लिए भी जाना जाता था । उनकी तीन बेहद खूबसूरत बेटियां थी । मेरा काम हो जाये और पद्मा और एक पुत्र श्रीनिवासन एक आम परंपरागत रूढिवादी मध्यमवर्गीय ब्राह्मण परिवार था जिसमें हंगा स्वामी आयंगर और उनकी पत्नी कमा शर्मा रोज विधिपूर्वक पूजा पाठ किया करते थे । अपने बच्चों की परवरिश ठीक से करने की इच्छा । युवा और संदर्भ वेदा अपने पिता पर आए अतिरिक्त आर्थिक बोझ को कम करने के लिए आयकर कार्यालय में दिख सके ट्रियल काम करते लगी । हालांकि चलती ही उसे इस बात का एहसास हो गया कि अपनी सीमित ऐसे वह बच्चों की न्यूनतम जरूरतों को पूरा करने के अलावा और कुछ नहीं कर सकती है । उसी दौरान कन्नड फिल्मों के प्रति असर कैमराज अर्ज की बिना पर नजर पडी है । उसकी खूबसूरती से विस्मित हैं और उसे अपनी नई फिल्में उतारना चाहते थे । जब वो पिता के पिता की अनुमति लेने पहुंचे तो क्रोधित अयंगर ने उन्हें बैरंग वापस लौटा दिया । पिता की सबसे छोटी बहन पद्मा अभी कॉलेज में पढाई कर ही रही थी । दूसरी बहन अंबुजा विद्रोही टाइप की थी और बहन एयर होस्टेस बन चुकी थी और इसी के साथ अयान करने घोषित कर दिया कि उनके लिए उनकी दूसरी बेटी मर चुकी है । अंबुजा पर इसका कोई असर नहीं पडा । उसने फिल्मों में अभिनय करना शुरू कर दिया और अपना नाम बदलकर विद्यावती कर लिया । तहत चेन्नई में बस गए हम भुजाने बेटा से चेन्नई अगर उसके साथ रहने का आग्रह किया ताकि उसके बच्चे बेहतर स्कूल में पढ सकें । यह एक ऐसा प्रस्ताव था जिससे फिर ठुकरा नहीं सकती थी और इस तरह ठीक है और उसके बच्चे अंबुजा के घर आकर रहने लगे । बच्चों को स्कूल में दाखिला करा दिया गया लेकिन विद्यावती से मिलने आने वाले प्रोड्यूसरों को लगा कि वेदा भी देखने में किस फिल्म स्टार से कम नहीं है । उन्होंने उसे अभिनेत्री बनने के लिए प्रेरित किया और अपनी बहन की आरामदेह जिंदगी को देखते हुए नेता ने फैसला कर दिया कि अपने बच्चों को अच्छी परवरिश देने लायक संपन्न बनने के खाते हैं । उसके पास एकमात्र यही रास्ता है केंद्र राज्य । उसने एक बार फिर उसे एक भूमिका थी और जल्दी ही पेदा जिसका नया नाम संध्या था, एक व्यस्त स्टार बन चुकी थी । जम्मू के जीवन का आशांत और उथलपुथल बारा एक नया चरण शुरू होने को था हूँ ।

Details
तमिल फिल्मों की ग्लैमर गर्ल से लेकर सियासत की सरताज बनने तक जयललिता की कहानी एक महिला की ऐसी नाटकीय कहानी है जो अपमान, कैद और राजनीतिक पराजयों से उबर कर बार-बार उठ खड़ी होती है और मर्दों के दबदबे वाली तमिलनाडु की राजनीतिक संस्कृति को चुनौती देते हुए चार बार राज्य की मुख्यमंत्री बनती है| Writer: वासंती Voiceover Artist : RJ Manish अम्मा: जयललिता कैसे बनीं एक फिल्मी सितारे से सियासत की सरताज | लेखिका - वासंती in Hindi, is one of our best political audiobooks available in Hindi from our catalog. This Audiobook is created by Amit Ojha. Amit Ojha is well known for his political audiobooks. Politics, over good or bad, is politics. Politics audiobooks will tell you many things related to politics and give you an idea of the high points and shortcomings of the government. With these audiobooks, you can get detailed information about any political party. From its inception to the present day, complete information is available in these audiobooks. If you want to get into politics, these audiobooks tell you what to look after, and give you the energy to cheer you up. We understand that our users emotionally connect with the audios more when it is in their language. Hence we offer a variety of political audiobooks in different languages like Hindi, Gujarati, Telugu, Marathi, Bangla, etc. These politics audiobooks are available for free and can be downloaded and saved on our app. And the best part is that you can access it while traveling, while working out in the gym, and literally doing anything, anywhere at any point of time be it early morning or late night. So, stream, download, and enjoy the ad-free experience. अम्मा: जयललिता कैसे बनीं एक फिल्मी सितारे से सियासत की सरताज | लेखिका - वासंती हिंदी में, हमारी कैटलॉग से हिंदी में उपलब्ध सर्वश्रेष्ठ राजनीति ऑडियोबुक में से एक है। यह ऑडियोबुक Amit Ojha द्वारा बनाया गया है। Amit Ojha उनकी राजनीति ऑडियोबुक के लिए अच्छी तरह से जाना जाता है। राजनीति, अच्छी हो या बुरी पर राजनीति है। राजनीति ऑॅडियोबुक आपको राजनीति से जुड़ी कई बातें बताएगा और आपको सरकार के उच्च बिंदुओं और कमियों का अंदाजा देगा। इन ऑडियोबुक के साथ, आप किसी भी राजनीतिक पार्टी के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। इसकी स्थापना से लेकर आज तक, इन ऑडियोबुक में पूरी जानकारी उपलब्ध है। यदि आप राजनीति में उतरना चाहते हैं, तो ये ऑडियोबुक आपको बताते हैं कि आपको क्या ध्यान में रखना चाहिए, और ये ऑॅडियोबुक आपको प्रोत्साहन प्रदान करेंगे। हम समझते हैं कि हमारे उपयोगकर्ता ऑडिओ से भावनात्मक रूप से तब अधिक जुड़ते हैं, जब ऑडियो उनकी भाषा में होता है। इसलिए हम विभिन्न भाषाओं जैसे हिंदी, गुजरती, तेलुगू, मराठी, बंगला आदि में विभिन्न प्रकार के राजनीति ऑडियोबुक की पेशकश करते हैं। ये राजनीति ऑडियोबुक मुफ्त में उपलब्ध हैं और इन्हें हमारे ऐप पर, डाउनलोड और सेव भी किया जा सकता है। और सबसे अच्छी बात यह है कि आप इसे कहीं भी सुन सकते हैं चाहे वो यात्रा करते हुए हो, या जिम में वर्कआउट करते हुए। जल्दी ही सुबह में या देर रात तक, शाब्दिक रूप से, कहीं भी और किसी भी समय आप इसे सुनना शुरू कर सकते हैं। तो, स्ट्रीम करें, डाउनलोड करें और विज्ञापन-मुक्त अनुभव का आनंद लें।