पॉडकास्ट के शुरुआती 5 एपिसोड

यूँ तो पॉडकास्ट बनाना बेहद दिलचस्प काम है, लेकिन एक नए पॉडकास्ट की शुरुआत करना बेहद चुनौतीपूर्ण हो सकता है। हालांकि पॉडकास्ट बनाना इतना मुश्किल और निराशाजनक कार्य नहीं हैं। बल्कि अगर हम पॉडकास्ट को सही तरीके से बनाये, तो हम अपने इस सफर का भरपूर लुत्फ़ उठा सकते हैं। इसलिए अपने पॉडकास्ट के सफर को कामयाब बनाने के लिए जरुरी है, कि हम अपने पॉडकास्ट के शुरुआती 5 एपिसोड में इन 5 बातों का ध्यान रखें।

विषय

सबसे पहले और सबसे अहम किरदार पॉडकास्ट में हमारा विषय होता है।

पॉडकास्ट को लंबे समय तक सफल बनाने के लिए विषय का सही होना आवश्यक हैं। यदि आप गलत विषय पर पॉडकास्ट बनाएंगे, तो उस विषय पर पॉडकास्ट के शुरुआती 5 एपिसोड तक ऑडियो कॉन्टेंट क्रिएट कर पाना मुश्किल हो जाएगा।

अगर आप पॉडकास्ट को लंबे समय तक चलाना चाहते हैं, तो अपने पॉडकास्ट के शुरुआती 5 एपिसोड में खुद से यह सवाल करें कि क्या यह एक ऐसा विषय है जिसपर आप लंबे समय तक बिना बोर हुए बात कर सकते हैं? क्या आप उस विषय पर बात करते हुए उस पल का आनंद ले पा रहे हैं?

एक पॉडकास्ट की व्याख्या सही रूप से करने के लिए आवश्यक है, कि होस्ट खुद उस पल, उस माहौल का लुत्फ़ उठाये। क्योंकि होस्ट का उत्साह लिसनर के पॉडकास्ट सुनने का अनुभव सुहाना बना देता हैं।

समय

समय कीमती है, इसलिए इसका सही उपयोग जरूरी है। पॉडकास्ट लॉन्च करने से पहले खुद से सच बोलें और तय करें कि आपको कम से कम इन पॉडकास्ट के शुरुआती 5 एपिसोड को स्टेप बय स्टेप तैयार करने में कितना वक़्त लगेगा। एक समय सारणी तैयार करें और उसके मुताबिक कार्य करें।

जैसे कि :

  • पहला सप्ताह: पॉडकास्ट के शुरुआती 5 एपिसोड के टाइटल को लिखें, विवरण और कवर तैयार करें।
  • दूसरा सप्ताह: रिसर्च करें और उपकरण तैयार करें, प्रैक्टिस करें।
  • तीसरा सप्ताह: अपनी रिकॉर्डिंग करें।

अपने वक़्त के अनुसार समय सारणी तैयार करें और उस के मुताबिक अपने पॉडकास्ट के शुरुआती 5 एपिसोड को पॉडकास्ट करें।

शब्दों को बुनें

कहानी हो या सच्चाई लोग तभी सुनेंगे जब वो दिलचस्प होगी। इसलिए पॉडकास्टर को अपने लिसनर के लिए शब्दों की मायाजाल भरी दुनिया बनाना आना चाहिए। इसका मतलब यह नहीं कि हम अपनी कहानी की शुरुआत ‘एक समय की बात है’ जैसी लाइन से करें। लेकिन यह जरुरी है, कि हम उस कहानी को खुद के अनुभव के साथ जोड़े। कोई उदाहरण देने के साथ जोड़ के बताएं।

निराश ना हों

अपनी प्रशंसा सुनना हर किसी को बेहद पसंद होता है। वही एक सफल पॉडकास्टर के पास प्रशंसा भरे नोटिफिकेशन की लाइन लग जाती हैं। लेकिन अक्सर नए पॉडकास्टर होने पर लोगो की प्रशंसा का पात्र बन पाना मुश्किल होता हैं। लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि आपका काम अच्छा नहीं है, या आप में कोई कमी है। अपना हौसला बनाये रखिये थोड़ा वक़्त लगेगा लेकिन कामयाबी जरूर मिलेगी।

बदलाव से ना डरें

अपने पॉडकास्ट के स्वयं मालिक हैं। आपका पॉडकास्ट पूरी तरह से आप पर निर्भर है। इसलिए कोई भी कार्य जल्दबाजी में ना करें। क्योंकि अच्छे काम को अक्सर वक़्त लगता हैं।

अगर आपको आपने पॉडकास्ट के रिकॉर्डिंग में कुछ खराबी लगती है, या कुछ बदलाव करने का मन करता है, तो ऐसा करने से बिल्कुल न हिचकिचाएं। फिर चाहे बात बैकग्राउंड म्यूजिक बदलने की हो या कॉन्टेंट बदलने की। धैर्य से काम लेना आपके सोचने और समझने की शक्ति के साथ एक बेहतर पॉडकास्ट तैयार करने में मदद करेगा।

तो यह थी वो कुछ खास बातें, जो हमे हमारे पॉडकास्ट के शुरुआती 5 एपिसोड के वक़्त ध्यान रखनी हैं। साथ ही पॉडकास्ट से जुड़ी और भी बातें जानने के लिए कुकू एफएम ब्लॉग पर जाएं।


0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *