पॉडकास्ट बनाने में होने वाली सामान्य गलतियां 

पॉडकास्ट बनाना यूं तो कोई मुश्किल काम नहीं, पर फिर भी कुछ बातें ऐसी है जिनका आपको ध्यान रखना चाहिए। पॉडकास्ट बनाने में ज्यादा मेहनत नहीं लगती। पर कुछ गलतियां हैं, जो सामान्य तौर पर क्रिएटर्स कर बैठते हैं। इनके बारे में जानना और इन्हें सुधारना जरूरी है क्योंकि ये हमारे पॉडकास्ट की प्रस्तुति खराब कर सकती हैं। साथ ही हमारे पॉडकास्ट की मॉनिटाइजेशन में आने वाली परेशानियों का कारण भी बन सकती हैं।

गलतियां जान बूझकर नहीं होती। अनजाने में या लापरवाही के चलते हम कुछ ऐसा कर देते हैं, जो हमारे काम के लिये नुकसानदेह हो सकता है। पॉडकास्ट बनाते वक्त यदि कुछ साधारण बातों का ध्यान न रखा जाये, तो यह हमारी मेहनत पर पानी फेर सकता है। पॉडकास्ट बनाने में आप अपना पूरा वक्त और मेहनत देकर अंत में सही फीडबैक न ले पायें तो यह निराशाजनक हो सकता है। इसलिए कुछ गलतियों को न करने के प्रयास करने चाहिये। इस लेख में हम उन सामान्य गलतियों के बारे में जानेंगे। तो चलिए जानना शुरू करते हैं।

1. अभ्यास का आभाव

कोई भी काम रातों रात बेहतर नहीं हो जाता। हर किसी में कोई न कोई कमी जरूर होती है। समय और अभ्यास के साथ ही उसे दूर किया जा सकता है। लेकिन पॉडकास्ट क्रियेटर इस बात को अक्सर भूल जाते हैं। वे अपने कॉन्टेंट को बेहतर करने के लिये बोलने का अभ्यास नहीं करते। सामान्य तौर पर बोलना व पॉडकास्ट के लिये बोलने में फर्क होता है। एक क्रियेटर होने के नाते, कोशिश करें कि आप हर दिन कम से कम दो बार अपने कॉन्टेंट को बोलकर देखें। पॉडकास्ट पब्लिश करने से पहले उसे सुनकर देखें और कमियां पहचानने की कोशिश करें। अगले पॉडकास्ट में वो कमी न आये, इसके लिये अभ्यास करते रहें। ये निश्चित ही बेहतरीन पॉडकास्ट बनाने में आपकी मदद करेगा।

2. विषय स्पष्ट न होना

ऐसा आमतौर पर नये क्रियेटर्स के साथ होता है। वे अपने कॉन्टेंट को लेकर स्पष्ट नहीं होते। वे जिस विषय से पॉडकास्ट शुरू करते हैं, अंत तक पहुंचते-पहुंचते उस से भटक जाते हैं। जानकारियों का आधिक्य या अभाव ही ऐसी स्थिति का कारण होता है इसलिये पॉडकास्ट बनाने में सीमित और जरूरी रिसर्च करें। अपने विषय को दिमाग में लेकर पॉडकास्ट रिकॉर्ड करें। संभव हो तो स्क्रिप्ट लिख लें। इससे आपके मुद्दे से भटकने की संभावना कम हो जायेगी। साथ ही आपका पॉडकास्ट बेहतर बनेगा। अपने विषय को पूरी तरह समझ लें। साथ ही रिकॉर्डिंग से पहले ये भी सोच लें कि किन-किन बिंदुओं पर आप बात करना चाहते हैं।

3. बाकी लोगों जैसा कॉन्टेंट

एक क्रियेटर होने के नाते आपका कॉन्टेंट सबसे अलग और अनोखा होना आवश्यक है। कुकू एफएम के प्लेटफार्म पर पाइरेसी स्‍वीकार नहीं है। आप किसी के कॉन्टेंट को कॉपी करते हैं, तो आपकी अपनी कोई पहचान नहीं रह जायेगी। साथ ही लिसनर आपको सुनना भी पसंद नहीं करेगा। आपको अपना कॉन्टेंट सबसे अलग बनाने की कोशिश करनी चाहिये। अपना कॉन्टेंट रोचक व अनोखा बनायें। कॉन्टेंट सबसे अलग कैसे बनाया जाये, ये जानने के लिये यहां क्लिक करें। कोशिश करें कि आप किसी और का कॉन्टेंट नकल न करें। यदि आपका टॉपिक किसी और से मिलता-जुलता है, तो अपने कॉन्टेंट में विविधता व अनोखापन जरूर रखें।

4 अनियमित कॉन्टेंट

ये संभवतः सबसे बड़ी भूल है, जो एक कॉन्टेंट क्रियेटर कर सकता है। आपके लिसनर को आपके पॉडकास्ट का इंतजार रहता है। आप अपने पॉडकास्ट के प्रारूप के अनुसार कुछ दिन या हफ्ते के अंतराल पर कॉन्टेंट देते रहें। कॉन्टेंट का प्रवाह नियमित रखें। अनियमित कॉन्टेंट देने से आप स्थायी फॉलोवर हासिल नहीं कर पायेंगे। पॉडकास्ट बनाने में नियमित कॉन्टेंट का ध्यान रखा जाना जरूरी है। आपके पॉडकास्ट का निश्चित समय पर आना आपके प्रति लोगों के विश्वास को भी बढ़ाता है।

5. लगातार प्रमोशन न होना

Promotion

पॉडकास्ट बनाने में प्रमोशन भी एक बड़ा कारक होता है। एक बार अपने पॉडकास्ट को प्रमोट करने करने के बाद आप निश्चिंत नहीं हो सकते। आपको लगातार उसका प्रमोशन विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर करना चाहिये। इससे आपके पॉडकास्ट को ज्यादा से ज्यादा लोग जानेंगे और सुनेंगे। आपको ज्यादा लिसनर दिलाने में प्रमोशन आपकी मदद करेगा। जितने ज्यादा लिसनर होंगे, पॉडकास्ट से कमाई की संभावना भी उतनी ही प्रबल होगी। इसलिये अपने पॉडकास्ट का यथासंभव प्रमोशन करें।


0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *