हिंदी में बिज़नेस स्कूल बुक– Business School Book In Hindi

हम भारतीयों को व्यापार से कुछ अलग ही लगाव है। मै दावा कर सकता हूं कि हर भारतीय अपने में में एक विचार लेकर चलता है कि वह अपना कोई व्यवसाय शुरू करेगा। मैंने कई ऐसे व्यक्तियों को भी देखा है जो कोई नौकरी करते है और उससे अच्छा काम भी लेते हैं, तब भी वे अपना कोई छोटा मोटा व्यवसाय कर रहे हैं। असल में हम कभी संतुष्ट ही नहीं हो सकते। हमें जितना भी मिलता रहे, हमें और पाने की ललक लगी ही रहेगी।

जब हम स्कूल में पढ़ रहे थे और 12वीं विषयों को चुनने का मौका आया तो मैंने विज्ञान चुना। मेरे साथियों ने कॉमर्स चुना जिसमें बिजनेस भी एक विषय था। मुझे हमेशा ही यह लगता था इस विषय में बाज़ार से जुड़ी सामान्य चीजें होंगी और यह बहुत ही सरल होगा लेकिन जब असल में इस विषय को समझने की कोशिश की तब समझ आया कि यह बिल्कुल भी आसान नहीं है। यह विज्ञान के किसी भी विषय के जितना ही कठिन है। जब बात बिजनेस एक विषय के तौर पर आती है तो मैं अक्सर ही बिजनेस स्टडीज और बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन में कंफ्यूज हो जाता हूं। इनमे असल फर्क क्या है, आइए जानते हैं।

Business School Book
Source: Amazon.in

बिजनेस स्टडीज और बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन में मुख्य अंतर क्या है? What Is The Difference Between Business Studies and Business Administration?

सुनने में लगभग एक जैसे लगने वाले ये विषय असल में एक दूसरे से थोड़े भिन्न हैं। इन दोनों की पढ़ाई के लिए बनाए जाने वाले कोर्स इन दोनों को अलग बनाते हैं। बिजनेस स्टडीज जहां व्यापार के अलग अलग पहलुओं (जैसे अर्थशास्त्र, अकाउंटिंग इत्यादि) के बारे में सिखाया जाता है। वहीं, बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन में असल व्यापार के अनुभवों से रूबरू कराने की कोशिश की जाती है। बिजनेस स्टडीज सामान्यतः स्कूल में बच्चों को पढ़ाया जाता है ताकि बच्चे शुरुआत से ही बाज़ार और व्यापार से जुड़ी बातों को अच्छे से समझ सकें।

इस लॉकडाउन के काल में बिज़नेस स्कूल बुक और कोर्स कहां ढूंढे? Where can you find the Business School Book and the Course?

कोविड के कारण लगाए गए इस लॉकडाउन ने बच्चों के पढ़ाई पर बहुत ही बुरा प्रभाव डाला है। देश के तमाम स्कूल और कॉलेज लगभग ९ महीनों से बंद हैं। ऑनलाइन क्लासें भी बच्चों की पढ़ाई में वह ज़ोर नहीं ला पाईं जो असल कक्षाओं में आता था। आप खुद से तो कुछ भी पढ़ना चालू नहीं कर सकते शायद इसलिए ही इन्हें पूरे सूझबूझ के साथ कोर्स के द्वारा पढ़ाया जाता है। आपको चिंता करने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि इंटरनेट पर ऐसे कई मंच है जो ऐसे विषयों पर कोर्स बनाकर इन्हें जनता को मुहैया कराती हैं। जहां बहुत से मंच इन सेवाओं के लिए पैसे लेते हैं, वहीं कुकू एफएम जैसे मंच भी हैं जो मुफ्त में ये सेवाएं देते हैं। कुकू एफएम पर बिजनेस पर कोर्स और किताबें ढूंढना बहुत ही आसान है और ये कई भाषाओं में उपलब्ध हैं। ये कोर्स ऑडियो प्रारूप में भी उपलब्ध हैं और आप इन्हें सुन भी सकते हैं। 

किताबों को सुनना, पढ़ना के मुकाबले ज़्यादा फायदेमंद हो सकता है!

हम अब तक किताबों को पढ़ते आए हैं लेकिन लॉकडाउन ने मुझे ये भी सिखाया कि इन्हें सुना भी जा सकता है। इस लॉकडाउन में मैंने कई ऑडियोबुक को सुना और मेरे हिसाब से ये ज़्यादा उपयोगी हैं। ऑडियो बुक सामान्यतः किसी किताब का विस्तृत सार होती हैं जिनमें किताब में उल्लेखित सभी मुख्य बिंदुओं को जोड़ा जाता है। इनकी लंबाई सामान्यतः ३० से ४५ मिनट होती है, जिसका मतलब है कि जिस किताब को पढ़ने में आपको घंटो लग सकते थे, उनकी शिक्षा आपको मिनटों में मिल सकती है। आपके हिसाब से किताबें ज़्यादा उपयोगी हो सकती हैं, लेकिन ये मेरा विचार है कि आपको इन्हें एक बार जरूर आजमाना चाहिए।बिजनेस स्कूल बुक ढूंढ़ रहे हैं। उम्मीद है कि आपको इसमें अब और दिक्कत नहीं होगी।

So, enjoy listening to the audiobook of the book- The Business School authored by Robert T. Kiyosaki.


0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *