सबके जीवन में परेशानियों का दौर आता है और स्वाभाविक है कि वे ऐसे समय में हतोत्साहित हो जाते हैं। 12वी की परीक्षा के वक्त जब निराशा ने मुझे घेरा तो ‘वन मैग्नीफिसेंट मोटिवेशनल मिनट ‘ ( One Magnificent Motivational Minute) नाम के एक प्रेरक स्पीच शो ने ही मुझे इस बाहर निकालने के मदद की। इस सब ने मुझे एक चीज और सिखाई कि निराशा के समय जरूरी नहीं आपको सहारा देने कोई न कोई मौजूद हो। कभी कभी आपको अकेले ही ऐसी स्थिति का सामना करना पड़ता है और ऐसे समय में ऐसी प्रेरक स्पीच और पॉडकास्ट आपका सहारा बन सकते हैं। इस लेख में, मैं आपको हिंदी में उपलब्ध कुछ ऐसे प्रेरक स्पीच और पॉडकास्ट के बारे में बताने जा रहा हूं जो आपके लिए बहुत ही मददगार साबित हो सकते हैं। So, listen to the following motivational speeches which is going to be of great help for you!

Motivational Speeches

1) सिर्फ समय अपना है।

कई बार हम ऐसे दौर से गुजरते जब कोई काम बनता नजर ही नहीं आता। ऐसे में हमारे मुंह से एक ही वाक्य निकलता है कि हमारा समय भी खराब चल रहा है या समय हमारा साथ नहीं दे रहा। अगर आपके मन में भी कभी ऐसा ख्याल आया है तो आपको यह स्पीच जरूर सुनना चाहिए। ये स्पीच आपको यह विश्वास दिलाएगा कि सिर्फ समय ही आपका है और ये आपका साथ हमेशा देगा।

2) सीखने की कोई उम्र नहीं होती।

मेरी मां कार सीखने की इक्छुक थी लेकिन कई लोगों का यह मानना था कि वे कहां इस उम्र में ये सब सीखेंगी। शायद आपसे भी कई लोगों ने ऐसा कहा हो। अगर ऐसा है तो आपको यह स्पीच जरूर सुनना चाहिए। यूं तो बहुत लोगों ने आपसे यह भी कहा होगा की सीखने की कोई उम्र नहीं होती, लेकिन ये पॉडकास्ट आपको इस वाक्य पर यकीन कराएगा।

3) लाइफ खट्टे मीठे अनुभवों से ही बनती है।

आप ने कई अलग अलग रास्तों पर सफर किया होगा। क्या वे सारे रास्ते आसान एवं सीधे सीधे थे? नहीं न, कुछ रास्ते सीधे होंगे तो कुछ टेढ़े मेढ़े, कुछ तो उतार चढ़ाव वाले भी होंगे। पर अगर रास्ते सीधे नहीं है तो इसका मतलब ये तो नहीं कि हम सफर करना ही छोड़ दें। बस यही तो ज़िन्दगी है। कुछ बुरे अनुभव क्या आए, ज़िन्दगी से निराश हो कार तो नहीं बैठ सकते ना। आखिरकार, ज़िन्दगी इन्हीं खट्टे मीठे अनुभवों से ही तो बनती है। ये बात पता सबको है पर कोई इस पर अमल नहीं करता। बस यही बात आपको याद दिलाने के लिए ये पॉडकास्ट महत्वपूर्ण है।

4) हार से डरो नहीं सीखो।

हार जीत तो एक सिक्के दो पहलू की तरह हैं और इन्हें इसी नजरिए से देखना चाहिए। लेकिन इंसान का स्वभाव ही कुछ ऐसा होता है कि हम जीत नाम के पहलू को ज्यादा तवज्जो देते हैं। माना कि हार किसी को नहीं सुहाती पर सिखाती तो है। बस यही तो सीखने की जरूरत है। अपने अंदर से हार का डर निकालें और उससे कुछ सीख कर जीत की राह बनाना सीखें। माना यह मुश्किल है लेकिन मुमकिन है। इस प्रेरक स्पीच को सुने और सीखें। 

5) काम करो फल की चिंता मत करो।

ये तो एक मशहूर मिसाल है कि कर्म करो और फल की चिंता मत करो। आपने भी यह वाक्य कहीं सुना या पढ़ा होगा पर क्या आपने इसे अपने जीवन में उतारने की कोशिश की है। शायद नहीं, हम किसी भी काम को शुरू करने से पहले उसके हो सकने वाले अंजामों की कल्पना कर लेते है। ऐसे में हमारी ये आदत हमे कई बार इतना डरा देती है कि हम उस काम को करने का विचार ही त्याग देते हैं जबकि यह पूर्ण संभावना होती है कि हैं उस काम को सफलतापूर्वक कर सकते थे। हमें इस विचार को अपने जीवन में उतारना चाहिए और फल की चिंता किए बिना बस काम को करना चाहिए। ये स्पीच इस विचार को अपने जीवन में उतारने में आपकी मदद करेगा।

Here, we wrap up our top 5 motivational speeches from our collection!

प्रेरक स्पीच और पॉडकास्ट को ढूंढना कठिन नहीं है। कुकू एफएम जैसे कई मंच इंटरनेट पर उपलब्ध हैं जो इन सेवाओं को मुफ्त में मुहैया कराते हैं जहां से आप मुफ्त में इन्हें डाउनलोड भी कर सकते हैं। Find more motivational speeches in Hindi on our platform and add a meaning and confidence in your life!


0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *